Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Sportsman Diet Chart Tips

diet chart for healthy hair

Dr. Jitendra Vala 87% (172 ratings)
Diploma in Diet and Nutrition, BHMS
Homeopath, Mumbai
diet chart for healthy hair
Lustrous, beautiful and healthy hair is a result of a healthy body and a healthy diet

Foods high in protein are soy, tofu, dairy products like milk, curd, paneer, cheese, nuts, oilseeds, beans and pulses.

Lifestyle changes

1. Along with a healthy hair diet it is important that you exercise properly as it will ensure that there is proper blood flow to your scalp and will help in the growth of hair.

2. Treat your hair delicately. Avoid unnecessary brushing, combing or handling. Use a soft, round bristles brush.

3. Have a weekly scalp massage to provide stimulation to the hair follicles.

4. Have regular trims to eliminate split ends and allow the hair to look and feel healthier.

5. Get plenty of rest and sleep to allow your body to grow hair.


Follow the diet plan given below as a starting point for healthy and lustrous hair.

Breakfast

Skim milk / soy milk
Whole grain bread or toast or poha or breakfast cereal or sprout
Bowl of fresh fruit

Morning snack

Fresh vegetable juice like carrot or cucumber juice
Handful of nuts like walnuts, soaked almonds, raisins, dates
Lunch

Fresh veg. Soup or salad
Whole-wheat flour or jowar or bajra chapatti
Green veggies
Dals or whole pulses
Brown rice
Curd / tofu

Afternoon snack

1 glass skim milk
Kurmura or roasted channa or popcorn
Evening snack

Fresh veggies and fruit juice (carrot, apple, lemon, dudhi, palak)

Dinner

Fresh veggie soup or salad with sprouts
Chapati
Vegetable
Buttermilk

Bedtime snack

Fruit like watermelon or banana
Use natural substitutes like fruits, dates, figs or honey instead of sugar. Fruits like berries, grapes, apples and cherries have useful enzymes that can add value to your hair health
102 people found this helpful

Diet Chart For Diabetes Patient

Dr. Jagdish Prasad Mehrotra 91% (1699 ratings)
MBBS, D.P.H
General Physician, Gurgaon
Diet Chart For Diabetes Patient

In India 61 million people are victims of diabetes. Diabetes disease is related to metabolic, in which oxidation of carbohydrates and glucose is not fully detected. Diabetes mellitus is a chronic metabolic disorder in which the body fails to convert sugars, starches and other foods into energy. Many of the foods you eat are normally converted into a type of sugar called glucose during digestion. The bloodstream then carries glucose through the body. The hormone, insulin, then turns glucose into quick energy or is stored for futher use. In diabetic people, the body either does not make enough insulin or it cannot use the insulin correctly. This is why too much glucose builds up in the bloodstream.

The main reason is irregular meal, mental stress, lack of exercise. There are two major types of diabetes:

Type 1

  • This is popularly known as juvenile onset diabetes. 
  • Here, the body produces little or no insulin. It occurs most often in childhood or in the teens and could be inherited.
  • People with this type of diabetes need daily injections of insulin. They must balance their daily intake of food and activities carefully with their insulin shots to stay alive.

Type 2

  • Also known as adult onset diabetes, this occurs around 35 to 40 years. The more common of the two types, it accounts for about 80 per cent of the diabetics.
  • Here, though the pancreas produce adequate insulin, body cells show reduced sensitivity towards it.
  • Type 2 diabetes is usually triggered by obesity. The best way to fight it is by weight loss, exercise and dietary control.
  • Sometimes, oral medication or insulin injections are also needed.

Symptoms of diabetes

The role of diet in diabetes
Meal of diabetic patient is depending on calories. Which decides on it s age, weight, gender, height, working etc. Depending on each person s different   different dietary chart is created. We must take special care of time and amount of food in diabetes. Here we are giving diet chart for general diabetes patient.

Diabetes diet chart:

  • Morning at 6:   teaspoon fenugreek (methi) powder + water. 
  • Morning at 7: 1 cup sugar free tea + 1-2 mary biscuits.
  • Morning at 8.30: 1 plate upma or oatmeal + half bowl sprouted grains + 100ml cream-free milk without sugar
  • Morning at 10.30: 1 small fruit or 1 cup thin and sugar free buttermilk or lemon water
  • Lunch at 1: 2 roti of mixed flour, 1 bowl rice, 1 bowl pulse, 1 bowl yogurt, half cup soybean or cheese vegetable, half bowl green vegetable, one plate salad
  • 4 pm: 1 cup tea without sugar + 1-2 less sugar biscuits or toast
  • 6 pm: 1 cup soup
  • 8.30 pm: 2 roti of mixed flour, 1 bowl rice, 1 bowl pulse, half bowl green vegetable, one plate salad
  • 10.30 pm: take 1 cup cream free milk without sugar.

When you feel hungry intake raw vegetables, salad, black tea, soups, thin buttermilk, lemon water. Avoid it: molasses, sugar, honey, sweets, dry fruits. Foods you must avoid!

  1. Salt: salt is the greatest culprit for diabetics. You get enough salt from vegetables in inorganic form, so reduce the intake of inorganic salt.
  2. Sugar: sucrose, a table sugar, provides nothing but calories and carbohydrates. Also, you need calcium to digest sucrose. Insufficient sucrose intake might lead to calcium being leached off the bones. Substitute sucrose with natural sugar, like honey, jaggery (gur), etc.
  3. Fat: excessive fat intake is definitely not a good habit. Try and exclude fried items from your diet totally. But, remember, you must have a small quantity of oil to absorb fat-soluble vitamins, especially vitamin E.
  4. For non-vegetarians: Try and stop the intake of red meat completely. Try to go in for a vegetarian diet. If you cannot, decrease the consumption of eggs and poultry. You can, however, eat lean fish two to three times a week.
  5. Whole milk and products: Try to switch to low fat milk and its products like yogurt (curd). Replace high fat cheese with low fat cottage cheese.
  6. Tea and coffeeDo not have than two cups of the conventional tea or decaffeinated coffee every day. Try to switch to herbal teas.
  7. White flour and its products: Replace these with whole grains, wholewheat or soya breads and unpolished rice.
  8. Foods with a high glycemic index: Avoid white rice, potatoes, carrots, breads and banana -- they increase the blood-sugar levels. 

Advice for diabetes patient:

  1. 35-40 minute faster walk every day.
  2. Diabetic person should eat food between times intervals like take breakfast in morning, lunch, some snakes and dinner.
  3. Avoid oily food.
  4. Intake more fiber foods in meals. It increases glucose level gradually in blood and keeps control.
  5. Do not take fast and also don t go much party.
  6. Diabetic person should eat food slowly.

