Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Fever Tips

Hay Fever - Why Homeopathy Is The Best Line Of Treatment For It?

Ashwini Homoeopathy 88% (129 ratings)
Homeopath, Navi Mumbai
Hay Fever - Why Homeopathy Is The Best Line Of Treatment For It?

Hey fever, also called allergic rhinitis is an allergic response to airborne substances such as pollen, dust mite or other allergens from plants or fungi. The symptoms of hey fever include sneezing, runny nose, watery eyes, itchy throat, sinus pressures and congestion. Unlike its name, hey fever does not cause any fever.

The allergy generally occurs seasonally, especially in high pollen months, spring, summer or early fall. Not all people are affected by this allergy. Some are mildly affected. For others, immune system misunderstands allergens as harmful and releases the antibody called IgE (immunoglobulin E) to fight with it. This causes symptoms of hey fever. The symptoms could range from a mild congestion or sneezing to sweats, blocked sinuses, headaches and fatigue.

Hey fever is common during childhood; however, it can develop at any stage in a person’s life. It is believed that people with a family history of allergy and asthmatic patients are at a higher risk of developing it. Children born during pollen months as well as babies exposed to cigarette smoke during early years are also at risk of developing this allergy.

A proper diagnosis of the problem is the key to its management. The allergy is generally diagnosed through its symptoms. Sometimes, a blood test is conducted to test the level of immunoblobulinE. The level from 0 to 6 indicates the severity of the allergic reaction.

Allopathic medication offers a combination of interventions like desensitisation, anti-allergen tablets, steroids and quick relief nasal sprays.

Homeopathy, on the other hand, offers a different way of intervention. The patient is treated as per the symptoms restoring the body’s ability to self-heal thereby decreasing dependability on drugs. The best part being homeopathic drugs are free from chemicals and have no side effects.

You can choose to visit a homeopathy clinic or even self-treat through drugs available at homeopathy outlets where detailed symptoms and its prescribed dose can be found out. However, it is important to follow a prescribed dose at right intervals to ensure maximum benefit.

Homeopathic Remedies 

  1. Allium cepa- can b given when there is hey fever with too much runny nose and discharge is acrid. 
  2. Ars alb- can be given when there is hey fever with intense thirst. 
  3. Nat mur- can be given when there is hey fever with too much sneezing and frontal headache. 
  4. Merc sol- can be given when the patient is extremely sensitive to heat and cold.
  5. Aurundo- hey fever with excessive burning and itching in the nose, palate, eyes

All the medicines are generally indicated and needs a homeopathic consultation.

 

Dengue Fever

Dr. Akshay Berad 93% (147 ratings)
MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, MD
General Physician, Nagpur
Dengue Fever

Dengue is viral infection transmitted by bite of mosquito aedes aegypti. This mosquito usually bites in day time. In dengue fever platelet count decreases which can cause bleeding in skin and internal organs of human body. When platelet count decreases below 20000 it can causes severe internal bleeding in body. Aspirin should not be given for dengue fever because it can decrease platelet count. Treatment is symptomatic. There is no specific treatment. Water should not be allowed to accumulate in houses like in empty drums or cooler because mosquito can breed in stagnant water. Use all measures to avoid mosquito bites.

Viral Fever - What Should You Do To Treat It?

Alliance Munot Hospital 90% (10 ratings)
General Physician, Pune
Viral Fever - What Should You Do To Treat It?

Viral fever refers to a wide range of conditions caused by viral infections of the body. These infections lead to an elevation of body temperature, along with a variety of other symptoms such as headaches, body aches, chills and skin rashes. Viral fever can affect people of all age groups and may even be highly contagious if it is not contained and treated.

What causes viral fever?

Viral fever is caused by the infestation of viruses that spread through various avenues. These viruses enter the body and multiply at a specific site, leading to an infection that manifests itself as the symptoms of fever. This fever may be chronic or acute, depending on the nature of the infection and can easily spread from one person to another.

