Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Staying Healthy Tips

Aging - Can Ayurveda Reverse It?

Dr. Ravish Kamal 87% (10 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Delhi
Aging - Can Ayurveda Reverse It?

Ayurveda is an age-old life science that is known to work medical marvels. The best part about this field of medicine is that it enters every day with remedies that touch the root cause of the issue before curing the same. Aging is an aspect that plagues one and all with its various signs hitting the skin, senses, body and hair. So how can you use Ayurveda to turn back the aging clock of your system? Read on to find out!

- Herbs and Vayasthapana: Vayasthapana or the anti-aging effect is a herbal formula with herbs like Gotu Kola which is known for its anti-aging properties in the field of Ayuveda. Ashwagandha is also used in this concoction. Other herbs like Amla, ginger, turmeric and Galanga are also used to create this anti-aging effect. The oil of cloves can also be used on the massage table for anti-aging. 

- Radiance and Varnya: Varnya is the Ayurvedic effect of maintaining or bringing out the glow or radiance of the skin. The Varnya herbs include flame of forest, silk cotton tree, rose petals and Indian redwood. This concoction can help you retain a youthful glow on your skin, which will also keep fine lines at bay.

- Deep Healing and Branropana: With the help of Gotu Kola and other sensitive herbs, one can heal the body deeply and also enhance (Twacha). The herbs used here can also help in strengthening one's digestive system so that there is no Ama or toxin build up. The other herbs one can use here are turmeric, rose petals and cotton silk tree. 

- Yoga: Yoga is a known method of keeping the body and senses vital and well functioning. There are a number of Yogic postures and poses that can help in the anti-aging process. These include equal standing for better balance, the tree pose, the squat pose, the downward dog pose, the plank pose for core strength and the seated twist. 

- Diet and Lifestyle: Ayurveda is a science that touches every day in order to effectively heal and prevent. So, it is important to follow the Ayurvedic tenets of following a proper balance of eating, resting and activity even as you ingest regular meals at a set time with all the food groups in perfect balance. 

Ayurveda can be used in order to take good care of the body even if you are not suffering from any ailments. The herbs can be ingested on a daily basis as a seasoning for your food while Yoga can be practised routinely. This will help you in delaying the aging process.

Vitamin C - Know Sources Of It!

Dt. Mrs. Maithili Kelkar 92% (10 ratings)
B.Sc.(Hons)HSc in Food an Nutrition, Postgraduate Clinical Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
Vitamin C - Know Sources Of It!

Vitamin C is one of the most important nutrients which play an absolutely pivotal role in protecting your body from a number of diseases and disorders, such as flu and colds. Additionally, it helps in boosting the body's calcium-synthesis abilities, in the rebuilding of damaged blood vessels and bones as well as tissue repair and boosting of overall immunity of the body. It is an essential part of the diet and should not be overlooked in any case.  

Some of the major fruits which are a rich source of Vitamin C are as follows:

1. Citrus Fruits: Citrus fruits, including limes, lemons, tangerines, oranges, grapefruits etc. are one of the most popular sources of Vitamin C in the world, and are laden with a high number of good properties.

2. Strawberries: One of the healthiest and tastiest berries, strawberries are not only rich in vitamin C, but they are also rich in fibre and antioxidants as well. They help in protecting the heart from excessive cholesterol and in reducing levels of oxidative stress.

3. Papayas: One of the most excellent sources of Vitamin C, papayas have been known to supply almost 100% of your daily Vitamin C needs in a single serving. Additionally, they are also a great source of Vitamin A.

4. Kiwis: Research has found that levels of Vitamin C found in kiwis are substantially higher than oranges; something which makes this New Zealand native one of the most lucrative Vitamin C options on the planet. Additionally, kiwis have also been found to improve the functioning of the respiratory tract in children as well as adults and are also rich in flavonoids and minerals like potassium.

5. Guavas: One guava contains over 250mg of Vitamin C - which is approximate to twice the amount of what your body requires daily. Apart from being a storehouse of Vitamin C, it is also rich in folic acid, dietary fibre and minerals like manganese and potassium.

6. Melons: Melons such as cantaloupe not only supply a high quantity of Vitamin C, they are also rich in potassium and vitamin A. Other melons like watermelons also provide you with almost 112% of your regular Vitamin C requirements.

7. Tomatoes: Tomatoes, irrespective of whether they are bright-red or sun-dried, provide almost 170% of your daily Vitamin C requirements in only one serving.
 

Parenting - How To Be Good At It?

Ms. Ekta Singh 90% (392 ratings)
MA - Psychology, M-Phill Psychology, B.Ed, C.I.G, ECCE, B.A. Psychology
Psychologist, Ghaziabad
Parenting - How To Be Good At It?

As a parent, we all love our children deeply. And most of us will agree that these days parenting is very demanding and exhausting instead of pleasurable and joyous process. What has changed? It is not that children are any different. The difference is in the environment around them with stronger social influences, and this also affects the way we parent. In today's more democratic and egalitarian world; 'Do as I say and not as I do' style of parenting does not work. But, 'I will do as I see you doing' phrase from kids defines our parent-child relationship.

With the change in social environment and influence, our strategies for correcting their behaviour and impart discipline has to undergo adaptation! When there are so many confusing and conflicting signals reach to our kids from their environment, whether we like it or not, we are still their role models. How positive parenting style will help? The core principle of positive parenting is to accept your child as an individual. We are in a democratic society and family is a small yet important part of society. Democracy does not mean allowing disrespectful and irresponsible behaviour; rather to effectively help kids change their behaviour and create a harmonious and cooperative relationship with them. It also means that we as a parent need to learn to think, act and react in a different way.

