Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Apollo Clinic, Indirapuram

Multi-speciality Hospital (ENT Specialist, Dietitian/Nutritionist & more)

#11, First Floor Gaur Gravity, Plot No.8, Vaibhav Khand, Indirapuram. Ghaziabad
13 Doctors · ₹0 - 600
Book Appointment
Call Clinic
Apollo Clinic, Indirapuram Multi-speciality Hospital (ENT Specialist, Dietitian/Nutritionist & more) #11, First Floor Gaur Gravity, Plot No.8, Vaibhav Khand, Indirapuram. Ghaziabad
13 Doctors · ₹0 - 600
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

Our mission is to blend state-of-the-art medical technology & research with a dedication to patient welfare & healing to provide you with the best possible health care....more
Our mission is to blend state-of-the-art medical technology & research with a dedication to patient welfare & healing to provide you with the best possible health care.
More about Apollo Clinic, Indirapuram
Apollo Clinic, Indirapuram is known for housing experienced Orthopedists. Dr. Trilok Kumar Jha, a well-reputed Orthopedist, practices in Ghaziabad. Visit this medical health centre for Orthopedists recommended by 85 patients.

Timings

MON-SAT
09:00 AM - 09:00 PM
SUN
10:00 AM - 12:30 PM

Location

#11, First Floor Gaur Gravity, Plot No.8, Vaibhav Khand, Indirapuram.
Indirapuram Ghaziabad, Uttar Pradesh - 201014
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctors in Apollo Clinic, Indirapuram

Dr. Trilok Kumar Jha

Diploma in Orthopaedics, MBBS
Orthopedist
44 Years experience
400 at clinic
Available today
06:30 PM - 07:30 PM

Dr. Sumangla Bhan

MBBS, DCH
Pediatrician
56 Years experience
500 at clinic
Available today
11:00 AM - 12:30 PM

Dr. Mohd Shuyeb

MBBS, MD - Pulmonary Medicine
Pulmonologist
18 Years experience
500 at clinic
Available today
07:00 PM - 09:00 PM

Dr. Satyaveer Singh

MBBS, MD - Radio Diagnosis/Radiology
Radiologist
24 Years experience
400 at clinic
Available today
10:30 AM - 12:30 PM

Dr. Gahlot S S

MBBS, DCH
Pediatrician
45 Years experience
400 at clinic
Available today
07:00 PM - 09:00 PM

Dr. Rajesh Kumar Saxena

MBBS, Diploma in Clinical Pathology
Pathologist
25 Years experience
400 at clinic
Available today
03:00 PM - 05:00 PM

Dr. Shampa Jha

MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist
36 Years experience
400 at clinic
Available today
07:30 PM - 09:00 PM
11 Years experience
Available today
10:00 AM - 02:00 PM

Dr. Gupta A P

MBBS, DNB (ENT)
ENT Specialist
47 Years experience
600 at clinic
Available today
10:00 AM - 11:00 AM

Dr. Kakkar R K

MBBS, MD - Internal Medicine
Internal Medicine Specialist
45 Years experience
450 at clinic
Available today
05:00 PM - 07:00 PM

Dr. Ms. Ritu Jain

MSc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist
10 Years experience
300 at clinic
Available today
11:00 AM - 01:00 PM

Dr. Aradhana Singh

MBBS, MS - Obstetrics & Gynaecology
Gynaecologist
21 Years experience
400 at clinic
Unavailable today

Dr. Balram Mishra

MBBS, MD - General Medicine, DM - Cardiology
Cardiologist
36 Years experience
600 at clinic
Available today
09:00 AM - 10:00 AM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Apollo Clinic, Indirapuram

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Lifestyle Alterations

MD, Masters in Dermatology, American Board of Laser Surgery, Diplomate Cosmetic Science
Dermatologist, Delhi
Play video

Some women look atleast a decade younger than the age mentioned on their passports. For most of these women this is the result of anti-aging creams and serums. There are dozens of anti-aging products available today. The tough part is finding the right product for you.

