Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Pregnancy Query Tips

Pregnancy - Your Guide To Unravel First Trimester!

Pregnancy - Your Guide To Unravel First Trimester!

So you have just found out that you are pregnant and you and your partner are over the moon about it! While congratulations are in order, so are a host of tips which will help you settle into the pregnancy. It is important to remember that the first trimester of your pregnancy is a crucial phase where you may not change that much physically, but will be prone to many emotional changes. It is also a phase where you will make way for the changes that will inevitably come in the next two trimesters and for a long time after delivery of the baby too. Read on to unravel our first trimester guide.

-  Pregnancy Test: You must ensure that you know you are pregnant by monitoring your menstrual cycles closely so that even one missed period points at the possibility of pregnancy. This test can be a home-based kit available at the chemists' or can even be conducted with a lab test based on a urine sample. Despite the results that you may get on a home pregnancy test, it is best to get a professional opinion as well.

- Finding the Right Doctor: In this phase of your pregnancy itself, it is imperative to home in on a gynaecologist who will put you ease. Take care to pick someone who may be recommended by family and friends. Have a talk with the doctor a few times to see how well he or she engages you as a patient and if you are suitably convinced with the sessions and appointments.

- Activity: While heavy activities may not be recommended by all doctors as the foetus needs to latch on, one can indulge in plenty of walks and a normal routine as well. Ensure that your pregnancy is a normal one and ask your doctor about any precautions that you may need to take with the progressing trimesters. Also, find ways to deal with any morning sickness with the help of the doctor. 

- Supplements: In this crucial phase, ensure that your doctor gives you plenty of folic acid supplements that you must ingest on a regular basis. This will keep any risk of neural tube birth defects at bay. 

- Other Medication: Find out more about over the counter drugs or any medication that you may have been taking as this may have to be stopped or adjusted for the pregnancy. The doctor should be able to guide you on this aspect too.

The other activities during the first trimester include taking prenatal appointments and choosing and interacting with your caregiver who will also be supported after you have had the baby.

Pregnancy - Dietary Tips For You!

Pregnancy - Dietary Tips For You!

When you are expecting, you are eating not only to nourish your body, but also to nourish the foetus growing within you. This has led to the common saying that when pregnancy, ‘eat for two’. However, more than the quantity you eat, it is important for you to make the right choices when it comes to what you are eating.

Here are a few foods you should include in your diet to have a healthy pregnancy:

  1. Fruit and vegetables: Fruits and vegetables are rich sources of vitamins and minerals essential for your baby’s growth and development and to give you the energy you need. They also add fibre to your food and help prevent constipation thereby helping the digestive system function smoothly. To get the most benefits from fruits and vegetables, try eating them raw as much as possible.
  2. Starchy foods: Cereals and grains are essential carbohydrates that are needed when pregnant. To avoid excessive calorie intake, stay away from processed carbohydrates and instead pick whole grains, potatoes, unpolished ricemaize, millets etc to be part of your diet.
  3. ProteinProtein helps build muscle tissue and promotes development in the growing baby. It also helps with the development of the baby’s brain. Meat, fish, eggs, legumes, pulses and nuts are rich sources of proteins that should be essential parts of your diet. However, avoid excessive protein as it can lead to indigestion. Pick lean meats without skin and ensure that they are cooked properly before eating them. Avoid raw preparations such as sushi and raw oysters when pregnant.
  4. Dairy: To build strong bones your baby needs plenty of calcium. Calcium also helps regulate the use of fluids in your body. For this, it is essential that you have plenty of milk and milk products when pregnant. Wherever possible, choose fat-free variants to avoid excessive calorie intake.
  5. Lentils and nuts: Dried beans, lentils and nuts are rich sources of folic acid. Folic acid helps prevent congenital defects like spinal bifida etc that can affect the development of the baby’s spinal cord and brain. The liver is also a rich source of folic acid.

Not everything is good for you. Some things like saturate fats and foods that are high in sugar and salt content are best avoided when pregnant. These foods do not contribute much to your health but lead to weight gain and can increase your cholesterol levels. You should also try and limit your caffeine intake when pregnant.

1 person found this helpful

Pregnancy - What Can Put You In Danger?

Pregnancy - What Can Put You In Danger?

Pregnancy is one of the most delicate phases in the life of a woman and if she is experiencing a high-risk pregnancy then she needs to be extra cautious. It is an extra delicate phase for her and she should watch herself very minutely. She must take good care of herself and if she feels or notices any discomfort, then she must immediately consult her gynaecologist. But what exactly is a high-risk pregnancy?

A high-risk pregnancy is one where the expecting mother or her fetus or both are at a higher risk of developing complications. These complications have the potential to affect the baby as well as the mother. Unfortunately, there is no cure for high-risk pregnancy but the good news is that if managed well, the mother and her baby can be protected from the complications. Also, if a woman is aware of the causes leading to high-risk pregnancy, she can manage it easily.

