Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Natural Herbs Pvt Ltd

Ayurveda Clinic

37 Kamdhenu Shopping Center Lokhandwala Andheri West Mumbai
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Natural Herbs Pvt Ltd Ayurveda Clinic 37 Kamdhenu Shopping Center Lokhandwala Andheri West Mumbai
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

Customer service is provided by a highly trained, professional staff who look after your comfort and care and are considerate of your time. Their focus is you....more
Customer service is provided by a highly trained, professional staff who look after your comfort and care and are considerate of your time. Their focus is you.
More about Natural Herbs Pvt Ltd
Natural Herbs Pvt Ltd is known for housing experienced Ayurvedas. Dr. Deepa Kadam, a well-reputed Ayurveda, practices in Mumbai. Visit this medical health centre for Ayurvedas recommended by 62 patients.

Timings

TUE, THU
07:00 PM - 09:00 PM

Location

37 Kamdhenu Shopping Center Lokhandwala Andheri West
Andheri West Mumbai, Maharashtra - 400053
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctor in Natural Herbs Pvt Ltd

Dr. Deepa Kadam

MD - Ayurveda
Ayurveda
19 Years experience
Unavailable today
View All
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Natural Herbs Pvt Ltd

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Take Care Of Your Personal Hygiene With These Simple Steps!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Take Care Of Your Personal Hygiene With These Simple Steps!

In a life, full of stress, tension, anxiety and busy schedules, people barely take care of their personal hygiene. People are so busy in their lifestyles and work that they don’t even get a proper time to take care for themselves, which at some point affects their physical and mental health. 

To keep yourself away from germs, bacterias, viruses and illness, personal hygiene should be a part of everyone’s regular routine. Hygiene never mean washing hands and brushing teeth, includes every part of the body neat and clean. People must be careful while coughing or sneezing when they are with someone or in any public place. 

Try to use tissues, if suffering from cold and cough and also remember to throw it after using it. If you are in a risk of catching infection, through any ways include sexual intercourse, in which people can use protections like condoms, which are available for both sexes.

Personal hygiene also affects individuals mental health, so if you practice good hygiene, there are chances, you will stay mentally fit. If you carrying unwashed clothes, body odor, bad breath, missing teeth, then you can face social discrimination or get bullied at your social life too. 

Importance of personal hygiene 

Being good towards your personal hygiene is beneficial for your health and social environment. Being neat and clean impacts lives around you as you will be having less chances of getting ill. It also makes you socially and personally well presentable, that will reflect your personality as well.   

Having a good personal hygiene, will help you to have a better self esteem. In other words, if you are unhygienic, then you will feel uncomfortable which will lessen your confidence level in public. Indirectly, poor hygiene will also affect your mental health. 
 
Below we have described the effects of poor personal hygiene:

Hygiene plays a very important role in everyone’s life but what if you fail to take care of your hygiene? This will not only impact your body but will also demoralise you to stand in public. It’s a fact that people do not want to stand with or near someone who smell bad or who has lice in his/her hair.    
 
Here we will take the look at the effects of poor personal hygiene:

Body odor: It is one of the most common poor hygiene practices. Body odor is caused when the sweat interacts with bacteria that are formed in apocrine glands. When the sweat is left unwashed for too long, the bacterias get multiplied and causes the smell from body parts like armpits or intimate parts. This leads to embarrassment if you are in public. 

Bad breath: You may not feel good if you talk to someone and your mouth badly smell. To save you from this awkward situation, you must brush your teeth at least two times in a day. If you don’t do so, the bacteria attacks your teeth and digest the leftovers, after which your teeth starts smelling. This is recommended to wash your mouth after eating your meals, so that the bacteria did not harm your teeth. 

Urinary Tract Infection: The infections in the Urinary tract is caused by the bacteria Escherichia coli which usually resides in intestines. As soon as the bacteria manages to enter urethra, it moves towards the kidneys and bladder whi c ch leads to fever, pain and problematic  urination. It is important to maintain proper toilet habits. You must use paper tissues in washrooms and ensure yourself to wash your hands each time you use bathroom. You can also use alcohol jelly as an alternative to water and soap. 

Ringworm: This is an infection which is caused by fungal organisms in the skin layers. A scaly and itchy rash appears in the middle of the skin in the shape of ring.  Ringworm infection spreads if you are in contact with an infected surface, person or animal. To prevent this disease, you must wash the infected area thoroughly with water. 

