Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Pregnancy Tips

Ovulation Induction - Do You Think It Is Effective?

Motherhood 86% (259 ratings)
Speciality Birthing Care
Gynaecologist, Bangalore
Ovulation Induction - Do You Think It Is Effective?

There are a number of ways in modern day medical science for helping couples conceive, in case they are not able to do so in a natural way. Apart from IUI, IVF and other forms of artificial insemination, one such way is ovulation induction. In this procedure, the ovaries are stimulated to release an egg which can maximize the chances of natural conception, or even through IUI. This is an effective process that works well, provided there are no other infections and diseases at play. It basically works by stoking the relevant hormones with the help of tablets and injections.

Let us find out more about the process.

Varied Tests: Before embarking on the process, the doctor will conduct a number of tests to ensure that you are capable of conceiving by natural means or even with artificial insemination. These tests help in making sure that there are no other ailments in the picture, which may hamper the process of ovulation induction or affect the ovaries in general.

Ovulation Cycle: Thereafter, the doctor will take blood samples in order to study the exact ovulation cycle that the body follows. These blood samples will be studied to measure the level of hormones at different stages so as to find out the most opportune time when the situation may be congenial for the ovulation induction to begin. A transvaginal ultrasound will also be carried out so that the doctor may study the development of follicles within the ovaries. These follicles usually line the ovaries. This ultrasound will also study the thickness and appearance of the womb’s lining.

The Ovulation Induction Cycle: The ovulation induction cycle will begin with tests that will happen starting from day one to day four. Once the tests have ascertained that the body is ready to go through the process with maximum chances of conception, the process will begin on fourth day. On this day, the patient will be given medication like Clomiphene Citrate. This medicine is also usually given to patients who are undergoing IUI or artificial insemination as it is said to increase the likelihood of conception. The Follicle Stimulating Hormone injection will also be given to the patient on the same day.

After the Medication: Once the medication and injections have been administered, the patient will have to go through a test to study the hormone levels in the body. This usually takes place around day 10 or 11. Thereafter, two weeks later, the patient will go through an ultrasound to find out if the ovulation is about to begin.

Time: While this is an effective method, one must remember that the ovulation results may take time for women who do not have normal menstrual cycles.

ART Pregnancy - Knowing The Different Types Of It!

Dr. Kokila Desai 86% (10 ratings)
MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery
Gynaecologist, Surat
ART Pregnancy - Knowing The Different Types Of It!

Assisted Reproductive Technology (ART) includes methods that can help induce pregnancy where it cannot be achieved naturally. In other words, it is an infertility treatment for couples trying to have a baby.

Who are eligible for the ART treatment?

Assisted Reproductive Technology is useful for-

  • Women who cannot conceive without assistance
  • Women who cannot sustain a pregnancy without treatment

What are the different types of Assisted Reproductive Technology?

There are several types of methods available, which target a specific problem and help in achieving pregnancy by undoing it.

• Ovulation Induction - Pregnancy can happen only if there are no glitches in the menstrual cycle. Many women ovulate irregularly, while some others do not ovulate at all. In such cases, doctors prescribe hormonal therapy. A tablet or injection introduces a substance that triggers the secretion of follicle-stimulating hormones in the body. When the follicles develop, another hormone is administered which help in releasing an egg from the follicle. If the couple times their intercourse with the release of the egg, the woman can conceive.

Artificial Insemination - Sometimes a woman cannot conceive because of mechanical difficulties in intercourse. This may arise due to structural problems of the penis or if the man is unable to get an erection. Through artificial insemination, the doctor injects the sperm into the woman’s uterus through her cervix during or right before ovulation. Artificial Insemination can be performed in conjugation with ovulation induction if a woman is unable to ovulate.

• In Vitro Fertilization - This process is chiefly used on women whose fallopian tubes are blocked. A woman is administered hormones that stimulate the release of several eggs. The woman’s eggs and the semen from her partner or a donor are collected. The sperm fertilizes the eggs, and of the several embryos produced, only one is placed in the uterus and the others are frozen in case the pregnancy fails.
Infertility is no longer a cause of distress. With Assisted Reproductive technology, anyone can have a child today. Before you opt for the procedure, have a detailed conversation with your gynaecologist. Weigh out the various advantages and risk factors associated with the ART process. You can completely rely on ART since it does not involve many complications.

7 Benefits Of Kegel Exercises During Pregnancy!

Dr. Gopika Rajesh 85% (10 ratings)
MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, DNB - Obstetrics & Gynecology
Gynaecologist, Bangalore
7 Benefits Of Kegel Exercises During Pregnancy!