Calorific requirement:

  1.  An obese middle aged or elderly patient with mild diabetes 1000 -1600 kcal.
  2.  An elderly diabetic but not over weight  1400 -1800 kcal.
  3.  A young active diabetic  1800 -3000 kcal.
  4.  Daily intake of carbohydrate: 1/10th of total calories approximately  180gm.
  5.  Daily intake of protein: 60gm to 110gm.
  6.  Daily intake of fat: 50gm to 150gm.
41 people found this helpful

4 Weeks Diet Chart of Indian Version of Ketogenic Diet for Weight Loss

Dt. Neha Suryawanshi 94% (14748 ratings)
M.Sc. in Dietetics and Food Service Management , Post Graduate Diploma In Computer Application, P.G.Diploma in Clinical Nutrition & Dietetics , B.Sc.Clinical Nutrition & Dietetics
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
4 Weeks Diet Chart of Indian Version of Ketogenic Diet for Weight Loss

4 weeks diet chart of indian version of ketogenic diet for weight loss


A proper keto cycle works for 4 weeks. Lets see the diet week by week

Week 1 –

You can alternate between or choose from the below mentioned options for entire week

Breakfast

  • Cheese pakora (fried in peanut oil / coconut oil)
  • Cheesy egg omlette with lots of cheese (cooked in olive oil and butter)
  • Cheesy scrambled egg with lots of capsicum (cooked in olive oil and butter)

Lunch

  • Simple salad (spinach, capsicum, mushrooms, stir fried in olive oil and butter, sometimes with chicken, sometimes with eggs and sometimes only veggies topped with lots of cheese)
  • Cream of palak soup with stir fried mushrooms / broccoli
  • Solkadhi and baked french beans (whole) with cheese
  • Cauliflower curry in coconut milk and coconut oil
     

Dinner 

  • Baked spinach with cheese and cream
  • Lemon chicken stew
  • Fried paneer pakora
  • Stir fried mutton with spices of choice
  • Cabbage salad / cabbage thoran with coconut (kerala style veggie)

 
Week 2

In this week we introduce a special mix of coconut oil, cream and butter. All you need to do is beat these 3 ingredients together and gulp it down. I know it is hard, but you will do it if you want to lose weight. If this sounds like a torture to you, mix it up with your tea or coffee decoction. Add whatever spice it takes for your tongue to accept this. Please dont add ay sugar, you can use artificial sweeteners like stevia and sugarfree natura. This mix will help a great deal in enhancing your fat loss. Lets call this coffee mix as bullet coffee.

Breakfast 

Bullet coffee (coffee / tea mixed with coconut oil, cream and butter mix)
 

Lunch 

  • Simple salad (spinach, capsicum, mushrooms, stir fried in olive oil and butter, sometimes with chicken, sometimes with eggs and sometimes only veggies topped with lots of cheese)
  • Spiced, fried paneer pakora
  • Red channa salad
  • Lemon chicken
  • Soya nugget curry
  • Stir fried lady finger with peanuts (maharashtrian style)
     

Dinner 

  • Stir fried french beans with cheese topping / cheese fondue
  • Cauliflower cooked in coconut milk and coconut oil
  • Cream of mushroom
  • Chicken stew
  • Cheese pakora
     

Week 3 

As the weeks progresses, keto diet is going to get tougher by each passing day. Week 3 calls for a fasting stage. So we are going to eat early breakfast, no lunch and after a 12 hour fasting, we will have a fat full dinner. This is called intermittent fasting. (read more about intermittent fasting)

Breakfast 

Bullet coffee

Lunch 

Fasting, just keep on sipping water and sugar less green tea / lemon water with pepper

Dinner 

  • 6-8 soaked almonds everyday for this week
  • Chicken in pesto sauce with paneer and spinach leaves stir fried in olive oil
  • Paneer chilly
  • Chicken barbecue with spinach and cheese salad
  • Spinach egg omlette with lots of cheese
     

Week 4

It really really getting very tough now. This week you are required to eat only dinners. While fasting for the entire day. Yes you can have green teas, lemon water (with salt and pepper), green teas (without sugar), and yes lots and lots of water. If fasting this strictly seems difficult to you, you can go back to week 2 and start following from there on again.


Breakfast

  • Black tea / lemon tea / peach tea (without sugar)
  • Black coffee
  • Lunch 
  • Green tea (without sugar)
  • Lemon water (without sugar)
  • Lots and lots of water

Dinner 

  • Stir fried green beans with coconut and peanut
  • Shezuan chicken
  • Spinach cooked in milk, cream and cheese
  • Stir fried veggies with spicies and cream dressing
  • Chicken stew
  • Thai chicken
  • Lemon chicken
  • Stir fried paneer with spinach and bell pepper
  • Almond flour pancakes
20 people found this helpful

Pregnancy Diet Chart - गर्भावस्था में जरुरी आहार

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Pregnancy Diet Chart - गर्भावस्था में जरुरी आहार

गर्भावस्था महिलाओं के लिए एक ऐसी अवस्था है जिसमें उनके शरीर में कई परिवर्तन होते हैं. जिनमें काफी सारे परिवर्तनों के होने के पीछे हार्मोन जिम्मेदार होते हैं. इस दौरान उनके खान-पान से लेकर कई ऐसी चीजें हैं जिसमें परिवर्तन की आवश्यकता होती है. गर्भावस्था में महिलाओं को ज्यादा कैलोरी वाला आहार दिया जाना चहिए. इन आहारों में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और वसा का सही संतुलन, सब्जियों और फलों की एक विस्तृत विविधता के साथ शामिल होना ठीक रहता है. बच्चे को विकसित करने के लिए ये भी सुनिश्चित करें कि आहार पर्याप्त पोषक तत्वों से भरा हो जिससे उसके शरीर में स्वस्थ परिवर्तन उत्पन्न हो. आइए गर्भावस्था के दौरान लिए जाने वाले आहारों को जानें जिसमें निम्नलिखित तत्वों की प्रचुरता हो.

