Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Toothache Health Feed

दांतों में कैविटी कारण और इलाज - Danto Mein Cavity Karan Aur Ilaj!

दांतों में कैविटी कारण और इलाज - Danto Mein Cavity Karan Aur Ilaj!

कैविटी, जिसे दांत का सडन भी कहा जाता है, एक छेद होता है जो आपके दांत में बनता है. जब इसका उपचार नहीं किया जाता हैं तो यह कैविटी और धीरे-धीरे बड़ी होने लगती हैं. क्योंकि कई गुहाएँ शुरुआत में दर्द का कारण नहीं होती हैं, इसलिए इसे महसूस करना मुश्किल हो सकता है. नियमित डेंटल अपॉइंटमेंट से दांतों की सड़न का जल्द पता लगाया जा सकता है. कैविटी और दांतों की सड़न दुनिया की सबसे सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं में से एक हैं. दांतों में कैविटी बच्चे से लेकर बड़ो तक को हो सकता हैं.

टूथ कैवटी के लक्षण:

कैविटी के लक्षण सङन के गंभीरता पर निर्भर करता है. इसमें शामिल है:
1. दांतों में संवेदना
2. दांत दर्द
3. दांत में छेद होना
4. दांत पर काले या सफेद दाग

डेंटल कैविटी के कारण:

डेंटल कैविटी प्लाक के कारण होते हैं, यह एक चिपचिपा पदार्थ होता है जो दांतों को बांध कर रखता है. पट्टिका का संयोजन है:

* जीवाणु
* लार
* अम्ल
* भोजन के कण

हर किसी के मुंह में बैक्टीरिया होते हैं. शुगर के साथ खाद्य पदार्थ खाने या पीने के बाद, आपके मुंह में बैक्टीरिया चीनी को एसिड में बदल देते हैं. कुछ भी मीठा खाने या पीने से जल्द ही आपके दांतों पर प्लाक बनने लगते हैं. यही कारण है कि नियमित रूप से ब्रश करना महत्वपूर्ण है.

प्लाक आपके दांतों से चिपक जाता है और प्लाक में मौजूद एसिड धीरे-धीरे दांतों के इनेमल को मिटा सकता है. तामचीनी आपके दांतों पर एक मजबूत, सुरक्षात्मक कोटिंग है जो दांतों की सड़न से बचाता है. जैसे-जैसे आपका दांत इनेमल कमजोर होता है, सङन होने का खतरा बढ़ जाता है.

हर किसी को कैविटी का खतरा होता है, लेकिन कुछ लोगों में इसका खतरा अधिक होता है. जोखिम कारकों में शामिल हैं:

* बहुत सारे शर्करा या अम्लीय खाद्य पदार्थ और पेय
* खराब मौखिक स्वच्छता दिनचर्या, जैसे कि रोजाना ब्रश या फ्लॉस नहीं करना
* पर्याप्त फ्लोराइड नहीं मिलना
* शुष्क मुँह
* आहार विकार, जैसे एनोरेक्सिया और बुलिमिया
* एसिड भाटा रोग, जो आपके दाँत तामचीनी पहने हुए पेट में एसिड हो सकता है

डेंटल कैविटी के लिए उपचार के विकल्प
अपने डॉक्टर को दांतों की संवेदनशीलता या दर्द जैसे असहज लक्षणों के बारे में बताएं. आपका दंत चिकित्सक मौखिक परीक्षा के बाद दांतों की सड़न की पहचान कर सकता है. हालाँकि, मौखिक परीक्षा से कुछ गुहाएँ दिखाई नहीं देतीं. इसलिए, आपके डेंटिस्ट सङन को देखने के लिए डेंटल एक्स-रे का उपयोग कर सकते हैं.