Kegel is named after renowned gynaecologist Arnold Kegel. Kegel exercises are for the strengthening the pelvic floor muscles. You must continue doing Kegel exercises multiple times for several days, to begin to see changes and benefits.

Benefits 
1. It is a highly recommended treatment for urinary incontinence
2. Works well in case of decreased bladder control
3. Strengthens pelvic muscles
4. Relieves abdominal cramps
5. Helps in pelvic toning
6. Prevents organ prolapse
7. Beneficial to those with constipation as kegel exercises help regulate bowel movements

Kegel exercises during pregnancy
During pregnancy, most women suffer from problems related to constipation, which can be kept in check by regular practice of kegel exercises. The strengthening of pelvic muscles is of utmost need during this time, as weakened muscles can lead to a major prolapse if they are unable to bear the weight of a baby. Strong pelvic muscles are required to have a healthy pregnancy. These exercises are useful in preparing the muscles for labour and childbirth. If you notice occasional leakage of urine during the third trimester, it is a warning sign of losing bladder control, which, if left untreated, can worsen during the post partum period. Regularly exercising can help prevent complications occurring due to pregnancy.

How To Do Kegel Exercise During Pregnancy?

Try to stop the flow of urine when you are sitting on the toilet without tightening your abdominal, buttock, or thigh muscles. When you're able to successfully start and stop urinating, or you feel the vaginal muscle contract, you are using your pelvic floor muscle, the muscle you should be contracting during Kegel exercises.

You can do Kegel exercises two ways: either by holding or quickly contracting the pelvic floor muscle. To do slow Kegels, contract the pelvic floor muscle and hold for three to 10 seconds. Then relax and repeat up to 10 times. To do fast Kegels, quickly contract and relax your pelvic floor muscle 25 to 50 times. Relax for 5 seconds and repeat the set up to four times.

Squatting: Squatting is helpful during labor because it opens the pelvic outlet an extra quarter to half inch, allowing more room for the baby to descend. But squatting is tiring, so you should practice it frequently during pregnancy to strengthen the muscles needed.

How to do Squatting? An exercise called a wall slide is especially helpful. Stand with your back straight against a wall, place your feet shoulder width apart and about six inches from the wall, and keep your arms relaxed at your sides. Slowly and gently slide down the wall to a squatting position (keeping your back straight) until your thighs are parallel to the floor. Hold the position for five to 10 seconds, slowly slide back to a standing position. Repeat five or 10 times.

Pelvic Tilt: What is it? Pelvic tilts strengthen abdominal muscles, help relieve backache during pregnancy and labor, and ease delivery. This exercise can also improve the flexibility of your back, and ward off back pain.

How to do Pelvic Tilt? You can do pelvic tilts in various positions, but down on your hands and knees is the easiest way to learn it. Get comfortabe on your hands and knees, keeping your head in line with your back. Pull in your stomach and arch your back upward. Hold this position for several seconds. Then relax your stomach and back, keeping your back flat and not allowing your stomach to sag. Repeat this exercise three to five times. Gradually work your way up to 10 repetitions.

These exercises can yield great benefits with minimal effort. The exercises require no special equipment except comfortable clothes, and a little space to do them.

Do not worry if you are not close to the goal when you begin. Pelvic muscles are like any other muscles in your body. They will become stonger only with time, consistency and mindful work.

Beware: If you sense any pain in your back or abdomen after doing a Kegel set, it is a sign of you not doing them properly.

1 person found this helpful

Ectopic Pregnancy - Are You Aware Of The Risks?

Dr. Harjinder Kaur Bedi 89% (46 ratings)
MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist, Jalandhar
Ectopic Pregnancy - Are You Aware Of The Risks?

During a normal pregnancy, a fertilised egg travels through the fallopian tube to the uterus. The egg attaches itself in the uterus and begins to develop. In an ectopic pregnancy, the egg attaches outside the uterus, most often in fallopian tube. This is the reason why it is also called a tubal pregnancy. In rare cases, the egg may implant itself in an ovary or the cervix.

There is no way to prevent an ectopic pregnancy. Also, it cannot be transformed into a normal pregnancy. If the egg continues developing in the fallopian tube, it can rupture the tube; the result of this could be fatal. If you have an ectopic pregnancy, you will require immediate treatment to end it before it causes any risks.

Risks involved: Things that make you more prone to an ectopic pregnancy are:

  • The more you smoke, the higher your danger of an ectopic pregnancy.
  • Pelvic incendiary malady (PID). This is the after effect of contamination, for example, chlamydia or gonorrhea.
  • Endometriosis, which can bring about scar tissue in or around the fallopian tubes.
  • Exposure to a chemical called DES before you conceived.