1. प्रोटीन
प्रोटीन हमारे शरीर के लिए बहुत जरुरी हैं. मांसपेशियों, त्वचा और अंगों को आगे बढ़ने और खुद को मजबूत रखने के लिए प्रोटीन की जरूरत होती है. अपनी डायट में चिकन, अंडे, ड्राई फ्रूट्स, दाल और अनाज को शामिल करें. आप शाकाहारी हैं तो आप सोयाबीन, उबले हुए चने, पनीर और टोफू ले सकते हैं. जिन खाद्य पदार्थों में उच्च मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है उन्हें अपनी डायट में अवश्य शामिल करें.
2. कैल्शियम
कैल्शियम का सेवन भी हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद जरुरी है. गर्भावस्था के दौरान कैल्शियम महत्वपूर्ण है. कैल्शियम के लिए रोजाना अपनी डायट में कम से कम 2 गिलास दूध शामिल करें. कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थों दूध, दही, डेयरी उत्पाद, दलिया, साग, बादाम और तिल आदि का सेवन करें.
3. फोलिक एसिड
गर्भावस्था के दौरान फोलिक एसिड का सेवन गर्भवती मां के लिए बहुत जरूरी है. फोलिक एसिड आपके बच्चे के न्यूरल ट्यूब के दोष के जोखिम को कम करने में मदद करता है. आप खाद्य पदार्थ जैसे कि स्ट्रॉबेरी, संतरे, दलिया, पत्तेदार सब्जियों, फलों को अपने भोजन में शामिल करके फोलिक एसिड पा सकते हैं.
4. आयरन
गर्भवती महिलाओं में आयरन की कमी हो जाती है इलसिए इसका सेवन महत्वपूर्ण है. चिकित्सक के परामर्श से इस दौरान पर्याप्त मात्रा में आयरन का सेवन करने के लिए आयरन की गोली भी खा सकते हैं. मछली, चिकन, अंडे की जर्दी, ब्रोकली, मसूर, मटर, पालक, जामुन, सोयाबीन, किशमिश, जैसे सूखे फल डायट में शामिल करें. आयरन मांस, सेम, मुर्गी, बीज और चावल जैसे खाद्य पदार्थों में भी होता है.
5. तरल पदार्थ
तरल पदार्थों का सेवन हमारे शरीर से कई विषाक्त पदार्थों के निष्कासन में मदद करता है. रोजाना नारियल पानी पिएं. तरल पदार्थ विशेष रूप से पानी और ताजा फलों के रस, सुनिश्चित करें कि आप स्वच्छ उबला हुआ या फ़िल्टर्ड पानी पीते है.
6. विटामिन बी 6
इस दौरान गर्भवती मां को विटामिन बी 6 से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए. गर्भवती महिला अपनी डायट में खट्टे फल, अंडे, हरी पत्तेदार सब्जियां और आलू को शामिल करके इसकी कमी दूर कर सकती है.
7. ऊर्जावान रहने के लिए
गर्भावस्था में ऊर्जावान रहने के लिए आहार में अनाज और रोटी, आटा, चावल की तरह सरल कार्ब्स और आलू को शामिल करना चाहिए. आप अपनी डायट में मीट, हरी पत्तेदार सब्जियां, साबुत अनाज ब्रेड, सूखे फल, और सेम को शामिल करने का प्रयास करें.
8. ऊर्जावान रहने के लिए
शिशु के शरीर में विटामिन ई, विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, आयरन और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्वों की जरूरत को पूरा करने के लिए गेहूं, रागी, चावल, मक्का, जई को अपनी डायट में शामिल करें. वसायुक्त मछली और मांस खाने से बचना चाहिए. डायट में आप यदि दुबला मांस, व्हाइट मछली, अंडे, काले सेम, टोफू जैसे खाद्य पदार्थों को लेंगे तो इससे आपको और बच्चे को फायदा होगा.
9. विटामिन सी
विटामिन सी से भरपूर भोजन अवश्य शामिल करें जैसे की खट्टे फल, संतरे, मौसमी, आंवला इत्यादि. संतरा, ब्रोकली, और टमाटर विटामिन सी का अच्छा स्रोत हैं. विटामिन सी के लिए तरबूज, नींबू, संतरा, खट्टे फल, ब्रोकली को डायट में शामिल करना चाहिए.
10. कार्बोहाइड्रेट
गर्भावस्था के दौरान कार्बोहाइड्रेट जरूरी है लेकिन अपने वजन का भी इस दौरान ध्यान रखें. आप कार्बोहाइड्रेट युक्त पदार्थ जैसे आलू, साबुत अनाज, अनाज, मीठे आलू यानी शक्करकंदी, फलियां, पालक, जामुन, तरबूज़ खाएं, पास्ता, स्वीट कॉर्न, बीज, नट्स और जई.
11. मैग्नीशियम
मैग्नीशियम कई खाद्य पदार्थों जैसे बादाम, जई, चोकर, काले सेम, जौ, आटिचोक, कद्दू के बीज, में होता है. आप इन खाद्य पदार्थों को खाकर मैग्नीशियम की कमी को पूरा कर सकते है. ये आपके पैरों की ऐंठन जो सातवें महीने में हो जाती है को कम करता हैं.
12. डीएचए के खाद्य पदार्थ
डीएचए के खाद्य पदार्थ अपने भोजन में शामिल करें. डीएचए एक फैटी एसिड है जो कि बच्चे के दिमाग को ठीक से विकसित करने में अपने में मदद करता है. आप दूध, अंडे और जूस के रूप में खाद्य पदार्थों में डीएचए पा सकते हैं.
13. फाइबर
इस दौरान कब्ज को रोकने के लिए, उच्च फाइबर खाद्य पदार्थों को महिलाएं अपनी आहार में शामिल करें. इसके लिए सब्जियां, फल (ताजा और सूखे), फलियां और साबुत अनाज,मक्का, सफेद सेम, काले सेम, एवाकैडो, गेहूं, पास्ता, भूरा चावल, गेहूं ब्रेड, बंद गोभी, ब्रोकली, पत्तेदार हरी सब्जियां, अजवायन ,फल, साबुत अनाज ब्रेड, अनाज, खजूर आदि खाया जा सकता है.
14. विटामिन ए
गर्भावस्था के दौरान महिलाएं की कमी को दूर करने के लिए इससे युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते हैं. जिसमें पालक, गाजर, शकरकंद, खरबूजा इत्यादि प्रमुख हैं.
 

2 people found this helpful

Diabetes Diet Chart in hindi - मधुमेह आहार चार्ट

Dt. Radhika 93% (467 ratings)
MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Diabetes Diet Chart in hindi - मधुमेह आहार चार्ट

भारत में डायबिटीज के मरीजों की संख्या हर रोज बढ़ रही हैं. लगभग हर 5 भारतियों में से 2 भारतीय को डायबिटीज की समस्या हैं. देखा जाए तो डायबिटीज खुद कोई भयानक बीमारी नही है बल्कि यह आपने बाद धीरे धीरे विभिन्न बीमारियों को न्योता देकर शरीर के अलग अलग अंगों नुकसान पहुंचाती है. जैसे हम आसानी से देख सकते हैं कि शुगर के रोगी को आंखों व किडनी के रोग, सुन्नपन आना जैसी समस्याएं हो सकती हैं.
डायबिटीज को कण्ट्रोल करने के लिए जितना महत्त्व दवा और व्यायाम का है उतना ही महत्व आहार या डाइट का हैं. माना जाता है कि डायबिटीज के मरीज नॉर्मल रुटीन लाइफ नहीं जी सकते इसलिए उन्हें एकदम स्ट्रिक्ट डाइट लेना चाहिए.
आपको बता दें कि मधुमेह रोग के होने का कारण इन्सुलिन नामक हार्मोन का स्राव है. इसके होने के अन्य कारणों में आप अत्यधिक तनाव, वजन या उम्र का बढ़ना के साथ ही जेनेटिक कारण भी हैं. यह एक ऐसी बीमारी है जिसमें ज्यादा से ज्यादा परहेज ही आपको सुरक्षित रखता है. यदि आपने परहेज में कोई गलती की या एक आवश्यक निश्चित दिनचर्या का अनुसरण नहीं किया तो आपको उसी अनुपात में परेशानी ज्यादा झेलना पड़ सकता है. ऐसे में आपके लिए एक निश्चित डाइट चार्ट का अनुसरण करना नितांत आवश्यक हो जाता है.
डाइट चार्ट
शुगर की बीमारी ऐसी है कि यदि ये एक बार आपको हो जाए तो ये उम्र भर आपके साथ बनी ही रहती है. आप ज्यादा से ज्यादा संयम बरत कर इसको नियंत्रित कर सकते हैं. और ऐसा करने के लिए आपको एक निश्चित दिनचर्या का अनुसरण एवं पोषण युक्त आहार के सेवन की आवश्यकता होगी. मोटापा बढ़ना, तनाव की अधिकता, असंयमित खानपान एवं व्यायाम न करने की वजह से आपको मधुमेह का शिकार होना पड़ता है. इसलिए यदि आप इससे निपटना चाहते हैं तो आपको इन्हें ही नियमित करना होगा. ऐसा न कर पाने के कारण ही इस बीमारी से प्रभावित लोगों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है. जिन लोगों को ब्लड शुगर है उनके लिए संतुलित और नियमित भोजन अत्यंत आवश्यक है. इसके अलावा आप अनुकूल डाइट चार्ट का अनुसरण करके अपने मधुमेह को नियंत्रित करने के साथ ही इंसुलिन के डोज़ में भी कमी ला सकते हैं.
यदि आप इसके शिकार हैं तो आपको प्रतिदिन लिए जाने वाले कुल आहार में लिए जाने वाले कैलोरी का कार्बोहाइड्रेट, वसा और प्रोटीन से क्रमशः 40 प्रतिशत, 40 प्रतिशत और 20 प्रतिशत खाद्य पदार्थों से लिया जाना चाहिए. लेकिन जो लोग मोटापे के शिकार हैं उनके लिए कुल कैलोरी का 60 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट से, 20 प्रतिशत फैट से व 20 प्रतिशत प्रोटीन से लेना चाहिए.
आइए हम जानते हैं डायबिटीज के रोगी आइडियल डाइट चार्ट किस प्रकार होनी चाहिए और साथ ही कुछ खास हिदायतें किसी पर्टिकुलर स्थिति पर डायबिटीज को कंट्रोल करने के निर्देश.

