Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Girish Parmar

M.D. homeopathic

Homeopath, Mumbai

500 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Girish Parmar M.D. homeopathic Homeopath, Mumbai
500 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

I'm a caring, skilled professional, dedicated to simplifying what is often a very complicated and confusing area of health care....more
I'm a caring, skilled professional, dedicated to simplifying what is often a very complicated and confusing area of health care.
More about Dr. Girish Parmar
Dr. Girish Parmar is a popular Homeopath in Palghar, Mumbai. Doctor is a M.D. homeopathic . Doctor is currently associated with M L DHAWALE in Palghar, Mumbai. Save your time and book an appointment online with Dr. Girish Parmar on Lybrate.com.

Lybrate.com has an excellent community of Homeopaths in India. You will find Homeopaths with more than 37 years of experience on Lybrate.com. We will help you to get in touch with the best Homeopaths online in Vadodara. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Education
M.D. homeopathic - MLD -

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Girish Parmar

M L DHAWALE

m l dhawale memorial hospital palgharMumbai Get Directions
500 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Girish Parmar

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Dear Dr. . Please read n give some solution for this .mene apne long hair 3 month pahle 3/4th cut Kare the per fir baalo ka jhadhna band nii huaa aur jo kaate the wo bhi badhna bandh ho gaye aur hair long bhi nii ho rahe.

B.Sc. - Dietitics / Nutrition, Nutrition Certification,Registered Dietitian
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Dear Dr. . Please read n give some solution for this .mene apne long hair 3 month pahle 3/4th cut Kare the per fir ba...
1. Use mild shampoo to wash hair (you can make your own shampoo using reetha and shikakai at home) 2. Stop using conditioners. Use natural conditioners like egg, yougurt and lemon. 3. Massage your scalp with a mix of oils like olive, coconut, sesame, castor oil at night. 4. Apply raw amla juice on hair thrice a week. 5. Rub your scalp with the juice of white onion. 6. Use a paste of bhringraj on hair. 7. You can use some good hair packs like - fenugreek and yogurt, egg and green tea. 8. You can rinse your hair with organic apple cider vinegar after washing your hair to maintain ph balance of your hair. 9. Hair health depends on the amount of protein in your diet. Foods like chicken, eggs, fish, nuts, dry fruits gives you the required nutrients to keep your skin and hair healthy. So consume plenty of them. Eat things rich in vitamin c like amla and oranges. 10. Drink lots of water to flush out toxins from the body.
Submit FeedbackFeedback

My wife is suffering from thyroid from last 27 years her TSH keeps fluctuating as dose are reduced TSH increase dose increase TSH decrease pls suggest.

Advance BHRT Certification, Fellowship in BHRT & Longevity Medicine, Fellowship in Endocrinology, MBBS, DOMS, MS - Ophthalmology
Endocrinologist, Bangalore
Firstly, ot is not a good idea have "knee-jerk" reaction to TSH .Hold a steady dose. And please do not self medicate. TSH level, independently, should not drive the treatment. Other thyroid and metabolic parameters as well as clinical symptoms will be taken into consideration by your treating physician. I would like to also rule out Thyroid auto-antibodies as that impacts my treatment plan. For my patients, I prefer to use compounded Thyroid containing a combination of T3 and T4.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

BDS, PGDFO
Dentist, Gadchiroli
A dead, inflamed or infected tooth pulp requires a root canal treatment.
5 people found this helpful

Girls Beauty Is Known by Her Calves: Want to Own Those Calves?

MPT, BPT
Physiotherapist, Noida
Girls Beauty Is Known by Her Calves: Want to Own Those Calves?

CALVES ARE ADDRESSED AS PLANTAR-FLEXORS HERE

THE PLANTAR-FLEXORS

These muscles are powerful as they propel the body forwards and help to stabilize the foot and ankle.    With the exception of Soles they all work across more than one joint, and because of this, the Long Flexors of the toes are most capable in this capacity when the metatarsophalangeal joint is extended.     

The gastrocnemius is most efficient when the knee is extended, while the function of Soles is mainly postural to ready the leg on the foot. 

Tibialis Anterior is primarily an inverter and supports the longitudinal arch of the foot, but it can assist dorsiflexion. 

Assisted Exercise for the Plantar-flexors – With the patient inside lying, manual assistance is given by the physiotherapist

Examples of free exercises for the plantar-flexors:

Non-weight-bearing:

  • Long sitting or half sitting (heals free); Toe pointing, alternately. 
  • Prone lying (Feet over the end of plinth); Toe pointing, alternately.
  • Sitting; heel raising

Weight-bearing:

  • Half standing; one heel raising·
  • Reaches grasp high standing; heel raising and slowly lowering
  • Standing; bob jump, hopping or dancing steps.

