Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

medishine hospital

Internal Medicine Specialist Clinic

new Rajendra nagar Raipur
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
medishine hospital Internal Medicine Specialist Clinic new Rajendra nagar Raipur
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Feed
Services

About

Our goal is to offer our patients, and all our community the most affordable, trustworthy and professional service to ensure your best health....more
Our goal is to offer our patients, and all our community the most affordable, trustworthy and professional service to ensure your best health.
More about medishine hospital
medishine hospital is known for housing experienced Internal Medicine Specialists. Dr. Yogendera Malhotra, a well-reputed Internal Medicine Specialist, practices in Raipur. Visit this medical health centre for Internal Medicine Specialists recommended by 99 patients.

Location

new Rajendra nagar
Raipur, Chhattisgarh - 492001
Get Directions

Doctor

View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for medishine hospital

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Know More About Liposuction

FAPS (Cosmetic Surgery)-USA,, M.Ch - Plastic Surgery, MS - General Surgery, MBBS
Cosmetic/Plastic Surgeon, Delhi
Play video

How Liposuction is performed?

Know More About Liposuction

DNB, MCh - Plastic and Reconstructive Surgery, MS - Plastic Surgery, MBBS
Cosmetic/Plastic Surgeon, Delhi
Play video

Briefing on Liposuction and its treatment

How to Get Rid of Excessive Weight Gain?

B.P.T, M.P.T(ORTHO), Certification in Gym Instructor & Prenatal and Post natal
Physiotherapist, Gurgaon
Play video

Natural Ways to Prevent Abdominal Obesity!

Cold Sores - Know Everything About It!

MBBS, Diploma In Dermatology And Venerology And Leprosy (DDVL)
Dermatologist, Chennai
Cold Sores - Know Everything About It!

Cold sores alternatively known as fever blisters is a viral infection which usually occurs around the mouth.They occur in patches and heal within 2 to 4 weeks usually without leaving behind any scars. Cold sores are contagious and can be spread from person to person via close contact. Read on more to find all about them.

Symptoms
Usually cold sores passes through multiple stages.

  1. Tingling and itching: People usually experience a tingling, burning sensation around the lips prior to blisters which may appear within a day or two after such a sensation.
  2. Blisters: These blisters are small, filled with fluids and usually break out along the border of the skin and the lips. They can also occur around the nose or cheeks.
  3. Oozing and crusting: The blisters have a tendency to burst which leaves shallow open sores which then usually crust over.

Some other symptoms which accompany cold sores are fever, headache, sore throat, muscle aches and swollen lymph nodes.

Causes
Strands of the herpes simplex virus (HSV-1) typically cause cold sores. In some instances HSV-2 can also cause cold sores. Cold sores are most contagious when they are in the form of oozing blisters. It can spread by sharing the same utensils, kissing, sharing towels and razors and also oral sex. Cold sores can be triggered due to several factors such as stress, fatigue, fever, hormonal changes and changes in the immune system.

Risk Factors
About 90% of adults worldwide test positive for this virus. People who have a weakened immune system are more prone to be infected by the virus. For example people suffering from eczema, AIDSand severe burns have a higher chance of contracting cold sores.

Complications
In certain cases cold sores affect other parts of the body. Fingertips, hands, and some other parts of the body are affected by both HSV-1 and HSV-2 in some instances. It can also cause eye infections which can lead to blindness or may even spread to the spinal cord and the brain in people who have a very weak immune system.

Treatment
Cold sores have no treatment and they usually clear up without any medication within 2 to 4 weeks. However certain antiviral medications are present which speed up the healing process. If you wish to discuss about any specific problem, you can consult a Dermatologist.

1 person found this helpful

Obesity - How Lifestyle Changes Can Help You

Doctrate in Dietetics, Ph. D - Psychology
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Play video

How To Get Rid Of Obesity?

1 person found this helpful

Bar Soap vs. Body Wash: Which is Better for You?

MD - Dermatology, MBBS, DDV
Dermatologist, Pune
Bar Soap vs. Body Wash: Which is Better for You?

The most important part of skincare is keeping your skin cleansed and fresh. But before that, it is imperative to find the right product for the same. Skin type varies from person to person, and hence finding skincare goods most suited to your skin makes all the difference.

Bathing habits directly affect the quality of your skin, which involves picking the appropriate cleanse; i. E. Choosing between a body soap and body wash. Each has a different set of characteristics and comes with its own set of advantages and disadvantages. Let's find out which one is better for your skin.