• सुबह 6 बजे - एक ग्लास पानी में आधा चम्मच मेथी पावडर डालकर पीजिए.

• सुबह 7 बजे - एक कप शुगर फ्री चाय, साथ में 1-2 हलके शक्कर वाली बिस्कुट ले सकते हैं.

• नाश्ता / ब्रेकफास्ट - साथ आधी कटोरी अंकुरित अनाज और एक गिलास बिना क्रीम वाला दूध.

• सुबह 10 बजे के बाद - एक छोटा फल या फिर नींबू पानी.

• दोपहर 1 बजे यानी लंच - मिक्स आटे की 2 रोटी, एक कटोरी चावल, एक कटोरी दाल, एक कटोरी दही, आधी कटोरी सोया या पनीर की सब्जी, आधी कटोरी हरी सब्जी और साथ में एक प्लेट सलाद.

• शाम 4 बजे - बिना शक्कर या शुगर फ्री के साथ एक कप चाय और बिना चीनी वाला बिस्किट

• या टोस्ट या 1 सेब.

• शाम 6 बजे - एक कप सूप पिएँ

• डिनर - दो रोटियां, एक कटोरी चावल (ब्राउन राइस हफ्ते में 2 बार) और एक कटोरी दाल, आधी कटोरी हरी सब्जी और एक प्लेट सलाद.

• बिना क्रीम और चीनी के एक गिलास दूध पिएँ. ऐसा करने से अचानक रात में शुगर कम होने का खतरा नहीं होता.

• एक खास हिदायत मधुमेह के मरीजों को उपवास करने से बचना चाहिए. इसके अलावा भोजन के बीच लंबा गैप भी नही करना चाहिए और रात के डिनर में हल्का भोजन करना चाहिए. इसके अलावा नियमित रूप से योगा और व्यायाम करने से भी ब्लड शुगर नियंत्रित रहता है.

• रोजाना इस डाइट चार्ट को फॉलो करने के साथ ही बताई गई कुछ एक चीजें और इस्तेमाल करें.

• दरारा पिसा हुआ मैथीदाना एक या आधा चम्मच खाना खाने के 15-20 मिनट पहले लेने से शुगर कंट्रोल में रहती है और इससे और भी कई अंगों को फायदा होता है.

• रोटी के आटे को बिना चोकर निकाले यूज़ में लाएं हर चाहें तो इसकी गुणवत्ता बढ़ाने के लिए इसमें सोयाबीन मिला लें.

• घी और तेल का दिनभर में कम से कम इस्तेमाल करें.

• सभी सब्जियों को कम से कम तेल का प्रयोग करके नॉनस्टिक कुकवेयर में पकाएं. हरी पत्तेदार सब्जियां ज्यादा से ज्यादा खाएं.

• शुगर रोगी को खाने से लगभग 1 घंटा पहले अच्छी स्पीड पैदल चलना चाहिए और साथ ही व्यायाम और योगा भी करें. सही समय पर इंसुलिन व दवाइयां लेते रहें. नियमित रूप से चिकित्सक के पास जांच कराएं.

• इसके साथ शुगर के मरीज को प्रोटीन अच्छी मात्रा में व उच्च गुणवत्ता वाला लेना चाहिए. इसके लिए दूध, दही, पनीर, अंडा, मछली, सोयाबीन आदि का सेवन ज्यादा करना चाहिए. इंसुलिन ले रहे डायबिटिक व्यक्ति एवं गोलियां ले रहे डायबिटिक व्यक्ति को खाना सही समय पर लेना चाहिए. ऐसा न करने पर हायपोग्लाइसीमिया हो सकता है. इसके कारण कमजोरी, अत्यधिक भूख लगना, पसीना आना, नजर से धुंधला या डबल दिखना, हृदयगति तेज होना, झटके आना एवं गंभीर स्थिति होने पर कोमा में जाने जैसी विपत्ति का भी सामना करना पड़ सकता है.

• डायबिटिक व्यक्ति को हमेशा अपने साथ कोई मीठी चीज जैसे ग्लूकोज, शक्कर, चॉकलेट, मीठे बिस्किट रखना चाहिए. यदि हायपोग्लाइसीमिया के लक्षण दिखें तो तुरंत इनका सेवन करना चाहिए. एक सामान्य डायबिटिक व्यक्ति को ध्यान रखना चाहिए कि वे थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ खाते रहें. दो या ढाई घंटे में कुछ खाएं. एक समय पर बहुत सारा खाना न खाएं.

• मधुमेह पीड़ितों को नियमित रूप से डबल टोन्ड दूध का ही इस्तेमाल करना चाहिए. इसके साथ ही ये भी ध्यान रखें कि आपके खाद्य पदार्थों में कैलोरी की मात्रा कम से कम हो. इसके लिए आप छिलका युक्त भुना हुआ चना, परमल, गेहूं या मूंग आदि कोई अंकुरित अनाज, सूप और सलाद इत्यादि का भरपूर इस्तेमाल करें. बताते चलें कि दही या छाछ के इस्तेमाल से ग्लूकोज की मात्रा में कमी आती है.

82 people found this helpful

Healthy Diet Chart For Arthritis Patients - गठिया रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For Arthritis Patients - गठिया रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

