Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

HIV Treatment Tips

HIV - Safety Measure Which You Must Follow!

Dr. Satish Kumar Gadi (Lt Col) 93% (125 ratings)
MBBS, MBA - Health Care Administration
General Physician, Gurgaon
HIV - Safety Measure Which You Must Follow!

HIV/AIDS is a type of sexually transmitted disease which is caused by the Human Immunodeficiency Virus (HIV). The HIV virus attacks the immune system and makes the body vulnerable to other diseases. AIDS is the last stage of the HIV infection; HIV takes about 10 to 12 years to fully culminate into AIDS. AIDS completely destroys the immune system and leads to fatal health conditions and diseases such as cancers and other infections because of AIDS.

Causes-

HIV is a retrovirus that infects the vital organs of the human immune system. The virus progresses in the absence of antiretroviral therapy. The rate of virus progression varies widely between individuals and depends on many factors (age of the patient, body’s ability to defend against HIV, access to healthcare, existence of coexisting infections, the infected person’s genetic inheritance, resistance to certain strains of HIV).

HIV can be transmitted through:

  1. Sexual Transmission. It can happen when there is contact with infected sexual secretions. This can happen while having unprotected sex, including vaginal, oral and anal sex or sharing sex toys with someone infected with HIV.
  2. Perinatal Transmission. The mother can pass the infection on to her child during childbirth, pregnancy, and also through breastfeeding.
  3. Blood Transmission. The risk of transmitting HIV through blood transfusion is nowadays extremely low in developed countries, thanks to meticulous screening and precautions. Among drug users, sharing and reusing syringes contaminated with HIV-infected blood is extremely hazardous.

Contrary to popular belief, HIV can never spread by means of kissing as the virus cannot survive outside the body.

Symptoms-

  • The early symptoms of HIV appear within a few weeks of contamination by the virus. The early symptoms include headache, pain in the muscles and the joints, rashes and inflated lymph nodes. These symptoms tend to disappear within 2 to 3 weeks.
  • The next set of symptoms might appear after a few years and these are persistent. The symptoms include, but are not limited to fatigue, loss of body weight, inflated lymph nodes, fever, a sensation of numbness near the limbs, pain when you try to swallow, sores in the mouth and sweating at night.

If you are diagnosed with HIV, you should:

  • Try to maintain a daily diet containing vegetables, legumes, and fruits which provide you energy.
  • Try to include a little bit of fat, carbohydrates (at least 3 servings of vegetable per day), calcium (dairy products) and low-fat protein sources (generally 80-150 gram per day of fish, skinned chicken, low-fat cheese etc.) in your everyday meal.
  • Maintain a daily calorie intake of 17-25 calories per pound depending on whether the person is losing weight.
  • Vitamins and minerals are particularly necessary to repair the cells damaged by the HIV virus.

So, it is necessary to intake foods such as eggs, milk, peanuts, green vegetables, meat, beans and broccolis on a regular basis, if you have been diagnosed with HIV.

If you are suffering from HIV, you must maintain the following food safety measures:

  • You should try to restrict the intake of fat
  • Restrict your alcohol intake
  • You should try to avoid fast foods
  • You should also limit your regular sugar intake and should avoid foods with extra sugar

 In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

3562 people found this helpful

HIV - Quick Facts Need To Know!

Dr. Ishwar Gilada 93% (3184 ratings)
MBBS, DDV, FCPS, APEX, Diplomat American Board of Sexology
HIV Specialist, Mumbai
HIV - Quick Facts Need To Know!

HIV: QUICK FACTSIntroductionThe human immunodeficiency virus (HIV) is a subgroup of retrovirus (lentivirus) that causes HIV infection. After a period of time, this infection leads to what is called acquired immunodeficiency syndrome (AIDS).

Epidemiology

According to the Centers for Disease Control and Prevention (CDC), from 2010-2015, the estimated rate of HIV infection in all 50 US states decreased from 14.2 per 100,000 population in 2010 to 12.3 per 100,000 population in 2015. In 2015, 39,513 individuals were diagnosed with HIV infection. From 2010 to 2014, the annual number of new HIV infections decreased by 9%.