Why you should choose bathing soap bar:

  •  it is more effective in removing dirt through deep cleansing
  •  it is suited to skin that is excessively oily in nature as it contains ingredients that are highly effective in stripping off excess oil from the skin


Why you should not choose bathing soap bar:

  •  it tends to strip the skin of its natural oils and moisture, making it dry and flaky
  •  it is unhygienic in case of sharing between individuals as soaps tend to accumulate the dirt from your skin due to direct body contact

Reasons to pick a body wash:

  •  it has a very mild and gentle effect on the skin in comparison to soaps
  •  it keeps the skin moisturized by preserving natural oils
  •  it is more hygienic than bar soaps in case of interpersonal sharing
  •  it is the most suitable option for dry skin

Reasons to ditch a body wash:

  •  it contains a large amount of artificial additives and preservatives that can do more harm to your skin than good, giving rise to allergic reactions in some cases

So, who's the winner of the two?

You must certainly base the choice on what's best for your skin type. Body soap is more compatible with oily skin while dry skin is better suited for body wash. A body wash, however, is much more gentle on your skin. If you wish to discuss about any specific problem, you can consult a Dermatologist.

4 people found this helpful

Hello Doctor. Main pahle smoking karta tha. To mere chest main pain hota tha. Aur ab maine karib 2 years se smoking karna chod diya hai. Phir bhi kabhi kabhi dard hota hai. Maine ek doctor ko dikhaya tha to doctor bol rhe hai ki lung problem hai. Kuch medicine diye the US se kuch bhi thik nahi hua. Pls suggest me some medicines for me. I am so depressed about my life.

CCEBDM, PG Diploma In Clinical cardiology, MBBS
General Physician, Ghaziabad
Hello Doctor. Main pahle smoking karta tha. To mere chest main pain hota tha. Aur ab maine karib 2 years se smoking k...
Do not be depressed. There is no big problem, get your blood cbc and Xray chest done and report results with details of medicine taken/taking good luck.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Mere Nabhi key left main upar side Ko Dard ho Raha hai Kafe din se ye Kaya ho Sakta hai jaise kuch chubhta hai. ultra sound main kuch nahin Aya hai.

MBBS
General Physician, Ahmedabad
Mere Nabhi key left main upar side Ko Dard ho Raha hai Kafe din se ye Kaya ho Sakta hai jaise kuch chubhta hai. ultra...
It can be muscle pain or due to indigestion. Details of symptoms like vomiting and diarrhea or fullness after meal duration of it and reports required for proper scientific suggestions. Feel free to ask privately with details for more scientific suggestions.
Submit FeedbackFeedback

Hey. I am 24 years old .my height is 5'7 and weight 62 and I want to loose weight upto 5 kgs. I am vegetarian. How would I manage my diet? How much protien n carbs should I take daily? So that I can also keep my skin glow and healthy. My skin is also so dull. And I am getting married by the end of this year.

Certified Nutrition Consultant
Dietitian/Nutritionist, Kolhapur
Hey. I am 24 years old .my height is 5'7 and weight 62 and I want to loose weight upto 5 kgs. I am vegetarian. How wo...
Your BMI shown you are at normal range of healthy weight .In my Opinion You Need to get diet for lean Bulk with gym which makes You asthetic and help you to get good physique.
Submit FeedbackFeedback

I am non-vegetarian. I am suffering from diabetes. I follow no rules when comes to food. I am presently 86 Kgs at this age of 40 years and height 5'6' Kindly suggest the correct diet in my concern to reduce my weight as per body mass index.

M.Sc. in Dietetics and Food Service Management , Post Graduate Diploma In Computer Application, P.G.Diploma in Clinical Nutrition & Dietetics , B.Sc.Clinical Nutrition & Dietetics
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
I am non-vegetarian. I am suffering from diabetes. I follow no rules when comes to food. I am presently 86 Kgs at thi...
Take high fiber low fat diet. Drink lot of water everyday. Take small and frequent meals at regular intervals of 2-3 hrs. Avoid outside food completely. Ask me privately for customized diet plan for you.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I have a problem of loose stools in morning and when I have something heavy in my breakfast or milk instantly I got a feeling of bloating. This condition is may be because I have eaten 9 raw eggs at a time. I don't have any weight loss. But I won't be able to drink milk that I want to. Anyggestions will be appreciated.