Through, positive parenting, you will learn respectful disciplining methods, which would work better than demanding compliance. Through these principles and tips, you will get your child to listen without screaming, nagging, reminding or evoking rebellious behaviour. More importantly, this is all about building stronger relationship bond with your children and nurture them through early childhood to teenage years as they become independent, responsible, capable, kind, happy and successful young adults.

Tips to get you started:

1. Everyone deserves to be treated with respect and dignity, including children.

2. When your kid misbehaves instead of shouting or hitting, control your anger and respond in a calm and respectful way. Calmer but firmer tone and lower voice, yet not giving in to their repeated demand, is much more effective as a discipline tool compare to nagging.

3. Understandable that you have a lot on your plate, such as work, managing and keeping the home in order, managing meals and other outside responsibilities, kids sports or extracurricular activities, family obligations and so on. It is easy to get lost in all these 'have to do' activities. Parenting shouldn't be just one more task to deal with. Reconnecting with your parenting goals and aspirations periodically will help take the stress out of it and add fun into it. Spend some time daily (10 minutes will do as well!) to just listen and enjoy your child (without correcting them or giving them a suggestion to improve!).

4. Let your love for them be the driving force. Shift your internal conversations from 'have to' to 'want to'. As you do enormous things for your child each day, think about how you are supporting their ambitions. How you are helping them become independent and strong. How you are nurturing qualities like compassion and deep listening by extending yourself.

5. Give promises and keep them. As your children grow they need much more than your words to trust and rely on you. Keeping your promises, letting them know if you need to change the plan, taking their opinion in an appropriate matter will go a long way.

6. Seek to understand and do not impose yourself on your child. Especially when they are in their teenage, as a parent you have a lot of worries, you are afraid of them making mistakes and of course, you want to protect them from vices. Listening to them while keeping your focus on genuinely understanding them is the only way to go, when they know you understand them and they can trust you, the street between both of you turns two-way street! They will be open to your wisdom and suggestion when they are at the crossroad.

7. Last but not least, 'be a role model'. Don't preach. If they see you disrespecting others, they will not respect you. If they see you hooked on your smartphone; that is their license to keep theirs in front of their eyes 24/7. If you are hooked in front of the TV till late at night and haven't picked up a book in the last 6 months. Advice about reading is going to fall on dumb ears. In short, be the change you want to see in your children.

8. Have family nights at least once in a week, play cards, board games or go for a walk together. Talk and listen. Just be there and listen without judgement and criticism, without thinking about how to correct them. Just enjoy each other's company and see how they are changing their opinion about you. Positive parenting doesn't mean you will never have problems in your family. You will? if you are alive and growing family. Positive parenting style will open up the avenues to keep communication alive; it will open your children to your influence. Isn't it something that we all wish for!!

भांग कैसे बनती है - Bhang Kaise Banti Hai!

Dr. Sanjeev Kumar Singh 90% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
भांग कैसे बनती है  - Bhang Kaise Banti Hai!

होली का पर्व जैसे-जैसे नजदीक आता है वैसे ही हमारे मन में रंगों के साथ साथ भांग का घोटा और भांग से बने पकवान का स्वाद लेने के लिए मन में लालच आ जाता है. भांग हमारे देश में खास कर उत्तर भारत में काफी लोकप्रिय है. भांग के बिना होली मानो अधूरी सी लगती है. इसका उपयोग आम तौर पर खाने में, भांग की गोली और भांग की ठंडाई के रूप में किया जाता है. भांग का घोटा पी कर होली में नाचने का मजा ही कुछ और होता है . तो आज ही लेख में हम भांग कैसे बनती है, भांग का घोटा क्या होता है और भांग का नशा उतरने की दवा के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देने वाले हैं तो आइए जानते हैं कि भांग कैसे बनती है और भांग का नशा उतारने की दवा क्या है साथ ही साथ भांग का घोटा बनाने की विधि क्या है?

भांग का घोटा क्या है-
भांग एक आयुर्वेदिक औषधि के रूप में जाने वाली जड़ी बूटी है जिसका इस्तेमाल सदियों से किया जा रहा है. भांग के पेड़ की लम्बाई 3 से 7 फीट की होती है. भांग आमतौर पर भांग के पेड़ की पत्तियों से लिया जाता है. इसका उपयोग विभिन्न प्रकार से की जाती है जैसे भांग की ठंडाई, भांग का घोटा और खाने में. भांग कैसे बनती है और ये कितने तरीके से इस्तेमाल किया जाता है इसके बारे में निम्न विस्तार से बताया गया है.

भांग का घोटा बनाने के विधि:-
भांग को घोटा बनाने के लिए हरे पत्तियों के पाउडर को दही और मट्ठे के साथ मिक्स कर के तैयार की जाती है. इसका सही तरह से मिश्रण करने के लिए हाथों से अच्छे तरह से मथा जाता है. यह बेहद स्वादिष्ट और ताज़ा होता है. इसके साथ ही कहीं-कहीं भांग के पकौड़े भी खाए जाते है.

भांग का घोटा के अलावा यह गोली और ठंडाई के रूप में भी इस्तेमाल की जाती है. भांग की गोलियां होली के दौरान व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाती है. भांग की गोलियां भांग को पानी के साथ मिक्स कर के बनाया जाता है. हालाँकि, इसके खाने के कई साइड इफेक्ट्स भी है. इसलिए इसका सेवन सीमित मात्रा में और प्रतिदिन नहीं करना चाहिए. भारत में यह जगहों पर इसे बैन कर दिया गया है. 