Depression: Yes, you heard it right. You may fall into depression if you have poor hygiene. It begins from a feeling of low self-esteem and low self worth. If you will not keep yourself well dressed, well finished, you may face comments from everywhere, which will directly affect your mental health and lessen your confident. Bad hygiene always affect your personality. 

Benefits of personal hygiene

Poor hygiene not only leads to bad odor or bad breath but sometimes it also brings severe health issues. Despite of illness, it may also spoil your personal, professional relationships and school performances. Here are the points why personal hygiene is beneficial for us:

Good health:

We are always in contact with germs and bacterias. Whatever we do, we are always in connection with harmful organisms. To keep yourself safe from them, you need to bath regularly and remember to wash hands after  using washrooms.Use tissues after sneezing or coughing. Good hygiene also helps in maintaining the pH level skin. 

Personal Relationship:

It is obvious, if your body will odor, or you will have an unclean appearance, no one will like to talk to you You will feel uncomfortable in your company which will hamper your relationships with others. 

Professional Relationship:

Imagine you are in your office, and your sweat is smelling like hell? Do you think anyone will sit beside you or they will talk to you? People will prefer to maintain distance with you. This will only lead to embarrassment. So, it is better to maintain your hygiene and go office in a well-dressed manner.

Washing your hands, bathing regularly are not only the types of personal hygiene. Taking a sleep of proper eight hours also comes in good personal hygiene. Now, after we have known the benefits of personal hygiene. Below we have provided 10 personal hygiene practices that you must know:

Hair: Wash your hair regularly. This will help in removing the dead skin from the scalp and will also wash off dirt from the head. If you don’t  keep it clean, you can suffer from dandruff that will lead to pimples on your face. 

Hands and Feet: Wash your hands always before and after eating. Your hands carries more germs that other parts of your body. Washing your hands regularly will ward off germs and bacteria and will help you to stay fit. You must also wash your feets daily before sleeping especially the bacteria-prone area i.e. near your feet.

Body: Keeping your body clean will save you from numerous body diseases. Bathing regularly  will wash off bacterias and germs that may lead to body odor. This will also help in maintaining mental health.  

Nails: Nails deposits lot of germs inside and when you eat something with hands,these germs goes inside your stomach which leads to severe stomach pain and other illness. So, it is always said to keep your nails small and if your nails are long, then remember to take proper care for your nails and keep it clean. 

Grooming: It is must to keep your  private parts clean as it can lead to major health issues. Your underclothes or socks collect the dead skins and sweat from your body. So it is important to change your undergarments and socks on a daily basis. 

Ears: It is one of the parts of body that we ignore. But we should never do so. Keeping your ear clean is also very important for your body and health. If you don’t get time daily, so make sure, you clean your ears at least once in a week. 

Oral: Oral hygiene is also very important for a person’s health. It is recommended to brush twice in a day and flossing at least once.  This helps in stopping the bacteria to attack our teeth which saves you from gum diseases and plaque. If you keep your teeth clean, you will never face embarrassment while talking to people. 

Donn neat clothes: Dirty clothes are source of contamination which may cause many kinds of health issues. It is better to wear clean clothes. 

Feminine Hygiene: During menstruation, remember to change your sanitary napkins and tampons after 6-7 hours. Keep a few tampons and sanitary pads in your bag, so that you can use whenever you need it. 

Sleep: Many people, especially the youngsters suffer from poor sleep hygiene. It is said that a person should take at least an eight hours sleep. This not only helps in maintaining your health but it also helps to restore energy and keeps you f6fit and fresh. 

We have provided personal hygiene checklist that you must go through, so that you did not face any sort of embarrassment because of your hygiene habit: 

  • Bath regularly
  • Take proper care of your private parts
  • Wash your hands and feets 
  • Brushing your teeth
  • Cutting your nails weekly.
  • Cleaning your ears once in a week.
  • Scraping your tongue.
  • Face hygiene
  • Washing hair on a regular basis. 
  • Timely haircut.
  • Shaving.
  • Cleanliness in the kitchen. 
  • Donning neat and clean clothes.
  • Changing undergarments daily. 
  • Moisturizing your skin.
  • Spraying deodrant.
  • Regular check-ups to dentist.
  • Eating healthy foods.
  • Clean your workplace.
  • Proper sleep.

Lung Related Problem

MBBS
Gynaecologist, Delhi
Play video

One of the best and easiest ways to manage the symptoms of the chronic obstructive pulmonary disease or COPD is through a healthy and nutrient dense diet. This would not only help you to not only keep the severity of the symptoms in check but also to maintain a healthy weight.

