Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

HEALTHY HEART BHOPAL

Cardiologist Clinic

SAGAR AVENUE bhopal
1 Doctor · ₹250
Book Appointment
Call Clinic
HEALTHY HEART BHOPAL Cardiologist Clinic SAGAR AVENUE bhopal
1 Doctor · ₹250
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

We will always attempt to answer your questions thoroughly, so that you never have to worry needlessly, and we will explain complicated things clearly and simply....more
We will always attempt to answer your questions thoroughly, so that you never have to worry needlessly, and we will explain complicated things clearly and simply.
More about HEALTHY HEART BHOPAL
HEALTHY HEART BHOPAL is known for housing experienced Cardiologists. Dr. Abhishek Mishra, a well-reputed Cardiologist, practices in bhopal. Visit this medical health centre for Cardiologists recommended by 108 patients.

Timings

MON-SUN
07:00 AM - 11:00 PM

Location

SAGAR AVENUE
bhopal, Madhya Pradesh - 471001
Get Directions

Doctor in HEALTHY HEART BHOPAL

Dr. Abhishek Mishra

MD - Cardiology, Diploma in Cardiology
Cardiologist
6 Years experience
250 at clinic
Available today
07:00 AM - 11:00 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for HEALTHY HEART BHOPAL

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

What Is Cardiomyopathy in Adults?

Clinical Cardiology, MD - Consultant Physician
Cardiologist, Surat
What Is Cardiomyopathy in Adults?

Our heart is basically a muscle. So when this muscle weakens the heart is unable to do its function i.e., to pump blood throughout our body and keep us alive.

The heart muscle gets progressively weak due to a disease called cardiomyopathy.

There are different types of cardiomyopathy caused by different causes. Untreated cardiomyopathy can lead to heart failure or early death. Treatment can’t cure the condition but can give you extra healthy years of life and prevent serious complications.

Cardiomyopathy has 4 main types, they are:

  1. Dilated Cardiomyopathy: This is the most common form and its principal cause is that your heart muscle becomes too weak to pump blood. The heart muscles stretch and become thinner in this case leading to the four chambers of the heart to expand causing a pathology called an enlarged heart.

  2. Hypertrophic Cardiomyopathy: This happens due to genetics. It occurs when the walls of your heart thicken and prevent the flow of blood through this natural pump.

  3. Arrhythmogenic Right Ventricular Dysplasia: This is a rare form of cardiomyopathy. It causes sudden deaths of athletes and is caused when fat and fibrous tissues replace muscle in the right ventricle of the heart.

  4. Restrictive Cardiomyopathy: This is the least common form of the disease. The cause is the stiffening of the ventricles, the part of the blood which receives blood. When these stiffen, the heart doesn’t get enough blood to oxygenate. Scarring of the heart due to heart disease and a heart transplant operation can be a cause of this stiffening.

  5. Ischemic Cardiomyopathy: Ischemic cardiomyopathy is caused due to coronary artery disease which causes blood vessels supplying blood to the heart to become narrow. The heart doesn’t get enough oxygen and a person can die due to a heart attack.

  6. Other types of cardiomyopathy are grouped into this category and can include:

    • Left ventricular noncompaction happens when the left ventricle has trabeculations, projections of muscle inside the ventricle.

    • Peripartum cardiomyopathy, another form of the disease can occur during or after pregnancy. This is a form of dilated cardiomyopathy and can be fatal. There’s no documented cause.

    • Alcoholic cardiomyopathy is caused due to alcoholism causing an enlargement of the heart.

    • Takotsubo cardiomyopathy, or broken heart syndrome, happens when extreme stress leads to heart muscle failure. Though rare, this condition is more common in post-menopausal women.

Treatment

Doctors will decide the treatment after finding out the extent of damage due to cardiomyopathy.

Few people will not require treatment till symptoms like chest pain, dizziness, shortness of breath and edema appear.