M. Sc. Foods, Nutrition & Dietetics, B.Sc-Home Science
Dietitian/Nutritionist, Visakhapatnam
I have a problem of loose stools in morning and when I have something heavy in my breakfast or milk instantly I got a...
I guess you have lactose intolerance or allergic to milk proteins. That's why you are not able to digest the milk consumed. Immediately consult a good physician and get it checked. But until you rule out your symptoms of abdominal bloating do avoid milk and milk products.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hiv Aids Information in hindi - एचआईवी एड्स की जानकारी

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Hiv Aids Information in hindi -  एचआईवी एड्स की जानकारी

एड्स नाम अपने आपमें भयावह और दर्दनाक एहसास दिला देता है। बीमारियाँ वैसे तो बदनाम होती ही हैं पर एड्स को बिमारी नहीं बल्कि कई जानलेवा बीमारियों का जरिया कहना गलत नहीं होगा। यह एक ऐसी बीमारी है जिससे पीड़ित व्यक्ति जीने की उम्मीद खोकर मरने की राह देखने लगता है। इसलिए हम सभी को एड्स के बारे में पूरी जानकारी होनी ही चाहिए।

दरसल एड्स एचआईवी वायरस के कारण होने वाली एक बीमारी है। यह तब होता है जब व्यक्ति का इम्यून सिस्टम इंफेक्शन से लड़ने में कमज़ोर पड़ जाता है। और तब विकसित होता है, जब एचआईवी इंफेक्शन बहुत अधिक बढ़ जाता है। एड्स एचआईवी इंफेक्शन का अंतिम चरण होता है। जब शरीर स्वयं की रक्षा नहीं कर पाता और शरीर में कई प्रकार की बीमारियाँ, संक्रमण हो जाते हैं एचआईवी शरीर की रोग प्रतिरोधी क्षमता पर आक्रमण करता है। जिसका काम शरीर को संक्रामक बीमारियों, जो कि जीवाणु और विषाणु से होती हैं से बचाना होता है। एच.आई.वी. रक्त में उपस्थित प्रतिरोधी पदार्थ लसीका-कोशो पर हमला करता है। ये पदार्थ मानव को जीवाणु और विषाणु जनित बीमारियों से बचाते हैं और शरीर की रक्षा करते हैं। जब एच.आई.वी. द्वारा आक्रमण करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता क्षय होने लगती है तो इस सुरक्षा कवच के बिना एड्स पीड़ित लोग भयानक बीमारियों क्षय रोग और कैंसर आदि से पीड़ित हो जाते हैं। और शरीर को कई अवसरवादी संक्रमण यानि आम सर्दी जुकाम, फुफ्फुस प्रदाह इत्यादि घेर लेते हैं। जब क्षय और कर्क रोग शरीर को घेर लेते हैं तो उनका इलाज करना कठिन हो जाता है और मरीज की मृत्यु भी हो सकती है। 

अभी तक एचआईवी या एड्स के लिए कोई उपचार उपलब्ध नहीं है। हालाँकि सही उपचार और सहयोग से एचआईवी से ग्रसित व्यक्ति लम्बा और स्वस्थ जीवन जी सकता है। और ऐसा करने के लिए आवश्यक है, कि उचित उपचार लिया जाए और किसी भी संभावित दुष्परिणाम से निपटा जाए। 
  
एड्स कैसे फैलता है
अगर एक सामान्य व्यक्ति एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के वीर्य, योनि स्राव अथवा रक्त के संपर्क में आता है, तो उसे एड्स हो सकता है। आमतौर पर लोग एच.आई.वी. पॉजिटिव होने को एड्स समझ लेते हैं, जो कि गलत है। बल्कि एचआईवी पॉजिटिव होने के 8-10 साल के अंदर जब संक्रमित व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता क्षीण हो जाती है तब उसे घातक रोग घेर लेते हैं और इस स्थिति को एड्स कहते हैं। 

एड्स होने के 4 अहम वजह 
(1) पीड़ित व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन सम्बन्ध स्थापित करने 
(2) दूषित रक्त से।
(3) संक्रमित सुई के उपयोग 
(4) एड्स संक्रमित माँ से उसके होने वाली संतान को। 
 