Common Dental Problems

MBBS
Gynaecologist, Delhi
Play video

Dental implants are generally identified as substitutes for tooth roots. Besides, replacing damaged or decayed teeth, implants also provide a strong foundation for both permanent as well as removable replacement teeth.

1 person found this helpful

पपीता के पत्ते के रस का फायदा - Papita Ke Patte Ke Ras Ka Fayda!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
पपीता के पत्ते के रस का फायदा - Papita Ke Patte Ke Ras Ka Fayda!

पपीता का इस्तेमाल हमलोग आमतौर पर करते रहे हैं. यह ग्रामीण और शहरी दोनों ही क्षेत्रों में एक समान रूप से लोकप्रिय है. पपीता के पत्ते रस कई तरह के औषधीय कार्यों में किया जाता है. इसमें विटामिन ए, सी, नियासिन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, कैरोटिन, प्राकृतिक फाइबर और प्रोटीन जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व पाए जाते हैं. इसके बीज और पत्तियों का भी औषधीय इस्तेमाल किया जाता है. इसके बीज में मैग्नीशियम, प्रोटीन, कैल्शियम और फास्फोरस आदि पाए जाते हैं. इसमें एंटीऑक्सिडेंट और विषाक्तता को दूर करने वाले प्रभाव भी नजर आते हैं. आइए इस लेख के माध्यम से हम पपीता के पत्ते के रस के कुछ औषधीय फायदों के बारे में जानकारी प्राप्त करें.

1. त्वचा के लिए-
त्वचा के सेहत के लिए पपीते में कई तत्व उपलब्ध होते हैं. इसे खाने के अलावा इसका प्रयोग फेस पैक के रूप में भी किया जा सकता है. इससे रोम छिद्र खुलते हैं और मुंहासे भी दूर होते हैं. इसमें मृत कोशिकाओं को हटाने का भी गुण होता है जिससे कि हमारे त्वचा में निखार आता है.

2. कैंसर के उपचार में-
पपीता में पाया जाने वाला लाइकोपिन, कैरोटिनॉइड, एंटीऑक्सिडेंट, बीटा-क्रिप्टोक्साथीन और बीटा कैरोटिन आदि तत्व कैंसर को दूर करने में काफी सहायक होते हैं. इसमें आइसोथियोसाइनेट्स नाम का तत्व भी पाया जाता है जो कि कार्सिनोजेंस को नष्ट करने का काम करता है.

3. प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में-
पपीता में मौजूद विटामिन सी, सफ़ेद रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में काफी महत्वपूर्ण होता है. इसके अलावा इसमें एंटीऑक्सिडेंट, प्रोटीन, विटामिन ए और ई भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. ये सभी हमारे प्रतिरक्षा तंत्र की मजबूती के लिए आवश्यक हैं.

4. ह्रदय रोग में-
पपीते में पाया जाने वाला विटामिन ए, सी और ई प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. यही नहीं इसमें एंटीऑक्सिडेंट और फाइबर भी खूब पाया जाता है. फाइबर कोलेस्ट्राल के स्तर को कम करनें का काम करता है. ये सभी तत्व मिलकर ह्रदय को तमाम खतरों से बचाने का काम करते हैं.

5. बालों के लिए-
इसमें भरपूर मात्रा में पाए जाने वाले खनिज, एंजाइम और विटामिन्स बालों के वृद्धि और विकास के लिए बेहद जरुरी होते हैं. पपीते के पत्ते का अर्क कंडिशनर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है. पपीते का नियमित सेवन बालों के सेहत के लिए आवश्यक है.

6. रक्तचाप को नियंत्रित करने में-
पपीता में मौजूद पोटेशियम हमारे शरीर में सोडियम के प्रभाव को कम करके रक्तचाप के स्तर को बनाए रखता है. उच्च रक्तचाप से पीड़ित व्यक्ति यदि नियमित रूप से पपीते का सेवन करे तो उसे काफी लाभ मिल सकता है.

7. पाचन में-
पपीता में भरपूर मात्रा में पाया जाने वाला पपेन नाम का एंजाइम पाचन क्रिया को उत्तेजित करने का काम करता है. इसके अलावा इसमें घुलनशील फाइबर, बीटा कैरोटिन, विटामिन ई और फोलेट आदि कब्ज को रोकने और बृहदान्त्र कैंसर के खतरे को कम करता है.

