Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. C Vijaya laxmi Clinic

Ayurveda Clinic

Sarvodaya Nagar, Khjali Bag, Sawantwadi Sindhudurg
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Dr. C Vijaya laxmi Clinic Ayurveda Clinic Sarvodaya Nagar, Khjali Bag, Sawantwadi Sindhudurg
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Feed
Services

About

We will always attempt to answer your questions thoroughly, so that you never have to worry needlessly, and we will explain complicated things clearly and simply....more
We will always attempt to answer your questions thoroughly, so that you never have to worry needlessly, and we will explain complicated things clearly and simply.
More about Dr. C Vijaya laxmi Clinic
Dr. C Vijaya laxmi Clinic is known for housing experienced Ayurvedas. Dr. C Vijaya laxmi, a well-reputed Ayurveda, practices in Sindhudurg. Visit this medical health centre for Ayurvedas recommended by 63 patients.

Timings

MON-SAT
10:00 AM - 01:00 PM 05:00 PM - 09:00 PM

Location

Sarvodaya Nagar, Khjali Bag, Sawantwadi
Sawantwadi Sindhudurg, Maharashtra - 461510
Get Directions

Doctor in Dr. C Vijaya laxmi Clinic

Dr. C Vijaya laxmi

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda
34 Years experience
Available today
10:00 AM - 01:00 PM
05:00 PM - 09:00 PM
View All
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. C Vijaya laxmi Clinic

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Ayurvedic Insomnia Treatment

B.A.M.S.
Ayurveda, Rewari
Ayurvedic Insomnia Treatment

In Ayurveda, Insomnia is known as Anidra. According to the Ayurvedic perspective, the doshas (Ayurvedic humors) responsible for this disease are Tarpak Kapha, Sadhak Pitta or Prana Vata.
Tarpak Kapha is a sub-dosha of Kapha (Water). It nourishes the brain cells and facilitates a good night’s sleep. Imbalance of this dosha causes poor nourishment of brain cells, leading to Insomnia. Sadhak Pitta is a sub-dosha of Pitta (Fire) and is located in the heart. It controls emotions, desires, decisiveness, and spirituality. Its imbalance makes a person demanding and workaholic, thereby leading to situations that may cause lack of sleep. Prana Vata is a sub-dosha of Vata (Air). It is linked to insomnia, worry, anxiety, and problems like depression. Prana Vata makes the nervous system sensitive; this sensitive nervous system coupled with an aggravated Prana Vata lead to insomnia.

In each patient, different combinations of doshas can lead to the disease. The Ayurvedic treatment of Insomnia focuses on balancing the aggravated body energies through herbal medicines as well as customized diet and lifestyle plans. Besides that, relaxation of mind is also important part of the treatment.

Weight Gain - Home Remedy

B.A.M.S.
Ayurveda, Rewari
Weight Gain - Home Remedy

Gaining weight by natural means is certainly possible through common home remedies. You may try some of these:
- Bananas, strawberries, mango and nuts can be taken daily.
- Soak figs and raisins in water for a few hours and munch this 2-3 times a day.
- Muskmelon also helps in quick weight gain.
- Ensure to consume adequate amount of milk and milk products daily.
- Fresh pomegranate juice improves your appetite.
- Add 1-2 teaspoon of ghee in your meals daily.
- Increase your protein intake like scrambled egg, sprouted grams, soya, etc

Glucose Benefits, Sources and Side Effects in Hindi - ग्लूकोस के स्रोत, फायदे और नुकसान

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Glucose Benefits, Sources and Side Effects in Hindi - ग्लूकोस के स्रोत, फायदे और नुकसान

हमारी सभी गतिविधियों के लिए ऊर्जा की आवश्यकता है. यहाँ तक कि हमें चलने और साँस लेने के लिए भी ऊर्जा की आवश्यकता होती है. हमारी दैनिक आवश्यकताओं के लिए आवश्यक ऊर्जा का स्रोत ग्लूकोज होता है. हमारे शरीर को ग्लूकोज हमारे आहार में खाए गए स्टार्च और शुगर से प्राप्त होता है. पाचन की प्रक्रिया के दौरान इंसुलिन की सहायता से स्टार्च और शुगर चीनी में टूट जाते हैं. तब ग्लूकोज कोशिकाओं की दीवार में प्रवेश करता है. अगर भोजन में अधिक मात्रा में शुगर होता है तो यह हमारे मांसपेशियों, लिवर और शरीर के अन्य भागों में जमा हो जाता है जो बाद में फैट के रूप में परिवर्तित हो जाता है.