Symptoms: The signs of an ectopic pregnancy are:

  • Pelvic pain. It might be sharp on one side at first before spreading through your belly. It might be more painful when you move or strain
  • Vaginal bleeding

Diagnosis: To see whether you have an ectopic pregnancy, your specialist will probably take:

  • A pelvic exam to check the span of your uterus and feel for any kind of growth in your tummy.
  • A blood test that checks the level of the pregnancy hormone (hCG). This test is repeated 2 days after the fact. In early pregnancy, the level of this hormone duplicates itself every two days. Low levels recommend an issue, for example, ectopic pregnancy.
  • An ultrasound. This test can demonstrate pictures of what is inside. With ultrasound, a specialist can more often than not see a pregnancy in the uterus 6 weeks after your last menstrual period.

Treatment: The most widely recognised treatments are medicines and surgery. As a rule, a specialist will treat an ectopic pregnancy immediately to prevent harm to the lady.
Prescription can be utilised if the pregnancy is discovered right on time, before the tube is harmed. Much of the time, one or more shots of methotrexate will end the pregnancy. Taking the shot gives you a chance to keep away from surgery; however, it can bring about reactions. You should see your specialist for follow-up blood tests to ensure that the shot worked.

For a pregnancy that has gone past the initial couple of weeks, surgery is a better option than medication. In this event, the surgery will be a laparoscopy.

3 people found this helpful

Respiratory Complications During Pregnancy - Tips To Avoid Them!

Gynaecologist, Faridabad
Respiratory Complications During Pregnancy - Tips To Avoid Them!

Pregnancy brings with it a slew of changes in the physiological parameters of women. Women are susceptible to a number of complications, including respiratory complications during this stage. An abnormal chest X-ray or a complaint regarding some kind of respiratory trouble guides doctors to explore the possibility of pregnancy leading to respiratory complications.

Respiratory Complications During Pregnancy

Let us explore the likely respiratory complications during pregnancy. 

Though studies do not indicate any increase in risk of pneumococcal infection during pregnancy, it has been observed that complications arising out of pneumonia are increased during this time. Anemic or asthmatic women are more susceptible to this infection, and the risk of complications is also more common in such women. It entails risk for both the mother and the child. While the child can be born preterm or low in weight, the mother can even suffer respiratory failure.

It is a kind of fungal infection that affects the respiratory system, especially in the last trimester of pregnancy. It is a respiratory tract infection that is self- limiting in nature. However, owing to reduced immunity during pregnancy, this fungal infection may turn out to be severe. It may cause a variety of complications, including pneumonia, fever, chest pain, difficulty in breathing, etc.

However, timely diagnosis and administration of antifungal therapy has reduced maternal mortality to a large extent.

There is a risk of formation of blood clots during pregnancy due to hypercoagulability of blood during this stage. This leads to an enhanced risk of embolic pneumonia, where blood clots may block an artery in the lungs. It is an emergency condition where patients usually have difficulty breathing, chest pain, cough, etc.

Pregnancy is not a risk factor for asthma, but asthma during pregnancy may exacerbate the risk of complications such as premature birth, restricted growth, preeclampsia, etc.

Tips to Avoid

These and other respiratory complications during pregnancy, if any, increase the risk of complications for the mother as well as the fetus. However, there are ways that pregnant women can adopt to get over these problems and give birth to a healthy baby.

  1. Avoid Crowded Place in Pregnancy: Pregnancy enhances the risk of Pneumonia, and Pneumonia is mostly a community acquired. Pregnant women can try to avoid Pneumonia by avoiding going to crowded places.
  2. Eat Immune Boosting Food: Coccidioidomycosis is a fungal infection that is mostly diagnosed during the third trimester. However, it is usually a self-limiting infection. Along with avoiding going to crowded places, she also needs to take immune-boosting food such as citrus fruits, green vegetables, etc.
  3. Walk Regularly: Pulmonary Embolism is the result of being immobile for a long time. This happens during pregnancy and this is what makes pregnant women susceptible to the problem. One can tide over the problem by taking regular strolls at home or outside and doing regular chores.
  4. Consult with Gynecologist in Case of Asthma: If she is suffering from asthma, she must discuss it with the gynecologist. Most asthma medications are safe to be taken during pregnancy.
  5. Take Care of Infant Breath: Pregnant women should regularly visit gynecologists for checkups. They should also take a balanced diet and stay happy for the healthy life of the child.
2 people found this helpful

Diet In Pregnancy - Do's And Don't Of It!

Dr. Surinder Kaur Gambhir 91% (22 ratings)
MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, MD - Obstetrics & Gynaecology, Diploma in Assisted Reproductive Techniques (ART)
Gynaecologist, Chandigarh
Diet In Pregnancy - Do's And Don't Of It!

