Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Ayur Care and Cure

Ayurveda Clinic

#564, 63rd Cross Road, 5th Block, Rajajinagar Bangalore
1 Doctor · ₹200
Book Appointment
Call Clinic
Ayur Care and Cure Ayurveda Clinic #564, 63rd Cross Road, 5th Block, Rajajinagar Bangalore
1 Doctor · ₹200
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

Our goal is to offer our patients, and all our community the most affordable, trustworthy and professional service to ensure your best health....more
Our goal is to offer our patients, and all our community the most affordable, trustworthy and professional service to ensure your best health.
More about Ayur Care and Cure
Ayur Care and Cure is known for housing experienced Ayurvedas. Dr. Gayathri Sridhar, a well-reputed Ayurveda, practices in Bangalore. Visit this medical health centre for Ayurvedas recommended by 64 patients.

Timings

MON-SUN
09:00 AM - 01:00 PM 06:00 PM - 09:00 PM

Location

#564, 63rd Cross Road, 5th Block, Rajajinagar
Rajaji Nagar Bangalore, Karnataka
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctor in Ayur Care and Cure

31 Years experience
200 at clinic
Available today
09:00 AM - 01:00 PM
06:00 PM - 09:00 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Ayur Care and Cure

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Rheumatoid Arthritis - 6 Ways To Manage It Effectively!

Gynaecologist, Visakhapatnam
Rheumatoid Arthritis - 6 Ways To Manage It Effectively!

Rheumatoid Arthritis is a degenerative disease that progresses over time. It generally affects the fingers, feet, wrists, and ankles. It causes immobility due to inflammation and stiffness as well as severe pain. This is an autoimmune disease where the body mistakenly ends up attacking the joints instead of attacking bacteria and other substances as it normally should. Severe cartilage damage can be caused if this condition is not treated on time, which can make the spacing between the bones even smaller than usual.

Let us find out how one can tackle this condition.

  1. Rest: While there is still no cure for this condition, one can take a number of measures in order to tackle it. One of the foremost ways of managing this condition is with the help of rest and relaxation. It is important to get plenty of sleep so that you can keep the condition from getting worse. There are a number of relaxation exercises that will help you in sleeping better, especially if you have been having trouble sleeping due to the aches and pains. 
  2. Exercise: Depending on the doctor’s recommendations, you will need to exercise on a regular basis so as to keep the motion in your joints intact for as long as possible. Muscle and joint strengthening exercises include swimming, walking, and even gentle stretching that can help in reducing muscle fatigue. This can make your muscles stronger and increase the range of motions as well. 
  3. Ointments and Lotions: One can turn to gels and lotions which can be topically applied. These can be prescribed by the doctor as well so that the pain is soothed and temporary relief from pain and stiffness may be experienced. These are also available in the form of sprays. These ointments, gels or lotions usually contain camphor, menthol, capsaicin and salicylates. 
  4. Fish Oil Supplements: Pain and stiffness can be significantly reduced with the help of fish oil, as per many medical studies. Before adding fish oil supplements to your food, you will need to talk to your orthopedic specialist to find out if it may interfere with any medication that you may be taking for the condition or any other related disorder.
  5. Plant Oils: Plant oils are also known to contain fatty acids known as gamma linolenic acid, which can give much relief when it comes to pain and stiffness, especially in the morning. One must remember, though, that excessive use of this oil can lead to liver damage. So it is imperative to speak with your doctor or therapist before taking any plant oils. 
  6. Medications: Aspirin and other non-steroidal anti-inflammatory drugs can help in containing the pain and inflammation for severe cases.

Tooth Whitening - Is It Safe?

Tooth Whitening - Is It Safe?

Nobody is happy with their teeth and everybody wants whiter, brighter teeth. In the last few decades, tooth whitening is one of the most commonly done cosmetic dental procedures. Majority of these people are in the age of 10 to 25, who are very conscious about their looks.

What needs to be understood is that dental whitening is permissible to a certain extent. Not many people realize this and continue to use teeth whiteners even after the desired result is achieved in an effort to get it a couple of more shades lighter. This is something that we need to watch out for. 