ग्लूकोज के स्रोत
चूंकि ग्लूकोज वजन बढ़ाने और कम करने दोनों तरीकों से काम करता है इसलिए ग्लूकोज को अपने आहार में शामिल करने के लिए सावधानी बरतनी चाहिए. तो चलिए हम आपको बताते हैं कि किस तरह के ग्लूकोज आहार का आपको सेवन करना चाहिए. ताजे फल जैसे तरबूज, रास्पबेरी, अंगूर, ब्लूबेरी, नाशपाती और बेर आपको फाइबर, बहुत अधिक पानी और नेचुरल शुगर प्रदान करते हैं. अतः इन फाइबर युक्त फलों का सेवन करें. रिफाइंड अनाज के सेवन से बेहतर है कि आप साबूत अनाज का सेवन करें. ये आपको फाइबर और पोटेशियम, मैग्नीशियम और सेलेनियम प्रदान करते हैं. अनाज को रिफाइन करने से पोषक तत्व और फाइबर की मात्रा कम हो जाती है. वैसे तो सभी अनाज ग्लूकोज प्रदान करते हैं लेकिन साबुत अनाज अतिरिक्त लाभ प्रदान करते हैं. साबुत अनाज से बने आइटम जैसे ब्रेड आपको बाजार में मिल जाएंगी हैं.
फलियां प्रोटीन का समृद्ध स्रोत हैं और इनमें पोटेशियम, मैग्नीशियम, सेलेनियम और फोलेट जैसे आवश्यक जैसे पोषक तत्व भी शामिल होते हैं. सेम, दाल और मटर में फाइबर (घुलनशील और अघुलनशील) प्रोटीन होते हैं और इसमें किसी भी प्रकार का कोलेस्ट्रॉल नहीं होता है. ये अन्य खाद्य पदार्थों की तुलना में अधिक फायदेमंद होते हैं. फलियों में कोलेस्ट्रॉल और संतृप्त वसा नहीं होता है इसलिए हृदय रोगियों के लिए बहुत लाभदायक है. संतृप्त वसा का सेवन सीमित करने के लिए हमें कम वसा वाले डेयरी उत्पादों का उपयोग करना चाहिए. कम वसा वाले डेयरी उत्पाद हमें कम कैलोरी के साथ विटामिन, खनिज, प्रोटीन, और कैल्शियम देते हैं. पर यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि आप जिस भी डेयरी उत्पाद का सेवन करते हैं उसमें चीनी की मात्रा ज्यादा नहीं होनी चाहिए.

ग्लूकोज के फायदे
रेशेदार भोजन यानि फाइबर युक्त आहार कुछ बीमारियों जैसे टाइप 2 मधुमेह और मोटापे से लड़ने में हमारी मदद करते हैं. फाइबर अपच और कोलेस्ट्रॉल और हृदय रोगों को नियंत्रण में रखने में मदद करता है. फाइबर हम साबुत अनाज से प्राप्त कर सकते हैं. व्यायाम और उचित कैलोरी का सेवन कई बीमारियों जैसे टाइप 2 मधुमेह और हृदय संबंधी समस्याओं को रोकने में मदद करता है. कम वसा, कम कोलेस्ट्रॉल वाले कार्बोहाइड्रेट्स हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा कम कर सकते हैं.
हम में से कई लोग वजन बढ़ने के लिए ग्लूकोज को दोषी मानते हैं. लेकिन उचित तरीके से ग्लूकोज का सेवन आपके वजन को कम करने या नियंत्रित करने में मदद करता है. यदि आप सही तरह से अपने आहार में फल, सब्जियों और रेशेदार खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं तो यह आपका वजन कम करने में मदद करते हैं. ग्लूकोज में समृद्ध आहार वजन घटाने और मांसपेशियों को टोन करने में फायदेमंद है.

