Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Overview

Jaundice - Symptom, Treatment And Causes

Jaundice is also called icterus and describes a yellow coloring of skin and the sclera. It happens due to excess blood bilirubin levels (hyperbilirubinemia). Body fluids might turn yellow as well. The sclera and skin color changes depending on bilirubin levels. Moderately high bilirubin levels turn the skin yellow and very high levels turn it brown. Bilirubin is a yellow waste product that causes sclera and skin coloration in jaundice. Bilirubin is the byproduct after iron gets removed from the RBCs. Excess bilirubin might leak into the surrounding tissues and cause coloration.

Causes

Underlying disorders where bilirubin is overproduced or the liver is prevented from disposing it cause jaundice in most cases. In both instances, the bilirubin gets stored in the tissues.

Few conditions that might result in jaundice are:

  • Acute liver inflammation- it might impair the liver’s ability to secrete bilirubin after conjugating it and may result in buildup.
  • Bile duct inflammation- it might obstruct the liver in bilirubin disposal
  • Hemolytic anemia- bilirubin production increases when there are large amounts of RBCs to be broken
  • Gilbert’s syndrome- it is inherited and impairs the enzymes ability to excrete bile

Cholestasis is a condition when the bile flow is interrupted. The bile with the conjugated bilirubin, instead of getting excreted, stays within the liver.

    Jaundice has three primary types:

    • Hepatocellular Jaundice- It happens due to liver injury or disease.
    • Hemolytic Jaundice- It happens due to hemolysis and results in increased bilirubin production.
    • Obstructive Jaundice- It happens due to bile duct obstruction and prevents the bilirubin from escaping form the liver.

    Jaundice treatment needs a diagnosis for a specific cause for selecting viable treatment plans. Such a treatment targets the cause instead of the jaundice.

    • Jaundice caused due to anemia can be addressed by increasing the blood’s iron content by either consuming food rich in iron or using supplements.
    • Jaundice resulting from hepatitis can be treated by giving steroid or anti-viral medications.
    • Obstruction induced jaundice can be treated with surgery so as to make it unobstructed.
    • Medication induced jaundice can be treated with alternative medicines and stopping the medicines that started it

    Complications

    The itching in jaundice might get very intense and the patients might have insomnia, scratch excessively and in extreme cases may commit suicide. The complications in jaundice are mostly not due to the jaundice itself, but the underlying causes. For example, a bile-duct obstruction jaundice might result in continuous bleeding due to vitamin deficiency.

Treatable by medical professional Require medical diagnosis Lab test not required Short-term: resolves within days to weeks Non communicable
Symptoms
Yellowish colour in skin and eyes which starts at the head and spreads downwards Itchiness Pale stools Vomiting Dark coloured urine Pain in the abdomen

Popular Health Tips

Jaundice - The Right Way It Can Be Treated!

