Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Gavali Hospital

Multi-speciality Hospital (General Surgeon, General Physician & more)

P121,Thane Belapur Road, Rabale, Landmark: Rabale Naka & Near Om Sai Hotel. Navi Mumbai
3 Doctors · ₹0 - 400
Book Appointment
Call Clinic
Gavali Hospital Multi-speciality Hospital (General Surgeon, General Physician & more) P121,Thane Belapur Road, Rabale, Landmark: Rabale Naka & Near Om Sai Hotel. Navi Mumbai
3 Doctors · ₹0 - 400
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

It is important to us that you feel comfortable while visiting our office. To achieve this goal, we have staffed our office with caring people who will answer your questions and help you ......more
It is important to us that you feel comfortable while visiting our office. To achieve this goal, we have staffed our office with caring people who will answer your questions and help you understand your treatments.
More about Gavali Hospital
Gavali Hospital is known for housing experienced Endocrinologists. Dr. Sandeep Muley, a well-reputed Endocrinologist, practices in Navi Mumbai. Visit this medical health centre for Endocrinologists recommended by 62 patients.

Timings

MON-SUN
09:00 AM - 09:00 PM

Location

P121,Thane Belapur Road, Rabale, Landmark: Rabale Naka & Near Om Sai Hotel.
Airoli Navi Mumbai, Maharashtra - 400708
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctors in Gavali Hospital

Dr. Sandeep Muley

MBBS, Post Graduate Diploma in Diabetology (PGDD)
Endocrinologist
14 Years experience
Unavailable today

Dr. Nitin Borle

MBBS, M.S., FIAGES
General Surgeon
13 Years experience
300 at clinic
Available today
07:30 PM - 08:30 PM

Dr. Dhanuj Gapat

BAMS
General Physician
12 Years experience
400 at clinic
Available today
09:00 AM - 09:00 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Gavali Hospital

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Dr. I am suffering from itching too much in nights at my private part surroundings .red spots in round shape on my thighs. Consulted many skin specialist .they suggested terblecipe tablet and onabet ointment .which is giving temporary relief .please suggest me correct medicine to get rid off these painful itching .thanks.

BHMS
Homeopath, Noida
Dr. I am suffering from itching too much in nights at my private part surroundings .red spots in round shape on my th...
Wash the skin two to three times a day. Keep the skin dry. Avoid excess groin skin irritation by wearing 100% cotton underwear. Avoid fabric softeners, bleaches, or harsh laundry detergents. Wash your workout clothes, underwear, socks, and towels after each use. Keep your groin, inner thighs, and buttocks clean and dry, especially after you exercise and shower. After showering or bathing, dry the irritated groin area by gently patting it with a towel. Be sure to dry your skin thoroughly. Mix two tablespoons of apple cider vinegar in two cups of warm water. Wash the infected area with this solution and allow it to dry on its own. Another option is to apply a mixture of equal parts of white vinegar and coconut oil on the affected skin. Like hydrogen peroxide, rubbing alcohol can help kill off the fungus that's on the surface level of the skin. You can apply it directly to the affected area Listerine: It has antiseptic, antifungal and antibacterial properties, which help treat itch.

Couple years ago I have piles problem, I get treatment by local Dr, now I don't have any problem but little mussel part I have to push insight after natural call every day, suggest if any treatment requires.

Graduate of Ayurvedic Medicine and Surgery (GAMS)
Ayurveda, Delhi
Couple years ago I have piles problem, I get treatment by local Dr, now I don't have any problem but little mussel pa...
Do not go for any modern surgery for Piles, after surgery your anus size can grow unnaturally, after that you can not hold or control your stool pass-out, Kshara Sutra Therapy is a unique ancient technique, which is proved to be an effective treatment of anorectal disorders. It is commonly recommended in patients suffering from Piles. According to World Health Organisation (WHO, Kshar Sutra Therapy is better than any Modern Surgery for Piles. Consult me for the treatment.

I am taking clopivas 75 mg metformin 1 mg crestor 25 mg Telma am40 metosartan 50 mg can I take Viagra?

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, HIV Management Course, HIV Update Course
General Physician, Hyderabad
I am taking clopivas 75 mg metformin 1 mg crestor 25 mg Telma am40 metosartan 50 mg can I take Viagra?
When you are taking Nitrates you should not take PDE5 inhibitors like Viagra. But you better get cardiac clearance before using Viagra.

