Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Sai Vinayak Dental Hospital

Multi-speciality Hospital (Cardiologist & Dentist)

#BH-730, Main Road East, Shalimar Bagh, Landmark- Opp. Police Station. Delhi
2 Doctors · ₹0
Book Appointment
Call Clinic
Sai Vinayak Dental Hospital Multi-speciality Hospital (Cardiologist & Dentist) #BH-730, Main Road East, Shalimar Bagh, Landmark- Opp. Police Station. Delhi
2 Doctors · ₹0
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

We will always attempt to answer your questions thoroughly, so that you never have to worry needlessly, and we will explain complicated things clearly and simply....more
We will always attempt to answer your questions thoroughly, so that you never have to worry needlessly, and we will explain complicated things clearly and simply.
More about Sai Vinayak Dental Hospital
Sai Vinayak Dental Hospital is known for housing experienced Dentists. Dr. Nitin Prakash Goel, a well-reputed Dentist, practices in Delhi. Visit this medical health centre for Dentists recommended by 46 patients.

Timings

MON-SAT
10:00 AM - 02:00 PM

Location

#BH-730, Main Road East, Shalimar Bagh, Landmark- Opp. Police Station.
Shalimar Bagh Delhi, Delhi - 110088
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctors in Sai Vinayak Dental Hospital

11 Years experience
Available today
10:00 AM - 02:00 PM

Dr. Roopak Wadhwa

MBBS, DNB - General Medicine
Cardiologist
11 Years experience
Available today
10:00 AM - 02:00 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Sai Vinayak Dental Hospital

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

My grandmother suffering from high BP and sugar level from past years but from around one week she started vomiting and loss of consciousness .She is admit in hospital. Bp and sugar is in control now but she is still unconscious.

MBBS, PG Diploma In Emergency Trauma Care, Fellowship in Diabetes
General Physician, Delhi
My grandmother suffering from high BP and sugar level from past years but from around one week she started vomiting a...
It has been due to uncontrolled suagr and bp in the past. Now wait and watch. As she is already in the hospital, nothing more can be done, you should have been careful in the past.

I have allergy problem it creates lot of mucus and affects breathing please provide a solution doctor advised me to use montek LC tablet which I am using once a day and cures for that day please provide other solution.

MD (Hom) Medicine, BHMS (Bachelor of Homeopathic Medicine and Surgery (BHMS)), CCAH, MCAH
Homeopath, Indore
The tablet which you are taking is an anti allergic tablet. These kind of tablets basically suppress your immune system and hence you get relief. But after taking for longer time it's action will be reduced and stopped. You should switch to homeopathy. Our medicines will act on your immune system and will enhance it. You can consult us online and give your complete history on basis of that the best suitable treatment for you will b planned.

छाती में दर्द के उपाय - Chhati Mein Dard Ke Upay!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
छाती में दर्द के उपाय - Chhati Mein Dard Ke Upay!

छाती में दर्द का कारण हार्ट अटैक का संकेत हो सकता है पर हमेशा छाती दर्द हार्ट अटैक या हृदय संबंधी बीमारी के कारण नहीं होता है. कई बार छाती दर्द हृदय संबंधी बीमारी के कारण न होकर एनजाइना या अन्य कारण से होता है. कोरोनरी आर्टरी में रक्त के प्रवाह की प्रक्रिया बाधित होने से या बलगम के वजह से उत्पन्न अवरोध के कारण हृदय तक रक्त का प्रवाह कम हो जाता है जिससे ऑक्सीज़न की पूरी पूर्ति नहीं हो पाती है और इस कारण छाती में दर्द होने लगता है. हृदय तक रक्त का प्रवाह कम होने के इस बीमारी को एनजाइना कहते है. इसमें लोगों को छाती कसा हुआ, भारीपन, जलन व ब्रेस्टबोन पर दबाव महसूस होता है. एनजाइना के अलावा अन्य कई कारणों से भी छाती में दर्द हो सकते हैं. एसिडिटी, सर्दी, कफ, बदहजमी, धूम्रपान या तनाव से भी छाती में दर्द हो सकता है. छाती में जिस कारण से भी दर्द हो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए बल्कि डॉक्टर से मिलकर यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि दर्द हार्ट अटैक या हृदय संबंधी अन्य बीमारी के कारण तो नहीं है. छाती दर्द का इलाज इस बात पर निर्भर करती है कि दर्द किस कारण से हुआ है. यदि छाती में दर्द हार्ट अटैक या हृदय संबंधी किसी बीमारी के कारण हुआ हो तो डॉक्टर से उचित इलाज करानी चाहिए. पर यदि दर्द हार्ट अटैक या हृदय संबंधी किसी बीमारी के कारण न हो तो इसे कुछ घरेलू उपाय से भी ठीक किया जा सकता है.