Some of the ways in which viral fever spreads are as follows:

  1. Aerial transmission (coughing and sneezing).

  2. Sexual transmission.

  3. Consumption of contaminated food and water.

  4. Contact with contaminated surfaces.

  5. Contact with infected animals.

The symptoms of viral fever begin to show after an incubation period during which the virus multiplies within the body. The nature and duration of the illness varies from case to case. The most common symptoms of viral fever that accompany high body temperatures include the following:

How is viral fever treated?

A case of viral fever can be quite easily treated if there is an absence of complications. For this, the illness simply needs to be diagnosed early. The use of antibiotics and steroids for treatment is advised against unless the infections have escalated beyond a certain extent. Some of the ways to treat viral fever are:

  • Prescription of antiviral medication

  • Adequate bed rest

  • Ample fluid intake

  • Administration of nasal decongestants

In most cases, the illness gets treated within the span of a few days. However, if the symptoms persist any longer, it is advisable to consult a specialist to check for underlying problems or complications. In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

5122 people found this helpful

Malaria - Know How This Disease Spreads!

Dr. Rohith P A 88% (56 ratings)
MBBS
General Physician, Chennai
Malaria - Know How This Disease Spreads!

Mosquitoes might be tiny creatures, but are responsible for some of the most dreadful diseases, one of them is malaria. Malaria is caused by a parasite that is transmitted through mosquito bites directly or from mother to unborn baby and through blood transfusions. Very widely spread in the Asian and African continents, people travelling here are very cautious of this disease. In areas that are notorious for mosquito infestations, the local people also take preventive measures to ensure mosquito breeding is prevented or at least minimised.

Spread of the disease: When a mosquito bites an infected person, it picks up the parasite from the person and when it next bites another person, the infection is also transmitted. From there, the parasite travels to the liver and into the bloodstream before reaching another individual. While all people are prone to getting the infection, elderly people, children, pregnant women, and immunocompromised people are at greater risk. Also, new travellers are at greater risk than local people, who are to some extent immune to mosquito bites.

Symptoms: The disease is characterised by moderate to severe shaking chills which are more common in the evening, high fever, profuse sweating, headache, vomiting, and diarrhoea. Quite often, there is about a 4-week gap between the time of the mosquito bite and the onset of symptoms. However, in many people, the disease could lie dormant and symptoms manifest when the immunity is severely lowered.
With the gradual progression of the disease, more severe symptoms could evolve as below, and that is when malaria becomes life-threatening.

  1. Cerebral malaria: Once the parasites enter the bloodstream, they can block the minor blood vessels in the brain leading to cerebral oedema and even brain damage. It could eventually result in coma.
  2. Anaemia: There is large-scale destruction of red blood cells, leading to severe anaemia and weakness and fatigue
  3. Breathing problems: Similarly, accumulation of fluid in the lung spaces can lead to pulmonary oedema which causes difficulty breathing and lung failure.
  4. Organ failure: Blood flow blockage to other vital organs like kidneys, liver, and spleen are also possible. The spleen may rupture leading to severe haemorrhage.
  5. Low blood sugar: The malarial parasite per se and the most commonly used medicine (quinine) are both known to cause low blood sugar levels. This can result in coma and even death.

Once the diagnosis is confirmed, treatment usually consists of chloroquine, Mefloquine, quinine sulfate, or hydroxychloroquine. There are various drug-resistant forms of malaria, and they may require combination therapy.
Prevention assumes greater significance with travellers going for vaccines prior to visiting these areas. Even the local people should find ways to avoid breeding of mosquitoes, use mosquito repellents and nets to avoid the infection.

Coconut Or Olive Oil - Is One Better Than The Other?

Dr. M.P.S Saluja 89% (299 ratings)
MD, House Job Certificate ( SKIN & STD) , MBBS
General Physician, Gurgaon
Coconut Or Olive Oil - Is One Better Than The Other?

When you just came to the conclusion that olive oil is healthy for your health, suddenly, you may have read another study result that says that coconut oil is best for your health. No doubt, you are puzzled and confused which one to take. In this article, we will try to give you some idea of the healthy aspects of coconut oil and olive oil and some hard facts about them.

Let’s find them out.