अर्थराइटिस यानी गठिया जोड़ों की बीमारी है. अर्थराइटिस की शिकायत होने पर चलने में तकलीफ, जोड़ों में दर्द की शिकायत होती है. लेकिन कुछ खाद्य प‍दार्थ ऐसे है जिनसे अर्थराइटिस का दर्द कम और कुछ से दर्द बढ़ सकता है. आइए ऐसे ही कुछ खाद्य प‍दार्थों के बारे में जानें.
अर्थराइटिस में क्‍या खायें
अर्थराइटिस यानी गठिया जोड़ों की बीमारी है. अर्थराइटिस की शिकायत होने पर चलने में तकलीफ, जोड़ों में दर्द की शिकायत होती है. हालांकि यह बीमारी उम्रदराज लोगों को होती है, लेकिन बदली हुई लाइफस्‍टाइल के कारण इसकी चपेट में वर्तमान में युवा भी आ रहे हैं. अर्थराइटिस का दर्द इतना तीव्र होता है कि व्यक्ति को चलने–फिरने और यहां तक कि घुटनों को मोड़ने में भी बहुत परेशानी होती है. लेकिन आहार में कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल कर आप इस समस्‍या से बच सकते हैं.
लहसुन का सेवन
लहसुन रक्त शुद्ध करने में सहायक है. अर्थराइटिस के कारण रक्त में यूरिक एसिड बहुत अधिक मात्रा में बढ़ जाता है. लहसुन के रस के प्रभाव से यूरिक एसिड गलकर तरल रूप में मूत्रमार्ग से बाहर निकल जाता है.
अजमोद
अजमोद गठिया से ग्रस्त मरीजों के लिए विशेष रूप से उपयोगी होता है. गठिया मरीज अजमोद के रस का इस्तेमाल करके अपनी परेशानी कम कर सकते हैं. क्योंकि अजमोद एक मूत्रवर्धक के रूप में किडनी की सफाई के लिए जाना जाता है. किडनी में मौजूद अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निष्कासित करके यह आपको स्वस्थ रखता है.
अदरक
अदरक रक्त प्रवाह और परिसंचरण में सुधार करता है. ठंड के मौसम के दौरान खराब जोड़ों के दर्द का अनुभव करने वाले अधिक संवेदनशील लोगों के लिए विशेष रूप से अच्छा होता है. जोड़ों के दर्द से परेशान लोगों को हर रोज दो सौ ग्राम अदरक दो बार लेने से दर्द में बहुत राहत मिलती है.
कैमोमाइल टी
अर्थराइटिस के लिए कैमोमाइल टी सबसे ज्‍यादा फायदेमंद मानी जाती है. इसमें मौजूद एंटी इंफेल्‍मेटेरी तत्‍व अर्थराइटिस के इलाज में फायदेमंद है. इसे आप चाय की तरह या खाने के तौर पर ले सकते हैं. यह जोड़ो में यूरिक एसिड बनने से रोकता है.
सेब साइडर सिरका
सेब साइडर सिरका आपके पाचन में सुधार करता है, विशेष रूप से प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों को बेहतर तरीके से पचाता है. उम्र बढ़ने पर हमारे पेट की क्षमता कम और जोड़ों का दर्द बढ़ जाती है. ऐसे में सेब साइडर सिरका बहुत मददगार होता है. सेब साइडर सिरका आपके शरीर को अधिक क्षारीय बनाने में मददकर जोड़ों के दर्द को कम करता है.
अर्थराइटिस में इन आहार से बचें
अर्थराइटिस होने पर शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा अधिक हो जाती है, इसके कारण ही जोड़ों में सूजन होती है. इसकी पीड़ा असहनीय होती है, खासकर ठंड के मौसम में इसका दर्द बर्दाश्‍त से बाहर हो जाता है. कुछ आहार तो ऐसे है जिनको खाने से अर्थराइटिस का दर्द और भी बढ़ सकता है. आइए जानें, किन आहार से बढ़ सकता है अर्थराइटिस का दर्द.
डेयरी प्रोडक्‍ट
अर्थरा‍इटिस में दुग्‍ध उत्‍पादों को खाने से बचना चाहिए. दुग्‍ध उत्‍पादों से बने खाद्य-पदार्थ भी अर्थराइटिस के दर्द को बढ़ा सकते हैं. क्‍योंकि दुग्‍ध उत्‍पाद जैसे, पनीर, बटर आदि में कुछ ऐसे प्रोटीन होते हैं जो जोड़ों के आसपास मौजूद ऊतकों को प्रभावित करते हैं, इसकी वजह से जोड़ों का दर्द बढ़ सकता है.
टमाटर न खायें
टमाटर हमारे शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है, क्‍योंकि इसमें विटामिन और मिनरल भरपूर मात्रा में मौजूद होता है, लेकिन यह अर्थराइटिस के दर्द को बढ़ाता भी है. टमाटर में कुछ ऐसे रासायनिक घटक पाये जाते हैं जो गठिया के दर्द को बढ़ाकर जोड़ों में सूजन पैदा कर सकते हैं. इसलिए टमाटर खाने से परहेज करें.
खट्टे फल
वैसे तो खट्टे फल अत्‍यंत स्‍वस्‍थ होते है, और विटामिन सी और अन्‍य पोषक तत्‍वों को प्राप्‍त करने का एक शानदार तरीका है. लेकिन कुछ लोगों में या जोड़ों के दर्द में वृद्धि कर सकते हैं. अगर आप स्‍वस्‍थ आहार का अनुसरण करके भी जोड़ों में दर्द से पीड़‍ित है तो एक महीने के लिए अपने आहार से खट्टे फलों को हटा कर देखें कि क्‍या होता है.
मछली न खायें
अर्थराइटिस होने पर ओमेगा-3 फैटी एसिड युक्‍त आहार का सेवन नहीं करना चाहिए. मछली का सेवन करने से अर्थराइटिस का दर्द बढ़ सकता है. मछली में अधिक मात्रा में प्यूरिन पाया जाता है. प्यूरिन हमारे शरीर में ज्यादा यूरिक एसिड पैदा करता है. इसलिए सालमन, टूना और एन्कोवी जैसी मछलियों को खाने से बचना चाहिए.
शुगरयुक्‍त आहार
चीनी शरीर के हर हिस्से में सूजन का कारण बनती है, इससे आपकी धमनियों में सूजन बढ़ जाती है. यह अथेरोस्क्लेरोसिस (धमनियों की दीवारों के अंदर जमा फैट) के अधिक खतरे का कारण बनता है, और प्रतिरक्षा कोशिकाओं के इंफ्लेमेटरी केमिकल के स्राव को उत्तेजित करता है. इसलिए अर्थराइटिस के मरीज को चीनी और मीठा खाने से परहेज करना चाहिए.
एल्‍कोहल और सॉफ्ट ड्रिंक
एल्कोहल खासकर बीयर शरीर में यूरिक एसिड के स्‍तर को बढ़ाता है, और शरीर से गैर जरूरी तत्व निकालने में शरीर को रोकता भी है. इसी तरह सॉफ्ट ड्रिंक खासकर मीठे पेय या सोडा में फ्रक्टोज नामक तत्व पाया जाता है, जो यूरिक एसिड के बढ़ने में मदद करता है. 2010 में किए गए एक शोध के अनुसार, जो लोग ज्यादा मात्रा में फ्रक्टोस वाली चीजों का सेवन करते हैं, उनमें अर्थराइटिस होने का खतरा दोगुना अधिक होता है.

