Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Bell pepper Benefits And Its Side Effects Tips

9 Incredible Health Benefits Of Bell Pepper

M.Sc. in Dietetics and Food Service Management , Post Graduate Diploma In Computer Application, P.G.Diploma in Clinical Nutrition & Dietetics , B.Sc.Clinical Nutrition & Dietetics
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
9 Incredible Health Benefits Of Bell Pepper

9 incredible health benefits of bell pepper


I simply love bell peppers, particularly the brightly colored ones. Although they belong to the chili pepper family, bell peppers are mild and can jazz up a salad in an instant, lend a perky crunch to your pizza, and taste fantastic when roasted.

But the appeal of bell peppers goes way beyond their stunning good looks. Here’s a short list of the good things they can do for your health:

Bell peppers are low in calories! so, even if you eat one full cup of them, you get just about 45 calories. Bonus: that one cup will give you more than your daily quota of vitamin a and c!

They contain plenty of vitamin c, which powers up your immune system and keeps skin youthful. The highest amount of vitamin c in a bell pepper is concentrated in the red variety.

Red bell peppers contain several phytochemicals and carotenoids, particularly beta-carotene, which lavish you with antioxidant and anti-inflammatory benefits.

The capsaicin in bell peppers has multiple health benefits. Studies show that it reduces ‘bad’ cholesterol, controls diabetes, brings relief from pain and eases inflammation.

If cooked for a short period on low heat, bell peppers retain most of their sweet, almost fruity flavor and flavonoid content, which is a powerful nutrient.

The sulfur content in bell peppers makes them play a protective role in certain types of cancers.

The bell pepper is a good source of vitamin e, which is known to play a key role in keeping skin and hair looking youthful.

Bell peppers also contain vitamin b6, which is essential for the health of the nervous system and helps renew cells.
Certain enzymes in bell peppers, such as lutein, protect the eyes from cataracts and macular degeneration later in life.

6 people found this helpful

Bell s Palsy - Myths And Facts!

MD - Acupuncture, Diploma In Accupuncture, Advanced Diploma In Accupuncture
Acupuncturist, Delhi
Bell s Palsy - Myths And Facts!

Bell’s Palsy-
Bell’s Palsy is a disease, which causes a sudden, temporary weakness in the facial muscles. It is facial paralysis that makes patients unable to control his facial muscles on either side of his face. This disease can occur at any age.

There is no known reason for its cause. However, the disease is believed to be caused because of swelling and inflammation of the nerve that controls the muscles on the affected side. The risk factors include diabetes and upper respiratory tract infection. This is caused due to the malfunction of the cranial nerve.

Bell’s Palsy affects millions of people worldwide. For most of them, the disease is temporary. The symptoms usually start to improve within a few weeks from the first appearance. The complete recovery takes close to six months. There are a few people who continue to have the Bell’s Palsy for their complete life. The disease rarely affects someone twice. People who recurrently face the disease are often found to be a victim of diabetes or viral infections.

People, often, unknowingly interpret the disease as a stroke. It, however, is not a stroke. A stroke affecting the facial muscles would also affect the body muscles and cause weakness in other parts of the body too.

Bell’s Palsy Causes-
The causes that trigger Bell's Palsy in the human body are still unknown. Often researchers associate it with an exposure to a viral infection. The facial nerve passes through a narrow bony area in the skull and when it swells, it pushes against the hard surface of the skull when there is a viral infection. Apart from the facial muscles, the disease also affects tears, saliva, taste and a small bone positioned in the middle of the ear. At other times, researchers also associate it with physical damage to the facial nerve that causes a similar swelling of the face.

Mostly the disease occurs due to viral infections. The infections play an important role in the development of the disease. The viruses that are linked to the development of the disease are:

1. Cold sores and genital herpes, also known as herpes simplex

2. Chickenpox and shingles, which are also known as herpes zoster

3. Infectious mononucleosis, which is also known as herpes zoster

4. Cytomegalovirus infections

5. Respiratory illnesses or adenovirus

6. German measles or rubella virus

7. Mumps or the mumps virus

8. Flu or the influenza B virus

9. Hand-foot-and-mouth disease or the coxsackievirus

Some Risk Factors of Bell’s Palsy-
It has often been noticed that Bell ’s palsy follows a pattern when affecting people. These include:


1. The disease often occurs in females who are pregnant and are in the third trimester of the gestation period. It can also affect the mother after the first week of the birth.

2. People having an upper respiratory infection, such as the flu and the cold, are commonly affected.

3. People having diabetes are also frequently affected.

As mentioned before, the disease rarely affects the same person recurrently. If there is a family history of the disease recurring repeatedly, it suggests a genetic trait or predisposition of the disease.