छाती में दर्द को ठीक करने के कुछ घरेलू उपाय-
1. लहसुन: -
घरेलू उपाय में लहसुन छाती दर्द के लिए एक प्रभावशाली उपाय है. लहसुन में कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, थियामिन, राइबोफ्लोबिन, नियासीन, बीटामिन सी के अलावा आयोडिन, सल्फर और क्लोरीन भी पाया जाता है. लहसुन हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और प्लाक को धमनियों तक पहुँचने से रोकता है जिससे हृदय में रक्त का प्रवाह सुधरता है. इसके अलावा यह कफ, खाँसी, अस्थमा आदि कारणों से छाती में होने वाले दर्द को दूर करने में भी मदद करता है. एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच लहसुन का रस मिलाकर पीना चाहिए. इसके अलावा रोज सुबह खाली पेट लहसुन की एक या दो कली भी पानी के साथ लिया जा सकता है.

2. अदरक: - अदरक विभिन्न स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के लिए बहुत ही पुराना उपाय है. अदरक में जिंजरोल नमक एक रासायनिक यौगिक पाया जाता है जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है. अदरक में एंटीऑक्सीडेंट के गुण होते हैं जो रक्त वाहिकाओं को खराब होने से बचाते हैं. इस कारण से अदरक छाती दर्द में बहुत ही प्रभावशाली है. जब भी छाती में दर्द का अनुभव हो तो दर्द से राहत पाने के लिए व सूजन कम करने के लिए अदरक के जड़ की चाय का सेवन लाभकारी होता है. हार्टबर्न के कारण होने वाली छाती दर्द को दूर करने में भी अदरक के जड़ की चाय लाभकारी होता है.

3. हल्दी: - हल्दी में करक्यूमिन नामक तत्व पाया जाता है जिस कारण से यह पेट फूलना, घाव, छाती दर्द आदि रोगों में लाभकारी है. करक्यूमिन कोलेस्ट्रॉल के ऑक्सीजन, जो रक्तवाहिकाओं को नुकसान पहुंचाकर धमनियों के दीवारों पर प्लाक को मजबूत बनाता है, को रोकने में मदद करता है. अपने इस गुण के कारण हल्दी छाती यानि सीने के दर्द में बहुत ही लाभकारी होता है. एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर उबाल लेना चाहिए. फिर उबलने के बाद इसमें थोड़ा शहद मिलाकर इस मिश्रण को गुनगुना ही पीना चाहिए.

4. तुलसी: - तुलसी के पत्तियों मैं मौजूद मैग्निशियम रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है. इस कारण तुलसी के उपयोग से हृदय रोग का इलाज होता है व इससे रक्त वाहिकाओं को आराम मिलता है. इसके अलावा तुलसी में उपलब्ध एंटीऑक्सीडेंट के गुण रक्त वाहिकाओं में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को रोकने में मदद करता है. छाती दर्द के दौरान 8-10 ताजी तुलसी के पत्ती को चबाकर खानी चाहिए या एक कप तुलसी के पत्ती का चाय बनाकर पीना चाहिए. छाती के दर्द को रोकने के लिए व हृदय के स्थिति को सुधारने के लिए एक चम्मच तुलसी के पत्ती के रस को एक चम्मच शहद के साथ रोज सुबह खाली पेट पीना चाहिए.

5. मेथी: - मेथी में पाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट व कार्डिओ-प्रोटेक्टिव गुण कोलेस्ट्रॉल को दूर कर रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है. अपने इन्हीं गुण के कारण मेथी छाती दर्द में फायदेमंद है. एक चम्मच मेथी के बीज को आधा कप पानी में डालकर 5 मिनट तक उबालना चाहिए. फिर इसे छानकर 2 चम्मच शहद मिलाकर पीना चाहिए. कोलेस्ट्रॉल दूर करने के लिए व छाती के दर्द को रोकने के लिए रोज मेथी के बीज को खाना चाहिए. मेथी के बीज खाने के लिए एक चम्मच मेथी के बीज को पानी में डालकर रात भर छोड़ देना चाहिए. फिर अगली सुबह भींगे हुये इस मेथी के बीज को पानी के साथ खाली पेट खाना चाहिए.