8. वजन कम करने में-
वजन कम करने वाले लोगों को पपीता से काफी लाभ मिल सकता है. क्योंकि इसमें फाइबर, विटामिन सी, फोलेट और पोटेशियम आदि पाए जाते हैं. इसमें पाया जाने वाला पपेन एंजाइम तो पाचन में सहायता करके आपका काम और आसान कर देता है. दरअसल पपीता में कोलेस्ट्राल और वसा ना के बराबर पाया जाता है जिससे कि वजन कम करने में मदद मिलती है.

9. जोड़ों के दर्द में-
गठिया,जिसमें कि जोड़ों में दर्द होता है, इसमें भी पपीता के फायदे नजर आते हैं. इसमें पाया जाने वाला एंटी-इन्फ्लेमेटरी एंजाइम जैसे कि पपेन और चयमोपपेन संधिशोथ को काफी हद तक कम करने का काम करते हैं. पपीता सूजन में भी काफी लाभदायक होता है.

10. आँखों के लिए-
आँखों के सेहत के लिए पपीता में विटामिन ए, सी और ई पाया जाता है. इसके अलावा नील प्रकाश से रक्षा करने के लिए इसमें कैरोटिनॉइड ल्यूटिन और जेक्सैंटिन भी पाया जाता है. ये रेटिना को नुकसान पहुँचाने से बचाता है और मोतियाबिंद के खिलाफ भी लड़ता है.

1 person found this helpful

पपीता खाने के फायदे - Papita Khane Ke Fayde!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
पपीता खाने के फायदे - Papita Khane Ke Fayde!

पपीता एक ऐसा फल है जिसको कच्चा या पकाकर भी खाया जाता है. पपीता हमारे स्वास्थ्य और त्वचा में सुधार लाने के लिए बेहतरीन फल है. इसमें विटामिन ए, सी, नियासिन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, कैरोटिन, प्राकृतिक फाइबर और प्रोटीन जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व पाए जाते हैं. इसके बीज और पत्तियों का भी औषधीय इस्तेमाल किया जाता है. इसके बीज में मैग्नीशियम, प्रोटीन, कैल्शियम और फास्फोरस आदि पाए जाते हैं. इसमें एंटीऑक्सिडेंट और विषाक्तता को दूर करने वाले प्रभाव भी नजर आते हैं. इसके जीवाणुरोधी बीज को भी आप निकालकर खा सकते हैं. पपीते के नियमित प्रयोग से आप कई बीमारियों से बच सकते हैं. आइए इस लेख के माध्यम से हम पपीता खाने के फायदों को जानें ताकि इस विषय में हमारी जानकारी बढ़ सके.

1. त्वचा के लिए-
त्वचा के सेहत के लिए पपीते में कई तत्व उपलब्ध होते हैं. इसे खाने के अलावा इसका प्रयोग फेस पैक के रूप में भी किया जा सकता है. इससे रोम छिद्र खुलते हैं और मुंहासे भी दूर होते हैं. इसमें मृत कोशिकाओं को हटाने का भी गुण होता है जिससे कि हमारे त्वचा में निखार आता है.

2. कैंसर के उपचार में-
पपीता में पाया जाने वाला लाइकोपिन, कैरोटिनॉइड, एंटीऑक्सिडेंट, बीटा-क्रिप्टोक्साथीन और बीटा कैरोटिन आदि तत्व कैंसर को दूर करने में काफी सहायक होते हैं. इसमें आइसोथियोसाइनेट्स नाम का तत्व भी पाया जाता है जो कि कार्सिनोजेंस को नष्ट करने का काम करता है.

3. प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में-
पपीता में मौजूद विटामिन सी, सफ़ेद रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में काफी महत्वपूर्ण होता है. इसके अलावा इसमें एंटीऑक्सिडेंट, प्रोटीन, विटामिन ए और ई भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. ये सभी हमारे प्रतिरक्षा तंत्र की मजबूती के लिए आवश्यक हैं.

4. ह्रदय रोग में-
पपीते में पाया जाने वाला विटामिन ए, सी और ई प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. यही नहीं इसमें एंटीऑक्सिडेंट और फाइबर भी खूब पाया जाता है. फाइबर कोलेस्ट्राल के स्तर को कम करनें का काम करता है. ये सभी तत्व मिलकर ह्रदय को तमाम खतरों से बचाने का काम करते हैं.

5. बालों के लिए-
इसमें भरपूर मात्रा में पाए जाने वाले खनिज, एंजाइम और विटामिन्स बालों के वृद्धि और विकास के लिए बेहद जरुरी होते हैं. पपीते के पत्ते का अर्क कंडिशनर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है. पपीते का नियमित सेवन बालों के सेहत के लिए आवश्यक है.

