Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Samruddhi Clinic

Ayurveda Clinic

676, Thindlu, Vidyaranyapura Post Bangalore
1 Doctor · ₹50
Book Appointment
Call Clinic
Samruddhi Clinic Ayurveda Clinic 676, Thindlu, Vidyaranyapura Post Bangalore
1 Doctor · ₹50
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

Our medical care facility offers treatments from the best doctors in the field of General Physician . Our goal is to offer our patients, and all our community the most affordable, trustwo......more
Our medical care facility offers treatments from the best doctors in the field of General Physician . Our goal is to offer our patients, and all our community the most affordable, trustworthy and professional service to ensure your best health.
More about Samruddhi Clinic
Samruddhi Clinic is known for housing experienced Ayurvedas. Dr. Kiran Kumar, a well-reputed Ayurveda, practices in Bangalore. Visit this medical health centre for Ayurvedas recommended by 62 patients.

Timings

MON-SUN
10:00 AM - 02:30 PM 05:00 PM - 10:00 PM

Location

676, Thindlu, Vidyaranyapura Post
Vidyaranyapura Bangalore, Karnataka - 560097
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctor in Samruddhi Clinic

14 Years experience
50 at clinic
Available today
10:00 AM - 02:30 PM
05:00 PM - 10:00 PM
View All
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Samruddhi Clinic

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

एंटी एजिंग उपाय - Anti Aging Upay!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
एंटी एजिंग उपाय - Anti Aging Upay!

एंटी एजिंग का मतलब है बढ़ते हुए उम्र के प्रभाव को कम करना. जाहिर है बढ़ती उम्र का स्पष्ट प्रभाव हमारे त्वचा पर ही नजर आता है. त्वचा में झुर्रियां और ढीलापन आने लगता है. यदि आप अपने त्वचा को एजिंग के प्रभाव से बचा सकते है तो आप बड़े आसानी से अपनी बढती उम्र के प्रभाव को कम कर सकते हैं. जब आपकी त्‍वचा से चमक गायब होने लगता है तब आप बूढ़े दिखने शुरु हो जाते हैं. इसलिए आपको हमेशा अपनी त्‍वचा पर ध्‍यान देना चाहिए. चेहरे की चमक को बरकरार रखने के लिये बाजारू उत्पादों की जगह हमेशा प्राकृतिक उपचार का सहारा लेना चाहिए जिससे अंदर से निखार आ सके. आइए इस लेख के माध्यम से हम एंटी एजिंग के विभिन्न उपायों को जानें.

1. त्वचा की नियमित देखभाल करें-

आपको रोजाना त्वचा की देखभाल के लिए सीटीएम यानी क्लिंजिंग-टोनिंग-म्यॉस्चुराइज़िंग करना चाहिए. इस स्किन केयर रिजीम को दिनचर्या में शामिल किया तो लंबे समय तक आपकी त्वचा स्वस्थ और जवां दिखेगी. इसके अलावा, जब भी आप घर से बाहर निकलें, चाहे बारिश हो या सर्दी का मौसम, सनस्क्रीन ज़रूर लगाएं. फेशियल किसी अच्छे पार्लर में ही कराएं और जल्दी-जल्दी ब्यूटी प्रॉडक्ट्स न बदलें.

2. हमेशा हाइड्रेट रहें-
स्वस्थ शरीर के लिए दिन में 6-8 ग्लास पानी ज़रूर पीना चाहिए. इससे त्वचा की नमी बरकरार रहती है जिससे झुर्रियां नहीं आतीं हैं. सादे पानी के साथ साथ ज्यादा से ज्यादा तरल चीज़ों जैसे जूस, नारियल पानी, दाल आदी को अपनी डाइट में शामिल करें.

3. दुष्प्रभाव उत्पन्न करने वाली चीजों को करें इनकार-
कभी अपनी क्रेविंग की वजह से तो कभी दूसरों के ज़ोर देने पर, हम शराब, कैफीन और तंबाकू का सेवन करते हैं. इसका हमारे मेटाबॉलिज़म पर बुरा असर पड़ता है. देर रात तक जागना और बिंग इटिंग भी हमारे हेल्थ के लिए नुकसानदायक है. ज़ाहिर है, अगर शरीर को किसी भी तरह का नुकसान होता है, तो उसका असर हमारे चेहरे पर भी नज़र आता है.

4. खाने का भी रखें ध्यान-
हम जैसे खाते-पीते हैं, वैसे ही दिखते हैं. फैटी खाना खाने से हमारे शरीर में चर्बी बढ़ती है. हमारे बॉडी में चेहरे और पेट के पास सबसे जल्दी फैट जमा होता है. इसके कारण आपके त्वचा की चमक और खूबसूरती पर बुरा असर पड़ता है. सही खान-पान के अलावा रोजाना कम से कम आधे घंटे की वर्जिश भी ज़रूरी है.