Dr. Rajeev Shandil 88% (10 ratings)
MBBS, DNB - Internal Medicine, DNB - Gastroenterology
Gastroenterologist, Delhi
Jaundice - The Right Way It Can Be Treated!
Jaundice is a medical condition where the bilirubin level shoots up in the blood of the affected person. Also referred to as icterus, the condition may affect adults as well as newborn babies (Neonatal Jaundice), whereby the skin and the white part of the eye (sclera) appears yellowish in color (due to the accumulation of bilirubin). Bilirubin is the bile pigment that results from the breakdown of hemoglobin (when the RBC cells breakdown). The bilirubin thus produced is released into the plasma. The liver then filters the released bilirubin for further metabolism. In the case of a diseased condition, injury or infection to the liver, it fails to remove the bilirubin from the bloodstream. As a result, there is an abnormal rise in the bilirubin level in the blood (Hyperbilirubinemia), resulting in jaundice. In jaundice, Bilirubin can go upto much higher levels. At 2.5-3 it just starts to get manifest as yellow eyes. Obstructive jaundice may require an endoscopic procedure or surgery. Types of jaundice: Jaundice may be of the following types: Hepatocellular jaundice: In Hepatocellular jaundice, the elevated bilirubin level in the blood is an outcome of a liver disease or an injury (altering the normal functioning of the liver). Hemolytic jaundice: Here, the increased level of bilirubin in the blood results from an increased breakdown of the RBCs (Hemolysis). Obstructive jaundice: As the name suggests, Obstructive jaundice results from an obstruction in the bile duct. As a result, the bilirubin does not get filtered and remains in the liver. Factors contributing to jaundice: The increased buildup of bilirubin may be an outcome of Obstruction and inflammation of the bile duct. Chronic liver disease including liver cirrhosis and hepatitis. Pancreatic Cancer. Hemolytic anemia: It is a condition resulting from increased breakdown of RBCs. Gilbert's syndrome. Certain medications may also interfere and alter the normal functioning of the liver (steroids, birth control pills, and acetaminophen, to name a few). In cholestasis, the bile (conjugated bilirubin), instead of getting eliminated, remains in the liver. Symptoms: The symptoms associated with jaundice include The skin (particularly, the face, hands, nails, and feet) and the sclera appear yellowish. The urine appears dark in color. Fever, vomiting, tiredness, and loss of body weight. Abdominal pain (mild to severe). The stool appears pale in color. Itchiness or Pruritus. Diagnosis and treatment: The earlier the diagnosis, more effective is the treatment. Jaundice can be diagnosed by Physical examination. Bilirubin tests to determine the total bilirubin level. CBC is used to determine the levels of RBCs, WBCs, and platelets. Liver function tests. The treatment for jaundice involves identifying the underlying factor responsible for the condition and treating it. In the case of obstructive jaundice, operation helps to improve the condition. Patients with hepatitis may benefit from antiviral medicines as well as steroids. In hemolytic anemia, use of iron supplements helps to improve the condition. Avoid oily and spicy foods, smoking and drinking. Rest as much as possible.
2 people found this helpful