भांग में शामिल होने वाली सामग्री- 

  • आधा लीटर पानी 
  • आधा कप चीनी 
  • एक कप दूध 
  • एक चमच बादाम
  • 10 से 15 भांग की गोलियां 
  • आधा चम्मच इलायची 

होली के दौरान भांग का अलग ही महत्व होता है लेकिन यदि भांग का सेवन सीमित मात्रा से ज्यादा कर लिया जाए, तो भांग का नशा बहुत नुकसानदायक साबित हो सकता है. तो आइए जानते है कि भांग का नशा कैसे उतारा जाता है और भांग का नशा उतारने की दवा क्या है.
1. भांग का नशा उतारने के लिए खट्टे पदार्थो का सेवन करें
यदि भांगा का नशा ज्यादा हो जाए तो जितना हो सकता है खट्टे पदार्थों का सेवन करें जैसे की नीम्बू का रस, दही, छाछ, इमली आदि. इससे नशा जल्दी उतर जाता है. 

2. भांग का नशा उतारने  के लिए घी का सेवन भी बहुत कारगर सिद्ध हो सकता है. यह नशे को बहुत हद्द तक कम कर सकती है. 

3. भांग का नशे उतारने के लिए भुने हुए चने या नारंगी का सेवन भी कर सकते है.

4. नारियल पानी भी एक बेहतर विकल्प हो सकता है. यह आपके बॉडी में मीनरल और इलेक्ट्रोलाइट्स की मात्रा बढ़ाता है जिससे भांग का प्रभाव जल्दी कम हो जाता है और नशा उतर जाता है.

5. यदि आप भांग के नशे से बेहोश हो गए तो सरसों के तेल को थोड़ा गुनगुना कर, कान में डालने से बेहोशी दूर हो जाती है और व्यक्ति होश में आ जाता है.

6. अदरक भी भांग का नशा उतारने में सहायक हो सकती है.

1 person found this helpful

भांग पीने के साइड इफेक्ट - Bhang Pine Ke Side Effect!

Dr. Sanjeev Kumar Singh 90% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
भांग पीने के साइड इफेक्ट - Bhang Pine Ke Side Effect!

वैसे तो भांग एक औषधि है, लेकिन इसका गलत उपयोग काफी बढ़ी मात्रा में किया जाता रहा है. ऐसे लोगों की संख्या काफी बड़ी है जो भांग का सेवन ज्यादा मात्रा में नशा करने के लिए करते है. जिसके चलते उन्हें ज्यादा भांग पीने के साइड इफेक्ट का सामना करना पड़ता है. जबकि भारत के परिपेक्ष की बात करें, तो भांग का उपयोग होली के त्यौहार पर अधिक मात्रा में होता है. 

जहाँ लोग भांग के पकौड़े और भांग की ठंडाई आदि बनाते है और इनका सेवन करने वाले लोगों को पता नही होता है कि भांग का नशा कितने दिन तक रहता है या भांग पीने के साइड इफेक्ट क्या होते है. लेकिन इस लेख में हम आपको बताएंगे भांग का नशा कितने दिन तक रहता है, तो आपको बता दें कि किसी भी नशे को उतारने के लिए नींबू का उपयोग सबसे बेहतर बताया गया है. 

नींबू का इस्तेमाल - इसके लिए आप नशे में लिप्त व्यक्ति को नींबू का रस चटा सकते है. इससे भांग का नशा थोड़ा कम हो जाता है.

दही का उपयोग - अगर आप भांग का नशा उतारना चाहते है, तो इसके लिए जरूरी है दही का उपयोग, लेकिन याद रहें कि भांग के नशे से ग्रसित व्यक्ति को किसी भी प्रकार के पेय में मीठा मिलाकर न दें क्योंकि किसी भी मीठी चीज़ का उपयोग करने पर भांग का नशा ज्यादा चढ़ जाता है.

इन सभी के अलावा भांग पीने के साइड इफेक्ट की बात करें तो इससें -

  • किसी भी व्यक्ति के मस्तिष्क पर बुरा असर पड़ता है. 
  • प्रेगनेंट महिलाओं की बात करें, तो उनके भूण पर बूरा असर पड़ता है.
  • बातें भूल जाना, ज्यादा भांग पीने के साइड इफेक्ट के कारण होता है.
  • इसके अलावा आँखों के लिए भी भांग को अच्छा नही माना जाता है क्योंकि इसमें मौजूद यौगिक आँख के अलावा कान और पेट की समस्या भी पैदा करते है.
  • कुछ लोगों में देखा गया है कि भांग पीने के बाद उन्हें चिंता, मतिभ्रम, भय और भ्रम आदि का सामना करना पड़ सकता है.
  • अगर छात्रों द्वारा इसका प्रयोग किया जाता है तो उन्हें पढ़ाई करने में परेशानी हो सकती है.
  • इन सभी के अलावा उल्टी, घबराहट, अधिक खाने की इच्छा या भूख न लगना, क्रोध बढ़ना, चिड़चिड़ापन आदि भांग पीने के साइड इफेक्ट है.
  • इन सभी के अलावा दिन में सपने देखना भांग पीने के साइड इफेक्ट में से एक है.

आम परिपेक्ष में देखा जाए तो होली के समय में लोग भांग के नशे में कई न की जाने वाली चीज़े भी करते है. जिसमें दूसरों के साथ अच्छा व्यवहार न करना शामिल है. अगर बात करें, कि भांग का नशा कितने दिन तक रहता है तो यह आपके द्वारा ली गई भांग के सेवन पर करती है. इसके अधिक सेवन से शरीर में खून का दौरा तेज़ हो जाता है. जिसके चलते लोगों का उनके नर्वस सिस्टम पर कंट्रोल नही रहता है, जिसके चलते व्यक्ति या तो हंसता रहता है या वह रोने लगता है. काफी लोग मौज़ मस्ती के लिए भी ऐसे काम करते है.

1 person found this helpful

Bhaang Ka Nasha Utarne Ke Upay - भांग के प्रभाव और नशा उतारने के उपाय!

Dr. Sanjeev Kumar Singh 90% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Bhaang Ka Nasha Utarne Ke Upay - भांग के प्रभाव और नशा उतारने के उपाय!