इन खाद्य पदार्थों का सेवन न करें-
1. रिफाइंड शुगर से बनी चीज़ें,
2. रिफाइंड स्टार्च-मैदा, पास्ता
3. हाई स्टार्च-आलू,
4. डब्बा बंद जूस और खाना

5. पूरी नींद लेना है जरूरी-
ये बात सभी को पता है कि स्वस्थ शरीर और दिमाग के लिए हमें 6-8 घंटे की नींद लेनी चाहिए. वर्ना न केवल हमारी पाचन शक्ति और याददाश्त कमज़ोर होगी, बल्कि आंखों के नीचे काले गड्ढे पड़ने लगेंगे. बढ़ती उम्र के साथ आई बैग्स और डार्क सर्किल्स जैसी समस्याओं से निजात पाना मुश्किल होता जाता है.
टिप: पेट के बल कभी न सोएं वर्ना चेहरे पर क्रीज़ पड़ सकते हैं.

6. शहद-
चेहरे को पहले धो लें, फिर कुछ बूंद शहद की चेहरे पर लगाएं. इसे कुछ मिनट तक ऐसे ही छोड़ दें और फिर चेहरे को धो लें. शहद चेहरे को नमी पहुंचाता है और उसे साफ करता है. शहद के सेवन के कई अन्य फायदे भी होते हैं.

7. जैतून तेल-
हर रात को सोने से पहले चेहरे पर कुछ बूंद जैतून के तेल की मालिश करने से चेहरे को नमी पहुंचती है. आप चाहें तो नहाने वाले पानी में भी कुछ बूंद जैतून के तेल की डाल सकती हैं. इससे त्‍वचा पर जमी डार्क स्‍किन भी निकल जाती है.

8. थोड़ा सा विटामिन सी-
चेहरे पर चमक बढाने के लिये विटामिन सी काफी प्रभावशाली होता है. आप चाहें तो रोज नींबू पानी पी सकती हैं या फिर चेहरे पर हल्‍का नींबू का रस लगा सकती हैं. यह अंदर से भी अच्‍छा है और बाहर से भी. आप इसे किसी भी एंटी एजिंग मास्‍क में डाल कर भी प्रयोग कर सकती हैं.

2 people found this helpful

अंकुरित मूंग के लाभ - Ankurit Mung Ke Laabh!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
अंकुरित मूंग के लाभ - Ankurit Mung Ke Laabh!

अंकुरित मूंग दाल आपके सेहत और शरीर के लिए एक आवश्यक खाद्य पदार्थ है. जाहीर है ज़्यादातर अंकुरित अनाज बेहद लाभकारी साबित होते हैं लेकिन मूंग दाल को उनमें सबसे बेहतर मान सकते हैं. हालांकि अंकुरित मूंग का सीधा सेवन स्वाद में थोड़ा अजीब लग सकता है. जरूरी नहीं कि स्‍वाद में जो अच्‍छा हो, वो स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक भी हो. अक्‍सर ऐसा ही होता है, जो चीज खाने में बिल्‍कुल अच्‍छी नहीं लगती है वो गुणों से भरपूर ही होती है. इसलिए स्‍वादिष्‍ट भोजन करने से पहले आपको इस बात को हमेशा ध्‍यान में रखना चाहिए कि शरीर के विकास के लिए विटामिन और खनिज की जरूरत होती है. आइए इस लेख के माध्यम से हम अंकुरित मूंग के विभिन्न लाभ के बारे में जानें.

पौष्टिक तत्वों का खजाना-

अंकुरित मूंग दाल में मैग्‍नीशियम, कॉपर, फोलेट, राइबोफ्लेविन, विटामिन, विटामिन सी, फाइबर, पोटेशियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, आयरन, विटामिन बी -6, नियासिन, थायमिन और प्रोटीन होता है. मतलब अंकुरित मूंग पौष्टिक तत्वों का वास्तव में खजाना है.

वजन के नियंत्रण में सहयोगी-
इसके सेवन से शरीर में कैलोरी भी बहुत नहीं बढ़ती है. अगर अंकुरित मूंग दाल खाएं तो शरीर में कुल 30 कैलोरी और 1 ग्राम फैट ही पहुंचता है. यानि इसके सेवन से आपके वजन में वृद्धि नहीं होती है. तो डाइटिंग करने वाले लोगों के लिए भी फायदेमंद है.

दालों का राजा-
विभिन्न दालों में सार्वाधिक पौष्टिक दाल अंकुरित मूंग को ही माना जाता है. इसमें मौजूद विटामिन ए, बी, सी और ई की प्रचुर मात्रा इसे पौष्टिकता प्रदान करती है. इसके साथ ही पौटेशियम, आयरन, कैल्शियम इत्यादि की मात्रा भी मूंग में पर्याप्त होती है.

मधुमेह एवं अन्य रोगियों के लिए भी लाभकारी-
अंकुरित मूंग के स्‍प्राउट में ग्‍लूकोज लेवल बहुत कम होता है इस वजह से मधुमेह रोगी इसे खा सकते हैं. अंकुरित मूंग के स्‍प्राउट में ओलियोसाच्‍चाराइडस होता है जो पॉलीफिनॉल्‍स से आता है. ये दोनों की घटक, गंभीर रोगों से लड़ने की क्षमता को प्रबल करते हैं. कैंसर के रोगी भी इसका सेवन आराम से कर सकते हैं.

संक्रमण से बचाव-
अंकुरित मूंग में ऐसे गुण होते हैं जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा देते हैं और उसे बीमारियों से लड़ने की ताकत देते हैं. इसमें एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-इंफलामेट्री गुण होते हैं जो शरीर की इम्‍यूनिटी बढ़ाते हैं.