Others whose life is affected due to symptoms are treated with lifestyle changes and medicines. The bad news is that cardiomyopathy can’t be cured but can only be managed and controlled by doing the following:

  1. Heart-healthy lifestyle changes are key. You will be advised to maintain a healthy weight, eat a modified diet, get enough sleep, manage stress, and quit smoking.

  2. Exercise is also crucial to keep the heart healthy and maintain a healthy weight through regular bouts of low-intensity exercise.

  3. Medications for high blood pressure will be prescribed to prevent water retention, keep the heart beating normally, prevent blood clots and reduce inflammation.

  4. Pacemakers and defibrillators can be implanted.

  5. Surgery like heart transplant can be done as a last resort.

I am a post stroke patient and taking telmikind AMH 1 -0 -0 and in very strict diet. Now my bp is 140/ 110. Is this ok at the time of recovery or high?

DM - Neurology, Fellowship in Stroke Neurology, MD - General Medicine, MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery
Neurologist, Kolkata
I am a post stroke patient and taking telmikind AMH 1 -0 -0
and in very strict diet. Now my bp is 140/ 110. Is this o...
Dear friend, We often see for initial few days, BP remain on higher side post stroke and it gradually settles down as patients auto regulatory mechanism takes over. Though your BP is slightly high, please recheck regularly to see whether it is persistent or you are symptomatic. Then only we need to intervene.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 41 year old I have high bp problem last 1 month so have any permanent solution.

Bachelor of Unani Medicine and Surgery (B.U.M.S)
Ayurveda, Kanpur
I am 41 year old I have high bp problem last 1 month so have any permanent solution.
Yogendra ras 125 mg twice a day hridyarnav avleh 10 gm twice a day relief in 8-10 days and for complete cure take it for 60 days only.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

i'm having Gas after meals, chest tightness, chest burning, shoulder pain. please suggest

MBBS, MD, DHMS (Diploma in Homeopathic Medicine and Surgery)
Homeopath, Indore
i'm having  Gas after meals, chest tightness, chest burning, shoulder pain. please suggest
Take lycopodium 200, and asafoetida 30, 4-4 pills thrice a day and report thereafter for further treatment. Besides this, avoid spicy and fatty oily food, take salads and sprouts, don't be empty stomach, be hydrated, do walk for minimum of 30 minutes. Do revert back for further treatment.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I always has fear of heart attack and hypertension when I go out I feel much fear and always thinks something going to happen.

MD Hom., Certificate in Food and Nutrition, BHMS, Diploma In Yoga, PGDM
Homeopath, Indore
I always has fear of heart attack and hypertension when I go out I feel much fear and always thinks something going t...
It is anxiety. Take medicine aconite 30,4 pills twice a day for 2 days and report thereafter for further treatment. Avoid stress and stressor factors, eat healthy and nutritious food, do meditate regularly, have proper 7-8 hours of sleep, keep yourself busy in any work. If above way doesn't give you relief, then contact us for homeopathic medicine.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Silent Heart Attacks - Understanding Them Deeply!

MCh (CTVS)
Cardiothoracic Vascular Surgery, Patna
Silent Heart Attacks - Understanding Them Deeply!

A heart attack does not always have obvious symptoms, such as pain in your chest, shortness of breath and cold sweats. In fact, a heart attack can actually happen without a person knowing it. This condition is known as a ‘silent heart attack’, medically known as ‘silent ischemia’, occurring due to the shortage of oxygen supply to the heart muscle.

The causes of a silent heart attack are similar to that of a heart attack. They include-

  1. Obesity or excess weight
  2. Lack of exercise
  3. Disorders such as diabetes
  4. High blood pressure
  5. High cholesterol
  6. Age, usually above 65
  7. Heart diseases
  8. Consumption of tobacco or smoking

A silent cardiac arrest makes one more vulnerable to another heart attack that could be fatal.

Diagnosis:

The only method to diagnose if you had a silent heart attack is through imaging tests, such as echocardiogram, electrocardiogram or others. These tests can show certain changes which might be indicative of a heart attack.

An analysis of one’s overall health and the symptoms can aid in deciding whether few more tests are required.