एड्स के लक्षण 
एच.आई.वी से संक्रमित लोगों में लम्बे समय तक एड्स के कोई लक्षण दिखाई नहीं देते। लंबे समय तक (3, 6 महीने या अधिक) एच.आई.वी. का भी औषधिक परीक्षण से पता नहीं लग पाता। अधिकतर एड्स के मरीजों को सर्दी, जुकाम या विषाणु बुखार हो जाता है पर इससे एड्स होने का पता नहीं लगाया जा सकता। एच.आई.वी. वायरस का संक्रमण होने के बाद उसका शरीर में धीरे धीरे फैलना शुरू होता है। जब वायरस का संक्रमण शरीर में ज्यादा बढ़ जाता है, उस समय बीमारी के लक्षण दिखाई देते हैं। एड्स के लक्षण दिखने में आठ से दस साल का समय भी लग सकता है। ऐसे व्यक्ति को, जिसके शरीर में एच.आई.वी. वायरस हों पर एड्स के लक्षण प्रकट न हुए हों, उसे एचआईवी पॉसिटिव कहा जाता है। पर ध्यान रहे ऐसे व्यक्ति भी एड्स फैला सकते हैं। 

एड्स के कुछ शुरूआती लक्षण 

  • वजन का काफी हद तक काम हो जाना
  • लगातार खांसी आना 
  • बार-बार जुकाम होना
  • बुखार
  • सिरदर्द
  • थकान
  • शरीर पर निशान बनना (फंगल इन्फेक्शन के कारण)
  • हैजा
  • भोजन से मन हटना 
  • लसीकाओं में सूजन

ध्यान रहे कि ऊपर दिए गए लक्षण अन्य सामान्य रोगों के भी हो सकते हैं। अतः एड्स की निश्चित रूप से पहचान केवल और केवल, औषधीय परीक्षण से ही की जा सकती है व की जानी चाहिये। एच.आई.वी. की उपस्थिति का पता लगाने हेतु मुख्यतः एंजाइम लिंक्ड इम्यूनोएब्जॉर्बेंट एसेस यानि एलिसा टेस्ट करवाना चाहिए।
 
एड्स का उपचार
एड्स के उपचार में एंटी रेट्रोवाईरल थेरपी दवाईयों का उपयोग किया जाता है। इन दवाइयों का मुख्य उद्देश्य एच.आई.वी. के प्रभाव को काम करना, शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करना और अवसरवादी रोगों को ठीक करना होता है। समय के साथ-साथ वैज्ञानिक एड्स की नई-नई दवाइयों की खोज कर रहे हैं। लेकिन सच कहा जाए तो एड्स से बचाव ही एड्स का सर्वोत्तम इलाज है।  
 
एड्स से बचाव 
एड्स से बचाव के लिए सामान्य व्यक्ति को एच.आई.वी. संक्रमित व्यक्ति के वीर्य, योनि स्राव अथवा रक्त के संपर्क में आने से बचें। साथ ही साथ एड्स से बचाव के लिए बताई गई कुछ सावधानियां भी बरतें।

  • पीड़ित साथी या व्यक्ति के साथ यौन सम्बन्ध न स्थापित करने से बचें और अगर करें भी तो सावधानीपूर्वक कंडोम का इस्तेमाल करें। लेकिन कई बार कंडोम इस्तेमाल करने में भी कंडोम के फटने का खतरा रहता है। इसलिए एक से अधिक व्यक्ति से यौन संबंध ना रखें।
  • खून को अच्छी तरह जांचकर ही चढ़ाएं। कई बार बिना जांच के खून मरीज को चढ़ा दिया जाता है जोकि खतरनाक है। इसलिए खून चढ़ाने से पहले पता करें कि कहीं खून एच.आई.वी. दूषित तो नहीं है। 
  • उपयोग की हुई सुईओं या इंजेक्शन का प्रयोग न करें क्योंकि ये एच.आई.वी. संक्रमित हो सकते हैं। 
  • दाढ़ी बनवाते समय हमेशा नाई से नया ब्लेड उपयोग करने के लिए कहें। 

एड्स की इन जानकारियों के साथ ही जरूरी हम एड्स के बारे में फैली हुई गलत्फहेमियों से वाकिफ रहें 
 
कई लोग समझते हैं कि एड्स पीड़ित व्यक्ति के साथ खाने, पीने, उठने, बैठने से एड्स हो जाता है। जो कि पूरी तरह गलत है। ऐसी भ्रांतियों से बचें। हकीक़त में रोजमर्रा के सामाजिक संपर्कों से एच.आई.वी. नहीं फैलता जैसे किः-

  • पीड़ित के साथ खाने-पीने से
  • बर्तनों कि साझीदारी से 
  • हाथ मिलाने या गले मिलने से 
  • एक ही टॉयलेट का प्रयोग करने से
  • मच्छर या अन्य कीड़ों के काटने से 
  • पशुओं के काटने से 
  • खांसी या छींकों से 
  • बताई गई बातों को समझकर सावधानी बरतें और पीड़ित व्यक्ति रेगुलर इलाज करवाएं।
     

Menstrual Cycle in hindi - मासिक धर्म क्या है ?