शरीर को साफ करने में मददगार-
अंकुरित मूंग में शरीर के टॉक्सिक को निकालने के गुण होते हैं. इसके सेवन से शरीर में विषाक्‍त तत्‍वों में कमी आती है. इस प्रकार अंकुरित मूंग के सेवन से हमारे शरीर का शुद्धिकरण होने के साथ ही कई आवश्यक तत्वों की आपूर्ति भी हो जाती है.

लम्‍बा खुशनुमा जीवन प्रदान करे-
इस बात को मजाक में न लें, अंकुरित मूंग के स्‍प्राउट के सेवन से पाचन क्रिया हमेशा सही बनी रहती है जिसके कारण, आपको पेट सम्‍बंधी समस्‍या नहीं होती है और जीवन खुशहाल रहता है. तो अच्छे और बेहतर स्वस्थ्य के लिए आपको भी मूंग का सेवन करना चाहिए.

युवा बनाए रखे-
अंकुरित मूंग में साइट्रोजेन होता है जो शरीर में कोलेजन और एलास्टिन बनाएं रखता है जिससे उम्र का असर, जल्‍दी ही चेहरे पर दिखाई नहीं देता है. अर्थात अंकुरित मूंग का इस्तेमाल एंटी एजिंग के लिए भी कर सकते हैं.

कब्‍ज से राहत दिलाये-
अंकुरित मूंग में फाइबर की भरपूर मात्रा होती है. जिससे फ्रेश होने में कोई समस्‍या नहीं होती है व पाचन क्रिया दुरूस्‍त बनी रहती है. जाहीर है पाचन क्रिया का दुरुस्त होना कई अनावश्यक रोगों से आपको बचा सकता है.

पेप्टिसाइड युक्‍त मूंग के स्‍प्राउट-
अंकुरित मूंग में पेप्टिसाइड होता है जो बीपी को संतुलित रखता है और शरीर को फिट बनाएं रखने में कारगर होता है. इसलिए यदि आप फिट रहना चाहते हैं तो आपको भी अंकुरित मूंग का सेवन करना शुरू कर देना चाहिए.

संतुलित खुराक-
अगर आप शाकाहारी हैं तो मूंग के स्‍प्राउट का सेवन अवश्‍य करें. यह शरीर में आवश्‍यक तत्‍वों की कमी हो पूरी करता है और शरीर को मजबूत बनाती है. इससे बेहतर शाकाहारी खाद्य सामग्री कोई नहीं होती है. यह पाचन में सहायक भी होता है.

1 person found this helpful

त्वचा से टैनिंग कैसे हटाए - How To Remove Tan In Hindi!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
त्वचा से टैनिंग कैसे हटाए - How To Remove Tan In Hindi!

त्वचा से टैनिंग हटाने के लिए कुछ घरेलू उपाय हैं. जिनका प्रयोग कर त्वचा से टैनिंग हटाया जा सकता है. वैसे कुछ सावधानियाँ बरतकर टैनिंग से बचा जा सकता है. चूँकि अधिक देर तक धूप में रहने की वजह से सूर्य के हानिकारक पाराबैगनी किरणों से त्वचा पर टैनिंग की समस्या होती है. इसमें त्वचा सूर्य के हानिकारक किरणों से काला हो जाता है, जो अधिक मेलेनिन के उत्पादन के कारण होता है. त्वचा के रंग में यह परिवर्तन स्पष्ट होता है जो कि आगे चलकर समस्या बन जाती है. अतः टैनिंग से बचने के लिए जहां तक संभव हो त्वचा को अधिक देर तक धूप में रखने से बचाना चाहिए. यदि धूप में रहना ही पड़े तो अपने लिए उचित सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए. पर यदि त्वचा पर टैनिंग हो जाए तो इसे हटाने के लिए कुछ घरेलू उपाय भी हैं. कुछ घरेलू उपाय से त्वचा से टैनिंग हटाया जा सकता है. आगे त्वचा से टैनिंग हटाने के कुछ घरेलू उपाय के बारे में जानेंगे.

त्वचा से टैनिंग हटाने के घरेलू उपाय-

केसर और मलाई: - केसर में त्वचा के रंग को हल्का करने व टैनिंग को दूर करने के गुण होते हैं. अतः टैनिंग को हटाने में केसर का उपयोग बहुत ही कारगर होती है. मलाई में केसर मिलाकर रात में त्वचा पर लगा कर रात भर के लिए छोड़ देना चाहिए. फिर सुबह इसे धो लेना चाहिए.

नींबू और खीरा: - नींबू में विटामिन सी और साइट्रिक एसिड रहता है जो त्वचा को चमकाने में मदद करता है. इसके अलावा नींबू में पाया जाने वाला एंटी-ऑक्सीडेंट सूरज की किरणों से त्वचा को हुये नुकसान को कम करता है. खीरा त्वचा को ठंडक प्रदान करता है. त्वचा के टैनिंग में नींबू व खीरा के रस को मिलाकर प्रभावित हिस्से पर प्रतिदिन लगाना चाहिए.