How would you prevent a silent heart attack?

  1. Get your cholesterol and blood pressure count tested regularly.
  2. Refrain from smoking.
  3. Be aware of your body and call on a doctor if you feel there’s anything which is bothering you.

In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

1 person found this helpful

Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi - उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi - उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

बदलती हुई जीवनशैली ने कई चीजों को बदल दिया है. उच्चरक्तचाप की समस्या आज बहुत तेजी से फ़ैल रही है. इसमें धमनियों में रक्त का दबाव बढ़ जाता है जिसके कारण दिल को सामान्‍य से अधिक कार्य करना पड़ता है. आमतौर पर यह समस्‍या अधिक तला-भुना चिकनाई युक्त भोजन करने और शारीरिक श्रम न करने की वजह से होती है. बच्चों में उच्च रक्तचाप का सबसे आम कारण मोटापा और गुर्दे की बीमारी होते हैं. इसके लिए कई कारक जिम्मेदार हैं, लेकिन सबसे ज्यादा प्रभाव खान-पान का ही पड़ता है. इसलिए कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन कर आप उच्‍च रक्‍तचाप की समस्‍या से निजात पा सकते हैं. तो आइए जानें कि उच्चरक्तचाप के रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट क्या है, यानि क्या-क्या खाना उनके लिए सुरक्षित हो सकता है.
1. किशमिश
अमेरिकन कॉलेज आफ कार्डियोलॉजी कांफ्रेंस में पेश एक अध्ययन में बताया गया कि दिन में तीन बार मुट्ठी भर किशमिश खाने से बढ़े रक्तचाप में कमी होती है. इस शोध के पहले परीक्षण में 46 लोगों को शामिल किया गया, जिनका रक्तचाप सामान्य से कुछ अधिक था और जिन्हें उच्च रक्तचाप होने का खतरा भी था. इन लोगों का रक्तचाप 120-80 से 139-89 मापा गया, जो सामान्य से कुछ ज्यादा था. इन लोगों ने जब आहार में नियमित रूप से किशमिश को शामिल किया तो इनके रक्तचाप में 12 हफ्ते में कमी दर्ज हुई और रक्तचाप सामान्य हो गया.
2. शकरकंद
शकरकंद जिसे अंग्रेजी में स्वीट पोटैटो कहा जाता है, में बीटा कैरोटीन, कैल्‍शियम और घुलनशील रेशे होते हैं. जो स्‍ट्रेस को कम करते हैं. इसलिये प्रतिदिन अपने आहार में करीब 1 से 2 स्‍लाइस शकरकंद जरुर शामिल करें.
3. सफेद सेम
उच्चरक्तचाप रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट में सफ़ेद सेम को भी शामिल करना चाहिए. सफेद सेम का एक कप 13 प्रतिशत कैल्शियम 30 प्रतिशत मैग्नीशियम और 24 पोटेशियम प्रदान करता है. आप इन्हें कई प्रकार जैसे सब्जी बनाकर, सूप के रूप में या सलाद में खा सकते हैं. 
4. पोटेशियम खाएं
पोटेशियम एक ऐसा खनिज होता है जो रक्तचाप कम करने में मददगार है. पोटेशियम से भरपूर खाद्य पदार्थों में सेम व मटर, गिरियां, पालक, बंदगोभी जैसी सब्जियां, केला, पपीता व खजूर आदि प्रमुखता से शामिल होते हैं.
5. सोयाबीन
एक और अध्ययन के मुताबिक सोयाबीन को अपने आहार में नियमित रूप से शामिल करने से भी रक्तचाप को कम करने में मदद मिलती है. 18 से 30 वर्ष की आयु के 5100 श्वेत और अफ्रीकी अमेरिकी लोगों पर किए अध्ययन के अनुसार प्रतिदिन सोयाबीन, पनीर, मूंगफली और ग्रीन टी को अपने भोजन में शामिल करने वाले लोगों के रक्तचाप में कमी दर्ज की गई.
6. अंडा
अंडे में विटामिन, मिनरल और कई अन्य पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं, जो एंडोर्फिन नामक एक रसायन का उत्‍पाद करते है. यह रसायन हमारे दिमाग में भी पाया जाता है. जो अवसाद व दर्द जैसी समस्याओं से राहत दिलाता है. अंडे को कई प्रकार, उबाल कर, सब्जी बनाकर या कच्चा भी खाया जा सकता है.
7. दही
दही में प्रोटीन, कैल्‍शियम, राइबोफ्लेविन, विटामिन बी 6 और विटामिन बी 12 काफी मात्रा में होते हैं, जो कि उच्‍च रक्‍तचाप की समस्‍या को कम करते हैं और शरीर को कई प्रकार को लाभकारी अवयव मिलते हैं.
8. कीवी फ्रूट
एक कीवीफ्रूट में 2 प्रतिशत कैल्शियम, 7 प्रतिशत मैग्नीशियम और 9 प्रतिशत पोटेशियम होता है. यदि आप इसका नियमित सेवन करने से आपको उच्च रक्तचाप की समस्या से निजात मिल सकती है.
9. कद्दू के बीज
कद्दू का बीजों में जिंक प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो तनाव को कम करने में मदद करता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है. गौरतलब है कि यदि शरीर में जिंक की कमी हो तो आप डिप्रेशन और चिड़चिडेपन के शिकार हो सकते हैं.