6. बादाम: - बादाम में पोलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड होता है जो ब्लड कोलेस्ट्रॉल को दूर करता है. इसमें फाइबर और मैग्निशियम भी पाया जाता है जो कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और छाती के दर्द को रोकता है. इस कारण से छाती के दर्द में बादाम का उपयोग फायदेमंद रहता है. बादाम का तेल व गुलाब का तेल बराबर मात्रा में मिलाकर इस मिश्रण को छाती पर धीरे-धीरे रगड़ना चाहिए. इससे छाती दर्द जल्द ठीक हो जाता है. छाती दर्द व हृदय के रोग को कम करने के लिए रोज मुट्ठी भर बादाम खाना चाहिए.

7. अल्फाल्फा: - अल्फाल्फा कोलेस्ट्रॉल के स्तर को दूर करता है व प्लाक को बढ़ने से रोकता है तथा हृदय तक रक्त के प्रवाह को सुधारता है. अल्फाल्फा में क्लोरोफिल पाया जाता है जिस कारण से यह धमनियों को सही रखता है व छाती के दर्द को दूर करता है. छाती में दर्द रहने पर एक चम्मच सुखी अल्फाल्फा की पत्ती गर्म पानी में डालकर 5 मिनट तक उबालना चाहिए. फिर इसे छानकर इस चाय को पीना चाहिए.

नोट-
यहाँ बताए गए घरेलू उपाय मात्र जानकारी के लिए दिये गए हैं. पाठकों को सलाह दी जाती है कि किसी भी तरह के छाती दर्द को वे नजरअंदाज न करें. उन्हें अपने डॉक्टर से सलाह लेकर उचित जाँच कराकर उचित इलाज करानी चाहिए.

1 person found this helpful

दांत सफाई युक्तियाँ - Teeth Cleaning Tips In Hindi!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
दांत सफाई युक्तियाँ - Teeth Cleaning Tips In Hindi!

हर कोई चाहता है की उसके दांत सफेद और आकर्षक हो, क्योंकि कोई भी व्यक्ति सबसे पहले आपके चेहरे की मुसकराहट पर ही पड़ती है. एक आकड़े के अनुसार, वर्ष 2015 में, अमेरिका के लोगों ने केवल दांतों को सफाई करने में लगभग 11 बिलियन डॉलर से अधिक रुपये खर्च कर दिए. इसमें घर पर इस्तेमाल करने वाले व्हाइटनिंग प्रोडक्ट पर 1.4 बिलियन डॉलर से अधिक का खर्च शामिल था.

  • जब आपके दांतों को सफेद करने की बात आती है, तो ऐसे बहुत सारे प्रोडक्ट है जिसका आप चुनाव कर सकते हैं.
  • हालांकि, अधिकांश व्हाइटनिंग प्रोडक्ट आपके दांतों को ब्लीच करने के लिए केमिकल का उपयोग करते हैं, जो कई लोगों के लिए समस्या का कारण बन सकता है.
  • यदि आप सफेद दांत चाहते हैं, लेकिन रसायनों से भी बचना चाहते हैं, तो यह लेख कई विकल्पों को सूचीबद्ध करता है जो प्राकृतिक और सुरक्षित हैं.

पीले दांत का कारण क्या है?

  • ऐसे कई कारक हैं जिनके कारण दांत पीले होते हैं और उनकी चमकदार, सफेद चमक खो जाती है.
  • कुछ खाद्य पदार्थ के कारण तामचीनी में दाग लग सकते हैं, जो आपके दांतों की सबसे बाहरी परत है. इसके अतिरिक्त, आपके दांतों पर पट्टिका का निर्माण उनके पीले दिखने का कारण बन सकता है.
  • इस प्रकार के मलिनकिरण का उपचार आमतौर पर नियमित क्लींजिंग और व्हाइटेनिंग उपचार के साथ किया जा सकता है.
  • हालांकि, कभी-कभी दांत पीले दिखते हैं क्योंकि कठोर तामचीनी नष्ट हो जाती है, जिससे दांतों के नीचे की सतह दिखने नजर आने लगता है. डेंटिन एक स्वाभाविक रूप से पीला, बोनी टिश्यू है जो तामचीनी के नीचे स्थित है.