1 person found this helpful

Hello Sir, I want to discuss some health issues. My age is 22. And my weight 67. My problem is that whenever I lose my weight to 50, by doing exercise and following a diet plan, and then when I'm perfectly able to see myself smart, I eat whatever I want. I don't eat much but when I leave exercise and come to my regular basis, I gain lots of weight again. I don't know what to do. Please tell me and guide me honestly about what can I do as a natural treatment or something else so that I can't gain weight by eating even less.

BHMS, MD- Alternative Medicine, Basic Life Support (B.L.S)
Homeopath, Surat
Hello Sir, I want to discuss some health issues. My age is 22. And my weight 67. My problem is that whenever I lose m...
Losing weight by diet and exercising is easy. Maintaining that weight is more difficult. If you keep repeating the schedule of losing weight and then stop exercising once you think is okay, your body will soon develop resistance for exercising. You must continue doing exercising even if you weight has turned out to 50. You can eat what all you like, but don't stop exercising.

I am a diabetic, recently 15 days before I've been through and heart attack but now I am okay. I am feeling better but my sugar is fluctuating and between 210 to 277 before and after meals, and taking insulin named as Lantus solostar 25 point at night and Apidra Solostar 8 point before meals. But even after this today my sugar glucose is 355. Please recommend what should I do.

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, Certificate Course In Evidence Based Diabetes Management, Certificate Course In Gestational Diabetes Mellitus
Diabetologist, Sri Ganganagar
I am a diabetic, recently 15 days before I've been through and heart attack but now I am okay.
I am feeling better bu...
Hi sir Sure level are high definitely. The dose of insulin is to be revised after know in your blood sugar levels 5-6 times. Your HbA1c level of blood is to be done. After that you can get me on phone.

I had unprotected sex in oct after that I have done urine pregnancy test at the interval of 25 days two time but got negative result is there any chances of pregnancy after this without having physical contact?

MD-Ayurveda, Bachelor of Ayurveda, Medicine & Surgery (BAMS)
Sexologist, Haldwani
I had unprotected sex in oct after that I have done urine pregnancy test at the interval of 25 days two time but got ...
Hello- UPT comes positive (if pregnant) only after 10 days of missed period. You have performed the test early so it will come negative anyway. Its best to wait for your menses and if it delays, better to test again after 10 days.
1 person found this helpful

My grandmother suffering from high BP and sugar level from past years but from around one week she started vomiting and loss of consciousness .She is admit in hospital. Bp and sugar is in control now but she is still unconscious.

MBBS, PG Diploma In Emergency Trauma Care, Fellowship in Diabetes
General Physician, Delhi
My grandmother suffering from high BP and sugar level from past years but from around one week she started vomiting a...
It has been due to uncontrolled suagr and bp in the past. Now wait and watch. As she is already in the hospital, nothing more can be done, you should have been careful in the past.

I have allergy problem it creates lot of mucus and affects breathing please provide a solution doctor advised me to use montek LC tablet which I am using once a day and cures for that day please provide other solution.

MD (Hom) Medicine, BHMS (Bachelor of Homeopathic Medicine and Surgery (BHMS)), CCAH, MCAH
Homeopath, Indore
The tablet which you are taking is an anti allergic tablet. These kind of tablets basically suppress your immune system and hence you get relief. But after taking for longer time it's action will be reduced and stopped. You should switch to homeopathy. Our medicines will act on your immune system and will enhance it. You can consult us online and give your complete history on basis of that the best suitable treatment for you will b planned.

Since 2 months me and my partner are trying to intercourse but we are not able to do, as the vagina is too small. Kindly suggest what can be done.