Healthy Diet Chart For Low Blood Pessure Patients - लो ब्लड प्यूसर रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For Low Blood Pessure Patients - लो ब्लड प्यूसर रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

शारीरिक निर्बलता की स्थिति में अत्यधिक मानसिक श्रम व भोजन में पौष्टिक खाद्य पदार्थों की कमी से प्रायः यह स्थिति उत्पन्न हो जाती है. कुछ लोग इसे नजरअन्दाज कर देते हैं तो कुछ लोग डॉक्टर के यहां चक्कर लगाकर परेशान हो जातें हैं. जब आपको लो ब्लड प्रेशर की शिकायत होती है तो कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करें जो आपके ब्लड प्रेशर को सामान्य करे तथा आप एक स्वस्थ जीवन जी सकें. सामान्यत: यदि किसी व्यक्ति का ब्लड प्रेशर कम हो जाता है तो वह खारे या अधिक मीठे खाद्य पदार्थों का सेवन करता है ताकि इन्सुलिन का स्तर बढ़ जाए. इन उपचारों के अलावा अन्य कई खाद्य पदार्थ भी हैं जिन्हें लो ब्लडप्रेशर से ग्रस्त मरीजों को अपने आहार में शामिल करना चाहिये. लेकिन कुछ ऐसे घरेलू उपाय है जो लो ब्ल्डप्रेशर को कन्ट्रोल करने के लिए कारगर है. आइए जानें उन उपायों के बारें में.
1. पत्तेदार सब्जियां
पत्तेदार सब्जियों में आयरन होता है जो एक महत्वपूर्ण खनिज पदार्थ है. ब्लड प्रेशर के कम होने पर उसे सामान्य बनाने के लिए यह बहुत ही महत्वपूर्ण होता है. सब्जियों में प्रोटीन और विटामिन होते हैं. बल्डप्रेशर को सामान्य बनाये रखने के लिए प्रतिदिन सब्जियां खाएं. स्वस्थ रहने के लिए अपने आहार में सब्जियों को शामिल करें क्योंकि ये ब्लड प्रेशर को सामान्य रखती हैं.
2. सूखे मेवे
सूखे मेवे आपकी ऊर्जा और प्रतिरोधन क्षमता को बढ़ाने का काम करते हैं. इसके अलावा ये ब्लड प्रेशर को नियमित करने का काम भी करते हैं इसलिए आपको इन्हें अपने दैनिक आहार में अवश्य शामिल करना चाहिए.
3. ओट्स
ओट्स में मौजूद प्रचुर मात्रा में फाइबर इसे लो बीपी वाले लोगों के लिए उपयोगी बनाता है. को अपने आहार में शामिल करें क्योंकि इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो आपको ऊर्जा प्रदान करता है.
4. बिना चर्बी वाला मांस
ऐसे मांस का सेवन करें जिसमें चर्बी कम मात्रा में हो. जिन लोगों को लो ब्लडप्रेशर की समस्या होती है उनके लिए टर्की, चिकन और मछली जैसे पदार्थ उपयोगी होते हैं. यह लो ब्लड प्रेशर के लिए सर्वोत्तम आहार है.
5. फल
फल खाना अक्सर हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक ही होता है. ऐसे फल खाएं जिनमें प्रोटीन प्रचुर मात्रा में हो. ये ऐसे फल हैं जो ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए बहुत अच्छे होते हैं इसलिए आप इन्हें भी खा सकते हैं.
