Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment
Dr. B K Kashyap - Sexologist, Allahabad

Dr. B K Kashyap

88 (10 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)

Sexologist, Allahabad

18 Years Experience  ·  300 at clinic  ·  ₹300 online
Dr. B K Kashyap 88% (10 ratings) Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS) Sexologist, Allahabad
18 Years Experience  ·  300 at clinic  ·  ₹300 online
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

I want all my patients to be informed and knowledgeable about their health care, from treatment plans and services, to insurance coverage....more
I want all my patients to be informed and knowledgeable about their health care, from treatment plans and services, to insurance coverage.
More about Dr. B K Kashyap
Dr. B K Kashyap is a renowned Sexologist in Kashyap Clinic Pvt. Ltd. 30 Nawab Yusuf Road Pani Tanki Civil Lines, Allahabad. He has had many happy patients in his 16 years of journey as a Sexologist. He has completed Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS). You can meet Dr. B K Kashyap personally at KASHYAP CLINIC,kashyap clinic in Sarojini Naidu Marg, Allahabad. Don?t wait in a queue, book an instant appointment online with Dr. B K Kashyap on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced Sexologists in India. You will find Sexologists with more than 42 years of experience on Lybrate.com. Find the best Sexologists online in ALLAHABAD. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Education
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS) - University Of Allahabad - 2000
Past Experience
Senior Sexiologist at 2000 - 2016 Kashyap Clinic Pvt. Ltd
Languages spoken
English
Hindi
Awards and Recognitions
Dabur India Ltd.
Global Green Best Award
Nirala Award 16th Samman Samaroh

Location

Book Clinic Appointment with Dr. B K Kashyap

Kashyap Clinic Pvt. Ltd.

No.30 Nawab Yusuf Road, Near Pani Tanki - Civil LinesAllahabad Get Directions
300 at clinic
...more
View All

Consult Online

Text Consult
Send multiple messages/attachments. Get first response within 6 hours.
7 days validity ₹300 online
Consult Now
Phone Consult
Schedule for your preferred date/time
10 minutes call duration ₹400 online
Consult Now
Video Consult
Schedule for your preferred date/time
10 minutes call duration ₹500 online
Consult Now

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. B K Kashyap

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

सुहागरात यानी शादी की पहली रात

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
सुहागरात यानी शादी की पहली रात

सुहागरात यानी शादी की पहली रात

सुहागरात यानी शादी की पहली रात, हर नया जोड़ा इसे यादगार लम्‍हा बनाना चाहता है। लेकिन जब सुहागरात को लेकर युवा जोड़ों के मन में संकोच और हिचकिचाहट होती है। आप इस रात को सचमुच यादगार बनाना चाहते हैं तो अपने पार्टनर के साथ अच्‍छा वक्‍त गुजारिए ।
शादी की पहली रात को पुरुष सेक्‍स के प्रति बेहद चिंतित रहते हैं। वे इस बात को लेकर बेहद फिक्रमंद रहते हैं कि क्‍या वे अपने साथी को खुश रख पाएंगे या नहीं। उन्‍हें इस बात का डर रहता है कि कहीं इस रात की कोई गलती उन्‍हें सारी उम्र के लिए परेशनी में न डाल दे। तो हम आपको बताएं कि किसी भी लम्‍हे का पूरा आनंद उठाने के लिए सबसे जरूरी है कि चिंता से दूर रहा जाए।
शादी की पहली रात और सेक्‍स -

  • जरूरी नहीं कि शादी की पहली रात को पुरुष ही पहल करे। दोनों मिलकर भी शुरुआत कर सकते हैं। इससे किसी के मन में किसी प्रकार की चिंता नहीं रहेगी।
  • सेक्‍सुअल होने से पहले अपने साथी से अच्‍छी तरह बात कीजिए। अपनी सारी शंकाओं का समाधान बातचीत के जरिए पहले निकाल लीजिए नहीं तो सेक्‍स के दौरान मन में झुंझलाहट बनी रहेगी। किसी भी तरह की जल्‍दबाजी न कीजिए।
  • इस रात अपने पार्टनर सरप्राइज दीजिए, कोई ऐसा गिफ्ट दें जो आपके पार्टनर को पसंद आये। इस रात रोमैंटिक हनीमून पैकेज, सेक्सी ड्रेस और ग्लैमरस परिधान जैसे गिफ्ट दे सकते हैं ।
  • सुहागरात को अधिक उत्‍सुक होने से बचना चाहिए । व्‍यवहार सामान्‍य बनाए रखिए। बहुत सारे सपनों को एक साथ न संजोएं। उस रात जो भी हो उसे सहज भाव से स्वीकार करें 
  • पति-पत्‍नी के बीच संबंध जीवन भर के लिए होते है, उसकी शुरुआत अगर अच्छी बातों से हो तो अच्छा है। तो शुरूआत में ही सेक्‍स करने से अच्‍छा है कि आप अपने पार्टनर से कुछ देर बात करें। अपने साझा भविष्‍य को लेकर कुछ चर्चा करें। कुल मिलाकर अपने साथी को जानने की कोशिश करें। इसके बाद ही आप सेक्‍स का भरपूर आनंद उठा पाएंगे ।
  • एकाएक ही सेक्‍स संबंध बनाने की कोशिश मत कीजिए। इससे आपके पार्टनर को असहज महसूस होगा और इसमें वह आपका भरपूर साथ नही दे पाएगा ।
  • अगर आप सोच रहे हैं कि शादी की पहली रात सेक्स से संबंधित बातें करना गलत है तो आप गलत हैं। सेक्स से पहले आप अपने पार्टनर से इस विषय पर बात कर उसे सहज महसूस करवा सकते हैं। इससे आपकी छवि पर कोई नकारात्मक असर नहीं पड़ेगा।
1 person found this helpful