1 person found this helpful

Healthy Diet Chart For Cholesterol Patients In Hindi - कोलेस्ट्रॉल रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For Cholesterol Patients In Hindi - कोलेस्ट्रॉल रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

शरीर में कोलेस्ट्रॉल को स्वयं देख नहीं सकते, सिर्फ अनुभव कर सकते हैं. जब इसकी मात्रा अधिक हो जाती है तो हृदयाघात और दिल से संबंधित अन्य रोगों की संभावना बढ़ जाती है. आम तौर पर पुरुषों के लिए ४५ वर्ष और महिलाओं के लिए ५५ वर्ष की आयु के बाद हृदय से जुड़े रोगों की संभावना अधिक होती है. लेकिन ऐसा भी नहीं है कि अपने शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को संतुलित न कर सकते हों. इसके लिए अपनी जीवन शैली में थोड़ा बदलाव करना होता है. यदि वजन अधिक है तो इसमें कमी लाने का प्रयास करना चाहिये. भोजन में कम कोलेस्ट्रॉल मात्रा वाले व्यंजन चुनें. तैयार भोजन और फास्ट फूड से बचें. तली हुई चीजें, अधिक मात्रा में चॉकलेट न खाएं. भोजन में रेशायुक्त सामग्री को शामिल करें. यह कोलेस्ट्रॉल को संतुलित बनाए रखने में सहायक होते हैं.
हरी और काली चाय कोलेस्ट्रॉल के स्तर को घटाने में कारगर है. जो लोग ज्यादा चाय पीते हैं उनमें कोलेस्ट्रॉल भी कम होता है और स्वास्थ्य संबंधी अन्य समस्याएँ भी कम होती हैं. हरी और काली चाय में जो प्राकृतिक रूप से कुछ रसायनों का मिश्रण होता है, उनसे कोलेस्ट्रॉल काफ़ी कम हो जाता है. प्रोसाइन्डिंस नामक रसायन जो स्वास्थ्यवर्धक होता है, यह डार्क चॉकलेट में भी पाया जाता है. यह रक्तवाहिका प्रकार्यों को बेहतर करते हैं, आर्टरी-क्लॉगिंग एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम करते हैं और हार्ट के लिए हेल्दी एचडीएल कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ाते हैं.
1. फाइबर युक्त नाश्ता
इसमें दलिया, साबुत अनाज, रेशेदार फल आदि का सेवन करें. ऐसे अनाज खरीदते समय उसके डब्बे पर देख लें, 5 ग्राम या इससे ज्यादा मात्रा में फाइबर मौजूद होना चाहिए. जई ब्रान या राइस ब्रान ज्यादा प्रभावी होता है. इसका इस्तेमाल से आप अपना कोलेस्ट्राल नियंत्रित कर सकते हैं.
2. साबुत अनाज
जिन लोगों को कोलेस्ट्राल से सम्बंधित समस्या है उन्हें साबुत अनाज खाने को प्राथमिकता देनी चाहिए. इन लोगों को साबुत अनाज से बने ब्रेड, पास्ता, क्रैकर्स और सफ़ेद चावल के बदले ब्राउन राइस का इस्तेमाल करना चाहिए.
3. बिन्स
सप्ताह में कम से कम 3 दिन आपको बिन्स खाना चाहिए. सम्भव हो तो आपको बिन्स का सूप पीना चाहिए. इसके अलावा बिन्स की सहयाता से बने तमाम डिशेज का भी सेवन कर सकते हैं. इससे स्वाद में भी अंतर आता रहेगा और आपका सेहत भी बना रहेगा.
4. प्रोटीन युक्त सोया
कोलेस्ट्राल के अनियमित होने पर प्रोटीन युक्त फलियों का सेवन काफी राहत देने वाला होता है. यदि आप प्रोटीन युक्त फलियों का सेवन करें तो ये ज्यादा प्रभावी होता है. इसके अलावा आप सोया मिल्क आदि भी ले सकते हैं.
5. फल और सब्जियां
इस दौरान आपको फल और सब्जियों का सेवन खूब करना चाहिए. इसके लिए आपको अपने दैनिक आहार में इसे शामिल कर लेना चाहिए. नाश्ते, दोपहर का भोजन और रात्री भोजन के दौरान कभी साबुत फल तो सलाद के रूप में खाते रहना चाहिए.
6. साबुत फल खाएं
यदि आप भी कोलेस्ट्राल की समस्या से दो-चार हो रहे हैं तो आपको भी साबुत फल खाने पर विशेष ध्यान देना चाहिए. कहने का तात्पर्य यह है कि कई लोग फल खाने के बदले जूस पी लेते हैं जो कि ज्यादा लाभदायक नहीं होता है.
7. लहसुन का सेवन
अनियमित कोलेस्ट्राल के मरीजों को लहसुन का सेवन करना चाहिए. लहसुन का सेवन उनके लिए फायदेमंद रहता है. इसके लिए आप चाहें तो कच्चा या पक्का दोनों तरह के लहसुन का इस्तेमाल कर सकते हैं. ये आपके लीवर को कम कोलेस्ट्राल का उत्पादन करने के लिए प्रोत्साहित करता है.
8. ये भी खाएं
इस दौरान और भी कई ऐसे खाद्य पदार्थ है जिसका सेवन करने से मदद मिलती है. इसमें कच्चा प्याज, जैतून का तेल, बादाम और अखरोट का सेवन शामिल है. साल्मोन, ओलिव ऑइल, अखरोट और बादाम तो उच्च वसा युक्त होते हैं और आपके कोलेस्ट्राल को सुधारते हैं.
9. विटामिन सी और ई
इस दैरान आपको उन खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जो प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट से युक्त होते हैं. इसके लिए विटामिन सी और ई का सेवन महत्वपूर्ण है. इनके लिए आप स्ट्रॉबेरी, संतरा,पपीता, ब्रोकली का सेवन विटामिन सी के लिए और सूर्यमुखी के बीज, मुन्गाफलियाँ, बादाम, अखरोट, मूंगफली और सोयाबिंस का सेवन विटामिन ई के लिए करें.

3 people found this helpful

Healthy Diet Chart For Asthma Patients - अस्थमा रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For Asthma Patients - अस्थमा रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

श्वसन संबंधी कई बीमारियों में एक अस्थमा भी है. अस्थमा के दौरान श्वसन नाली में सूजन आ जाने के कारण सांस लेने में दिक्कत आने लगती है. अस्थमा के होने के कई कारण होते हैं. लेकिन बीमारी के प्रभाव को आप सही खान-पान अपना कर दूर कर सकते हैं. दरअसल जीवनशैली में आए बदलाव के कारण हमारा खान-पान इतना गड़बड़ हो गया है. इसलिए ये आवश्यक है कि अस्थमा सेबचने या इसकी संभावना को कम करने के लिए हमें अपने आहार शैली में बदलाव करना होगा. यदि आपइन बदलावों को सही तरीके से अपने जीवन में लागू करेंगे तो इसके बहुत सकारात्मक परिणाम आ सकते हैं. आपको बता दें कि कि अस्थमा के मरीजों के पास एलर्जिक खाने की एक लम्बी लिस्ट होती है और इतना ही नहीं खाने में ऐसी भी बहुत सी चीजें हो सकती है जो उनके स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायी होती हैं.अस्थमा से बचने के बहुत से उपाय समय समय पर खोजे गये हैं, इनमें से हाल मे खोजा गया एक उपाय है आस्थमा के मरीज़ के डायट पर ध्यान देना. आइए हम आपको बताते हैं कि अस्‍थमा के मरीजों के लिए क्‍या डाइट प्‍लान होना चाहिए.

