Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Overview

HIV Tridot Test

HIV Tridot Test

HIV Tridot test is used to analyze the level of antibodies HIV 1 & HIV 2 in blood. This test is done using blood sample for confirming the HIV infection and also during the treatment of HIV to measure the treatment whether it is going in right direction or not. HIV or The Human immunodeficiency virus is a virus which attacks the immune system of a human body, and if left untreated in any situation this virus can destroy the immune system causing death to a person. The immune system is an essential part of a human body as they provide protection against different kinds of infections and diseases any damage to immune can lead to serious health hazards. There are various causes of this infection such as using a used injection, having unsafe sex with an infected person, can be transported during breastfeeding to a child, etc.

Since this test is done through a blood sample, hence no specific preparation is required. You have to honest with your doctors telling them about the type of medication you are on, any allergies you are having or any side effect you can have any medicine. This information will help your doctor to start the test keeping your requirement in mind and also the accuracy of the test would not disturb due to your any abnormalities.

HIV is termed as the deadly disease when a person gets affected by this cannot be easily cured and if not detected on time this virus can become more deadly. HIV targets the immune system which is also known as the defence mechanism of our body which protects us from various infections and diseases. Hence, HIV tri-dot test gives the result whether a person is an HIV positive or not. Also, this test tells about the progress of the treatment giving to the patient. If the treatment is not doing any progress then something would be done.

Your doctor will perform few of the steps, you must follow his/her instruction in order to avoid any injury.
1. An elastic band would be tied on your shoulder, in order to locate the veins.
2. Now after selecting a vein, the area would be wiped with antiseptic.
3. With the help of injection or syringe, the required will be taken out and a cotton would immediately be put on the place where the injection was inserted.
4. Also, the elastic band would be removed now to ensure the regular blood flow.
5. Now the blood sample would be sent for testing through a process known as Immunoassay.

Type Gender Age-Group Value
HIV 1 Antibodies
Unisex
All age groups
HIV 1 antibodies detected in positive cases
HIV 2 Antibodies
Unisex
All age groups
HIV 2 antibodies detected in positive cases
Average price range of the test is between Rs.300 to Rs.400 depending on the factors of city, quality and availablity.

Table of Content

What is HIV Tridot Test?
Preparation for HIV Tridot Test
Uses of HIV Tridot Test
Procedure for HIV Tridot Test
Normal values for HIV Tridot Test
Price for HIV Tridot Test
Lybrate Gaurantee
Lybrate Gaurantee

Popular Questions & Answers

Popular Health Tips

How is HIV / AIDS transmitted?

MBBS, PG Diploma (HIV Medicines)
HIV Specialist, Surat
How is HIV / AIDS transmitted?

No matter how much information there is available about AIDS and HIV, the thought of it makes a person shudder. The Human Immunodeficiency Virus or HIV is the virus responsible for AIDS or Acquired Immune Deficiency Syndrome. This virus attacks the immune system and over time leaves the body defenseless against other infections and types of cancer. Till date, there is no cure for HIV or AIDS. However, what we do know is how the disease can be transmitted from one person to another. Knowing this enables us to control the transmission of the disease.

Unlike other viruses, HIV cannot be transmitted through air, water etc. This virus can only be transmitted through:

Blood-

Receiving blood transfusions from an HIV positive person is sure to put you at risk of suffering from the disease as well. For this reason, it is essential to only take blood from registered blood banks that run HIV screening tests. This holds true for organ and tissue transplants as well. Being stuck with an HIV infected needle can also put you at risk of coming in contact the virus. In some cases, direct contact between broken skin, wounds and mucus membranes can also lead to the transferring of HIV cells from one person to another. HIV does not spread through saliva, however, if while kissing, both partners suffer from bleeding gums and one partner is HIV positive, there is a risk of the transference of HIV from one person to the other.