शादी के बाद हर दिन सेक्स करने के 4 कारण

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad

 


सेक्स सिर्फ शारीरिक सुख के लिए ही नहीं किया जाता, बल्कि कई रिसर्च इस बात को साबित करते हैं इसको करने से इंसान का शरीर स्वस्थ और कई बीमारियों से दूर रहता है । सेक्स, इंसान की खोजी हुई वो पहली दवा है जिसे हर दिन लेने से शरीर को फायदा होता है । आपको बताते हैं वो 4 कारण जिनकी वजह से खासकर पुरुषों को हर दिन सेक्स करना चाहिए ।

1. स्ट्रेस रिलीफ़ 
आयुर्वेद के अनुशार डॉ0 बी० के० कश्यप का कहना है की ये एक वैज्ञानिक तथ्य है कि सेक्स करने से स्ट्रेस यानी तनाव से मुक्ति मिलती है । इस प्रक्रिया के दौरान आपके शरीर में डोपामाइन नाम का एक पदार्थ बनता है जो स्ट्रेस हॉरमोन से लड़ता है । इसके अलावा इंडॉरफिन हॉरमोन और ऑक्सिटॉक्सिन भी शरीर में बनता है जो तनाव से शरीर को छुटकारा दिलाता है ।
2. एक्ससाईज़ का अच्छा तरीका
सेक्स एक शारीरिक क्रिया है । इंटरकोर्स के दौरान आपके शरीर में ठीक वैसे ही क्रियात्मक बदलाव होते हैं जैसा कि वर्कआउट या व्यायाम करते वक्त। लिहाजा आप थकते हैं और आपके शरीर की कैलोरी बर्न होती है । एक रिसर्च के मुताबिक अगर आप हफ्ते में 3 बार सेक्स करते हैं तो आप 1 साल में उतनी ही कैलोरी बर्न करते हैं जितनी 75 मील जॉगिंग करने से । सेक्स करने से शरीर की हड्डियां और मांसपेशियां भी मजबूत बनती हैं ।
3. प्रॉस्टेट की सुरक्षा 
सेक्स के दौरान जो भी द्रव शरीर से बाहर आता है वो ज्यादातर प्रॉस्टेट ग्रंथि से सिक्रीट होता है । ऐसे में अगर इजैक्यूलेशन की प्रक्रिया रुक जाती है, तो ये द्रव पदार्थ ग्रंथि में ही रह जाता है जिससे सूजन हो सकती है और कई तरह की समस्याएं भी । समय-समय पर इजैक्यूलेशन की प्रक्रिया होने से प्रॉस्टेट ग्रंथि की सुरक्षा होती है ।
4. दर्द से छुटकारा
"आज नहीं, आज मेरे सिर में दर्द है..." अब इस तरह के बहाने नहीं चलेंगे, क्योंकि सेक्स के दौरान स्त्री और पुरुष दोनों के शरीर में इंडॉरफिन नाम का हॉरमोन बनता है जो पेनकिलर का काम करता है। एक स्टडी के मुताबिक सेक्स खासकर ऑर्गेज़म के दौरान लोगों को दर्द महसूस नहीं होता । महिलाओं में तो सेक्स करने से फर्टिलिटी पावर भी बढ़ता है ।

1 person found this helpful

जानिये सेक् स के दौरान चरम सुख का आनंद कैसे पाती है महिलाएं?

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
जानिये सेक् स के दौरान चरम सुख का आनंद कैसे पाती है महिलाएं?

जानिये सेक्‍स के दौरान  चरम सुख का आनंद कैसे पाती है महिलाएं ?

सेक्स की चाहत सभी के मन में होती है । हर कोई चाहता है कि वह सेक्स का भरपूर आनंद उठाये । लेकिन सभी ने मन में इस दौरान तरह-तरफ के सवाल भी पैदा होते रहते है । बताना चाहेंगे कि यौन उत्‍तेजना का पहला अनुभव मस्तिष्‍क में होता है । उसके बाद सभी तंत्रिकाओं (नर्व्‍स) में खून तेजी से दौड़ने लगता है । सेक्स करने के दौरान अपने पार्टनर की जरूरतों का भी विशेष ध्यान रखें । जिससे आप परेशान नहीं रहेंगे ।

