Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Cold Cough Health Feed

गले में कफ जमना - Gale Mein Kaf Jamna!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
गले में कफ जमना - Gale Mein Kaf Jamna!

अगर आपको सांस लेने में तकलीफ हो रही है या गले में कुछ जमा हुआ अनुभव होता है तो यह गले में कफ जमा होने का है। गले में जमा हुए कफ को बलगम के नाम से भी जानते है. गले में कफ जमा होने के प्रमुख लक्षणों में नाक बहना और बुखार भी शामिल है। यह कोई गंभीर समस्या नहीं है लेकिन यदि यह समस्या लम्बे समय तक बना रहता है तो फिर इससे सांस से जुडी कई समस्याएं हो सकती है. जब आपके नाक या गले के पिछले हिस्से में कफ जमना शुरू हो जाता है तो यह आपको म्यूकस मेम्ब्रेन श्वसन प्रणाली की रक्षा करने और उसको सहारा देने के लिए कफ बनाती है. ये मेंब्रेन नाक, गला, मुंह, फेफड़े, साइनस और नाक की ग्रंथि में होता है. जो एक दिन में कम से कम 1 से 2 लीटर बलगम का उत्पादन करती हैं. बलगम या कफ की अत्याधिक मात्रा होना, परेशान करने वाली समस्या हो सकती है. इसके कारण घंटो बैचेनी रहना, बार-बार गला साफ करते रहना और खांसी जैसी समस्या हो सकती है. ज्यादातर लोगों में यह एक अस्थायी समस्या होती है. हालांकि, कुछ लोगों के लिए यह एक स्थिर समस्या बन जाती है. जिसके बेहतर उपचार पर थोड़े समय के लिए राहत मिल पाती है. आइए इस लेख के माध्यम से हम गले में कफ के जमने के बारे में जानें.

गले में कफ के जमने का क्या लक्षण है?
बलगम या कफ से भी सांसो में दुर्गंध पैदा होती है, क्योंकि कफ में मौजूद प्रोटीन के कारण बैक्टीरिया पैदा होती है. जब शरीर जरूरत से ज्यादा कफ उत्पादन करती है, तब अत्याधिक कफ आपके नाक के वायुमार्गों में अवरोध पैदा करता है, जिससे सांस लेने में कठिनाई महसूस होने लगती है. कफ बनने के कारण नाक रूकने की समस्या काफी असहज और यहां तक कि दर्दनाक स्थिति पैदा कर सकती है. अत्याधिक कफ आपके गले व फेफड़ों में जमा हो सकता है. सामान्य कफ साफ या सफेद रंग का होता है और कम गाढ़ा होता है. जो कफ हल्के पीले या हरे रंग का दिखाई पड़ता है या जो कफ असाधारण रूप से अधिक गाढ़ा होता है, वह बैक्टीरियल संक्रमण का संकेत देता है.

गले में कफ जमने के कारण-
जब कोई सर्दी-जुखाम या फ्लू, वायरल इंफेक्शन, साइनस जैसी बिमारियों से ग्रसित होता है तो व्यक्ति का बलगम कोल्ड या इंफेक्शन से बीमार होता है, तो उस व्यक्ति का कफ गाढ़ा हो जाता है और उसके बलगम के रंग में भी परिवर्तन आता है. बलगम के चिपचिपा होने के कारण वायरस, धूल या एलर्जी पैदा करने वाले पदार्थ बलगम से चिपक जाते है. बलगम का गाढ़ापन व्यक्ति के स्वास्थ्य पर निर्भर करता है. जब व्यक्ति बीमार पड़ता है तो आपका शरीर कई सारे कणों के संपर्क में आता है जो कफ के साथ चिपकता है और कफ गाढ़ा हो जाता है. वैसे तो कफ आपकी श्वसन प्रणाली का एक स्वस्थ हिस्सा होता है, लेकिन अगर यह आपको परेशान कर रहा है, तो आप इसको पतला करने के या इसे निकालने के लिए कुछ तरीकों को अपना सकते हैं.

खाद्य पदार्थ: – कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे भी होते है जो गले में कफ उत्पादन के लिए जिम्मेदार होता हैं. गले में कफ जमने के लिए मुख्य रूप से डायरी पदार्थ को जिम्मेदार माना जाता हैं. इन खाद्य पदार्थों में कैसिइन नाम के प्रोटीन अणु होते हैं, जो बलगम का स्त्राव बढ़ाते हैं और पाचन क्रिया के लिए मुश्किलें पैदा करते हैं. दूध उत्पादों के साथ-साथ कैफीन, चीनी, नमक, काली चाय आदि ये सभी पदार्थ भी अतिरिक्त बलगम बनाते हैं. इसके साथ ही साथ जो लोग डेयरी उत्पादों को छोड़, सोया उत्पादों को अपना लेते हैं, इस स्थिति में उनके शरीर में अस्वस्थ बलगम बनने के जोखिम बढ़ जाते हैं.