थायराइड डाइट चार्ट - थायराइड डाइट फूड लिस्ट - Thyroid Diet Chart In Hindi - Thyroid Diet Food List!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
थायराइड डाइट चार्ट -  थायराइड डाइट फूड लिस्ट - Thyroid Diet Chart In Hindi - Thyroid Diet Food List!

गले के अगले हिस्से में स्थित थायराइड ग्रंथि को साइलेंट किलर भी कहा जाता है. ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसमें आने दोषों का पता समय पर नहीं चल पाता है. जाहिर है किसी भी बिमारी का समय पर इलाज न हो पाने से स्थिति खतरनाक हो जाती है. कभी-कभी तो मौत भी हो सकती है. आपको बता दें कि आकार में बेहद छोटी सी लगाने वाली ये ग्रंथि हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.
थायराइड ग्रंथि के ठीक से काम न करने से हार्मोन का स्त्राव प्रभावित होता है. लेकिन यहाँ ये जानना भी बेहद महत्वपूर्ण है कि थायराइड ग्रंथि का कम या ज्यादा काम करना भी परेशानी का कारण बनता है. जीवनशैली और खान-पान में आने वाली अनियमितता ही थाइराइड की समस्या उत्पन्न करती है. इसका मतलब है कि यदि आप अपने जीवनशैली और खान-पान को लेकर सजग हो जाएँ तो इसकी संभावना काफी हद तक कम हो सकती है. इसके लिए हम आपको थायराइड का डाइट चार्ट बता देते हैं-
थायराइड पीड़ितों के लिए डाइट चार्ट-

1. आयोडीन युक्त खाना

थायराइड पीड़ितों को खाने-पीने के में आयोडीनयुक्त खाद्यपदार्थों को शामिल करना चाहिए. यानी ऐसे खाद्य पदार्थ जिसमें आयोडीन की पचुर मात्रा में पाया जाता हो. इसका कारण ये है कि आयोडीन की मात्रा ही थायराइड की क्रियाशीलता को प्रभावित करती है.

2. खाने का स्त्रोत
आयोडीन के लिए हम समुद्री जीवों या समुद्र से प्राप्त खाद्य पदार्थों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. मछलियों, समुद्री शैवाल और समुद्री सब्जियों में प्रचुर मात्रा में आयोडीन पाया जाता है.

3. कॉपर और आयरन
इसके अलावा कॉपर और आयरन से युक्‍त आहार लेना भी थायराइड में काफी लाभदायक होता है. इससे थायराइड ग्रंथि की क्रियाशीलता में वृद्धि होती है.

4. इसके स्त्रोत
कॉपर के लिए आपको काजू, बादाम और सूरजमुखी का बीज लेना चाहिए. इसमें कॉपर की प्रचुरता होती है.

5. आयरन की भूमिका
आयरन के लिए हरी और पत्‍तेदार सब्जियों से बेहतर विकल्प तो हो ही नहीं सकता है. विशेष रूप से पालक में आयरन की भरपूर मात्रा पायी जाती है.

6. पनीर और हरी मिर्च
थायराइड के मरीजों को पनीर और हरी मिर्च के साथ-साथ टमाटर का भी सेवन करना चाहिए. क्योंकि ये भी थायराइड गंथि के लिए बेहद फायदेमंद है.

7. विटामिन और मिनरल्स
आपको अपने डाइट चार्ट में विटामिन और मिनरल्‍स युक्‍त आहार को प्राथमिकता देनी चाहिए. इससे थायराइड ग्रंथि की क्रियाशीलता में इजाफा होता है.

8. आइस क्रीम और दही
थायराइड में कम वसायुक्‍त आइसक्रीम और दही का भी सेवन भी थायराइड के मरीजों के लिए काफी लाभदायक है.

9. गाय का दूध
इसके अलावा कुछ घरेलु उपाय भी अत्यंत लाभदायक है जैसे कि गाय का दूध भी इसके मरीजों को पीना चाहिए.