6. रक्तचाप को नियंत्रित करने में-
पपीता में मौजूद पोटेशियम हमारे शरीर में सोडियम के प्रभाव को कम करके रक्तचाप के स्तर को बनाए रखता है. उच्च रक्तचाप से पीड़ित व्यक्ति यदि नियमित रूप से पपीते का सेवन करे तो उसे काफी लाभ मिल सकता है.

7. पाचन में-
पपीता में भरपूर मात्रा में पाया जाने वाला पपेन नाम का एंजाइम पाचन क्रिया को उत्तेजित करने का काम करता है. इसके अलावा इसमें घुलनशील फाइबर, बीटा कैरोटिन, विटामिन ई और फोलेट आदि कब्ज को रोकने और बृहदान्त्र कैंसर के खतरे को कम करता है.

8. वजन कम करने में-
वजन कम करने वाले लोगों को पपीता से काफी लाभ मिल सकता है. क्योंकि इसमें फाइबर, विटामिन सी, फोलेट और पोटेशियम आदि पाए जाते हैं. इसमें पाया जाने वाला पपेन एंजाइम तो पाचन में सहायता करके आपका काम और आसान कर देता है. दरअसल पपीता में कोलेस्ट्राल और वसा ना के बराबर पाया जाता है जिससे कि वजन कम करने में मदद मिलती है.

9. जोड़ों के दर्द में-
गठिया,जिसमें कि जोड़ों में दर्द होता है, इसमें भी पपीता के फायदे नजर आते हैं. इसमें पाया जाने वाला एंटी-इन्फ्लेमेटरी एंजाइम जैसे कि पपेन और चयमोपपेन संधिशोथ को काफी हद तक कम करने का काम करते हैं. पपीता सूजन में भी काफी लाभदायक होता है.

10. आँखों के लिए-
आँखों के सेहत के लिए पपीता में विटामिन ए, सी और ई पाया जाता है. इसके अलावा नील प्रकाश से रक्षा करने के लिए इसमें कैरोटिनॉइड ल्यूटिन और जेक्सैंटिन भी पाया जाता है. ये रेटिना को नुकसान पहुँचाने से बचाता है और मोतियाबिंद के खिलाफ भी लड़ता है.

पथरी में क्या नहीं खाना चाहिए - Pathri Mein Kya Nahin Khana Chahiye!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
पथरी में क्या नहीं खाना चाहिए - Pathri Mein Kya Nahin Khana Chahiye!

पथरी की बीमारी से कई लोग परेशान हैं. आप इसका अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि सिर्फ पथरी का ट्रीटमेंट करने के लिए भी कई अस्पताल खोले गए हैं. इन अस्पतालों मेनमरीजों की संख्या भी अच्छी ख़ासी होती है. इसलिए जाहीर है कि पथरी एक बेहद गंभीर बीमारी है और इसका उपचार करने आवश्यक है. इस संबंध में खान-पान पर ध्यान दिये बिना इसे खत्म नहीं किया जा सकता है. अधिक से अधिक पेय या तरल पदार्थ पीना पथरी को ठीक करने में बहुत ज्यादा मदद करता है. खासकरके पथरी के दौरान पर्याप्त मात्रा में पानी पीना पथरी की समस्या में और भी लाभदायक साबित होता है. पथरी की समस्या में डॉक्टर रोजाना 6 से 8 ग्लास पानी पीने की सलाह देते हैं. इसके अलावा आपको अपने डॉक्टर से यह भी पूछना चाहिए की आपको 1 दिन में कितना पानी पीना चाहिए. एक अध्ययन के अनुसार आप डैश डाइट प्लान अपनाकर पथरी के खतरे को कम कर सकते हैं. अधिक वजन होने से आपको पथरी होने की संभावना बढ़ जाती है. पथरी की समस्या में अपने डॉक्टर से आपको पता लगाना चाहिए कि पथरी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए क्योंकि भोजन पथरी को कम करने में अहम रोल निभाता है. इसके अलावा पथरी के परहेज के बारे में भी अपनी जानकारी को बढ़ाइए. आइए इस लेख के माध्यम से हम आपको पथरी के दौरान नहीं खाए जाने वाले खाद्यपदार्थों को बताएं.

क्या अलग-अलग प्रकार के पथरी के लिए आहार अलग होना चाहिए?