इन सब चीजों के बाद स्‍त्री का चेहरा तमतमा उठता है । कान, नाक, आंख, स्‍तन, भगोष्‍ठ व योनि की आंतरिक दीवारें फूल जाती हैं । इसके साथ ही स्त्री की योनि द्वार के अगल-बगल स्थित बारथोलिन ग्रंथियों से तरल पदार्थ निकल कर योनि पथ को चिकना बना देता है, जिससे पुरुष लिंग का गहराई तक प्रवेश आसान हो जाता है । 
कई बार देखा जाता है कि लोग सेक्स पोजीशन को भी लेकर परेशान रहते है। ऐसे लोगो को बताना चाहते है कि पोर्न देखकर कोई ऐसी पोजीशन अपने पार्टनर के साथ ना करें । जिससे बाद में आपको परेशानी होगी । क्योंकि यह जरुरी नहीं है कि आप सारी चीजे बेहतर तरीके से कर पाएं ।
कई डॉक्टर एक्सपर्ट्स का कहना है कि जब तक पुरुष का लिंग स्‍त्री योनि की गहराई तक प्रवेश नहीं करता, तब तक स्‍त्री को पूर्ण आनंद नहीं मिलता है । हालांकि उत्तेजित होने के कारण स्‍त्री के गर्भाशय ग्रीवा से कफ जैसा दूधिया गाढ़ा स्राव निकल आता है ।
बताना चाहेंगे कि संभोग काल में हर स्‍त्री की चरम तृप्ति एक समान नहीं होती है। हर स्‍त्री के आर्गेज्‍म अनुभव अलग होता है। साथ ही कोई स्‍त्री अनुभव करती है कि उसका गर्भाशय एक बार खुलता फिर बंद हो जाता है । इसमें कई स्त्रियों के मुंह से सिसकारी निकलने लगती है । 
यौन उत्‍तेजना के समय स्‍त्री की योनि के भीतर व गुदाद्वार के पास की पेशियां सिकुड़ जाती हैं। ये रुक-रुक कर फैलती और सिकुड़ती रहती है । यह इस बात का प्रमाण है कि स्‍त्री संभोग में पूरी तरह से संतुष्‍ट हो गई हैं। पुरुष अपने लिंग के ऊपर पेशियों के फैलने सिकुड़ने का अनुभव कर सकता है ।
-यह भी बताना चाहते है कि कुछ स्त्रियों में संपूर्ण योनि प्रदेश, गुदा से लेकर नाभि तक में सुरसुराहट की तरंग उठने लगती है । कई बार यह तरंग जांघों तक चली जाती है । उस समय स्‍त्री के चरम आनंद का ठिकाना नहीं रहता। अक्सर कई बार स्त्रियों को लगता है कि उनकी योनि के भीतर गुब्‍बारे फूट रहे हैं या फिर आतिशबाजी हो रही है। यह योनि के अंदर तीव्र हलचल का संकेत है, जो स्‍त्री को सुख से भर देता है । 
डॉक्टर्स यह भी कहते है कि वैंडर व फिशर के अनुसार, जिस वक्‍त संभोग में स्‍त्री को आर्गेज्‍म की प्राप्ति होती रहती है उस वक्‍त उसकी आंखें मूंद जाती है, कानों के अंदर झनझनाहट उठने लगती है साथ ही कई बार हल्‍की भूख का भी अहसास होता है । कई स्त्रियों को पेशाब लग जाता है ।
ज्ञात हो कि मर्दों के आर्गेज्‍म काल में उसके लिंग से वीर्य का स्राव होता है, जिसमें उसे आनंद की प्राप्ति होती है। हालांकि आर्गेज्‍म की अवस्‍था में महिला में ऐसा कोई स्राव होता है या नहीं, बहुत से स्त्रियों के गर्भाशय से कफ जैसा पदार्थ निकलता है और संपूण योनि पथ को गीला कर देता है। इस स्राव में चिपचिपाहट होती है । इन चीजों के अच्छे से ध्यान में रखिये और सेक्स का भरपुर आनंद उठाईये ।

5 people found this helpful

कंडोम के बिना और बिना कोई पिल्स खाए ही ऐसे करें सेफ सेक्स!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
कंडोम के बिना और बिना कोई पिल्स खाए ही ऐसे करें सेफ सेक्स!

कंडोम के बिना और बिना कोई पिल्स खाए  ही ऐसे करें सेफ सेक्स !
सेक्स के दौरान कंडोम यूज़ करना पसंद नहीं लेकिन प्रेगनेंसी और बीमारी का खतरा सताता है तो इन तरीकों से जानें कंडोम के बिना आप सुरक्षित तरीके से कैसे कर सकते हैं सेक्स ।
1. कंडोम बिना सुरक्षित सेक्स
सेक्स के दौरान सामान्य तौर पर पुरुषों को कंडोम का प्रयोग करना पसंद नहीं होता। ऐसे में महिलाओं को सेक्स के बाद गर्भनिरोधक गोलियां लेनी पड़ती हैं जिसकी संख्या ज्यादा होने पर बहुत सारी स्वास्थ्य समस्याओं से महिलाओं को जूझना पड़ता है। ऐसे में महिलाएं पिल नहीं लेती हैं तो प्रेगनेंसी के डर से तनावग्रस्त रहती हैं। महिलाओं और पुरुषों की इन जरूरतों को समझते हुए हम आपके लिए लाए हैं कंडोम बिना सेफ सेक्स करने के ये बेस्ट तरीके । इन तरीकों से आप कंडोम के बिना सेक्स का आनंद ले भी पाएंगे और प्रेगनेंसी के डर से भी दूर रहेंगे। ये टिप्स उन लोगों के लिए अधिक फायदेमंद हैं जिन्हें कंडोम से एलर्जी है या जो लोग कंडोम का यूज करना पसंद नहीं करते । 
2. सेक्स के बीच में गैप
सेक्स के बीच में गैप रखकर आप प्रेगनेंसी से बच सकते हैं। इसके लिए केवल पुरुषों को ये करना है कि वे जब इंटरकोर्स के दौरान चरम पर हों तो स्पर्म वैजाइना में डिस्चार्ज करने के बजाय बाहर डिस्चार्ज करें। ये मुश्किल कंडीशन है लेकिन रेगुलर प्रैक्टिस कर आप इसे सीख सकते हैं और उसके बाद इससे आप सेक्स को बेहतर तरीके से एन्‍जॉय कर सकते हैं और इसके लिए आपको कंडोम की भी जरूरत नहीं होगी ।
3. ऐनल सेक्स
इस तरह के सेक्स में काफी दर्द होता है जिस कारण इसे काफी पेनफुल माना जाता है। लेकिन इसकी सबसे बड़ी खासियत है कि इसे बिना कंडोम के कर सकते हैं और इसमें प्रेगनेंसी का कोई खतरा नहीं होता। ये पुरुषों को बहुत पसंद है क्योंकि इसमें कंडोम का यूज़ नहीं होता है और स्पर्म भी डिस्चार्ज हो जाता है जबकि महिलाओं को इसलिए पसंद आता है क्योंकि इसमें प्रेगनेंसी का डर नहीं होता। ऐसे में अगर आपको या आपके पार्टनर को ऐनल सेक्स का क्रेज है तो आप इसे बेझिझक एन्जॉय कर सकते हैं ।