1 Tablespoon Extra Virgin Olive Oil 1 Tablespoon Coconut Oil
119 Calories 116 Calories
14 (g) Total Fat  14 (g) Total Fat
1 (g) Saturated Fat  12 (g) Saturated Fat
9.8 (g) Monosaturated Fat  0.8 (g) Monosaturated Fat
1.4 (g) Polysaturated Fat 0.2 (g) Polysaturated Fat    
0 (mg) Cholesterol 0 (mg) Cholesterol

 

 

 

 

 

 


Goodness of Coconut Oil - The Saturated Fats

  1. Acts as an Antioxidant and Reduces Oxidative StressVirgin coconut oil consists of some antioxidants, like polyphenols and flavonoids. In the process of oxidative stress, the blood vessels in our body and heart get affected that leads to heart attack. These antioxidants keep us safe from such heart ailments.
  2. HighTemperature Resistant: It means that, if you cook in high temperature in coconut oil, you won’t get your food smoked. Coconut oil is a saturated fat, and it is high temperature resistant.
  3. Reduces Hunger: It keeps you away from those irritating hunger pangs when you consume foods cooked in coconut oil.
  4. Improves metabolic rate: Coconut oil increases metabolic rate that ultimately helps to reduce our waist size.

Goodness of Olive Oil - The Monounsaturated Fats

  1. Heart Friendly Fat: Olive oil is rich in monounsaturated fats. The American Heart Association has certified these fats as a heart friendly fat.
  2. Lowers LDL Cholesterol: Olive oil helps in lowering the low density cholesterol level that is known as bad cholesterol in our body.
  3. Some Essential Substances Present in It: Olive oil is rich in vitamin E and polyphenolic compounds. These two components are antioxidants that help in reducing the systemic inflammation level in our body.

Now the point is: Which Oil Is Better for Your Health?

The Verdict
So, from the table and discussion, it is clear that both coconut and olive oil are good for our health. But none of them are miracle fats. You need to consume both oils in small amounts. For cooking foods that need high temperature, like roasting, stir frying, you can use coconut oil as it has high temperature resistance. On the other hand, for simple cooking, use olive oil. But don’t use extra virgin olive oil for cooking, as heat at higher levels can destroy the Vitamin E and Polyphenol compounds in the Olive Oil.

4 people found this helpful

Suffering From Fever - Tips To Help You Recover From It!

Dr. Rajiva Gupta 91% (4374 ratings)
MBBS, MD - Internal Medicine, Post Graduate Program in Diabetology
General Physician, Delhi
Suffering From Fever - Tips To Help You Recover From It!

A serious fever is something which can really be quite debilitating, to say the least. However, if a person who is on the mend from such an ailment is willing to make an effort to eat the right things, he or she will find that the time which is taken for him or her to recover is almost mysteriously reduced!

The thing which is to be done first and foremost is to make sure that a square, balanced meal plan is followed. The plan can be simple in nature but it is very important as it is this which provides the energy for the person to recover, sooner rather than later.

  1. Have a balanced diet: All types of food groups should make their way to the plate from which a person is eating; these are pulses, cereals, as well as fruits and vegetables. In addition to just what is to be eaten, when it is to be eaten also makes a difference as if a person eats about 5 to 7 small but regular meals over the course of the day, he or she will be doing a lot better than if he or she was confined to just about three or four big ones. Turmeric added to warm milk, honey and lemon-grass juice and their ilk are great!
  2. Include supplementary foods: Supplements, if they are consumed in a sufficient quantity, without a person going overboard, have a good impact on the recovery period as well, as they can do a lot to support a body which is not in its ideal state and help it repair itself in order to get there.
  3. Support diet with self-care: If a person who is recovering finds there to be body pain, he or she should make the time to apply a hot water bottle to the areas where the pain is present and check with his or her doctor if the pain does not go away after a few days.
  4. Get enough rest: However, apart from a diet, what is just as important is to get enough rest. It takes time for the repair to take place and if a person does not give his or her body the time which it really needs in order to be up and running, he or she is going to find a dire lack of improvement. Rest has two facets when it comes to recovering from a fever. One of these happens to be the literal meaning, as in the sleep which a person gets. Another is not engaging in activity which is strenuous in nature. Both are important.