गर्भावस्था: – यह देखा गया है की कई महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान छींकना, नाक रूकना और खांसी आदि लक्षण अनुभव होते हैं. वैसे तो प्रेगनेंसी में इस तरह के लक्षणों को सामान्य माना गया है. बलगम उत्पादन और गाढ़ापन के लिए एस्ट्रोजन हार्मोन को भी एक कारण माना जाता है.

पोस्ट नेजल ड्रिप: – जब गले और नाक में अधिक कफ जमा हो जाता है तो यह खांसी पैदा करता है. रात के दौरान गले में कफ का उत्पादन होता है और सुबह तक यह गले में जम जाता है.

मौसमी एलर्जी: – मौसमी एलर्जी से बहुत से लोग पीड़ित होते हैं. मौसमी एलर्जी के लक्षण गले में बलगम जमना, छींकना और खांसना आदि समस्या शामिल हैं. ऐसे कई एलर्जी पैदा करने वाले पदार्थ हैं, जो ये लक्षण पैदा करते हैं, इसमें सर्दियों के अंत से गर्मियों तक की अवधि शामिल होती है. पेड़ और फूलों की पराग मौसमी एलर्जी के प्रमुख कारकों में से एक होते हैं और इसके लक्षण तब तक रहते हैं जब तक एलर्जी करने वाले पदार्थ नष्ट नहीं हो जाते.

1 person found this helpful

Respiratory Complications During Pregnancy - Tips To Avoid Them!

Gynaecologist, Faridabad
Respiratory Complications During Pregnancy - Tips To Avoid Them!

Pregnancy brings with it a slew of changes in the physiological parameters of women. Women are susceptible to a number of complications, including respiratory complications during this stage. An abnormal chest X-ray or a complaint regarding some kind of respiratory trouble guides doctors to explore the possibility of pregnancy leading to respiratory complications.

Respiratory Complications During Pregnancy

Let us explore the likely respiratory complications during pregnancy. 

Though studies do not indicate any increase in risk of pneumococcal infection during pregnancy, it has been observed that complications arising out of pneumonia are increased during this time. Anemic or asthmatic women are more susceptible to this infection, and the risk of complications is also more common in such women. It entails risk for both the mother and the child. While the child can be born preterm or low in weight, the mother can even suffer respiratory failure.

It is a kind of fungal infection that affects the respiratory system, especially in the last trimester of pregnancy. It is a respiratory tract infection that is self- limiting in nature. However, owing to reduced immunity during pregnancy, this fungal infection may turn out to be severe. It may cause a variety of complications, including pneumonia, fever, chest pain, difficulty in breathing, etc.

However, timely diagnosis and administration of antifungal therapy has reduced maternal mortality to a large extent.

There is a risk of formation of blood clots during pregnancy due to hypercoagulability of blood during this stage. This leads to an enhanced risk of embolic pneumonia, where blood clots may block an artery in the lungs. It is an emergency condition where patients usually have difficulty breathing, chest pain, cough, etc.

Pregnancy is not a risk factor for asthma, but asthma during pregnancy may exacerbate the risk of complications such as premature birth, restricted growth, preeclampsia, etc.

Tips to Avoid

These and other respiratory complications during pregnancy, if any, increase the risk of complications for the mother as well as the fetus. However, there are ways that pregnant women can adopt to get over these problems and give birth to a healthy baby.

  1. Avoid Crowded Place in Pregnancy: Pregnancy enhances the risk of Pneumonia, and Pneumonia is mostly a community acquired. Pregnant women can try to avoid Pneumonia by avoiding going to crowded places.
  2. Eat Immune Boosting Food: Coccidioidomycosis is a fungal infection that is mostly diagnosed during the third trimester. However, it is usually a self-limiting infection. Along with avoiding going to crowded places, she also needs to take immune-boosting food such as citrus fruits, green vegetables, etc.
  3. Walk Regularly: Pulmonary Embolism is the result of being immobile for a long time. This happens during pregnancy and this is what makes pregnant women susceptible to the problem. One can tide over the problem by taking regular strolls at home or outside and doing regular chores.
  4. Consult with Gynecologist in Case of Asthma: If she is suffering from asthma, she must discuss it with the gynecologist. Most asthma medications are safe to be taken during pregnancy.
  5. Take Care of Infant Breath: Pregnant women should regularly visit gynecologists for checkups. They should also take a balanced diet and stay happy for the healthy life of the child.
1 person found this helpful

Whom to contact in case of low immunity in our body as my wife is having low immunity due to that she gets affected to cold very frequently, can you please suggest as to how to get her vaccinated and which type of doctor to consult, gynac or general physician.

