Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Dr. Megha Aggarwal Homeopathy Clinic

Homeopath Clinic

Da-136, Sheehmahal Appartments, Shalimar Bagh New Delhi
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Dr. Megha Aggarwal Homeopathy Clinic Homeopath Clinic Da-136, Sheehmahal Appartments, Shalimar Bagh New Delhi
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

Our medical care facility offers treatments from the best doctors in the field of Homeopath . We are dedicated to providing you with the personalized, quality health care that you deserve....more
Our medical care facility offers treatments from the best doctors in the field of Homeopath . We are dedicated to providing you with the personalized, quality health care that you deserve.
More about Dr. Megha Aggarwal Homeopathy Clinic
Dr. Megha Aggarwal Homeopathy Clinic is known for housing experienced Homeopaths. Dr. Megha Aggarwal, a well-reputed Homeopath, practices in New Delhi. Visit this medical health centre for Homeopaths recommended by 74 patients.

Timings

MON-SAT
10:00 AM - 05:00 PM

Location

Da-136, Sheehmahal Appartments, Shalimar Bagh
Shalimar Bagh New Delhi, Delhi - 110088
Get Directions

Doctor in Dr. Megha Aggarwal Homeopathy Clinic

Dr. Megha Aggarwal

BHMS, MD-Homeopathy
Homeopath
10 Years experience
Available today
10:00 AM - 05:00 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Megha Aggarwal Homeopathy Clinic

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Nephrotic Syndrome Causes, Symptoms And Treatment In Hindi - नेफ्रोटिक सिंड्रोम के लक्षण, कारण और उपचार

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Nephrotic Syndrome Causes, Symptoms And Treatment In Hindi - नेफ्रोटिक सिंड्रोम के लक्षण, कारण और उपचार

नेफ्रोटिक सिंड्रोम आम किडनी रोगों में से एक या रोगों का समूह कहा जा सकता है, इसमें किसी भी आयु समूह के शरीर पर सूजन होना इसके लक्षणों में से एक है. साथ ही इसमें पेशाब के दौरान प्रोटीन मात्रा का अधिक निकलना, रक्त में प्रोटीन की कमी, कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर और शरीर में सूजन इस बीमारी के लक्षणों में से एक हैं. लेकिन अधिकत्तर मामलों में देखा जाता है कि यह रोग बच्चों को अपनी पकड़ में ले लेता है. हालांकि, उचित उपचार से इस रोग पर नियंत्रण पाया जा सकता है. 

नेफ्रोटिक रोग के दुष्प्रभाव 
अगर आसान भाषा में समझने की कोशिश करें, तो यह कहा जा सकता है कि किडनी शरीर में छलनी का काम करती है. इसके द्वारा शरीर की अनावश्यक पदार्थ अतिरिक्त पानी पेशाब द्वारा बाहर निकल जाता है.
नेफ्रोटिक रोग में किडनी की छलनी जैसे छेद बड़े हो जाने के कारण अतिरिक्त पानी और उत्सर्जी पदार्थों के साथ-साथ शरीर के लिए आवश्यक प्रोटीन भी पेशाब के साथ निकल जाता है. जिससे शरीर में प्रोटीन की मात्रा कम हो जाती है और शरीर में सूजन आने लगती है.

नेफ्रोटिक सिंड्रोम के कारण
इस रोग को प्राथमिक या इडीयोपैथिक नेफ्रोटिक सिंड्रोम भी कहा जाता हैं. इस रोग के होने का कोई ठोस कारण नहीं होता है. लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि श्वेतकणों में लिम्फोसाइट्स के कार्य की खामी के कारण यह रोग होता है. आहार में परिवर्तन या दवाइँ को इस रोग के लिए जिम्मेदार मानना बिल्कुल गलत है. इस बीमारी के 90% मरीज बच्चे होते हैं जिनमें नेफ्रोटिक रोग का कोई निश्चित कारण नहीं मिल पाता है. 

वयस्कों की बात करें, तो नेफ्रोटिक सिंड्रोम के 10% से भी कम मामलों में इसकी वजह अलग-अलग बीमारियां या कारण हो सकता है. जैसे संक्रमण, किसी दवाई से हुआ नुकसान कैंसर, वंशानुगत रोग, मधुमेह, एस. एल. ई. और एमाइलॉयडोसिस आदि में यह सिंड्रोम उपरोक्त बीमारियों के कारण हो सकता है.