As long as a person eats right and acts right, he or she will be fine in no time!
 

3143 people found this helpful

Gilti Ka Upchaar - गिल्टी का उपचार

Dr. Sanjeev Kumar Singh 89% (52 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Gilti Ka Upchaar - गिल्टी का उपचार

गिल्टी एक तरह का ट्यूमर यानी कि गाँठ है. इसकी वजह से कई लोगों को परेशानी होती है. गिल्टी, हमारे शरीर के विभिन्न हिस्सों जैसे कि हमारे गर्दन, जांघ और शरीर के अन्य हिस्सों में उत्पन्न होता है. कई लोग इसे इग्नोर करते हैं लेकिन हम आपको बता दें कि ये एक बेहद गंभीर बिमारी है. यदि शुरुवाती दिनों में इसका इलाज नहीं किया गया तो इससे बिमारी कई घातक रोगों जैसे कि कैंसर या टीबी आदि के होने की संभावना प्रबल होती है. दरअसल शुरू में छोटे रूप में होने के कारण लोग इसे उपेक्षित करते हैं. लेकिन जब इसका रूप धीरे-धीरे बड़ा होने लगता है तो ये काफी दर्द देने लगता है जिससे व्यक्ति की परेशानी बढ़ जाती है. आइए प्रस्तुत लेख के माध्यम से गिल्टी के उपचार के बारे में आवश्यक जानकारी प्राप्त करें.
क्या हैं गिल्टी के लक्षण
* गिल्टी की परेशानी झेलने वाले लोगों के गले में दर्द की समस्या देखी जाती है
* गिल्टी पीड़ितों को हल्की बुखार की भी परेशानी हो सकती है.
* जब आपको गिल्टी होती है तो आपके गले में खसखसाहट भी रहती है.
* गिल्टी के दौरान जब भी आप कुछ खाकर निगलते हैं तो आपको दर्द का अनुभव होता है.
* कई बार इसके पीड़ितों को बोलने में भी कठिनाई का अनुभव होता है.
गिल्टी का उपचार
मेथी