उपचार के विकल्प गंभीरता पर निर्भर करते हैं. कैविटी के इलाज के कई तरीके हैं.
* टूथ फीलिंग

इसमें डेंटिस्ट एक ड्रिल का उपयोग करता है और दांत से सङन सामग्री को निकालता है. इसके बाद डेंटिस्ट आपके दांतों में एक पदार्थ से भरता है, जैसे कि चांदी, सोना, या मिश्रित राल.
* क्राउन
ज्यादा गंभीर सङन के लिए, आपका डेंटिस्ट दांत के प्राकृतिक क्राउन को बदलने के लिए दाँत के ऊपर एक कस्टम-फिट कैप लगा सकता है. इस प्रक्रिया को शुरू करने से पहले डेंटिस्ट क्षययुक्त दांत सामग्री को हटा देता है.
* रूट केनाल
जब दाँत क्षय आपकी नसों की मृत्यु का कारण बनता है, तो आपका डेंटिस्ट आपके दाँत को बचाने के लिए एक रूट कैनाल लगता है. वे नर्व टिश्यू, ब्लड वेसल्स टिश्यू और आपके दांत के किसी भी क्षयग्रस्त क्षेत्र को हटा देते हैं. आपका दंत चिकित्सक तब संक्रमण की जाँच करता है और आवश्यकतानुसार दवा को दांतों के जड़ों में लगाता है. अंत में, वे दांत को भरते हैं और उस पर एक क्राउन भी रख सकते हैं.
* प्रारंभिक चरण उपचार
यदि आपका दंत चिकित्सक अपने प्रारंभिक चरण में डेंटल कैवटी का पता लगाता है, तो एक फ्लोराइड उपचार आपके दाँत तामचीनी को रिस्टोर कर सकता है और आगे होने वाले सङन को रोक सकता है.

दांत दर्द के घरेलू उपचार - Dant Dard Ke Gharelu Upchar!

दांत दर्द के घरेलू उपचार - Dant Dard Ke Gharelu Upchar!

सफेद और चमकदार दांत किसे पसंद नहीं होते है. लेकिन ज्यादातर लोग ऐसे भी जो खुलकर हंसना नजरअंदाज करते हैं, क्योंकि वो अपने पीले दांतों को लेकर सहज महसूस नहीं करते हैं. दांत पीले होने के कारण हो सकते है जैसे धीरे-धीरे बुढ़ापे आने पर दांत पीले पड़ जाता है, जेनेटिक फैक्टर, दांतों का ख्याल न रखने की वजह से या अत्यधिक चाय, कॉफी, टोबाको और स्मोकिंग इत्यादि. साथ ही, ज्यादा एंटीबायोटिक्स लेने से, मौसम में परिवर्तन, इन्फेक्शन और असंतुलित मेटाबोलिज्म के कारण भी दांत पीले पड़ने लगते हैं. अक्सर लोग डेंटिस्ट के पास जाकर दांतों का पीलापन दूर करते हैं, लेकिन इस प्रकार के उपाय में थोड़ा समय लेते हैं और महंगे भी होते हैं. अगर आप दांत साफ करना चाहते हैं तो कुछ कारगर घरेलू उपाय भी है जिनका इस्तेमाल आप घर बैठे-बैठे कर सकते हैं. आइए इस लेख के माध्यम से हम दाँत की सफाई की विभिन्न सुझावों के बारे में जानकारी प्राप्त करें ताकि लोगों को इस संबंध में जानकारी मिल सके.

1. नमक का प्रयोग करें-

सबसे पहले कुछ मात्रा में टूथपेस्ट और नमक को एक साथ मिला लें. अब जिस तरह से आप रोज ब्रश करते हैं उसी प्रकार इस मिक्सचर से ब्रश करें. अपने रोजाना के टूथपेस्ट के बजाए नमक और कुछ मात्रा में टूथपेस्ट के मिक्सचर से ब्रश करें. यह उपाय तब तक आजमाएं, जब तक आपको कोई बेहतर परिणाम न दिख जाए. नमक आपके दांतों के लिए बहुत अच्छा होता है, क्योंकि यह आपके दांतों का खोया हुआ मिनरल लौटाता है. इससे न केवल दांत साफ होते हैं बल्कि चमकते भी हैं. आप नमक और बेकिंग सोडा को भी मिलाकर पेस्ट तैयार कर सकते हैं. इसे फिर ऊपर बताए गए उपाय की तरह ही इस्तेमाल करें.