नेफ्रोटिक रोग के मुख्य लक्षण :

  • दो से छः वर्ष के बच्चों में यह रोग मुख्यत दिखाई देता है. अन्य उम्र के व्यक्तियों में इस रोग की संख्या बच्चों की तुलना में बहुत कम दिखाई देती है.
  • आमतौर पर इस रोग की शुरुआत बुखार और खाँसी के बाद होती है.
  • शुरुआती लक्षणों में आँखों के नीचे एवं चेहरे पर सूजन दिखाई देती है. 
  • आँखों पर सूजन होने के कारण कई बार मरीज सबसे पहले आँख के डॉक्टर के पास जाँच के लिए जाते हैं.
  • जब रोगी नींद से सुबह उठते है, तब सूजन ज्यादा दिखाई देती है. यह इस रोग की पहचान है. 
  • हालांकि यह सूजन दिन के बढ़ने के साथ धीरे-धीरे कम होने लगती है और शाम तक बिलकुल कम हो जाती है.
  • रोग के बढ़ने पर पेट फूल जाता है, पेशाब कम होता है, पुरे शरीर में सूजन आने लगती है और वजन बड़ जाता है.
  • कई बार पेशाब में झाग आने और जिस जगह पर पेशाब किया हो, वहाँ सफेद दाग दिखाई देने की शिकायत होती है.

नेफ्रोटिक रोग का इलाज :

  • सबसे पहले जरूरी है कि नेफ्रोटिक सिंड्रोम का निदान करना और प्रयोगशाला जांच से इसकी पुष्टि करना है.
  • इलाज के दौरान सामान्य और स्वस्थ आहार लेने की सलाह दी जाती है.
  • डाइट में रोगी को पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन दें.
  • अगर कोई किडनी रोग है, तो प्रोटीन की मात्रा को सीमित रखें. रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने के लिए डाइट में फैट का सेवन कम करें.
  • उपचार शुरू करने से पहले बच्चे सुनिश्चित करें कि कही बच्चे को पहले से कोई इन्फेक्शन या तकलीफ न हो, ऐसे संक्रमण पर नियंत्रण स्थापित करना बहुत ही आवश्यक है.
  • नेफ्रोटिक सिंड्रोम से पीड़ित बच्चों को सर्दी, बुखार एवं अन्य प्रकार के संक्रमण होने की संभावना अधिक रहती है.
  • इलाज के दौरान इन्फेक्शन होने से रोग बढ़ सकता है. इसलिए उपचार के दौरान संक्रमण न हो इसके लिए पूरी सावधानी रखना जरूरी होता है.

Skin Disorders: Blemishes And Hyperpigmentation

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS), MBA
Ayurveda, Faridabad
Play video

Facial blemishes can be painful on becoming inflamed. In case these are left untreated, they can get worse and cause discoloration of the skin. Hyperpigmentation can be caused by inflammation , sun damage or other skin injuries. There are a variety depigmenting treatments used for hyperpigmentation conditions, and responses to most are variable.

IBS (Irritable Bowel Syndrome): Causes And Symptoms

Bachelor of Ayurveda, Medicine & Surgery (BAMS)
Ayurveda, Faridabad
Play video

Irritable bowel syndrome (IBS) is a group of symptoms which involves abdominal pain and changes in the pattern of bowel movements without any evidence of underlying damage. There is no cure for IBS , however treatment is carried out to improve symptoms.

Ways To Maintain Your Fitness On Vacation

PrettislimTM Clinic is a 10 Year Old
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
Play video

While planning a vacation,one should be extra cautious of maintaining their weight and staying fit . While on holiday , few simple things can be used to maintain yourself. This includes avoiding to choose meal plan as one tends to overeat as its already paid ; carry some healthy snacks to avoid local unhealthy food ; try physical activities like walking and trekking. Moreover one should use in-house facilities like gymnasium and pools to stay healthy and fit.

Masturbation Techniques

MD - General Medicine
Sexologist, Delhi
Masturbation Techniques

Masturbation Techniques to Master With Tips From the Kama Sutra

The Kama Sutra is, at its heart, a playbook for mind-blowing sex. Different positions, alternating speeds and even radical new techniques for foreplay are all detailed in this ancient book, and men who want to really up the ante in the bedroom can find much to enjoy here. However, much of a man's sex life might take place when he's completely alone, and the book is remarkably silent on masturbation techniques. In fact, the author seems to suggest that masturbation shouldn't be part of a man's day-to-day penis care routine.