गिल्टी को दूर करने में मेथी सकारात्मक भूमिका निभाता है. इसके लिए आपको मेथी के दाने या इसके पत्ते को पीसकर लेप बनाना होगा और इसका लेप बन जाने के बाद इसे गिल्टी वाले क्षेत्र में लगाकर कपड़े से बाँध दें. इसी प्रक्रिया को रोजाना गिल्टी के खत्म हो जाने तक दोहराएं.
नीम
नीम की औषधीय उपयोगिता या अन्य उपयोगिता किसी से छुपी नहीं है. जाहिर है कई रोगों में नीम के पत्ते या नीम के तेल के सीधे-सीधे इस्तेमाल से आप राहत पा सकते हैं. गिल्टी के मरीजों को नीम के पात्तों को उबालकर इसका रस पीना चाहिए. इसके अलावा इसके पत्तों को पीसकर इसमें थोड़ा गुड़ मिलाकर गिल्टी वाले स्थान पर लेप करने से भी राहत मिलती है. आप नीम के तेल से मालिश भी कर सकते हैं.
आकड़े का दूध
आकड़े के पौधे का इस्तेमाल भी आप गिल्टी के उपचार में कर सकते हैं. इसके दूध में मिट्टी मिलाकर इसे गिल्टी प्रभावित क्षेत्रों में लागएं. ऐसा कुछ दिनों तक करते रहने से गिल्टी के मरीजों को आराम मिलता है.
गौमूत्र
गौमूत्र के कई फायदों में से एक ये भी है कि आप इसकी सहायता से गिल्टी के प्रभाव को कम कर सकते हैं. यदि आप गौमूत्र में देवदारु को पीसकर और इसे हल्का गर्म करके इसका लेप गिल्टी पर लगाएं तो आपको इस दौरान होने वाले दर्द से रात मिलेगा.
चुना
यदि आप गिल्टी से जल्द से जल्द निजात चाहते हैं तो आपको इसके लिए चुना की सहायता लेनी होगी. यदि आप रोजाना रात को सोने से पहले चुना और घी का लेप बनाकर इसे गिल्टी पर लगाएं तो आपको तुरंत लाभ मिलता है.
कचनार की छाल और गोरखमुंडी
कचनार एक वृक्ष है जबकि गोरखमुंडी एक घास है. गिल्टी के उपचार में इसका इस्तेमाल करने के लिए कचनार के सुखी छाल को हल्का पीसकर इसे एक ग्लास पानी में डालकर 2-3 मिनट तक अच्छी तरह गर्म करें. इसके बाद इसमें एक चम्मच पीसी हुई गोरखमुंडी डालकर पुनः 2-3 मिनट तक उबालें. इसके ठंडा हो जाने पर नियमित रूप से दिन में दो बार लें. इससे गिल्टी में राहत मिलेगी.
बरगद का दूध
बरगद के वृक्ष का हमारे यहाँ धार्मिक महत्त्व भी है. बरगद के दूध का इस्तेमाल आप गिल्टी के उपचार के लिए कर सकते हैं. दरअसल बरगद के पेड़ का दूध जब आप गिल्टी पर लगाते हैं तो आपको इससे काफी राहत मिलती है.
गरम कपड़े की सेकाई
गिल्टी के सर्वाधिक आसान घरेलु उपायों में से एक ये है कि आप एक मोटा कपड़ा लेकर उसे हल्का गर्म करके गिल्टी प्रभावित क्षेत्रों की कम से कम 5 मिनट तक कुछ दिन तक सिकाई करें. इससे भी गिल्टी से छुटकारा मिलने की संभावना रहती है.
नेनुआ का पत्ता
नेनुआ जिसे कई जगह तोरइ भी कहते हैं, का इस्तेमाल सब्जी के लिए किया जाता है लेकिन इसके पत्ते को आप गिल्टी के उपचार के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं. नेनुआ के पत्ते के रस में गुड़ मिलाकर इसका लेप बनाएं और इसे गिल्टी पर लगाएं.
अरंडी का तेल
अरंडी का तेल कई रोगों में औषधि के रूप में इस्तेमाल होता है. गिल्टी में बभी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके लिए आपको सुबह-शाम नियमति रूप से गिल्टी वाले स्थान पर अरंडी के तेल से मालिश करनी होगी.
प्याज
प्याज का उपयोग सब्जियों सलादों आदि में किया जाता रहा है. लेकिन क्या आपको पता है कि इसकी सहायता से गिल्टी को बभी दूर किया जा सकता है. इसके लिए प्याज को मिक्सी में पीसकर इसे हल्का भूरा होने तक भुनें. इसके बाद इसे गिल्टी प्रभावित क्षेत्रों में लगाकर इसे कपड़े से बाँध लें.

1 person found this helpful

Thalassemia In Children - 4 Ways It Can Be Treated!

Dr. S. Gupta 89% (40 ratings)
MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, BCH, DNB - Training, PDCC - Pediatric Hepatology & Gastroenterology
Pediatrician, Gurgaon
Thalassemia In Children - 4 Ways It Can Be Treated!

Thalassemia is a type of a disease, resulting in the abnormal production of hemoglobin in the blood. Hemoglobin stimulates oxygen circulation all over the body. Therefore, a dip in the hemoglobin count can lead to anemia, a disease inducing weakness as well as fatigue. Acute anemia can take a toll on the organs and ultimately cause death.

Severe thalassemia in children yields symptoms, such as dark urine, abdominal swelling, slow growth, jaundice, a pale appearance and deformed skull bones. Diarrhea, frequent fevers and eating disorders are also common.

