Get help from best doctors, anonymously
Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Change Language

विटामिन डी की कमी और हड्डी की समस्याओं के बीच संबंध

Written and reviewed by
Dr. Neetan Sachdeva 86% (38 ratings)
DNB - Orthopedics, Diploma In Orthopaedics, MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, Fellowship In Rheumatology & Joint Dosorder
Orthopedic Doctor, Delhi  •  22 years experience
विटामिन डी की कमी और हड्डी की समस्याओं के बीच संबंध

जब हम हड्डी के स्वास्थ्य की बात करते हैं तो कैल्शियम का नाम सबसे ऊपर आता है. हालांकि कैल्शियम अकेला ही स्वस्थ हड्डियों के लिए पर्याप्त नहीं है. स्वस्थ हड्डियों और ऑर्थोपेडिक स्थितियों की रोकथाम के लिए विटामिन डी भी महत्वपूर्ण है.

विटामिन डी क्या करता है?

विटामिन डी शरीर को खाने वाले भोजन से कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है. यह शरीर में कैल्शियम और फॉस्फेट के स्तर को भी नियंत्रित करता है. यह नई हड्डियों के विकास और प्रगति के लिए महत्वपूर्ण है. विटामिन डी यह भी नियंत्रित करता है कि शरीर द्वारा कैल्शियम और फॉस्फेट कितने निष्कासित किए जा रहे हैं. इस तरह, विटामिन डी हड्डियों को मजबूत करने और समग्र हड्डी के स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करता है.

विटामिन डी की कमी

भोजन में आमतौर पर विटामिन डी नहीं मिलता है. यह केवल कुछ प्रकार के मछलियों से निकलने वाले तेल, अंडे की जर्दी और मशरूम में मौजूद होते है. हम जो विटामिन डी खाते हैं वह अनाज, ब्रेड और डेयरी उत्पादों से आता है. सूर्य विटामिन डी का एक महत्वपूर्ण स्रोत है लेकिन खुद को बहुत अधिक धूप की रोशनी में उजागर करने से विभिन्न त्वचा की समस्याएं पैदा होती हैं. इस प्रकार, विटामिन डी की कमी बहुत आम है. जब हड्डी के स्वास्थ्य की बात आती है, तो विटामिन डी की कमी हड्डियों के कम घनत्व का कारण बनती है. यह बदले में ऑस्टियोपोरोसिस का कारण बनता है. विटामिन डी की कमी वाले लोगों को लगातार फ्रैक्चर होने की संभावना है. विटामिन डी की कमी से पैरो में कमजोरी और रीढ़ की हड्डी में झुकाव जैसे स्केलेटल विकृतियां भी हो सकती हैं.

विटामिन डी और ऑस्टियोपोरोसिस

ऑस्टियोपोरोसिस एक मस्कुलो स्केलेटल स्थिति है जो कम हड्डी घनत्व द्वारा चिह्नित होती है. अध्ययनों से पता चला है कि ओस्टियोपोरोसिस वाले लोगों में दूसरों की तुलना में विटामिन डी के निम्न स्तर होते हैं. कुछ अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि गर्मियों की तुलना में सर्दियों में फ्रैक्चर अधिक आम हैं. सर्दियों में सूरज कम निकलता है और कई दिन बिना सूरज के निकल जाते हैं. इस प्रकार यह अनुमान लगाया जाता है कि लोगों को सूरज की रोशनी से विटामिन डी का आवश्यक कोटा नहीं मिलता है. जिसकी कमी से ओस्टियोपोरोसिस से संबंधित फ्रैक्चर बढ़ जाते हैं.

विटामिन डी की कमी के कारण हड्डियों की स्थिति के लिए सबसे अधिक संवेदनशील कौन है?

दुनिया भर में विटामिन डी की कमी एक बहुत ही आम स्थिति है. कुछ सर्वेक्षणों ने दावा किया है कि वैश्विक आबादी का लगभग 30% विटामिन डी की कमी से पीड़ित है. डार्क त्वचा महिलाओं और बुजुर्ग लोगों वाले लोग इस कमी के लिए सबसे अधिक संवेदनशील हैं. किडनी की बीमारियों से पीड़ित लोग भी विटामिन डी की कमी से प्रभावित होते हैं. विटामिन डी की खुराक आमतौर पर इस कमी को जोड़कर बहुत उपयोगी होती है. इन्हें छोटे बच्चों और वयस्कों द्वारा भी लिया जाता है.

यदि आपको कोई चिंता या प्रश्न है तो आप हमेशा एक विशेषज्ञ से परामर्श ले सकते हैं.

4758 people found this helpful

संबंधित लैब टेस्ट

View All