यहां 7 सरल तरीके दिए गए हैं जिनसे आप अपने दांतों को प्राकृतिक रूप से सफेद कर सकते हैं.
1. ऑयल पुल्लिंग इस्तेमाल करें

  • ऑयल पुल्लिंग एक पारंपरिक भारतीय लोक उपचार है जिसका उद्देश्य मौखिक स्वच्छता में सुधार करना और शरीर से टॉक्सिक पदार्थों को निकालना है.
  • इस अभ्यास में बैक्टीरिया को हटाने के लिए आपके मुंह में चारों ओर तेल से गरारे करना होता है. बैक्टीरिया के कारण पट्टिका का निर्माण हो सकता है जो आपके दांतों के पीला होने का कारण बन सकता है.
  • परंपरागत रूप से, भारतीय ऑयल पुल्लिंग के लिए सूरजमुखी या तिल के तेल का उपयोग करते थे, लेकिन इसके लिए किसी भी प्रकार के तेल को उपयोग किया जा सकता है.
  • नारियल तेल एक लोकप्रिय विकल्प है क्योंकि इसमें एक सुखद स्वाद है और कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है.
  • नारियल का तेल लॉरिक एसिड में भी उच्च होता है, जो सूजन को कम करने और बैक्टीरिया को मारने की क्षमता के लिए जाना जाता है.
  • कुछ अध्ययनों से पता चला है कि दैनिक ऑयल पुल्लिंग से मुंह में बैक्टीरिया को कम किया जाता है, साथ ही पट्टिका और मसूड़े की सूजन से राहत प्रदान करता है.
  • स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स मुंह में बैक्टीरिया के प्राथमिक प्रकारों में से एक है जो पट्टिका और मसूड़े की सूजन का कारण बनता है. एक अध्ययन में पाया गया है कि तिल के तेल के साथ रोजाना गरारे से लार में स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स को बहुत कम किया है.


2. बेकिंग सोडा के साथ ब्रश
बेकिंग सोडा में प्राकृतिक सफेदी गुण होते हैं, यही वजह है कि यह कमर्शियल टूथपेस्ट में एक लोकप्रिय घटक है. यह एक हल्का अपघर्षक है जो दांतों पर सतह के दाग को दूर करने में मदद कर सकता है.
इसके अतिरिक्त, बेकिंग सोडा आपके मुंह में एक क्षारीय वातावरण बनाता है, जो बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकता है. विज्ञान ने अभी तक यह साबित नहीं किया है कि प्लेन बेकिंग सोडा के साथ ब्रश करने से आपके दाँत सफेद हो जाएंगे, लेकिन कई अध्ययनों से पता चलता है कि बेकिंग सोडा के साथ टूथपेस्ट का महत्वपूर्ण सफेदी प्रभाव है.

3. हाइड्रोजन पेरोक्साइड का उपयोग करें
हाइड्रोजन पेरोक्साइड एक प्राकृतिक ब्लीचिंग एजेंट है जो आपके मुंह में बैक्टीरिया को भी मारता है.
वास्तव में, लोग बैक्टीरिया को मारने की क्षमता के कारण घावों कीटाणुरहित करने के लिए वर्षों से हाइड्रोजन पेरोक्साइड का उपयोग कर रहे हैं. कई कमर्शियल व्हाइटनिंग प्रोडक्ट में भी हाइड्रोजन पेरोक्साइड होता है.

4. एप्पल साइडर सिरका का उपयोग करें
ऐप्पल साइडर सिरका का इस्तेमाल सदियों से एक कीटाणुनाशक और प्राकृतिक सफाई उत्पाद के रूप में किया जाता रहा है. एसिटिक एसिड, जो सेब साइडर सिरका में मुख्य सक्रिय घटक है, प्रभावी रूप से बैक्टीरिया को मारता है. सिरका की जीवाणुरोधी गुण वह है जो आपके मुंह को साफ करने और आपके दांत को सफेद करने के लिए उपयोगी है. गाय के दांतों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि सेब साइडर सिरका का दांतों पर विरंजन प्रभाव पड़ता है. हालांकि, उन्होंने यह भी पाया कि सिरका दांतों को नरम कर सकता है.

5. फलों और सब्जियों का उपयोग करें
फलों और सब्जियों में उच्च आहार आपके शरीर और आपके दांतों दोनों के लिए अच्छा हो सकता है.
हालाँकि, आपके दाँत को ब्रश करने का कोई अन्य विकल्प नहीं है लेकिन कुरकुरे, कच्चे फल और सब्जियों को चबाने से पट्टिका को रगड़ने में मदद मिल सकती हैं.

विशेष रूप से, स्ट्रॉबेरी और अनानास दो फल हैं जिन्हें आपके दांतों को सफेद करने में मदद करने का दावा किया गया है.

1 person found this helpful

I'm facing teeth sensitive from past 2-3 weeks. Kindly suggest, How to get rid of teeth sensitive.