Safety of tooth whitening: Some of the supposedly unsafe aspects of tooth whitening are most products used currently are tested both on patients and in laboratory and are proven to be completely safe. However, overuse or misuse of these products can lead to issues. The active chemical ingredient in most of these products is hydrogen peroxide. Most of the products contain about 10% carbamide peroxide, which breaks into hydrogen peroxide and urea. There are claims that this is carcinogenic. However, this is not the case and there is no strong correlation. Also, if the application is done correctly, there is very minimal exposure to hydrogen peroxide directly.

The second issue that most people associate with tooth whitening is tooth sensitivity and gum irritation. Both these symptoms are directly related to the percentage of carbamide peroxide. It is shown that products with more than 10% produce more teeth sensitivity and gum irritation than those that contain less than 10%. Improper tray selection can lead to gum irritation. Also, patients who are overzealous and go about whitening their teeth further can end up with severe sensitivity. The explanation in these cases is the enamel is worn off by the chemical leading to exposed dentinal tubules which, even when exposed due to caries, can cause sensitivity.

Listed below are some ways to avoid or reduce sensitivity: 

  1. When using the bleaching tray applicator, use it only for the recommended period of time. Do not keep it longer to make the teeth whiter.
  2. Use a paste that is meant for sensitive teeth. The potassium nitrate in these will help relieve sensitivity.
  3. Use a product with fluoride so that the teeth can remineralize. This can be used before and after tooth whitening for up to 4 minutes.

It is advisable to avoid tooth whitening in some cases like the following

  1. Pregnancy
  2. Breastfeeding
  3. Ceramic crowns or bridges in the front teeth - these cannot be bleached
  4. Gingival disease with gum recession and exposed root - the sensitivity is sure to quite high

Freckles - 4 Ways To Treat Them!

Freckles - 4 Ways To Treat Them!

Some of us are born with freckles and some acquire them, mostly due to sun exposure. They are not common on darker skin, but those of us with lighter complexion have to bear the brunt of these brown dot-like blemishes. If you’ve been waiting for information on easy and super-fast ways to get rid of freckles, you’ve just got lucky.

You can use natural lightening methods as well as freckle-removing treatments like lasers to get rid of freckles fast.

Natural lightening methods: 

  1. Lemon juice:  This natural bleach can lighten freckles fast. Problem is that lemon juice doesn’t work on freckles caused due to sun exposure as these are darker and more irregularly placed across the skin.
  2. Sour cream mask: Milk and sour cream are both very effective in combating freckles. Just make a mask and apply on your face and let it soak in. What happens here is that the lactic acid in milk peels away the outer skin on your face, lightening freckles.
  3. Fruit peels: You can mix fruits and apply on face. This will facilitate the natural acids in fruits to peel the top layer of skin and lighten freckles. Strawberries and kiwi fruit are very effective and so are cucumbers and apricots.

Treatments for removing freckles

  1. Lightening creams: These are easily available as well as extremely effective against both natural as well as sun induced freckles. Creams with liquorice extract and Aloe work best. Then there are creams with chemicals like hydroquinone and oxybenzone, which are also very effective, though they can sometimes have side effects.
  2. Microdermabrasion: What microdermabrasion does is that it removes the outer layer of skin through the action of a stream of tiny particles. This reduces the intensity of freckles.
  3. Chemical peels: These peels remove the top layer of skin and reduce freckles. Skin needs 2-3 days to heal after a chemical peel. Chemical peels are prepared in 3 different strengths:
    1. Superficial which use alpha or beta hydroxy acids
    2. Medium which uses trichloroacetic acid to penetrate deep into skin
    3. Deep peels which use higher concentrations of trichloroacetic acid or phenol to get rid of even more layers of skin.
  4. Laser treatment: Lasers offer a fast way to get rid of freckles. They work by burning the blood vessels underneath the freckles. This reduces the intensity of freckles and gives skin an even tone. The procedure is safe if done by a surgeon. It may cause some temporary bruising, swelling and redness.

A good way to stop freckles from marring the prettiness of your skin is to protect yourself from the sun. You can wear sunscreen or cover your skin with long sleeves. Both of these stop the darkening of old freckles or the formation of newer ones.

1 person found this helpful

Keto Diet And Its Demerits

BSc - Food Science & Nutrition, PGD in Sports Nutrition and Dietitics , Diabetes Educator, Translational Nutrigenomics
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
Keto Diet And Its Demerits

Ketogenic diet is a low carb-low protein-high fat food regime. It is also known as a keto diet. There are many positive fallouts of following a keto diet. Since the amount of carbohydrate is very low in this type of diet, the liver is not able to produce glucose to fuel the body parts.