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Menstrual Cycle in hindi - मासिक धर्म क्या है ?

अक्सर हमेशा हंसने खेलने वाली चंचल लड़कियां भी महीने के कुछ दिन दबी दबी दुखी सी शर्माती खुदको छिपाती नजर आती हैं। और इसी वक़्त पर हम गौर करें तो पाएंगे कि घर परिवार के कुछ लोग भी उससे कटे कटे रहते हैं कई चीजों को छूने कई जगह जाने पर पर भी मनाही होती है। जी हां बिलकुल सही समझें आप हम बात कर रहे हैं पीरियड्स की। यह केवल महिलाओं ही नही पुरुषों या यूँ कहें मानव वृद्धि के लिए सबसे अहम घटना है। तो चलिए आज हम जानते हैं पीरियड्स क्या हक़ क्यों आता है इसका सही समय, महत्व आदि। 
पीरियड्स या मासिक धर्म स्त्रियों को हर महीने योनि से होने वाला लाल रंग के स्राव को कहते है। पीरियड्स के विषय में लड़कियों को पूरी जानकारी नहीं होने पर उन्हें बहुत दुविधा का सामना करना पड़ता है। पहली बार पीरियड्स होने पर जानकारी के अभाव में लड़कियां बहुत डर जाती है। उन्हें बहुत शर्म महसूस होती है और अपराध बोध से ग्रस्त हो जाती है। 

पीरियड्स को रजोधर्म भी कहते है। ये शारीरिक प्रक्रिया सभी क्रियाओं से अधिक महवपूर्ण है, क्योकि इसी प्रक्रिया से ही मनुष्य का ये संसार चलता है। मानव की उत्पत्ति इसके बिना नहीं हो सकती। प्रकृति ने स्त्रियों को गर्भाशय ओवरी फेलोपियन ट्यूब, और वजाइना देकर उसे सन्तान उत्पन्न करने का अहम क्षमता दिया है। इसलिए पीरियड्स या मासिक धर्म गर्व की बात होनी चाहिए ना कि शर्म की या हीनता की। सिर्फ इसे समझना और संभालना आना जरुरी है। इस प्रक्रिया से घबराने या कुछ गलत या गन्दा होने की हीन भावना महसूस करने की बिल्कुल आवश्यकता नहीं है। पीरियड्स मासिक धर्म को एक सामान्य शारीरिक गतिविधि ही समझना चाहिए जैसे उबासी आती है या छींक आती है। भूख, प्यास लगती है या सू-सू पोटी आती है।

मासिक चक्र

  • दो पीरियड्सके बीच का नियमित समय मासिक चक्र ( Menstruation Cycle ) कहलाता है। नियमित समय पर पीरियड्स( Menses ) होने का मतलब है कि शरीर के सभी प्रजनन अंग स्वस्थ है और अच्छा काम कर रहे है। मासिक चक्र की वजह से ऐसे हार्मोन बनते है जो शरीर को स्वस्थ रखते है। हर महीने ये हार्मोन शरीर को गर्भ धारण के लिए तैयार कर देते है।
  • मासिक चक्र के दिन की गिनती पीरियड्सशुरू होने के पहले दिन से अगली पीरियड्सशुरू होने के पहले दिन तक की जाती है। लड़कियों में मासिक चक्र 21 दिन से 45 दिन तक का हो सकता है। महिलाओं को मासिक चक्र 21 दिन से 35 दिन तक का हो सकता है। सामान्य तौर पर मासिक चक्र 28 दिन का होता है।