चंदन पाउडर: - चंदन त्वचा के दाग-धब्बे को कम करने में मदद करता है व यह त्वचा में चमक भी प्रदान करता है. काफी समय से त्वचा से टैनिंग हटाने व त्वचा के क्लींजर के रूप में इसका प्रयोग किया जा रहा है. गुलाबजल या नारियल पानी में चंदन पाउडर मिलाकर चेहरे पर सप्ताह में तीन दिन प्रयोग करना चाहिए.

शहद और पपीता: - पपीता में पपाइन नामक एंजाइम होता है जो त्वचा को चमकाने व टैनिंग को दूर करने में मदद करता है. यह त्वचा पर के निशान व काले धब्बे को भी कम करता है. शहद त्वचा को मुलायम बनाता है व नमी प्रदान करता है. चेहरे पर से टैनिंग कम करने के लिए शहद व पपीते के पेस्ट को सप्ताह में चार बार लगाना चाहिए.

हल्दी व बेसन: - हल्दी त्वचा के चमक बढ़ाती है व टैनिंग दूर करने में मदद करती है. बेसन मृत कोशिकाओं को हटा देती है. आता चेहरे की टैनिंग दूर करने के लिए हल्दी व बेसन का प्रयोग किया जाता है. इसके लिए हल्दी व बेसन को गुलाबजल में मिलाकर चेहरा पर लगाना चाहिए. 15 मिनट बाद चेहरा धो लेना चाहिए. सप्ताह में दो बार इसका प्रयोग करना चाहिए.

टमाटर व दही: - टमाटर त्वचा पिगमेंटेशन पर काबू पाने के लिए व काले धब्बे हटाने के लिए एक बड़ा घटक है. दही त्वचा को नमी प्रदान करती है. टैनिंग दूर करने के लिए टमाटर और दही के पेस्ट को चेहरा पर लगाकर कुछ देर में अच्छी तरह धो लेना चाहिए. सप्ताह में 4-5 बार इसका प्रयोग करना चाहिए.

बादाम: - त्वचा से टैनिंग हटाने में बादाम काफी उपयोगी होता है. इसके लिए पाँच-दस ताजा हरा बादाम लेकर इसे ग्राइंड करके पेस्ट बना लेना चाहिए. इस पेस्ट में पाँच बूंद चंदन का तेल डालकर इसे त्वचा के टैनिंग से प्रभावित हिस्से पर लगाना चाहिए. यदि ताजा बादाम उपलब्ध न हो तो रात भर बादाम को पानी में भिंगोकर इसका उपयोग करना चाहिए.

एलोवेरा, मसूर की दाल व टमाटर: - एलोवेरा चेहरे के लिए मास्क की तरह काम करता है. यह चेहरे को सूर्य की यूवी किरणों से बचाता है. मसूर की दाल से त्वचा में तनाव आता है व चेहरा दमकता है. इससे झुर्री व झाई भी कम होती है. टमाटर से चेहरे के दाग-धब्बे कम होते हैं. इसलिए टैनिंग में व चेहरे के लिए ये तीनों काफी लाभकारी हैं. मसूर की दाल को पानी में भिंगो कर दरदरा पीस लेना चाहिए. इसमें एलोवेरा का ताजा जेल व टमाटर मिलाकर पेस्ट बना लेना चाहिए. इस पेस्ट से चेहरे व गर्दन पर मसाज करना चाहिए. 15 मिनट बाद इसे धो लेना चाहिए.

संतरा और दही: - संतरा में साइट्रिक एसिड रहता है जो चेहरे को यूवी किरणों से बचाता है. संतरा में विटामिन सी भी होता है जिससे नई त्वचा बनती है तथा इससे चेहरे पर ताजगी भी आती है. इससे चेहरे की बनावट दुरुस्त होती है. इससे त्वचा में तनाव आती है व झुर्रियां कम होती है. दही से त्वचा साफ होता है व प्राकृतिक रूप से ब्लीच होता है व चेहरा प्राकृतिक रूप से मोइश्चराइज होकर सॉफ्ट होता है. दही में संतरे का रस मिलाकर पेस्ट तैयार करना चाहिए. फिर इस पेस्ट को चेहरे पर लगाकर 30 मिनट बाद धो लेना चाहिए.

आलू व दही: - आलू को एंटी-टैन माना जाता है. आलू को अच्छी तरह पीसकर इसमें नींबू का रस मिलाकर पेस्ट बना लेना चाहिए. अब इस पेस्ट को गर्दन व चेहरा पर लगाना चाहिए. 30-40 मिनट बाद इसे धो लेना चाहिए.

पपीता व दूध: - टैनिंग हटाने के लिए पपीता और दूध बेहद कारगर होता है. इसके लिए मसला हुआ पपीता और दूध को मिलाकर पेस्ट बना लेना चाहिए. फिर इस पेस्ट को प्रभावित हिस्से पर लगाना चाहिए. सूखने पर इसे ठंडे पानी से धो लेना चाहिए.