Treatment:

  1. Blood transfusions: Regular blood transfusion is the only treatment needed for beta thalassemia aiming to keep sufficient Hb level to avoid long-term complications, though bone marrow transplant is radical cure for the disease.
  2. Iron chelation therapy: The hemoglobin in the red blood cells is rich in iron-protein that gets deposited in the blood with regular blood transfusion. This condition is known as iron overload as it damages heart, liver and various parts of the body. Iron chelation therapy is used to prevent this damage as it helps to remove the excess iron from the body.  Deferoxamine and Deferasirox are two such medicines used for this therapy.
  3. Folic acid supplements: Folic acid being a B vitamin produces healthy red blood cells and is therefore recommended as a substitute for the above procedures.
  4. Transplant of blood and marrow stem cell: A blood and a marrow (a substance within the cavities of bones where blood cells are produced) transplant replaces the faulty stem cells with healthy ones contributed by a donor.

In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

3954 people found this helpful

Treatment Of Viral Fever - वायरल बुखार का उपचार

Dr. Sanjeev Kumar Singh 89% (52 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Treatment Of Viral Fever - वायरल बुखार का उपचार

वायरल बुखार सामान्य तौर पर होने वाले बुखार जैसा ही है. लेकिन ये एक मौसमी संक्रमण वाला बुखार होता है. कई लोग इसके उपचार के लिए कुछ एंटीबायोटिक दवाओं या फिर कुछ ओटीसी (ओवर-द-काउंटर) दवाओं का सहारा लेते हैं. हलांकि इसके लिए प्राकृतिक या घरेलु तरीके भी उपलब्ध हैं जिनसे आपको वायरल बुखार में काफी राहत मिलेगी. वायरल का फीवर हमारे इम्यून सिस्टम को कमजोर कर देता है, जिसकी वजह से शरीर में इंफेक्शन बहुत तेजी से बढ़ता है. वायरल के संक्रमण बहुत तेजी से एक इंसान से दूसरे इंसान तक पहुंच जाता है.आइए वायरल बुखार के घरेलु उपचार के बारे में जानें.
 

वायरल फीवर के मुख्य लक्षण
वायरल होने से वाले शरीर में कुछ इस तरह के लक्षण दिखते हैं जैसे, गले में दर्द, खांसी, सिर दर्द थकान, जोड़ों में दर्द के साथ ही उल्टी और दस्त होना, आंखों का लाल होना और माथे का बहुत तेज गर्म होना आदि. बड़ों के साथ यह वायरल फीवर बच्चों में भी तेजी से फैलता है.
 

