Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Thyroid Problems Treatment Health Feed

Efficient Treatment For Thyroid Dysfunction!

Dr.Deepak Sharma 90% (171ratings)
MBBS, DNB (General Medicine)
Cardiologist, Jaipur
Efficient Treatment For Thyroid Dysfunction!

Your thyroid is a small, butterfly-shaped gland situated at the base of the front of your neck, just below your Adam's apple. Hormones produced by the thyroid gland do everything from maintaining your heart rate to regulating your body temperature to controlling your body weight. 

Millions of people worldwide suffer from thyroid dysfunction and several don't know about it. This is primarily because people don't tend to link the common symptoms first with thyroid disease. Some people suffer from mood swings, trouble with memory, weight gain or fatigue -all of which they look upon individually as a problem and hence not piecing together the puzzle of their real medical condition. Here are a few insights that'll help you cope:

How does the thyroid gland work?
About 85% of the hormone produced by our thyroid gland is T4, which is an inactive form of the hormone. After T4 is made, a small amount of it is converted into T3, which is the active form of thyroid hormone. T3 is then converted to free T3 or reverse T3. It is the free T3 that forms the base of thyroid functions. 

What is hypothyroidism?
Hypothyroidism, or under-active thyroid, accounts for 90% of all thyroid imbalances. The signs and symptoms of hypothyroidism develop slowly, often over a number of years which is why it is often missed from regular treatment charts. For instance, fatigue and weight gain are often attributed to stress, lifestyle changes and natural aging process. But as time goes by, some of the symptoms show a higher level of manifestation like muscle weakness, elevated blood cholesterol, thinning hair, puffy face, hoarse voice and slowed heart rate. 

If left untreated, hypothyroidism may lead to goiter (enlarged thyroid), increased memory problems, low blood pressure, decreased breathing and in extreme cases, unresponsiveness and coma

This disease may also occur in newborns, infants and children. Symptoms include excessive sleepiness, poor muscle tone and constipation. It is important to diagnose and treat it early as in severe cases it may lead to mental and/or physical retardation.

In children and teens, it can result in stunted growth, and delayed puberty.

What is hyperthyroidism?
It's the opposite of hypothyroidism, which means, in this case, the thyroid overproduces hormones. Common symptoms include lack of sleep, weakness, irregular heartbeat, elevated blood pressure and hand tremors. While genetics is partially responsible for it, it is also triggered by an autoimmune disorder. Hyperthyroidism can be treated with medication, radioactive iodine (not the first or best choice as it harms white cells too) and surgery. Keeping a focus on your calcium and sodium intake is crucial to curbing the disorder.

Treatment: 
Conventional treatments rely mainly on drugs and surgery. Alternative treatments involve diet and lifestyle changes. Taking multi-vitamins, going gluten-free, getting a good night sleep, and reducing stress is all said to help heal your thyroid gradually.

 

2686 people found this helpful

Thyroid - How Does Homeopathy Help?

Dr.Shreyance Parakh 92% (280ratings)
MD (Hom) Medicine, BHMS (Bachelor of Homeopathic Medicine and Surgery (BHMS)), CCAH, MCAH
Homeopathy Doctor, Indore
Thyroid - How Does Homeopathy Help?

One of the fastest growing disorders in modern times is the malfunction of the Thyroid. The statistics show that the Thyroid condition is the most under-diagnosed health problem. There are millions of people suffering from Thyroid problems, but only a few out of those are diagnosed and treated, see positive results using Thyroid medications.

Often the Thyroid levels appear normal with lab, yet the individuals struggle with the symptoms of Thyroid problem. The Thyroid is one of several glands in the endocrine system, located in the front of the neck. The glands of the endocrine system control many of the body’s functions through chemical substances called hormones.

The hormones produced by the Thyroid gland regulate how the body cells use energy and how fast the body’s metabolism work. This gland also affects the rate of growth of the hair and bones, the body over weight, temperature and energy level as well as the function of the heart and digestive system.

Homeopathy For Thyroid:

In homeopathy, there is no general treatment and no specific remedies for any disease. Rather, treatment is individualized. This means that the presentation of a disease in each patient is considered unique, and the homeopath prescribes remedies after an intimate consultation with each patient.

During the homeopathy consultation, the homeopath considers more than just the symptoms of the disease. He also considers the disposition and constitution of the patient. This means that the homeopath approaches treatment by weighing the physical, mental and emotional states of the patient as well as the symptoms of the disease. This approach leads to the prescription of a unique set of remedies for each patient. Therefore, two patients suffering from the same disease may receive two different sets of remedies from the same homeopath. 