6. काले खाद्य पदार्थ
काले अंगूर, काले खजूर आदि में आयरन प्रचुर मात्रा में होता है. ये सभी पदार्थ लो ब्लडप्रेशर को समान्य बनाने के लिए बहुत उपयोगी होते हैं. इन्हें आहार में शामिल करने से ब्लड प्रेशर के साथ साथ हृदय भी स्वस्थ रहता है.
7. खट्टे खाद्य पदार्थ
गर्मियों में खट्टे खाद्य पदार्थ जैसे संतरे आदि स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं क्योंकि इनमें पानी और एसिड पाया जाता है जो लो ब्लड प्रेशर के मरीजों के शरीर में ऊर्जा निर्माण में सहायक होता है.
8. साबुत अनाज
सफ़ेद खाद्य पदार्थों की तुलना में साबुत अनाज ज़्यादा अच्छा होता है. लो ब्लड प्रेशर को सामान्य बनाने के लिए इनका उपयोग करना अच्छा होता है तथा ये स्वास्थ्य के लिए भी अच्छे होते हैं. इन्हें आहार में अवश्य शामिल करना चाहिए.
9. लहसुन
लहसुन को अपने आहार में शामिल करें. यह ब्लड प्रेशर को सामान्य बनाने में सहायक होता है. अपने भोजन में कटी हुई लहसुन डालें. यह लो ब्लड प्रेशर के लिए एक अच्छा खाद्य पदार्थ है.
10. चुकंदर
चुकंदर प्रचुर मात्रा में मौजूद खनिज, आयरन इसे लो बीपी वाले लोगों के लिए काफी उपयोगी बनाता है. अच्छे स्वास्थ्य तथा सामान्य ब्लड प्रेशर के लिए यह एक अच्छा आहार है.
11. डार्क चॉकलेट
डार्क चॉकलेट न केवल आपके हृदय के लिए बल्कि लो ब्लड प्रेशर के लिए भी एक अच्छा आहार है.

My total blood urea level is 13 and vitamin b12 level is 140 I have weakness in body and sometimes feels short breath what should I do.

MBBS, MD - Internal Medicine, DM - Cardiology, Fellowship in EP
Cardiologist, Delhi
Tests are ok. Take better diet, more rest. Reduce alcohol sugar jaggery and starchy foods. Balanced diet is healthier than restricted modern diet. For more information please consult online. Best wishes.
Submit FeedbackFeedback

I have cholesterol problem what should I do for it massage has grown in my upper eye.

MBBS, MD - Internal Medicine, DM - Cardiology, Fellowship in EP
Cardiologist, Delhi
I have cholesterol problem what should I do for it massage has grown in my upper eye.
You have xanthelasma. Usually cholesterol is not high, but sometimes can be. Please discuss on phone for further opinion. Best wishes.
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Clinics

Patanjali Aarogya Clinic

Ayodhya ByPass Road, Bhopal, Bhopal
View Clinic

Chitransh Dental Clinic

Bypass Road, Bhopal, Bhopal
View Clinic

Atharva Clinic

Bypass Road, Bhopal, Bhopal
View Clinic