Symptoms Of Jaundice In Hindi - पीलिया के लक्षण

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Symptoms Of Jaundice In Hindi - पीलिया के लक्षण
पीलिया नाम की बीमारी ऐसी है जो कभी न कभी हर किसीको हुई होती है। पीलिया जिसे हम जॉइंडिस नाम सेभी जानते हैं,यहबीमारीइतनी आम है कि गर्मियों के मौसम में सबसे ज्यादा होने वालीमुख्यबीमारियों में से यह एक है। पीलिया होने की सबसे अहम वजह है भारी गर्मी में बार बार प्यास बुझाने के लिए बाहर का प्रदूषित पानी पीना। मतलब आप समझ ही गए होंगे कि पीलिया होने की वजह है गंदे पानी और दूषित भोजन का सेवन। पीलिया आमतौर पर हेपेटाइटिस ए वायरस की वजह से होता है जो दूषित या संक्रमित खानपान से फैलता है। यही नहीं कई और बीमारियां हैं जिनके होने से लिवर पर असर पड़ता है, जो पीलिया होने की एक और वजह हो सकती है।पीलिया बच्चे बूढ़े किसीको भी हो सकता है। बस इसके होने की वजह और लक्षण के बार उम्र के हिसाब से अलग अलग नजर आते हैं। पीलिया वैसे तो प्राणघातक नहीं है पर अगर ज्यादा देर हो जाए तो खतरा बढ़ जाता है। इसलिए जरूरी है कि समय रहतेपीलिया का जल्द से जल्द लक्षण जानकर उसका इलाज किया जाए। अब आप लक्षण की पहचान कैसे की जाए इस सोच में ना पढ़ें क्योंकि आज हम आपको पीलिया के बारीक से बारीक सिम्पटम्स बताएंगे जिससे सही समय पर उपचार करके खुदको स्वस्थ और सुरक्षित रख सकेंगे। पीलिया के सिम्पटम्स 1. नवजात शिशु को पीलिया नवजात शिशु को होने वाला पीलिया वयस्कों को होने वाले पीलिया से काफी अलग होता है। शिशुओं को पीलिया लीवर की बीमारी की वजह से नहीं होता। बच्चों का लीवर इतना सक्षम नहीं होता कि वो वयस्कों के लीवर की तरह बिलिरुबिन को कम कर सके। इस वजह से रक्त में बिलिरुबिन जमा हो जाता है और पीलिया हो जाता है। बच्चों में होने वाले पीलिया के सामान्य लक्षण आंखों व त्वचा का पीलापन, अनिद्रा, भूख में कमी और बहुत तेज़ रोना आदि हो सकते हैं। 2. शरीर और आंखों का पीला होना पीलिया शब्द ही पीले रंग से लिया गया है। त्वचा और आंखों के सफेद भाग का पीला हो जाना इस बीमारी का सबसे बड़ा लक्षण है। ऐसा बिलिरुबिन का स्तर गिरने के कारण होता है जो कि एक ऐसा पिगमेंट है जो लीवर में रेड ब्लड सेल्स नष्ट होने से पैदा होता है। इसलिए कोई भी बीमारी जो लीवर के सिस्टम को प्रभावित करती है उसमें भी बिलिरुबिन का स्तर ऊंचा हो सकता है और उसका प्रभाव त्वचा पर दिख सकता है। 3. स्टूल में चेंजेस जिस इंसान को पीलिया होता है उसके बिलिरुबिन की अत्यधिक मात्रा का अधिकतर हिस्सा यूरीन में निकल जाता है लेकिन जितना हिस्सा बचता है वो पूरे शरीर की कोशिकाओं में फैल जाता है। और इसी वजह से स्टूल का रंग बदल जाता है। 4. पेट में दर्द होना पीलिया बिले डक्ट में बिलिरूबिन की रूकावट के कारण भी हो सकता है। ये रूकावट आमतौर पर गालस्टोन के रूप में या फिर बाइल डक्ट में सूजन के कारण होती है। इससे पिगमेंट का स्तर बढ़ जाता है। बहुत से लोगों को ऐसे में पेट दर्द होता है। आमतौर पर ये दर्द पेट के दाहिने तरफ होता है। 5. पेशाब का रंग गहरा होना आमतौर पर ऐसा होता है कि लाल रक्त कोशिकाएं बिलिरुबिन में और फिर बाइल कहलाने वाले एक पिगमेंट में बदल जाते हैं। बिलिरुबिन के असामान्य स्तर होने पर यूरीन में बाइल पिगमेंट की मात्रा बढ़ जाती है। इससे यूरीन का रंग गहरा हो जाता है। 6. वोमिटिंग होना पीलिया में उल्टी और मतली की शिकायत भी हो सकती है। अगर इसका इलाज ठीक प्रकार से न किया जाए तो आगे चलकर ये समस्या बहुत बड़ी भी हो सकती है। 7. शरीर में इचिंग होना कोलेस्टासिस की वजह से जिन लोगों को पीलिया होता है उनको खुजली की शिकायत भी हो जाती है।शुरुआत में खुजली हाथों में होती है और फिर पैरों में। फिर धीरे धीरे पूरे शरीर में फैल जाती है। रात को खुजली की ये समस्या काफी बढ़ जाती है। 8. नींद में प्रॉब्लम होना जिन लोगों को पीलिया होता है उनमें नींद से जुड़ी समस्याएं काफी आम है। साथ ही, भावनात्मक कष्ट भी महसूस हो सकता है। 9. ज्यादा थकान लगना जिन लोगों को पीलिया होता है उनमें सबसे सामान्य लक्षण थकान है। ये आमतौर पर प्राइमरी बाइलिअरी सर्होसिस, प्राइमरी स्केरोसिंग कोलेंजाटाइसऔर बाइल डक्ट सिंड्रोममें होता है। 10. दर्दरहित पीलिया जब पीलिया में दर्द महसूस नहीं होता तो संभव है कि बालइ डक्ट में रुकावट आ रही हो। इस तरह के मामलों में पीलिया में, त्वचा पीली होने के साथ साथ, वजन घटना या दस्त या कब्ज़ जैसे लक्षण भी सामने आते हैं।
1 person found this helpful