10. नारियल का तेल
नारियल के तेल से भी आप थायराइड ग्रंथि की सक्रियता बढ़ा सकते हैं. इसके उपयोग में आसान बात ये है कि इसका प्रयोग आप खाना बनाने के दौरान भी कर सकते हैं.
इन खाद्य-पदार्थों के इस्तेमाल से बचें -
1. थायराइड के मरीजों के डाइट चार्ट में सोया और उससे बने खाद्य-पदार्थों का कोई स्थान नहीं रहना चाहिए.
2. थायराइड के मरीजों को जंक और फास्‍ट फूड से भी दूर ही रहना चाहिए. क्योंकि फास्ट फ़ूड थायराइड ग्रंथि को प्रभावित करते हैं.
3. यदि परहेज करने वाली सब्जियों की बात करें तो ब्राक्‍कोली, गोभी जैसे खाद्य-पदार्थों से दूर ही रहना चाहिए.

कुछ अन्य उपाय-
थायराइड के मरीजों को इस डाइट चार्ट का पालन करने के साथ ही कुछ और बातों का ध्यान रखना चाहिए. नियमित रूप से व्यायाम करने की आदत डाल लेनी चाहिए. इसके साथ ही किसी योग प्रशिक्षक की सलाह से योग भी करना चाहिए. क्योंकि इससे थायराइड ग्रंथि की क्रियाशीलता बढ़ती है. हलांकि इन सबके बावजूद किसी चिकित्सक की सलाह अवश्य लें.
 

2 people found this helpful

गले में कफ जमना - Gale Mein Kaf Jamna!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
गले में कफ जमना - Gale Mein Kaf Jamna!

अगर आपको सांस लेने में तकलीफ हो रही है या गले में कुछ जमा हुआ अनुभव होता है तो यह गले में कफ जमा होने का है। गले में जमा हुए कफ को बलगम के नाम से भी जानते है. गले में कफ जमा होने के प्रमुख लक्षणों में नाक बहना और बुखार भी शामिल है। यह कोई गंभीर समस्या नहीं है लेकिन यदि यह समस्या लम्बे समय तक बना रहता है तो फिर इससे सांस से जुडी कई समस्याएं हो सकती है. जब आपके नाक या गले के पिछले हिस्से में कफ जमना शुरू हो जाता है तो यह आपको म्यूकस मेम्ब्रेन श्वसन प्रणाली की रक्षा करने और उसको सहारा देने के लिए कफ बनाती है. ये मेंब्रेन नाक, गला, मुंह, फेफड़े, साइनस और नाक की ग्रंथि में होता है. जो एक दिन में कम से कम 1 से 2 लीटर बलगम का उत्पादन करती हैं. बलगम या कफ की अत्याधिक मात्रा होना, परेशान करने वाली समस्या हो सकती है. इसके कारण घंटो बैचेनी रहना, बार-बार गला साफ करते रहना और खांसी जैसी समस्या हो सकती है. ज्यादातर लोगों में यह एक अस्थायी समस्या होती है. हालांकि, कुछ लोगों के लिए यह एक स्थिर समस्या बन जाती है. जिसके बेहतर उपचार पर थोड़े समय के लिए राहत मिल पाती है. आइए इस लेख के माध्यम से हम गले में कफ के जमने के बारे में जानें.

गले में कफ के जमने का क्या लक्षण है?
बलगम या कफ से भी सांसो में दुर्गंध पैदा होती है, क्योंकि कफ में मौजूद प्रोटीन के कारण बैक्टीरिया पैदा होती है. जब शरीर जरूरत से ज्यादा कफ उत्पादन करती है, तब अत्याधिक कफ आपके नाक के वायुमार्गों में अवरोध पैदा करता है, जिससे सांस लेने में कठिनाई महसूस होने लगती है. कफ बनने के कारण नाक रूकने की समस्या काफी असहज और यहां तक कि दर्दनाक स्थिति पैदा कर सकती है. अत्याधिक कफ आपके गले व फेफड़ों में जमा हो सकता है. सामान्य कफ साफ या सफेद रंग का होता है और कम गाढ़ा होता है. जो कफ हल्के पीले या हरे रंग का दिखाई पड़ता है या जो कफ असाधारण रूप से अधिक गाढ़ा होता है, वह बैक्टीरियल संक्रमण का संकेत देता है.