Bell’s Palsy Symptoms-
There are a few symptoms which constantly recur when Bell’s Palsy strikes a person. These symptoms include:

1. Inability to move the eyelid or blinking.

2. The eye on the affected side of the face waters more or less than it occurs usually.

3. Drooling even in a conscious state.

4. A reduced sense of taste in the mouth.

5. Twitching of the facial muscles.

6. Pain or numbness behind the ear.

Of all the symptoms drooling and facial weakness, reach their peak in a day or two. These symptoms then begin to reduce, which helps people to recover within a couple of weeks. Complete recovery happens within 3 months. Some of the patients may show neurological symptoms, which are defined as mononeuritis. This is what causes the tingling, headache, memory and balance problems. Other symptoms, which are unexplained by the facial nerve dysfunction, are ipsilateral limb weakness, ipsilateral limb paresthesias, and clumsiness.

Bell’s Palsy Diagnosis-
Bell’s Palsy is a disease which requires the diagnosis of exclusion. As there is no specific test for the disease, the doctor observes the diseased person’s face and asks him to move various parts of his face, including the facial muscles, for instance, closing the eyes, lifting the brow, showing the teeth and various other movements. Observing these parts, the doctor eliminates various other possibilities and tries to determine a reasonable cause for the disease.

As the disease is treated on the basis of exclusion, there is no routine testing or imaging test that can help in the diagnosis process. However, the degree of the nerve damage can be assessed using the House-Brackmann score. There are many studies, which have revealed that 45% of patients are not referred to a specialist. This simply suggests that the disease requires a straightforward diagnosis and is easy to manage.

Differential Diagnosis of Bell’s Palsy-
As there is no particular diagnosis in the treatment of the disease, doctors make use of the differential diagnosis technique in the treatment of Bell’s Palsy. In differential diagnosis, doctors distinguish a particular disease from other diseases that present similar clinical features. The technique finds its usage while diagnosing a particular disease to eliminate imminently life-threatening conditions.

During the differential diagnosis of Bell’s Palsy, there are various diseases which are easily eliminated such as a stroke. However, it is very difficult to eliminate the involvement of the facial nerve with the herpes zoster virus. In order to understand the major difference between the two, one must look for the small blisters on the external ear.

The Lyme’s disease also produces facial palsy, which occurs at the same time as the classic erythema migraine rash. Other times, it occurs at a later stage. In cases where the Lyme disease is common to the Bell’s Palsy disease, it may lead to facial palsy.

Bell’s Palsy Treatment-
As mentioned before, a vast majority of people have shown improvement in health and recovered completely from the disease with and at certain times, without treatment. There is no designated treatment for the disease. Doctors may suggest various medications or physical therapies that help to speed up the recovery of the patient. The medicines may vary from doctor to doctor. However, these medications may differ in accordance with the doctor. Surgery is rarely a solution or option in case of Bell’s Palsy.

Having said that, there are various procedures for the treatment of Bell’s Palsy. They include usage of the following:

1. Steroids

2. Antivirals

3. Physiotherapy

4. Surgery

5. Alternative Medicinal Therapies

 

1. Steroids – Various steroids such as corticosteroids, improve recovery of the patient within 6 months. Due to this, early administration of corticosteroids such as prednisone is recommended. The early treatment is necessary as it provides the patient with around 14% higher chances of recovery.

2. Antivirals –Various tests and reviews have shown that antivirals are not as effective in treating the disease as steroids. In fact, they are only beneficial in cases that display some form of mild diseases. There is another review, which stated that antivirals combined with corticosteroids were advantageous for the duration of the treatment. There is a huge amount of speculation when it comes to using antivirals for the treatment. However, antivirals still result in a benefit, which is slightly less than 7%, and therefore this course of treatment is not ruled out.

3. Physiotherapy – Physiotherapy helps in maintaining the tone of the impacted facial muscles and stimulating the facial nerve. Because of this, physiotherapy can be beneficial to some individuals.

4. Surgery – Surgery may help patients recover from facial nerve palsy. There are various techniques that exist to assist with the process of surgery. A form of surgery is a procedure that is beneficial in restoring the smile of patients suffering from facial nerve paralysis. However, this is a surgery that can be as harmful as it is beneficial. There are various side effects associated with the surgical technique. One may experience total hearing disability. In fact, around 3-15% patients experience hearing loss after the surgery.

5. Alternative Medicinal Therapies – Alternative Medicinal Therapies include various techniques such as acupuncture on the affected region. Paralyzed muscles often tend to shrink and shorten causing permanent contractures and pain. Physical therapies can guide the patient to prevent such an incident from occurring.

However, the efficiency of such techniques still remains unknown to the doctors. This is due to the fact that the studies conducted are available in a low quality. Another therapy is the hyperbaric oxygen therapy. However, the evidence available for the therapy is quite tentative.