होली को रंगों का त्यौहार माना जाता है, इस पर्व के दौरान लोग रंग और गुलाल के साथ तो खेलते ही है साथ में विभिन्न प्रकार के स्वादिष्ट व्यंजनों का भी लुत्फ़ उठाते है. इन सब के बीच एक और ऐसी चीज है जिसके बिना होली का मजा अधुरा रह जाता है. यदि आपके मन में भांग और ठंडाई का नाम आया है तो बिल्कुल सही सोच रहे हैं. हम भांग की ही बात कर रहे हैं. होली का मौका हो और भांग और ठंडाई न पी जाए, तो यह बात हजम नहीं होती है.

भारत के उत्तर प्रांत के राज्यों में होली के दिन भांग पीने की बहुत पुरानी प्रथा है. भांग पीने के कई भांग के बिना होली भले ही अधुरा रह जाता हो, लेकिन इससे भी ज्यादा परेशानी की बात तब हो सकती है जब भांग के प्रभाव ज्यादा हो जाता है और आपके रोज के दिनचर्या और स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक साबित होता है. इसलिए भांग का सेवन करें लेकिन इसका भी ख्याल रखें की भांग का नशा आपके दिनचर्या को प्रभावित ना करें.

हालाँकि, भांग में कई तरह के औषधीय गुण भी होते है जो आपको कई गंभीर बिमारियों में इलाज के रूप में उपयोग किया जाता है. भांग के प्रभाव से होने वाले फायदों में निम्न बीमारियां शामिल है:-

  1. ग्लूकोमा- भांग के सेवन से ग्लूकोमा के लक्षण ठीक होते है.
  2. कैंसर- भांग का उपयोग कई कैंसर को ठीक करने के लिए दवाओं में उपयोग किया जाता है. भांग कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने में मदद करता है.
  3. कान की समस्या- भांग के 8 से 10 बूँद रस को कान में डालने से कान की समस्या ठीक हो जाती है.
  4. अस्थमा- भांग को जला कर उसके धुंए को सूंघने से अस्थमा की समस्या से लाभ मिलता है.

ऐसे कई लोग हैं जिनको भांग हज़म नहीं होती, वे कई दिनों तक भांग के हैंगओवर से उबर नहीं पाते हैं. यह स्थिति इतनी ज्यादा गंभीर हो सकती है की आपको हस्पताल में भी भर्ती होना पड़ सकता है. आमतौर पर भांग खाने पर नर्वस सिस्टम का नियंत्रण नहीं रहता है इसलिए लोग अपने किसी भी एक्टिविटी को कंट्रोल नहीं कर पाते. जब आपको भांग का हैंगओवर होता है तो आपको कई तरह के लक्षण अनुभव होंगे. जिसमे निम्नलिखित शामिल है:-

  1. असामान्य रूप से हंसना
  2. अचानक रोने लग जाना 
  3. बहुत ज्यादा नींद आना
  4. अत्यधिक भूख लगना
  5. बहुत अधिक भांग खाने से याद रखने में असमर्थता 
  6. भांग खाने के दौरान कई लोग आँख खोल कर सोते है, जो बहुत ही गंभीर स्थिति होती है.

भांग का नशा उतारने के उपाय में सबसे बेहतर घरेलू नुस्खे को अपनाना है. इसके लिए आप खटाई, दही, नींबू छाछ, या फिर इमली का इस्तेमाल कर सकते है. भांग का हैंगओवर आपके बॉडी में कमजोरी, डिहाइड्रेशन, सिरदर्द की समस्या से दो चार होना पड़ सकता है.  इन समस्याओं से निजात पाने के घरेलू उपाय के साथ आयुर्वेदिक उपाय सबसे बेहतर तरीका है. 

भांग का हैंगओवर उतारने के घरेलू तरीके-

  1. भांग हैंगओवर लक्षण दिखने और नशा हो जाने पर उतारने के तरीके में  250 ग्राम से लेकर 500 ग्राम तक घी का सेवन करें. यह उपाय बहुत फायदेमंद साबित होते है.
  2. भांग का हैंगओवर उतारने के घरेलू तरीके लिए खटाई का सेवन भी एक कारगर तरीका है. इसके साथ आप कोई भी खट्टा पदार्थ जैसे निम्बू, दही, इमली का पानी भी ले सकते है.
  3. अगर कोई भांग हैंगओवर उतारने के लिए बेसुध पड़े व्यक्ति के कान में सरसों का तेल हल्का गुनगुना कर ले. एक दो बूँद तेल प्रभावित व्यक्ति के कान में डालें.
  4. सफेद मक्खन भी भांग का हैंगओवर उतारने के उपायों में काफी फायदेमंद साबित होता है. 
  5. भांग का सेवन किसे नहीं करना चाहिए 

बच्चों को भांग का सेवन नहीं करना चाहिए, यह उनके एकग्रता में कमी ला सकता है.

  1. जो लोग रोजाना काम पर जाते हैं उनके लिए भी भांग फायदेमंद नहीं है, क्योंकि यह उनके दिनचर्या के काम को प्रभावित कर सकता है. वह अपने काम पर फोकस नहीं कर पाते हैं.
  2. गर्भवती महिलायों को भी भांग के सेवन से परहेज करना चाहिए, यह गर्भपात जैसी परिस्थिति का भी कारन बन सकती है.
  3. ऐसे लोग जो मानसिक समस्या से पीड़ित है, वे भी भांग के सेवन से दूर रहें. भांग के प्रभाव उनके लिए भी नुकसानदायक सिद्ध हो सकते है.

भांग के पकौड़े बनाने की विधि - Bhaang Ke Pakode Kaise Banaye!

Dr. Sanjeev Kumar Singh 90% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
भांग के पकौड़े बनाने की विधि - Bhaang Ke Pakode Kaise Banaye!

