Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Allergy Tips

Food Intolerance & Allergies!

Food Intolerance & Allergies!

Food Intolerance & Allergies

Allergies - Causes, Symptoms And Treatments For Them!

Allergies - Causes, Symptoms And Treatments For Them!

Allergies are a reaction of your immune system to any foreign matter, such as pet dander, pollen or bee venom, and not everyone is affected in the same way.

Antibodies are substances produced by your immune system to protect you from harmful invaders that can cause infections or make you ill.

The immune system produces antibodies when it comes into contact with allergens. Your immune system can recognise any allergen as threatening even if it’s not. As a result, your skin, airways, digestive system or sinus gets inflamed.

Allergies can vary greatly in severity—from mild irritations to anaphylaxis (a likely life-threatening emergency). Allergies are mostly incurable; however, there are various treatments available to alleviate allergy symptoms.

Causes-

Common triggers of allergy include:

  1. Airborne allergens, such as mould, dust mites, animal dander and pollen.

  2. Certain foods, especially milk, eggs, shellfish, fish, soy, wheat, tree nuts and peanuts.

  3. Insect bites, such as wasp stings or bee stings.

  4. Medications, specifically penicillin-based antibiotics or penicillin.

  5. Latex, or any allergen you touch, causes skin infections.

Symptoms-

Symptoms of allergy depend on its type.

Treatment-

Treatments of allergy include:

  1. Avoiding Allergens: Your doctor can help you take necessary steps to recognise and avoid the allergens that trigger allergies. This is usually the most relevant step in the prevention of allergic reactions and reduction of symptoms.

  2. Medicines to Lower Symptoms: Eye drops, nasal sprays or oral medications are commonly prescribed to reduce reactions and alleviate symptoms.

  3. Immunotherapy: If the allergy is severe or other treatments fail to relieve symptoms, allergen immunotherapy is recommended. In this treatment, you get injected by a number of clarified allergen extracts over the years.

  4. Emergency Epinephrine: If your allergy is severe, your doctor will provide you with an emergency epinephrine shot that you can carry with you everywhere.
2 people found this helpful

Blocked Nose - The Best Remedies For It!

Blocked Nose - The Best Remedies For It!

A blocked nose is not only annoying but extremely discomforting. Several reasons can be held responsible for it and common cold is certainly not the only one. Some other reasons include:

1. Flu
2. Allergy
3. Sinus

Therefore, the remedial measures for blocked nose vary, depending on the cause that led to it. Some of the ways by which you can redress this problem are:

1. Use a humidifier

Sinusitis is often held responsible for a clogged nose, a condition that is almost always accompanied by severe pain. In such a situation, placing a humidifier in a room proves to be extremely beneficial. This machine treats blocked nose by converting the water to moisture. This fills up the room and significantly increases the humidity of the room. Therefore when you breathe, the humid air soothes the inflamed blood vessels in the nose and helps you to breathe properly.

2. Take a hot shower

When you find it difficult to breathe, a quick hot shower can go a long way in curing the discomfort. The logic that operates is the steam generated from the hot shower thins the mucus and also considerably reduces the inflammation in the nose, allowing you to breathe normally.

3. Drink lots of water

Though the suggestion may seem incredible, drinking water actually helps in un-blocking that blocked nose. When you drink a lot of water, the mucus in the nostrils is thinned, at the same time it pushes back the accumulated fluids, thereby curbing the condition of blocked nose.

4. Using a saline spray

This is one of the most ancient and trusted ways of treating blocked nose. By administering a saline or a nasal spray, the moisture in your nostrils increases and radically diminishes the inflammation.

5. Use warm compresses

Using a warm compress has been the most reliable form of medication in times of high temperature and also at times of blocked nose. The compress that was dipped in hot water, when placed on the nose and forehead helps to unblock the nasal passages. The soothing effect of the warm compresses reduces the inflammation and facilitates the process of breathing.

स्किन एलर्जी ट्रीटमेंट इन आयुर्वेद - Skin Allergy Treatment In Ayurveda In Hindi!

स्किन एलर्जी ट्रीटमेंट इन आयुर्वेद - Skin Allergy Treatment In Ayurveda In Hindi!