In such a condition, the liver undergoes a process known as ketosis and produces ketones which supply energy to different body parts. The process of ketosis makes use of fat. Thus, ketosis can burn up a very high amount of fat and bring down obesity. The ability of a keto diet to bring down fat is well recognized.

However, there are some demerits of such diet too. One needs to recognize the demerits of such a diet before jumping to a conclusion.

- There Is a Risk of Malnutrition

An adult need at least 250 to 300 grams of carbohydrate per day. The body needs this amount of carbs to produce glucose and supply that to various tissues of the body. If a person follows the keto diet, the carb intake gets severely restricted. Carbohydrates in all forms such as whole grains, potatoes etc. can be reduced to an amount that is equivalent to just two pieces of bread a day. This can result in malnutrition.

- There Is a Risk of High Cholesterol

If the person is genetically predisposed to getting high blood cholesterol, the keto diet will only add to it. So, for people with a genetic inclination for high cholesterol, keto diets can be deadly.

- Adaptation Period Is Difficult

Since keto diet is vastly different from a normal diet, one needs to go through the adaptation process before starting on such a diet. This period is fraught with difficulties. People may have flu like symptoms such as nausea, headache, fatigue etc. as he/she advances with the plan of having only a keto diet. People may also suffer from a lack of minerals, which is a result of carbohydrate restrictions. All these symptoms make it a difficult time to get through.

- Face Gastrointestinal Issues

As part of adopting a keto diet one needs to increase fat intake dramatically while cutting down carb intake drastically. This may precipitate gastrointestinal issues like diarrhea, constipation etc. This can go on until the body gets adapted to a new kind of diet. All gastrointestinal organs like gallbladder, liver, pancreas, etc. need to adapt to the diet. These organs need some time to do that. In the meantime, a person may suffer from nausea and other difficulties.

- Going to Social Gatherings May Become Difficult

The keto diet puts so much restriction on foods that one can eat hardly anything at social gatherings like in parties. It can really get vexatious to have friends and relatives answer about the self-imposed dietary restrictions.

1 person found this helpful

How To Take Care Of Eyes?

MS - Ophthalmology, MBBS, FRCS
Ophthalmologist, Gurgaon
Play video

Eyes are very important organs as they provide you with the ability to process visual detail and detect light. However, because your eyes are exposed to harsh climate and pollutants, they can get spoilt.

439 people found this helpful

निरंजन फल के फायदे - Niranjan Phal Ke Fayde!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
निरंजन फल के फायदे - Niranjan Phal Ke Fayde!

निरंजन फल, विभिन्न आयुर्वेदिक औषधियों में से एक है. ये पूरी तरह से कच्ची जड़ी-बूटी है जो कि प्रकृतिक अवस्था में है. इसका इस्तेमाल करने से पहले इसे धोकर अच्छी तरह सूखा लेना ही ज्यादा उचित रहता है. यदि आपने इसे धो दिया है तो एक और बात का ध्यान रखना आवश्यक है कि धोने के बाद इसे एकदम अच्छे से सूखा लें. यदि इसे ठीक से नहीं सुखाया और इसमें नमी रह गई तो ये खराब हो सकता है क्योंकि ये कवक के प्रति बेहद संवेदनशील है. यदि आपने इसे बाजार से खरीदा है तो ये आम तौर पर साफ़सुथरा ही मिलता है. दुकान से लिए गए निरंजन फल की सीमा तो एक साल की होती है लेकिन हमारा सलाह है कि आप इसे खरीदे गए दिन से 6 महीने तक ही इस्तेमाल करें. जब आप निरंजन फल को खरीदकर घर लाएँ तो इसे शीशे या स्टील के एक एयर टाइट जार में रखें ताकि ये जल्दी खराब न हो. इस आयुर्वेदिक औषधि का इस्तेमाल हमलोग डेकोटेशन पर्पज या फिर पाउडर के रूप में भी कर सकते हैं. आइए हम इस लेख के माध्यम से निरंजन फल के फायदों पर एक नजर डालें.