Diploma In Paediatric
Pediatrician, Patna
Whom to contact in case of low immunity in our body as my wife is having low immunity due to that she gets affected t...
How do you come to know her immunity is low? By the way you should consult a General Physician. Give her Green leafy vegetable, Fresh fruit salad, Milk and milk product, pulses dal etc. Regular exercise 30 min to 1 hr.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I'm suffering from cough and cold for past 1 week and I completely my stamina what is the remedies.

MBBS MD DNBE Family Medicine
General Physician, Thane
You may be having viral infection most. Likely need lot of hydration by means of plenty of water fruits will help also may take tb combinatins like solvin cold thrice will. Be helpfull if not allergic to paracetamol.
Submit FeedbackFeedback

I am suffering from cold from last 2 days, I am feeling that something is stuck in my throat like cough and when I try and take warn water but eventually effect but after some its feel same, please suggest me what to do?

MBBS
General Physician, Kolhapur
I am suffering from cold from last 2 days, I am feeling that something is stuck in my throat like cough and when I tr...
It is Upper respiratory tract infection. Take some antihistaminics with Paracetamol it would resolve over 3 days if throat problem bothers you more, try betadine gargles.
Submit FeedbackFeedback

My immune system is too weak by which I always suffer with different allergies and cold and coughs. My age is 67 years and suffering with colds and cough, Asthma weakness is too much. Can you suggest any Tablet, Capsules to improve my immune system.

MD (Physician), MD (Pulmonology)
Pulmonologist, Bareilly
My immune system is too weak by which I always suffer with different allergies and cold and coughs. My age is 67 year...
Dear Lybrate user, Immunity is best boosted by natural products i.e. Green Vegetables, Milk products, Fruits, Eggs, Meats & Fish. Use these products as per your liking/taste. For your seasonal flare up you can use Influenza quadrivalent vaccine to prevent seasonal Infections (it is now recommended for children and adults for prevention of seasonal and Swine Flu) Wishing you Good Health.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Homeopathy For Paediatric Illness!

MD - Homeopathy, BHMS
Homeopath, Chennai
Homeopathy For Paediatric Illness!

One of the most precious gifts of God is parenting. Parents’ lives are always filled with a number of responsibilities, with the health of their kids being not only one of them but also one of the most primary responsibilities, as each and every parent wish to see their children stay fit and healthy.

Benefits of Homeopathy Treatment for Illness in Children

Homeopathy works really well to treat a number of diseases. Still, it has a special connection with the problems which children tend to face. Homeopathy is the best possible treatment for illnesses affecting children. The unique benefits of homeopathy in treating some of the most common childhood problems are:

  1. Safe, Gentle and Free From Side Effects: Homeopathy offers the safest mode of treatment and hence it is ideal for kids. These are safe to use in very young babies as well, due to the non-existence of any kind of side-effects.
  2. Helps to Cure Permanently: Before prescribing homeopathy medicines for children, a homeopath records all the individual symptoms of the disease in a detailed manner. After collecting the symptoms, most similar remedy is prescribed. The indicated remedy acts on individual symptoms and the disease gets cured from the root. Thus it is ideal for the kids.
  3. Increases Immunity and Resistance Power of Body Naturally: As per the principle of homeopathy, when anyone suffers from any kind of disease, resistance power gets affected. So, when a homeopathic medicine is prescribed, it acts as vital force on the body and hence makes it stronger. Hence the stronger vital force helps to eliminate the force of the disease, thus increasing the resistance power. Kids, who have a delicate immune system and thus they are prone to getting ill, so for them Homeopathy is an excellent method to help them stay healthy.
  4. It Can Be Used for Both Acute and Chronic Conditions: Childhood happens to be the most sensitive as well as the fundamental phase of life. So, in this situation, homeopathy works like a magic in both kinds of diseases, acute and chronic. Acute illnesses include cough and cold, fever and chronic ones refer to asthma, cerebral palsy etc.

Dealing With Common Problems Faced In Winter!