ग्लूकोज की अधिक मात्रा के नुकसान
अधिक मात्रा में ग्लूकोज के सेवन से शरीर में कैलोरी की मात्रा बढ़ सकती है जिसके कारण मोटापा हो सकता है. पर्याप्त मात्रा में ग्लूकोज क सेवन नहीं करने से कुपोषण की समस्या हो सकती है. अधिक मात्रा में चीनी का सेवन हमारे स्वस्थ के लिए अच्छा नहीं होता है. यह हमरे वजन को बढ़ाने के साथ-साथ खराब पोषण प्रदान करते है और इसके सेवन से दातों की क्षय भी हो सकती है. इसलिए कैंडी, शुगर ड्रिंक, मिठाई के सेवन से बचें. ये आपको कैलोरी के सिवा कोई पोषण प्रदान नहीं करते हैं.

When Penis Rash Comes From Pityriasis Lichenoides

MD - General Medicine
Sexologist, Delhi
When Penis Rash Comes From Pityriasis Lichenoides

When Penis Rash Comes From Pityriasis Lichenoides

Just as a man may be worried about how an exposed skin rash can make his face or arms look (and about what message such a rash may send to a potential sexual partner), so is he concerned when a penis rash rears its ugly head. Often the penis rash is due to penis health issues, sometimes including the ghastly presence of an STI. But in other cases the rash is simply a dermatological issue, a skin rash that just happens to appear on the penis. That can be the case with pityriasis lichenoides, a skin eruption that is little-known.

About pityriasis lichenoides

As is often the case, the name pityriasis lichenoides makes it sound more formidable and dangerous than it actually is. "Pityriasis" is from a Greek word meaning "bran," and it refers to skin that is flaky or scaly. "Lichenoides" refers to the physical appearance of the rash.

Typically, this rash first presents as bright red oval spots, sometimes flat, sometimes raised like a bump. They can vary in size from 2 mm to 10 mm in diameter. But the spots change, turning into blisters with fluid inside, and then into crusty ulcers. The spots often appear in clusters as an identifiable rash, but sometimes there can be "loners" which occupy an area of skin fairly far away from other spots.

A trio

There are three forms of pityriasis lichenoides, all of which are rare. One form is considered serious. The forms are listed below, referred to in the acronym form by which they are frequently known.

- PLEVA is the one most likely to cause a penis rash, as it tends to occur on the penis in about 10% of cases (usually while also appearing elsewhere on the body). The penis rash may cause itching or a slight burning situation, but often it has no noticeable effects. Without treatment, the rash can last for 6 weeks to about 18 months, usually coming and going several times during the lengthier time frames. PLEVA sometimes leaves behind scarring or some skin discoloration.

- PLC is somewhat more common than PLEVA, and less likely to occur as a penis rash (though still possible). It is milder than PLEVA, with the spots less noticeable and rarely any subsequent scarring.

- FUMHD is the rarest form and the one which is considered quite serious. The spots tend to appear as red or black ulcers, and there are usually other symptoms, including a high fever, severe stomach pain, diarrhea, pains in the joints, interference with breathing and variations in mental state. A doctor should be seen right away.

Treatment

PLEVA and PLC are self-resolving, but because it can take months, many people prefer to have a doctor help the process along. Antibiotics shorten the length of time the disease is present, and steroids can help to make the rash go away. FUMHD requires hospitalization for treatment.

Although a penis rash can be off-putting, pityriasis lichenoides is not known to be contagious.

Pityriasis lichenoides is fortunately a rare source of a penis rash. The itching and discomfort associated with many a penis rash can often be alleviated if a man regularly uses a superior penis health (health professionals recommend Man1 Man Oil, which is clinically proven mild and safe for skin). Even when a rash is not present, an itchy penis is often due to skin that is too dry. Therefore, take care when selecting a crème to be sure it contains both a high-end emollient (such as natural Shea butter) and a powerful hydrator (such as vitamin E). In addition, the presence of vitamin C in the crème is advised. Vitamin C is a prime component of collagen, a tissue in the body that gives skin its tone and elasticity.