MD (Hom) Medicine, BHMS (Bachelor of Homeopathic Medicine and Surgery (BHMS)), CCAH, MCAH
Homeopath, Indore
Since 2 months me and my partner are trying to intercourse but we are not able to do, as the vagina is too small. Kin...
Pelvic floor exercises also known as Kegel exercises, can help tone your vaginal and pelvic floor muscles. This simple move is also useful for preventing incontinence and can heighten sexual pleasure. Here’s how to strengthen your pelvic floor: ✔️ To locate your pelvic floor, contract the muscles you use when you’re trying not to pee. Working these muscles (provided you don’t actually need to pee) can strengthen the whole area. ✔️ To strengthen your pelvic floor muscles, isolate the area and squeeze the muscles 10-15 times in a row. ✔️ Try to breathe normally and relax all of the other surrounding muscles at the same time. ✔️ For maximum impact, try to hold each squeeze for a few seconds. ✔️ Add these exercises into your daily routine, but build the frequency and duration gradually. You can do them while sitting at your desk or watching TV. ✔️ After a few months, you should start to notice better bladder control and stronger muscles in the pelvic floor and vagina area. ✔️ Like all muscles, they need to be maintained, so keep doing your daily squeeze even once your pelvic floor muscle feels stronger. These exercises will help you a lot along with that you can start homeopathic treatment which will help you out in all your problems.

छाती में दर्द के उपाय - Chhati Mein Dard Ke Upay!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
छाती में दर्द के उपाय - Chhati Mein Dard Ke Upay!

छाती में दर्द का कारण हार्ट अटैक का संकेत हो सकता है पर हमेशा छाती दर्द हार्ट अटैक या हृदय संबंधी बीमारी के कारण नहीं होता है. कई बार छाती दर्द हृदय संबंधी बीमारी के कारण न होकर एनजाइना या अन्य कारण से होता है. कोरोनरी आर्टरी में रक्त के प्रवाह की प्रक्रिया बाधित होने से या बलगम के वजह से उत्पन्न अवरोध के कारण हृदय तक रक्त का प्रवाह कम हो जाता है जिससे ऑक्सीज़न की पूरी पूर्ति नहीं हो पाती है और इस कारण छाती में दर्द होने लगता है. हृदय तक रक्त का प्रवाह कम होने के इस बीमारी को एनजाइना कहते है. इसमें लोगों को छाती कसा हुआ, भारीपन, जलन व ब्रेस्टबोन पर दबाव महसूस होता है. एनजाइना के अलावा अन्य कई कारणों से भी छाती में दर्द हो सकते हैं. एसिडिटी, सर्दी, कफ, बदहजमी, धूम्रपान या तनाव से भी छाती में दर्द हो सकता है. छाती में जिस कारण से भी दर्द हो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए बल्कि डॉक्टर से मिलकर यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि दर्द हार्ट अटैक या हृदय संबंधी अन्य बीमारी के कारण तो नहीं है. छाती दर्द का इलाज इस बात पर निर्भर करती है कि दर्द किस कारण से हुआ है. यदि छाती में दर्द हार्ट अटैक या हृदय संबंधी किसी बीमारी के कारण हुआ हो तो डॉक्टर से उचित इलाज करानी चाहिए. पर यदि दर्द हार्ट अटैक या हृदय संबंधी किसी बीमारी के कारण न हो तो इसे कुछ घरेलू उपाय से भी ठीक किया जा सकता है.

छाती में दर्द को ठीक करने के कुछ घरेलू उपाय-
1. लहसुन: -
घरेलू उपाय में लहसुन छाती दर्द के लिए एक प्रभावशाली उपाय है. लहसुन में कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, थियामिन, राइबोफ्लोबिन, नियासीन, बीटामिन सी के अलावा आयोडिन, सल्फर और क्लोरीन भी पाया जाता है. लहसुन हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और प्लाक को धमनियों तक पहुँचने से रोकता है जिससे हृदय में रक्त का प्रवाह सुधरता है. इसके अलावा यह कफ, खाँसी, अस्थमा आदि कारणों से छाती में होने वाले दर्द को दूर करने में भी मदद करता है. एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच लहसुन का रस मिलाकर पीना चाहिए. इसके अलावा रोज सुबह खाली पेट लहसुन की एक या दो कली भी पानी के साथ लिया जा सकता है.