Bodily fluids such as semen and vaginal fluids-

The only way to prevent the transmission of the HIV virus from one partner to another while having intercourse is by using a condom. This creates a barrier between the bodily fluids of both partners and keeps them safe. A condom is needed even if the couple is engaging in anal sex. In fact when comparing anal and vaginal intercourse; anal sex puts HIV negative partners at a higher risk of getting in contact the virus than vaginal sex. Theoretically, this virus can be transmitted even through oral sex is a HIV positive man ejaculates into the woman's mouth. However, this is a rare occurrence.

From a mother to an unborn child-

A HIV positive mother can transmit the virus to her child when pregnant, at birth or while breastfeeding. However, if the mother follows HIV treatment, the chances of her passing on this virus to her child are significantly lowered.

The above are the only three ways HIV can be transferred from one person to another. HIV cannot be transmitted by sharing utensils, drinking the same water, through mosquito bites or by shaking hands etc. Thus, there is no reason to ostracize an HIV infected person. If you wish to discuss about any specific problem, you can ask a free question.

2218 people found this helpful

5 Ayurvedic Remedies To Treat Ovarian Cysts!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS), T.T.C.M Yoga
Ayurvedic Doctor, Navi Mumbai
5 Ayurvedic Remedies To Treat Ovarian Cysts!

Ovarian cysts is a common problem that affects women in their childbearing years. These cysts develop inside the ovaries at the time of ovulation.

These cysts are of four main types:

  1. Polycystic ovaries

  2. Endometriosis

  3. Cystadenomas

  4. Dermoid cysts

In most cases, ovarian cysts resolve themselves, but in some cases they can cause pain and grow.

Ayurveda is a holistic form of alternate medication that can be quite effective when it comes to treating ovarian cysts. This form of medication has negligible side effects and hence, can be prescribed to women of all ages. Apart from medication, Ayurveda also involves changes in lifestyle and diet. Ayurvedic herbs help balance the hormones in a woman’s body and thereby improve the overall functioning of the ovaries as well.

Some of the Ayurvedic herbs used in the treatment of ovarian cysts are as follows:

  1. Guggul: This herb has the potential to revitalise cells and can rejuvenate a person. Guggul or commiphora mukul also has purifying properties that helps regulate lipid production and increase iron levels in a person’s blood. It also helps in weight loss and increases metabolism.

  2. Shilajit: The Ayurvedic herb asphaltum or shilajit improves stamina and the ability to deal with physical and mental stress. It is also known to increase sexual desire and enhance libido for both men and women.

  3. Amalaki: Amalaki or emblica officinalis is best known for its ability to rejuvenate cells and rid the body of free radicals. It also helps boost immunity, aids in the development of healthy skin and slows down the aging process. Amalaki helps with digestion and boosts metabolism along with maintaining the proper functioning of the liver.

  4. Aloe: Aloe is the most common Ayurvedic product used for skin care and anti-ageing products. Apart from skincare and hair care, aloe also helps relieve hypertension and has well known antioxidant properties. Additionally, it helps deal with high blood pressure and respiratory problems.

  5. Vitamins and minerals: Some vitamins and minerals boost immunity and have the ability to destroy abnormal cells such as cysts. Zinc helps prevent ovarian cysts, helps the body get rid of free radicals and aids in normal cell growth. Vitamin B complex helps in converting excessive estrogen into less weaker forms and hence balances hormone levels. Antioxidants like vitamin A and E protect the cells against damage and abnormal changes in the cell growth. Vitamin C also helps boost immunity and gives the body the ability to fight illnesses and infections. If you wish to discuss about any specific problem, you can Consult an Ayvuvedic doctor and ask a free question.