गले में कफ जमने के कारण-
जब कोई सर्दी-जुखाम या फ्लू, वायरल इंफेक्शन, साइनस जैसी बिमारियों से ग्रसित होता है तो व्यक्ति का बलगम कोल्ड या इंफेक्शन से बीमार होता है, तो उस व्यक्ति का कफ गाढ़ा हो जाता है और उसके बलगम के रंग में भी परिवर्तन आता है. बलगम के चिपचिपा होने के कारण वायरस, धूल या एलर्जी पैदा करने वाले पदार्थ बलगम से चिपक जाते है. बलगम का गाढ़ापन व्यक्ति के स्वास्थ्य पर निर्भर करता है. जब व्यक्ति बीमार पड़ता है तो आपका शरीर कई सारे कणों के संपर्क में आता है जो कफ के साथ चिपकता है और कफ गाढ़ा हो जाता है. वैसे तो कफ आपकी श्वसन प्रणाली का एक स्वस्थ हिस्सा होता है, लेकिन अगर यह आपको परेशान कर रहा है, तो आप इसको पतला करने के या इसे निकालने के लिए कुछ तरीकों को अपना सकते हैं.

खाद्य पदार्थ: – कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे भी होते है जो गले में कफ उत्पादन के लिए जिम्मेदार होता हैं. गले में कफ जमने के लिए मुख्य रूप से डायरी पदार्थ को जिम्मेदार माना जाता हैं. इन खाद्य पदार्थों में कैसिइन नाम के प्रोटीन अणु होते हैं, जो बलगम का स्त्राव बढ़ाते हैं और पाचन क्रिया के लिए मुश्किलें पैदा करते हैं. दूध उत्पादों के साथ-साथ कैफीन, चीनी, नमक, काली चाय आदि ये सभी पदार्थ भी अतिरिक्त बलगम बनाते हैं. इसके साथ ही साथ जो लोग डेयरी उत्पादों को छोड़, सोया उत्पादों को अपना लेते हैं, इस स्थिति में उनके शरीर में अस्वस्थ बलगम बनने के जोखिम बढ़ जाते हैं.

गर्भावस्था: – यह देखा गया है की कई महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान छींकना, नाक रूकना और खांसी आदि लक्षण अनुभव होते हैं. वैसे तो प्रेगनेंसी में इस तरह के लक्षणों को सामान्य माना गया है. बलगम उत्पादन और गाढ़ापन के लिए एस्ट्रोजन हार्मोन को भी एक कारण माना जाता है.

पोस्ट नेजल ड्रिप: – जब गले और नाक में अधिक कफ जमा हो जाता है तो यह खांसी पैदा करता है. रात के दौरान गले में कफ का उत्पादन होता है और सुबह तक यह गले में जम जाता है.

मौसमी एलर्जी: – मौसमी एलर्जी से बहुत से लोग पीड़ित होते हैं. मौसमी एलर्जी के लक्षण गले में बलगम जमना, छींकना और खांसना आदि समस्या शामिल हैं. ऐसे कई एलर्जी पैदा करने वाले पदार्थ हैं, जो ये लक्षण पैदा करते हैं, इसमें सर्दियों के अंत से गर्मियों तक की अवधि शामिल होती है. पेड़ और फूलों की पराग मौसमी एलर्जी के प्रमुख कारकों में से एक होते हैं और इसके लक्षण तब तक रहते हैं जब तक एलर्जी करने वाले पदार्थ नष्ट नहीं हो जाते.

अधिक पसीना आना - Adhik Pasina Aana!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
अधिक पसीना आना - Adhik Pasina Aana!

गर्मी के मौसम में सामान्य पसीना आना तो ठीक है, लेकिन अक्सर लोग जब एक्सरसाइज करने या धूप में जाते हैं तो उन्हें बहुत पसीना आता हैं लेकिन कुछ लोगों को सामान्य से ज्यादा पसीना निकलता है तो ऐसे में शरीर में विभिन्न प्रकार की समस्याएं पैदा हो सकती है. अधिक पसीना आना और सर्दी में भी पसीना आना एक समस्या हो सकती है. यह समस्या कई बार आपको दुरुगंध का शिकार बना कर आपको असहज कर सकती है. इस लक्षण को हाइपरहाइड्रोसिस कहा जाता है. लोग इसे बड़ी आम बात समझ कर ध्यान नहीं देते लेकिन आगे जाकर यह किसी गंभीर परेशानी का कारण बन सकता है. ज्यादा पसीना आने पर शरीर में पानी की कमी हो जाती है. इस समस्या को हाइपरहाइड्रोसिस कहते हैं. आइए इस लेख के माध्यम से बहुत अधिक पसीना आने के विभिन्न पहलुओं को जानें ताकि इस विषय में जानकारी बढ़ाई जा सके.