Pregnancy is that period of time in a woman's life when she is excited about giving birth to her baby. She is not only responsible to keep herself healthy, but her baby is also her responsibility. What she eats, how she lives and her daily routine will affect the baby. Thus, to have a healthy pregnancy it is necessary that you exercise regularly and eat well. You should also avoid those things that may hurt your baby. 

Take care of what you eat

During pregnancy it is important to get proper nutrition so that you and your baby are healthy. For slow and gradual weight gain, it is necessary to pay close attention to the folic acid, calcium and iron intake. However, if you are obese, then your weight gain regime will be different from others. 

The diet during pregnancy should include

-  Intake of fruit and vegetables is important as they are good sources of Vitamins, minerals and even fiber. They are good for digestion and also help in preventing constipation. Eat fresh fruits and vegetables daily.

-  During pregnancy carbohydrates are also important as they act as an important source of energy. Different food items that are rich in carbohydrates are potatoes, bread, breakfast cereals, pasta, rice, noodles, millet, maize, oats, yams, sweet potatoes, and corn meal. It is better to eat whole grains and potato with the skin on as they are rich in fiber. 

-  Intake of protein is very important during pregnancy, and thus you should take lean meat, pulses, beans, nuts, fish, and eggs. All these items should be cooked well so that you do not face any problem in digestion during pregnancy. 

-  It is also necessary to eat dairy products like milk, cheese, butter and yoghurt during pregnancy. They are important because they contain the calcium and nutrients that are necessary for the growth of the baby. 

What to avoid

Just as you should eat certain food items to be healthy, there are certain foods that must be avoided to be fit and healthy. Avoid the following during pregnancy

-  Drugs and alcohol
-  Medicines that are not prescribed by your physician
-  Smoking tobacco
-  Fried and oily food
-  Fishes those are rich in mercury like shark, tilefish, swordfish and those fishes that are caught in local waters are not considered safe. 
-  Too much intake of caffeine is also hazardous for a pregnant lady. 

Thus, by following the above-mentioned  diet tips you can keep your baby and yourself healthy. 
Always get advice from your physician for any decision that you take during pregnancy.

2161 people found this helpful

प्रेगनेंसी में ब्लीडिंग इन हिंदी - Pregnancy Me Bleeding In Hindi!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
प्रेगनेंसी में ब्लीडिंग इन हिंदी - Pregnancy Me Bleeding In Hindi!

गर्भावस्था में खून बहना सामान्य हो सकता है. पर कई बार यह सामान्य न होकर गर्भपात की शुरुआती का लक्षण होता है. वैसे गर्भावस्था के समय पीरियड्स बंद हो जाता है और खून बहना भी बंद हो जाता है. पर गर्भ धारण करने के बाद कुछ हफ्तों तक में कितने महिलाओं को हल्का खून या खून का धब्बा आते हैं, जो सामान्य है. ऐसा लगभग 25% गर्भवती महिलाओं में देखा जाता है. पर कभी-कभी इस प्रकार गर्भावस्था में खून बहना गर्भपात की शुरुआत का लक्षण रहता है. गर्भावस्था में खून बहने का कई कारण हो सकते हैं. इनमें से कुछ मुख्य कारण और बचाव निम्न हैं:

गर्भावस्था में खून बहने के कारण-

1. इम्प्लांटेशन ब्लीडिंग या स्ट्रीकिंग: - जब एक फर्टीलाइज्ड अंडा गर्भाशय के पास आता है तो हल्का खून बहता है. और सामान्यतः यह मासिक धर्म के समय होता है. जिस कारण कई बार महिला को पहले से यह मालुम भी नहीं रहती है कि वह गर्भवती है. और इस खून को वह मासिक धर्म का खून समझ बैठती है.

2. हार्मोन्स के कमी के कारण: - गर्भावस्था में कुछ खास हार्मोन्स मासिक धर्म या पीरियड्स को होने से रोकती है जिस कारण गर्भवस्था में पीरियड्स नहीं होती है. पर कई बार हार्मोन्स पूर्ण रूप से तैयार नहीं होता है जिस कारण गर्भावास्था में भी मासिक धर्म के समय यानि गर्भधारण के चौथे, आठवें या बारहवें सप्ताह में हल्का या अधिक खून आता है व पीरियड्स के तरह के ही दर्द व ऐंठन के लक्षण होते है. ऐसा सामान्यतः तीन माह के गर्भ तक ही होता है क्योंकि इसके बाद ओवरी के जगह प्लेसेंटा हार्मोन बनाना शुरू कर देते हैं. पर कुछ महिला को पुरे गर्भावस्था के दौरान खून का बहना जारी रहता है पर फिर भी वे तंदुरुस्त बच्चे को जन्म देती है.