2. तुलसी-
सबसे पहले तुलसी की पत्तियों को सूरज में दो घंटे के लिए सूखा लें. इसके बाद, इन पत्तियों को मिक्सर में डालकर एक पेस्ट तैयार कर लें. फिर इस पेस्ट को टूथपेस्ट पर लगाएं. लगाने के बाद इस मिश्रण से अपने दांतों को ब्रश करें. अपने रोजाना के टूथपेस्ट की जगह पर ऊपर बताये गए मिश्रण का इस्तेमाल करें. इस मिश्रण का प्रभाव आप हफ्ते के अंदर ही देखने लगेंगे. तुलसी दांतों का पीलापन दूर करने में बेहद फायदेमंद होती है. इसके उपयोग से मुंह से आने वाली बदबू भी गायब हो जाती है.

3. केले का छिलका-
केले के छिलके को छोटा टुकड़े में कर लें और फिर उसे अपने दांतों पर लगाकर दो से तीन मिनट तक रब करें. इसके छिलके को प्रभावित क्षेत्र पर अच्छे से लगाएं. इसके लगाने के बाद कुछ मिनट तक दांतों को ब्रश से साफ न करें. इसे फिर रोजाना इस्तेमाल करने वाले टूथपेस्ट से दांतों को ब्रश करें. इस उपाय को पूरे दिन में दो बार दोहराएं. यह तब तक करें जब तक की आपके दांतों का पीलापन चला न जाए. केले के छिलके में कई मिनरल्स होते हैं जैसे मैग्नीशियम, पोटेशियम और मैगनीज. दांतों को सफेद करने के लिए यह एक कारगर उपाय माना जाता है.

4. सेब का सिरका-
सबसे पहले सेब के सिरके को जैतून के तेल के साथ मिला लें. फिर अपने टूथब्रश को इस मिश्रण में कुछ सेकेंड के लिए डुबोकर रखें. अब अपने ब्रश पर रोजाना इस्तेमाल में आने वाला टूथपेस्ट लगाएं और लगाने के बाद दांतों को ब्रश करें. इस उपाय को दांतों को साफ और चमकाने के लिए रोजाना दोहराएं. सेब का सिरका कुछ मात्रा में प्राकृतिक रूप से एसिडिक होता है और यह क्लींजिंग की तरह कार्य करता है. इस सामग्री को दांतों का पीलापन हटाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

5. गाजर के उपयोग से-
गाजर को सबे पहलें छील लें और फिर उसे कुछ टुकड़ों में काट लें. अब टुकड़ों को नींबू के रस में सिप करें और फिर उसे अपने दांतों में रब करें. रब करने के बाद तीन से पांच मिनट तक रस को ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें. अब मुंह को अच्छे से धो लें. इस प्रक्रिया को पूरे दिन में एक बार जरूर दोहराएं. यह तब तक करें जब तक की आपको बेहतर और प्रभावी परिणाम न दिख जाए. गाजर में विटामिन ए होता है जो दांतों की परत के लिए बेहद स्वस्थ होता है. गाजर दांतों के पीलेपन से छुटकारा दिलाने और उन्हें साफ करने में मदद करता है.

6. बेकिंग सोडा-
1 चम्मच बेकिंग सोडा और कुछ मात्रा में टूथपेस्ट लेकर सबसे पहले बेकिंग सोडा को टूथपेस्ट के साथ मिला लें. अब दांतों को इस मिश्रण से साफ कर लें. फिर मुंह को गुनगुने पानी से धो लें. इसका इस्तेमाल कैसे करें – इस उपाय को हफ्ते में दो बार दोहराएं. बेकिंग सोडा में दांत सफेद करने वाले गुण होते हैं जो आपके पीले दांतों की समस्या को ठीक करते हैं. अगर बेकिंग सोडा और टूथपेस्ट के मिक्सचर से आपके दांत सफेद नहीं होते हैं तो आप बेकिंग सोडा को कुछ मात्रा में नींबू के जूस और सफेद सिरके के साथ भी मिला सकते हैं. अगर आप सिर्फ बेकिंग सोडा से भी दांतों को हफ्ते में तीन बार दो मिनट के लिए साफ करते हैं, तब भी आपको एक अच्छा परिणाम देखने को मिलेगा.