4. ड्राई सेक्स
सेक्स में जरूरी नहीं कि इंटरकोर्स हो। अगर आप भी ये सोचते हैं तो ड्राई सेक्स आपके लिए बेस्ट है। ड्राई सेक्स में लोग फिंगरिंग करके भी कई बार सेक्स का मजा लेते हैं। इसका मजा लोग अधिक इसलिए लेते हैं क्योंकि इसमें स्मूचिंग बहुत होती है और फिंगरिंग से सेक्स की इच्छा भी पूरी हो जाती है। तो बिना कंडोम यूज किए ड्राई सेक्‍स को करें एन्जॉय ।

3 people found this helpful

क्या आप जानते हैं कि सेक्स का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है ?

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
क्या आप जानते हैं कि सेक्स का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है ?

क्या आप जानते हैं कि सेक्स का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है ?

सेक्स एक ऐसा विषय है जो हमारे जीवन के लिए बहुत अहम है और सेक्स का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है इसके बारे में सही जानकारी होना हमारे लिए बेहद जरूरी है ।
1. सेक्स और शरीर ?
सेक्स ऐसा विषय है जिससे हर इंसान खुद को जुड़ा महसूस करता है। क्योंकि यह विषय हमारे देश में थोड़ा दबा हुआ व छुपाया जाने वाला है, इस कारण लोगों में इसकी सही जानकारी का अभाव है और वे इसके बारे में अधिक जानना चाहते हैं। इसी के चलते सेक्स को लेकर कई गलतफहमियां भी मौजूद हैं। लेकिन असल में तो सेक्स कई लिहाज से फायदेमंद है। वहीं इसके कुछ नुकसान भी हैं ।  कुल मिला कर सेक्स से हमारे शरीर और हेल्थ पर काफी असर पड़ता है । चलिए जानते हैं कि शरीर पर सेक्स का क्या प्रभाव पड़ता है ।
2. शादी के बाद सेक्स करते रहना सेहत के लिए लाभदायक होता है ?
खासतौर पर प्रतिबद्ध और अपने प्यारे साथी के साथ सुरक्षित सेक्स, चिकित्सा स्वास्थ्य लाभ युक्त होता है। यह एक व्यायाम की तरह लाभ प्रदान कर सकता है। ऐसे में बिस्तर एक अच्छी एक्ससाइज मशीन की तरह काम करता है और यौन गतिविधि 200 कैलोरी तक बर्न कर सकता है । सेक्स फिटनेस सुधारने में योगदान करता है ।
3. सेक्स शरीर में दर्द भी पैदा कर सकता है ? 
हां यह जानकारी शायद आपको अच्छी न लगे। लेकिन कभी कभी संभोग के दौरान शरीर दर्द का अनुभव करता है । दर्द के कई कारणों हो सकते हैं, जैसे योनि का सूखापन, एसटीडी, मूत्र मार्ग में संक्रमण, एन्डोमीट्रीओसिस व कुछ अन्य कारण । यदि सेक्स में दर्द अधिक हो तो तत्काल डॉक्टर से संपर्क करें । रक्त स्राव या सेक्स के बाद दर्द योनि संक्रमण या किसी अन्य समस्या का परिणाम हो सकता है । सेक्स के दौरान पीठ के निचले हिस्से में दर्द भी हो सकता है ।
4. दिल के लिए फायदेमंद ?
भारतीयों में दिल की बीमारी काफी आम है । लेकिन शोध बताते हैं कि सेक्स से दिल की बीमारी से बचा जा सकता है । नियमित रूप से सेक्स करने वाले लोगों में दिल की बीमारी का खतरा कम हो जाता है । सेक्स से शरीर में कॉलेस्ट्रॉल की मात्रा घटती है, जिससे हार्ट अटैक का खतरा कम हो जाता है ।

5. मजबूत होता है इम्यून सिस्टम और बढ़ता है मेटोबॉलिजम ?
नियमित व सुरक्षित सेक्स करने से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है । गौरतलब है कि कमजोर इम्यून सिस्टम होने से बीमारियों से पीड़ित होने का खतरा बढ़ जाता है । दरअसल इंटरकोर्स के दौरान शरीर से डीएचईए नामक हॉर्मोन निकलता है जो शरीर के इम्यून सिस्टम को बढ़ाता है । साथ ही सेक्स हार्ट रेट और सर्कुलेशन को बढ़ाता है। जो शरीर के मेटाबॉलिजम को बेहतर बनाता है ।

8 people found this helpful

शादी के बाद सेक्स न करने के होते हैं कई नुकशान

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
शादी के बाद सेक्स न करने के होते हैं कई नुकशान

शादी के बाद सेक्स न करने के होते हैं कई नुकशान

हमारे, आपके, पड़ोसी के और दोस्त के मन में यह सवाल उठता होगा कि आखिर शारीरिक संबंध क्यों ज़रूरी है? क्या शारीरिक संबंध पर ही रिश्ते की सफलता और असफलता निर्भर करती है ? हर किसी की अपनी सोच होती है कि शारीरिक संबंध प्यार जताने का एक तरीका है. कई लोगों के लिए सेक्स एक दवाई की तरह है. उनके लिए यह एक संबंध नहीं, बल्कि ज़िंदगी है. जब दो लोग एक-दूसरे को लेकर पूरी तरह संतुष्ट हो जाते हैं और उनके बीच विश्वास बन जाता है. अब सबसे अहम सवाल ये है कि सेक्स न करने पर क्या होता है ?
सेक्स पृथ्वी पर रहने वाले सभी जीवों के लिए एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है. सच पूछा जाए, तो इसके बिना संसार की कल्पना भी नहीं की जा सकती है. लेकिन सेक्स के प्रति उदासीन लोगों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है.