Virology HIV-1 and HIV-2 are retroviruses in the Retroviridae family, Lentivirus genus. They are enveloped, diploid, single-stranded RNA viruses with a DNA intermediate.Upon entry into the target cell, the viral RNA genome is converted into double-stranded DNA by an enzyme, reverse transcriptase that is transported along with the viral genome in the virus particle. The resulting viral DNA is then imported into the cell nucleus and integrated into the cellular DNA by a virally encoded enzyme, integrase. HIV contains three retroviral genes, namely gag, pol, and env.

  • Gag gene: Encodes group-specific antigen; the inner structural proteins
  • Pol gene: Encodes polymerase; it also contains integrase and protease
  • Env gene: Encodes the viral envelope, the outer structural proteins responsible for cell-type specificity. Glycoprotein 120, the viral envelope protein, binds to the host CD4+molecule

Pathophysiology

HIV infects vital cells in the human immune system, such as helper T cells (specifically CD4+ T cells), macrophages, and dendritic cells and leads to cellular immune deficiency. This results in the development of opportunistic infections and neoplastic processes.

Mode of Transmission
Sexual intercourse: Unprotected sexual intercourse; especially receptive anal intercourse and different sexual partnersContact with or transfer of blood, pre-ejaculate, semen, and vaginal fluids infected with the virus.Spread from an infected mother to her infant through breast milk. An HIV-positive mother can transmit HIV to her baby both during pregnancy and childbirth due to exposure to her blood or vaginal fluid.

Signs and Symptoms There are 3 categories of infection

  • Category A: Asymptomatic HIV infection without a history of symptoms or AIDS-defining conditions
  • Category B: HIV infection with symptoms that are directly attributable to HIV infection
  • Category C: HIV infection with AIDS-defining opportunistic infections

Investigation

A high-sensitivity enzyme-linked immunosorbent assay (ELISA) should be used for screening.

Management

  • Start with antiretroviral therapy (ART) in all HIV-infected adults ready to start therapy.
  • CD4 count is no longer a criterion for starting the therapy.
  • Use of nucleoside reverse transcriptase inhibitors and protease inhibitors.
  • For refractory cases, during the failing treatment regimen and before switching therapy, use rapid confirmation, perform resistance testing and reevaluate.

In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

3505 people found this helpful

HIV Symptoms in Hindi - HIV के लक्षण

Dt. Radhika 93% (467 ratings)
MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
HIV Symptoms in Hindi - HIV के लक्षण

स्कूल में बच्चों को धरती से आसमान, इंसान जानवर, कीड़े-मकौड़े ज्ञान-विज्ञान इतिहास नागरिक-शास्त्र भूत भविष्य वर्तमान हर चीज के बारे में बताया जाता है, पर जिस चीज के बारे में हर व्यक्ति को जानकारी होनी ही चाहिए। उस बात पर समाज स्कूल परिवार हर कोई चुप रहता आया है। जी हाँ हम बात कर रहे हैं सेक्स एजुकेशन की। हालांकि समय-समय पर सेक्स एजुकेशन मुद्दा जरुर बनता आया है पर, जमीनी हकीक़त यही है कि, हम इसके बारे में बोलने, आपस में चर्चा करने, जागरूकता फैलाने के बजाय केवल हाय-तौबा करते आ रहे हैं। और इस नासमझी की वजह से ही देश क्या पुरे विश्व में जाने-अनजाने करोड़ों लोग एसटीडी एच आई वी/एड्स जैसी बीमारी की चपेट में फंसते जा रहे हैं। 

दरअसल सेक्स एजुकेशन के प्रति हमें अपना नजरिया बदलने की जरूरत है। जैसे अन्य बिमारियों के होने की कई वजह होती है जो हमारी आदतों और रहन सहन से जुडी होती हैं, जिनसे बचने के उपाय और लक्षणों की सही जानकारी होने पर हम खुदको बचा लेते हैं। उसी तरह एसटीडी/एचाईवी/एड्स जैसी बीमारी के लक्षणों को पहचानने और इनसे बचने की जानकारी होने के लिए जरूरी है की हम इस विषय से पूरी तरह रूबरू हों। जिसके लिए कम उम्र से ही सेक्स एजुकेशन, मुक्तरूप से परिचर्चा, लेखन आदि के द्वारा समाज को जागरूक करना जरूरी है।
 