स्किन एलर्जी, उत्तेजक पदार्थों और एलर्जी पैदा करने वाले पदार्थों के प्रति एक एलर्जिक रिएक्शन होता है. स्किन एलर्जी कई फैक्टर के कारण हो सकती है, जैसे कि इन्फेक्शन, इम्यून सिस्टम डिसऑर्डर और दवाओं के प्रति रिएक्शन. स्किन एलर्जी कई प्रकार की होती है, जैसे एक्जिमा, डर्मेटाइटिस, हाइव्स और एंजियोएडिमा आदि. साबुन, मॉइस्चराइज़र और कपड़ों से भी एलर्जी रिएक्शन हो सकती है. इसके लक्षणों में परतदार और खुजलीदार त्वचा, लालिमा, छाले, वेल्ट्स और रैशेस आदि शामिल हैं. स्किन एलर्जी पूरे बॉडी पर भी हो सकती है या बॉडी के कुछ हिस्सों में भी हो सकती है. इसके इलाज में दवाएं लेना, त्वचा को राहत प्रदान करना और खुजली और जलन को शांत करना और स्किन की एलर्जी पैदा करने वाली अंतर्निहित समस्याओं का इलाज करना आदि शामिल है. स्किन एलर्जी के लिए इस्तेमाल की जाने वाली कुछ सामान्य दवाएं में एंटीहिस्टामिन, कॉर्टिकोस्टेरायड, कैराटॉलाइटिक कॉम्बिनेशन और स्किन बैरियर इमोलिएंट्स आदि शामिल हैं. आइए इस लेख के माध्यम से हम स्किन की एलर्जी का आयुर्वेदिक उपचार के बारे में जानें.

1. स्किन क्रीम

स्किन की एलर्जी का निदान हम बाजार में मिलने वाले विभिन्न प्रकार के क्रीम जैसे हाइड्रोकोर्टिसोन क्रीम और लैक्टो कैलामाइन लोशन आदि से भी सही तरीके से कर सकते हैं. एलोवेरा जैल भी खुजली कम करने में सहायता करता है.

2. एंटीहिस्टामिन दवाएं
सेटीरिजीन, फेक्सोफेनाडीन, लेवोसेटीरिजीन और लोरैटैडीन आदि मेडिसिन भी स्किन एलर्जी के लिए लाभदायक होते हैं. किसी भी प्रकार के दवा का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर को दिखाना महत्वपूर्ण है.

3. एंटीबायोटिक्स
अगर डॉक्टरों को लगता है की बैक्टीरियल इन्फेक्शन के कारण एक्जिमा विकसित हुआ है तो ऐसे में डॉक्टर एंटीबायोटिक्स दवाएं निर्धारित कर सकते हैं. साथ ही यह ध्यान रहें की डॉक्टर का कंसल्ट करना जरुरी है, कंसल्ट करने के बाद ही कुछ करें.

4. ओटमील बाथ
दलिया को पीसकर उसके पाउडर को पानी में अच्छे से मिक्स कर लें. यह कुछ लोगों को त्वचा में सूजन, जलन व लालिमा की समस्या को शांत करता है. इसका उपयोग करने के लिए गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें, अधिक गर्म होने पर यह त्वचा में जलन पैदा कर सकता है और स्किन में ड्राईनेस आ जाता है.

5. ठंडी चीजों से परहेज करना
किसी ठंडी चीज से सेकने या ठंडे पानी से स्नान करने से रैशेज में जलन को शांत किया जा सकता है. इसे फिर धीरे-धीरे सुखाएं और मॉश्चराइज़ करें. इस तरीकों को ज्यादा जलन होने पर ही इस्तेमाल करें.

6. ऑटो एड्रेनालाईन इंजेक्टर
वे जो गंभीर एलर्जी से पीड़ित है, उनको अपने साथ एक ऑटो इंजेक्टर रखना चाहिए, जिसे इमरजेंसी सिचुएशन में इस्तेमाल किया जा सके. अगर आप स्किन एलर्जी से पीड़ित हैं तो आपको निम्न खाद्य पदार्थ लेना चाहिए.

7. बीन्स
इसमें जरुरी पोषक तत्व, ग्लूकोज और प्रोटीन होते हैं, जो आपके रैशेस को ठीक करने में सहायता के लिए नई स्किन के विकास में मदद करते हैं. इसलिए इस दौरान आप बीन्स खाने से भी राहत ले सकते हैं.