  • तनाव बढ़ता है: मानसिक संतुष्टि के लिए सेक्स बहुत ही जरूरी है. इसके अलावा सेक्स करने से भावनात्मक तनाव भी कम होता है.
  • वायरस से सुरक्षा: विल्क्स यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने पाया है कि जो लोग हफ्ते में एक या दो बार सेक्स करते हैं, उनमें रोगों से लड़ने की क्षमता ज्यादा होती है.
  • कामेच्छा की कमी: कुछ विशेषज्ञों की राय है कि सेक्स करते रहने से सभी कामों में मन लगा रहता है. हालांकि कई विशेषज्ञ इससे असहमत भी हैं.
  • ब्लड प्रेशर बढ़ता है: अध्ययन में पता चलता है कि नियमित सेक्स करने पर तनाव के दौरान ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है.
  • कामेच्छा की कमी: कुछ विशेषज्ञों की राय है कि सेक्स करते रहने से सभी कामों में मन लगा रहता है. हालांकि कई विशेषज्ञ इससे असहमत भी हैं.
  • लुब्रिकेंट की ज़रूरत: रिसर्च में पाया गया है कि लगातार सेक्स करने से शरीर के अंगों में तरलता बनी रहती है. लेकिन यदि सेक्स समय पर नहीं किया गया, तो कृत्रिम लुब्रिकेंट की ज़रूरत होती है.
  • चिड़चिड़ापन: अगर आपको चिड़चिड़ेपन को कम करना है, तो आपके लिए सेक्स एक बेहतर विकल्प है. स्कॉटलैंड के शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों के जीवन में सेक्स की जगह नहीं है, वे दबाव को कम झेल पाते हैं.
1 person found this helpful

What Are The Symptoms Of Erectile Dysfunction?

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
What Are The Symptoms Of Erectile Dysfunction?

Erectile dysfunction will cause the penis to be unable to acquire or maintain a satisfactory erection. It is important to specify to the doctor the rapidity of onset, the presence of nocturnal erections, and the quality of the erection if it can be attained but not maintained. The quality of an erection can be judged according to the rigidity and the functionality (Is the penis erect enough to allow for vaginal penetration?).
Erectile dysfunction with sudden onset and no previous history of sexual dysfunction suggests a psychogenic cause, unless there was a previous surgery or a genital trauma. The loss of nocturnal erections will suggest a neurologic or vascular cause. Finally, when an erection is not sustained, its loss may be due to an underlying psychological cause or vascular problem. Talk to your doctor if you have noticed any problems with your erectile function.

What is the treatment for erectile dysfunction?
Nowadays, there are many options for men who suffer from erectile dysfunction. Before suggesting pharmacological help, the doctor may suggest a change in lifestyle habits. Since many causes of erectile dysfunction are disorders in which lifestyle changes will have a positive effect, addressing these issues can be helpful. Therefore, regular exercise, a healthy diet, smoking cessation, and limiting alcohol consumption can all have an impact on erectile function. Lifestyle changes can also include the use of a more genitalia-friendly bicycle seat.

इरेक्टाइल डिसफंक्शन होने का मतलब है सेक्चुअल अर्ज होने के बावजूद इरेक्शन नहीं होना। इंटरकोर्स के दौरान मानसिक और शारीरिक तौर पर उत्तेजित होने पर जब पुरूषों को इरेक्शन नहीं हो पाता उस अवस्था को ई.डी. या इरेक्टाइल डिसफंक्शन कहते हैं। इसके कारण पुरूष बहुत ही चिंतित और स्ट्रेस में रहने लगते हैं। साथ में उनकि पर्सनल और सेक्स लाइफ दोनों डिस्टर्ब हो जाती है।

  • असल में जब पुरूष उत्तेजित होते हैं तब पेनिस के नर्व का नेटवर्क दिमाग को सिग्नल भेजता है जिससे ब्लड के वेसल में ब्लड का फ्लो पूरी तरह से होने लगता है और वह अपनी क्षमता के अनुसार पूरी तरह से खुल जाता है। पेनिस में टिशू के दो कॉलम होते हैं जिसको कॉरपस कॉवेनोसम (corpus cavernosum) कहते हैं, जो ऑर्गन में फैला होता है और वह दो धमनियों में विभाजित होता है। दूसरा कॉलम जिसको कॉरपस स्पॉनजियोसम कहते हैं वह पेनिस के सामने के तरफ होता है। और ब्लड वेसल और नर्व के जाल में होता है। पेनिस के टिप में जो यूरेथ्रा होता है वह कॉरपस स्पॉनजियोसम (corpus spongiosum) के मदद से खुलता है। इससे यूरीन और सिमेन दोनों निकलता है।
  • जैसे ही ब्रेन से सिग्नल मिलता है कॉरपस कॉवेनोसम के धमनियों में ब्लड फ्लो होने लगता है। इस अवस्था में पेनिस के नर्व में दबाव पड़ता है जिसके कारण कॉरपस कॉवेनोसम पर भी प्रेशर पड़ता है जो पेनिस को इरेक्ट और एक्सपैंड होने में मदद करता है। अगर इस प्रोसेस या प्रक्रिया में जब असुविधा होती है तो इरेक्शन में प्रॉबल्म आने लगता है।
  • स्ट्रेस, सेक्स के दौरान परफॉर्मेंस के बारे में सोचकर घबड़ाहट, स्मोकिंग या अल्कोहल पीने के कारण इरेक्शन में प्रॉबल्म आ सकता है। सामान्यतः 40 के उम्र के बाद इरेक्टाइल डिसफंक्शन का प्रॉबल्म होता है।
  • साधारणतः  इन कारणों से इरेक्टाइल डिसफंक्शन होता है-
  • पेनिस में पर्याप्त मात्रा में ब्लड का फ्लो न होना- 40 के उम्र के बाद ये प्रॉबल्म होने का सबसे बड़ा कारण हाई ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल, कार्डियोवसकुलर डिज़ीज़ होता है। क्योंकि इससे कारण पेनिस की धमनियां सिकुड़ जाती है जो ब्लड फ्लो को सही तरह से होने से रोकता है और इरेक्शन में प्रॉबल्म आने लगता है।
  • ब्रेन सिग्नल नहीं दे पाता है- अगर आपको अल्जाइमर डिज़ीज़, मल्टीप्ल स्क्लेरोसीस (multiple sclerosis), पार्किंसन डिज़ीज़ (Parkinson’s disease) है तो ब्रेन रिप्रोडक्टिव ऑर्गन यानि प्रजनन तंत्र को सिग्नल नहीं भेज पाता जिसके कारण इरेक्शन में प्रॉबल्म आता है।
2 people found this helpful