Thankfully, with a close reading and a little creativity, men can find out more about how to put their minds to use in masturbation, and with a little help from the Kama Sutra, they may experience pleasures they never thought possible. Here are just a few tips to get the party started.

Experiment Often

Couples that follow the Kama Sutra are expected to try out different positions regularly, experimenting with where their bodies meet and the sensations new poses can bring. Masturbating men can bring this same sense of experimentation to their own self-pleasure sessions by varying:

Hand position
Lubricants
Location
Implements
Men who always use their right hand might enjoy experimenting with the left, or bringing in a feather or trying out the act with a different type of lotion. Mixing up the technique means awakening different nerve fibers, and the results can be impressive.

Use the Mind

Much of the advice given in this ancient book involves preparing the mind for sex. Couples are encouraged to look at one another, talk to one another and touch one another frequently. Masturbation sessions, on the other hand, tend to be quick-and-dirty affairs that start and end abruptly, with no real thought at all.

Slowing down might mean fantasizing extensively before the clothes hit the floor, preparing the mind for the pleasures yet to come. Then, as the action starts, focusing on the feelings involved while continuing to fantasize could bring a man to a peak that might have eluded him, had he moved a little faster with less imagination involved.

Banish Guilt

Preparing the mind for pleasure also means remembering that sex is a healthy, zesty activity that stimulates the body while relaxing the nerves. Just as there's nothing wrong with spicing up a partner's sex life and making intimacy just a little more intriguing, there's nothing amiss with making the body feel pleasure. A mind that's free of thoughts of guilt, blame and shame is a mind that's willing to go slowly, letting the pleasure build and build without allowing any pain to creep in.

Men who work hard to keep their minds open and guilt at bay might be less likely to bash their equipment with fast and furious strokes, and they might be less likely to cause minuscule tears that could lead to bends and scarring. In short, refining the mind could make tomorrow's masturbation less painful, too, and it could keep a man's equipment ready for a bout of play with a partner.

Stay Clean

Much of the Kama Sutra involves cleaning up after sex and rewarding the body for the hard work it's done in the bedroom. Couples are advised to wash up thoroughly, preferably together, and apply soothing lotions to any spot that seems a little sore. After masturbation, men might follow this tip by cleaning up with a cool rinse and a pat dry with a towel. Applying a penis health creme (health professionals recommend Man1 Man Oil) can help to soothe sore skin and keep benign bacteria from rising up and colonizing nearly tissues. This product can also keep sensory cells in shape, so they'll be ready for the amazing sex that's sure to come from a man's new knowledge of his sensual capabilities.

1 person found this helpful

Safed Daag Treatment In Hindi - सफेद दाग में परहेज

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Safed Daag Treatment In Hindi - सफेद दाग में परहेज