Garden Cress Seeds

M.Sc. in Dietetics and Food Service Management , Post Graduate Diploma In Computer Application, P.G.Diploma in Clinical Nutrition & Dietetics , B.Sc.Clinical Nutrition & Dietetics
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
Garden Cress Seeds

Garden Cress Seeds

Vitamin K Benefits, Deficiency, Sources and Side Effects in Hindi - विटामिन K के स्रोत,कमी के लक्षण, फायदे और नुकसान

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Vitamin K Benefits, Deficiency, Sources and Side Effects in Hindi - विटामिन K के स्रोत,कमी के लक्षण, फायदे और नुकसान

हमारे शरीर को स्वस्थ और तंदुरुस्त रखने के लिए विटामिन के की भी आवश्यकता होती है. क्योंकि विटामिन के हमारे शरीर के लिए बहुत आवश्यक विटामिन है. विटामिन के भी अन्य विटामिन्स की तरह हमारे शरीर के कई महत्वपूर्ण कार्यों को अंजाम देता है. विटामिन के हमारी हड्डियों और दिल को स्वस्थ रखता है. इसके साथ ही यह चोट लगने से होने वाले रक्तस्राव को रोकने में मदद करता है. इसके अलावा विटामिन के हमारे शरीर को अनेक प्रकार के रोगों से लड़ने में मदद करता है. आइए विटामिन के, के स्त्रोत, इसकी कमी होने पर दिखाई देने वाले लक्षण, इससे होने वाले फायदे और नुकसान को जानें.

विटामिन के के फायदे
विटामिन के रक्त को जमने से रोकने के लिए और आंतरिक रक्तस्राव, बिलियरी अब्स्ट्रक्शन, ऑस्टियोपोरोसिस, अत्यधिक मासिक धर्म प्रवाह और मासिक धर्म में दर्द को रोकने के लिए एक महत्वपूर्ण विटामिन है. यह हड्डियों के चयापचय, धमनियों के सख़्त होने को रोकने, नर्वस सिगनलिंग में सुधार करने और गुर्दे की पथरी के लिए भी बहुत जरूरी विटामिन है. विटामिन के रक्त के जमने को नियंत्रित करता है. इसके अलावा विटामिन के पूरे शरीर में कैल्शियम को फैलाने में मदद करता है जो रक्त के जमने को नियमित करने के लिए आवश्यक है. यह विटामिन मैलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम नामक रक्त विकार को बेहतर बनाने में मदद करता है. विटामिन के हड्डियों के स्वास्थ्य में सुधार और हड्डियों के फ्रैक्चर के खतरे को कम करने में मदद करता है. हड्डियों को बनाने के लिए हमारा शरीर कैल्शियम का उपयोग करता है और कैल्शियम को हड्डियों तक पहुंचाने में शरीर को विटामिन के की आवश्यकता होती है.
विटामिन के दिल के स्वास्थ्य के लिए अच्छा है. यह धमनियों में खनिजों के निर्माण को रोकने और निम्न रक्तचाप में मदद करता है. इससे हृदय को पूरी तरह से पूरे शरीर में रक्त के परिसंचरण में मदद मिलती है. विटामिन के पेट, कोलोन, लिवर, मुँह, प्रोस्टेट और नाक के कैंसर के खिलाफ लड़ने में मदद करता है. विटामिन के लेने से शरीर में इंन्सुलिन की प्रक्रिया में मदद मिलती है जो रक्त में ग्लूकोज के स्तर को ठीक रखता है और डायबिटीज होने के ख़तरे को कम करता है. यह विटामिन आपके मस्तिष्क को फ्री रेडिकल्स की क्षति के कारण होने वाले ऑक्सीडेटिव तनाव से बचाता है. ऑक्सीडेटिव तनाव मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है और अल्जाइमर रोग, पार्किंसंस रोग जैसी बीमारियों का कारन बन सकता है.