3. भ्रूण की मृत्यु के कारण: - यदि गर्भ में भ्रूण की मृत्यु हो जाती है तो उस कारण भी गर्भावास्था में खून बह सकता है. ऐसी स्थिति पुरे गर्भावस्था के दौरान कभी भी हो सकती है. भ्रूण की मृत्यु यानि गर्भपात का कई कारण हो सकता है. ऐसा मूत्र पथ या गर्भाशय में संक्रमण से भी हो सकता है. शरीर में पानी का कमी, गलत दवा का प्रयोग या चोट लगने से भी ऐसा हो सकता है. इसके अलावा भारी सामान उठाना, गलत तरीका से सेक्स करना व मानसिक तनाव के कारण भी गर्भपात की संभावना होती है.

4. एक्टोपिक गर्भावस्था में: - अस्थानिक गर्भवस्था यानि एक्टोपिक (ectopic) गर्भावस्था में खून का आना व ऐंठन हो सकता है. जब निषेचित अंडा गर्भाशय के बाहर या फेलोपियन ट्यूब में आरोपित होता है तब उस स्थिति को एक्टोपिक गर्भावस्था कहते हैं. इस स्थिति में जब अंडा बड़ा होता है तो कई बार फेलोपियन ट्यूब फट जाता है जिस कारण खून बहता है. यह बहुत ही गंभीर स्थिति होती है.

5. मोलर गर्भावस्था में: - जब भ्रूण उचित तरीके से विकसित नहीं हो रहा हो पर प्लेसेंटा निर्मित करने वाली कुछ कोशिकाएं बढ़ना जारी रखते हैं तब इस स्थिति को मोलर गर्भावस्था कहते हैं. इस स्थिति में भी खून का बहना हो सकता है.

6. गर्भाशय का फटने के कारण: - कभी-कभी प्रसव से पहले या प्रसव के समय गर्भाशय फट जाता है जिस कारण गर्भ का भ्रूण पेट की ओर खिसक जाता है. यह स्थिति गर्भवती महिला व बच्चा दोनों के लिए खतरनाक स्थिति है. ऐसी स्थिति में भी खून बहता है.

7. गर्भावस्था के दौरान सेक्स या संभोग के कारण: - गर्भावस्था के दौरान सेक्स या संभोग करने के कारण भी खून बह सकता है जो कि सामान्य स्थिति है.

गर्भावस्था में खून बहना : क्या है बचाव-

यदि गर्भावस्था के दौरान खून का बहना शुरू हो जाता है तो जल्द ही अपने चिकित्सक से संपर्क कर उनसे सलाह लेना चाहिए. चिकित्सक जाँच कर यह बतायेंगे कि यह रक्तस्राव सामान्य स्थिति है या गंभीर है. फिर चिकित्सक के निर्देशानुसार जरुरत हो तो उचित ईलाज कराना चाहिए. इसके अलावा इस दौरान आराम करना चाहिए व ताकत लगने वाला कोई भी काम नहीं करना चाहिए. इस दौरान सेक्स या संभोग नहीं करना चाहिए. टेम्पोन का इस्तेमाल करना चाहिए. शरीर में पानी का कमी नहीं होने देना चाहिए. इसके लिए अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए.
 

1 person found this helpful

गर्भधारण की प्रक्रिया - Garbhdharan Ki Prakriya!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
गर्भधारण की प्रक्रिया - Garbhdharan Ki Prakriya!

गर्भ धारण करना किसी भी महिला के लिए सबसे सुखद अनुभव में से एक होता है। यह हर महिला का सपना होता है कि वह एक सुंदर और स्वस्थ बच्चे को जन्म दें। गर्भ धारण करना एक जटिल प्रक्रिया तो है लेकिन ज्यादा मुश्किल भी नहीं है। गर्भ धारण करने की प्रक्रिया कई चरणों में बंटा हुआ है। इस प्रक्रिया के दौरान अंडे और शुक्राणु का मिलन होना जरुरी होता है।

मासिक चक्र का योगदान-
जब अंडाशय से अंडा निकलता है तब ओवुलेशन की प्रक्रिया होती है. यह प्रक्रिया हर महीने होती है. कभी कभी इस दौरान एक से अधिक अंडे भी निकलते हैं. इस समय गर्भाशय की दीवार मोती होने लगती है और गर्भाशय ग्रीवा में मौजूद पदार्थ पतला हो जाता है जिससे इसमें से शुक्राणु आसानी से गुज़र सके. अंडा फैलोपियन ट्यूब में नीचे की और धीरे धीरे यात्रा करता है. अगर इस समय पुरुष और महिला ने संभोग किया है तो यह पर अंडा शुक्राणु से निषेचित हो सकता है. अब गर्भाशय की दीवार और भी ज्यादा मोटी हो जाती है क्योंकि अंडा निषेचन के बाद आरोपित होता है. लेकिन अगर अंडा निषेचित नहीं हुआ है तो यह मासिक धर्म के दौरान शरीर से बहार निकल जाता है. साथ ही दीवार भी पतली हो जाती है. आप अंडे को नहीं देख सकती क्योंकि यह बहुत ही सूक्ष्म होता है.