बीमारियाँ तो जानलेवा हो ही सकती हैं पर एड्स नाम की बीमारी जान लेकर ही ख़त्म होती है। यह बीमारी जितनी भयावह है इसके फैलने का प्रोसेस उतना ही आसान। ये उन बिमारियों में से है कि पीड़ित अपनी मौत की भीख मांगता है। 

एड्स क्या‍ है
एड्स का पूरा नाम है 'एक्वायर्ड इम्यूलनो डेफिसिएंशी सिंड्रोम' है और यह बीमारी एच.आई.वी. वायरस से होती है। यह वायरस मनुष्य की प्रतिरोधी क्षमता को कमज़ोर कर देता है। 
शरीर का बैक्टीरिया वायरस से मुकाबला करने की क्षमता खोने लगता है। जिससे शरीर बीमारियों की चपेट में आने लगता है। शरीर प्रतिरोधक क्षमता आठ-दस सालों में ही न्यूनतम हो जाती है. इस स्थिति को ही एड्स कहा जाता है. एड्स वायरस को रेट्रोवायरस कहा जाता है. 
यह जानलेवा बीमारी तेजी से अपने पांव पसार रही है। एड्स के कारण पिछले तीन दशकों में 25 मिलियन से ज्याादा लोगों की मौत हो गई है। वर्तमान में दुनियाभर में लगभग 34 मिलियन से ज्यायदा एचआईवी वायरस से संक्रमित हैं। 
एच.आई.वी. पाजी़टिव होने का मतलब है, एड्स वायरस आपके शरीर में प्रवेश कर गया है, इसका अर्थ यह नहीं है कि आपको एड्स है। एच.आई.वी. पाजीटिव होने के 6 महीने से 10 साल के बीच में कभी भी एड्स हो सकता है। और एक स्वस्थ व्यक्ति अगर एच.आई.वी. पाजीटिव के संपर्क में आता है, तो वह भी संक्रमित हो सकता है।

लक्षण 

एचआईवी के शुरुआती स्टे ज में इसका पता नहीं चल पाता है और व्यगक्ति को इलाज करवाने में देर हो जाती है। इसलिये जरूरी है की सभी को इसके लक्षणों के बारे में पूरी जानकारी हो। 

1. थकान
अगर किसी व्‍यक्ति को पहले से ज्याभदा थकान हो रही हो या हर समय थकान का अहसास होता हो, तो उसे इसे गंभीरता से लेते हुए एचआईवी की जांच करवानी चाहिए।

2. मांशपेशियों में खिंचाव
अगर बिना कोई कड़ा शारीरिक काम किए हमेशा आपकी मांसपेशियां तनावग्रस्तन और अकड़ी रहती हैं। तो इसे मामूली न समझें। यह एचआईवी का लक्षण हो सकता है।

3. जोड़ों में दर्द और सूजन
उम्र के साथ-साथ जोड़ों में दर्द व सूजन होना सामान्य  माना जाता है, लेकिन कहीं यह समय से पहले हो जाए, तो इस पर सोचने की जरूरत है। इसे हल्के  में लेने की भूल न करें। यह एचआईवी का इशारा हो सकता है।

4. सिर दर्द
अगर आपके सिर में हर समय दर्द रहता हो, यह दर्द अगर सुबह-शाम कम हो जाए और दिन में बढ़ जाए, तो यह एचआईवी का लक्षण हो सकता है।

5. वजन कम होना
एचआईवी से ग्रस्त  मरीज का वजन रोजाना कुछ कम होने लगता है। अगर बीते दो महीनों में बिना किसी कोशिश के भी आपका वजन कम हो रहा है, तो आपको अपनी जांच करवानी चाहिए।

6. त्वचा पर निशान
इम्यून व रेसिटेंस पावर कम होने के कारण शरीर बीमारियों से आपको बचाने में सक्षम नहीं रह पाता। इसका असर त्वचा की बाहरी सतह पर भी होता है। त्वचा पर लाल रेशेस होना और उनका ठीक न हो पाना भी एड्स का लक्षण है।

7. गला पकना
अगर आप पर्याप्ती मात्रा में पानी पीते, तो आपको गला पकने की शिकायत हो सकती है। लेकिन, किसी व्यरक्ति का गला अगर पर्याप्त  मात्रा में पानी पीने के बाद भी पक रहा है, तो आपको इस पर विचार करने की जरूरत है। दरअसल, बिना किसी कारण गले में भयंकर खराश और पकन महसूस हो, तो यह एचआईवी का लक्षण दर्शाता है।