Myths related to Bell’s Palsy
Bell’s Palsy disease often confuses people leading them to believe various myths. The most prominent myths include:

Myth #1: Bell’s Palsy Causes Permanent Facial Paralysis

Bell’s Palsy is a form of temporary facial paralysis. The facial nerve that is on one side of the face is disrupted. Due to this, the message, which is received from the brain, is interfered. However, in a majority of cases, the disease is temporary. The paralyzed area of the face starts to cure within a few weeks and within three to six months; the paralysis completely disappears on its own. In a few percentages of cases, the nerve function does not return to normal. The nerve function may return but the full function does not return.

Myth #2: There is No Treatment Which Ensures the Treatment of Bell’s Palsy

There are various techniques which are available for the treatment of Bell’s Palsy. As mentioned above, the disease can be defeated using steroids, antivirals, physiotherapy, surgery and alternative medicinal therapies. These are the most effective treatments for the disease. Apart from this, selective neurolysis and botox can be used to treat the disease.

Selective neurolysis involves releasing a platysma muscle downward and reducing the activity. The selective neurolysis is very useful for a patient to regain his ability to smile. The botox treatment is a non-surgical treatment. When injected by a nerve expert, it helps patients to regain some symmetry into their faces and improve their facial appearance.

Myth #3: Prognosis of the Disease is not Very Good

There are many people who are under the impression that prognosis for Bell’s Palsy is not very good and hence they hesitate in using it for the treatment. However, doctors state that prognosis is generally very good for the patients.

After making use of the prognosis method, a person starts to improve on his symptoms within the first two weeks. The duration for complete recovery remains the same, i.e. three to six months.

Benefits of black pepper

Bachelor of Ayurveda, Medicine & Surgery (BAMS)
Ayurveda, Faridabad
Benefits of black pepper
काली मिर्च एक अनुपम औषधि है। लाल मिर्च की अपेक्षा यह कम दाहक और अधिक गुणकारी है। इसीलिए मसाले में लाल मिर्च की बजाय काली मिर्च का उपयोग प्रचलित है। काली मिर्च का योग्य रीति से उपयोग किया जाए तो वह रसायन गुण देती है। आयुर्वेद में काली मिर्च को सभी प्रकार के बैक्टीरिया, वायरस आदि का नाश करने वाली औषधि माना जाता है।
*काली मिर्च उदरपीड़ा, डकार और अफारा मिटाकर कामोत्तेजना एवं विरेचन करती है। *अरुचि, जीर्ण ज्वर, दांत दर्द, मसूड़ों की सूजन, पक्षाघात, नेत्ररोग आदि पर भी यह हितकारी है।
*जुकाम होने पर काली मिर्च मिलाकर गर्म दूध पीएं। यदि जुकाम बार-बार होता है, अक्सर छीकें आती हैं तो काली मिर्च की संख्या एक से शुरू करके रोज एक बढ़ाते हुए पंद्रह तक ले जाए फिर प्रतिदिन एक घटाते हुए पंद्रह से एक पर आएं। इस तरह जुकाम एक माह में समाप्त होगा।
*खांसी* होने पर आधा चम्मच काली मिर्च का चूर्ण और आधा चम्मच शहद मिलाकर दिन में 3-4 बार चाटें। खांसी दूर हो जाएगी।
*गैस की शिकायत होने पर एक कप पानी में आधे नीबू का रस डालकर आधा चम्मच काली मिर्च का चूर्ण व आधा चम्मच काला नमक मिलाकर नियमित कुछ दिनों तक सेवन करने से गैस की शिकायत दूर हो जाती है।गला बैठना :काली मिर्च को घी और मिश्री के साथ मिलाकर चाटने से बंद गला खुल जाता है और आवाज़ सुरीली हो जाती है। आठ-दस काली मिर्च पानी में उबालकर इस पानी से गरारे करें, इससे गले का संक्रमण खत्म हो जाएगा।त्वचा रोग :काली मिर्च को घी में बारीक पीसकर लेप करने से दाद-फोड़ा, फुंसी आदि रोग दूर हो जाते हैं।
83 people found this helpful

Amazing Benefits Of Black Pepper

M.Sc. in Dietetics and Food Service Management , Post Graduate Diploma In Computer Application, P.G.Diploma in Clinical Nutrition & Dietetics , B.Sc.Clinical Nutrition & Dietetics
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
Amazing Benefits Of Black Pepper

Here are 6 amazing black pepper benefits:

1. To prevent cancer: the piperine in black pepper can be credited with the prevention of cancer, and becomes twice as potent when combined with turmeric. The spice also has vitamin c, vitamin a, flavonoids, carotenes and other anti-oxidants that help remove harmful free radicals and protect the body from cancers and diseases. The best way to eat pepper to harness maximum benefits is to eat freshly ground pepper, and not cook it along with food.