8. रंगीन फल व सब्जियां
चमकीले रंग के फल और सब्जियों का सेवन इलाज में योगदान करते हैं और सूजन को कम करने में सहायता करते हैं. इनमें विटामिन ए होता है, जो इम्यून सिस्टम के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण होता है. इसका काफी बेहतर परिणाम देखने को मिलता है.

9. प्रचुर मात्रा में विटामिन सी वाले खाद्य पदार्थ
विटामिन सी में समृद्ध आहार का सेवन बढ़ाने से स्किन रैशेज के ट्रीटमेंट को बढ़ावा मिलता है. एक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में विटामिन सी आपकी त्वचा को नुकसान से बचा सकता है, जिससे सूजन कम हो जाती है.

10. इन खाद्य पदार्थों का सेवन करें
चकोतरा संतरे स्ट्रॉबेरी आलू पालक हरी और लाल मिर्च मछली. फैटी फिश में भरपूर मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड होते हैं, जो सूजन को कम करने में मदद करते हैं. ऐसा करने से भी त्वचा की एलर्जी पर भी नियंत्रण रहता है.

3 people found this helpful

Eye Allergies - How Can Homeopathy Help?

Eye Allergies - How Can Homeopathy Help?

Eye allergies or allergic conjunctivitis involves the inflammation of the conjunctiva in the eyes. Eye allergies are different from contagious or bacterial conjunctivitis. Eye allergies are common during summer.

Homeopathy is an ideal way to cure eye allergies without any side effects. Here are some homeopathic medicines, which treat eye allergies, along with the symptoms when they are prescribed.

- Apis Mel
This homeopathic medicine is ideal for eye allergies characterized by burning  and stinging in the eyes. Oedema accumulates around the eyes; the eyelids swell and become puffy. Watery discharge comes out of the eyes.

- Euphrasia
This is an ideal medicine for treating eye allergies where there is an acrid discharge from the eyes. The discharge is acidic and burns the skin it comes in contact with, and there is burning pain in the eyes. The eyes stay watery.

- Argentum Nitricum
It is an ideal homeopathic remedy in case of eye allergies with prulent discharge. The patient develops photophobia and splinter like pain is felt in the eyes. The conjunctiva swells and the discharge is abundant. 

- Ruta
This is a great homeopathic medicine to cure eye allergies where there is a sensation of a foreign body in the eyes. Indicated by severe eye irritation, the patient feels as if a dust particle is stuck in his eyes. The eyes become red and quite painful.

- Pulsatilla
Pulsatilla is an ideal homeopathic medicine when there is relief due to the application of cold water. Symptoms include discharge of a thick, yellow fluid from the eyes along with itching and burning. The eyelids feel like they have been agglutinated.

In case of eye allergies accompanied by itching or burning sensation, you can apply natural home-based  remedies as well. They are:

- Applying a cold compress
Application of cold compress around the allergy affected area will give you relief. Soak a cloth in cold water and apply it gently. Use chamomile tea bags as a cold compress.

- Use cucumber
Put slices of cucumber over the affected area in the eyes to get relief from eye allergies. Cucumbers possess anti-irritation properties and reduce puffiness, swelling and irritation. 

- Rosewater
Rosewater is an effective remedy for eye allergies. It soothes and cools the eyes, and the eyes become clear. You can use rose water as an eye drop or wash your eyes with it.

- Green tea
Green tea is completely natural and provides relief to eye allergies. It accounts for soothing the eyes and is anti-inflammatory in nature.

Eye allergies are common and affect people most during the summer. They reoccur every year and give you a bad time. Homeopathic and natural treatment methods for eye allergies are among the best remedies.

1 person found this helpful

साइनस का घरेलू उपचार - Sinus Ka Gharelu Upchar!

साइनस का घरेलू उपचार - Sinus Ka Gharelu Upchar!