Jaundice Treatment in hindi - पीलिया का उपचार

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Jaundice Treatment in hindi - पीलिया का उपचार
पीलिया एक ऐसी अवस्था को कहते हैं, जब मरीज के त्वचा और आंख का सफेद हिस्सा पीला पड़ने लगता है। खून में बिलिरुबिन की मात्रा बढ़ जाती है। यह अपने आप में कोई बीमारी नहीं है, लेकिन यह एक बीमारी या परिस्थिति का लक्षण है, जिसमें तत्काल सावधानी बरतने की जरूरत है। पीलिया कई बीमारियों की वजह बन जाता है। मलेरिया, सिकल सेल एनीमिया और थैलेसीमिया जैसे रोग बिलिरुबिन के निर्माण की गति को तेज कर देते हैं, जबकि हेपेटाइटिस, अल्कोहलिक लिवर की बीमारी, ग्रंथियों का बुखार, लिवर का कैंसर, और यहां तक कि अत्यधिक मात्रा में शराब पीने से बिलिरुबिन को प्रोसेस करने की लिवर की क्षमता प्रभावित होती है। इसके अलावा अन्य परिस्थितियां, जैसे कि गॉल स्टोन्स और पैनक्रियाटिटिस, शरीर से बिलिरुबिन को बाहर निकालने की प्रक्रिया में हस्तक्षेप करती हैं। पीलिया रोग के कारण पीलिया रोग का मुख्य कारण खून में बिलीरुबिन की मात्रा अधिक होना है। बिलिरुबिन एक पीले रंग का पदार्थ है, जो खून में मौजूद लाल रक्त कणिकाओं के 120 दिन के साइकिल के पूरे होने पर टूटने से बनता है। बिलिरुबिन में बिलि होता है, जो लिवर में बनने वाला पाचक तरल पदार्थ होता है और यह गॉल ब्लेडर में रहता है। यह भोजन के अवशोषण और मल के उत्सर्जन में मदद करता है। जब बिलिरुबिन किसी कारण से बिलि के साथ मिश्रण नहीं बना पाता या जब लाल रक्त कणिकाएं सामान्य से कम अवधि में टूटने लगती हैं, तो खून में बिलिरुबिन का स्तर तेजी से बढ़ने लगता है। और इस तरह यह अन्य अंगों में पहुंचकर उनमें भी पीलापन पैदा कर सकता है। इसके अलावा गंदे पानी के प्रयोग से पीलिया हो सकता है। अत्यधिक शराब का सेवन करना एक मुख्य कारण है पीलिया होने का। मसालेदार भोजन खाने से भी पीलिया हो सकता है। वायरल इन्फेक्शन के कारण भी पीलिया हो सकता है। शरीर में खून की कमी होने से पीलिया हो सकता है। पीलिया के लक्षण पीलिया के नाम से ही पता चलता है की ये एक पीला रोग है। इस रोग में शरीर के विभिन्न हिस्सो पर पीलापन नज़र आता है। इसके अलावा और भी कई लक्षण है पीलिया के जिनके देखकर आप पहचान सकते है की मनुष्य को पीलिया रोग है या नहीं । जैसे कि - आँख के सफ़ेद भाग का पीला होना। जी मचलना। उल्टियां आना। त्वचा का रंग हल्का पीला होना। दाहिनी पसलियों के नीचे भारीपन आना और उनमे दर्द होना। मल का रांफ फीका या सफ़ेद हो जाना। पेट में दर्द होना। भूख नहीं लगना। लगातार वजन में कमी होना। शाम के समय थकावट महसूस होना। 