4531 people found this helpful

Aids Kaise Hota Hai - ऐड्स कैसे होता है

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Aids Kaise Hota Hai - ऐड्स कैसे होता है

ये सच है की मौत बहाने से आती है और उन बहानों में सबसे आम बहाना होता है बीमारी। हम सभी को जीवन एक बार मिलता है, जिसे हम बेहतर और लम्बा बनाने के लिए हर मुमकिन कोशिश करते हैं पर जीवन और मौत के दरम्यान बीमारी की तलवार हमेशा लटकती रहती है। इसलिए हम हमेशा बिमारियों से रूबरू होकर उनसे बचने या जीत हासिल करने की फ़िराक में रहते हैं जिससे अपनी उम्र और स्थिति में इजाफा कर लेते हैं। लेकिन इस बात पर गौर करना होगा कि कुछ बीमारियों से जूझ कर भी हम जीने की उम्मीद नहीं खोते पर कुछ बीमारियाँ ऐसी भी हैं जो हमें मारें उसके पहले ही हम दिमागी तौर पर दिन ब दिन मरने लगते हैं. आज इस लेख में हम ऐसी ही एक बीमारी के बारे में चर्चा करंगे जो जानलेवा होती है । आपको बताएंगे कि एड्स कैसे होता है और इसके पीछे क्या कारण होते है।

एड्स एक बेहद खतरनाक और जानलेवा बीमारी के रूप में जाना जाता है। यह बीमारी अगर किसी इंसान को हो जाये तो उसकी म्रत्यु निश्चित हो जाती है। केवल भारत को लिया जाए तो सालाना तकरीबन 80,000 से ज्यादा लोगो की म्रत्यु AIDS के वजह से होती है। इसलिए इससे बचना है तो यह जानना बेहद जरूरी हो जाता है कि एड्स क्या है और कैसे होता है?

क्या है एड्स

एड्स यानि कि उपार्जित प्रतिरक्षा नाशक रोग समूह, जिसका अर्थ है कि एड्स मनुष्य जाति में स्वाभाविक रूप से शुरू नहीं हुआ बल्कि मनुष्य जाति के अपने ही कुछ कर्मों के कारण उपार्जित हुआ। यह एक संक्रामक रोग है जो कि एच.आई.वी. (ह्यूमनइम्यूनो डेफिशियेन्सी वायरस) नाम के विषाणु के संक्रमण की वजह से होता है। जब यह विषाणु शरीर में प्रवेश कर जाता है तो ब्लड में पहुंच कर वाइट ब्लड सेल्स में मिलकर उसके DNA में पहुंच जाता है जहां वह विभाजित होता है और रक्त के सफेद कणों पर आक्रमण करता है। धीरे-धीरे यह सफेद कणों की संख्या बहुत कम कर देता है। उसी कमी या समाप्ति के साथ शरीर की रोगों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता को समाप्त करता है।

यह विषाणु शरीर में प्रवेश करने के बाद समाप्त नहीं होता है। और इसी स्थिति को एड्स कहा जाता है।

  • शोधकर्ताओं के अनुसार AIDS दो वायरस के कारण होता है, HIV1 और HIV2।

  • HIV1 वायरस दुनिया भर में सबसे ज्यादा पाया जाने वाला वायरस है और HIV2 वायरस ज्यादातर वेस्ट अफ्रीका में पाया जाता है।

  • यह दोनों वायरस रेट्रोवायरस नामक प्रजाति के हैं जो अपना DNA इंसान के DNA से मिला देते है और जिंदगी भर उस इंसान के DNA  के साथ रहते हैं।

  • वैज्ञानिकों का कहना है कि मानव शरीर मे पाया जाने वाला वायरस मनुष्यों में बंदरों की प्रजातियों से आया है क्योंकि बंदरों में पाए जाने वाले HIV वायरस और मानव शरीर मे पाए जाने वाले HIV वायरस में काफी समान्यताएँ है।

  • 1930 से 1940 के बीच पहली बार इंसानों में यह वायरस मिला। जो माना जाता है कि बंदर का मास खाने वाले कुछ अफ्रीकी आदिवासियों में पाया गया था और पूरी दुनिया में  फैल गया।

  • भारत देश AIDS के मरीजों की संख्या के मामले में दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश है।

यह जानना जरूरी है की HIV छूने से नहीं फैलता। यह केवल शरीर के अंदर मौजूद तरल पदार्थ जैसे थूक, खून, और सेक्स के द्वारा निकलने वाला सेमेन से फैलता है।