बैक्टीरिया, वायरस और फंगल इन्फेक्शन के रूप में होने वाली साइनस कोई गंभीर बीमारी नहीं है लेकिन इसे नजरअंदाज करना भी आपको नुकसान पहुंचा सकता है. साइनस हमारे नाक के आसपास, गाल और माथे की हड्डी के पीछे या आँखों के बीच के भाग में पैदा होती है. साइनस हवा से भरी हुई छोटी-छोटी खोखले स्ट्रक्चर के रूप में होता हैं. साइनसाइटिस से साइनस में किसी इन्फेक्शन के कारण सूजन आ जाती है. साइनस के रोगी सिरदर्द या चेहरे में दर्द और नाक बंद होने के अनुभव से इसका पता लगाते हैं. कई बार ऐसा भी होता है कि नाक से हर पदार्थ बहने लगता है. रोगी किस प्रकार के साइनसाइटिस से प्रभावित है यह दर्द पर निर्भर करता है. यह बीमारी तीन से आठ हफ्ते के दौरान रहने पर तीव्र और आठ सप्ताह से अधिक रहने पर क्रॉनिक साइनसाइटिस कहलाती है. आइए इस लेख के माध्यम से हम साइनस के घरेलू उपचार के बारे में विस्तार से जानें ताकि इस विषय में लोगों की जानकारी बढ़ सके.

* अजवायन-

साइनाइटिस के ट्रीटमेंट में अजवायन की भूमिका बहुत प्रभावी होती है. साइनसाइटिस के ट्रीटमेंट के लिए आजवाइन एक अच्छा विकल्प है, क्योंकि यह अपने एंटी-माइक्रोबियल गुणों के कारण उन कीटाणुओं को मारने का काम करता है जो इस बीमारी का मूल कारण हैं. अजवायन की पत्तियों का तेल को अपने डाइट में शामिल कर के भी आप इस बीमारी से बचाव कर सकते हैं. आप इसकी 2-3 बूँदें चाय में मिलाकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

* टमाटर का रस-
टमाटर का रस बलगम की लेयर को पतला करके नाक की ब्लॉकेज को कम करने का काम करता है. इसमें मौजूद विटामिन ए साइनस के सूजन को कम करके सूजन को ठंडा करने में कारगर है. इसके लिए आप टमाटर के रस में एक चम्मच नींबू और नमक को मिलाकर उबालकर इसे कुछ समय के लिए ठंडा करके पी लें.

* तिल का तेल-
यह एक बहुत ही प्रभावी तेल है जिसका इस्तेमाल न केवल बालों को सुंदर और स्वस्थ बनाने में बल्कि स्वास्थ्य समस्या में भी सहायता करता है. साइनसाइटिस के ट्रीटमेंट में भी तिल के तेल का योगदान बहुत प्रभावी होता है. आप अपनी दोनों नासिका छिद्रों में तिल के तेल की 2-4 ड्रॉप्स डालें. इससे आपको बंद नाक को खोलने और साइनस को कम करने में मदद मिलेगी.

* नीलगिरी का तेल-
निलगिरी ऑयल का इस्तेमाल भी साइनस के ट्रीटमेंट में किया जाता है. इसके लिए आप उबलते हुए पानी की एक कटोरी में नीलगिरी ऑयल की 6-7 ड्रॉप्स डालकर उस कटोरे में एक तौलिया डालें और उसमें पानी को एब्सोर्ब कर लें. इसके बाद तौलिए को निचोड़ लें. इसके बाद अपनी नाक और माथे के हिस्से पर रखें. इसे तब तक ना हटाएं जब तक कि यह अपनी गर्मी ना छोड़ दे.

* सेब का सिरका-
आप गर्म पानी के एक ग्लास में सेब के सिरके के दो बड़े चम्मच मिलाकर अपने लिए एक ड्रिंक तैयार कर सकते हैं. आप इसको दिन में 2-3 बार ले सकते हैं. इससे आपको बहुत राहत मिलती है. इसके साथ ही इससे आपको अन्य फायदे भी मिलेंगे.

* प्याज-
प्याज का सेवन हम नेजल ट्रैक्ट को साफ करने में करते हैं. यह उन बैक्टीरिया को नष्ट करने में मदद करती है जो साइनस इन्फेक्शन के कारण उत्पन्न होते हैं. एक प्याज को काट कर 10 मिनट के लिए पानी में उबाल लें. इसके बाद आप एक तौली के साथ अपने सिर को कवर कर स्टीम ले सकते हैं.

* पुदीने का तेल-
पुदीने के तेल की 5-6 ड्रॉप्स को एक कटोरी में गर्म पानी के साथ मिलाएँ. अपने सिर को नीचे इस कटोरे के ऊपर झुकाएँ और एक तौलिया का उपयोग कर इसे कवर करें और स्टीम लें. यह अतिरिक्त बलगम की परत को पतला करने में मदद करेगा.