मुल्तानी मिट्टी और गुलाबजल: - मुल्तानी मिट्टी प्राकृतिक खनिज पदार्थों से भरपूर होती है. इससे त्वचा की टैनिंग दूर करने में काफी मदद मिलती है. गुलाबजल त्वचा को पोषण देता है. 3 चम्मच मुल्तानी मिट्टी को पर्याप्त गुलाबजल में 1 घंटे तक डुबोकर छोड़ देना चाहिए. जब मुल्तानी मिट्टी नर्म हो जाये तो इसमें आवश्यकतानुसार और गुलाबजल मिलाकर नर्म पेस्ट बना लेना चाहिए. अब इस पेस्ट को चेहरा पर लगाना चाहिए. 15 मिनट बाद चेहरे को पानी से धो लेना चाहिए. यदि आपकी त्वचा रुखी हो तो इसके बाद मोइश्चराइजर का प्रयोग करना चाहिए.

नारियल का पानी: - नरियाला का पानी सूरज के हानिकारक किरणों के प्रभाव से बचाता है. त्वचा पर रोज नारियल का पानी लगाने से निखार तो आता ही है, इसके अलावा यह टैनिंग से बचने में भी मदद करता है.

नींबू, गुलाबजल व ककड़ी: - चेहरे से टैनिंग हटाने के लिए नींबू, गुलाबजल व ककड़ी भी काफी प्रभावशाली होता है. इसके उपयोग के लिए नींबू, गुलाबजल व ककड़ी के रस को बराबर मात्रा में लेकर अच्छी तरह मिला लेना चाहिए. अब इस मिश्रण को चेहरे व गर्दन पर लगाकर छोड़ देना चाहिए. 15 मिनट के बाद ठंडे पानी से धो लेना चाहिए.

सावधानियाँ-
यहाँ त्वचा से टैनिंग हटाने के घरेलू नुस्खे मात्र जानकारी के लिए दिये गए हैं. पाठकों को सलाह दी जाती है कि यदि उन्हें इन नुस्खे में बताये गए किसी भी सामग्री से एलर्जी हो तो उन्हें उससे संबंधित नुस्खे का प्रयोग नहीं करना चाहिए. एलर्जी वाले वस्तु का प्रयोग हानिकारक हो सकता है.

बालों को घना करने के उपाय - Balo Ko Ghana Karne Ke Upay!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
बालों को घना करने के उपाय - Balo Ko Ghana Karne Ke Upay!

बालों का घना और सुंदर होना हमारे खूबसूरती में चार चाँद लगाने के लिए के बेहद आवश्यक है. हर कोई बाल घने करने का उपचार जल्द से जल्द करना चाहता है. कुछ सामान्य कारण जो आपके बालों को घना होने से रोकते हैं, उनमे तनाव, हर्मोन का असंतुलित होना, पोषण की कमी, प्रदुषण, एलर्जी, हानिकारक उत्पादों का इस्तेमाल, बालों का ध्यान न रखना और जेनेटिक्स समस्या इत्यादि शामिल है. अगर आपके बाल पतले हैं तो आपको महंगे ट्रीटमेंट या महंगे उत्पादों पर पैसे खर्च करने की ज़रूरत नहीं है. आइए इस लेख के माध्यम से हम बालों को धना करने के उपायों को जानें.

1. स्वस्थ आहार से

स्वस्थ और घने बालों के लिए महत्वपूर्ण है कि आप अपने डाइट में प्रोटीन और सभी तरह के महत्वपूर्ण विटामिन और मिनरल्स का रोजाना सेवन करें. प्रोटीन और विटामिन बी बालों को घना और लम्बा करने में सहायता करते हैं. इसलिए अपने आहार में प्राचुरता के साथ दूध, अंडे, चिकन, फैटी फिश, फलियां बीज और सूखे मेवे, साबुत अनाज और ताजा हरी सब्जियां इत्यादि अवश्य शामिल करें.

2. संतरे की मदद से
संतरे के जूस में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है साथ ही इसमें मौजूद प्रेक्टिन आपके बालों की प्राकृतिक चमक लौटाने में भी मदद करते हैं. अपने बालों में स्टाइल देने के कारण बालों के जड़ो को नुकसान पहुंचता है, जो संतरे में मौजूद एसिड इस नुकसान को ठीक करने में मदद करता है. इसके लिए एक संतरे के छिलका समेत मिक्सर में डाल दें. जब ये अच्छी तरह से से मिक्स हो जाए तो इसे अपने बालों में आधा घंटे के लिए लगाकर रखें. अब अपने बालों को शैम्पू से धो लें. शैम्पू से धोने के बाद कंडीशनर भी ज़रूर लगाएं, क्योंकि इसमें मौजूद एसिड आपके बालों को रूखा बना सकता है. इस मिश्रण को हफ्ते में एक बार ज़रूर लगाएं.

3. आंवला
आंवला में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सिडेंट, एंटीबायोटिक और एक्सफ़ोलीएटिंग गुण होते हैं जो बालों के जड़ों को स्वस्थ बनाते हैं और बालों के विकास को भी में भी सहायता करते हैं. इसका उपयोग करने के लिए एक चम्मच आंवला या आंवला पाउडर को दो चम्मच के साथ नारियल के तेल में मिलाकर उबलने तक गर्म करें. अब तेल को छान लें और गुनगुना होने के बाद सोने से पहले अपने बालों और जड़ों में लगा लें. इसके अगली सुबह हमेशा की तरह अपने बालों को शैम्पू से धो लें. इसके अलावा आप आधा कप गर्म पानी को एक या आधा कप आंवला पाउडर में 10 मिनट तक अच्छे से मिलाने के बाद उसे दस मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें. अब पेस्ट को अपने बालों में लगाएं और 15-20 के लिए ऐसे लगा हुआ छोड़ दें. पानी से धोने के बाद कुछ घंटों तक बालों को शैम्पू से न धोएं.