1. बवासीर के उपचार में-

कई लोग अक्सर बवासीर के समस्या से परेशान रहते हैं. पाईल्स से पीड़ित लोगों को रात को सोते समय एक निरंजन फल आधे गिलास पानी में भीगा कर रख देना चाहिए. सुबह खाली पेट उसे उसी पानी में मसल कर उस पानी को पी लें. ऐसा करने से पाईल्स में बहुत जल्दी आराम मिलने की संभावना बढ़ती है. इसकी एक खास बात ये है कि यह बहुत सस्ता मिलता हैं एक रुपये का एक फल आसानी से मिल सकता है.

2. गर्भाशय से होने वाली ब्लीडिंग को रोके-
जब गर्भाशय से बहुत ज्यादा रक्त स्त्रावित हो रही हो तो एक निरंजन फल को रात को एक कप पानी में भिगो दें सुबह खाली पेट फल को पानी में ही मसलकर पी जाएं. यदि फाइब्रॉएड घातक नहीं है तो यह उपचार दर्द और खून का स्त्राव रोकने में सहायक सिद्ध हो सकता है.

3. अल्सर को कम करने में-
निरंजन फल को कई तरह के बीमारियों से ग्रसित लोगों के लिए आवश्यक बताया जाता है. अल्सर से पीड़ित व्यक्ति भी इसके सेवन से अपनी परेशानी को काफी हद तक कम कर सकता है. इसे सेवन से या तो धीमा पड़ जाता है या फिर खत्म हो जाता है. इसलिए आप अल्सर में भी निरंजन फल खा सकते हैं.

4. इन बातों का अवश्य रखें ध्यान-
ध्यान रहे कि इस आयुर्वेदिक औषधि को किसी गर्भवती स्त्री या बच्चे के लिए किसी स्वास्थ्य विशेषज्ञ का सलाह लिए बिना कभी इस्तेमाल न करें. बल्कि ज्यादा उचित तो ये होगा कि इसका किसी भी तरह से इस्तेमाल शुरू करने से पहले आपको अपने पारिवारिक चिकित्सक से इस विषय में उचित राय अवश्य ले लेना चाहिए.

नोट: - इस लेख में बताए गए निरंजन फल के लाभ समेत तमाम बातें केवल शैक्षणिक उद्देश्य के लिए हैं. यदि आप अपने व्यवहारिक जीवन में इसका इस्तेमाल करना चाहते हैं तो आपको इसका किसी भी तरह का इस्तेमाल करने के लिए चिकित्सक का परामर्श लेना आवश्यक है.

3 people found this helpful

नाभि के रोग के लक्षण - Naabhi Ke Rog Ke Lakshan!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
नाभि के रोग के लक्षण - Naabhi Ke Rog Ke Lakshan!

नाभि का खिसकना जिसे आम लोगों की भाषा में धरण गिरना या फिर गोला खिसकना भी कहते हैं. इसके कारण आप पेट दर्द से परेशान हो सकते है. यह दर्द ऐसा होता है, जो प्रभावित व्यक्ति को दर्द के कारण का पता भी नहीं लगता है. यह दर्द पेट दर्द की दवा लेने के बाद भी ठीक नहीं होता है. यह केवल पेट दर्द ही नहीं दस्त का भी कारण हो सकता हैं. जबकि यह समस्या किसी के साथ भी हो सकती हैं, लेकिन आमतौर पर देखा गया है की नाभि खिसकने की समस्या महिलाओं में ज्यादा सामान्य है. हर दूसरी महिला में यह समस्या को देखा गया है. हालाँकि, इस समस्या का कारण क्या है, किन परिस्थितियों में उत्पन्न होती है जैसे सवालों का जवाब ‘योग’ प्रणाली में शामिल है. योग में नाड़ियों की संख्या बहत्तर हजार से ज्यादा बताई गई है और इसका मूल स्त्रोत नाभिस्थान है. इसलिए किसी भी नाड़ी के अस्वस्थ होने से इसका कुछ प्रतिशत असर नाभिस्थान पर जरूर होता है. आइए इस लेख के माध्यम से नाभि के रोग के लक्षणों को जानें.