मासिक चक्र के समय शरीर में परिवर्तन 

1. हार्मोन्स में परिवर्तन
 मासिक चक्र के शुरू के दिनों में एस्ट्रोजन नामक हार्मोन बढ़ना शरू होता है। ये हार्मोन शरीर को स्वस्थ रखता है विशेषकर ये हड्डियों को मजबूत बनाता है। साथ ही इस हार्मोन के कारण गर्भाशय की अंदरूनी दीवार पर रक्त और टिशूज़ की एक मखमली परत बनती है ताकि वहाँ भ्रूण पोषण पाकर तेजी से विकसित हो सके। ये परत रक्त और टिशू से बनी होती है।
2. ओव्यूलेशन 
संतान उत्पन्न होने के क्रम में किसी एक ओवरी में से एक विकसित अंडा डिंब निकल कर फेलोपीयन ट्यूब में पहुँचता है। इसे ओव्यूलेशन कहते है। आमतौर पर ये मासिक चक्र के 14 वें दिन होता है । कुछ कारणों से थोड़ा आगे पीछे हो सकता है। 
ओव्यूलेशन के समय कुछ हार्मोन जैसे एस्ट्रोजन आदि अधिकतम स्तर पर पहुँच जाते है। इसकी वजह से जननांगों के आस पास ब्लड सर्कुलेशन बढ़ जाता है। योनि के स्राव में परिवर्तन हो जाता है। जिसके कारण महिलाओं की सेक्सुअल डिजायर बढ़ जाती हैं। इसलिए इस ड्यूरेशन में सेक्स करने पर प्रेग्नेंट होने के चन्वेस बढ़ जाते हैं।
3. अंडा 
फेलोपियन ट्यूब में अगर अंडा शुक्राणु द्वारा निषेचित हो जाता है तो भ्रूण का विकास क्रम शुरू हो जाता है। अदरवाइज 12 घंटे बाद अंडा खराब हो जाता है। अंडे के खराब होने पर एस्ट्रोजन हार्मोन का लेवल कम हो जाता है। गर्भाशय की ब्लड व टिशू की परत की जरुरत ख़त्म हो जाती है। और ऐसे में यही परत नष्ट होकर योनि मार्ग से बाहर निकल जाती है। इसे ही पीरियड्स, मेंस्ट्रुल साइकिल, महीना आना या रजोधर्म भी कहा जाता है। और इस दौर से गुजऱने वाली स्त्री को रजस्वला कहा जाता है।
4. ब्लीडिंग
पीरियड्स के समय अक्सर यह मन में यह मन में यह सवाल आता है की ब्लीडिंग कितने दिन तक होना चाहिए और कितनी मात्रा में होना चाहिए कि जिसे सामान्य मानें। पीरियड यानि MC के समय निकलने वाला स्राव सिर्फ रक्त नहीं होता है। इसमें नष्ट हो चुके टिशू भी होते है। अतः ये सोचकर की इतना सारा रक्त शरीर से निकल गया, फिक्र नहीं करनी चाहिए। इसमें ब्लड की क्वांटिटी करीब 50 ml ही होती है। नैचुरली पीरियड्स तीन से छः दिन तक होता है। तथा स्राव की मात्रा भी अलग अलग हो सकती है। यदि स्राव इससे ज्यादा दिन तक चले तो डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।

पीरियड्स से पहले के लक्षण
लड़कियों को शुरू में अनियमित पीरियड्स, ज्यादा या कम दिनों तक पीरियड, कम या ज्यादा मात्रा में स्राव, डिप्रेशन आदि हो सकते है। इसके अलावा पीएमएस यानि पीरियड्स होने से पहले के लक्षण नजर आने लगते है। अलग अलग स्त्रियों को पीएमएस के अलग लक्षण हो सकते है। इस समय पैर, पीठ और अँगुलियों में सूजन या दर्द हो सकता है। स्तनों में भारीपन, दर्द या गांठें महसूस हो सकती है। सिरदर्द, माइग्रेन, कम या ज्यादा भूख, मुँहासे, त्वचा पर दाग धब्बे, आदि हो सकते है। इस तरह के लक्षण पीरियड शुरू हो जाने के बाद अपने आप ठीक हो जाते है। इसलिए उन दिनों में अपने आपको सहारा डैम और मजबूत बनें।

पीरियड्स आने की उम्र 
आमतौर पर लड़कियों में पीरियड्स 11 से 14 साल की उम्र में शुरू हो जाती है। लेकिन अगर थोड़ा देर या जल्दी आजाए तो चिंता न करें। पीरियड्सशुरू होने का मतलब होता है की लड़की माँ बन सकती है। शुरुआत में पीरियड्सऔर ओव्यूलेशन
के समय में अंतर हो सकता है। यानि हो सकता है की पीरियड्सशुरू नहीं हो लेकिन ओव्यूलेशन शुरू हो चुका हो। ऐसे में गर्भ धारण हो सकता है। और इसका उल्टा भी संभव है। यह बहुत महत्त्वपूर्ण है कि पीरियड्स शुरू नहीं होने पर भी प्रेगनेंट होना संभव है इसलिए सावधानी बरतें।