सफ़ेद दाग त्वचा की समस्या है जिसमें आपके त्वचा पर किसी भी जगह सफेद धब्बे उभरने लगते हैं. इसे ल्यूकोर्डमा या विटिलाइगो के नाम से भी जाना जाता है. इसमें शरीर के विभिन्न भागों की त्वचा पर सफेद दाग बनने लग जाते हैं. यह इसलिए होता है क्योंकि त्वचा में वर्णक (रंग) बनाने वाली कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं, इन कोशिकाओं को मेलेनोसाइट्स कहा जाता है. सफेद दाग रोग श्लेष्मा झिल्ली (मुंह और नाक के अंदर के ऊतक) और आंखों को भी प्रभावित करते हैं. सफेद दाग के संकेत और लक्षण में त्वचा का रंग खराब हो जाना, या सफेद हो जाना, शरीर के किसी भी भाग की त्वचा पर दाग पड़ जाना. ये सफेद दाग शरीर में सिर्फ एक भाग पर भी हो सकते हैं या कई भागों में अलग-अलग फैल सकते हैं. इसके ठोस कारण के बारे में अभी तक पता नहीं चल पाया, हालांकि कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि यह स्व: प्रतिरक्षा प्रणाली की एक स्थिति होती है. उनके अनुसार सफेद दाग तब होते हैं, जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली गलती से त्वचा की कुछ कोशिकाओं को नष्ट कर देती है.
क्या है सफेद दाग का उपचार
सफेद दाग रोग में अनुवांशिकी घटक होते हैं, जो एक परीवार में एक व्यक्ति से दूसरों में भी फैल सकते हैं. सफेद दाग कई बार अन्य चिकित्सा स्थितियों से भी जुड़े होते हैं, जिसमें थायरॉयड रोग भी शामिल हैं. इस बात को निर्धारित नहीं किया जा सकता कि ये सफेद दाग एक ही जगह पर रहेंगे या अन्य भागों में भी फैल जाएंगे. सफेद दाग कोई दर्दनाक बीमारी या रोग नहीं है, और ना ही इसमें स्वास्थ्य से जुड़े कोई अन्य दुष्प्रभाव हैं. हालांकि, इसमें भावनात्मक और मनोवैज्ञानिकी परिणाम हो सकते हैं. कई चिकित्सा उपचार इसकी कठोरता को कम तो कर सकते हैं मगर इसका इलाज करना काफी कठिन है. सफेद दागों पर रोकथाम पाने के लिए कोई तरीका नहीं मिल पाया है. ऐसा कोई घरेलू नुस्खा भी नहीं है जिससे इसका उपचार या रोकथाम की जा सके, लेकिन प्रभावित त्वचा पर सन स्क्रीन का प्रयोग या डाई आदि का प्रयोग करके दिखावट में सुधार किया जा सकता है. 
भारत में सफेद दाग रोग की स्थिति
डर्मेटोलॉजिकल के प्रसार के मामले 9.25 प्रतिशत और विटिलाइगो के प्रसार के मामले 9.98 प्रतिशत थे. इनमें से स्थिर प्रकार के विटिलाइगो के मामले 65.21 प्रतिशत आंके गए और जिन लोगों के निचले होठ के नीचे दाग (म्यूकोसल विटिलाइगो) थे उनकी संख्या 75 प्रतिशत थी. शरीर के निचले भागों में सफेद दाग का होना विटिलाइगो की शुरूआत का सबसे सामान्य संकेत होता है. विटिलाइगो से ग्रसित लोगों में ज्याादतर लोग 40 साल की उम्र से पहले इस बीमारी से ग्रसित हो चुके जाते, और इनकी आधी संख्या के करीब लोग 20 साल की उम्र से पहले विटिलाइगो का शिकार बन जाते हैं.
सफेद दाग में परहेज़
सफ़ेद दाग की समस्या उत्पन होने पर या जब आपको पता चल जाता है कि आपको ये समस्या है तब आप कुछ सावधानियां बरतकर इसके प्रभाव को काफी हद तक कम कर सकते हैं. इसमें आपको कुछ फलों का परहेज करना लाभकारी साबित होता है. इन फलों में संतरा, करौंदा, सीताफल, अमरूद, सूखा आलूबुखारा, काजू, तरबूज, खरबूज आदि. इन फलों से परहेज करके आप सफेद दाग को फैलने से रोकने में कुछ हद तक कामयाब हो सकते हैं.
इन सब्जियों का हबी करें परहेज
सफेद दाग में फलों के साथ-साथ कुछ सब्जियां का भी आपको इस्तेमाल कम या नहीं करना चाहिए. इन सब्जियों में बैंगन, लाल सोराल, अजमोद, पपीता, नींबू, टमाटर आदि. ऐसा करने से आप इसके प्रभाव को फैलने से रोक सकेंगे.
इसके अलावा आप इमली, लहसुन और दूध उप्तपाद जैसे: दूध दही या छेना छाछ गैर-शाकाहारी खाद्य पदार्थ जैसे: मछली लाल मीट बीफ (गांय का मांस) अन्य खाद्य पदार्थ जैसे: जंक फूड चॉकलेट कॉफी सोढ़ा बाइ कार्ब कार्बोनेटिड पेय पदार्थ चिकनी, तीखी और मसालेदार चीजें जैसे, अचार आदि से भी परहेज करें ताकि सफेद दाग की समस्या से प्रभावी ढंग से निपट सकें.