आधुनिक जीवन-शैली एक वजह-
आधुनिक लाइफस्टाइल के कारण लोग अपने स्वास्थ्य को नज़रअंदाज कर रहे हैं और धीरे-धीरे शरीर को अस्वस्थ बना रहे हैं. ज्यादातर लोग रोजाना की भागदौड़ में लिप्त होने के कारण समय पर आहार नहीं लेते, कभी वर्कआउट नहीं करते है और यहां तक कि पूरी नींद भी नहीं लेते हैं. इस तरह के लाइफस्टाइल के कारण धीरे-धीरे शारीरिक नाड़ियां कमज़ोर पड़ने लगती हैं, जिसका सीधा असर नाभिस्थान पर होता है. इससे नाभिस्थान बहुत कमज़ोर हो जाता है और उनकी नाभि बहुत जल्दी अव्यवस्थित हो जाती है. लेकिन इसके अलावा भी कुछ ऐसे कारण हैं जहां ना चाहते हुए भी हम नाभि खिसकने का शिकार हो जाते हैं. जैसे कि खेलते-कूदते समय भी नाभि खिसक जाती है. असावधानी से दाएं-बाएं झुकने, दोनों हाथों से या एक हाथ से अचानक भारी बोझ उठाने, तेजी से सीढ़ियां चढ़ने-उतरने, सड़क पर चलते हुए गड्ढे में अचानक पैर चले जाने या अन्य कारणों से किसी एक पैर पर भार पड़ने या झटका लगने से नाभि इधर-उधर हो जाती है.

इसकी पहचान-
लेकिन यहां एक सवाल उठता है कि कैसे पहचानें कि नाभि ही अपने स्थान से खिसक गई है. क्योंकि पेट दर्द होना आम बात है, कुछ गलत आहार लेने से या फिर अन्य समस्याओं से भी पेट दर्द हो सकता है. इसके अलावा दस्त लगना भी कोई बहुत बड़ी बीमारी नहीं है. किंतु ये कैसे पहचाना जाए कि किसी व्यक्ति विशेष की परेशानी का कारण नाभि खिसकना ही है.

कुछ खास तरीके-
इसकी पहचान एक लिए कुछ खास तरीके बताए गए हैं. सबसे आसान तरीका है लेटकर नाभि को दबाकर जांच करना. रोगी को शवासन यानि कि बिलकुल सपाट लिटाकर, उसकी नाभि को हाथ की चारों अंगुलियों से दबाएं. यदि नाभि के ठीक बिलकुल नीचे कोई धड़कन महसूस हो तो इसका मतलब है कि नाभि अपने स्थान पर ही है. लेकिन यही धड़कन यदि नाभि के नीच ना होकर कहीं आसपास महसूस हो रही हो, तो समझ जाएं कि नाभि अपनी जगह पर नहीं है. धरण गिरी है या नहीं इसे पहचानने का एक और तरीका है जो काफी प्रचलित भी है. इसके लिए रोगी के दोनों हाथों की रेखाएं मिला कर छोटी अंगुली की लम्बाई चेक करें, दोनों अंगुलियों की रेखाएं बिलकुल बराबर रखें. यदि मिलाने पर अंत में दोनों अंगुलियों की लंबाई में थोड़ा सा भी अंतर दिखे, तो इसका मतलब है कि धरण गिरी हुई है.

नाभि खिसकने की पुष्टि-
इन दो तरीकों से आसानी से नाभि खिसकने की पुष्टि की जा सकती है. अब यदि रोगी की परेशानी का कारण जान लेने के बाद, उसका निवारण भी जानना आवश्यक है. इसके लिए हम यहां कुछ उपाय बताने जा रहे हैं, जिसकी मदद से बिना किसी दवा के नाभि अपने स्थान पर वापस आ जाएगी.

पहला उपाय: 10 ग्राम सौंफ और 50 ग्राम गुड़ को पीसकर मिला लें और सुबह खाली पेट अच्छी तरह चबा-चबाकर खा लें. यदि एक बार खाने पर नाभि ठीक न हो तो दूसरे दिन या तीसरे दिन भी खा लें. इस उपाय से नाभि यकीनन जगह पर आ जाएगी.

दूसरा उपाय: नाभि खिसक गई है या नहीं, यह हमारे पांव की मदद से भी जाना जा सकता है. इसके लिए पीठ के बल लेट जाएं, दोनों पैरों को 10 डिग्री एंगल पर जोड़ें. ऐसा करने पर यदि आपको दोनों पैर की लंबाई में अंतर दिखे, यानि कि एक पांव दूसरे से बड़ा है तो यकीनन नाभि टली हुई हैं.