The second principle of homeopathy is the use of poisons to treat diseases. Homeopathy employs watered down poisons to treat disorders. A similar principle is used in the production of vaccines in conventional medicine. If a natural compound may cause certain symptoms and signs in high doses, homeopaths believe very low doses of the dilute solution of the compound can also relieve the same symptoms and signs.

Despite the apparent confusion and the seeming lack of coherence, homeopathy has been largely successful and in some cases, its practices and remedies can be backed up with scientific evidence. Even though homeopathy does not provide specific remedies for any disease, it is still possible to draw up a list of commonly prescribed homeopathic remedies for any disease.

5683 people found this helpful

थायराइड क्या है - Thyroid Kya Hai?

Dr.Sanjeev Kumar Singh 91% (193ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurvedic Doctor, Lakhimpur Kheri
थायराइड क्या है - Thyroid Kya Hai?

हाइपरथायरायडिज्म हमारे शरीर की एक ऐसी स्थिति है जिसमें हमारे बॉडी में मौजूद थायरॉयड ग्रंथि थायरोक्सिन हार्मोन का उत्पादन आवश्यकता से अधिक करने लगती है. थायरॉयड एक छोटी सी तितली के आकार की ग्रंथि होती है जो आपकी गर्दन के आगे वाले हिस्से में स्थित होती है. यह ग्रंथि टेट्रायोडोथायरोनिन (टी4) और ट्रीओडोथायरोनिन (टी3) बनाती है, जो दो प्राइमरी हार्मोन हैं. यह हार्मोन आपकी सेल्स को एनर्जी इस्तेमाल करने में कंट्रोल करते हैं. थायरॉयड ग्रंथि इन हार्मोनों के रिलीज के माध्यम से आपके मेटाबोलिक को कंट्रोल करती है. थायरॉयड में तब वृद्धि होता है जब थायरॉयड ग्रंथि टी4, टी3 या दोनों हार्मोन का उत्पादन ज्यादा होती है. हाइपरथायरायडिज्म आपके शरीर की मेटाबोलिक में तेजी ला सकता है, जिससे अचानक वजन घटना, तेज़ या अनियमित हार्ट रेट, पसीना आना और घबराहट या इर्रिटेशन हो सकते हैं. हाइपरथायरायडिज्म का सबसे सामान्य कारण ग्रेव्स डिजीज, पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक सामान्य है. आइए इस लेख के माध्यम से हम थायराइड के बारे में विस्तारपूर्वक जानें ताकि इस विषय में हमारी जानकारी बढ़ सके.

थायराइड बढ़ने के कारण-
थायराइड कई कारणों से बढ़ सकता है. ग्रेव्स डिजीज, हाइपरथायरायडिज्म का सबसे सामान्य कारण है. यह एंटी बॉडीज को थायरॉयड को बहुत ज्यादा हार्मोन बनाने के लिए उत्तेजित करता है. ग्रेव्स डिजीज पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा सामान्य होती है. यह एक जेनेटिक बीमारी है, यदि आपके रिश्तेदारों को यह बीमारी है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें.

हाइपरथायरायडिज्म के अन्य कारण हैं -
1. अधिक आयोडीन (टी4 और टी 3 में एक मेजर एलेमेंट्स).
2. थायरायडाइटिस या थायरॉयड की सूजन, जो टी4 और टी3 का ग्लैंड से बाहर निकलने का कारण बनती है.
3. टेस्टेस के फोड़े.
4. थायराइड या पिट्यूटरी ग्लैंड के छोटे फोड़े.
5. डाइट या मेडिसिन के माध्यम से बड़ी मात्रा में ट्रीओडोथायरोनिन (टी 3)का सेवन करना.
6. थायरॉयड सिस्ट का ज्यादा कार्य करना (जहरीला एडिनोमा, विषाक्त बहुपक्षीय गोइटर, प्लम्मर रोग). हाइपरथायरायडिज्म का यह रूप तब होता है जब आपके थायरॉयड के एक या अधिक एडेनोमा बहुत ज्यादा टी4 का उत्पादन करते हैं.