Resisted Exercise for the Plantar flexors,  

Manual resistance can be offered to the muscles with the patient in positions such as long sitting or prone long(with knees bend), care being taken to see that resistance is given on a sufficient area of the sole to avoid straining the intertarsal Joints and plantar structures.    

The action of the Long Flexors can be localized by fixing the ankle joint in dorsiflexion and resisting the toes. Mechanical and auto-resistance is given by a treadle machine or it can be arranged thus- Suitable activities induce walking, running, jumping, balance walk sideways or up to an incline, cycling and rowing.   

THE INVERTORS

These muscles rotate the foot inwards, chiefly at the transverse. Tarsal and subdeltoid joints, and maintain the longitudinal arch of the foot, in addition to assisting movements of the ankle joint. 

Assisted Exercise for the Investors, With the patient in a long sitting or half lying, the physiotherapist gives manual assistance by fixing with one hand above the ankle and the other grasping around the heel with the sole of the foot resting on the forearm,  Movement then occurs around a vertical  axis and gravity is eliminated.   

Alternatively, a swing board can be used by the patient,the slope of the board on which the foot rests being altered by pulling on the ropes.

1 person found this helpful

B.Sc. - Dietitics / Nutrition
General Physician, Rohtak
Never squeeze your pimples.Because after squeezing it left marks on your skin. Apply ice on your pimples. Eat and drink cold things.
8 people found this helpful

Hello doctor, I have undergone humerus bone surgery. Could you please help me in suggesting an ointment for my scar lightening.

Safdarjung Hospital, MS(gen.surg), M.B.B.S., l
General Surgeon, Kota
Hello doctor, I have undergone humerus bone surgery. Could you please help me in suggesting an ointment for my scar l...
Scarheal ointment will reduce some scar, but this is a permanent scar can not help to remove cmplt scar. Same pt gone for cosmetics surgery for tht.
Submit FeedbackFeedback

My mother has suffered from various diseases like malaria, typhoid, tb,and have eaten some medicine for chest tumor. Due to which she has lost her hairs. What should she do to get her hairs back?

BHMS
Homeopath, Hooghly
My mother has suffered from various diseases like malaria, typhoid, tb,and have eaten some medicine for chest tumor. ...
Apply coconut milk,,apply alovera gel extract,,apply castor oil,,apply vit E,,apply hot oil massage with olive oil and coconut oil,,with this she needs proper homoeopathic treatment
Submit FeedbackFeedback

I am 44 years old female and I have belly pain somewhat in spin for long years. What should I do for relief.

PGFCP, PGDEMS, Bachelor Of Ayurvedic Medicine And Surgery
Ayurveda, Satara
I am 44 years old female and I have belly pain somewhat in spin for long years. What should I do for relief.
DEAR Lybrate USER. A) Take 10-10ml of fresh lemon juice and honey before meal. B) take 2-2 tablets of sutshekhar rasa and aarogyawardhini rasa after meals…. C) eat 10 gm of black cumin seeds along with 10 gm of jiggery after meals… D) take 30 ml of aloe vera juice and 30 ml of lukewarm water at night before sleep. Do all these things for 15 days. It gives you good result. Consult to me for further suggestions. THANKS….
Submit FeedbackFeedback

I am 26 years old male, sometime I have pain on right testicles, scrotum, prostate, back of my leg from knee, sharp pain on the hip and like a bone pain inside the butt. It all happens on right side and it happens like 2 or 3 times in a day and it all are like a mild pain.

MBBS
General Physician, Mumbai
I am 26 years old male, sometime I have pain on right testicles, scrotum, prostate, back of my leg from knee, sharp p...
For pain take tablet paracetamol 650 mg and start with Tablet folvite 5mg once a day for six months and tablet vitamin D3 60000iu once a week for six months
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Menstrual Cycle in hindi - मासिक धर्म क्या है ?

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Menstrual Cycle in hindi - मासिक धर्म क्या है ?