102॰ के आस पास बुखार रहना। जोड़ो में दर्द होना। शरीर में खुजली होना। लोग पीलिया होने पर कई बार अंग्रेजी दवाओं से ज्यादा भरोसा घरेलू नुस्खों पर किया करते हैं। इसलिए आइए हम जानते हैं, कुछ अचूक नुस्खे जिससे आपको पीलिया के इलाज में मदद मिलेगी । 1. गन्ने का रस गन्ने का रस दिन में कई बार पीना चाहिये। पीलिया के रोग में यह अमृत है। गन्ने के रस का सेवन करने से पीलिया बहुत ही जल्दी ठीक हो जाता है। 2. छाछ पीलिया के रोग में 1 ग्लास छाछ रोज़ाना पीनी चाहिये। इसमें काली मिर्च का पाउडर मिलाकर पीने से इसका गुण और भी बढ़ जाता है और यह कुछ ही दिनों में पीलिया के रोग को समाप्त कर देता है। 3. प्याज़ से इलाज प्याज़ पीलिया में बहुत ही लाभदायक होती है। प्याज़ को काट लीजिये और नीबू के रस में कुछ घंटों के लिये भिगो दीजिये। कुछ घंटों बाद इस प्याज़ को निकाल लीजिये। इसे नमक और काली मिर्च लगाकर मरीज को खिला दीजिए। दिन में 2 बार इस प्याज़ को खाने से पीलिया बहुत ही जल्दी दूर हो जाता है। 4. फ्रूट्स फलों में तरबूज और खरबूजा दोनों ही पीलिया में बहुत लाभदायक हैं। इन्हें अच्छी मात्रा में खाना चाहिये। इससे पीलिया का रोग बहुत जल्दी ठीक हो जाता है। 5. निम्बू का रस लिवर के सेल्स की सुरक्षा की दॄष्टि से दिन में ३-४ बार निंबू का रस पानी में मिलाकर पिएं। कुछ ही दिनों में आप खुदको पीलिया से छुटकारा मिलता है महसूस करेंगे। 6. मूली के पत्ते मूली के हरे पत्ते पीलिया के इलाज में बेहद लाभदायक होता है। पत्ते पीसकर रस निकालकर छानकर पीना उत्तम है। इससे भूख बढेगी और आंतें साफ होंगी। और आप पाएंगे पीलिया से छुटकारा। 7. टमाटर का रस टमाटर का रस पीलिया में लाभकारी है। रस में थोड़ा नमक और काली मिर्च मिलाकर पीयें। 8. खास एहतियात बरतें स्वास्थ्य सुधरने पर एक दो किलोमीटर घूमने जाएं और कुछ समय धूप में रहें। भोजन में उन चीजों को शामिल करें जिसमें पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, विटामिन सी, विटामिन ई और विटामिन बी काम्पलेक्स मौजूद हों। पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद भी भोजन के मामले में लापरवाही न बरतें। वर्कआउट खूब करें और स्वच्छता से रहें हेल्दी चीजें खाएं। 9. पीलिया में इनका सेवन न करें सभी वसायुक्त पदार्थ जैसे घी ,तेल , मक्खन ,मलाई कम से कम १५ दिन के लिये उपयोग न करें। इसके बाद थोड़ी मात्रा में मक्खन या जेतून का तैल उपयोग कर सकते हैं। दाल खाने से बचें, क्योंकि दालों से आंतों में फुलाव और सडांध पैदा हो सकती है।
1 person found this helpful