2. Stimulates digestion: again, the piperine in black pepper eases digestion and stimulates the stomach, which then secretes more hydrochloric acid that helps to digest proteins in food. So a bit of pepper in food will actually help you to digest it faster.

3. Relieves cold and cough: black pepper is antibacterial in nature, and therefore helps to cure cold and cough. A teaspoon of honey with freshly crushed pepper does the trick. It also helps to alleviate chest congestion, often caused due to pollution, flu, or a viral infection. You can add it to hot water and eucalyptus oil and take steam. And given that black pepper is rich in vitamin c, it also works as a good antibiotic.

4. Enables weight loss: black pepper is brilliant when it comes to extracting nutrients from food. And it's outermost layer contains phytonutrients, which helps to break down fat cells, and also increases metabolism. If you eat fresh pepper, and begin to perspire, that's the pepper helping your body to get rid of excess water and toxins. But you need to control consumption - a pinch with your food (one meal) is enough.

5. Improves skin: it enables blood circulation, and provides the skin with more oxygen. Adding it to your food also takes care of unwarranted skin wrinkles. Black pepper is known to help in the cure of vitiligo, a condition where the skin loses pigmentation, and creates white patches.

6. Addresses depression: the piperine in black pepper helps to deal with depression. It stimulates the brain, and helps it to function properly by making it more active.
 

8 people found this helpful

Benefits Of Black Pepper

M.Sc. in Dietetics and Food Service Management , Post Graduate Diploma In Computer Application, P.G.Diploma in Clinical Nutrition & Dietetics , B.Sc.Clinical Nutrition & Dietetics
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
Benefits Of Black Pepper

Benefits Of Black Pepper

5 people found this helpful

Benefits of Vitamin C

Bachelor Of Physiotherapy
Physiotherapist, Noida
Benefits of Vitamin C

Good morning
During winters, it is very important to eat food (like tomatoes, oranges, strawberry, etc) that are rich source of vitamin c as these help in improving immunity and fighting infections.

High vitamin c foods are 
Bell peppers, dark leafy greens, kiwifruit, broccoli, berries, citrus fruits.

19 people found this helpful

Long Pepper (Pippali) Benefits and Side Effects in Hindi - पिप्पली के फायदे और नुकसान

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Long Pepper (Pippali) Benefits and Side Effects in Hindi - पिप्पली के फायदे और नुकसान

छोटा पीपल के उपनाम से मशहूर पिप्पली के फायदे औषधीय रूप से बहुत ज्यादा है. इसके अलावा इसे मसाले के रूप में भी इस्तेमाल करते हैं. लगभग शहतूत के फल के आकार वाले पिप्पली के नुकसान भी हैं. गहरे हरे रंग और ह्रदय के आकार वाले चौड़े पत्तों व कोमल लताओं वाले पिप्पली के कच्चे फलों का रंग गहरा हरा और पकने के बाद काला हो जाता है.