यदि आप किडनी स्टोन की समस्या से पीड़ित है, तो आपको डॉक्टर से पता करना चाहिए की किडनी स्टोन किस प्रकार के है.जब आपको यह पता हो जाएगा तो इसका इलाज करना आसान हो जाता है. स्टोन के टाइप का पता लगने से आपको अपने आहार में सोडियम, एनिमल प्रोटीन और ऑक्सालेट की कितनी मात्रा सेवन करना है, इसके बारे में जानकारी मिल जाएगी. किडनी स्टोन के चार प्रकार होते हैं –
* कैल्शियम ऑक्सिलेट स्टोन्स
* कैल्शियम फॉस्फेट स्टोन्स
* यूरिक एसिड स्टोन्स
* सिस्टीन स्टोन्स

इन चार प्रकार के किडनी स्टोन के लिए आपको अलग-अलग डाइट प्लान का पालन करना होगा. इसलिए अपने डाइट प्लान के बारे में अपने किडनी एक्सपर्ट से सलाह लेना जरुरी होता है.

कैल्शियम ऑक्सिलेट स्टोन्स में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं.
1. अधिक मात्रा में ऑक्सिलेट न खाएं-
जिन लोगों को पथरी की परेशानी है उन्हें अपने खाद्य पदार्थों में वैसे चीजों को शामिल नहीं करना चाहिए जो आपके पेशाब में ऑक्सिलेट की मात्रा को बढ़ाते हैं. ऐसे पदार्थों से दूर रहने के लिए आपको सबसे पहले उन खाद्य पदार्थों को जानना होगा जो जो ऑक्सिलेट की मात्रा को बढ़ाते हैं. यहाँ हम आपको बताना चाहेंगे कि सूखे मेवे, मूंगफली, पालक, स्ट्राबेरी और वीट ब्रेन आपके पेशाब में ऑक्सिलेट की मात्रा बढ़ाते हैं.

2. बहुत अधिक सोडियम न खाएं-
जब आप अधिक नमक या सोडियम का सेवन करते हैं, तो आपको किडनी स्टोन होने का खतरा बढ़ जाता है. सोडियम डिब्बा बंद आहार, फास्ट फूड में बहुत अधिक मात्रा में होती है. इसलिए ऐसे खाद्य पदार्थों को न खाएं. इसके अलावा सोडियम मसालों और मीट में भी मौजूद होता है.

3. एनिमल प्रोटीन न खाएं-
एनिमल प्रोटीन अधिक मात्रा में खाने से आपको किडनी स्टोन का जोखिम अधिक रहता है. इसलिए डॉक्टर स्टोन से पीड़ित मरीजों को एनिमल प्रोटीन न खाने की सलाह देते हैं. इसके अतिरिक्त, निम्नलिखित एनिमल प्रोटीन को बहुत कम मात्रा या सेवन न करें –

  1. रेड मीट, चिकन, सुअर का मांस
  2. अंडा
  3. मछली और घोंघा

4. दूध, पनीर और अन्य डेरी प्रोडक्ट -
इसलिए आपको ऊपर बाताए गए एनिमल प्रोटीन को धीरे-धीरे रोजाना कम करना होगा. लेकिन आपको यह पता होना चाहिए की पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन खाना बहुत जरूरी होता है. इसलिए एनिमल प्रोटीन की जगह पर आप बीन्स, सूखे मटर और दाल, मसूर की दाल आदि खाएं. यह पौधे से आधारित खाद्य पदार्थ हैं जिनमें प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है और ऑक्सलेट की कम. इसके अलावा आपको अपने डॉक्टर से पूछना चाहिए कि एक दिन में कितना प्रोटीन खाना चाहिए.

5. अधिक कैल्शियम वाले आहार खाएं -
कैल्शियम सुनने में ऐसा लगता है कि कैल्शियम स्टोन को बढ़ाता होगा, जबकि ऐसा नहीं है. सही मात्रा में कैल्शियम लेने से, यह पाचन मार्ग में ऐसे पदार्थों को रोकता है, जिनकी वजह से पथरी होती है. आप अपने डॉक्टर से पूछें कि कैल्शियम की कितनी मात्रा आपको खाना चाहिए. इसके अलावा ऐसे खाद्य पदार्थों को खाना चाहिए, जिनमें ऑक्सिलेट की मात्रा कम हो. प्लांट बेस्ड या पौधे आधारित खाद्य पदार्थ जैसे अनाज, ब्रेड, सब्जियां और बीन्स खाएं. इसके अलावा अपने डॉक्टर से पूछें कि कैल्शियम का सबसे अच्छा स्त्रोत क्या है.