गर्भाधान के लिए उत्तम समय-
महिलाओं में ओवुलेशन प्रक्रिया उनके मासिक चक्र पर निर्भर करती है. अगर आपका मासिक चक्र 28 दिनों का है तो ओवुलेशन का समय पीरियड्स के 14वें दिन होगा. अगर मासिक चक्र का समय 21 दिनों का है तो ओवुलेशन 7वें दिन हो सकता है. और यदि मासिक चक्र का समय 35 दिनों का है तो आप अपने चक्र के 21वें दिन अंडोत्सर्ग करेंगी. हालांकि ओवुलेशन का सटीक समय जानना थोड़ा कठिन है. आप ओवुलेशन के दिन की पुष्टि ओवुलेशन पूर्व-सूचना या मूत्र-आधारित एलएच किट्स का उपयोग करके कर सकती हैं जो आसानी से बाजार में उपलब्ध होती हैं. किसी भी मासिक चक्र के दौरान केवल छह दिन होते हैं जब महिला गर्भवती हो सकती है - ओवुलेशन के पहले 5 दिन और ओवुलेशन के बाद 24 घंटे. ऐसा इसलिए क्योंकि पुरुष के शुक्राणु महिला के शरीर में 5 दिनों तक रह सकते हैं, और महिला का अंडा 12-24 घंटों के लिए ही रहता है.

प्रजनन अवधि-
संभोग के दौरान, जब पुरुष का शुक्राणु महिला के प्रजनन क्षेत्र में पहुंच जाता है तो यह तीन से पांच दिनों से अधिक सक्रिय नहीं रहता इसलिए इन्हीं 5 दिनों में यह महिला के अंडे से संयोग करता है. अगर संयोजन के समय शुक्राणु महिला के अंडे के भीतर जाने में सफल हो जाता है तो निषेचन की क्रिया पूर्ण हो जाती है. इस क्रिया में लगभग 10 घंटे का समय लगता है. इसलिए ओवुलेशन के पहले के पांच दिन गर्भधारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. ओवुलेशन के एक दिन पहले संभोग करना गर्भधारण के लिए बहुत ही बेहतर समय होता है क्योंकि इस समय शुक्राणु के पास अंडे तक पहुंचने और निषेचन करने का पर्याप्त समय होता है. ओवुलेशन के दो दिन पहले संभोग करने से भी गर्भधारण की संभावना अधिक होती है. ओवुलेशन वाले दिन संभोग करने की तुलना में ओवुलेशन के तीसरे या चौथे दिन पहले संभोग करने से गर्भ अधिक तीव्रता से धारण होता है. ओवुलेशन वाले दिन भी आप गर्भवती हो सकती हैं लेकिन पहले के चार दिन गर्भधारण की संभावनाएं अधिक होती हैं. उपर्युक्त कारणों की वजह से किसी भी स्त्री का प्रभावी प्रजनन समय ओवुलेशन के 2-4 दिन पहले का होता है.

गर्भधारण कब होता है - Garbhdharan Kab Hota Hai!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
गर्भधारण कब होता है - Garbhdharan Kab Hota Hai!

गर्भधारण देखने में आसान और एक सामान्य प्रक्रिया लगता है लेकिन ये एक जटिल और अदभुत प्रक्रिया है. यह तब संपन्न होती है जब नर का शुक्राणु मादा के अंडे से संयोग करता है. कुछ महिलाओं में यह क्रिया बहुत जल्दी और कुछ में काफी समय के बाद होती है. गर्भाधान और गर्भावस्था को समझने के लिए, पुरुष और महिला के प्रजनन अंगों को जानना बहुत ज़रूरी है साथ ही यह भी जानना आवश्यक है कि महिलाओं को होने वाले मासिक धर्म की इसमें क्या भूमिका रहती है. मासिक चक्र महिला हो मासिक धर्म होने के पहले दिन से गिना जाता है और मासिकधर्म के कुछ समय बाद उनमें ओवुलेशन की प्रक्रिया (अंडा निकलता है) होती है. उसके 12-14 दिन बाद फिर से उन्हें पीरियड्स होते हैं. यह चक्र सामान्यतः 28 दिन का होता है और कभी कभी कम या ज्यादा दिन का भी हो सकता है. आइए इसे विस्तार से समझें.