भारतीय प्राचीन चिकित्सा प्रणाली जिसे आयुर्वेदिक चिकित्सा के नाम से भी जाना जाता है. इसमें लगभग हर पेड़ या फल के स्वास्थ लाभ बताए गए है, साथ ही अलग-अलग स्वास्थ स्थितियों के लिए उनका प्रयोग और रोगों का उपचार भी बताया गया है. अगर आज के परिपेक्ष को देखें, तो आयुर्वेद उपचार को लेकर लोगों में विशेषकर रूचि है, जिसके चलते उपचार के इस तरीके की ओर लोगों का रूझान बढ़ रहा है.

लगभग हर भारतीय रसोई में प्रयोग की जाने वाली हल्दी, अजवाइन, धनीया, अदरक, नींबू आदि फलों के आयुर्वेद में कई लाभ बताए गए है. उन्हीं में से एक बेहतरीन स्वास्थ लाभ प्रदान करने वाली एक तरह की खाद्य प्रदार्थ, भांग होती है, जो प्राकृतिक होती है. इसके पेड़ और पत्ते आदि होते है, जिन्हें पीसकर कई तरह के खाद्य आदि प्रदार्थोंं में इसे उपयोग किया जाता है. विशेषकर भांग का प्रयोग होली के समय ज्यादा होता है. होली जैसे खुशी के त्यौहार पर कई लोग भांग के पकौड़े आदि जैसे पकवान तैयार करते है.

जबकि भांग के फायदे और नुकसान दोनों ही होते है. भांग के फायदे की बात करें तो इसका उपयोग सिरदर्द में किया जाता है. इसके लिए जरूरी है कि रोगी भांग के पत्तों को सूंघें.अगर बात करें मलेरिया जैसे रोग कि तो इसमें भी भांग बहुत उपयोगी सिद्ध होती है. इसके लिए भांग के एक ग्राम पाउडर में 2 ग्राम गुड़ मिला लें और उसकी 4 गोलियां बना लें. मलेरिया में बुखार आने से पहले इन्हीं में से एक गोली का सेवन करने से काफी राहत मिलती है.  

इसके अलावा भांग के फायदे की बात करें तो आँखों की समस्याओं में भी भांग काफी राहत प्रदान करती है. ग्लूकोमा जिसे मोतियाबिंद के नाम से भी जाना जाता है, जिसमें आँख की नसें कमज़ोर हो जाती है. ग्लूकोमा जैसी स्थिति में भांग काफी लाभ प्रदान करती है. इससे आँखों की नस मजबूत होती है. 

इसके अलावा भांग के पत्ते का रस माथे पर लगाने से रूसी की समस्या से छुटकारा मिल जाता है. इसके अलावा भांग की ठंडाई के सेवन से मूत्र की जलन मिट जाती है. इसके अलावा भांग के पाउडर और गुड़ मिलाकर सेवन करने से पेट साफ रहता है. इन सभी के अलावा कान का दर्द जैसी स्थितियों में भी आप भांग के पेस्ट को आग में पिघलाकर कान में डाल सकते है, जिससे कान में कीड़े जैसी समस्या दूर रहती है. 

अगर आमतौर पर बात करें तो भांग के पकौड़े और भांग की ठंडाई सिर्फ होली जैसे त्यौहार पर ही ज्यादा प्रचलित होती दिखती है. सही मात्रा में सेवन करने पर इसके कई स्वास्थ लाभ होते है. भांग के पकौड़े की बात करें, तो भारत में होली के त्यौहार के समय भांग का प्रयोग काफी लंबे समय से किया जा रहा है. साथ ही भांग की ठंडाई और भांग के पकौड़े का भी सेवन किया जाता है. लेकिन बहुत से लोगों को यह पता नही होता कि भांग के पकौड़े कैसे बनाए ? तो आज इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएंगे भांग के पकौड़े बनाने की विधि, जो इस प्रकार -

भांग के पकौड़े बनाने के लिए सबसे पहले आपके पास जरूरी सामग्री होनी चाहिए. जिसमें 

  • चने की आटा
  • हल्दी
  • लाल मिर्च पाउडर
  • कूकिंग ऑयल
  • आलू जिन्हें आपको गोल काटना होगा
  • प्याज़ को गोल काटे
  • थोड़ा भांग की पत्ती का पेस्ट
  • नमक
  • आमचुर

भांग के पकौड़े तैयार करने के लिए सबसे पहले -
सभी चीज़ों को मिलाकर मिश्रण बना लें और इसका पेस्ट तैयार कर लें.
अब पेस्ट में आलू और प्याज़ के कटे हुए पीस मिक्स कर लें. 
कढ़ाई में तेल को गर्म कर लें और पेस्ट को उसमें डालकर भूरा होनी तक फ्राई करें.

भांग के पकौड़े बनाने की विधि में कुल 40 मिनट तक का समय लगता है.

मानसिक तनाव के लक्षण - Mansik Tanaw Ke Lakshan!

Dr. Sanjeev Kumar Singh 90% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
मानसिक तनाव के लक्षण - Mansik Tanaw Ke Lakshan!

मानसिक तनाव आज के भागदौड़ से भरे जीवन की एक कड़वी सच्चाई है. इस रोग की सबसे हैरान करने वाली बात है इससे इनकार करना या इसे लेकर जागरूकता की घोर कमी. दरअसल हमारे यहाँ ऐसी मानसिकता निर्मित हो गई है कि मानसिक बिमारी को हम शर्मिंदगी से जोड़ कर देखते हैं. जबकि इस चक्कर में न जाने कितना नुकसान हो जाता है. कई लोग तो इसके लक्षणों को भी नहीं जानते हैं जिससे कि इसकी पहचान करके इसका इलाज करा सकें. आइए इस लेख के माध्यम से हम मानसिक तनाव के लक्षणों पर एक नजर डालें.