Ghutno Ke Dard Ka Ilaj - घुटने का दर्द उपाय

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Ghutno Ke Dard Ka Ilaj - घुटने का दर्द उपाय

घुटनों में दर्द कमजोर हड्डी के कारण या उम्र बढ़ने की वजह से भी महसूस हो सकता है. अन्य सामान्य कारण जैसे फ्रैक्चर, लिगामेंट में चोट, मेनिसकस में चोट, गठिया की वजह से घुंटने की हड्डियों का अकड़ जाना और एक जगह से दूसरी जगह खिसक जाना, ल्यूपस और अन्य पुरानी बीमारियों के कारण घुटनों में दर्द हो सकता है. आइए घुटनों में होने वाले दर्द को दूर करने के उपाय जानें.
नींबू है उपयोगी
नींबू में मौजूद सिट्रिक एसिड यूरिक एसिड क्रिस्टल के लिए एक द्रावक की तरह काम करता है जो कि कुछ प्रकार के गठिया का कारण होता है. इसका इस्तेमाल करने के लिए एक या दो नींबू को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें. कॉटन के कपडे में इन टुकड़ों को बाँधकर तिल के तेल में डुबायें और इस कपडे को प्रभावित क्षेत्रों पर दस मिनट तक लगाकर रखें.
ठंडे बैग का इस्तेमाल
घुटने में दर्द होते समय ठंडे बैग का इस्तेमाल करें इससे आपकी सूजन और दर्द दूर होंगे. इससे रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाएंगी, प्रभावित क्षेत्रों पर रक्त का प्रवाह कम होगा और इससे सूजन को भी दूर करने में मदद मिलेगी. मुट्ठीभर बर्फ लें और उसे किसी तौलिये या कपडे में लपेटकर रख दें. 10 से 20 मिनट के लिए प्रभावित क्षेत्रों पर तौलिए या कपडे को लगाएं.
सरसों का तेल
आयुर्वेद के अनुसार, गर्म सरसों के तेल से मसाज करने से सूजन दूर होगी, रक्त रिसंचरण में सुधार होगा दर्द दूर होगा. दो चम्मच सरसों के तेल को गर्म कर लें. अब उसमें लहसुन की फांकों को डालें और तब तक गर्म करने जब तक लहसुन भूरा न हो जाये. अब तेल को छान लें और ठंडा होने के लिए रख दें. अब इस गुनगुने गर्म तेल से अपने घुटनों पर मसाज करें.
नीलगिरि का तेल
नीलगिरी के तेल में एनाल्जेसिक या दर्द निवारण गुण होते हैं जोघुटनों के दर्द से रहता दिलाने में मदद करते हैं. इस तेल का ठंडा एहसास गठिया के दर्द में आराम पहुंचाएगा. पांच से सात बूंद नीलगिरी तेल और पुदीने की तेल की बूँदें एक साथ मिला लें. फिर उसमें दो चम्मच जैतून का तेल मिलाएं. इस मिश्रण को सूरज से दूर रखे और किसी अँधेरे वाली जगह पर ढक कर रख दें.
सेब का सिरका
सेब साइडर सिरका जोड़ों में चिकनाई लाता है जिससे दर्द दूर होता है और गतिशीलता को बढ़ावा मिलता है. दो चम्मच सेब के सिरके को दो कप पानी में मिलाएं. इस मिश्रण को अच्छे से मिलाने के बाद पी लें. जब तक दर्द चला नहीं जाता इस मिश्रण को रोज़ाना पियें. इसके अलावा दो कप सेब के सिरके को बाल्टी भर गर्म पानी के मिलाएं. अब इसमें अपने प्रभावित क्षेत्रों को आधे घंटे के लिए डालें रखें. अब इस मिश्रण को घुटनों पर मसाज की तरह इस्तेमाल करें.
हल्दी है लाभदायक
हल्दी में करक्यूमिन मौजूद होता है जिसमें सूजनरोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं. ये गुण दर्द को कम करने में मदद करते हैं. हल्दी हीउमाटोइड आर्थराइटिस को कम करता है जो कि घुटने के दर्द का मुख्य कारण है. हल्दी का इस्तेमाल करने के लिए एक कप पानी में एक या आधा चम्मच अदरक और हल्दी को मिलाकर इसे दस मिनट के लिए इसे ही उबालें. अब इस मिश्रण को छानकर इसमें हल्दी को मिलाकर इसे पूरे दिन में दो बार ज़रूर पियें. एक ग्लास दूध में एक चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं. अब इसे शहद के साथ मिक्स करें और पूरे दिन में एक बार ज़रूर पियें.
मेथी का बीज
मेथी के बीज में सूजनरोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो घुटने के दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं. इसके अलावा मेथी के बीज प्राकृतिक रूप से गर्म होने के कारण गठिया के मरीजों के लिए बेहद लाभदायक होते हैं. इसके लिए रातभर एक चम्मच मेथी के बीज को भिगोकर रख दें. सुबह पानी को निकाल लें और उन बीजों को चबाएं. इस प्रक्रिया को पूरे दिन में एक या दो हफ्ते तक करें.
लाल मिर्च का करें उपयोग
लाल मिर्च में कैप्साइसिन मौजूद होता है जो दर्द निवारक की तरह काम करता है. कैप्साइसिन के प्राकृतिक एनाल्जेसिक या दर्द से राहत देने के गुण गर्माहट पैदा करते हैं और घुटनों के दर्द को दूर करते हैं. आधे कप गर्म जैतून के तेल में दो चम्मच लाल मिर्च मिलाकर इस पेस्ट को प्रभावित क्षेत्रों पर एक हफ्ते तक रोज़ाना पूरे दिन में दो बार ज़रूर लगाएं. इसके अलावा आप एक चौथाई या एक चम्मच लाल मिर्च को एक कप सेब के सिरके में मिलाएं. अब एक कपडा लें और उसे इस मिश्रण में भिगोएं और प्रभावित क्षेत्रों पर बीस मिनट तक लगाकर रखें.
अदरक
अदरक में सूजनरोधी गुण मौजूद होते हैं. अदरक घुटनों की सूजन और दर्द को कम करने में मदद करता है. इसके लिए ताज़ा अदरक को सबसे पहले काट लें और उसे फिर क्रश कर लें. अब इन्हें एक कप पानी में क्रश कर लें और दस मिनट के लिए उबलने को रख दें. अब इस मिश्रण को छान लें और इसमें बराबर मात्रा में शहद और नींबू का जूस मिलाएं.
सेंधा नमक
सेंधा नमक में मैग्नीशियम सल्फेट प्राकृतिक तरीकों से मांसपेशियों को आराम पहुंचाता है जिससे ऊतकों से अधिक तरल पदार्थों को निकालने में मदद मिलती है. गर्म पानी के टब या बाल्टी में एक या आधा कप सेंधा नमक मिलाएं. अब अपने घुटनों को गुनगुने पानी में 15 मिनट के लिए डालें रखें. ह्रदय से सम्बंधित समस्यायों वाले और हाई बीपी और शुगर वाले व्यक्ति इसके इस्तेमाल में सावधाने बरतें.