मासिक चक्र का योगदान-
जब अंडाशय से अंडा निकलता है तब ओवुलेशन की प्रक्रिया होती है. यह प्रक्रिया हर महीने होती है. कभी कभी इस दौरान एक से अधिक अंडे भी निकलते हैं. इस समय गर्भाशय की दीवार मोती होने लगती है और गर्भाशय ग्रीवा में मौजूद पदार्थ पतला हो जाता है जिससे इसमें से शुक्राणु आसानी से गुज़र सके. अंडा फैलोपियन ट्यूब में नीचे की और धीरे धीरे यात्रा करता है. अगर इस समय पुरुष और महिला ने संभोग किया है तो यह पर अंडा शुक्राणु से निषेचित हो सकता है. अब गर्भाशय की दीवार और भी ज्यादा मोटी हो जाती है क्योंकि अंडा निषेचन के बाद आरोपित होता है. लेकिन अगर अंडा निषेचित नहीं हुआ है तो यह मासिक धर्म के दौरान शरीर से बहार निकल जाता है. साथ ही दीवार भी पतली हो जाती है. आप अंडे को नहीं देख सकती क्योंकि यह बहुत ही सूक्ष्म होता है.

गर्भाधान के लिए उत्तम समय-
यदि महिलाओं में मासिक चक्र 28 दिनों का है तो ओवुलेशन का समय मासिक धर्म के 14वें दिन होता है, अगर मासिक चक्र का समय 21 दिनों का है तो ओवुलेशन 7वें दिन हो सकता है या फिर मासिक चक्र 35 दिनों का होता है तो महिलाएं मासिक चक्र के 21वें दिन ओवुलेशन करेंगी. ओवुलेशन प्रक्रिया पूरी तरह से मासिक चक्र पर निर्भर करती है. हालांकि ओवुलेशन कब होता है, यह पता लगाना थोड़ा मुश्किल होता है. आप ओवुलेशन के दिन को पता करने के लिए ओवुलेशन प्रेडिक्शन किट या यूरिन बेस्ड एलएच किट्स का उपयोग कर सकती हैं जो आसानी से बाजार में उपलब्ध होती हैं. किसी भी मासिक चक्र के दौरान केवल छह दिन होते हैं जब महिला गर्भवती हो सकती है - ओवुलेशन के पहले 5 दिन और ओवुलेशन के बाद 24 घंटे. ऐसा इसलिए क्योंकि पुरुष के शुक्राणु महिला के शरीर में 5 दिनों तक रह सकते हैं, और महिला का अंडा 12-24 घंटों के लिए ही रहता है.

प्रजनन अवधि-
संभोग के दौरान, जब पुरुष का शुक्राणु महिला के प्रजनन क्षेत्र में पहुंच जाता है है तो यह तीन से पांच दिनों से अधिक सक्रिय नहीं रहता है, इसलिए इन्हीं 5 दिनों में यह महिला के अंडे से संयोग करता है. अगर संयोजन के समय शुक्राणु महिला के अंडे के भीतर जाने में सफल हो जाता है तो निषेचन की क्रिया पूर्ण हो जाती है. इस क्रिया में लगभग 10 घंटे का समय लगता है. इसलिए ओवुलेशन के पहले के पांच दिन गर्भधारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

गर्भधारण करने के लिए ओवुलेशन से एक या दो दिन पहले संभोग करने से शुक्राणु के पास अंडे तक पहुंचने और गर्भधान करने के लिए पर्याप्त समय होता है. इसके अलावा, ओवुलेशन वाले दिन संभोग करने की तुलना में ओवुलेशन के तीसरे या चौथे दिन पहले संभोग करने से गर्भ अधिक तीव्रता से धारण होता है. ओवुलेशन वाले दिन भी आप गर्भवती हो सकती हैं लेकिन पहले के चार दिन गर्भधारण की संभावनाएं अधिक होती हैं. उपर्युक्त कारणों की वजह से किसी भी स्त्री का प्रभावी प्रजनन समय ओवुलेशन के 2-4 दिन पहले का होता है.

2 people found this helpful

गर्भधारण करने का सही समय - Garbhdharan Karne Ka Sahi Samay!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
गर्भधारण करने का सही समय - Garbhdharan Karne Ka Sahi Samay!