BHMS
Homeopath, Delhi

COMMON PROBLEM IN WINTERS (COUGH

BRONCHITIS [BRONCHITIS]


Inflammation of the large air passages which carry air from the windpipe to lungs is known as bronchitis.

CAUSES:

Smoking is the main cause.
Allergy like – such as air pollutant.
Infection – viral or bacterial.
• Occupation – coal miners, grain handlers, metal molders and people working with dust.
• Pre-existing disease as pneumonia, emphysema etc.

SIGN AND SYMPTOMS:

• Cold with nasal discharge.
• Cough with yellow-greenish sputum.
• Breathlessness.
• Chest pains.
Fever with headaches and loss of appetite.
• These entire symptoms can increase in severe condition.

DIETARY MANAGEMENT:

• Avoid dairy products like milk, butter, cheese because these will increase mucus secretion in the respiratory system.
• Avoid hot spicy and highly seasoned food.
• Avoid cold food, cold drinks, ice, ice-creams and aerated drinks.
• Drink lukewarm water.
• Boil a mixture of Bishops weed (Ajwain), tea leaves and water and inhale the steam, this acts as decongestant. Do this at least 2-3 times a day.
• Gargle with warm water, a pinch of salt and turmeric to soothe your throat.
• Have only fruits for 4-5 days later can have raw salads, vegetables and sweet fruits for next 5-6 days.
• Have hot vegetable soups.
• Have bland and boiled food.
• Include turmeric, garlic, ginger and onions in your diet but avoid if you are on homeopathic medication.
• Consume lots of vitamin C: foods of animal origin are poor in vitamin C.
– Fresh citrus fruits, green vegetables.
• Increase consumption of vitamin B:
– Milk and milk products, eggs, shrimps, crabs and lobsters.
– Lean meat especially pork, fish, dairy products, poultry, egg yolk, Liver, kidney, pancreas, yeast (Brewer's yeast).
– Carrots, bananas, avocado, raspberries, artichoke, cauliflower, soy flour, barley, cereals pasta, whole grains, barn-like unpolished rice and wheat germ, dried beans, peas and soybeans.
– Green leafy vegetables, legumes, nuts, whole grain.
• Consume lots of vitamin A; it maintains the integrity of the respiratory mucosa: Liver oils of fish like cod, shark, and halibut are richest source of vitamin A.
– Animal sources: egg, milk and milk products, meat, fish, kidney and liver.
– Yellow orange-colored fruits and vegetables, dark green leafy vegetables.
• Have ginger powder or fresh ginger juice in honey before retiring to bed.
• Every morning, drink boiled mixture of – ½ cup water, little ginger, 2-3 leaves of sweet basil (tulsi) and mint leaves, or you can eat the raw leaves, this will boost up your immunity.

NOTE:

• Avoid smoking.
• Take rest at home and keep your self warm.
• Change occupation if possible in case of miners, etc. or take precautions to prevent the particles being inhaled.
• Practice yoga will help by breathing exercise.
• Treat the cause.

 

 

1 person found this helpful

कफ का आयुर्वेदिक इलाज - Kaf Ka Ayurvedic Ilaj!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
कफ का आयुर्वेदिक इलाज - Kaf Ka Ayurvedic Ilaj!

कफ एक ऐसी समस्या है जिससे शायद ही कोई बचा हो. ये कभी भी किसी को भी हो सकता है. हलांकि सामान्य तौर पर ये ज्यादा गंभीर बिमारी नहीं है लेकिन कई बार ये दुसरे रोगों का संकेत भी हो सकता है इसलिए सावधान रहना आवश्यक है. जहां तक बात है इसके होने के कारणों की तो ये निश्चित नहीं है. आइए इस लेख के माध्यम से हम आपको कफ के आयुर्वेदिक और इसके होने के कारणों को जानें.