Causes of high-risk pregnancy

  • Conceiving before 18 and after 35: Different medical studies have established that conceiving after 30 increases the chances of developing complications in the mother and the baby but after 35, these chances are pretty high. The risk of miscarriage is higher and so is the risk of genetic defects in the baby. In the case of teen pregnancy, that is, conceiving before 18, the risks of miscarriage and malnourished baby accompany the mother.
  • Preeclampsia: Preeclampsia is a condition in which is the pregnant woman has high blood pressure and protein in her urine. It is dangerous and can lead to dysfunctional liver and kidney along with blood clotting. A woman experiencing this condition should take adequate bed rest, exercise regularly, eat healthily and follow the medications, if any, prescribed by the doctor.
  • Gestational diabetesHigh blood sugar level during pregnancy is known as gestational diabetes. It puts the baby at the risk of being bigger than the normal size. Mothers can manage it with nutritious fiber-rich diet and regular exercise.
  • Placenta previa: This is a risky condition in which the placenta covers the cervix. It can cause hemorrhage during delivery. If the pregnant woman is over 40 or has had multiple miscarriages in the past or is carrying multiple fetuses then she is at a higher risk of developing this condition.

All these factors make a pregnancy high-risk but managing high-risk pregnancy is in the hands of the woman. So, if she falls into this category, she must:

  • Exercise regularly: Regular exercise keeps tension, high blood pressure, high blood sugar, and other similar conditions in check.
  • Eat healthily: Eating a nutrient-rich diet minimizes the risk of malnutrition-related complications arising after delivery.
  • Avoid stressStress is directly linked to high blood pressure, diabetes, and other health problems. Hence, it should be avoided. Mediation and breathing exercises help to relax the mind and body.
  • Say no to drinking and smoking: Alcohol and cigarette can cause birth defects in the baby and hence, a pregnant woman should abstain from both.
  • Keep in touch with the gynaecologist: Being diagnosed with high-risk pregnancy means that the woman should be extra careful of her health and keep in touch with her doctor so that any adverse condition can be managed before it gets out of hand.
2662 people found this helpful

Sex & Pregnancy - Know Regime For It!

Sex & Pregnancy - Know Regime For It!

One of the most common queries faced by doctors dealing with pregnancies is related to the risks associated with having sex during the gestation and postpartum periods. Such doubts arise from both genuine concerns and also from several superstitions and myths. As a matter of fact, having sex during pregnancy is perfectly normal and safe. However, keeping in mind the changes the woman is going through there are a few specific do's and don'ts you need to follow while having sex during pregnancy.

Do's

1. Be aware
Pay attention to the doctor's evaluation of the expecting mother's condition. Many pregnancy risks can be predicted at an early stage. Abstain in case of predictions pointing to a risky gestation period and/ or delivery. Get yourself tested regularly so that there is no possibility of transmitting infections to the expecting mother.

2. Enjoy foreplay
Pregnancy normally results in increased sensation in the erotogenic zones. Foreplay is a great way to relieve a woman's tension and she will enjoy your touch more than ever.

3. Pay attention to your partner's needs and reactions

4. Women have to go through a lot during pregnancy like fatigue all the time, along with sudden nausea and extreme mood swings. So, paying more attention to your partner's needs and reactions will help make the act more enjoyable for both of you.

Don'ts

1. Don't go for multiple partners
Multiple partners increase the risk of infections. It is not advisable to have sex with multiple partners during this time.

2. Don't Use sex toys
Use of sex toys during pregnancy is discouraged as it increases the risk of infections.

3. Don't Try risky positions and manoeuvres
Please keep your desires for exotic positions in check. Risque behaviour can lead to injuries.

4. Don't Keep yourself ahead of her
It is perfect idiocy to keep your desires ahead of the needs and desires of the love of your life. By putting yourself ahead of her you will not negatively affect her mental health.

5 Do not mix drugs with intimacy
Use of intoxicants during her pregnancy to enhance your senses will put the healthy growth and delivery of the child in jeopardy. A number of birth defects in children are the results of substance use during pregnancy.

5238 people found this helpful

Cautious Signs In Pregnancy That Should Be Handled Immediately!

Cautious Signs In Pregnancy That Should Be Handled Immediately!

If you want to have a safe pregnancy by curtailing all sorts of complications, then you have to promptly respond to warning bells. There are certain warning symptoms that should not be neglected at all as that might put your pregnancy in danger. 

Bleeding
This kind of situation cannot be ignored as that often leads to serious issues like placental abruption or miscarriage. In this case, you are definitely in need of the assistance of any expert midwife.