7. दांतों का पीलापन नींबू से हटाये-
सबसे पहले नींबू लें और फिर उसका जूस निकाल लें. अब इस जूस को नमक के साथ मिलाकर एक पेस्ट तैयार कर लें. फिर लगाने के बाद नींबू और नमक के मिश्रण को दांतों में रगड़ें. रगड़ने के बाद कुछ मिनट के लिए मिश्रण को दांतों में ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें. फिर दांतों को गर्म पानी से धो लें. इस मिश्रण को हफ्ते में दो बार दोहराएं तब तक जब तक आपको एक अच्छा परिणाम न दिख जाए. नींबू में ब्लीचिंग के गुण होते हैं जो आपके पीले दांतों को सफेद करते हैं. नींबू में साइट्रिक एसिड होता है और अगर आप इसका अधिक इस्तेमाल करते हैं तो इससे दांतों की सफेद परत हट सकती है.

8. अदरक-
सबसे पहले एक अदरक का पेस्ट तैयार कर लें. फिर इस पेस्ट को दांतों में लगाकर रगड़ें. रगड़ने के बाद पेस्ट को दांतों में कुछ मिनट के लिए लगाकर छोड़ दें. फिर अपने मुंह को ठंडे पानी से धो लें. अच्छा परिणाम पाने के लिए आप अदरक के उपाय को हफ्ते में तीन बार दोहरा सकते हैं. इस उपाय का अधिक इस्तेमाल न करें ,क्योंकि इसके तेज प्रभाव से जीभ जल सकती है. अदरक में विटामिन सी होता है. इसके गुण दांत को साफ करने में मदद करते हैं.

9. हाईड्रोजन पेरॉक्ससाइड आजमाएं-
इसे इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले एक ढक्कन हाईड्रोजन पेरॉक्ससाइड को एक ग्लास गुनगुने पानी में मिला दें. अब इस मिक्सचर को मुंह में डालकर कुछ मिनट तक कुल्ला करें. इससे आपके दांत साफ और चमकने लगेंगे. दांतों की देखभाल के लिए अपने रोजाना के रूटीन में हाईड्रोजन पेरॉक्ससाइड को हफ्ते से दस दिन तक उपयोग करें. हाईड्रोजन पेरॉक्ससाइड में ब्लीचिंग के गुण होते हैं और इस तरह यह दांत को साफ रखता है.

10. नीम की मदद से-
नीम के तेल के 3 से 4 बूँद को टूथपेस्ट के साथ मिला लें. अब इस मिश्रण से अपने दांतों को ब्रश करें. अपने रोजाना के पेस्ट का इस्तेमाल करने के बजाए इस मिश्रण से पूरे दिन में दो बार ब्रश करें. नीम को आयुर्वेद में उसके चिकित्सीय इलाज के लिए जाना जाता है. इसके इस्तेमाल से दांत सफेद लगने लगते हैं.

Toothache - 7 Best Homeopathic Remedies For It!

Toothache - 7 Best Homeopathic Remedies For It!

Odontalgia or severe toothache is characterized by extreme pain or inflammation of the tooth and its surrounding areas. The excruciating pain that you might experience may stem as a result of gum infectiontooth decay, infection of the dental pulp, abscess and due to certain other reasons like extraction or filling of the teeth. Another key reason for extreme toothache is the fact that a number of heart problems, such as myocardial infarction and angina tend to affect your dental health negatively.