* नींबू बाम-
साइनाइटिस के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया को नष्ट करने में नींबू बाम काफी प्रभावी है. आप पानी में नींबू बाम की पत्तियों का इस्तेमाल कर गरारे भी कर सकते हैं. इसके लिए आपको इसकी पत्तियों को 10 मिनट तक उबालकर थोड़ा ठंडा होने पर आप इससे गरारे कर सकते हैं.

1 person found this helpful

त्वचा रोग के प्रकार - Twacha Rog Ke Prakar!

त्वचा रोग के प्रकार - Twacha Rog Ke Prakar!

ऐसे डिसऑर्डर या इन्फेक्शन जो हमारे स्किन को प्रभावित करते हैं, उन्हें स्किन डिजीज कहा जाता है. इसके कई कारण होते हैं. हालांकि स्किन को प्रभावित करने वाले ज्यादातर रोग स्किन की लेयर में शुरू होते हैं, यह विभिन्न प्रकार के इंटरनल डिजीज के उपचार में भी मदद करते हैं. ऐसा माना जाता है कि स्किन से एक व्यक्ति के आंतरिक स्वास्थ्य का पता चलता है. स्किन डिजीज के लक्षणों और गंभीरता में बहुत भिन्नताएं हैं. यह अस्थायी या स्थायी होने के साथ ही दर्द रहित या दर्दयुक्त भी हो सकते हैं. कुछ मामलों में यह स्थितिजन्य हो सकते हैं, जबकि अन्य में यह जेनेटिक्स भी होते हैं. कुछ स्किन डिसऑर्डर की स्थिति बेहद ही माइक्रो होती है और कुछ जानलेवा हो सकते हैं. ज्यादातर स्किन डिजीज माइक्रो होते हैं, जबकि अन्य एक अधिक गंभीर समस्या की ओर संकेत करते है. आइए इस लेख के माध्यम से त्वचा रोग के विभिन्न प्रकारों के बारे में जानें.

त्वचा रोग के प्रकार-
* रिंगवार्म
* स्केबीज
* खुजली
* फोड़े
* रैशेज
* चिकन पॉक्स
* ड्राई स्किन
* ऑयली स्किन
* एक्जिमा रोजेशिया (चेहरे का लाल होना)
* सिबोर्हिक डर्मेटाइटिस
* छाल रोग
* सफेद दाग या विटिलिगो
* इंपटिगो
* स्किन कैंसर
* तिल
* पिम्पल्स
* मस्से
* बेसल
* सेल कार्सिनोमा
* डेरियर्स डिजीज
* नाखूनों में होने वाले फंगल इन्फेक्शन
* कीलॉइडिस
* मिलनोमा
* मेलस्मा

स्किन डिजीज के लक्षण
स्किन डिसऑर्डर के निम्नलिखित लक्षण होते हैं: -

* सफेद या लाल रंग के उभार
* दर्दनाक या खुजली वाले रैेशेज
* त्वचा का खुरदुरापन
* त्वचा का छिलना
* अल्सर
* खुले घाव या जख्म
* सूखी व फटी त्वचा
* त्वचा पर फीके रंग के स्पाॅट
* क्लाॅट, मस्से या अन्य त्वचा के उभार
* तिल के रंग या साईज में बदलाव
* त्वचा का बदलना
* अत्यधिक फ्लशिंग (चेहरे, कान, गर्दन में गर्मी महसूस होना) होना.

स्किन इन्फेक्शन के लक्षण उसके टाइप पर भिन्न होते हैं. इसके सामान्य लक्षण हैं स्किन रेडनेस और रैशेज. आप इसके अन्य लक्षणों का भी अनुभव कर सकते हैं, जैसे - खुजली, दर्द और कोमलता. गंभीर संक्रमण के लक्षण निम्नलिखित हैं - मवाद, छाले, त्वचा की मोटाई और टूटना, त्वचा में दर्द होना.

त्वचा रोग के कारण-
1. स्किन डिसऑर्डर
1. स्किन पोर्स और बालों के रोम में फंसे बैक्टीरिया.
2. स्किन पर रहने वाले यीस्ट ,
3. पैरासाइट या माइक्रो ओर्गानिस्म .
4. वायरस
5. कमज़ोर इम्यून सिस्टम .
6. एलर्जी करने वाले पदार्थों या किसी अन्य व्यक्ति की इन्फेक्टेड स्किन के साथ संपर्क में आना.
7. जेनेटिक फैक्टर्स.
8. थायरॉयड,
9. इम्यून सिस्टम
10. किडनी और अन्य बॉडी सिस्टम को प्रभावित करने वाली बीमारियों से ग्रस्त होना.