थायराइड कम होने के कारण-
हाइपोथायरायडिज्म एक बहुत ही आम स्थिति है. इसकी कुल आबादी में लगभग 3% से 5% तक की जनसंख्या में हाइपोथायरायडिज्म के कई प्रकार देखे जाते हैं. हाइपोथायरायडिज्म पुरूषों से ज्याादा महिलाओं में प्रचलित है और इसका जोखिम उनकी ऐज के साथ बढ़ता रहता है. एडल्ट में होने वाले हाइपोथायरायडिज्म के कुछ सामान्य कारण निम्नलिखित हैं:

1. हाशिमोटो थायरोडिटिस-
हाशिमोटो थायरोडिटिस सामान्य रूप से तब होता है जब थायरॉयड ग्रंथि बढ़ जाती है और थायरॉयड हार्मोन बनाने की क्षमता को कम कर देती है. हाशिमोटो थायरोडिटिस एक ऑटोइम्यून डिजीज है, जिसमें बॉडी की इम्यून सिस्टम अनउपयुक्त तरीके से थायरॉइड टिश्यू पर अटैक करती है. अंशिक रूप से इस स्थिति को जेनेटिक्स का आधार माना जाता है.

2. लिम्फोसाइटिक थायरोडिटिस- लिम्फोसाइटिक थायरोडिटिस, थायरॉयड ग्लैंड की सूजन को संकेतित करता है. जब सूजन एक विशेष प्रकार के वाइट ब्लड के कारण होती है तो उसको लिम्फोसाइटिक के नाम से जाना जाता है. इस स्थिति को लिम्फोसाइटिक थायरोडिटिस भी कहा जाता है.

3. थायरॉयड खंडन- जिन रोगियों का हाइपोथायरॉइड स्थिति का ट्रीटमेंट हो चुका है और उन्होनें रेडियोएक्टिव आयोडीन थैरेपी ली है और उपचार के बाद उनके थायरॉइड टिश्यू ने काम करना कम कर दिया है या बंद कर दिया है तो इस तरह कि संभावनाएं इस बात पर निर्भर करती है कि रोगी ने आयोडीन कि कितनी मात्रा को प्राप्त किया था या मरीज कि थायरॉइड ग्रंथि का साइज़ और उसकी गतिविधियां कैसी थी. रेडियोएक्टिव आयोडीन ट्रीटमेंट के 6 महीने के बाद भी अगर थायरॉयड ग्रंथि कोई जरुरी गतिविधि नहीं दे रही है तो आमतौर पर यह मान लिया जाता है कि थायरॉयड ग्रंथि अब सही ढंग से काम नहीं कर पा रही है. इसका परिणाम हाइपोथायरायडिज्म ही निकलता है. ठीक उसी प्रकार सर्जरी की मदद से थायरॉइड ग्रंथि को हाइपोथायरायडिज्म का अनुसरण करते हुऐ हटा दिया जाता है.

4. पिट्यूटरी या हाइपोथेलैमस डिजीज- जब किसी कारण से पिट्यूटरी ग्रंथि या हाइपोथैलेमस, थायरॉयड को संकेत देने में सक्षम नहीं होते हैं और थायरॉयड हार्मोन को उत्पादित करने का निर्देश दे देते हैं. इसके परिणास्वरूप टी4 और टी3 का लेवल कम होने लगता है भले ही थायरॉयड ग्रंथि सामान्य हो. अगर यह प्रभाव पिट्यूटरी डिजीज के कारण होता है तो इस स्थिति को 'सेकेंडरी हाइपोथायरायडिज्म' कहा जाता है और अगर यही प्रभाव हाइपोथैलेमस डिजीज के कारण हो तो इसे टेर्टिअरी हाइपोथायरायडिज्म कहा जाता है.

5. पिट्यूटरी जख्म - जब दिमाग की सर्जरी या किसी कारण से उस हिस्से में ब्लड की आपूर्ती में कमी हो जाए तो उसका परिणाम पिट्यूटरी जख्म के रूप में होता है. पिट्यूटरी जख्म के इस मामले में टीएसएच लेवल जो पिट्यूटरी ग्लैंड के माध्यम से जारी किया जाता है वह कम हो जाता है और टीएसएच में ब्लड लेवल भी काफी कम हो जाता है. इसके परिणामस्वरूप हाइपोथायरायडिज्म हो जाता है, क्योंकि थायरॉयड ग्लैंड अब पिट्यूटरी टीएसएच द्वारा उत्तेजित नहीं की जाती है.