How To Cope With Severe Back Pain And Have A Healthy Sex Life?

MS Human Sexuality, M.Phil Clinical Psychology, PhD (Behaviour Modification), Certified In Treatment of Resistant Depression
Sexologist, Hyderabad
How To Cope With Severe Back Pain And Have A Healthy Sex Life?

Understandably, the limitations brought about by back pain may produce stress that can damage a relationship. The person who doesn’t have the pain often finds it difficult to understand what his or her partner is experiencing. The negative effects that pain has been causing in a couple’s sex life can sometimes spill over into other aspects of the relationship.

Good communication is critical. Otherwise, one partner may mistakenly interpret a reluctance to engage in sexual activity as an excuse for not wanting to be close, which can lead to feelings of rejection and resentment.

To reduce the tension, try to create an atmosphere in which neither partner will feel rushed. Be patient with each other. I suggest setting the stage with a gentle massage, a hot bath or shower, or the application of a pain cream - any of which can relax the muscles and ease pain. Even under the best of circumstances, back pain may occur during sex. Knowing this, both of you should plan how you will respond ahead of time, so you can avoid becoming angry or frustrated.

When Standing Up Straight and/or Bending Backwards (Extension) Feels Better-

if your partner with lower back pain prefers “extension” then he can use the missionary position, with the woman bending her knees toward her chest. For this to work, the man has to support himself on his hands so his back is extended or bent backwards more. Or she can straddle him (facing away or towards him) while he lies on his back with a pillow under his lower back or he may sit in a sturdy armless chair.

When Bending Forward (Flexion) Feels Better

If your partner with lower back pain who prefers flexion may be more comfortable entering his partner from behind as they both kneel on the bed. Or, the woman can kneel on the edge of the bed, facing in, while he enters from behind, allowing him to bend forward as he stands. Also, they can lay in a side-lying position with him entering from behind.