क्या लिंग टूट सकता है (Penis Rapchar)?

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
क्या लिंग टूट सकता है (Penis Rapchar)?

हाँ, घबराने की बात नहीं है, ऐसा बहुत ही कम होता है। लेकिन ऐसा हो सकता है, किसी का भी लिंग टूट सकता। जैसा की हम सभी जानते है पेनिस में हड्डी नहीं होती है और जब यह खड़ा होता है तो इसके नसों में खून भर जाता है। अगर  लिंग को कोई बहुत जोर से मोड दे या किशी कारणवश  नसे फट सकती हैं। ऐसा सेक्स के दौरान लिंग के फिसलने से भी हो सकता है और इसमें आप नशों की टूटने की आवाज भी सुन सकते हैं। इसके बाद लिंग में सूजन हो जायेगी और दर्द होगा। ऐसे में तुरंत बर्फ से सेकाई करेऔर तुरन्त किसी डॉक्टर  की सलाह ले।

बहुत सरे लोगों का औसत लम्बाई का लिंग होता है लेकिन ये )उनके दिमाग में बैठ जाता है की उनका बहुत छोटा है। यह एक साइकोलोजिकल कंडीशन होती है जीसे( penile dysmorphic disorder )  कहते हैं। जो की ज्यादा परेसानी वाली बात नहीं है ये कंडीशन एनोरेक्सिया के जैसे होती है जिसमें लोगों को लगता है की वो बहुत मोटे हैं जब की वो बहुत पतले होते हैं।

सोते समय या सुबह उठाने से समय लिंग(Penis) का उत्तेजित होना सामान्य है, एक रात में 4-5 बार लिंग का उत्तेजित होना बहुत सामान्य होता है, ऐसा सपना देखते वक़्त भी होता है। ऐसा क्यों होता है इसका किसी को कारण नहीं पता लेकिन ऐसा स्वस्थ्य पेनिस के लिए होता है।
अगर किसी को सेक्सुअल समय होती है तो डॉक्टर रात के इरेक्शन को चेक करने के लिए बोलते हैं। यदि किसी का रात में खड़ा होता है तो उसकी सेक्सुअल प्रॉब्लम stress और anxiety की वजह से है।
1. अंडकोष का सिकुड़ना क्या सामान्य होता है?
हाँ
स्पर्म को स्वस्थ्य रखने के लिए शरीर अंडकोष का तापमान नियंत्रित करती है। जब वो ठंढे होते हैं तो शरीर उनको सिकोड़ लेती है ताकि वो गर्म रहें और गरमी में अंडकोष लटकते रहते हैं ताकि वो ठंढे रहें।
पेनिस भी कसरत के दौरान या जब ज्यादा मानसिक तनाव में सिकुड़ जाता है, ऐसा इस लिए है की आप का शरीर आप के खून को दूसरी जगह भेज रही है जहाँ ज्यादा जरूरत है।

2 - लिंग का एक तरफ झुकना नार्मल होता है?
हाँ
सभी लोगों के लिंग एक जैसे नहीं हो सकते हैं, सबके अलग अलग दिखाते हैं। सामान्य तौर पर लिसी का दायीं तरफ तो किसी का बायीं तरफ झुका होता है। दाहिना अंडकोष बड़ा होता है और बयां छोटा होता है। लिंग में तनाव के दौरान यह दायें या बाएं झुक सकता है और अंडकोष ज्यादा लटक सकते हैं। अगर आप के पेनिस बहुत जयादा मुड़ा हुआ है और इससे खड़ा होने के दौरान दर्द होता है तो आप को डॉक्टर को दिखाना चाहिए। ऐसा Peyronie’s disease की वजह से हो सकता है।

3- हफ्ते में 5 बार से ज्यादा हस्तमैथुन नुकसान पहुंचता है?
नहीं
क्या आप बहुत ज्यादा हस्तमैथुन करते हैं? नहीं ऐसा नहीं है, बहुत सारे लोग गिनाते बहुत हैं। लेकिन कितनी बार नार्मल है? ऐसा कोई डाटा नहीं है की कितनी बार masturbation नार्मल होता है, बहुत सारे लोग बहुत बार करते हैं जबकि बहुत सारे कम या बहुत कम करते हैं। अगर आप के बहत ज्यादा masturbation से आप के काम, स्कूल या अन्य चीजों पर असर पद रहा है तब समाया है नहीं तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता की आप कितनी बार masturbation करते हैं।