याद्दाश्त संबंधी-

लक्षणों में भूलना, सीमित सामाजिक मेलमिलाप और सोचने की कमज़ोर क्षमता शामिल हैं, जिससे रोजमर्रा के कामकाज प्रभावित होते हैं. याददाश्त जाना, समय के साथ दिमाग का कम काम करना, ठीक से बोलने और समझने में परेशानी, बातें बनाना, भटकाव, शाम के समय भ्रम की स्थिति, सामान्य चीज़ें न पहचान पाना, या सुध-बुध खोना.

भावनात्मक कमजोरी-
उदासी या दिलचस्पी खोने की सतत भावना जैसी गंभीर अवसाद की विशेषताएं कई व्यावहारिक और शारीरिक लक्षणों की ओर ले जा सकती हैं. इनमें नींद, भूख, ऊर्जा स्तर, एकाग्रता, दैनिक व्यवहार, या आत्मसम्मान में परिवर्तन शामिल हो सकते हैं. अवसाद आत्महत्या के विचार के साथ भी जुड़ा हो सकता है.

ध्यानाभाव एवं अतिसक्रियता-
लक्षणों में किसी बात में कम ध्यान दे पाना और अति-सक्रियता शामिल हैं. व्यवहार संबंधी: अतिसक्रियता, अत्यधिक संवेदनशीलता, आक्रामकता, खुद पर नियंत्रण में कमी, चिड़चिड़ापन, बिना सोचे-समझे जल्दबाज़ी में काम करना, बेचैनी से शरीर हिलाना-डुलाना, या शब्दों या क्रियाओं को लगातार दोहराना.

जुनूनी बाध्यकारी विकार-
ओसीडी अक्‍सर कीटाणुओं के डर या चीज़ों को रखने के एक ख़ास तरीके जैसे विषयों पर केंद्रित होता है. लक्षण आमतौर पर धीरे-धीरे शुरू होते हैं और जीवन भर बदलते रहते हैं. लगातार कुछ करने से खुद को रोक न पाना, किसी काम को करने के अपने तरीके से हटकर काम ना कर पाना, खुद के शब्दों को बेमतलब दोहराना, गतिविधियों को दोहराना, चीज़ें जमा करने से खुद को रोक न पाना, बिना सोचे-समझे जल्दबाज़ी में काम करना, व्याकुलता, शब्दों या क्रियाओं को लगातार दोहराना, सामाजिक अलगाव, या ज़रूरत से ज़्यादा सतर्कता बरतना.

द्विध्रुवी विकार-
उन्मादी होने पर रोगी में अत्यधिक ऊर्जा, नींद की ज़रूरत महसूस न होने, वास्तविकता से नाता न रखने जैसे लक्षण होते हैं. अवसाद से घिरने पर रोगी में ऊर्जा की कमी, खुद को प्रेरित न कर पाना और दैनिक गतिविधियों में रुचि न होने जैसे लक्षण मिल सकते हैं. मिज़ाज बदलते रहने की ये प्रक्रिया एक बार में कई दिनों से लेकर महीनों तक चलती है और इसमें आत्महत्या करने जैसे विचार भी आ सकते हैं.

स्वलीनता-
अलग-अलग लोगों में लक्षणों की सीमा और गंभीरता बहुत ज़्यादा अलग हो सकती हैं. आम लक्षणों में शामिल हैं बातचीत करने में कठिनाई, सामाजिक रूप से जुड़ने में कठिनाई, जुनूनी दिलचस्पियां और बार-बार दोहराने का व्यवहार. अनुपयुक्त सामाजिक संपर्क, आंखों से आंखें कम मिलाना, खुद को नुकसान पहुंचाना, गतिविधियों को दोहराना, बिना सोचे-समझे जल्दबाज़ी में काम करना, लगातार कुछ करने से खुद को रोक न पाना, या शब्दों या क्रियाओं को लगातार दोहराना.

सच्चाई से परे दिखाई देने वाले विचार या अनुभव-
स्किज़ोफ्रेनिया के लक्षणों में सच्चाई से परे दिखाई देने वाले विचार या अनुभव होना, अव्यवस्थित बोलना या व्यवहार करना, और दैनिक गतिविधियों में कम भाग लेना शामिल हैं. ध्यान केंद्रित करने और बातें याद रखने में कठिनाई भी मौजूद हो सकती है. बेतरतीब व्यवहार, सामाजिक अलगाव, अत्यधिक संवेदनशीलता, आक्रामकता, खुद को नुकसान पहुंचाना, खुद पर नियंत्रण में कमी, गतिविधियों को दोहराना, दुश्मनी, लगातार कुछ करने से खुद को रोक न पाना, या व्याकुलता.

दुश्चिंता-
लक्षणों में मामूली घटना के लिए भी बहुत ज़्यादा तनाव होना, चिंता करना छोड़ न पाना और बेचैनी शामिल हैं. थकान, पसीना आना, या बेचैनी. चिड़चिड़ापन या ज़रूरत से ज़्यादा सतर्कता बरतना. अनचाहे खयाल या विचारों का बहुत जल्दी-जल्दी आना या बदलना. चिंता सताना, अत्यधिक चिंता, कमजोर एकाग्रता, धकधकी, निकट भविष्य में विनाश की आशंका, नींद न आना,
भय, मतली, या विकंप.