2. स्किन इन्फेक्शन
त्वचा के संक्रमण के कारण उसके प्रकार पर निर्भर करते हैं.
* बैक्टीरिया से हुआ स्किन इन्फेक्शन - यह इन्फेक्शन तब होता है जब बैक्टीरिया स्किन में एक घाव के माध्यम से बॉडी में इंटर करते हैं, जैसे कि कट या स्क्रैच.
* वायरस से हुआ स्किन इन्फेक्शन - सबसे सामान्य वायरस तीन समूहों में से होते हैं - पॉक्सवायरस, हयूमन पैपिलोमावायरस और हर्पीस वायरस.
* फंगल इन्फेक्शन - बॉडी के केमिकल और लाइफ स्टाइल फंगस इन्फेक्शन के जोखिम को बढ़ा सकते हैं. *पैरासाइट स्किन इन्फेक्शन - स्किन के नीचे छोटे कीड़े या जीव जो वहीं अंडे देते हैं, स्किन इन्फेक्शन कर सकते हैं.

त्वचा रोग का इलाज
स्किन डिसऑर्डर का ट्रीटमेंट उपलब्ध है. कुछ सामान्य ट्रीटमेंट मेथड हैं -
1. एंटीहिस्टेमाइंस
2. औषधीय क्रीम और मलहम
3. एंटीबायोटिक दवाएं
4. विटामिन या स्टेरॉयड इंजेक्श.
5. लेजर थेरेपी
6. टार्गेटेड मेडिसिन .
एक तरफ सभी स्किन डिसऑर्डर ट्रीटमेंट से ठीक नहीं होते हैं और दूसरी तरफ कुछ स्किन डिसऑर्डर बिना उपचार के ठीक हो जाती हैं. आप टेम्प्रोरी स्किन डिसऑर्डर का उपचार कई अन्य तरीकों से भी कर सकते हैं.

स्किन इन्फेक्शन का ट्रीटमेंट उसके कारण और गंभीरता पर निर्भर करता है. कुछ प्रकार के वायरल स्किन इन्फेक्शन कुछ दिनों या हफ्तों में अपने आप ठीक हो जाते हैं. बैक्टीरिया इन्फेक्शन का ट्रीटमेंट अक्सर एंटीबायोटिक मेडिसिन को स्किन पर लगाकर या ओरल एंटीबायोटिक दवाओं से किया जाता है. अगर बैक्टीरिया पर इन दवाओं का कोई असर नहीं होता है, तो इन्फेक्शन का इलाज करने के लिए हॉस्पिटल में नसों से एंटीबायोटिक दवाएं दी जाती हैं. स्किन के फंगल इन्फेक्शन का इलाज करने के लिए केमिस्ट के पास मिलने वाले एंटिफंगल स्प्रे और क्रीम का उपयोग किया जा सकते. इसके अलावा, आप परजीवी त्वचा संक्रमण का इलाज करने के लिए त्वचा पर औषधीय क्रीम लगा सकते हैं.

वैकल्पिक उपचार-
त्वचा के संक्रमण के लिए आप खुजली और सूजन को कम करने के लिए दिन में कई बार कोल्ड क्रीम लगाएं. खुजली कम करने के लिए केमिस्ट पर मिलने वाली एंटीहिस्टामाइन लें. खुजली और असुविधा को इस तरह से भी दूर किया जा सकता है. लेकिन समस्या ज्यादा होने पर डॉक्टर से अवश्य संपर्क करें.

1 person found this helpful

Cure Allergies With Ayurveda!

Cure Allergies With Ayurveda!

A runny nose, Itchy rash, red eyes and shortness in breath are the most common allergic phenomenon which annoys you in frequent intervals, generally driven by several conditions due to hypersensitivity of the immune system towards something usual prevailing in the environment which may not cause any threat to others. It is why you may find a different person allergic to different foods or different conditions.