वायरल बुखार के घरेलू उपचार

  • हल्दी और सौंठ का पाउडर: अदरक में एंटी आक्सिडेंट गुण बुखार को ठीक करते हैं. एक चम्मच काली मिर्च का चूर्ण, एक छोटी चम्मच हल्दी का चूर्ण औरएक चम्मच सौंठ यानी अदरक के पाउडर को एक कप पानी और हल्की सी चीनी डालकर गर्म कर लें. जब यह पानी उबलने के बाद आधा रह जाए तो इसे ठंडा करके पिएं. इससे वायरल फीवर से आराम मिलता है.
  • तुलसी का इस्तेमाल: तुलसी में एंटीबायोटिक गुण होते हैं जिससे शरीर के अंदर के वायरस खत्म होते हैं. एक चम्मच लौंग के चूर्ण और दस से पंद्रह तुलसी के ताजे पत्तों को एक लीटर पानी में डालकर इतना उबालें जब तक यह सूखकर आधा न रह जाए. इसके बाद इसे छानें और ठंडा करके हर एक घंटे में पिएं. आपको वायरल से जल्द ही आराम मिलेगा.
  • धनिया की चाय: धनिया सेहत का धनी होता है इसलिए यह वायरल बुखार जैसे कई रोगों को खत्म करता है.वायरल के बुखार को खत्म करने के लिए धनिया चाय बहुत ही असरदार औषधि का काम करती है.
  • मेथी का पानी: आपके किचन में मेथी तो होती ही है.मेथी के दानों को एक कप में भरकर इसे रात भर के लिए भिगों लें और सुबह के समय इसे छानकर हर एक घंटे में पिएं. जल्द ही आराम मिलेगा.
  • धनिया चाय: धनिया के बीज में पॉयथोन्यूटियंटस होते हैं, जो कि शरीर को विटामिन देते हैं और अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी बढ़ाते हैं. धनिया में मौजूद एंटीबायोटिक यौगिक वायरल संक्रमण से लडने की शक्ति देते हैं. कैसे तैयार करें- एक गिलास पानी में एक बड़ा चम्म्च धनिया के बीच डालकर उबाल लें. इसके बाद इसमें थोड़ा दूध और चीनी मिलाएं. धनिया की चाय तैयार है, इसे पीने से वायरल बुखार में बहुत आराम मिलता है.
  • सोआ/डिल बीज का काढ़ा: तिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने और शरीर को आराम देने के अलावा, सोआ/डिल बीज शरीर के तापमान को कम करने में भी उपयोगी होते हैं. इसका कारण इनमें फ्लेवोनोइडस ओसमोंड पिंस उपस्थिति होते हैं. डिल बीज का काढ़ा वायरल बुखार में राहत देने के साथ ही शक्तिशाली रोगाणुरोधी एजेंट का कार्य करता है. कैसे तैयार करें- एक कप उबलते पानी में डिल बीज डालें और उबलनें दें इसके बाद इसमें एक चुटकी दालचीनी डालें. गर्म चाय की तरह पिएं.
  • तुलसी के पत्ते का काढ़ा: वायरल बुखार के लक्षण होने पर प्राकृतिक उपचार के लिए सबसे प्रभावी और व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली औषधि है तुलसी के पत्ते. बैक्टीरियल विरोधी, कीटाणुनाशक, जैविक विरोधी और कवकनाशी गुण तुलसी को वायरल बुखार के लिए सबसे उत्तम बनाते हैं. आधे से एक चम्मच लौंग पाउडर को करीब 20 ताजा और साफ तुलसी के पत्तों के साथ एक लीटर पानी में डालकर उबाल लें. पानी को तब तक उबालें जब तक कि पानी घट कर आधा न रह जाए. इस काढ़े का हर दो घंटे में सेवन करें.
  • नींबू और शहद: नींबू का रस और शहद भी वायरल फीवर के असर को कम करते हैं. आप शहद और नींबू का रस का सेवन भी कर सकते हैं.
2 people found this helpful

Home Remedies Of Fever - बुखार के घरेलू उपाय

Dr. Sanjeev Kumar Singh 89% (52 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Home Remedies Of Fever - बुखार के घरेलू उपाय