पहले जानते हैं पिप्पली के फायदों को

1. दिल के मामलों में
दिल की बीमारियों में भी पिप्पली के फायदे दिखाते हैं. इसका चूर्ण बनाकर शहद में मिलाकर सुबह खाने से कोलेस्ट्राल नियंत्रित होता है. इसके अलावा पिप्पली और छोटी हरड़ की समान मात्रा पीसकर एक चम्मच सुबह-शाम गुनगुने पानी के साथ लेने से पेट दर्द, मरोड़ और दुर्गन्धयुक्त अतिसार में राहत मिलती है.
2. साँसों की बीमारी में
यदि आपको साँसों की बिमारी है तो इसमें भी आप पिप्पली के फायदे से राहत पा सकते हैं. इसके लिए आपको 2 ग्राम पिप्पली का चूर्ण बनाकर 4 कप पानी में उबाल लें. जब यह 2 कप रह जाए तो इसे छान लें. इसे 2-3 घंटे के अंतर पर थोड़ा-थोड़ा दिन भर पीते रहने से कुछ ही दिनों में सांस फूलने की समस्या से राहत मिलेगी.
3. सर दर्द में
इसे पानी में पीसकर माथे पर लेप लगाने से सिर दर्द में फायदा मिलता है. इसके लिए पिप्पली और वच चूर्ण को बराबर मात्रा में मिला लें. फिर इसकी 3 ग्राम नियमित रूप से दो बार दूध या गर्म पानी के साथ लेने से सर दर्द में राहत मिलती है.
4. मोटापा से भी राहत
मोटापे में पिप्पली के फायदे लेने के लिए आपको इसका चूर्ण लगभग आधा ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम शहद के साथ रोजाना 1 महीने तक सेवन करने से मोटापा कम होता है. इसके अलावा पिप्पली के 1 से 2 दाने दूध में देर तक उबालकर उसमें से पिप्पली निकालकर खा लें और ऊपर से दूध पिने से भी मोटापे से राहत मिलती है.
5. छुआ-छूत के रोगों में
इसमें पाए जाने वाले प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के गुण से टी.बी. एवं अन्य संक्रामक रोगों में पिप्पली फायदेमंद है. इसके अलावा पिप्पली अनेक आयुर्वेदीय एंव आधुनिक दवाओं की कार्यक्षमता को बढ़ाने में मदद करती है.
पिप्पली के कई फायदों में से एक ये भी है कि इसके 1-2  ग्राम चूर्ण में सेंधानमक, हल्दी और सरसों का तेल मिलाकर दांतों पर लगाने से दांत के दर्द से राहत मिलती है. 
6. वात से उत्पन्न रोगों में
इसके लिए आपको 5-6 पुरानी पिप्पली के पौधे का जड़ सुखाकर उसका चूर्ण बनाना होगा. आपको बता दें कि इस चूर्ण की 1-3 ग्राम मात्रा को गर्म पानी या गर्म दूध के साथ पिलाने से शरीर के किसी भी हिस्से में होने वाले दर्द से 1-2 घंटे में ही राहत मिल जाती है. बुढ़ापे में इससे विशेष रूप से राहत मिलती है.
7. सर्दी जुकाम में
सर्दी जुकाम में पिप्पली का फायदा उठाने के लिए इसका मूल, काली मिर्च और सौंठ की बराबर मात्रा में चूर्ण लेकर इसकी 2 ग्राम की मात्रा शहद के साथ चाटने से जुकाम में राहत मिलती है. इसके अलावा आधा चम्मच पिप्पली चूर्ण में समान मात्रा में भुना जीरा तथा थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर छाछ के साथ सुबह खाली पेट लेने से बवासीर में भी लाभ होता है.

पिप्पली के नुकसान
1. बिना किसी सावधानी के, पंचकर्म और रसायन प्रक्रिया के बिना, पिप्पली को अधिक मात्रा या लंबे समय के लिए इस्तेमाल नुकसानदेह साबित हो सकता है. इससे काफ में वृद्धि होती है. पिप्पली की अन्दुरुनी गरमी के कारण पित्त दोष बढ़ता है. इसकी कम चिकनाई (Alpasneha) के कारण, यह वात संतुलन के लिए जिम्मेदार मानी जाती है.
2. छोटे बच्चों को शिशुओं को इसके सेवन से बचाना चाहिए.
3. दूध और घी के साथ, यह प्रति दिन 250 मिलीग्राम की एक छोटी खुराक में बच्चों को दिया जा सकता है.
4. जो महिलाएं स्तनपान कराती हैं वैसी माताओं को भी यह कम मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए.
5. जो महिलाएं गर्भावस्था में हैं उन्हें इसके उपयोग के लिए, अपने चिकित्सक की सलाह ज़रूर लेना चाहिए.
 

2 people found this helpful

Long Pepper (Pippali) Benefits and Side Effects in Hindi - पिप्पली के फायदे और नुकसान

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Long Pepper (Pippali) Benefits and Side Effects in Hindi - पिप्पली के फायदे और नुकसान

छोटा पीपल के उपनाम से मशहूर पिप्पली के फायदे औषधीय रूप से बहुत ज्यादा है. इसके अलावा इसे मसाले के रूप में भी इस्तेमाल करते हैं. लगभग शहतूत के फल के आकार वाले पिप्पली के नुकसान भी हैं. गहरे हरे रंग और ह्रदय के आकार वाले चौड़े पत्तों व कोमल लताओं वाले पिप्पली के कच्चे फलों का रंग गहरा हरा और पकने के बाद काला हो जाता है.