पतला होने का घरेलू तरीका - Patla Hone Ka Gharelu Tarika!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
पतला होने का घरेलू तरीका - Patla Hone Ka Gharelu Tarika!

पतला होना या मोटापा कम करना एक ही बात है. जाहीर है आजकल इस समस्या से कई लोग बेहद परेशान हैं. लेकिन इस परेशानी का भी हल है और बहुत कारगर हल है. इसके लिए आपको सबसे पहले तो इसकी पहचान करनी होगी. इसके बाद ही आपको कोई स्पष्ट निर्णय लेना होगा. यानि आपको अपने कमर और पेट को कम करने का उपाय करना होगा. आइए इस लेख के माध्यम से पतला होने के कुछ घरेलू तरीकों को जानें.

1. पुदीने से-

पुदीना कई प्रकार से हमारी मदद करता है. जाहीर है पुदीने की चटनी आप भी खाते ही होंगे. लेकिन आपने शायद ही इसके होने वाले फ़ायदों पर गौर किया होगा. इसलिए आपको बता दें कि पुदीने की ताजी हरी पत्तियों की चटनी और चाय पीने से आपका वजन नियंत्रण में रहता है.

2. गाजर से-
गाजर हमारे शरीर के लिए आवश्यक कई तत्वों कि आपूर्ति करता है. यदि आप नियमित रूप से खाने से पहले गाजर का सेवन करें तो आपकी भूख कम हो जाएगी. जाहीर है भूख कम होने से आप तेजी से पतले हो सकेंगे.

3. सौंफ की सहायता से-
यदि आधा चम्मच सौंफ को आप एक कप पानी में डालकर 10 मिनट तक खौलाएं और फिर इसके ठंडा होने पर इसको ऐसे ही तीन माह तक लगातार पीएं तो ऐसा करने से वजन कम हो सकता है.

4. पपीता से-
पपीता कई तरह के विटामिन ओर पोषक तत्वों से युक्त होता है. इसके साथ ही ये हमारे शरीर में अतिरिक्त चर्बी को भी कम करने में मददगार साबित होता है. इसके साथ एक अतिरिक्त लाभ ये है कि पपीता हमें हर सीजन में मिल जाता है.

5. दही के द्वारा-
दही खाने के महत्व को हमारे देश के लोगों ने प्राचीन काल में ही जान लिया था. इसलिए इसका इस्तेमाल हम आमतौर पर करते रहे हैं. दही के सेवन से आपके शरीर की फालतू चर्बी घट जाती है. इसके लिए आपको छाछ या दही का सेवन दिन में दो-तीन बार करना होगा.

6. छोटी पीपल-
छोटी पीपल कई बीमारियों में आपके काम आती है. इसके लिए आपको इसका बारीक चूर्ण पीसकर उसे कपड़े से छान लेना होगा. इसके बाद इस चूर्ण का तीन ग्राम नियमित रूप से सुबह के समय छाछ के साथ लेना होगा. ऐसा करने से आपका बाहर निकला हुआ पेट अंदर हो जाता है.

7. शक्कर और चावल से परहेज-
मोटापा को या पेट को कम करने के लिए आपको इसका बात का भी विशेष ध्यान रखना होगा कि इस दौरान कार्बोहाइड्रेट की अधिकता वाले खाद्यपदार्थों के सेवन से परहेज करें. आपको बता दें कि शक्कर, आलू और चावल में सबसे अधिक कार्बोहाइड्रेट मौजूद होता है.

8. सोयाबीन और चना मिश्रित आटा-
रोटी तो आप भी खाते ही होंगे लेकिन कमर और पेट को कम करने के लिए आपको गेहूं के आटे की रोटी की जगह गेहूं, सोयाबीन और चने के मिश्रण से तैयार आटे की रोटी खाना होगा. क्योंकि इस दौरान ये ज्यादा फायदेमंद है.

9. सब्जियां और फल-
यदि आप अपना कमर और पेट कम करना चाहते हैं तो आपको सब्जियों और फलों का नियमित रूप से सेवन करना होगा. क्योंकि इसमें कैलोरी की ख़ासी कमी होती है. ये कम कैलोरी आपके मोटापा को भी कम करता है.

10. आंवला और हल्दी-
आंवले और हल्दी की एक समान मात्रा को पीसकर इसका चूर्ण बना लें. इसके बाद इस चूर्ण को छाछ के साथ नियमित रूप से लेते रहें. ऐसा करते रहने से आप देखेंगे कि कुछ दिन बाद आपकी कमर एकदम पतली हो जाएगी.