अस्थमा में क्या खाएं?
अस्थमा के मरीज यदि अपने खान-पान में आवश्यकता के अनुसार सावधानी बरतें तो इससे वो अपनी परेशानी काफी हद तक कम कर सकते हैं. इसमें आपके लिए ध्यान रखने की बात ये है कि आप उन खाद्यपदार्थों का सेवन ज्यादा से ज्यादा करें जिनमें एंटी ऑक्सीडेंट्स की प्रचुर मात्रा पाई जाती है. आहार में जितनी अधिक विटामिन सी की मात्रा होगी, आपके लिए उतना ही बेहतर होगा.खट्टे फल, जूस, ब्रोकली, स्कवॉश और अंकुरित खाद्य पदार्थो को अपने भोजन में जरूर शामिल करें, क्योंकि इनमें विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. विटामिन सी जलन व सूजन को कम करता है और श्वसन संबंधी समस्याओं से लड़ने में मदद करता है.पालक जैसी हरी पत्तेदार सब्जियां, लाल व पीली मिर्च, गाजर व खुबानी आदि को अपने भोजन में जरूर शामिल करें. यह अस्थमा रोग में राहत प्रदान करती हैं. हरी पत्तेदार सब्जियों में बीटा-कैरोटीन नामक तत्व होता है, जो कि अस्थमा मरीजों के लिए बहुत मददगार होता है.

अस्थमा में क्या न खाएं?
आमतौर पर एलर्जी के शिकार जल्दी बनते हैं. इसलिए इन्हें उन चीजों से दूर रहने की सलाह दी जाती है, जिनसे एलर्जी हो सकती हैं, जैसे कि अंडा, मछली या तीखी महक वाली चीजें. हालांकि हर किसी की एलर्जी हो, यह जरूरी नहीं है. इसलिए यह जानना जरूरी हो जाता है कि अस्थमा के मरीजों के स्वास्थ्य के ऐसे कौन से आहार उपयोगी है जिससे उनका स्वास्थ्य सकारात्मक रूप से प्रभावित हो सके. अस्थमा के मरीज को खट्टा और सामान्य ठंडा नहीं खाना चाहिए, यह मिथ है. जिन्हें इनमें एलर्जी होती है, उन्हें ही इससे नुकसान होता है. लेकिन वो लोग जो थियोफाइलिन ले रहे है उन्हें कैफीन युक्त चाय, काफी या कोल्ड ड्रिंक नहीं लेना चाहिए क्योंकि थियोफाइलिन और कैफीन मिलकर टाक्सिक हो सकते हैं. अगर आपके अटैक का कारण चिन्ता है तो आप ज़्यादा मात्रा में कैफीन ले सकते हैं. इस तरह के खाद्य पदार्थ का इस्तेमाल कर आप न केवल आस्थमा से बच सकते हैं बल्कि स्वास्थ्य की दृष्टि से भी यह आहार बहुत ही पोषक हैं.

2 people found this helpful

Thyroid Diet Chart In Hindi - थाईरॉयड के मरीजों का डाइट चार्ट

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Thyroid Diet Chart In Hindi -  थाईरॉयड के मरीजों का डाइट चार्ट

गले के अगले हिस्से में स्थित थायराइड ग्रंथि को साइलेंट किलर भी कहा जाता है. ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसमें आने दोषों का पता समय पर नहीं चल पाता है. जाहिर है किसी भी बिमारी का समय पर इलाज न हो पाने से स्थिति खतरनाक हो जाती है. कभी-कभी तो मौत भी हो सकती है. आपको बता दें कि आकार में बेहद छोटी सी लगाने वाली ये ग्रंथि हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.

थायराइड ग्रंथि के ठीक से काम न करने से हार्मोन का स्त्राव प्रभावित होता है. लेकिन यहाँ ये जानना भी बेहद महत्वपूर्ण है कि थायराइड ग्रंथि का कम या ज्यादा काम करना भी परेशानी का कारण बनता है. जीवनशैली और खान-पान में आने वाली अनियमितता ही थाइराइड की समस्या उत्पन्न करती है. इसका मतलब है कि यदि आप अपने जीवनशैली और खान-पान को लेकर सजग हो जाएँ तो इसकी संभावना काफी हद तक कम हो सकती है. इसके लिए हम आपको थायराइड का डाइट चार्ट बता देते हैं-

थायराइड पीड़ितों के लिए डाइट चार्ट-

1. आयोडीन युक्त खाना
थायराइड पीड़ितों को खाने-पीने के में आयोडीनयुक्त खाद्यपदार्थों को शामिल करना चाहिए. यानी ऐसे खाद्य पदार्थ जिसमें आयोडीन की पचुर मात्रा में पाया जाता हो. इसका कारण ये है कि आयोडीन की मात्रा ही थायराइड की क्रियाशीलता को प्रभावित करती है.
2. खाने का स्त्रोत
आयोडीन के लिए हम समुद्री जीवों या समुद्र से प्राप्त खाद्य पदार्थों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. मछलियों, समुद्री शैवाल और समुद्री सब्जियों में प्रचुर मात्रा में आयोडीन पाया जाता है.
3. कॉपर और आयरन
इसके अलावा कॉपर और आयरन से युक्‍त आहार लेना भी थायराइड में काफी लाभदायक होता है. इससे थायराइड ग्रंथि की क्रियाशीलता में वृद्धि होती है.
4. इसके स्त्रोत
कॉपर के लिए आपको काजू, बादाम और सूरजमुखी का बीज लेना चाहिए. इसमें कॉपर की प्रचुरता होती है.
5. आयरन की भूमिका
आयरन के लिए हरी और पत्‍तेदार सब्जियों से बेहतर विकल्प तो हो ही नहीं सकता है. विशेष रूप से पालक में आयरन की भरपूर मात्रा पायी जाती है.
6. पनीर और हरी मिर्च
थायराइड के मरीजों को पनीर और हरी मिर्च के साथ-साथ टमाटर का भी सेवन करना चाहिए. क्योंकि ये भी थायराइड गंथि के लिए बेहद फायदेमंद है.
7. विटामिन और मिनरल्स
आपको अपने डाइट चार्ट में विटामिन और मिनरल्‍स युक्‍त आहार को प्राथमिकता देनी चाहिए. इससे थायराइड ग्रंथि की क्रियाशीलता में इजाफा होता है.
8. आइस क्रीम और दही
थायराइड में कम वसायुक्‍त आइसक्रीम और दही का भी सेवन भी थायराइड के मरीजों के लिए काफी लाभदायक है.
9. गाय का दूध
इसके अलावा कुछ घरेलु उपाय भी अत्यंत लाभदायक है जैसे कि गाय का दूध भी इसके मरीजों को पीना चाहिए.
10. नारियल का तेल
नारियल के तेल से भी आप थायराइड ग्रंथि की सक्रियता बढ़ा सकते हैं. इसके उपयोग में आसान बात ये है कि इसका प्रयोग आप खाना बनाने के दौरान भी कर सकते हैं.

इन खाद्य-पदार्थों के इस्तेमाल से बचें -
1. थायराइड के मरीजों के डाइट चार्ट में सोया और उससे बने खाद्य-पदार्थों का कोई स्थान नहीं रहना चाहिए.
2. थायराइड के मरीजों को जंक और फास्‍ट फूड से भी दूर ही रहना चाहिए. क्योंकि फास्ट फ़ूड थायराइड ग्रंथि को प्रभावित करते हैं.
3. यदि परहेज करने वाली सब्जियों की बात करें तो ब्राक्‍कोली, गोभी जैसे खाद्य-पदार्थों से दूर ही रहना चाहिए.