2. अदरक: - अदरक विभिन्न स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के लिए बहुत ही पुराना उपाय है. अदरक में जिंजरोल नमक एक रासायनिक यौगिक पाया जाता है जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है. अदरक में एंटीऑक्सीडेंट के गुण होते हैं जो रक्त वाहिकाओं को खराब होने से बचाते हैं. इस कारण से अदरक छाती दर्द में बहुत ही प्रभावशाली है. जब भी छाती में दर्द का अनुभव हो तो दर्द से राहत पाने के लिए व सूजन कम करने के लिए अदरक के जड़ की चाय का सेवन लाभकारी होता है. हार्टबर्न के कारण होने वाली छाती दर्द को दूर करने में भी अदरक के जड़ की चाय लाभकारी होता है.

3. हल्दी: - हल्दी में करक्यूमिन नामक तत्व पाया जाता है जिस कारण से यह पेट फूलना, घाव, छाती दर्द आदि रोगों में लाभकारी है. करक्यूमिन कोलेस्ट्रॉल के ऑक्सीजन, जो रक्तवाहिकाओं को नुकसान पहुंचाकर धमनियों के दीवारों पर प्लाक को मजबूत बनाता है, को रोकने में मदद करता है. अपने इस गुण के कारण हल्दी छाती यानि सीने के दर्द में बहुत ही लाभकारी होता है. एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर उबाल लेना चाहिए. फिर उबलने के बाद इसमें थोड़ा शहद मिलाकर इस मिश्रण को गुनगुना ही पीना चाहिए.

4. तुलसी: - तुलसी के पत्तियों मैं मौजूद मैग्निशियम रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है. इस कारण तुलसी के उपयोग से हृदय रोग का इलाज होता है व इससे रक्त वाहिकाओं को आराम मिलता है. इसके अलावा तुलसी में उपलब्ध एंटीऑक्सीडेंट के गुण रक्त वाहिकाओं में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को रोकने में मदद करता है. छाती दर्द के दौरान 8-10 ताजी तुलसी के पत्ती को चबाकर खानी चाहिए या एक कप तुलसी के पत्ती का चाय बनाकर पीना चाहिए. छाती के दर्द को रोकने के लिए व हृदय के स्थिति को सुधारने के लिए एक चम्मच तुलसी के पत्ती के रस को एक चम्मच शहद के साथ रोज सुबह खाली पेट पीना चाहिए.

5. मेथी: - मेथी में पाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट व कार्डिओ-प्रोटेक्टिव गुण कोलेस्ट्रॉल को दूर कर रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है. अपने इन्हीं गुण के कारण मेथी छाती दर्द में फायदेमंद है. एक चम्मच मेथी के बीज को आधा कप पानी में डालकर 5 मिनट तक उबालना चाहिए. फिर इसे छानकर 2 चम्मच शहद मिलाकर पीना चाहिए. कोलेस्ट्रॉल दूर करने के लिए व छाती के दर्द को रोकने के लिए रोज मेथी के बीज को खाना चाहिए. मेथी के बीज खाने के लिए एक चम्मच मेथी के बीज को पानी में डालकर रात भर छोड़ देना चाहिए. फिर अगली सुबह भींगे हुये इस मेथी के बीज को पानी के साथ खाली पेट खाना चाहिए.

6. बादाम: - बादाम में पोलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड होता है जो ब्लड कोलेस्ट्रॉल को दूर करता है. इसमें फाइबर और मैग्निशियम भी पाया जाता है जो कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और छाती के दर्द को रोकता है. इस कारण से छाती के दर्द में बादाम का उपयोग फायदेमंद रहता है. बादाम का तेल व गुलाब का तेल बराबर मात्रा में मिलाकर इस मिश्रण को छाती पर धीरे-धीरे रगड़ना चाहिए. इससे छाती दर्द जल्द ठीक हो जाता है. छाती दर्द व हृदय के रोग को कम करने के लिए रोज मुट्ठी भर बादाम खाना चाहिए.

7. अल्फाल्फा: - अल्फाल्फा कोलेस्ट्रॉल के स्तर को दूर करता है व प्लाक को बढ़ने से रोकता है तथा हृदय तक रक्त के प्रवाह को सुधारता है. अल्फाल्फा में क्लोरोफिल पाया जाता है जिस कारण से यह धमनियों को सही रखता है व छाती के दर्द को दूर करता है. छाती में दर्द रहने पर एक चम्मच सुखी अल्फाल्फा की पत्ती गर्म पानी में डालकर 5 मिनट तक उबालना चाहिए. फिर इसे छानकर इस चाय को पीना चाहिए.