4 people found this helpful

शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने के उपचार

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने के उपचार

शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने के उपचार 

शुक्राणुओं की संख्या कम होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे पर्यावरण से हुआ प्रदूषण, विषैले ड्रग्स से संपर्क (drugs), धूम्रपान करना, रेडिएशन (radiation), केमिकल (chemical) के संपर्क में आना, भारी धातुओं के संपर्क में आना आदि ।

पुरुषों में औसत शुक्राणुओं की मात्रा 120 से 350 मिलियन पर क्यूबिक सेंटीमीटर (million per cubic centimeter) होती है। शुक्राणु की कमी के कारण, शुक्राणुओं की संख्या तब काफी कम मानी जाती है, जब यह 40 मिलियन पर क्यूबिक सेंटीमीटर से भी कम हो जाए ।

गर्मी भी एक महत्वपूर्ण कारक है, जो शुक्राणुओं के कम होने का कारण माना जाता है। गर्म पानी से स्नान करना, लम्बे समय तक पानी से भरे टब में आराम करना, लम्बे समय तक कुछ ज्यादा ही चुस्त अंतर्वस्त्र पहनकर समय बिताना आदि से भी शुक्राणुओं की संख्या कम हो जाने की काफी संभावनाएं पैदा हो सकती हैं ।

शुक्राणु बढ़ाने के लिए केमिकल के संपर्क में आने से बचें (Reduce chemical exposure)

आजकल के दौर में पुरुष आज से 50 वर्ष पहले के पुरुषों की तुलना में शुक्राणुओं की कमी की समस्या से ज्यादा जूझ रहे हैं। केमिकल से ज्यादा संपर्क शुक्राणुओं की कमी का एक महत्वपूर्ण कारण है। ज़ेनोएस्ट्रोजन्स (xenoestrogens), जैसे डाइअॉॉक्सिन, कीटनाशक, प्लास्टिक्स, PCB और कारखानों के प्रदूषक तत्व (dioxin, pesticides, plastics, PCB’s and industrial pollutants) आप पर काफी हानिकारक प्रभाव छोड़ते हैं। ज़ेनोएस्ट्रोजन्स के आपके स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव को दूर करने के लिए नीचे दिए गए नुस्खे अपनाए जा सकते हैं : –

खाद्य पदार्थों को जमा करके रखने के लिए प्लास्टिक के पात्रों का प्रयोग ना करें ; 

प्लास्टिक की बोतलों, बर्तनों तथा ढकने वाली वस्तुओं से भी परहेज करें।

शीघ्रपतन रोकने के घरेलू उपाय

शराब और कैफीन (caffeine) का सेवन कम कर दें। अगर आपको प्रभावी परिणाम चाहिए तो इनका सेवन पूरी तरह से बंद कर दें।

क्लोरीन (chlorine) युक्त नल के पानी, क्लोरीन के ब्लीच (bleach) तथा अन्य क्लोरीन युक्त उत्पादों का प्रयोग ना करें। इसके स्थान पर हाइड्रोजन पेरोक्साइड (hydrogen peroxide) का प्रयोग करना ज़्यादा अच्छा विकल्प साबित होगा।

शुक्राणु बढ़ाने वाला आहार, आपके लिए चारकोल (charcoal) में उबले, तले तथा भुने हुए खाद्य पदार्थों के सेवन से भी परहेज करना अच्छा साबित होगा।

ऐसे भोजन ग्रहण करने का प्रयास करें, जो एंटी ऑक्सीडेंटस (antioxidants) से भरपूर हों । हरी पत्तेदार सब्जियां, फल, गाजर, गोभी आदि का ज्यादा सेवन करें ।

शुक्राणु बढाने के उपाय – स्पर्म काउंट के लिए खानपान सही करें (Improve diet)

शुक्राणु बढाने के उपाय, उर्वरता (fertility) में वृद्धि करने के लिए अपने खानपान में काफी मात्रा में फल, सब्जियों और साबुत या अंकुरित अनाज का सेवन करें। स्पर्म काउंट के लिए धूम्रपान, तम्बाकू, शराब, चाय, कॉफ़ी तथा रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट्स (refined carbohydrates) से परहेज करने का प्रयास करें। स्पर्म काउंट के लिए अपने वज़न को नियंत्रण में रखें, क्योंकि ज़रुरत से ज्यादा वज़न बढ़ना भी शुक्राणुओं में कमी का एक बड़ा कारण हो सकता है।

1 person found this helpful

पुरुषों में, इरेक्टाइल डिसफंक्शन का आयुर्वेदिक उपचार

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
पुरुषों में, इरेक्टाइल डिसफंक्शन का आयुर्वेदिक उपचार