8. बेवजह तनाव होना
बिना किसी कारण के तनाव हो, जरा-जरा सी बात पर रोना आये तो यह एचआईवी की ओर इशारा करता है।

9. सूखी खांसी और मतली आना 
बिना भयंकर खांसी के भी कफ बना रहना। लेकिन कफ में खून न आना। हमेशा मुंह का स्वाऔद बिगड़ा रहना आदि भी एचआईवी के लक्षण हो सकते हैं। इसके साथ ही हर समय मतली आना या फिर खाना खाने के तुरंत बाद उल्टीो होना भी शरीर में एच आई वी के वायरस के संक्रमण का इशारा करते हैं।

10. जुकाम
यूं तो जुकाम होना आम बात है लेकिन अगर बार-बार अनुकूल मौसम में भी जुकाम जकड रहा हो तो यह भी एचआईवी होने का लक्षण हो सकता है।

11. सोते वक्त पसीना आना 
अगर किसी भी तापमान में सोते वक़्त पसीना आता है और घुटन महसूस होती हैं तो यह भी एड्स का लक्षण हो सकता है।

18 people found this helpful

Hiv Aids Information in hindi - एचआईवी एड्स की जानकारी

Dt. Radhika 93% (467 ratings)
MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Hiv Aids Information in hindi -  एचआईवी एड्स की जानकारी

एड्स नाम अपने आपमें भयावह और दर्दनाक एहसास दिला देता है। बीमारियाँ वैसे तो बदनाम होती ही हैं पर एड्स को बिमारी नहीं बल्कि कई जानलेवा बीमारियों का जरिया कहना गलत नहीं होगा। यह एक ऐसी बीमारी है जिससे पीड़ित व्यक्ति जीने की उम्मीद खोकर मरने की राह देखने लगता है। इसलिए हम सभी को एड्स के बारे में पूरी जानकारी होनी ही चाहिए।

दरसल एड्स एचआईवी वायरस के कारण होने वाली एक बीमारी है। यह तब होता है जब व्यक्ति का इम्यून सिस्टम इंफेक्शन से लड़ने में कमज़ोर पड़ जाता है। और तब विकसित होता है, जब एचआईवी इंफेक्शन बहुत अधिक बढ़ जाता है। एड्स एचआईवी इंफेक्शन का अंतिम चरण होता है। जब शरीर स्वयं की रक्षा नहीं कर पाता और शरीर में कई प्रकार की बीमारियाँ, संक्रमण हो जाते हैं एचआईवी शरीर की रोग प्रतिरोधी क्षमता पर आक्रमण करता है। जिसका काम शरीर को संक्रामक बीमारियों, जो कि जीवाणु और विषाणु से होती हैं से बचाना होता है। एच.आई.वी. रक्त में उपस्थित प्रतिरोधी पदार्थ लसीका-कोशो पर हमला करता है। ये पदार्थ मानव को जीवाणु और विषाणु जनित बीमारियों से बचाते हैं और शरीर की रक्षा करते हैं। जब एच.आई.वी. द्वारा आक्रमण करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता क्षय होने लगती है तो इस सुरक्षा कवच के बिना एड्स पीड़ित लोग भयानक बीमारियों क्षय रोग और कैंसर आदि से पीड़ित हो जाते हैं। और शरीर को कई अवसरवादी संक्रमण यानि आम सर्दी जुकाम, फुफ्फुस प्रदाह इत्यादि घेर लेते हैं। जब क्षय और कर्क रोग शरीर को घेर लेते हैं तो उनका इलाज करना कठिन हो जाता है और मरीज की मृत्यु भी हो सकती है। 

अभी तक एचआईवी या एड्स के लिए कोई उपचार उपलब्ध नहीं है। हालाँकि सही उपचार और सहयोग से एचआईवी से ग्रसित व्यक्ति लम्बा और स्वस्थ जीवन जी सकता है। और ऐसा करने के लिए आवश्यक है, कि उचित उपचार लिया जाए और किसी भी संभावित दुष्परिणाम से निपटा जाए। 
  