माँ बनना हर महिला के लिए एक सपना होता है। शादी के बाद महिला के लिए यह सबसे खूबसूरत एहसास होता है। माँ बनने की खबर से पूरी घर में खुशियों की लहर भर जाती है। हालांकि, एक महिला के लिए गर्भवती बनने का राह बहुत आसान नहीं होता है। महिला को गर्भ धारण करने के लिए विभिन्न चरणों से गुजरना पड़ता है। इसके लिए महिला को सही समय पर अपने साथी के साथ यौन संबंध बनाना भी बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है। सम्भोग के साथ ऐसी कई और बातें है जो एक माँ बनने के इच्छुक महिलाओं के लिए जानना बहुत जरुरी है। इस लेख के माध्यम से हम आपको बतायंगे कि गर्भ धारण करने का सबसे सही सही समय क्या है।

गर्भधारण करने का सही समय
यदि महिलाओं में मासिक चक्र 28 दिनों का है तो ओवुलेशन का समय मासिक धर्म के 14वें दिन होता है, अगर मासिक चक्र का समय 21 दिनों का है तो ओवुलेशन 7वें दिन हो सकता है या मासिक चक्र 35 दिनों का होता है तो महिलाएं मासिक चक्र के 21वें दिन ओवुलेशन करेंगी. ओवुलेशन प्रक्रिया पूरी तरह से मासिक चक्र पर निर्भर करती है. हालांकि ओवुलेशन कब होता है, यह पता लगाना थोड़ा मुश्किल होता है. आप ओवुलेशन के दिन को पता करने के लिए ओवुलेशन प्रेडिक्शन किट या यूरिन बेस्ड एलएच किट्स का उपयोग कर सकती हैं जो आसानी से बाजार में उपलब्ध होती हैं. किसी भी मासिक चक्र के दौरान केवल छह दिन होते हैं जब महिला गर्भवती हो सकती है - ओवुलेशन के पहले 5 दिन और ओवुलेशन के बाद 24 घंटे. ऐसा इसलिए क्योंकि पुरुष के शुक्राणु महिला के शरीर में 5 दिनों तक रह सकते हैं, और महिला का अंडा 12-24 घंटों के लिए ही रहता है.

मासिक चक्र का योगदान
जब अंडाशय से अंडा निकलता है तब ओवुलेशन की प्रक्रिया होती है. यह प्रक्रिया हर महीने होती है. कभी कभी इस दौरान एक से अधिक अंडे भी निकलते हैं. इस समय गर्भाशय की दीवार मोती होने लगती है और गर्भाशय ग्रीवा में मौजूद पदार्थ पतला हो जाता है जिससे इसमें से शुक्राणु आसानी से गुज़र सके. अंडा फैलोपियन ट्यूब में नीचे की और धीरे धीरे यात्रा करता है. अगर इस समय पुरुष और महिला ने संभोग किया है तो यह पर अंडा शुक्राणु से निषेचित हो सकता है. अब गर्भाशय की दीवार और भी ज्यादा मोटी हो जाती है क्योंकि अंडा निषेचन के बाद आरोपित होता है. लेकिन अगर अंडा निषेचित नहीं हुआ है तो यह मासिक धर्म के दौरान शरीर से बहार निकल जाता है. साथ ही दीवार भी पतली हो जाती है. आप अंडे को नहीं देख सकती क्योंकि यह बहुत ही सूक्ष्म होता है.

प्रजनन अवधि
जब पुरुष और महिला संभोग करते हैं तो पुरुष शुक्राणु महिला के प्रजनन क्षेत्र में पहुंचता है और यह शुक्राणु 3 से 5 दिन तक सक्रिय रहता है और इसी 5 दिनों में यह महिला के अंडे से मिलन करता है. अगर मिलन के समय शुक्राणु महिला के अंडे के भीतर जाने में सफल होता है तो गर्भधान की प्रक्रिया पूरी हो जाती है. इस प्रक्रिया में लगभग 10 घंटे का समय लगता है. इसलिए ओवुलेशन के पहले के पांच दिन गर्भधारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.
गर्भधारण करने के लिए ओवुलेशन से एक या दो दिन पहले संभोग करने से शुक्राणु के पास अंडे तक पहुंचने और गर्भधान करने के लिए पर्याप्त समय होता है. इसके अलावा, ओवुलेशन वाले दिन संभोग करने की तुलना में ओवुलेशन के तीसरे या चौथे दिन पहले संभोग करने से गर्भ अधिक तीव्रता से धारण होता है. ओवुलेशन वाले दिन भी आप गर्भवती हो सकती हैं लेकिन पहले के चार दिन गर्भधारण की संभावनाएं अधिक होती हैं. उपर्युक्त कारणों की वजह से किसी भी स्त्री का प्रभावी प्रजनन समय ओवुलेशन के 2-4 दिन पहले का होता है.

Icon

Book appointment with top doctors for Pregnancy treatment

View fees, clinic timings and reviews