अक्सर हमेशा हंसने खेलने वाली चंचल लड़कियां भी महीने के कुछ दिन दबी दबी दुखी सी शर्माती खुदको छिपाती नजर आती हैं। और इसी वक़्त पर हम गौर करें तो पाएंगे कि घर परिवार के कुछ लोग भी उससे कटे कटे रहते हैं कई चीजों को छूने कई जगह जाने पर पर भी मनाही होती है। जी हां बिलकुल सही समझें आप हम बात कर रहे हैं पीरियड्स की। यह केवल महिलाओं ही नही पुरुषों या यूँ कहें मानव वृद्धि के लिए सबसे अहम घटना है। तो चलिए आज हम जानते हैं पीरियड्स क्या हक़ क्यों आता है इसका सही समय, महत्व आदि। 
पीरियड्स या मासिक धर्म स्त्रियों को हर महीने योनि से होने वाला लाल रंग के स्राव को कहते है। पीरियड्स के विषय में लड़कियों को पूरी जानकारी नहीं होने पर उन्हें बहुत दुविधा का सामना करना पड़ता है। पहली बार पीरियड्स होने पर जानकारी के अभाव में लड़कियां बहुत डर जाती है। उन्हें बहुत शर्म महसूस होती है और अपराध बोध से ग्रस्त हो जाती है। 

पीरियड्स को रजोधर्म भी कहते है। ये शारीरिक प्रक्रिया सभी क्रियाओं से अधिक महवपूर्ण है, क्योकि इसी प्रक्रिया से ही मनुष्य का ये संसार चलता है। मानव की उत्पत्ति इसके बिना नहीं हो सकती। प्रकृति ने स्त्रियों को गर्भाशय ओवरी फेलोपियन ट्यूब, और वजाइना देकर उसे सन्तान उत्पन्न करने का अहम क्षमता दिया है। इसलिए पीरियड्स या मासिक धर्म गर्व की बात होनी चाहिए ना कि शर्म की या हीनता की। सिर्फ इसे समझना और संभालना आना जरुरी है। इस प्रक्रिया से घबराने या कुछ गलत या गन्दा होने की हीन भावना महसूस करने की बिल्कुल आवश्यकता नहीं है। पीरियड्स मासिक धर्म को एक सामान्य शारीरिक गतिविधि ही समझना चाहिए जैसे उबासी आती है या छींक आती है। भूख, प्यास लगती है या सू-सू पोटी आती है।

मासिक चक्र

  • दो पीरियड्सके बीच का नियमित समय मासिक चक्र ( Menstruation Cycle ) कहलाता है। नियमित समय पर पीरियड्स( Menses ) होने का मतलब है कि शरीर के सभी प्रजनन अंग स्वस्थ है और अच्छा काम कर रहे है। मासिक चक्र की वजह से ऐसे हार्मोन बनते है जो शरीर को स्वस्थ रखते है। हर महीने ये हार्मोन शरीर को गर्भ धारण के लिए तैयार कर देते है।
  • मासिक चक्र के दिन की गिनती पीरियड्सशुरू होने के पहले दिन से अगली पीरियड्सशुरू होने के पहले दिन तक की जाती है। लड़कियों में मासिक चक्र 21 दिन से 45 दिन तक का हो सकता है। महिलाओं को मासिक चक्र 21 दिन से 35 दिन तक का हो सकता है। सामान्य तौर पर मासिक चक्र 28 दिन का होता है।

मासिक चक्र के समय शरीर में परिवर्तन 

1. हार्मोन्स में परिवर्तन
 मासिक चक्र के शुरू के दिनों में एस्ट्रोजन नामक हार्मोन बढ़ना शरू होता है। ये हार्मोन शरीर को स्वस्थ रखता है विशेषकर ये हड्डियों को मजबूत बनाता है। साथ ही इस हार्मोन के कारण गर्भाशय की अंदरूनी दीवार पर रक्त और टिशूज़ की एक मखमली परत बनती है ताकि वहाँ भ्रूण पोषण पाकर तेजी से विकसित हो सके। ये परत रक्त और टिशू से बनी होती है।
2. ओव्यूलेशन 
संतान उत्पन्न होने के क्रम में किसी एक ओवरी में से एक विकसित अंडा डिंब निकल कर फेलोपीयन ट्यूब में पहुँचता है। इसे ओव्यूलेशन कहते है। आमतौर पर ये मासिक चक्र के 14 वें दिन होता है । कुछ कारणों से थोड़ा आगे पीछे हो सकता है। 
ओव्यूलेशन के समय कुछ हार्मोन जैसे एस्ट्रोजन आदि अधिकतम स्तर पर पहुँच जाते है। इसकी वजह से जननांगों के आस पास ब्लड सर्कुलेशन बढ़ जाता है। योनि के स्राव में परिवर्तन हो जाता है। जिसके कारण महिलाओं की सेक्सुअल डिजायर बढ़ जाती हैं। इसलिए इस ड्यूरेशन में सेक्स करने पर प्रेग्नेंट होने के चन्वेस बढ़ जाते हैं।
3. अंडा 
फेलोपियन ट्यूब में अगर अंडा शुक्राणु द्वारा निषेचित हो जाता है तो भ्रूण का विकास क्रम शुरू हो जाता है। अदरवाइज 12 घंटे बाद अंडा खराब हो जाता है। अंडे के खराब होने पर एस्ट्रोजन हार्मोन का लेवल कम हो जाता है। गर्भाशय की ब्लड व टिशू की परत की जरुरत ख़त्म हो जाती है। और ऐसे में यही परत नष्ट होकर योनि मार्ग से बाहर निकल जाती है। इसे ही पीरियड्स, मेंस्ट्रुल साइकिल, महीना आना या रजोधर्म भी कहा जाता है। और इस दौर से गुजऱने वाली स्त्री को रजस्वला कहा जाता है।
4. ब्लीडिंग
पीरियड्स के समय अक्सर यह मन में यह मन में यह सवाल आता है की ब्लीडिंग कितने दिन तक होना चाहिए और कितनी मात्रा में होना चाहिए कि जिसे सामान्य मानें। पीरियड यानि MC के समय निकलने वाला स्राव सिर्फ रक्त नहीं होता है। इसमें नष्ट हो चुके टिशू भी होते है। अतः ये सोचकर की इतना सारा रक्त शरीर से निकल गया, फिक्र नहीं करनी चाहिए। इसमें ब्लड की क्वांटिटी करीब 50 ml ही होती है। नैचुरली पीरियड्स तीन से छः दिन तक होता है। तथा स्राव की मात्रा भी अलग अलग हो सकती है। यदि स्राव इससे ज्यादा दिन तक चले तो डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।