विटामिन के के स्रोत: विटामिन के हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी विटामिन है. विटामिन के हमें हरे पत्तेदार सब्जी, सरसो का साग, मूली, गेहू, जौ, पालक , चुकंदर साग , जैतून तेल, लाल मिर्च, केले, अंकुरित अनाज, रसदार फलों से प्राप्त होता है.

विटामिन के की कमी से नुकसान: विटामिन के की कमी से रक्त स्राव की समस्या हो सकती है जैसे मासिक धर्म , मसूड़ों से व नाक से रक्त आना आदि. आंखों की समस्या भी हो सकती है. विटामिन के की कमी से रक्त धमनियाँ सख़्त हो जाती हैं. विटामिन के की कमी से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं.

विटामिन के की सही मात्रा: अनुशंसित आहार भत्ता (आरडीए) के अनुसार 14 वर्ष की आयु से अधिक लोगों को विटामिन ई 3.6 ग्राम (120 UG) के करीब लेना चाहिए. जो महिलायें स्तनपान करा रही हैं, उनको अधिक आवश्यकता हो सकती है इसलिए ऐसी महिलायें 2.7 ग्राम (90 UG) तक ले सकती हैं| सुरक्षा के लिए ऊपरी सीमा 2.7 ग्राम (90 UG) है.

Dental Hygiene

BDS
Dentist, Betul
Dental Hygiene

Do not use your teeth for doing something other than chewing food. Using them for cracking nuts, removing bottle tops or ripping open packaging can result in chipped or broken teeth.

Yummy Muskmelon

M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Greater Noida
Yummy Muskmelon

Yummy Muskmelon: Summers are here so are our yummy tasty summer fruits one of which is muskmelon or kherbooja. Its not only a tasty but full of health benefits.

Blood Stools? An Alarming Sign

Master in Psychology, MD - Ayurveda, Dems, Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Ghaziabad
Blood Stools? An Alarming Sign

Black stools! An alarming sign.

Black stool is a condition in which the feces are very dark or black in color. Black stool may be normal in some cases and caused by ingesting certain substances or medications, such as iron supplements. However, black stool can also be caused by a serious condition, such as bleeding in the digestive tract caused by a peptic ulcer.

Black stool that is tarry in texture and foul smelling is often a symptom of upper gastrointestinal bleeding from the esophagus, stomach or small intestine. This is called melena.

Very small amounts of blood in the stool may be seen by the naked eye and not significantly change the color of stool. This is called fecal occult blood, which can be a symptom of a serious disease and may be found with regular, routine medical examination. Black stools can be a symptom of a serious condition, such as esophageal varices or peptic ulcer. Seek prompt medical care if you have unusually dark stools or any change in the color or texture of your stool. Black stool may be accompanied by other symptoms, which vary depending on the underlying disease, disorder or condition. 

Symptoms that may accompany black stool include:

  • Abdominal pain or cramping
  • Abdominal swelling or bloated feeling
  • Change in bowel habits
  • Diarrhea
  • Flatulence, gas or indigestion
  • Flu-like symptoms (fatigue, fever, sore throat, headache, cough, aches and pains)
  • Foul-smelling stool
  • Nausea and vomiting
  • Poor appetite
  • Rectal pain or burning sensation
  • Unexpected weight loss

Serious symptoms that might indicate a life-threatening condition:

In some cases, black stool can indicate a life-threatening condition that should be immediately evaluated in an emergency settings.

Change in level of consciousness or alertness, such as passing out or unresponsiveness

Change in mental status or sudden behavior change, such as confusion, delirium, lethargy, hallucinations and delusions

Dizziness: High fever (higher than 101 degrees fahrenheit)

Palpitations: Rapid heart rate (tachycardia). Respiratory or breathing problems, such as shortness of breath, difficulty breathing, labored breathing, wheezing, not breathing, or choking

Complications include: Anaemia, cardiomegaly, shock, generalised body edema.

Easy Way To Lose Weight

Dietitian/Nutritionist, Jammu
Easy Way To Lose Weight

To lose weight, choose vegetable salads over fruits, as vegetable salads have more fiber and no fructose, chose veggies like cucumber, lettuce, broccoli to make healthy weight loss salad.

View All Feed

Near By Clinics