11. मिर्च की सहायता से-
खाने में कटी हुई हरी मिर्च या काली मिर्च को शामिल करके बढ़ते वजन पर काबू पा सकते हैं. एक शोध के अनुसार वजन कम करने का सबसे बेहतरीन तरीका मिर्च खाना है. दरअसल मिर्च में पाए जाने वाले कैप्साइसिन नामक तत्व से भूख कम होती है. यही नहीं इससे ऊर्जा की खपत भी बढ़ जाती है.

12. लटजीरा या चिरचिटा के बीज-
लटजीरा या चिरचिटा के बीजों को किसी मिट्टी के बर्तन में हल्की आंच पर भूनकर अच्छे से पीस लें. इसके बाद एक-एक चम्मच दिन में दो बार नियमित रूप से इसका फांकी लें. ऐसा करने से आपको बहुत फायदा होगा.

13. मालती की जड़ और छाछ-
मालती की जड़ को पीसकर शहद के साथ मिलाकर खाना भी लाभदायक साबित होता है. इसके बाद आप छाछ भी पीएं तो ये ज्यादा प्रभावी होगा. प्रसव के बाद होने वाले मोटापे में यह रामबाण की तरह काम करता है.

14. टमाटर और प्याज में डालकर खाएं काली मिर्च व नमक-
टमाटर और प्याज का सलाद काली मिर्च व नमक डालकर खाएं. इनसे शरीर को विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन के, आयरन, पोटैशियम, लाइकोपीन और ल्यूटिन मिलेेगा. इन्हें खाने के बाद खाने से पेट जल्दी भर जाएगा और वजन नियंत्रित हो जाएगा.

15. शहद-
यदि आप नियमित रूप से रोज सुबह-सुबह एक गिलास ठंडे पानी में दो चम्मच शहद मिलाकर लें तो आपका कमर और पेट कम होगा. क्योंकि ऐसा करने से आपके शरीर से वसा की मात्रा कम होती है.

16. गुग्गुल गोंद-
गुग्गुल गोंद को दिन में दो बार हल्के गुनगुने पानी में घोलकर सेवन करने से आपको अपना वजन कम करने में मदद मिलती है. यदि आप इसका इस्तेमाल करेंगे तो ये कई अतिरिक्त लाभ भी प्रदान करेगा.

17. हरड़ और बहेड़ा का चूर्ण-
हरड़ और बहेड़ा का बारीक पीसा हुआ चूर्ण बना लें. फिर इस एक चम्मच चूर्ण को 50 ग्राम परवल के जूस के साथ मिलाकर इसे नियमित रूप से लें तो ऐसा करने से आपका वजन तेजी से कम होने लगेगा.

18. करेले की सब्जी-
करेले की सब्जी खाने से भी वजन कम करने में मदद मिलती है. सहजन के नियमित सेवन से भी वजन नियंत्रित रहता है. साथ ही आपके शरीर से कई अन्य परेशानियाँ भी कम होंगी.

I am 36 year male, I have suffering high fever, cough and cold, headache and joint pain, which medicine I will take that will be better for me please. Regards bijay biswal.

Bams
Ayurveda, Noida
I am 36 year male, I have suffering high fever, cough and cold, headache and joint pain, which medicine I will take t...
Cold tape sponging in case of high grade fever but rule out cause do blood test of cbc, urine routine, mp test, widal, take tribhuvankirti ras, giloya ghanvati, lakshmi vilas ras, koflet syears and tab septilline consult proper for medicine, without consulting Dr. Medicine is useless as it can give symptomatic relief but not permanent solution.

Hi, I missed my periods around 15 days but pregnancy result are also negative continue checking. Then I get gestin tablet for 4 days morning evening both time ,but I did not get periods right now, 2 days done now what can I do please suggest?

Bams
Ayurveda, Noida
Hi, I missed my periods around 15 days but pregnancy result are also negative continue checking. Then I get gestin ta...
See its natural progesterone tab atleast it should take for 5 days and have to wait for some more day it seems that your doses is not correct so consult me in chat box for proper treatment,

Hi. Doctor mujhe weight loss karna hai par mai protein x diabetes care leiti hun kyuki sugar free hota hai. Kya protein x pine se weight gain ho sakta hai kya.

MSC in Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Lucknow
Hi. Doctor mujhe weight loss karna hai par mai protein x diabetes care leiti hun kyuki sugar free hota hai. Kya prote...
Any surplus calories will make you gain weight, your dietary intake must be aptly calculated to make you lose weight.
View All Feed

Near By Clinics