पहले जानते हैं पिप्पली के फायदों को
1. दिल के मामलों में

दिल की बीमारियों में भी पिप्पली के फायदे दिखाते हैं. इसका चूर्ण बनाकर शहद में मिलाकर सुबह खाने से कोलेस्ट्राल नियंत्रित होता है. इसके अलावा पिप्पली और छोटी हरड़ की समान मात्रा पीसकर एक चम्मच सुबह-शाम गुनगुने पानी के साथ लेने से पेट दर्द, मरोड़ और दुर्गन्धयुक्त अतिसार में राहत मिलती है.
2. साँसों की बीमारी में
यदि आपको साँसों की बिमारी है तो इसमें भी आप पिप्पली के फायदे से राहत पा सकते हैं. इसके लिए आपको 2 ग्राम पिप्पली का चूर्ण बनाकर 4 कप पानी में उबाल लें. जब यह 2 कप रह जाए तो इसे छान लें. इसे 2-3 घंटे के अंतर पर थोड़ा-थोड़ा दिन भर पीते रहने से कुछ ही दिनों में सांस फूलने की समस्या से राहत मिलेगी.
3. सर दर्द में
इसे पानी में पीसकर माथे पर लेप लगाने से सिर दर्द में फायदा मिलता है. इसके लिए पिप्पली और वच चूर्ण को बराबर मात्रा में मिला लें. फिर इसकी 3 ग्राम नियमित रूप से दो बार दूध या गर्म पानी के साथ लेने से सर दर्द में राहत मिलती है.
4. मोटापा से भी राहत
मोटापे में पिप्पली के फायदे लेने के लिए आपको इसका चूर्ण लगभग आधा ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम शहद के साथ रोजाना 1 महीने तक सेवन करने से मोटापा कम होता है. इसके अलावा पिप्पली के 1 से 2 दाने दूध में देर तक उबालकर उसमें से पिप्पली निकालकर खा लें और ऊपर से दूध पिने से भी मोटापे से राहत मिलती है.
5. छुआ-छूत के रोगों में
इसमें पाए जाने वाले प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के गुण से टी.बी. एवं अन्य संक्रामक रोगों में पिप्पली फायदेमंद है. इसके अलावा पिप्पली अनेक आयुर्वेदीय एंव आधुनिक दवाओं की कार्यक्षमता को बढ़ाने में मदद करती है.
पिप्पली के कई फायदों में से एक ये भी है कि इसके 1-2  ग्राम चूर्ण में सेंधानमक, हल्दी और सरसों का तेल मिलाकर दांतों पर लगाने से दांत के दर्द से राहत मिलती है. 
6. वात से उत्पन्न रोगों में
इसके लिए आपको 5-6 पुरानी पिप्पली के पौधे का जड़ सुखाकर उसका चूर्ण बनाना होगा. आपको बता दें कि इस चूर्ण की 1-3 ग्राम मात्रा को गर्म पानी या गर्म दूध के साथ पिलाने से शरीर के किसी भी हिस्से में होने वाले दर्द से 1-2 घंटे में ही राहत मिल जाती है. बुढ़ापे में इससे विशेष रूप से राहत मिलती है.
7. सर्दी जुकाम में
सर्दी जुकाम में पिप्पली का फायदा उठाने के लिए इसका मूल, काली मिर्च और सौंठ की बराबर मात्रा में चूर्ण लेकर इसकी 2 ग्राम की मात्रा शहद के साथ चाटने से जुकाम में राहत मिलती है. इसके अलावा आधा चम्मच पिप्पली चूर्ण में समान मात्रा में भुना जीरा तथा थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर छाछ के साथ सुबह खाली पेट लेने से बवासीर में भी लाभ होता है.

पिप्पली के नुकसान
1. बिना किसी सावधानी के, पंचकर्म और रसायन प्रक्रिया के बिना, पिप्पली को अधिक मात्रा या लंबे समय के लिए इस्तेमाल नुकसानदेह साबित हो सकता है. इससे काफ में वृद्धि होती है. पिप्पली की अन्दुरुनी गरमी के कारण पित्त दोष बढ़ता है. इसकी कम चिकनाई (Alpasneha) के कारण, यह वात संतुलन के लिए जिम्मेदार मानी जाती है.
2. छोटे बच्चों को शिशुओं को इसके सेवन से बचाना चाहिए.
3. दूध और घी के साथ, यह प्रति दिन 250 मिलीग्राम की एक छोटी खुराक में बच्चों को दिया जा सकता है.
4. जो महिलाएं स्तनपान कराती हैं वैसी माताओं को भी यह कम मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए.
5. जो महिलाएं गर्भावस्था में हैं उन्हें इसके उपयोग के लिए, अपने चिकित्सक की सलाह ज़रूर लेना चाहिए.
 

4 people found this helpful

Black Pepper (Kali Mirch) - 6 Reasons Why You Must Eat It!

MD - Ayurveda
Ayurveda, vijapur
Black Pepper (Kali Mirch) - 6 Reasons Why You Must Eat It!

Black pepper is one of the oldest spices known to mankind. It is found in abundant quantities in the Southern states of Kerala. Its medicinal qualities can successfully counter disorders such as indigestion, pyorrhea, cough, dental problems and cardiovascular diseases. Black pepper is extensively used for food preservation owing to its antibacterial properties. Being rich in fiber, vitamin C, manganese, vitamin K, it acts as a great anti-inflammatory agent as well.