क्यों आता है बहुत ज्यादा पसीना?
जब अपके शरीर में अत्याधिक पसीना आता है तो आप शारीरिक और मानसिक रुप से असहज महसूस करते है. जब आपके हाथ, पैर और बगलें पसीना से तर-बतर हो जाते हैं तो इस परिस्थिति को प्राइमरी या फोकल हाइपरहाइड्रोसिस के नाम से जानते है. प्राइमरी हाइपरहाइड्रोसिस से केवल 2-3 प्रतिशत आबादी प्रभावित है, लेकिन इससे पीड़ित 40 प्रतिशत से भी कम व्यक्ति ही डॉक्टरी सलाह लेते हैं. आमतौर पर इसके कारण का पता नहीं लगता है. यह एक अनुवाशिंक समस्या भी हो सकती है जो परिवार में पहले से चली आ रही हो. यदि अत्यधिक पसीने की शिकायत किसी डॉक्टरी स्थिति के कारण होती है तो इसे सेकेंडरी हाइपरहाइड्रोसिस कहा जाता है. पसीना पूरे शरीर से भी निकल सकता है या फिर यह किसी खास स्थान से भी आ सकता है. दरअसल, हाइपरहाइड्रोसिस से पीड़ित व्यक्तियों को मौसम ठंडा रहने या उनके आराम करने के दौरान भी पसीना आ सकता है.

बचने के उपाय-
पसीने से प्रभावित व्यक्ति को बोटुलिनम टॉक्सिन टाइप ए का बगल में इस्तेमाल कर सकते हैं. यह व्यक्ति को अत्यधिक पसीने से निजात दिलाएगा। यह अतिसक्रिय पसीना ग्रंथि की तंत्रिकाओं को शांत करता है, जिससे पसीने में कमी आती है.

बोटॉक्स भी हो सकता है इलाज-
प्राइमरी एक्सिलरी हाइपरहाइड्रोसिस के इलाज के लिए बोटॉक्स भी के विकल्प के रूप में आया है. बोटुलिनम टॉक्सिन का इंजेक्शन बाजुओं में लगाने से पसीने के लिए जिम्मेदार तंत्रिकाएं अस्थायी रूप से ब्लॉक हो जाती हैं. एक्सिलरी हाइपरहाइड्रोसिस की स्थिति के लिए यह सर्वश्रेष्ठ विकल्प है, जिससे चार-महीने तक राहत मिल जाती है और शरीर की दुरुगंध से भी निजात मिल जाती है. ललाट या चेहरे पर अत्यधिक पसीना आने जैसी फोकल हाइपरहाइड्रोसिस की स्थिति में मेसो बोटॉक्स सबसे अच्छा उपाय है. इसमें पसीने की रफ्तार कम करने के लिए त्वचा के संवेदनशील टिश्यू (डर्मिज) में बोटॉक्स के पतले घोल का इंजेक्शन लगाया जाता है.

इसके अलावा भी हैं उपाय-
एंटीपर्सपिरेंट: जब पसीना ज्यादा निकलता है तो पसीने को कंट्रोल करने के लिए तेज एंटी-पर्सपिरेंट को आजमाया जा सकता है, जो पसीने की नलिकाओं को ब्लॉक कर देते हैं. बाजुओं और बगलों में पसीने के शुरुआती इलाज के लिए 10 से 20 प्रतिशत अल्युमीनियम क्लोराइड हेक्साहाइड्रेट की मात्र वाले उत्पादों का इस्तेमाल किया जा सकता है. कुछ मरीजों को अल्युमीनियम क्लोराइड की अत्यधिक मात्र वाले उत्पादों का इस्तेमाल करने की भी सलाह दी जा सकती है. ये उत्पाद प्रभावित हिस्सों में रात के वक्त इस्तेमाल किए जा सकते हैं. एंटीपर्सपिरेंट से त्वचा में खुजलाहट हो सकती है. इसकी अधिकता कपड़ों को नुकसान पहुंचा सकती है. याद रखें: डियोडरेंट से पसीना रुकता नहीं है, बल्कि शरीर की दुरुगंध कम होती है.