HIV  के संक्रमण के कारण

वजाइनल, ऐनल और ओरल सेक्स

एचआईवी/एड्स से ग्रसित व्यक्ति के साथ असुरक्षित सेक्स करने से इसके वायरस आपके शरीर मे आ जाते हैं। यह वायरस किसी के शरीर मे चुम्बन द्वारा भी आ सकता है पर इसकी संभावना कम होती है क्योंकि थूक में HIV का वायरस कमज़ोर होता है और चुंबन  करते समय कम से कम 1-2 लीटर थूक एक्सचेंज हो एक दूसरे का तभी संभव है थूक द्वारा HIV/AIDS होना।

माँ द्वारा

यदि जन्म देते समय माँ में HIV वायरस मौजूद है तो वह वायरस बच्चे के अंदर आ सकता है। यदि जन्म देने के बाद किसी कारण से माँ के अंदर HIV का वायरस आ जाता है तो यह बच्चे में स्तनपान के द्वारा भी आ सकता है। सही समय पर सही कदम लेने से यह रोका जा सकता है। सही कदम नहीं उठाने के कारण तकरीबन 30% बच्चे जन्म से ही HIV/AIDS से संक्रमित होते हैं।

3. इंजेक्शन

किसी HIV/AIDS के मरीज़ के शरीर मे इस्तेमाल की गई सुई को किसी दूसरे व्यक्ति के शरीर मे इस्तेमाल करने से HIV/AIDS फैल सकता है।

4. शल्य चिकित्सा शास्त्र

शल्य चिकित्सा शास्त्र यानी सर्जिकल इंस्ट्रूमेंट्स जो सर्जरी करने के लिए इस्तेमाल की जाती है, अगर HIV AIDS के मरीज़ के शरीर पर इस्तेमाल की गई हो और उसे बिना अच्छे से साफ किये दूसरे के शरीर मे इस्तेमाल किया जाए तो HIV AIDS फैल सकता है।

5. संक्रमित रक्त

HIV/AIDS एड्स से ग्रसित व्यक्ति का खून बिना जाँच किए किसी को चढ़ा दिया जाए तो उससे भी HIV/AIDS हो सकता है।

6. म्यूकस मेम्ब्रेन

म्यूकस मेम्ब्रेन जो शरीर के आन्तरिक अंगों को घेरे रहती है और सभी कैविटीज की सबसे ऊपरी परत होती है यदि उसमें HIV/AIDS का संक्रमित रक्त लग जाता है तो उस व्यक्ति को  HIV/AIDS हो सकता है। जैसे कि यदि किसी को चोट लगी हो और उस चोट पर किसी व्यक्ति का खून लग जाए जिसे HIV /AIDS हो तो उस खून में मौजूद HIV वायरस उस चोट लगे हुए हिस्से से दूसरे व्यक्ति के शरीर मे प्रवेश कर जाता है।

बताए गए कारणों से HIV /AIDS फैलता जरूर है पर जरूरी नहीं है कि इन वजहों से किसी का खून यकीनन संक्रमित ही हो जाए। यह इसपर भी निर्भर करता है कि HIV वायरस कितना मजबूत है। यदि कमज़ोर HIV वायरस किसी के शरीर मे किसी भी तरीके से चला जाए तो संभव है कि उस व्यक्ति को HIV/AIDS न हो।

बदकिस्मती से दुनिया मे HIV को लेकर कई गलतफैमियाँ है इस कारण यह भी जानना जरूरी हो जाता है कि HIV AIDS किन कारणों से नही फैलता।

  • कीड़े मकोड़ो के काटने से

  • किसी HIV AIDS के मरीज के मूत्र और पसीने से

  • शौचालय या स्विमिंग पूल को इस्तेमाल करने से

  • HIV AIDS के मरीज का टॉवल या कपड़ा इस्तेमाल करने से

  • HIV AIDS के मरीज़ों को छूने से या साथ काम करने से

  • HIV AIDS के मरीज के साथ एक थाली में खाने

  • HIV AIDS के मरीज का किसी के सामने छींकने से या खाँसने से भी HIV AIDS नही फैलता है।

53 people found this helpful