पुरुषों में, इरेक्टाइल डिसफंक्शन का आयुर्वेदिक उपचार
 



पुरुषों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन के घरेलू उपचार | पति-पत्नी के बीच अंतरंग संबंध उनके जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। लेकिन कई बार कुछ छोटी-मोटी समस्याएं इस महत्वपूर्ण हिस्से को कमजोर बना सकती हैं। फिर इसके लिए दवाएं और महंगे उपचार द्वारा करवाने में पुरुष शर्मिंदगी भी महसूस कर सकते हैं। ऐसे में, यदि उन्हें यह जानकारी हो कि यदि वह नियमित तौर पर कुछ ऐसे खाद्य-पदार्थों का सेवन करते रहें, जो प्राकर्तिक तौर पर सेक्स लाइफ को बूस्ट करने में मदद करते हैं, तो शायद उन्हें मेडिकल ट्रीटमेंट की जरूरत ही न पड़े। साथ ही यह फल सिर्फ पुरुषों में सेक्स से जुड़ी कमजोरी ही को ही नहीं दूर करते बल्कि इरेक्टाइल डिसफंक्शन की समस्या भी इससे ठीक हो सकती है। यहाँ कुछ ऐसे फल और अन्य खाद्य-पदार्थों की जानकारी दी जा रही है, जो पुरुषों को यौन ऊर्जा प्रदान करते हैं।
जैसे:-
तरबूज- तरबूज का नियमित सेवन न सिर्फ, पुरुषों में सेक्स ड्राइव को बूस्ट करता है बल्कि इसे इरेक्टाइल डिसफंक्शन जैसी समस्या से भी राहत मिलती है। तरबूज में पाये जाने वाले यौगिक, इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए दवाओं की ही तरह काम करते हैं। तरबूज रक्त वाहिकाओं के सुचारू संचालन के लिए बहुत फायदेमंद है। यहाँ तक कि अध्ययनों में यह बात भी सामने आई है कि तरबूज में पाए जाने वाले तत्व शरीर की रक्त वाहिकाओं पर वियाग्रा जैसा ही असर डालते हैं। वहीं तरबूज में भरपूर मात्रा में पानी होता है, जिसमें लाइकोपीन नामक तत्व मौजूद होता है। यह तत्व शरीर में एंटीऑक्सीडेंट के तौर पर काम करता है और ह्रदय, प्रोस्टेट, और त्वचा के लिए फायदेमंद होता है।


डार्क चॉकलेट- डार्क चॉकलेट के जरिए भी व्यक्ति अपनी सेक्स क्षमता को बढ़ा सकता है, खासकर इरेक्टाइल डिसफंक्शन से पीड़ित व्यक्ति। क्योंकि डार्क चॉकलेट में कोकोआ होता है, जिसके कारण फ्लेवेनाइड्स और एंटीआक्सिडेंट काफी मात्रा में पाए जाते हैं। जो शरीर में रक्त संचार को बढ़ाने में मदद करता है और साथ ही यह रक्तचाप के स्तर को भी कम करता है, जिसके कारण यौन अंगों में उत्तेजना में मदद मिलती है। इसके अलावा डार्क चॉकलेट शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड, को बनाने में मदद करता है जिससे कि इरेक्शन की क्षमता में मदद मिलती है।
 

सूखे मेवे- अखरोट में आर्जीनिन और एमिनो एसिड पाए जाते हैं, जो शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड बनाने में मदद करता है। इसके अलावा सूखे मेवे विटामिन ई, फोलिक एसिड और फाइबर का अच्छा स्रोत माना जाता है, जो व्यक्ति में यौन क्षमता को बढ़ाता है। हालंकि इसका ज्यादा उपयोग भी घातक होता है, क्योंकि बादाम में बहुत अधिक मात्रा में कैलोरी पायी जाती है।
 

जूस- इरेक्टाइल डिसफंक्शन से जूझ रहे लोगों में जूस काफी कारगर माना गया है, खासकर अंगूर का जूस। क्योंकि, अंगूर के रस में पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड की मात्रा में वृद्धि करता है। इसके अलावा अनार का जूस भी सेक्स के लिए प्राकृतिक बूस्टर माना जाता है। ऐसे में जूस का नियमित सेवन करने से सेक्स क्षमता बढ़ती है और यह इरेक्टाइल डिसफंक्शन से भी बचाता है।
 

लहसुन- लहसुन सेक्स क्षमता को बढ़ाने में एक अहम भूमिका निभाता है, क्योंकि लहसुन में कोमोत्तेजक गुण पाए जाते हैं, जो रक्त संचार और और यौन क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। लहसुन में एलीकीन होता है जो कि जननांगों में खून के प्रवाह को बढ़ाता है। इसके अलावा सेक्स क्षमता को बढ़ाने के लिए लहसुन का इस्तेमाल किया जाता है। लहसुन की दो-तीन कलियां कच्चा चबाकर खाने से धमनियाँ स्वस्थ रहती हैं।
 

हरी पत्तेदार सब्जियां- हरी पत्तेदार सब्जियों में भी काफी मात्रा में नाइट्रिक ऑक्साइड पाए जाते हैं। खासकर पालक, मेथी, अजवाइन के सेवन से खून का संचालन और लिंग उत्तेजना बढ़ता है। एमिनो एसिड और फोलेट से भरपूर पालक खाने और पालक का सूप पीने से सेक्स क्षमता को बढ़ावा मिलता है और साथ ही इरेक्टाइल डिसफंक्शन से भी निजात पाया जा सकता है। क्योंकि हरी पत्तेदार सब्जियों में विटामिन , खनिज और ओमेगा-3s भरपूर मात्रा में होते हैं।

 शरीर को अधिक टेस्टोस्टेरोन बनाने के लिए जैतून का तेल काफी कारगर माना जाता है। शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल और असंतृप्त वसा से छुटकारा दिलाने में भी यह मदद करता है। क्योंकि, जैतून के तेल में एंटीऑक्सीडेंट काफी मात्रा में पाया जाता है जो शरीर के लिए अच्छा माना जाता है।

किसी भी व्यक्ति के जीवन में यौन सुख का बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। जिस तरह शरीर को स्वस्थ रखने के लिए अच्छे भोजन की आवश्यकता होती है, उसी तरह खुशहाल दांपत्य जीवन के लिए अच्छी सेक्सुअल लाइफ का होना भी जरूरी है और सही आहार से सेक्स लाइफ में भी सुधार किया जा सकता है। खासकर उन पुरुषों के लिए जो इरेक्टाइल डिसफंक्शन के शिकार हैं, वे अपनी खानपान की आदतों में कुछ सुधार लाकर अपनी सेक्स लाइफ को काफी मजेदार बना सकते हैं।

10 people found this helpful
View All Feed