दवाओं का भी कर सकते हैं इस्तेमाल
रोबिनुल, रोबिनुल-फोर्ट जैसी एंटीकोलिनर्जिक दवाएं पसीने की सक्रिय ग्रंथियों को निष्क्रिय करती हैं. हालांकि, कुछ लोगों पर प्रभावी होने के बावजूद इन दवाओं के प्रभाव का स्टडी नहीं किया गया है. इसके कुछ साइड इफेक्ट्स भी सकते है जिसमें शुष्क मुंह, चक्कर तथा पेशाब संबंधी समस्याएं हो सकती हैं.
ईटीएस (एंडोस्कोपिक थोरेसिस सिंपैथेक्टोमी): जब स्थिति गंभीर हो जाती है तो सिंपैथेक्टोमी नामक मामूली सर्जरी प्रक्रिया की सलाह दी जाती है, जब अन्य उपाय असफल हो जाते हैं. यह उपाय उन मरीजों पर आजमाया जाता है, जिनकी हथेलियों पर सामान्य से ज्यादा पसीना आता है. इसका इस्तेमाल चेहरे पर अत्यधिक पसीना आने की स्थिति में भी किया जा सकता है.

1 person found this helpful

Hello Dr. I had an exposure on 2nd dec 2018. After that in one week I had an elisa test on 8 days which turns negative then I had an pro viral dna test on 10 days which came not detected, then I took elisa test from apollo on 18th day and its negative and and again I took elisa test on day 22 which was negative. Again I had elisa TEST on 27th day and its negative from apollo. After that I took HIV DUO COMBO on 29th day from Dr. safe hand and its negative and 33 day I took elisa test and its negative and one more RNA pcr test on 37 day and its not detected. My question could I relax now and stay without relax with my wife or still I need to do test at three month or its conclusive am in depression.

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, Diploma in Family Medicine, Doctor of Medicine
HIV Specialist, Ghaziabad
Hello Dr. I had an exposure on 2nd dec 2018. After that in one week I had an elisa test on 8 days which turns negativ...
Hello. I am not sure who told you to do all these tests. Through this post I would like to request that please take an expert consultation before you go for all these tests. Labs are happy to do them. Its money for them without seeing the need for it or not. So, please before you all waste your hard earned money do consult experts as to what tests needs to be done and when. Thats very important to know when to do the test and which one. Pl see for your self. Even after so many test result being negative you are still asking for advice. Need I say more? From your test results- you are negative for HIV.

Hi, What is the normal size of liver, my liver size in USG shows 153 mm (enlarged). Is it normal or something goes wrong. And curable or not?

BHMS
Homeopath, Noida
Hi, What is the normal size of liver, my liver size in USG shows 153 mm (enlarged). Is it normal or something goes wr...
It’s normal. You need to state your symptoms for which you undergo this ultrasound. What is in report. Is it fatty liver or something else.

HI, My husband is 40 year old and use have drink 5 to 6 days in a week and he come out in a very short time at the time of intercourse and most of the time he refuse intercourse may 1 or 2 intercourse in a month we have is it normal or and problem here kindly let me know.

Diploma In Psychology Counselling Skills, Diploma in ayurveda, B.S IT
Psychologist, Bangalore
HI, My husband is 40 year old and use have drink 5 to 6 days in a week and he come out in a very short time at the ti...
Hello Friend, Good that you are seeking a help here. Drinking is the problem as it reduces the interest or desire and also cause weakness in the body. He need to reduce the alcohol intake and adopt few lifestyle changes and dietary changes to improve. Be positive. Feel free to reach me online or through Lybrate chat for further evaluation and recommendation.

Breathlessness

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, MD - Chest & TB
Pulmonologist, Faridabad
Play video

When you experience shortness of breath for no reason, you might wonder if there is something to worry. Breathing difficulty (dyspnea) affects around 1 in every 10 adults. The causes are varied, and just like other health problems like dizziness, fatigue, and abdominal pain, shortness of breath too has several causes.

189 people found this helpful
View All Feed

Near By Clinics

Jairaj Hospital

Belapur, Navi Mumbai, Navi Mumbai
View Clinic

Shree Hospital - Khargar

Kharghar, Navi Mumbai, Navi Mumbai
View Clinic

New Spandan Multi Speciality Hospital

Panvel, Navi Mumbai, Navi Mumbai
View Clinic

City Hospital

Kalamboli, Navi Mumbai, Navi Mumbai
View Clinic