Diseases such as asthma, anaphylaxis, atopic dermatitis and so on are commonly considered as predominant allergic diseases. But most of the marketed drugs you take are as exasperating as the allergy itself, firstly due to its expensiveness and secondly, it drops you out. Though you may not be able to diminish the pollen in the air, you can restrict the number of drugs you take by choosing natural remedies as it has been propounded by the medical editor of WebMD Dr. Brunilda Nazario. He has also stated that the biggest trend we observe in allergies in these days is not found in any technological innovation or development rather it is the tendency of the common people to go for natural treatment to cure allergy.

‘Prevention is better than cure’- Cleanse your nose daily before the allergy strikes
According to most of the doctors, nowadays you are commonly encountered by seasonal allergies. It is mainly due to the fact that allergy season seems to appear earlier every year than the previous one. So as Nathanael Horne, MD of New York Medical College advises that you should begin treating allergies before it starts to pose threat. One such step is to spritz saline cleanse into your nose on a daily basis in order to wash away pollen. Obviously, this particular method would not replace your need for medication but it would certainly minimize your dependence on drugs. In one survey, those who clean their nose twice a day with saline water are reported less nasal congestion than others.

About some of the useful natural herbs which fight allergy:
Famous allergist from New York, Dr. Tim Mainardi is of opinion that natural herbs are comparatively more effective than any other drugs and among them, one of the scientifically proven fighters of allergy you have, is Green tea because it is a natural antihistamine. According to his suggestion, if anybody starts to take two cups of green tea a day about two weeks before the arrival of the allergy season, it is likely to resist allergic infection. Mainardi also says that there is another natural herb called butterbur, which effectively fights allergy as well as antihistamines. Apart from this Liquorice root is also a good choice because it helps to helps to raise the level of naturally produced steroid in your body and ameliorate immunity system.

Cook with turmeric to get rid of allergy:
If you taste every Indian dishes, you would get one spice common in all of them and that is Turmeric. Bharat Aggarwal, an Indian allergist expert from Houston considers Turmeric more efficacious than any other drugs in certain conditions as it contains Curcumin. It is why Turmeric may act as a decongestant. Though in the end, it should be mention that before you go with the natural treatment you should consult your doctor because these natural treatments would incorporate various alterations in your diet and medication.

Leaky Gut & Brain - What Should You Know?

Leaky Gut & Brain - What Should You Know?

You may be surprised to know that the health of your gut influences the health of your brain. The microbial imbalance in your gut is linked to various psychiatric disorders. Leaky gut or intestinal permeability is one of the gut disorders that can cause inflammation in the brain. It has been linked to certain mental disorders like depression.

What is a leaky gut?

It is a digestive condition, in which the intestinal wall is damaged due to your diet, the presence of a protein called zonulin or some medications. All bacteria and toxin waste products leak through the intestinal wall into the bloodstream. This condition triggers the immune system and causes widespread inflammation and allergic reactions like a migraine, eczema, irritable bowel syndrome, chronic fatigue, food allergies etc.

Leaky gut and the brain:

Research shows a link between leaky gut and a number of mental disorders, like-

Schizophrenia
Bipolar disorder
• Depression
Anxiety
• Parkinson’s disease
Autism spectrum disorder
• Rett’s syndrome

The ‘leaky’ diet

You can prevent high permeability of your intestines if you manage and plan your diet with the right food

What to eat-

• Leafy vegetables - Spinach, cabbage, asparagus, lettuce, broccoli and cauliflower are high in all the important nutrients like omega-3 fatty acids, potassium, folate, folic acid, selenium etc. These enhance the production of neurotransmitters in your brain. They help you to stay away from high anxiety and depression.

• Animal liver and meat - Animal liver is the best for your mental health. Chicken, beef, fish, lamb are high in protein, zinc, potassium and vitamin. Animal liver is the best for your mental health.

• Fermented food - Yoghurt, kimchi, sauerkraut, ginger, fermented cucumbers contain beneficial bacteria that reduce the symptoms of high anxiety and stress.

• Fruit - Pears, apple, apricots, berries and peaches are low glycemic fruits that prevent the growth of harmful bacteria in the gut.

• Whole grains - Ricequinoasorghum, etc. elevate your mood by inducing serotonin release in the brain.

To decrease the risk of gut permeability and to maintain your mental well-being, focus on a healthy diet free of sugar. Remember that a healthy gut will lead to a healthy mind.