नोट-
यहाँ बताए गए घरेलू उपाय मात्र जानकारी के लिए दिये गए हैं. पाठकों को सलाह दी जाती है कि किसी भी तरह के छाती दर्द को वे नजरअंदाज न करें. उन्हें अपने डॉक्टर से सलाह लेकर उचित जाँच कराकर उचित इलाज करानी चाहिए.

1 person found this helpful

दांत सफाई युक्तियाँ - Teeth Cleaning Tips In Hindi!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
दांत सफाई युक्तियाँ - Teeth Cleaning Tips In Hindi!

हर कोई चाहता है की उसके दांत सफेद और आकर्षक हो, क्योंकि कोई भी व्यक्ति सबसे पहले आपके चेहरे की मुसकराहट पर ही पड़ती है. एक आकड़े के अनुसार, वर्ष 2015 में, अमेरिका के लोगों ने केवल दांतों को सफाई करने में लगभग 11 बिलियन डॉलर से अधिक रुपये खर्च कर दिए. इसमें घर पर इस्तेमाल करने वाले व्हाइटनिंग प्रोडक्ट पर 1.4 बिलियन डॉलर से अधिक का खर्च शामिल था.

  • जब आपके दांतों को सफेद करने की बात आती है, तो ऐसे बहुत सारे प्रोडक्ट है जिसका आप चुनाव कर सकते हैं.
  • हालांकि, अधिकांश व्हाइटनिंग प्रोडक्ट आपके दांतों को ब्लीच करने के लिए केमिकल का उपयोग करते हैं, जो कई लोगों के लिए समस्या का कारण बन सकता है.
  • यदि आप सफेद दांत चाहते हैं, लेकिन रसायनों से भी बचना चाहते हैं, तो यह लेख कई विकल्पों को सूचीबद्ध करता है जो प्राकृतिक और सुरक्षित हैं.

पीले दांत का कारण क्या है?

  • ऐसे कई कारक हैं जिनके कारण दांत पीले होते हैं और उनकी चमकदार, सफेद चमक खो जाती है.
  • कुछ खाद्य पदार्थ के कारण तामचीनी में दाग लग सकते हैं, जो आपके दांतों की सबसे बाहरी परत है. इसके अतिरिक्त, आपके दांतों पर पट्टिका का निर्माण उनके पीले दिखने का कारण बन सकता है.
  • इस प्रकार के मलिनकिरण का उपचार आमतौर पर नियमित क्लींजिंग और व्हाइटेनिंग उपचार के साथ किया जा सकता है.
  • हालांकि, कभी-कभी दांत पीले दिखते हैं क्योंकि कठोर तामचीनी नष्ट हो जाती है, जिससे दांतों के नीचे की सतह दिखने नजर आने लगता है. डेंटिन एक स्वाभाविक रूप से पीला, बोनी टिश्यू है जो तामचीनी के नीचे स्थित है.

यहां 7 सरल तरीके दिए गए हैं जिनसे आप अपने दांतों को प्राकृतिक रूप से सफेद कर सकते हैं.
1. ऑयल पुल्लिंग इस्तेमाल करें