6. दवाएं- एक ऑवर-एक्टिव थॉयरॉयड के ट्रीटमेंट के लिए प्रयोग की जाने वाली दवाएं ही वास्तव में 'हाइपोथायरायडिज्म' का कारण बनती हैं. ये दवाइयां जिनमें मेथिमाजॉल या टैपाजॉल और प्रोपिलथ्योरॉसिल शामिल हैं. साइकिएट्रिक दवाइयां लिथियम को थायरॉयड के कार्य को बदलने के लिए भी जाना जाता है जो 'हाइपोथायरायडिज्म' का कारण बनते हैं. विशेषतौर पर कुछ दवाओं में अधिक मात्रा में आयोडीन होता है, जिनमें ऐमियोडेरोन, पोटाशियम आयोडाइड और ल्यूगो सोल्यूशन शामिल हैं, जिनके कारण से थायरॉयड के फंक्शन में बदलाव आ सकते हैं. जिसका परिणाम ब्लड में थायरॉयड हार्मोन का लेवल कम होने लगता है.

7. आयोडीन में अत्यधिक कमी- दुनिया के उन हिस्सों में जहां डाइट में आयोडीन की कमी देखि गयी है वहां पर 5% से 15% तक की आबादी को गंभीर आयोडीन की कमी वाले रोग देखने को मिलता है. जैसे ज़ैरे, इक्वाडोर, भारत, और चिली आदि शामिल हैं. आयोडीन में गंभीर कमी के रोग दूरस्थ पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों में भी देखने को मिल जाते हैं, जैसे- एंडीज और हिमालयी क्षेत्रो में. इस कमी को दूर करने के लिए नमक में और रोटी में आयोडीन की वृद्धि कर दी जाती है. अमेरीका जैसे देशों में आयोडीन की कमी बहुत ही कम देखी जाती है.

7 people found this helpful

Thyroid Disorder - Have Homeopathy At Your Rescue!

Dr.Manish Satsangi 90% (127ratings)
BHMS, BSc
Homeopathy Doctor, Lucknow
Thyroid Disorder - Have Homeopathy At Your Rescue!
Grave s disease, a form of hyperthyroidism, will cause you to eat more than usual, but still, lose weight. True or False? Take this quiz to find out.
Start Quiz
97people took this quiz

Thyroid Disorders - What Should You Know About Them?

Dr.Sangeetha Sirigiri 89% (15ratings)
MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, MD - General Medicine, DM - Endocrinology
Endocrinologist, Hyderabad
Thyroid Disorders - What Should You Know About Them?
Hyperthyroidism is more common than hypothyroidism. True or False? Take this quiz to find out.
Start Quiz
490people took this quiz

Thyroid - How Can Homeopathy Be Of Help?

Dr.Mounika Kasam 89% (85ratings)
MD - Homeopathy
Homeopathy Doctor, Hyderabad
Thyroid - How Can Homeopathy Be Of Help?
If you have hyperthyroidism, you may feel unusual cravings for sweet foods. True or False? Take this quiz to find out.
Start Quiz
149people took this quiz

Thyroid - How Homeopathy Can Help Manage It?

MD - Homeopath, BHMS
Homeopathy Doctor, Pune
Thyroid - How Homeopathy Can Help Manage It?
It is not necessary to avoid all foods that are high in goitrogens just because you have thyroid. True or false? Take this quiz to find out.
Start Quiz
190people took this quiz

Thyroid Problems - How Does Homeopathy Help?

BHMS
Homeopathy Doctor, Bangalore
Thyroid Problems - How Does Homeopathy Help?
If you have hyperthyroidism, you may feel unusual cravings for sweet foods. True or False? Take this quiz to find out.
Start Quiz
338people took this quiz

Doctor my T3 is 1.06, T4 is 8.81 and my TSH is 3.350 and my heart beat sound loud some times beat gets irugrlar and I am taking Novastat CV 10 from last 1 week but my heart is not well kindly suggest me for further treatment.

Dr.Pramod Kumar Sharma 93% (8274ratings)
MBBS, MD
Endocrinologist, Delhi
Get a Holter monitoring test done which records you each every heart beat for continuous 24 hours. But consult a Cardiologist preferably.
4 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Sir I'm suffering from thyroid pain problem I don't have idea. Take paneer with chuhara after some time I have a problem in my mouth internal something so what I take a placida medicine again after 2-hour.

Dr.Pramod Kumar Sharma 93% (8274ratings)
MBBS, MD
Endocrinologist, Delhi
You should avoid those things which create problem to you. It may be allergic reaction of body to those substances.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback
Icon

Book appointment with top doctors for Thyroid Problems Treatment treatment

View fees, clinic timings and reviews