बुरे सपने या पुरानी यादों की अनुभूति-
लक्षणों में बुरे सपने या पुरानी यादों की अनुभूति, आघात में वापस ले जाने वाली स्थितियों से दूर रहने की कोशिश, उत्तेजित होने पर ज़रुरत से ज़्यादा प्रतिक्रिया, चिंता या फ़िर खराब मूड शामिल हो सकते हैं. चिड़चिड़ापन, व्याकुलता, खुद का विनाश करने वाला व्यवहार, दुश्मनी, सामाजिक अलगाव, या ज़रूरत से ज़्यादा सतर्कता बरतना. पहले हुई किसी घटना को अचानक, बिना इच्छा के, फिर से अनुभव करना, गंभीर रूप से चिंता करना, डर, या संदेह. गतिविधियों में रुचि न होना या आनंद न आना, अकेलापन, या अपराधबोध. अनिद्रा या बुरे सपने, अनचाहे विचार या संवेगात्मक अनासक्‍ति.

6 people found this helpful

अवसाद का आयुर्वेदिक इलाज - Awsad Ka Ayurvedic Ilaj!

Dr. Sanjeev Kumar Singh 90% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
अवसाद का आयुर्वेदिक इलाज - Awsad Ka Ayurvedic Ilaj!

अवसाद को आप डिप्रेशन, तनाव या चिंता में डूबा रहना भी कह सकते हैं. दुर्भाग्य से इस बीमारी के शुरुआत में या तो हमें पता नहीं चल पाता है या फिर हम इस तरफ ध्यान नहीं दे पाते हैं. यदि हम डिप्रेशन के लक्षण की बात करें तो इसमें अनिद्रा, उदासी, वजन का अत्यधिक कम या ज्यादा होना, आत्महत्या या खुद को नुकसान पहुँचाने की कोशिश करना एकाग्रता में कमी इसका प्रमुख लक्षण है. आइए इस बिमारी के आयुर्वेदिक उपचार के बारे में जानें.
अवसाद की स्थिति और नींद का महत्व-

1. नींद की कमी बिमारी का घर-

यदि आप सोने में कोताही करते हैं या पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं तो आप कई बीमारियों को आमंत्रित कर रहे हैं. कहते हैं न कि चैन से सोना है तो जाग जाइए. जब आपकी नींद पूरी नहीं होती है तो आपको कई बीमारियाँ जैसे कि याद्दाश्त कमजोर होना, उच्च रक्त चाप, आँखों में सुजन, कमजोरी, थकान, मोटापा, तनाव आदि अपना शिकार बना सकती हैं. इसलिए बेहतर यही है कि आप भरपूर नींद लेने को गंभीरता से लें और पर्याप्त नींद लें.

2. बच्चों में नींद की कमी का असर और डिप्रेशन-
किशोरों या बच्चों की मानसिकता पर पर्याप्त नींद न लेने का दुष्प्रभाव उनके आत्मविश्वास पर पड़ता है. अक्सर ऐसा देखा गया है कि आठ घंटे से कम नींद लेने वाले किशोर नशे या स्मोकिंग की चपेट में होते हैं. कई बच्चे इसके दुष्प्रभाव से डिप्रेशन में भी चले जाते हैं. ऐसा होने पर कई बार बच्चे उग्र भी हो जाते हैं. एक शोध में यह पाया गया कि प्रतिदिन 7 से 8 घंटे की नींद लेने वाले 4.5 घंटे से कम सोने वालों की तुलना में लम्बी उम्र जीते हैं. तो बच्चों को भी पर्याप्त सुलाएं.

3. नींद और वजन का संबंध-
शोधकर्ताओं के अनुसार कम सोने वाले लोगों का वजन पर्याप्त नींद लेने वालों से ज्यादा होता है. ये भी पाया गया है कि पांच घंटे की नींद लेने वाले लोगों में भूख बढ़ाने वाला हार्मोन 15 फीसदी अधिक बनता है. लेकिन आठ घंटे की नींद लेने वाले लोगों में यह हार्मोन जरूरत के अनुसार ही बनता है. जाहिर है इससे आप मोटापे के शिकार होते हैं और डिप्रेशन की तरफ बढ़ चलते हैं.

4. डिप्रेशन, नींद और सेहत-
ये तो आपने भी महसूस किया ही होगा कि जब आप गहरी नींद से सोकर उठते हैं तो आपको एक ताजगी का एहसास होता है. और पर्याप्त नींद न लेने पर दिमाग भन्नाया रहता है. दरअसल पर्याप्त नींद लेने पर हमारे शारीर में रोगों से लड़ने वाली कोशिकाएं भी ठीक तरीके से काम करती हैं. जिससे कि आप कई अनावश्यक बीमारियों से तो बचते ही हैं साथ में आपकी कार्यक्षमता में भी बढ़ोतरी होती है.

आयुर्वेदिक उपचार-

1. काजू-

डिप्रेशन को ठीक करने में तंत्रिकातंत्र की भूमिका भी महत्वपूर्ण है. इसमें विटामिन बी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है और ये विटामिन ही तंत्रिका तंत्र को ठीक रखता है. इसके साथ ही काजू आपके शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ाकर आपको सक्रिय रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. काजू ये ये सभी गुण आपको डिप्रेशन से दूर रखेंगे.

2. अंडे-
प्रोटीन के भण्डार अंडा में डीएचए भी पाया जाता है. आपको बता दें कि डीएचए पचास फीसदी डिप्रेशन को ठीक कर सकता है. अंडा न सिर्फ डिप्रेशन को ठीक करेगा बल्कि आपको निरोग रखने में भी मदद करता है.

3. सेब-
सेब के फायदे तो सबने ही सुन रखे होंगे. तमाम पौष्टिक गुणों से भरपूर सेब आपके मानसिक स्वास्थ्य का भी ख्याल रखता है. इसमें पाया जाने वाले विटामिन बी, फास्फोरस और पोटैशियम मिलकर ग्लूटामिक एसिड का निर्माण करते हैं. ये एसिड मानसिक स्वस्थ्य ठीक रखता है.