4. अंडे का उपयोग
बालों के इलाज के लिए प्रोटीन से भरपूर अंडा सबसे अच्छा घरेलू उपाय माना जाता है. अंडे का इस्तेमाल करने के लिए अपने बालों की लम्बाई के अनुसार एक या दो अंडे लेकर इसे ठीक से मिला लें. अब अंडे को गीले बालों में लगाकर आधे घंटे के लिए इसे बालों में लगा हुआ छोड़ दें. फिर अपने बालों को गुनगुने पानी से धोकर शैम्पू कर लें. आप इस प्रोटीन ट्रीटमेंट को एक या दो बार हफ्ते में लगा सकते हैं. इसके अलावा एक अंडे की जर्दी ले और उसे अच्छे से मिला लें. अब अपनी पसंद का कोई भी एक चम्मच बालों में लगाने वाला तेल लें और दो चम्मच पानी लें. अब इस मिश्रण को अच्छे से मिलाने के बाद अपनी जड़ों में लगाएं.

5. जैतून का तेल
जैतून का तेल आपके बालों को घना बनाने में मदद करेगा. साथ ही ये आपके बालों को कोमल और मजबूत भी बनाएगा. जैतून के तेल का इस्तेमाल करने के लिए अपने बालों और जड़ों में गर्म तेल से मसाज करें और इसे ऐसे ही 30 से 45 मिनट के लिए लगा हुआ छोड़ दें. फिर अपने बालों को पानी से धोने के बाद शैम्पू से धो लें. आप अपने बालों में तेल को रातभर के लिए भी लगा हुआ छोड़ सकते हैं और फिर सुबह को शैम्पू से धो लें. इसके साथ ही आप जैतून के तेल को शहद के साथ मिलाकर अपने बालों में लगा सकते हैं. फिर इसे आधे घंटे तक लगा हुआ छोड़ दें और फिर अपने बालों को पानी से धोने के बाद शैम्पू से धो लें.

6. एवोकाडो
एवोकाडो बालों को मॉइस्चराइस करता है जिसकी मदद से बाल घने होने लगते हैं. इसके साथ ही इसमें मौजूद विटामिन ई हेयर शाफ़्ट को स्वस्थ बनाने में मदद करता है. एवोकाडो का इस्तेमाल करने के लिए इसे एक केले के साथ क्रश करके उसमें एक चम्मच जैतून का तेल मिला लें. अब इस मिश्रण को अच्छे से मिलाने के बाद अपनी जड़ों में लगाकर मसाज करें. अपने बालों में इस मिश्रण को आधे घंटे के लिए लगा हुआ छोड़ दें. अंत में बालों को पानी से धोकर शैम्पू कर लें. इसके अलावा आप एक हाइड्रेटिंग हेयर मास्क भी बना सकते हैं. सबसे पहले दो चम्मच गेहूं के बीज के तेल को एक आधा क्रश एवोकाडो के साथ मिला दें. अब इस हेयर मास्क को शैम्पू किये हुए बालों में लगा लें और बीस मिनट के लिए इसे ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें. फिर अपने बालों को पानी से धोने के बाद शैम्पू से धो लें.

7. मेथी के बीज
मेथी के बीज का इस्तेमाल बालों को झड़ने से रोकने और बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. मेथी के बीज का इस्तेमाल करने के लिए एक या दो चम्मच मेथी के बीज को पानी में 8 से 10 घंटे के लिए भिगोकर रख दें. अब इन्हे मिक्सर में पीस लें. फिर उसमें दो चम्मच नारियल के तेल को भी मिला सकते हैं. अब इस पेस्ट को अपने बालों और जड़ों में आधे घंटे के लिए लगाकर रखें. फिर बालों को गुनगुने पानी से धोकर शैम्पू से धो दें. एक हफ्ते तक रोज़ाना इस पेस्ट का इस्तेमाल करने से आपके जड़ों का रूखापन दूर रहेगा और बाल भी घने होंगे. इसके अलावा आप मेथी के बीज के पानी को बालों को धोने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं.

8. अरंडी का तेल
कोल्ड-प्रेस्ड अरंडी के तेल के चिपचिपे गुणों के कारण ये बालों के झड़ने की समस्या को कम करता है. इसके साथ ही इसमें विटामिन ई और फैटी एसिड मौजूद होने की वजह से ये बालों को बढ़ाने में भी मदद करता है. अरंडी के तेल का इस्तेमाल करने के लिए अरंडी के तेल और नारियल के तेल को एक साथ बराबर मात्रा में मिलाकर गर्म कर लें. अब इस मिश्रण को जड़ों और बालों में लगाकर हल्के हल्के मसाज करें. फिर अपने बालों को कोम्ब करें जिससे तेल अच्छे से पूरे बालों तक पहुंच सके और इससे उलझे बाल भी सुलझेंगे. अब अपने बालों को गर्म पानी में डुबोई तौलिए से ढक लें. इससे आपके बालों को नमी मिलती रहगी. अब इसे एक घंटे के लिए ऐसे ही छोड़ दें और फिर हमेशा की तरह बालों को शैम्पू कर लें.