Here are some of the well-known benefits of black pepper:

  1. Beneficial for stomach: Black pepper enhances the secretion of HCL i.e. hydrochloric acid in the stomach which in turn facilitates digestion. This ensures proper digestion and keeps away diseases such as colic and diarrhea. Pepper enhances urination and sweating which in turn ensures that external toxin has a safe way out. It also has the capability to limit gas formation within the body.
  2. Weight LossBlack Pepper’s outer layer helps in breaking fat cells. Also, foods that are made with pepper are an effective way to shed weight. Once the fat cells are broken down, the body uses it as a component of enzymatic reactions. The excess fats are eradicated from the body. Black pepper can be used in curries or consumed daily in the morning along with hot water to fetch rich benefits.
  3. Skin HealthPepper is a very good agent in curing skin diseases such as vitiligo. The latter is a condition where patches of skin lose the normal pigmentation and become white. Recent studies have shown that pepper combined with UV therapy is a better alternative compared to chemical-heavy treatments. Furthermore, black pepper can successfully prevent skin cancer.
  4. Respiratory Relief: Pepper is known to be extremely effective when it comes to cough and cold. It is known to be a great agent for nasal congestion and sinusitis. The expectorant property of the black pepper is known to attack the phlegm and mucus and give instant relief. The fact that it is a natural irritant, helps the mucus to get out of the body through the nostrils. This helps the body to heal quickly.
  5. Peptic ulcer and whooping cough: Quite a few studies have shown that black pepper is beneficial for patients suffering from peptic ulcer and gastric mucosal. The anti-inflammatory and anti-oxidant properties also help to treat respiratory diseases such as asthma and persistent cough.
  6. Anti-oxidant properties: The anti-oxidant properties of black pepper help to counter the effects of the free radicals, helps in fighting cardiovascular diseases successfully and counter life-threatening diseases such as cancer. Furthermore, it can help the body fight premature ageing conditions such as macular degeneration, spots, wrinkles etc. Studies have also proved that black pepper enhances memory and impair memory loss

In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

9871 people found this helpful

Health Benefits of Black Pepper in Hindi - काली मिर्च के फ़ायदे

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Health Benefits of Black Pepper in Hindi - काली मिर्च के फ़ायदे