1 person found this helpful

Nipah Virus Awareness

MBBS,D.Ped., Jawaharlal Nehru Medical college, Belgaum , Boston University, UNITED STATES OF AMERICA
Pediatrician, Ahmedabad
Nipah Virus Awareness

Q: what is nipah virus?
A: nipah virus was initially discovered when it caused an outbreak of brain fever among pig farmers in malaysia.

Q: should I be worried? 
A: a little. As it is transmitted from person to person and there is no effective antiviral therapy for this infection.

Q: who is at high risk? how is it transmitted? 
A: 1. People working with pigs and consuming pigs.
2. Farmers who come in contact with bats.
3. Consuming fruits which are already bitten by bat.
4. Contact with people who already have nipah virus infection. 

Q: what are the early symptoms? 
A: the initial presentation is non-specific, characterized by the sudden onset of fever, headache, muscle pain, nausea and vomiting. Neck rigidity and photophobia are also seen.
The disease rapidly progresses, with deterioration in consciousness *leading to coma within five to seven days.* 

Q: how is it diagnosed? 
A: the rdiagnosis is by elisa which is currently done at national institute of virology, pune.

Q: how is it treated? 
A: supportive care is the mainstay of treatment and infected patients may require intensive care monitoring.
*there is no approved specific therapy for this infection*. So prevention is the only cure! 

Q: how do I prevent it? 
A: 1. Avoid contact with pigs and pig handlers.
2. Maintain personal hygeine and intensive hand washing practices
3. *avoid consuming raw fruits,* consume only well cooked, clean, home made food till the outbreak settles down. 
4. Preferably use n95 mask while travelling or working in public places to avoid person to person transmission.
5. Be aware of the symptoms and report to the doctor immediately for early diagnosis and treatment.

Technology Addiction Leads To Heart Diseases In Teenagers

BSc - Home Science, Diploma In Health & Nutrition, MSc - Dietitics/Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Technology Addiction Leads To Heart Diseases In Teenagers

Technology addiction leads to heart diseases in teenagers

“life was much easier when blackberry and apple were just fruits.” technology 
Was invented to bring people closer and make life easier but it has had just theopposite efect. The worst effects of technology have been seen in teenagers- obesity, depression, loneliness and a bad lifestyle, making them prone to heart diseases at a very young age. 

Wrong habits don’t last long and make you pay the price in no time, whether it is missing out on your workout, eating too much or not eating at all, being a couch potato and remaining glued to the tv for hours. If you have been in love with technlogy lately and are not ready to part with your mobile phone, laptop and pc, it’s time you think again.

A case study on teenagers by Dr. Pn arora claims that children who are more active and take part in sports are less prone to depression and obesity. And children who like being indoors and playing games on their mobiles or laptops become easily depressed, tend to eat more and act moody.

Lifestyle diseases are different from other diseases, and can be cured and controlled with a simple change in your diet and way of life. Here are a few expert tips to start now: 

1. Burn those extra inches: make exercise a part of your, everyday routine. If you have no time to hit the gym, take a one-hour brisk walk and fill your lungs with some freash air. Just add more 
Activity to your life. Always walk short distances and take the stairs instead of the elevator. This would not only help you shed some extra kilos but also increase your life span.

2. Go raw: raw fruits and vegetables not only add a glow to your skin but also provide you with 
Anti-oxidants that protect you against cell damage and prevent cancer. To get maximum benefits have at least servings of fruits and vegetables everyday.

3. Say no to processed food: fast foods, takeaways and eating out have become a part of our busy lives. Such foods are filled with preservatives and have high content of salt and sugar which lead to heart diseases. They have no nutritional value and must be avoided as much as possible.

4. Walk barefoot: this has been scientifically proven to be one of the best ways to release stress and achieve a better posture. Depression patients are advised to walk barefoot on green grass as it makes them feel happy instantly.

5. Give those eyes a rest: a good rest helps you stay away from unhealthy snacking. People tend to eat more when tired. An eight-hour sleep helps you concentrate better and prevents premature ageing.

View All Feed

Near By Clinics

Friends Hospital

Rohini, Delhi, Delhi
View Clinic

Dermatrixx clinic

Shalimar Bagh, Delhi, Delhi
View Clinic
  4.5  (1506 ratings)

Dr. manisha swami

Haiderpur, Delhi, delhi
View Clinic
  4.5  (1506 ratings)

Homoeopathic health care clinic

Ambedkar Nagar, Delhi, delhi
View Clinic