9. एलो वेरा जेल
घने बालों के लिए अन्य प्रभावी घरेलू उपाय है एलो वेरा. एलो वेरा में मॉइस्चराइज़िंग के गुण मौजूद होते हैं. ये जड़ों के PH स्तर को भी सुधारता है. एलो वेरा का इस्तेमाल करने के लिए एक या दो एलो वेरा जेल की पत्तियों से जेल निकाल लें और उसे फिर अपनी जड़ों में रगड़ें. फिर बालों को धोने से पहले इसे आधे घंटे के लिए लगा हुआ छोड़ दें. फिर अपने बालों को गुनगुने पानी से साफ़ कर लें. इसके अलावा आप दो चम्मच नारियल के दूध को एलो वेरा जेल में मिला दें. फिर इसे अपनी जड़ों में लगाएं. बालों को धोने से पहले इसे अपने बालों में एक या आधा घंटे तक लगाकर रखें और फिर बालों को शैम्पू से धो लें. इस मिश्रण को आप हफ्ते में एक या दो बार ज़रूर लगाएं.

10. मेहँदी
मेहँदी की पत्तियां आपके बालों को प्राकृतिक रंग देने में मदद करेंगी और बालों को कोमल और घना बनाएंगी साथ ही टूटने से भी बचाएंगी. मेहँदी का इस्तेमाल करने के लिए मेहँदी की पत्तियों का पेस्ट बनाकर उसे दो घंटे के लिए ऐसे ही रखा हुआ छोड़ दें और फिर उस पेस्ट को अपने बालों में लगाकर बालों को शावर कैप से ढक लें. जब मेहँदी सूख जाए तो बालों को पानी से धो लें. धोने के बाद बालों में सरसो का तेल लगालें. फिर कुछ घंटे बाद अपने बालों को शैम्पू से धो लें. इसके अलावा आप मेहँदी पाउडर में पानी के साथ साथ दही और पानी की जगह ग्रीन टी को डाल सकते हैं. अब पेस्ट को अच्छे से चलाने के बाद रातभर इसे ऐसे ही रखा हुआ छोड़ दें. फिर अगले दिन इस मिश्रण में एक अंडा और दो चम्मच नींबू मिलाएं. अच्छे से मिलाने के बाद इस मिश्रण को अपने बालों में लगाकर सूखने तक का इंतज़ार करें. अंत में बालों को पानी से धो लें और ऊपर बताई गयी प्रक्रिया की तरह अपने बालों में तेल और शैम्पू का इस्तेमाल करें. ध्यान रहे बालों में मेहँदी लगाने से पहले अपने हाथों को कवर कर लें या किसी ब्रश का इस्तेमाल करें.

11. अलसी का उपयोग
अलसी ओमेगा -3 फैटी एसिड और प्रोटीन से समृद्ध होती है. अलसी प्राकृतिक रूप से घने बालों को बढ़ावा देने में भी मदद करती है. अलसी का इस्तेमाल करने के लिए एक चौथाई कप अलसी को पानी में भिगोकर रख दें. सुबह को अब अलसी को निकाल लें और दो कप पानी में उसे तेज़ आंच पर गर्म कर लें. जब मिश्रण जेल की तरह लगने लगे तो गैस को बंद कर दें और जेल को छान लें. आप इसमें अपना पसंद का तेल भी मिला सकते हैं. फिर इस मिश्रण को ठंडा होने के लिए रख दें. ठंडा होने के बाद बालों में इसे जेल की तरह लगाएं. अलसी जेल उन बालों के लिए बेहद फायदेमंद है जिनके बाल घुंघराले या रूखे होते हैं.

2 people found this helpful

Hi sir .i have kidney stone 7 mm in right kidney so can I do exercise or can I use treadmill machine for running pls sir reply answer.

BHMS
Homeopath, Noida
Hi sir .i have kidney stone 7 mm in right kidney so can I do exercise or can I use treadmill machine for running pls ...
Yes you can. No problem. Do this for stones drink at least twelve glasses of water daily drink citrus juices, such as orange juice eat a calcium-rich food at each meal, at least three times a day limit your intake of animal protein eat less salt, added sugar, and products containing high fructose corn syrup avoid foods and drinks high in oxalates and phosphates avoid eating or drinking anything which dehydrates you, such as alcohol. Homeopathic medicines have good results. Consult online with details.

I hv loosmotion since yesterday ,i hv a stomach pain also. I want some instant relief medicine for this, because in office time this is a very critical condition to handle. please doctor suggest me some fast relief medicine which is easily available in new delhi area.

BHMS
Homeopath, Noida
I hv loosmotion since yesterday ,i hv a stomach pain also. I want some instant relief medicine for this, because in o...
Take home cooked, fresh light food. Drink boiled water. Take ors. Maintain active life style curd is good for u. Avoid fast foods, spicy n fried foods for details you can consult me.

I am 43 years old female and I don't know what is wrong with me. I am not able to make up my mind to do daily activities and households. I feel like crying all the time and there is nothing wrong with me physically. I consulted a physician but it was no good. It feels like a knot in my stomach whenever I try to do anything. I am really restless, please guide me.