While some toothaches might occur sporadically, they might pose a danger against your overall well-being in the long run, if the condition is left untreated. Homeopathy can serve as the perfect antidote to your toothache problems and its effects are noted to be significantly higher when it comes down to the question of long-term consumption. Here is a list of homeopathic medications that might prove to be a pain alleviator for your dental complications:

  1. Hepar Sulph and Silicea: Root abscess responds positively, to both Hepar Sulph and Silicea. For fever accompanied with occasional chills due to severe toothache, Hepar Sulph is considered to be the perfect remedy and tends to significantly decrease the level of swelling and pain. On the other hand, if your face swells and there is an incidence of gum inflammation, Silicea must be used to numb the effects of root abscess.
  2. Plantago: Plantago is noted to be the most commonly prescribed medicine for toothaches and for treating sensitivity. The pain extending to the ears from the teeth receives maximum relief due to the effects of Plantago. It might have to be taken internally or applied externally depending on the severity of the toothache and its accompanying conditions.
  3. Staphysagria: Sensitivity is best taken care of by Staphysagria and resolves the problem of worsening of toothache, when any drink or food is consumed. Bleeding gums and excess salivation is also another aspect that is looked after by Staphysagria.
  4. ArnicaTooth extraction and filling may often lead to the consequence of nerve-wrecking pain in the gums and the affected area. For this, Arnica is prescribed to assuage the nerve pain and must be taken in along with Hypericum, another homeopathy medicine, for best results.
  5. Merc Sol: Problems of halitosis and excessive salivation that tend to occur simultaneously with toothaches can be solved by a dosage of Merc Sol. Bleeding gums, looseness of teeth and sensitivity are all taken care of by the same medication.
  6. Hecla Lava: For jaw swells along with toothache, you must always opt for Hecla Lava. The effect is instantaneous and relieves both swelling and pain.
  7. Chamomilla: Chamomilla serves as the best remedial homeopathic medicine for easing heat sensitivity that is likely to worsen the existing toothache. Drinks and food, either hot or cold, can then be consumed easily because of the numbing effect of this medicine.

I feel pain in my teeth cum and sometimes it is bleeding. This problem started when started using colgate active salt paste after that I changed to dabar red paste. Now it is ok but sometimes it feels pain there. Please help me to get rid of it. Is that because of vitamin deficiency. Provide some home remedies to solve this.

I feel pain in my teeth cum and sometimes it is bleeding. This problem started when started using colgate active salt...
Get scaling polishing done by a dentist than brush twice daily especially at night massage gums it hardly has to do any thing with brand of tooth paste it's due to the way you brush.
Submit FeedbackFeedback

My teeth are panning so badly. Due to that pain, my right head is paining. Pain is unbearable. Please let me know any medicine. which helps me for 1 day. What is the cost of rct for 1 tooth?

My teeth are panning so badly. Due to that pain, my right head is paining. Pain is unbearable. Please let me know any...
Hello Lybrate-User, If there is a cavity in the teeth then taking just pain killer medicine will not help. Take proper check up and take treatment for the cause of pain. Till then use plantago q.
Submit FeedbackFeedback

Root Canal Treatment - Know The Procedure!

Root Canal Treatment - Know The Procedure!

A root canal is a treatment to repair and save a badly damaged or infected tooth. The procedure involves removing the damaged area of the tooth (the pulp), cleaning and disinfecting it and then filling and sealing it. The common causes affecting the pulp are a cracked tooth, a deep cavity, repeated dental treatment to the tooth or trauma. The term "root canal" comes from cleaning of the canals inside the tooth's root.

Millions of teeth are treated and saved each year with root canal, or endodontic, treatment. Learn more about root canal treatment and how it can relieve your tooth pain and save your smile.

The Procedure-

  1. A root canal procedure begins with an X-ray to determine the shape of the root canals and whether the infection has spread to the adjoining bone.

  2. Local anesthesia is then administered to numb the affected area.

  3. A rubber sheet is then placed around the tooth to keep the area and prevent it from the saliva.

  4. A hole is then drilled in the affected tooth, following which the decayed pulp and nerve tissues are removed.

  5. The removal is done by using root canal files which are inserted into the hole and then used to scrape and scrub the insides of the tooth.

  6. After the scraping, water is used to clean and flush out the debris.

  7. After the tooth is cleaned, it is sealed after administering medications to prevent infection.

  8. The sealing process involves filling the inner portion of the teeth by a rubber based compound and a sealer paste.

Modern endodontic treatment is very similar to having a routine filling and usually can be completed in one or two appointments, depending on the condition of your tooth and your personal circumstances. You can expect a comfortable experience during and after your appointment.