निर्देश जानें-
अब पुष्टि होने पर इसे ठीक करने के लिए छोटे पैर की टांग को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं. इसे कुछ-कुछ इंच तक धीरे से ही ऊपर की ओर उठाएं, तकरीबन 9 इंच की ऊंचाई पर आने के बाद फिर धीरे-धीरे नीचे रखकर लंबी सांस लें. यही क्रिया दो बार और करें. इस क्रिया को सुबह शाम ख़ाली पेट करना है, इससे नाभि अपने स्थान पर आ जाती है.

पुराने नुस्खे-
वैसे बड़े-बुजुर्गों के पास नाभि को अपने स्थान पर लाने के और भी कई तरीके होते हैं, वे स्वयं अपने हाथों के या किसी यंत्र का आपके पेट पर सीधा प्रयोग करने से ही नाभि को अपनी लगह पर ले आते हैं. लेकिन इन घरेलू नुस्खों को किसी विशेषज्ञ से ही करवाएं, क्योंकि स्वयं करने से बड़ी मुसीबत आ सकती है.

ऐसी गलती ना करें-
यह नाभि यदि अपनी सही जगह पर आने की बजाय कहीं और खिसक गई तो बड़ा रोग हो सकता है. ऊपर की ओर खिसकने से सांस की दिक्कत हो जाती है, लीवर की ओर चले जाने से वह खराब हो जाता है. यदि नाभि पेट के बिलकुल मध्य में आ जाए तो मोटापा हो जाता है. इसलिए इससे अनजाने में छेड़खानी करने की कभी ना सोचें.

इन बातों का परहेज करें-
एक और आखिरी बात, जिसका खास ख्याल रखने की जरूरत है. जब पता चल जाए कि नाभि खिसकने जैसी दिक्कत हो गई है, तो कुछ बातों का परहेज करना चाहिए. जैसे कि गलती से भी भारी वजन ना उठाएं. यदि मजबूरी में उठाना भी पड़े तो उसे झटके से ना उठाएं.

1 person found this helpful

नाखून के रोग - Nakhun Ke Rog!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
नाखून के रोग - Nakhun Ke Rog!

नाखूनों के रोग भी कई बार काफी असहज करने वाले या परेशान करने वाले होते हैं. हलांकी इससे कई तरह का अनुमान भी लगाया जाता है. नाखून कैरटिन से बने होते हैं. यह एक तरह का पोषक तत्व है, जो बालों और त्वचा में होता है. शरीर में पोषक तत्वों की कमी या बीमारी होने पर कैरटिन की सतह प्रभावित होने लगती है. साथ ही नाखून का रंग भी बदलने लगता है. यदि नेलपॉलिश का इस्तेमाल किए बिना भी नाखूनों का रंग तेजी से बदल रहा है तो यह शरीर में पनप रहे किसी रोग का संकेत हो सकता है. या फिर ऐसा भी हो सकता है कि आपको नाखूनों की बीमारी हो गई हो. ऐसे में आपको इस समस्या को अनदेखा नहीं करना चाहिए वरना समस्या गंभीर भी हो सकती है. हम सभी का शरीर कई प्रकार के सूक्ष्म जीवाणुओं और विषाणुओं के संपर्क में आता है. त्वचा पर हुए संक्रमण को यदि नाखून से खुजाया जाए तो भी नाखून संक्रमित हो जाते हैं. जो लोग अधिक स्विमिंग करते हैं या ज्यादा देर तक पानी में रहते हैं या फिर जिनके पैर अधिकतर जूतों में बंद रहते हैं, उनमें संक्रमण का खतरा अधिक होता है. संक्रमण के असर से नाखून भुरभुरे हो जाते हैं और उनका आकार बिगड़ जाता है. नाखूनों के आसपास खुजली, सूजन और दर्द भी होता है. ऐसे में चिकित्सक को दिखाना बेहतर रहता है. आइए इस लेख के माध्यम से हम नाखून में उत्पन्न होने वाले रोगों पर एक नजर डालें. इस्स इस विषय में लोगों को जागरूक किए जा का भी प्रयास है.
1. चम्मच की तरह नाखून-

कई बार ऐसी स्थिति भी आती है कि खूनों का आकार चम्मच की तरह हो जाता है और नाखून बाहर की ओर मुड़ जाते हैं. खून की कमी के अलावा आनुवंशिक रोग, दिल की बीमारी, थायरॉइड की समस्या और ट्रॉमा की स्थिति आदि में ऐसा होता है.