4787 people found this helpful

Hay Fever Or Seasonal Allergy Or Allergic Rhinitis!

Hay Fever Or Seasonal Allergy Or Allergic Rhinitis!

When there is harvesting season around, many people suffer from seasonal allergies or hay fever. This seasonal allergy is named hay fever.

Symptoms of hay fever:
1.
Sneezing.
2. Runny nose or stuffy nose.
3. Congestion.
4. Itching of nose, eyes or roof of the mouth.
5. Reddening and watering of eyes.
6. There may be a headache.
7. There may be tenderness and pain at the site of nasal sinuses.
Patients with a history of asthma may experience frequent episodes of it in this season.

Cause of hay fever:

  • Hay fever or seasonal allergies occur in those 
  • Where the immune system reacts more promptly to otherwise harmless substance make it more harmful. These are called allergens.
  • Here in these individuals, the body releases certain chemicals to fight against allergens.

Commonest allergens:
Pollens of the seasonal plants and molds are the commonest allergens.

Diagnosis:
1. Allergy skin test:

It includes injecting an allergen under the skin of the arm or upper back and looking for any reaction around 20min.
If the person is allergic there will be the development of a raised bump at the site of injection.
2. Allergy blood test: test with a blood sample is done. This test measures the amount of allergy-causing antibodies in your bloodstream, known as immunoglobulin e (IgE) antibodies. 

Home remedies:

A person who is prone to an allergy or hay fever may adopt a few useful things to minimize the impact of the illness.
These are:

  • Pollen count tends to be higher on humid and windy non-rainy days and during the early evening so avoid going outside.
  • Keep windows and doors shut when the pollen count is high.
  • Avoid mowing the lawn during susceptible months, choose low-pollen days for gardening, and keep away from grassy areas when pollen counts are high.
  • Splash the eyes with cool water regularly, to sooth them and clear them of pollen.
  • Shower and change your clothes after coming indoors, when pollen counts are high.
  • Use wraparound glasses to protect the eyes from pollen.
  • Cover the head to prevent pollen from collecting in the hair and then sprinkling down onto the eyes.
  • Avoid indoor flowering plants.
  • Keep all surfaces, floors, and carpets as dust free as possible. Choose a vacuum cleaner with a good filter.
  • Use" mite-proof" bedding.
  • Use a dehumidifier to prevent mold.
  • Keep away from cigarette smoke, and quit, if you are a smoker.
  • Avoid pets when they come indoors on a high pollen count day or smooth their fur down with a damp cloth.
  • Apply vaseline on the edges of your nostrils, as it helps stop pollen from getting through.


Homeopathic treatment:
There are many homeopathic medicines that work well in hay fever. A few are as follows:

  • Allium cepa: It may be given when nasal discharge irritates your nose or upper lip; your eyes are runny but the discharge from eyes is bland and non-irritating; you feel worse from warm rooms and better in the open air.
  • Arsenicum album: Symptoms that call for this remedy include stuffiness and copious watery nasal discharge that burns the lips; a burning sensation in the eyes, nose, and/or throat (often right-sided); sneezing upon waking, often with a tickle in the nose; anxiety and restlessness; symptoms are better from warmth (hot drinks, warm baths). The patient has a great thirst for a small quantity of water small intervals.
  • Euphrasia Officinalis: Symptoms for this remedy are centered in the eyes: profuse tearing that is acrid and burning in nature; bland, non-irritating nasal discharge. Respiratory symptoms (runny nose, cough) are worse on rising in the morning; symptoms are better in the open air and in the dark.
  • Natrum muriaticum: Try this remedy when there is watery or egg-white-like nasal discharge; paroxysms of sneezing; chapped lips and cracks at the corners of the mouth; dark circles under the eyes; headaches.
  • Sabadilla: Symptoms for this remedy include an itchy nose; violent, debilitating sneezing; runny eyes that become worse in cold outdoor air and from flower pollen; symptoms are better from warm drinks and warm rooms.
  • Wyethia: This remedy may be given when there is extreme itching in the throat and palate that can extend to the ears; or a sore throat with hoarseness.
  • Histaminium: This works wonderfully in prevention and treatment for allergic rhinitis or hay fever. It is also indicated in skin symptoms due to seasonal allergies.
2 people found this helpful
Icon

Book appointment with top doctors for Allergy treatment

View fees, clinic timings and reviews