क्या है कफ होने के कारण?
* यह रोग अधिकतर गलत-खान पान के कारण से होता है क्योंकि गलत तरीके से खाने पीने से शरीर में * दूषित द्रव जमा हो जाता है जिसके कारण यह रोग व्यक्ति को हो जाता है.
* यह रोग अत्यधिक ठंड लगने, ताजी हवा में सांस लेने से तथा अच्छी आदतों के कारण से हो जाता है.
* अधिक ठंडे पदार्थ का भोजन में अधिक उपयोग करने के कारण भी यह रोग हो सकता है.
* शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने के कारण भी सर्दी रोग हो सकता है.
* शरीर में अधिक कमजोरी आ जाने के कारण भी सर्दी हो जाता है.
* जब किसी संक्रमित व्यक्ति के द्वारा छींकने पर उसकी बून्दे किसी स्वस्थ व्यक्ति पर पड़ती है तो यह * रोग स्वस्थ व्यक्ति को भी हो जाता है. क्योंकि यह रोग खांसने तथा छींकने से अधिक फैलता है.
ये हैं कफ के लक्षण
* यह रोग किसी व्यक्ति को हो जाता है तो उसकी नाक से पानी बहने लगता है तथा उसके सिर में भारीपन
* महसूस होने लगता है. रोगी व्यक्ति को हलका बुखार तथा शरीर में दर्द व थकान भी होती है.
* जब इस रोग की शुरूआत होती है तो रोगी व्यक्ति को ठंड लगने लगती है तथा उसके गले में खराश होती है और नाक बहने लगती है.
* इस रोग के कारण रोगी व्यक्ति को गले में या सीने में खांसी उठती है, तथा कभी-कभी तो यह बारी-बारी से उठती है.
* इस रोग से पीड़ित रोगी को सांस लेने में परेशानी भी होने लगती है तथा रोगी व्यक्ति की आवाज भारी हो जाती है और अधिक बोलने-खाने पीने में परेशानी होने लगती है.

कफ दूर करने के घरेलू उपचार-
1. तुलसी पत्ता और अदरख

तुलसी और अदरख कफ के उपचार के लिए सार्वाधिक लोकप्रिय औषधियों में से एक हैं. इसका प्रमुख कारण है इससे तुरंत राहत मिलना. इसका लाभ लेने के लिए आपको एक कप गर्म पानी में तुलसी की पांच-सात पत्तियों को डालकर उसमें अदरक का एक टुकडालें और उसे कुछ देर तक उबालें. फिर जब पानी आधा रह जाए तो इस काढ़े को चाय की तरह धीरे-धीरे पिएं. ये कफ के लिए काफी कारगर है. इसके अलावा आप सर्दी के ठीक न होने तक सुबह-शाम अदरक के साथ शहद भी चूस सकते हैं.

2. गुनगुने पानी से गलाला करना
आपकी नाक बंद होने पर या गले में खराश होने पर आप गुनगुने पानी में चुटकी भर नमक डालकर गलाला करने का उपचार भी आजमा सकते हैं. ये एक सुलभ और प्रभावी तरीका है क्योंकि इससे विषाणुओं का प्रकोप कम होता है.

3. काली मिर्च और हिंग
कफ के दौरान आयुर्वेदिक में आप काली मिर्च और हिंग का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए आप 3 – 4 काली मिर्च को पीसकर उसमें थोड़ी पीसी हुई हिंग मिलाएं और फिर इसमें एक छोटी कली गुड़ की डालकर इसकी गोली बना लें. इन गोलियों को आप सुबह शाम नियमित रूप से लें.

4. आजवाईन
आजवाइन का इस्तेमाल भी आयुर्वेदिक के लिए किया जाता है. इसका इस्तेमाल करने के लिए आपको नियमित रूप से सुबह शाम आजवाइन को गुनगुने पानी के साथ लेना होगा. इससे कफ में काफी राहत मिलता है.

5. जीरा, इलायची, दालचीनी और काली मिर्च
कफ के दौरान जब आपकी नाक बंद हो जाती है तब आप जीरा, इलायची, दालचीनी और काली मिर्च की एक समान मात्रा लेकर किसी स्वच्छ सूती कपड़े में बाँध कर सूंघने से काफी राहत मिलती है. इसे बार-बार सूंघने से आपको छींक आएगी और आपकी बंद नाक खुल जाएगी.

6. दालचीनी और जायफल
दालचीनी और जायफल के संयुक्त इस्तेमाल से भी आप कफ को दूर कर सकते हैं. इसके लिए आपको दालचीनी और जायफल की एक समान मात्रा को पिस कर इसे दिन में दो बार खाना होगा. इससे आपको काफी राहत मिल सकती है.

7. लौंग और गेहूं की भूसी
यदि आप लौंग और गेहूं की भूसी का इस्तेमाल करना चाहें तो इसके लिए आपको 5 लौंग और 10-15 ग्राम गेहूं की में थोड़ा नमक मिलाकर पानी में उबालें. अब इस काढ़े का सेवन करें. इससे भी आपको लाभ मिलेगा.

3 people found this helpful
Icon

Book appointment with top doctors for Cold Cough treatment

View fees, clinic timings and reviews