पहले ही किशोरियों को समझाएं 
लड़कियों में शारीरिक परिवर्तन दिखने पर या लगभग 10 -11 साल की उम्र में मासिक धर्म के बारे में जानकारी देकर इसे कैसे मैनेज करना है समझा देना चाहिए। जिससे वे शरीर में होने वाली इस सामान्य प्रक्रिया के लिए मानसिक रूप से भी तैयार हो जाएँ। साथ ही आप लोगों को भी यह समझने की जरूरत है कि पीरियड्स मवं में अपवित्रता जैसा कुछ नहीं है। ये एक सामान्य शारीरिक क्रिया है जो एक जिम्मेदारी का अहसास कराती है। इसकी वजह से लड़कियों पर आने जाने या खेलने कूदने पर पाबन्दी नहीं लगानी चाहिए। पर ध्यान रहे बच्चियों को गर्भ धारण करने की सम्भावना के बारे में जरूर समझाना चाहिए जिससे वे सतर्क रहें। 

पीरियड्स आने पर 
सभी महिलाएं पीरियड्स की डेट जरूर याद रखें जिससे आप पहले ही तैयार रहें। 
इस दौरान खुदको किसी चीज़ से न रोकें नहीं। सामान्य जीवन शैली ही जिएं। बस अगर मौका मिले तो थोड़ा आराम करें।
 

2 people found this helpful

My father is 59 years old, he suffers from diabetic and has sugar level more than 230. For past few days his food consumption level reduced. He gets tired, He says the is more pain on his legs, He gets wheezing problem when he talks continuously for 5 minutes. He gets fever feeling every evening. He goes urine every one hour. His water consumption are also less. Is these problem are abnormal for sugar patient or my father has some other problem. Please reply.

MBBS, CCEBDM, Diploma in Diabetology
Endocrinologist, Hubli-Dharwad
My father is 59 years old, he suffers from diabetic and has sugar level more than 230. For past few days his food con...
Hello, Thanks for the query. Please answer following questions before I can suggest any treatment for him. 1) Since when is he having diabetes? 2) Has it been always been not under control or only recently has the control gone down? 3) What is his HbA1c%? 4) The evening rise of body temperature has been seen since how long? 5) Did have Tuberculosis infection any time earlier? 6) Similarly getting breathless has been noticed since when? Get following investigations: 1) Full diabetic profile (Fasting, PP, HbA1c%, creatinine, urea, uric acid,), lipid profile, sputum test for AFB, chest x-ray Come back with all these details, or consult your local physician. His diabetes needs to be controlled first effectively. Ideally FBG <100 mg, PP 160 to 170 mg & HbA1c% <7, these are the standards to be reached. I await your response. Thanks.
Submit FeedbackFeedback

My age is 48 and my weight is 82 kgs. From the past 40 days I'm taking green tea with Lemon an honey and evening before 8 pm I am completing my dinner also. But till now I didn't reduced my weight even 2 kgs. Please suggest me to the effective diet plan.

Masters in Nutritional Therapy, N.E.T
Dietitian/Nutritionist, Kolkata
My age is 48 and my weight is 82 kgs. From the past 40 days I'm taking green tea with Lemon an honey and evening befo...
Hello Mr. lybrate-user, I would like to suggest that either taje grren tea/lemon with honey. YOU ARE NOT ADVISED TO MIX BOTH! Try to include whole grains, cereals, fruits and more of veggies in your diet. You should be engaging in physical activity atleast for 30 mins in a day. Try to finish your meals timely and moreover stay happy.
Submit FeedbackFeedback

Keto Diet and problem with high level of Uric acid & creatine. Is keto good for Indian people who usually eat rice and chapati Is keto diet good for fatty liver, diabetes patients and to burn tummy fat. I was on keto diet before I stopped to fix my uric level. I ate chicken for lunch and salads in the evening and I felt energetic and lose weight of more than 3 kg in a week. My question is should I go back and re-start my keto Diet where I only eat vegetables and less fat and carbohydrates to fix my fatty liver? What are the main things should I look when I am on ketogenic diet. Thank you.