4. आयरन युक्त भोजन-
हमारे शरीर में आयरन की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है. लेकिन कई लोगों में आयरन की कमी होती है खासकरके लड़कियों में. तो ऐसे में इसका सबसे अच्छा तरीका है कि आपको आयरनयुक्त भोजन करना चाहिए. इससे आपमें आयरन लेवल तो ठीक रहता ही है, साथ में आपका मूड भी ठीक रहता है. इस तरह आप डिप्रेशन से बच जाते हैं. आयरन के लिए सबसे अच्छा स्त्रोत पालक है.

5. इलायची-
आप खुद को तरोताजा रखने के लिए इलायची का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए आपको बस इतना करना है कि इलायची के पिसे हुए बीज को पानी के साथ उबाल कर या चाय के साथ लें. इससे आपका मूड फ्रेश हो जाएगा.

मासिक धर्म में देरी के कारण - Masik Dharm Mein Deri Ke Karan!

Dr. Sanjeev Kumar Singh 90% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
मासिक धर्म में देरी के कारण - Masik Dharm Mein Deri Ke Karan!

महिलाओं मासिक धर्म संबंधी अनियमितता एक सामान्य समस्या है. कई बार पीरियड नहीं आने या बंद होने के कुछ और भी कारण होते हैं, लेकिन महिलाओं को इस बात का डर बैठ जाता है कि कहीं फिर से प्रेग्नेंसी तो नहीं आ गयी. यह डर महिलाओं में तनाव को बढ़ाता है. माहावारी के दौरान महिलाओं में डिप्रेशन, पेट दर्द होना सामान्य है. इस प्रक्रिया में अच्छा व बुरा संकेत होना भी प्राकृतिक प्रक्रिया है. माहवारी अचानक बंद होने पर महिलाओं को घबराने की जरूरत नहीं है. यह कई अन्य कारणों से भी हो सकता है. शरीर में किसी भी प्रक्रिया का आनियामित रूप से चलना या उसका ठीक से काम नहीं करने के कई कारण हो सकते हैं. मासिक धर्म तो एक स्वाभाविक प्रक्रिया है जिसका शरीर पर कई तरह का असर देखने को मिलता है. आइए इस लेख के माध्यम से हम मासिक धर्म के रुकने को विस्तारपूर्वक समझें.

मासिक धर्म रुकने के विषय में क्या कहते हैं जानकार?
जानकारों का कहना है कि कारण जाने बगैर महिलाओं को तनाव नहीं लेना चाहिए. मासिक धर्म या मासिक धर्म महिलाओं में सामान्य प्रक्रिया है, इसके बंद होने के अन्य कारणों के बारे में सामान्यत: महिलाओं को जानकारी नहीं होती है. कम समय में वजन बढ़ा या घटा हो. शरीर में मलेरिया, टाइफाईड या जोन्डेस हुआ हों, तब मासिक धर्म बंद हो सकते हैं अथवा देरी से हो सकते हैं. इसके अलावा कोई बड़ा ऑपरेशन हुआ हो तो मासिक धर्म बंद हो सकते हैं. पिछले दो महीने में अगर वजन कम हो गया हो या 5-6 किलो बढ़ गया हो. कम समय में वजन में ज्यादा उतार-चढ़ाव से भी मासिक धर्म बंद हो सकते हैं. मानसिक तनाव या किसी की मृत्यु हो गयी या तलाक या किसी से बिछड़ने का तनाव भी इस समस्या को पैदा करता है. शादी के बाद ससुराल की चिंता या एन्जाइटी होने पर भी मासिक धर्म बंद हो सकते हैं.

थायराइड भी है एक कारण-
थाइराइड की समस्या बढ़ जाये या ओबेसिटी जैसी समस्या होने पर भी महिलाओं में पीरियड् बंद हो सकता है. इसके अलावा पोलिस्सिटिक ओवेरियन सिंड्रोम के कारण भी मासिक धर्म देरी से आते हैं. यह समस्या महिलाओं में ज्यादा दिखाई देती है. यह समस्या होने पर चेहरे व छाती पर बाल उगने लगते हैं. इसमें वजन बढ़ता जाता है. अगर महिला शादीशुदा है और बच्‍चा चाहती है तो उसे प्रेग्नेंसी में समस्या हो सकती है. कोई भी क्रोनिक समस्या हो जैसे लंबे समय तक लीवर या किडनी की समस्या हो. अपच या लूजमोशन की समस्या हो, तब भी मासिक धर्म देरी से आ सकते हैं.

गर्भनिरोधक गोलियों का लगातार सेवन-
गर्भ निरोधक गोलियों के लगातार सेवन से या एक साल से ज्यादा तक ये गोलियां लेने से दो तीन महीने तक मासिक धर्म बंद या एकदम हल्के हो सकते हैं. यह प्रक्रिया धीरे-धीरे सामान्य हो जायेगी. गर्भधारण करने में भी कोई समस्या नहीं आयेगी. प्री-मेच्योर मैनोपोज महिलाओं में कभी-कभी 40 साल की उम्र में भी आ जाता है. ऐसी स्थिति में अंडाकोश में अंडा बनना बंद हो जाता है. तब इसको प्री-मेच्योर ओवेरियन फेलियोर कहते हैं. इसमें मासिक धर्म बंद होने के साथ-साथ मैनोपोज के लक्षण भी दिखाई देंगे, जैसे बहुत तेज गर्मी लगना. पसीने अआना, वैजाइना में सूखापन लगना. यह संकेत बहुत कॉमन नहीं हैं. सही स्थिति की जानकारी डॉक्टर ही बता सकता है. इसके लिए हारमोन टेस्ट भी कराया जा सकता है. किसी अनुभवी/ स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद ही वास्तविक समस्या समझी जा सकती है. महिलाएं सही कारण जानें बगैर स्ट्रेस न लें.

Icon

Book appointment with top doctors for Staying Healthy treatment

View fees, clinic timings and reviews