पीरियड्स से पहले के लक्षण
लड़कियों को शुरू में अनियमित पीरियड्स, ज्यादा या कम दिनों तक पीरियड, कम या ज्यादा मात्रा में स्राव, डिप्रेशन आदि हो सकते है। इसके अलावा पीएमएस यानि पीरियड्स होने से पहले के लक्षण नजर आने लगते है। अलग अलग स्त्रियों को पीएमएस के अलग लक्षण हो सकते है। इस समय पैर, पीठ और अँगुलियों में सूजन या दर्द हो सकता है। स्तनों में भारीपन, दर्द या गांठें महसूस हो सकती है। सिरदर्द, माइग्रेन, कम या ज्यादा भूख, मुँहासे, त्वचा पर दाग धब्बे, आदि हो सकते है। इस तरह के लक्षण पीरियड शुरू हो जाने के बाद अपने आप ठीक हो जाते है। इसलिए उन दिनों में अपने आपको सहारा डैम और मजबूत बनें।

पीरियड्स आने की उम्र 
आमतौर पर लड़कियों में पीरियड्स 11 से 14 साल की उम्र में शुरू हो जाती है। लेकिन अगर थोड़ा देर या जल्दी आजाए तो चिंता न करें। पीरियड्सशुरू होने का मतलब होता है की लड़की माँ बन सकती है। शुरुआत में पीरियड्सऔर ओव्यूलेशन
के समय में अंतर हो सकता है। यानि हो सकता है की पीरियड्सशुरू नहीं हो लेकिन ओव्यूलेशन शुरू हो चुका हो। ऐसे में गर्भ धारण हो सकता है। और इसका उल्टा भी संभव है। यह बहुत महत्त्वपूर्ण है कि पीरियड्स शुरू नहीं होने पर भी प्रेगनेंट होना संभव है इसलिए सावधानी बरतें।

पहले ही किशोरियों को समझाएं 
लड़कियों में शारीरिक परिवर्तन दिखने पर या लगभग 10 -11 साल की उम्र में मासिक धर्म के बारे में जानकारी देकर इसे कैसे मैनेज करना है समझा देना चाहिए। जिससे वे शरीर में होने वाली इस सामान्य प्रक्रिया के लिए मानसिक रूप से भी तैयार हो जाएँ। साथ ही आप लोगों को भी यह समझने की जरूरत है कि पीरियड्स मवं में अपवित्रता जैसा कुछ नहीं है। ये एक सामान्य शारीरिक क्रिया है जो एक जिम्मेदारी का अहसास कराती है। इसकी वजह से लड़कियों पर आने जाने या खेलने कूदने पर पाबन्दी नहीं लगानी चाहिए। पर ध्यान रहे बच्चियों को गर्भ धारण करने की सम्भावना के बारे में जरूर समझाना चाहिए जिससे वे सतर्क रहें। 

पीरियड्स आने पर 
सभी महिलाएं पीरियड्स की डेट जरूर याद रखें जिससे आप पहले ही तैयार रहें। 
इस दौरान खुदको किसी चीज़ से न रोकें नहीं। सामान्य जीवन शैली ही जिएं। बस अगर मौका मिले तो थोड़ा आराम करें।
 

11 people found this helpful
View All Feed