Masters in Nutritional Therapy, N.E.T
Dietitian/Nutritionist, Kolkata
Keto Diet and problem with high level of Uric acid & creatine. Is keto good for Indian people who usually eat rice an...
Hi lybrate-user, I would not recommebd you to go on a ketogenic diet. If you want to maintain a long term health plan, try to keep your choices as simple and easy to maintain. If you have a fatty liver, switch to eating more of fruits and vegetables. If you want to burn tummy fat, there's no magic potion available. You have to engage in some form of physical exercise to maintain it lifelong!
Submit FeedbackFeedback

Hi I am a 15 years old guy and my question is- yesterday I walk on the road and suddenly a lin and thin man say something and some saliva from his mouth touches my mouth. What happen to me now? Is I got hiv from this sort of thing?

MBBS
General Physician, Ahmedabad
Hi I am a 15 years old guy and my question is- yesterday I walk on the road and suddenly a lin and thin man say somet...
Not likely unless you have deep kiss, and broken bucal mucosa. However you go for HIV TEST SCREENING at 6 wks and 6 MONTHS.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I'm suffering from left foot pain due to fall of 2 wheeler. Consulted doc got an x-ray he said it's TENDO ACHILLES AND TIBIALIS ANTERIOR TENDINITIS. Gave tab for 5 days. But pain still continues when I walk and all.

MBBS
General Physician, Ahmedabad
I'm suffering from left foot pain due to fall of 2 wheeler. Consulted doc got an x-ray he said it's TENDO ACHILLES AN...
Pain due to injury may remain for about 10-15 days. Take some rest and use crepe bandage. Feel free to ask privately with details of your symptoms and reports for more scientific suggestions.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hello! I am a non vegetarian and a housewife. Recently in last 1 and a half year I gained 9 kgs of my weight. Kindly help me how I can reduce my weight. Previously it was 51 and now 60 kgs. And my age is 29.

M.Sc. in Dietetics and Food Service Management , Post Graduate Diploma In Computer Application, P.G.Diploma in Clinical Nutrition & Dietetics , B.Sc.Clinical Nutrition & Dietetics
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
Hello! I am a non vegetarian and a housewife. Recently in last 1 and a half year I gained 9 kgs of my weight. Kindly ...
Take high fiber low fat diet. Drink lot of water everyday. Take small and frequent meals at regular intervals of 2-3 hrs. Avoid outside food completely. Ask me directly for customized diet plan for you.
Submit FeedbackFeedback

Hair Transplant Surgery - Benefits You Must Know!

MBBS, MD - Dermatology
Dermatologist, Ahmedabad
Hair Transplant Surgery - Benefits You Must Know!

Hair transplantation surgery is a procedure where the hair follicles are taken from a donor site (usually the side or back of the head) and implanted on the recipient site that is on the area of baldness. This is a common treatment for men with androgenic alopecia (male pattern baldness) where the hair follicles reduce due to the influence of androgenic hormones. It can also help women with female pattern baldness. Many people have reservations about the procedure but hair transplantation comes with a number of advantages, such as:

  1. Natural growth after surgery: The biggest and most obvious benefit of hair transplantation is that it improves your physical appearance and eliminates the problem of balding completely. This is because the implanted hair follicles continue their natural growth process after they have been transplanted. So, your hair does not look artificial. Premature bald spots often result in low self-esteem and self-confidence issues which can be effectively addressed by the surgery.
  2. Uniform distribution of hair follicles: Hair transplantation with latest techniques gives natural distribution of hair and proper coverage of bald areas
  3. Easy procedure and no side effects: The operation is done under local anaesthesia . You will feel no pain throughout the procedure. Very comfortable procedure and you will be awake throughout the procedure. This surgery is done at the level of skin and this is not related to the brain. There is no side effects of this surgery. Today, the surgeons mostly use micro grafts which are placed in such a way that all bald spots are covered with minimal effort.
  4. One time procedure : Hair transplantation is the only permanent solution of baldness. No medical treatment for baldness is permanent. Once the hair transplantation has been done, it lasts a lifetime. .Since the grafts are made of your own hair, they continue to grow naturally throughout your lifetime allowing you to cut or style your hair as you wish. If you wish to discuss about any specific problem, you can consult a Dermatologist.
3 people found this helpful
View All Feed

Near By Clinics

Sri Krishna Hospital

Rajendra Nagar, Patna, Raipur
View Clinic

Sadbhavna Clinic

Raipur, Raipur, Raipur
View Clinic
  4.4  (19 ratings)

Bardia Dental Care

Dhamtari Road, Raipur, raipur
View Clinic