  • ऑयल पुल्लिंग एक पारंपरिक भारतीय लोक उपचार है जिसका उद्देश्य मौखिक स्वच्छता में सुधार करना और शरीर से टॉक्सिक पदार्थों को निकालना है.
  • इस अभ्यास में बैक्टीरिया को हटाने के लिए आपके मुंह में चारों ओर तेल से गरारे करना होता है. बैक्टीरिया के कारण पट्टिका का निर्माण हो सकता है जो आपके दांतों के पीला होने का कारण बन सकता है.
  • परंपरागत रूप से, भारतीय ऑयल पुल्लिंग के लिए सूरजमुखी या तिल के तेल का उपयोग करते थे, लेकिन इसके लिए किसी भी प्रकार के तेल को उपयोग किया जा सकता है.
  • नारियल तेल एक लोकप्रिय विकल्प है क्योंकि इसमें एक सुखद स्वाद है और कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है.
  • नारियल का तेल लॉरिक एसिड में भी उच्च होता है, जो सूजन को कम करने और बैक्टीरिया को मारने की क्षमता के लिए जाना जाता है.
  • कुछ अध्ययनों से पता चला है कि दैनिक ऑयल पुल्लिंग से मुंह में बैक्टीरिया को कम किया जाता है, साथ ही पट्टिका और मसूड़े की सूजन से राहत प्रदान करता है.
  • स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स मुंह में बैक्टीरिया के प्राथमिक प्रकारों में से एक है जो पट्टिका और मसूड़े की सूजन का कारण बनता है. एक अध्ययन में पाया गया है कि तिल के तेल के साथ रोजाना गरारे से लार में स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स को बहुत कम किया है.


2. बेकिंग सोडा के साथ ब्रश
बेकिंग सोडा में प्राकृतिक सफेदी गुण होते हैं, यही वजह है कि यह कमर्शियल टूथपेस्ट में एक लोकप्रिय घटक है. यह एक हल्का अपघर्षक है जो दांतों पर सतह के दाग को दूर करने में मदद कर सकता है.
इसके अतिरिक्त, बेकिंग सोडा आपके मुंह में एक क्षारीय वातावरण बनाता है, जो बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकता है. विज्ञान ने अभी तक यह साबित नहीं किया है कि प्लेन बेकिंग सोडा के साथ ब्रश करने से आपके दाँत सफेद हो जाएंगे, लेकिन कई अध्ययनों से पता चलता है कि बेकिंग सोडा के साथ टूथपेस्ट का महत्वपूर्ण सफेदी प्रभाव है.

3. हाइड्रोजन पेरोक्साइड का उपयोग करें
हाइड्रोजन पेरोक्साइड एक प्राकृतिक ब्लीचिंग एजेंट है जो आपके मुंह में बैक्टीरिया को भी मारता है.
वास्तव में, लोग बैक्टीरिया को मारने की क्षमता के कारण घावों कीटाणुरहित करने के लिए वर्षों से हाइड्रोजन पेरोक्साइड का उपयोग कर रहे हैं. कई कमर्शियल व्हाइटनिंग प्रोडक्ट में भी हाइड्रोजन पेरोक्साइड होता है.

4. एप्पल साइडर सिरका का उपयोग करें
ऐप्पल साइडर सिरका का इस्तेमाल सदियों से एक कीटाणुनाशक और प्राकृतिक सफाई उत्पाद के रूप में किया जाता रहा है. एसिटिक एसिड, जो सेब साइडर सिरका में मुख्य सक्रिय घटक है, प्रभावी रूप से बैक्टीरिया को मारता है. सिरका की जीवाणुरोधी गुण वह है जो आपके मुंह को साफ करने और आपके दांत को सफेद करने के लिए उपयोगी है. गाय के दांतों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि सेब साइडर सिरका का दांतों पर विरंजन प्रभाव पड़ता है. हालांकि, उन्होंने यह भी पाया कि सिरका दांतों को नरम कर सकता है.

5. फलों और सब्जियों का उपयोग करें
फलों और सब्जियों में उच्च आहार आपके शरीर और आपके दांतों दोनों के लिए अच्छा हो सकता है.
हालाँकि, आपके दाँत को ब्रश करने का कोई अन्य विकल्प नहीं है लेकिन कुरकुरे, कच्चे फल और सब्जियों को चबाने से पट्टिका को रगड़ने में मदद मिल सकती हैं.

विशेष रूप से, स्ट्रॉबेरी और अनानास दो फल हैं जिन्हें आपके दांतों को सफेद करने में मदद करने का दावा किया गया है.

1 person found this helpful
View All Feed

Near By Clinics

Gastro and Laproscopy Clinic

Vaibhav Khand, Ghaziabad, Ghaziabad
View Clinic
  4.5  (65 ratings)

Apollo Clinic

Ghaziabad
View Clinic