कुछ अन्य उपाय
थायराइड के मरीजों को इस डाइट चार्ट का पालन करने के साथ ही कुछ और बातों का ध्यान रखना चाहिए. नियमित रूप से व्यायाम करने की आदत डाल लेनी चाहिए. इसके साथ ही किसी योग प्रशिक्षक की सलाह से योग भी करना चाहिए. क्योंकि इससे थायराइड ग्रंथि की क्रियाशीलता बढ़ती है. हलांकि इन सबके बावजूद किसी चिकित्सक की सलाह अवश्य लें.
 

14 people found this helpful

Diet Chart For Weight Loss in hindi - वजन घटाने के लिए आहार चार्ट

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Diet Chart For Weight Loss in hindi -  वजन घटाने के लिए आहार चार्ट

मोटापा किसी के लिए भी परेशानी और शर्मिंदगी का सबब बन जाता है। थुलथुल ढीला, भारी भरकम शरीर किसी के लिए भी अभिशाप है । यह पूरी पर्सनालिटी की रौनक को खत्म कर देता है । ज्यादा मोटापा सिर्फ सुंदरता ही कम नहीं करता बल्कि शरीर को बीमारियों का घर बना देता है। एक अच्छी पर्सनैलिटी की पहचान स्वस्थ शरीर से होती है। बिज़ी लाइफस्टाइल के चलते, आजकल सभी अपनी फिटनेस का ख़ास ख़्याल नहीं रख पाते। पर आप अपने काम में तभी परफेक्ट हो पाएंगे, जब आपका स्वास्थ्य अच्छा और आप फिट होंगे ।ऐसे में लोग वजन  कम करने के लिए घंटो जिम में पसीना बहाते हैं, भूखे रहते हैं, दवाइयां भी लेते हैं कई बार जबकि मोटापा कम करने के लिए सिर्फ ये सब तरीके ही सही नही है बल्कि जल्दी एक्स्ट्रा पेट घटाने के लिए जरूरी है कि आप सही डाइट चार्ट फॉलो करें ।

डाइट चार्ट में इस बात का ख्याल रखा गया है कि आपको जरूरी विटामिन्स और मिनरल्स मिलते रहें। वैसे जरूरी नहीं कि हर शख्स पर यह पूरी तरह से लागू होगा मगर हां आप इसमें थोड़ा फेरबदल कर अपना सकती हैं।
एक खास बात आपको ये ध्यान रखनी होगी कि जब आप वजन घटाना शुरू करती हैं तो सबसे पहली कोशिश कुछ हद तक कामयाब हो जाती है। शुरू में आमतौर पर सभी लोगों का वजन दो चार किलो कम हो जाता है, मगर बाद में फैट कम नहीं होता। इसलिए हर बार आपको अपना डाइट चार्ट पहले के मुकाबले ज्यादा हार्ड बनाना होता है। वजन घटाने के लिए इस डाइट चार्ट को आप आजमाकर देखें फर्क जरूर पड़ेगा।

वैसे तो हर व्यक्ति की शारीरिक संरचना और उसके द्वारा की जाने वाली मेहनत के हिसाब से खान-पान की आवश्यकता अलग-अलग होती है। इसके लिए बेहतर होगा बीएमआर निकाला जाए जो यह बताएगा कि शरीर को कम से कम कितनी कैलोरी की आवश्यकता है।
शरीर का वजन कम करने के लिए कम कैलोरी लेनी चाहिए और इसके लिए बैलेंस्ड डाइट चार्ट बनाया जाना जरूरी होता है। दिमाग सुचारू रूप से कम करे और शरीर थके नहीं, इन बातों को ध्यान में रखते हुए 1200 से 1800 कैलोरी की आवश्यकता होती है। इतनी कैलोरी ऊर्जा के रूप में शरीर में बेहतर ढंग से संचरित हो जाती है जो कि फैट के रूप में नहीं जमती।

  

  • तीन मुख्य भोजन, जैसे नाश्ता, दोपहर का खाना और रात का खाना 300 से 350 कैलोरी का रखें।
  • बाकी बचे 300 कैलोरी में स्नेक्स तथा अन्य चीजों को रखें।
  • बेवरेज के तौर पर ग्रीन टी अपनाएं। ग्रीन टी वजन कम करने में सहायक है।
  • जो भी खाना खाएं, सभी गेहूं से बना हो या ब्राउन चावल हो। मैदा या सफेद चावल न खाएं।

डाइट चार्ट
आपको नाश्ते, दोपहर के भोजन और रात के खाने को ऐसे डिवाइड करें।

  • सुबह उठते ही – पानी पिएं, हो सके तो कम से कम दो गिलास और ज्यादा से ज्यादा एक लीटर। पानी हल्का गुनगुना होगा तो अच्छी बात है वरना जैसा आपको ठीक लगे।
  • अगर कर सकती हैं तो कुंज्जल करें। यह एक यौगिग क्रिया है जिसे वमन धौती भी कहा जाता है। इसमें तकरीबन दो लीटर हल्का गर्म पानी पीकर उल्टी की जाती है। अगर बीपी की प्रॉबलम नहीं है तो पानी में हल्का नमक भी मिला लें। यह वैसे तो बहुत आसान है मगर बेहतर होगा शुरू में आप किसी जानकार के सामने यह करें उसके बाद आप खुद कर सकती हैं।
  • नाश्ता – ओट्स बनायें मगर ये इंस्टेंट ओट्स न हों। सादे ओट्स का पैकेट लाएं और उसमें प्याज, लहसुन, दालचीनी, जरा सी मंगरैल उर्फ कलौंजी डालें, बाकी नमक वगैरा तो डालना ही है। इसमें मौसम के हिसाब से सब्जियां डाल सकती हैं। हो सके तो ब्रोकली जरूर डालें या कॉर्नफ्लेक्स और डबल टोंड दूध या अगर आप नॉन वेजिटेरियन हैं तो तीन या चार उबले अंडे का सफेद हिस्सा। चाहें तो बिना चीनी वाली नींबू की शिकंजी। शिकंजी पहले पियें बाद में अंडे खाएं या कभी कभी आप नाश्ते में दही के साथ उबला आलू भी ले सकती हैं। इसमें हरा धनिया भी डाल लिया करें।
  • ब्रंच – पांच से दस बादाम, साथ में कॉफी या ग्रीन टी या अदरक, तुलसी, दालचीनी, इलाइची वगैरा की चाय बस इसमें चीनी की बजाए शुगर फ्री हो।
  • लंच – एक कटोरी ब्राउन राइस, सलाद, दाल, मल्टी ग्रेन आंटे की एक या दो रोटी।
  • शाम की चाय-शाय – कोई वेज सूप या भुने चने के साथ चाय या कॉफी या ग्रीन टी। चाहें तो स्प्राउट भी ले सकती हैं।
  • रात का खाना – एक कटोरा वेज सूप, एक कटोरा सलाद, या एक बड़ा कटोरा पपीता या एक कटोरा भरकर सब्जियां इसमें लहसुन, प्याज जरूर हो या नॉन वेजेटेरियन हैं तो तीन एग व्हाइट या 150 ग्राम चिकन ब्रेस्ट, या दो लेग पीस।

जरूरी नहीं है कि आप इन्हीं चीजों का सेवन करें। जरूरी ये है कि आप कैलोरी की सही मात्रा लें।  इसके साथ ही तरल पदार्थों का अधिक सेवन और व्यायाम को भी अपनी दिनचर्या में शामिल करना होगा।
 

57 people found this helpful
Icon

Book appointment with top doctors for Sportsman Diet Chart treatment

View fees, clinic timings and reviews