Saving the natural tooth with root canal treatment has many advantages:

  • Efficient chewing

  • Normal biting force and sensation

  • Natural appearance

  • Protects other teeth from excessive wear or strain

Post-obturation:

  1. Once the treatment is done, the tooth may become sensitive due to inflammation of the tissues for the first few days.

  2. This pain and inflammation can be limited by pain medications such as ibuprofen.

  3. It is advised to avoid any chewing by the affected teeth as it can slow down the repair process. You can brush and floss your teeth regularly.

I am suffering from tooth ache. My new teeth is coming. Should I take antibiotic tablet or consult to a dentist.

I am suffering from tooth ache. My new teeth is coming. Should I take antibiotic tablet or consult to a dentist.
Don't take antibiotics. You can take painkiller or you can consult the dentist. Take homoeopathic medicine fer phos for pain.
Submit FeedbackFeedback

Am 43 yes old suddenly am getting gum pain and infection near wisdom tooth and am traveling, pls suggest tooth pain relief medicine.

Am 43 yes old suddenly am getting gum pain and infection near wisdom tooth and am traveling, pls suggest tooth pain r...
You can do warm saline water gargles twice a day for 3 days. And for pain you can take painkiller available at any medical store. But you should visit a dentist soon as painkiller will provide temporary relief.
Submit FeedbackFeedback

From last week i’m facing severe tooth pain for a particular teeth. In recent times i’m having issues of food struck in between teeth and gums. Please advise.

From last week i’m facing severe tooth pain for a particular teeth. In recent times i’m having issues of food struck ...
Take proper scaling to clean the deposit. Also take homoeopathic treatment to cure gingivitis. And you may need to take proper check up to see if there is any cavity. You can consult me at Lybrate for homoeopathic treatment. Till then take heclalva 30.
Submit FeedbackFeedback

Tooth Pain - How To Get Rid Of It?

Tooth Pain - How To Get Rid Of It?

Those who have experienced it would vouch for the fact that toothache is one of the worst pains. There could be times when the attack happens out of nowhere and you are crying for relief.

The tooth has 2 parts - the visible part called the crown and the invisible part called the root which is embedded in the jaw bone and covered by the gums.  

Both the crown and the root have 3 layers from inside out. The crown has enamel, dentin, and pulp. The enamel is the mineralized part of the tooth, dentin has fine sensory dentinal tubules, and the pulp receives nerve and blood supply to the tooth through a small orifice at the end of the tooth called the apex. On the root surface, instead of enamel, there is a softer substance called cementum.  The dentin and the pulp continue through the tooth but are thinner in the root portion of the tooth.

The mouth has the largest amount of bacteria in the body. These act on the food deposits on the tooth and produce acid which leads to the breakdown of the enamel. The only symptom when enamel breakdown happens is food lodgment, and it continues until treatment ensues. Once the breakdown reaches the dentin, sensitivity sets in, and most people go for treatment then. If not, the next layer is the pulp, when there is severe pain. This acute pulpitis causes pain in spurts and can be unbearable.

On the root surface, if there is periodontal disease and the gum line goes down, then cementum gets worn off (far more easily than enamel) and decay reaches the dentin and pulp (again faster than in the crown).

Whatever the case, the treatment would be the same:

  • Dental examination, clinical testing, and x-rays would be diagnostic. Tapping the tooth would reproduce the same pain and that is indicative of acute pulpitis.
  • Antibiotics and pain killers would be given to control the pain.
  • Once the infection subsides, root canal therapy is initiated.  Using the decayed portion to gain access to the root, thin instruments called reamers and files are used to clean out the pulp space completely. They are then shaped to accommodate an inert substance called gutta percha which ensures the infection does not seep into the tooth again.
  • With RCT, the tooth is weakened, and therefore a crown needs to be placed. This could either be a ceramic crown or a full metal crown based on economic and aesthetic reasons.

The best way to avoid this is regular visits to a dentist so that decay is identified in the early stages and treated with the minimal cost and maximum natural tooth preservation.

3207 people found this helpful
Icon

Book appointment with top doctors for Toothache treatment

View fees, clinic timings and reviews