हमारे यहाँ प्रयुक्त किए जाने वाले मसालों में काली मिर्च का प्रमुख स्थान है. ये व्यंजन को तीखा बनाने के साथ ही उसके स्वाद में भी वृद्धि करती है. गर्म मसाले की कल्पना बिना काली मिर्च के नहीं की जा सकती है. स्वाद में तीखा लगने वाला काली मिर्च, हरे मिर्च से अलग आकार में यानी गोलाकार में होता है. इसका रंग एकदम काला होता है. रोजमर्रा के भोजन में इसका नियमित इस्तेमाल करने पर इससे कई तरह के स्वास्थ्य लाभ अर्जित किए जा सकते हैं. यदि उचित मात्रा में इसका इस्तेमाल किया जाए तो इसके कोई नुकसान भी नहीं हैं.आइए काली मिर्च के फायदों पर प्रकाश डालते हैं.
1. तनाव दूर करने में
तनाव दूर करने के लिए आप काली मिर्च का इस्तेमाल कर सकते हैं. काली मिर्च, पिपेरीन सेरोटोनिन के उत्पादन में वृद्धि करके एक तनाव दूर करने वाले औषधि के रूप में कार्य करता है. सेरोटोनिन, मूड ठीक करने के लिए एक महत्वपूर्ण न्यूरोट्रांसमीटर है वहीं सेरोटोनिन का निम्न स्तर तनाव का एक महत्वपूर्ण कारक है. पिपेरीन, मस्तिष्क में बीटा एंडोर्फिन को बढ़ाकर मानसिक स्पष्टता को प्रोतसाहित करता है. एंडोर्फिन प्राकृतिक दर्द निवारक और मूड लिफ्टर के रूप में काम करता है. वे तनाव को कम करते हैं.
2. भूख बढ़ाने में
काली मिर्च, एक भूख उत्तेजक के रूप में काम करती है. कम भूख लगने वाले लोगों के लिए काली मिर्च एक बहुत ही उत्कृष्ट और सरल उपाय है. इसके लिए आधा चम्मच काली मिर्च और गुड़ पाउडर के एक चम्मच की मदद से एक मिश्रण तैयार करके जब तक आपको अपने में सुधार न दिखे तब तक इस मिश्रण का सेवन नियमित आधार पर लगातार करते रहें.
3. सर्दी से राहत दिलाने में
काली मिर्च एक उच्चतम रोगाणुरोधी के रूप में कार्य करते हुए विभिन्न खांसी और सर्दी के उपचारों में व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है. इसके लिए प्रतिदिन दो या तीन बार एक गिलास गुनगुने पानी में काली मिर्च पाउडर का आधा चम्मच मिलाकर पियें. इसके अलावा कुछ काली मिर्च और युकलिप्टुस तेल के साथ मिश्रित गर्म पानी का भाप लेने का प्रयास कर सकते हैं. आप चाहें तो काली मिर्च का मिश्रण और तिल के तेल के कुछ बूंदों को सूंघ भी सकते हैं.
4. पोषण को बढ़ावा
इसमें मौजूद पिपेरीने नामक यौगिक विटामिन ए, विटामिन सी, सेलेनियम, बीटा कैरोटीन जैसे अन्य पोषक तत्वों की जैव-उपलब्धता को बढ़ाकर आपके समग्र स्वास्थ्य में सुधार लाता है. पिपेरीने यौगिक कुकुर्मिन की जैव-उपलब्धता को भी बीस गुना तक बढ़ा सकती है. इसके अलावा, पिपेरीने आंत्र में अमीनो एसिड ट्रांसपोर्टर को उत्तेजित करके कोशिकाओं से पदार्थों को हटाने से रोकता है और आंत्र गतिविधि को कम करता है. इससे अधिक पदार्थ सक्रिय रूप में शरीर में उपयोग के लिए उपलब्ध रहते हैं.
5. गैस की समस्या का समाधान
एक कार्मिनेटिव के रूप में काली मिर्च गैस के गठन को रोकने में भी मदद करता है. इसके लिए आप अपने भोजन में मिर्च के बदले काली मिर्च का इस्तेमाल शुरू कर दें. इसके अलावा अपच और पेट में भारीपन दूर करने के लिए, काली मिर्च और जीरा पाउडर का एक तिहाई चम्मच एक गिलास छाछ में मिलाकर पियें.
6. दांत की समस्याओं के लिए
चूंकि काली मिर्च दर्द और सूजन को कम करने में सहायक है, आप काली मिर्च का उपयोग उसके साथी-नमक के साथ मसूड़ों में जलन व सूजन को ठीक करने में कर सकते हैं. यह खराब सांस और मसूड़ों से रक्तस्राव जैसी मौखिक परेशानियों का समाधान करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है. दांत और मसूड़ों से सम्बन्धित समस्याओं को अलविदा कहने के लिए:- • पानी की कुछ बूंदों में नमक और काली मिर्च दोनों को बराबर मात्रा में मिलाएं और इससे अपने मसूढ़ों की मालिश करें. • दांत दर्द को कम करने के लिए, लौंग के तेल में काली मिर्च पाउडर की एक चुटकी मिलाकर प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं.
7. पाचन शक्ति बढ़ाने में
काली मिर्च स्वाद की कलिका को उत्तेजित करके पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड के स्राव को बढ़ाता है. इसके परिणामस्वरूप हमें बेहतर और स्वस्थ पाचन मिलता है. पाचन में सुधार करके काली मिर्च उदर-संबंधी सूजन, अपच, पेट फूलना, पेट में गैस और कब्ज जैसी समस्याओं से मुक्ति दिलाता है.
8. गठिया दर्द को काबू
काली मिर्च अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-गठिया गुणों के कारण, गठिया के इलाज के लिए बेहद उपयोगी है. इसके अलावा, यह रक्त-संचलन में सुधार लाताकर खराब परिसंचरण के कारण संयुक्त दर्द को रोकाता या कम करता है.
9. वजन कम करने के लिए
काली मिर्च भूख को उत्तेजित करने के साथ ही आपको वजन कम करने में मदद कर सकती है. दरअसल इसकी बाहरी परत में वसा कोशिकाओं के भंजन को प्रोत्साहित करने वाले फैटोनुट्रिएंट्स होते हैं. इसके अलावा, काली मिर्च आपके चयापचय में सुधार करके कैलोरीज के कम कर सकती है. इसके साथ ही काली मिर्च एक वसा रहित आहार भी है और मूत्रवर्धक एवं डाइफोरेक्टिक जड़ी बूटी होने के कारण, यह पेशाब और पसीना को बढ़ावा देकर शरीर से विषाक्त पदार्थों और अधिक पानी को बाहर निकालता है.
10. कैंसर से बचाव
काली मिर्च में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो कि कैंसर से लड़ते हैं, विशेषकर बृहदान्त्र और ब्रेस्ट कैंसर से. काली मिर्च अपने महत्वपूर्ण एंटी-प्रोलिफेरेटिव गतिविधि के द्वारा बृहदान्त्र कोशिका प्रसार को बाधित कर सकता है. इसमें मौजूद पॉलीफेनॉल सामग्री उच्च रक्तचाप, मधुमेह और हृदय रोग के खिलाफ भी रक्षा प्रदान करती है.

3 people found this helpful