Cause Of Jaundice And Surgical Pathology!

Dr. Sanjeev Kumar 88% (28 ratings)
MBBS, MS - General Surgery, MCH - Surgical Gastroenterology, Ex assistant professor
Gastroenterologist, Patna
Cause Of Jaundice And Surgical Pathology!
Jaundice is a condition that results in excess of bilirubin in the blood. One of the first signs that become evident is the skin becomes yellowish in color. This article will reflect on the probable causes of jaundice and the way to detect them. While there are a lot of treatment options, the exact course of treatment depends on the underlying cause of the disease. Causes of Jaundice: Jaundice is the result of an underlying disorder that either cause overproduction of bilirubin or stops the liver from getting rid of it. In either case, the bilirubin gets deposited in the tissue. Some of the underlying causes of jaundice include the following: Liver inflammation: An acute inflammation of the liver can restrict the liver to conjugate resulting in accumulation of the bilirubin inside the liver. Inflammation of the bile duct: This is a serious condition that might result in non-secretion of the bile and failure to remove the bilirubin resulting in jaundice. Gilbert's syndrome: This is an inherited condition. It restricts the enzymes to excrete bile resulting in jaundice. Hemolytic anemia: This is a condition where a large amount of RBC is broken down resulting in an increased production of bilirubin. This lead to jaundice. Cholestasis: This is a condition that leads to an interruption of the flow of bile from the liver. As a result, the bilirubin gets accumulated in the liver resulting in jaundice. Dubin-Johnson syndrome: This is again an inherited condition that stops the bilirubin from draining out of the liver. Pseudojaundice: This is a harmless condition that might result in jaundice due to an excess of beta-carotene. People who tend to eat a lot of melon, carrot, and pumpkin have a high possibility of getting this type of jaundice. Crigler-Najjar syndrome: This is a genetic condition that impairs the ability of the tissue to excrete bilirubin from the liver resulting in jaundice. Surgical Pathological Cause- CBD stone Periampullary carcinoma of pancreas Cholangiocarcinoma Choledochal cyst Mirrizi syndrome Duodenal growth How is it diagnosed? Urine Test: A urine test aims to measure the count of urobilinogen. The latter is produced when bacteria inside the body breaks the bile into smaller parts. A Higher count of urobilinogen certainly suggests the indication of Jaundice. Blood tests and Liver function: A liver function test can help a doctor diagnose certain liver ailment such as the cirrhosis, hepatitis and alcohol led diseases. Apart from these, the protein produced by liver and releases into the body tends to fall. A blood work will capture the reading and indicate towards jaundice. Imaging tests: Imaging tests are only required when post-hepatic or intra-hepatic jaundice is suspected. Some of the tests that are helpful include MRI, Ultrasound scan and CT scan. Liver Biopsy: A biopsy is recommended to witness the condition of the liver when the liver is affected by serious condition along with jaundice such as cirrhosis etc. Treatment- In surgical pathology(jaundice), laproscopy / open surgery require according to diagnosis and symptoms!
1809 people found this helpful

Jaundice - Precautions You Must Take!

Dr. Vishwas Madhav Thakur 91% (871 ratings)
MBBS, AFIH, PGDMLS, MD-HRM, MD-HM
General Physician, Gurgaon
Jaundice - Precautions You Must Take!
Jaundice is a disease that is related to the liver. It affects thousands of people across the globe. Due to an increased build-up of bilirubin in the body, the skin, nails, and the eyes becomes yellowish in colour. While the condition is easily treatable, if detected in the early stages, it can be easily avoided if certain precautionary measures are taken. Food: It should be ensured that food is consumed fresh and hot in order to avoid jaundice. This is more applicable especially, during the monsoons when the chances of food contamination are on the higher side. Vegetables should be thoroughly washed before cooking in order to avoid any liver infection. Clean water: Consumption of clean water is a pre-requisite in order to avoid jaundice. Drinking filtered water should be an absolute must. If the water is known to be unsafe, it makes sense to boil it before drinking. Bottled or packaged water should be consumed when travelling outside to avoid the risk of jaundice. Frequent hydration: Drinking at least 3-4 litres of water per day goes a long way in refraining from jaundice. Water has multiple health benefits. Apart from keeping the body hydrated, it ensures good blood circulation and cleanses a lot of unwanted body waste. Even fruit juice can be consumed to stay away from jaundice. Certain beverages such as sweetened water should be eschewed to remain healthy. Vaccination: A jaundice vaccination goes a long way in ensuring that the disease cannot infiltrate the body. There are separate vaccines available to safeguard against both Hepatitis A and Hepatitis B. In most countries jaundice vaccination are injected free of cost for children under 10 years. Jaundice vaccines are available over the counter as well. Alcohol consumption: Alcohol consumption can kill slowly. They are known to have adverse effects on the liver which can result in jaundice and a host of other complicated diseases. An alcohol addict also takes a lot of time to recover from jaundice. It, therefore, makes sense to refrain from alcohol or limit it to a bare minimum in order to avoid jaundice. Maintaining weight: Obesity is closely connected with the occurrence of jaundice. Fat cells not only increase the cholesterol level of the body but raise the risk of gallstones as well. It is important to maintain a healthy BMI to ensure that the liver functions well. Maintaining hygiene: Maintaining good hygiene is a good way to stay away from jaundice. Small yet important things such as washing hands before a meal, regularly taking bath, washing teeth twice a day, wearing clean and washed clothes will ensure that the liver is not infected in any manner what so ever.
6922 people found this helpful

Popular Questions & Answers

New born baby. 5 days old, female. Feeling symptoms of Jaundice. Also done Lab Test. Reports are ready with us. Please advice what to do?