2. नीले नाखून-
शरीर में ऑक्सीजन का संचार ठीक प्रकार से न होने पर नाखूनों का रंग नीला होने लगता है. यह फेफड़ों में संक्रमण, निमोनिया या दिल के रोगों की ओर भी संकेत करता है. इसलिए नीले नाखून दिखने के बाद आपको सचेत हो जाना चाहिए.

3. मोटे, रूखे व टूटे हुए नाखून-
मोटे तथा नेल बेड से थोड़ा ऊपर की ओर निकले नाखून सिरोसिस व फंगल इन्फेक्शन का संकेत देते हैं. रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी व बालों के गिरने की स्थिति में भी नाखून बेरंग और रूखे हो जाते हैं. इसके अलावा त्वचा रोग लाइकन प्लेनस होने पर, जिसमें पूरे शरीर में जगह-जगह पस पड़ जाती है, नाखून बिल्कुल काले हो जाते हैं. हृदय रोग की स्थिति में नाखून मुड़ जाते हैं. नाखूनों में सफेद रंग की धारियां व रेखाएं किडनी के रोगों का संकेत देती हैं. मधुमेह पीड़ितों का पूरा नाखून सफेद रंग व एक दो गुलाबी रेखाओं के साथ नजर आता है.

4. नाखून पर सफेद धब्बे-
कई बार आप नाखूनों पर सफेद स्पॉट नजर आते हैं. कई बार वे पूरे सफेद दिखते हैं. धीरे-धीरे नाखूनों पर सफेद धब्बे इतने बढ़ जाते हैं कि नाखून ही सफेद दिखने लगते हैं. हो सकता है यह पीलिया या लिवर संबंधी अन्य रोगों की ओर इशारा हो.

5. नाखूनों में क्रैक-
कई बार नाखून बहुत अधिक फटे और ड्राइ हो जाते हैं. नाखून में क्रैक आने लगते हैं. ऐसा हाथ और पैर दोनों के नाखूनों में आते हैं. लंबे समय तक नाखूनों की ऐसी स्थिति थॉयरायड रोग की ओर भी संकेत हो सकता है. क्रैक व पीले नाखून फंगल संक्रमण के लक्षण भी हो सकते हैं.

6. उभरे हुए नाखून-
बाहर और आसपास की त्वचा का उभरा होना हृदय समस्याओं के अतिरिक्त फेफड़े व आंतों में सूजन का संकेत देता है. इस प्रकार आवश्यकता से अधिक उभरे हुए नाखून भी कई बार परेशानी का कारण बन जाते हैं.

Hello. I have gained allot of weight from last 3 years. I work out for 1-1.5 hr for 5 days in a week. I also have pcod problem and irregular periods. I can not control my diet. Please let me know how to lose weight and also let me know the solution for pcod.

M.Sc - Dietitics / Nutrition, Diploma in Naturopathy & Yogic Science (DNYS)
Dietitian/Nutritionist, Vadodara
Hello. I have gained allot of weight from last 3 years. I work out for 1-1.5 hr for 5 days in a week. I also have pco...
Hello Lybrate-user! for your pcod problem I suggest you to avoid eating in a plastic containers, avoid foods which contain preservative, avoid food colour, avoid milk have soya milk, for irregular periods have ripe papaya and raw papaya to induce periods. Have proper diet and exercise. Thank you.

I eat all those things like pulses, egg ,vegetables. But I have loucouerria. I have take medicines .now I am ok .can I use endura mass .can it is good for me.

M.Sc. Dietetics/Nutrition, B.Sc. - Dietitics / Nutrition, Post Graduate diploma in diabetes Educator
Dietitian/Nutritionist, Meerut
I eat all those things like pulses, egg ,vegetables. But I have loucouerria. I have take medicines .now I am ok .can ...
hello why do you want to take endura mass You can increase the quantity of egg and take natural food instead of endura mass.
View All Feed

Near By Clinics

Medipalms Diagnostics

Rajaji Nagar, Bangalore, Bangalore
View Clinic

Karnataka Medical Centre

Rajaji Nagar, Bangalore, Bangalore
View Clinic

Karnataka Medical Centre

Rajaji Nagar, Bangalore, Bangalore
View Clinic