एड्स कैसे फैलता है
अगर एक सामान्य व्यक्ति एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के वीर्य, योनि स्राव अथवा रक्त के संपर्क में आता है, तो उसे एड्स हो सकता है। आमतौर पर लोग एच.आई.वी. पॉजिटिव होने को एड्स समझ लेते हैं, जो कि गलत है। बल्कि एचआईवी पॉजिटिव होने के 8-10 साल के अंदर जब संक्रमित व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता क्षीण हो जाती है तब उसे घातक रोग घेर लेते हैं और इस स्थिति को एड्स कहते हैं। 

एड्स होने के 4 अहम वजह 
(1) पीड़ित व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन सम्बन्ध स्थापित करने 
(2) दूषित रक्त से।
(3) संक्रमित सुई के उपयोग 
(4) एड्स संक्रमित माँ से उसके होने वाली संतान को। 
 
एड्स के लक्षण 
एच.आई.वी से संक्रमित लोगों में लम्बे समय तक एड्स के कोई लक्षण दिखाई नहीं देते। लंबे समय तक (3, 6 महीने या अधिक) एच.आई.वी. का भी औषधिक परीक्षण से पता नहीं लग पाता। अधिकतर एड्स के मरीजों को सर्दी, जुकाम या विषाणु बुखार हो जाता है पर इससे एड्स होने का पता नहीं लगाया जा सकता। एच.आई.वी. वायरस का संक्रमण होने के बाद उसका शरीर में धीरे धीरे फैलना शुरू होता है। जब वायरस का संक्रमण शरीर में ज्यादा बढ़ जाता है, उस समय बीमारी के लक्षण दिखाई देते हैं। एड्स के लक्षण दिखने में आठ से दस साल का समय भी लग सकता है। ऐसे व्यक्ति को, जिसके शरीर में एच.आई.वी. वायरस हों पर एड्स के लक्षण प्रकट न हुए हों, उसे एचआईवी पॉसिटिव कहा जाता है। पर ध्यान रहे ऐसे व्यक्ति भी एड्स फैला सकते हैं। 

एड्स के कुछ शुरूआती लक्षण 

  • वजन का काफी हद तक काम हो जाना
  • लगातार खांसी आना 
  • बार-बार जुकाम होना
  • बुखार
  • सिरदर्द
  • थकान
  • शरीर पर निशान बनना (फंगल इन्फेक्शन के कारण)
  • हैजा
  • भोजन से मन हटना 
  • लसीकाओं में सूजन

ध्यान रहे कि ऊपर दिए गए लक्षण अन्य सामान्य रोगों के भी हो सकते हैं। अतः एड्स की निश्चित रूप से पहचान केवल और केवल, औषधीय परीक्षण से ही की जा सकती है व की जानी चाहिये। एच.आई.वी. की उपस्थिति का पता लगाने हेतु मुख्यतः एंजाइम लिंक्ड इम्यूनोएब्जॉर्बेंट एसेस यानि एलिसा टेस्ट करवाना चाहिए।
 
एड्स का उपचार
एड्स के उपचार में एंटी रेट्रोवाईरल थेरपी दवाईयों का उपयोग किया जाता है। इन दवाइयों का मुख्य उद्देश्य एच.आई.वी. के प्रभाव को काम करना, शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करना और अवसरवादी रोगों को ठीक करना होता है। समय के साथ-साथ वैज्ञानिक एड्स की नई-नई दवाइयों की खोज कर रहे हैं। लेकिन सच कहा जाए तो एड्स से बचाव ही एड्स का सर्वोत्तम इलाज है।  
 
एड्स से बचाव 
एड्स से बचाव के लिए सामान्य व्यक्ति को एच.आई.वी. संक्रमित व्यक्ति के वीर्य, योनि स्राव अथवा रक्त के संपर्क में आने से बचें। साथ ही साथ एड्स से बचाव के लिए बताई गई कुछ सावधानियां भी बरतें।