MDS, BDS
Dentist, Mohali
I'm facing teeth sensitive from past 2-3 weeks. Kindly suggest, How to get rid of teeth sensitive.
Hi you may need scaling or fillings or only anti sensitivity tooth paste. Get them checked from your dentist. Take care.
1 person found this helpful

Treating Blood Pressure With Home Remedies!

Bachelor In Pharmacy
Pharmacologist, Lucknow
Treating Blood Pressure With Home Remedies!

Apart from having your routine medications for hypertension, just free your mind from taking such medicines and let' pudina chutney' rule your taste buds and lowers your blood pressure.
What you need to do is to mash the pudina leaves to make more than a semi-liquid. 
Add 2-3 pinches of kali mirch powder.
Add some water and mix it well in grinder.
Have it with your breakfast or lunch. You will definitely feel your high bp surge coming down.

Don't forget to measure it on routine basis to see whether it's working.
 

Consequences Of Unreplaced Missing Teeth - Know More!

BDS, MDS
Dentist, Jaipur
Consequences Of Unreplaced Missing Teeth - Know More!

Our teeth are most definitely, vital for our living. Our everyday choices, pertaining to our lifestyle would call for changes, adjustments and lots of sacrifices without them. Though, a number of replacement options are available for the people with missing teeth, the most recommended are dental implants. Ask why?

They are simply the ideal solution due to their look and feel, which is similar to the natural teeth.

What happens if replacement is not considered?

To prevent the nasty repercussions from occurring, it is necessary that any missing teeth are replaced in time. Though, the symptoms of problems due to missing teeth only appear to be superficial in the early stages, the long term effects may certainly prove to be quite severe.

Some of the short term consequences of missing teeth are as follows...

  1. People with missing teeth tend to feel self-conscious or even embarrassed at times, while they talk to others or smile.
  2. Problem in speech is a common issue that may arise due to tooth loss.
  3. When teeth are missing, people find it difficult to consume some certain food types. These may include ones which contain some essential nutrients, hence leading to possible malnutrition.
  4. Increased wear or stress can also lead to the weakening of the teeth that are remaining.
  5. People with tooth loss find it difficult to chew the food properly.
  6. When teeth are missing, there is movement of the teeth that remain, to compensate for the gap places created. This leads to ugly looking gap teeth.

Though, these were the short term issues, the major consequence of not getting any lost teeth replaced is the gradual bone loss. Our teeth are firmly embedded in the jaw bone. Chewing and biting are the constant uses, which are required by the jaw bone to remain hale and hearty as well as active. You may believe it or not, be it at the beginning or at the end; the major focus is not on the teeth, but on the bones.

Maintaining form as well as density of the bone requires regular stimulation, coming from the teeth, as mentioned above. The contact with teeth causes small stresses, which the periodontal ligament transmits to the bone and prompts its continual rebuilding as well as remodelling. When any missing teeth are not replaced, it leads to the gradual deterioration in the jaw bones, over time. This not only results in facial shape changes but also will eventually burn a huge hole in your pockets, as increased complications will also lead to increased costs required for rectifying the problems.

So, now it's up to you. Choose healthy and wise. Go for teeth replacement at the earliest, if and when, need arises.

I am 18 year girl and because of I met with accident on 4th November 2017 and lost my half tooth for which I have undergone rct and episectomy both treatment but pain was not setting off so extracted that tooth but it's paining much can you help me lesser the Pain I am already taking pain killer thrice a day.

MDS
Dentist, Kota
I am 18 year girl and because of I met with accident on 4th November 2017 and lost my half tooth for which I have und...
we need to examine and investigate the oral cavity and surrounding structres for accurate comments on your problem. as the offensing tooth has been removed then already then problem is not simple to identify just by reading your complaints. I suggest you to provide all the details available with you.

Hi, I am 32 years old and my there is gap in between my teeth. I want to do clipping. Is it possible and how much time it would take for the proper structure.

BDS, MDS - Oral & Maxillofacial Surgery, Advanced course in maxillofacial sugery
Dentist, Lucknow
Hi,
I am 32 years old and my there is gap in between my teeth. I want to do clipping. Is it possible and how much tim...
Depends on case to case consult a orthodontist after evaluating can tell time or send pictures n xray of face on line

Benidipine hydrochloride tablets inzit8 use for blood pressure. My father BP around 160 and 80 which type of food you prefer is thus medicine good for bp.

MBBS, MD Medicine, Manipal hospital
Cardiologist, Bangalore
Benidipine hydrochloride tablets inzit8 use for blood pressure. My father BP around 160 and 80 which type of food you...
Low salt diet, can have almonds, for blood pressure control you can consult online, or connect on
View All Feed

Near By Clinics