Dr. Jayvirsinh Chauhan 97% (4004 ratings)
MD - Homeopathy, BHMS
Homeopath, Vadodara
Hi It is called physiological jaundice.. and it is not a major issue... Just have to take good care... keep her well hydrated, keep watch of her stool... and keep her daily in early morning sun exposure... it helps a lot.... You may consult through lybrate...

Sir please tell me kya piliya chune se hota hai? Maine ek piliya patient ko galti se chu liya. now m afraid ki mujhe piliya na ho jaye. So please tell me.

Dr. Rajesh Choda 97% (6614 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Zirakpur
Chune se kuchh nahi hota, chhune ke baad yadi hand wash proper nahi hai to infection iral route se ho sakta hai.
1 person found this helpful

My bilirubin level are 5.08 and I want to get them below 1. How can I do that quickly?

Dr. G.R. Agrawal 96% (17194 ratings)
DHMS (Hons.)
Homeopath, Patna
Hello, Tk, plenty of water to hydrate your body to eliminate toxins and conditioning the Liver. Go for meditation to reduce your stress to strengthen the Liver. Your diet be easily digestible, non-irritant on time to avold gastric disorder to safguard the Liver. Avoid, junk food, alcohol & nicotine. Tk, homoeopathic medicine: ChelidoniumQ-10 drops, thrice. Tk, care.
1 person found this helpful

HI, I have Stomach pain and another symptoms of jaundice but my skin n eyes are not yellow.so is it jaundice or not.

Dr. Deepak Ruhlan 90% (86 ratings)
MD Ayurveda
Pediatrician, Bathinda
My dear friend, yellowish eye discolouration is not mandatory in jaundice. It will be better to go for lab investigation for Liver function test (Lft. Reply me with report. Hope it will help you. Avoid ghee, curd and butter intake. Take light food like kichdi, daliya, dal rice etc. Don't avoid these symptoms, all symptoms are showing jaundice. Start Syrup Livo 52. 10 ml bd, capsule Pan D. Morning evening before food. Take Meftal spas tablet to avoid pain, maximum you can take it 4 times a day. Get well soon.

My brother has jaundice his eyes are full yellow what are the cureness tell me please.

Dr. Sandhya Krishnamurthy 94% (10220 ratings)
BAMS
Ayurveda, Bangalore
Hi, Take complete bed rest. Avoid spicy and oily food for about 1 month. Drink plenty of fluids like water, tender coconut, fresh fruit juices, etc. Take tab. Arogyavardhini 1-1-1 after food and tab. Liv. 52 DS 1-0-1 and Kumari Asava 2 tsf 3 times a day with equal quantity of water. Take all these medicines for about a month and repeat the blood and urine examinations to assess the bilirubin levels.

Health Quizzes

High Sexual Drive - Symptoms to look out for!

Dr. S.K. Tandon 91% (8529 ratings)
M.D. Consultant Pathologist, CCEBDM Diabetes, PGDS Sexology USA, CCMTD Thyroid, ACDMC Heart Disease, CCMH Hypertension, ECG
Sexologist, Sri Ganganagar
There can be no serious consequences due to high sexual drive. True or False. Take a quiz to know now.
Start Quiz

Popular Health Packages

ENQUIRE
25 Days validity  •  Medicines included
₹1500
ENQUIRE
20 Days validity  •  Medicines included
₹5000
ENQUIRE
180 Days validity  •  Medicines included
₹2500
ENQUIRE
15 Days validity  •  Medicines included
₹1200
ENQUIRE
30 Days validity  •  Medicines included
₹3500
Having issues? Consult a doctor for medical advice