  • पीड़ित साथी या व्यक्ति के साथ यौन सम्बन्ध न स्थापित करने से बचें और अगर करें भी तो सावधानीपूर्वक कंडोम का इस्तेमाल करें। लेकिन कई बार कंडोम इस्तेमाल करने में भी कंडोम के फटने का खतरा रहता है। इसलिए एक से अधिक व्यक्ति से यौन संबंध ना रखें।
  • खून को अच्छी तरह जांचकर ही चढ़ाएं। कई बार बिना जांच के खून मरीज को चढ़ा दिया जाता है जोकि खतरनाक है। इसलिए खून चढ़ाने से पहले पता करें कि कहीं खून एच.आई.वी. दूषित तो नहीं है। 
  • उपयोग की हुई सुईओं या इंजेक्शन का प्रयोग न करें क्योंकि ये एच.आई.वी. संक्रमित हो सकते हैं। 
  • दाढ़ी बनवाते समय हमेशा नाई से नया ब्लेड उपयोग करने के लिए कहें। 

एड्स की इन जानकारियों के साथ ही जरूरी हम एड्स के बारे में फैली हुई गलत्फहेमियों से वाकिफ रहें 
 
कई लोग समझते हैं कि एड्स पीड़ित व्यक्ति के साथ खाने, पीने, उठने, बैठने से एड्स हो जाता है। जो कि पूरी तरह गलत है। ऐसी भ्रांतियों से बचें। हकीक़त में रोजमर्रा के सामाजिक संपर्कों से एच.आई.वी. नहीं फैलता जैसे किः-

  • पीड़ित के साथ खाने-पीने से
  • बर्तनों कि साझीदारी से 
  • हाथ मिलाने या गले मिलने से 
  • एक ही टॉयलेट का प्रयोग करने से
  • मच्छर या अन्य कीड़ों के काटने से 
  • पशुओं के काटने से 
  • खांसी या छींकों से 
  • बताई गई बातों को समझकर सावधानी बरतें और पीड़ित व्यक्ति रेगुलर इलाज करवाएं।
     

12 people found this helpful

HIV Infections - Stages And Symptoms

Dr. Rakesh Sharma 86% (16 ratings)
DDF, FCCP, MD , MBBS
General Physician, Delhi
HIV Infections - Stages And Symptoms

HIV or the human immunodeficiency virus is the lentivirus which causes HIV infection and leads to acquired immunodeficiency syndrome or AIDS.

The symptoms of HIV vary from person to person. There are three main stages of HIV infections, where each stage has different symptoms.

Here are some facts about the three stages of HIV infections along with the accompanying symptoms.

Acute HIV Infection Stage: This is the first stage of HIV infection and after three to four weeks of becoming HIV infected, people experience symptoms, which are similar to flu. This flu usually does not last more than two weeks.

Symptoms include:

  1. Fever
  2. Rashes on the body
  3. A sore throat
  4. Swelling of different glands
  5. Headache
  6. Joint and muscle pain
  7. Improper digestion

These symptoms appear and indicate that the body is reacting to the HIV. Infected cells circulate throughout the blood, and the immune system produces HIV antibodies in order to attack the viruses. This process is termed as seroconversion, and it takes place within 45 days of getting infected. The levels of virus in your blood are quite high during this stage.

Clinical latency stage: This is the second stage of HIV infection, which follows the early stage. This stage is also known as chronic HIV stage. During this stage, HIV is active, but is reproduced at a very low level. People in this stage may not receive symptoms related to HIV or may get mild indications.

In case of people who do not take medicines for HIV treatment, this stage lasts for a long period. Some people, however, progress faster through this stage. Medicines should be taken to keep the virus in check. During this stage, people can transmit HIV to others very easily in spite of not experiencing any symptoms. People who are on medication stay suppressed virally and have a low level of HIV in their blood, and the risk of transmission is less.

Symptomic HIV infection or AIDS stage: This is the third stage of HIV infection, which is characterized by severe damage to the immune system of an HIV-virus affected person. A patient is likely to have serious infections and gets bacterial or fungal diseases. The infections are termed as opportunistic infections. The patient is now said to be having AIDS.

The symptoms of this stage are:

  1. Loss of weight
  2. Diarrhoea
  3. Sweating at night
  4. Fevers and persistent coughing
  5. Problems in the mouth and skin
  6. Infections on a regular basis
  7. Illness and development of other diseases.

HIV infection affects the body via three stages and leads to AIDS in the third stage. Each stage is accompanied by several symptoms. If you wish to discuss about any specific problem, you can consult a general physician.

3490 people found this helpful
Icon

Book appointment with top doctors for HIV Treatment treatment

View fees, clinic timings and reviews