BHMS
Homeopath, Noida
I am 43 years old female and I don't know what is wrong with me. I am not able to make up my mind to do daily activit...
You are under stress. You need to find out the cause n rectify it. Or you have to understand that many matters are not under our control. So it’s useless to get anxious. Try to relax yourself -- exercise. Exercise is one of the most important things you can do to combat stress. Take a few minutes to breathe in and out in slow, deep breaths. Reduce your caffeine intake. Write it down. Chew gum. Spend time with friends and family. Laugh. Massage. Eat a healthy diet. Pursue one hubby walk in nature meditation. Yoga. For more details, you can consult me.
1 person found this helpful

Hello, I am 31 year old male. Last year I got to know that my cholesterol was increased and blood pressure was 150/100. My doctor prescribed me with espin 5 and ecosprin av 75. That I am taking daily at night. 2 days ago just for routine checkup I checked my blood sugar. That was 135 fasting and 188 one and half hours after meal. Yesterday it was 108 fasting and 155 after meal. I am overweight 87 kg with 5'7" height. My blood pressure and cholesterol is in control since I am taking medicines. My question is can I control my sugar just by reducing weight and taking balanced diet? Or I have to take medication for it.

BHMS
Homeopath, Noida
Hello,
I am 31 year old male. Last year I got to know that my cholesterol was increased and blood pressure was 150/10...
Yes, you can, and you have to very strictly follow this. A diabetes diet simply means eating the healthiest foods in moderate amounts and sticking to regular mealtimes. A diabetes diet is a healthy-eating plan that's naturally rich in nutrients and low in fat and calories. Key elements are fruits, vegetables, and whole grains. You can take (moderate amount) grapes. Apples. Berries. Citrus fruits. Pineapple. Papaya. U should avoid sugar-sweetened beverages. Sugary beverages are the worst drink choice for someone with diabetes. Trans fats sugar, cake, pastries mithai/sweets chocolate fruits like mango, litchi etc. White bread, pasta fruit-flavored yogurt. Sweetened breakfast cereals. Flavored coffee drinks. Honey 1. Don't take tea empty stomach. Eat something like a banana (if you are not diabetic). No only biscuits or rusk will not do. 2. Take your breakfast every day. Don't skip it. 3. Have light meals every 2 hours (in addition to your breakfast, lunch n dinner) e.g. Nariyal paani, chaach, a handful of dry fruits, a handful of peanuts, seasonal fruit, a cup of curd/milk etc 4. Finish your dinner at least 2 hours before going to sleep. 5. Maintain active life style 6. Avoid fast foods, spicy n fried foods 7.take a lot of green vegetables n fruit. 8. Drink lot of water. 9.curd is good for u. Exercise in the form of yoga, cycling, swimming, gymming, walking etc. For more details you can consult me.

I am 19 years old. I had taken ipill last month and got my periods early. This month I missed them so I took gynocare tablet. I got the periods. Should I continue taking the tablet or not. What should I do to get my cycle normal?

BHMS
Homeopath, Noida
I am 19 years old. I had taken ipill last month and got my periods early. This month I missed them so I took gynocare...
There is no fixed time in which one bleeds after taking ipill. Sometimes unexpected bleeding occurs more over it is not necessary. Next menstrual cycle can be early or delayed as side effects of the pill.

Vulvodynia - Know Forms Of It!

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, DNB (Obstetrics and Gynecology)
Gynaecologist, Pune
Vulvodynia - Know Forms Of It!

Vulvodynia refers to chronic pain in the vulva, a condition suffered by most women. Triggered generally by an unidentifiable cause, the pain was not considered as a real pain syndrome until of late. The ambiguity of the condition is such that many who do suffer from it fail to realize its complications.

There are primarily two types of Vulvodynia:

1. Generalized Vulvodynia: This is when the pain is all over the vulva, however, different parts may pain at different times. It may be a constant pain or may occur occasionally.

2. Vulvar vestibulitis syndrome: The pain is in the vestibule area or the entrance of the vagina is known as vulvar vestibulitis syndrome. This kind of pain mostly exhibits a burning sensation and is triggered even by a slight touch. During intercourse the pain manifolds to extreme severity.

Although the cause of Vulvodynia is not known, doctors suspect the following reasons to be the contributing factors:

1. Nerve injury
2. Heredity
3. Yeast infections
4. Sexual abuse in the past
5. Muscle Spasm
6. Hormonal changes

Symptoms

1. Burning sensations
2. Aching or soreness
3. Itching

Treatment

Nowell versed cure is available for Vulvodynia, although certain self-care treatments can bring relief. Among the many, you need to figure out which method suits you best and choose accordingly. To discern the best method, you might have to try various different combinations. At the same time, it is extremely important to educate yourself about Vulvodynia and have a thorough knowledge about what it is all about.  It is advisable that you maintain a record of the treatments which according to you suit you the most in order to avoid confusion. Some of the methods are given below:

1.  Avoid products which might act as potential irritants near the vulva.
2. Do not put much pressure on the vulva. Avoid activities which might exert direct pressure on it.
3. Whenever it pains, try to soothe the area by soaking it in lukewarm water or applying ice on it.
4. Use medications like lidocaine to relieve pain.
5. Certain exercises might also help relax the area.
6. Biofeedback also helps relax the vaginal muscles and bring some relief.

View All Feed