बुखार एक ऐसी आम समस्या है जिसमें व्यक्ति की ताकत क्षीण हो जाती है और वो कमजोरी का अनुभव करने लगता है. बुखार पीड़ित अक्सर मेडिकल या अन्य जगहों से दवाएं लेकर खाना शुरू कर देते हैं. जबकि कई ऐसे कारगर घरेलु उपचार उपलब्ध हैं जिनकी सहायता से आप बुखार का इलाज कर सकते हैं. आइए इस लेख के माध्यम से हम कुछ ऐसे ही घरेलु उपचारों के बारे में जानें.
अदरक
अदरक शरीर से अतिरिक्त गर्मी निकालने में मदद करता है जो बुखार कम करने में सहायक होता है. इसके अलावा, अदरक एक प्राकृतिक एंटीवायरल और एंटीबैक्टीरियल एजेंट है और प्रतिरक्षा प्रणाली में किसी भी प्रकार का संक्रमण होने से रोकता है.
हल्दी वाला दूध
हल्दी बुखार को कम करने के लिए एक उत्कृष्ट घरेलू उपाय है. हल्दी में करक्यूमिन नामक तत्व पाया जाता है. जिसमें एंटीवाइरल, एंटिफंगल, एंटीबैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं. यह इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाता है और शरीर की संक्रमण से लड़ने में मदद करता है. यह बुखार की समयसीमा को और इससे होने वाली समस्याओं को कम करने में मदद करता है.
ठंडे पानी की पट्टियां
एक साफ़ कपड़े को नल के ठंडे पानी से भिगो कर निचोड़ लें और फिर बगल, पैरों, हाथों और जीभ का तापमान कम करने के लिए इससे स्पंज करें. इसके अलावा, आप ठंडे पानी से भीगे कपड़े की पट्टियां अपने माथे और गर्दन पर भी रख सकते हैं. कपड़े के टुकड़े को कुछ मिनट बाद नियमित रूप से बदलते रहना चाहिए. यह उपाय अधिक तेज़ बुखार को नियंत्रित करने में फायदेमंद होता है. आप शरीर को आराम देने के लिए गुनगुने पानी से स्नान भी कर सकते हैं. और जितना संभव हो उतना आराम करें क्योंकि यह शरीर की बीमारी से लड़ने में मदद करता है. नोट: बहुत ठंडे पानी का उपयोग न करें क्योंकि इससे शरीर का आंतरिक तापमान बढ़ सकता है
तुलसी की पत्तियां
तुलसी बुखार को कम करने के लिए एक प्रभावी जड़ी बूटी है. यह बाजार में उपलब्ध कई तरह की एंटीबायोटिक दवाओं की तरह ही काम करती है. इसके गुण बुखार को तेज़ी से से कम करने में असरदार हैं.
सेब का सिरका
सेब का सिरका बुखार के लिए सस्ता और अत्यधिक प्रभावी उपाय है. यह बुखार को तेज़ी से कम करने में मदद करता है क्योंकि इसमें मौजूद अम्ल त्वचा से गर्मी निकालने का काम करते हैं. इसके अलावा, यह खनिज से भरपूर होता है और बुखार के कारण शरीर में होने वाली खनिज की कमी को पूरा भी करता है.
पुदीने की पत्तियां
पुदीने की पत्तियों के गुण शरीर को आंतरिक शीतलता प्रदान करते हैं. और यह शरीर के तापमान को कम किया जाएगा. यह शरीर की अतिरिक्त गर्मी कम करने में भी मदद करता है.
चन्दन
चंदन की ठंडी तासीर बुखार और सूजन को कम करने में मदद करती है. वास्तव में, चंदन शरीर और मन को शांति और शीतलता प्रदान करने में मदद करता है. यह बुखार में होने वाले सरदर्द में भी राहत पहुंचाता है. आधा चम्मच चन्दन पाउडर में थोड़ा पानी मिलाकर एक पेस्ट बना लें. इस पेस्ट को माथे पर लगायें. जब तक आपको राहत न मिले इस प्रक्रिया को दिन में कई बार दोहरायें. नोट: वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले चंदन का उपयोग करें.
किशमिश
किशमिश, संक्रमण से लड़ने और बुखार को कम करने में शरीर की मदद करता है. ये फिनोलिक फाइटोन्यूट्रिएंट्स से मिलकर बनी होती हैं जिनमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं. इसके साथ ही किशमिश बुखार में आपके शरीर के लिए टॉनिक की तरह कार्य करती है.
अंडे का सफ़ेद भाग
बुखार के दौरान शरीर का तापमान कम करने के लिए आप अंडे की सफेदी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. अंडे की सफेदी ठंडे जेल की तरह काम करती है जो शरीर की गर्मी को अवशोषित करता है. दो या तीन अंडे फोड़कर उसकी जर्दी निकाल दें. अंडे की सफेदी को फेंट लें. अब इसे एक पतले कागज़ या रुमाल में लीजिये. इस रुमाल को पैरों के तलवों पर लगायें. इस कपड़े को जगह पर रखने के लिए मोजे पहनें. जब कपड़ा गर्म हो जाये तो उसे बदल दें. जब तक बुखार ठीक न हो जाये इस प्रक्रिया को दोहराते रहें.
लहसुन
लहसुन की गर्म तासीर तेज़ बुखार को कम करती है. परिणामस्वरुप पसीना आता है जिससे शरीर से हानिकारक विषाक्त पदार्थ निकल जाते हैं. इसके अलावा, लहसुन में एंटिफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो शरीर की रोगों से लड़ने में मदद करता है.

Icon

Book appointment with top doctors for Fever treatment

View fees, clinic timings and reviews