Swollen face or hands 
Slightly swollen face or hands in pregnancy are normal, but if you observe excessive puffiness, especially on your feet and ankles, then it is a warning sign as it might lead to toxaemia or PIH. Therefore, consulting a doctor is very much needed in this regard.

Abdominal pain
Round-ligament pain is quite normal, and you do not have to worry about the same. But if the pain is accompanied by bleeding, then the danger of miscarriage might come into being, and thus you should be very much alert about the same.

Blurry vision
Both blurry vision and dizziness are the commonest pregnancy symptoms. But if they get increased suddenly, visit your doctor. 

Itching 
Itching is common during pregnancy mostly due to stretching of the skin. Your skin also becomes dry. But if it continues for long, then you should check the same with your doctor for avoiding liver disorder. 

Fever
Exposure to flu and cold viruses increases during pregnancy, as a result of which fever occurs. But if the fever lasts for more than 48 hours, then viral conditions can be expected, which are pretty dangerous. 
Unwanted back-pain
Normal pain in pregnancy is alright, but excessive pain might indicate bladder or kidney infections, preterm labour, miscarriage or cyst. All these conditions should be essentially avoided to ensure a healthy 
pregnancy. 

Gushing of fluid
If you are not in labour, but are feeling wet constantly, then it is better to see a doctor. There might be a great possibility of breaking of water, and this is quite dangerous in the advanced stage of pregnancy. 
Less movement of baby Experiencing baby kicking is quite natural during pregnancy, and if stops suddenly, then there is something wrong. Kicking patterns should be followed and then only you will be able to realize whether the baby is normal or not. 

If you are facing any of the above symptoms, then immediately visit your doctor.
 

1 person found this helpful

Sex During Pregnancy - Do's And Dont's Of It!

Sex During Pregnancy - Do's And Dont's Of It!

One of the most common queries faced by doctors dealing with pregnancies is related to the risks associated with having sex during the gestation and post partum periods. Such doubts arise from both genuine concern and also from several superstitions and myths. As a matter of fact, having sex during pregnancy is perfectly normal and safe. However, keeping in mind the changes the woman is going through there are a few specific do's and don'ts you need to follow while having sex during pregnancy.

Do's

1. Be aware
Pay attention to the doctor's evaluation of the expecting mother's condition. Many pregnancy risks can be predicted at an early stage. Abstain in case of predictions pointing to a risky gestation period and/ or delivery. Get yourself tested regularly, so that there is no possibility of transmitting infections to the expecting mother.

2. Enjoy foreplay
Pregnancy normally results in increased sensation in the erotogenic zones. Foreplay is a great way to relieve a woman's tension and she will enjoy your touch more than ever.

3. Pay attention to your partner's needs and reactions.

4. Women have to go through a lot during pregnancy like fatigue all the time, along with sudden nausea and extreme mood swings. So, paying more attention to your partner's needs and reactions will help make the act more enjoyable for both of you.

Don'ts

1. Don't go for multiple partners
Multiple partners increase the risk of infections. It is not advisable to have sex with multiple partners during this time.

2. Don't Use sex toys
Use of sex toys during pregnancy is discouraged as it increases the risk of infections.

3. Don't Try risky positions and maneuvers
Please keep your desires for exotic positions in check. Risque behavior can lead to injuries.

4. Don't Keep yourself ahead of her
It is perfect idiocy to keep your desires ahead of the needs and desires of the love of your life. By putting yourself ahead of her you will not negatively affect her mental health.

5. Do not mix drugs with intimacy
Use of intoxicants during her pregnancy to enhance your senses will put the healthy growth and delivery of the child in jeopardy. A number of birth defects in children are the results of substance use during pregnancy.

2775 people found this helpful

Preconception Care - Know Utility Of It!

Preconception Care - Know Utility Of It!

Preconception care refers to the care that a woman should take before getting pregnant. This refers to all the procedures and measures to be taken by a woman before pregnancy for maintaining good health before giving birth. Good preconception care also ensures proper health of the to-be-born child. Seeking information about pregnancy is also a part of preconception care by which a woman can prepare herself better physically and emotionally before childbirth. Visiting doctors and health practitioners is part of preconception care. The body is prepared for giving birth during preconception care.

-Nutritional supplements during preconception care

Certain nutritional supplements are recommended for women during this stage. Folic acid is an important vitamin which enables healthy growth and development of the baby. Folic acid reduces birth defects like spina bifida.

Other healthy supplements which a woman may require during preconception care include iron, zinc and calcium. A healthy, balanced diet and drinking a lot of water are also important.

Blood Tests

Visiting a doctor is necessary during preconception care. You will require a detailed physical health checkup and required guidelines from a health expert. Recommended blood tests include full blood count, testing of ferritin levels and testing for rubella. Urine tests and blood pressure checkup are also vital.

Moreover, several measures and steps must be followed by a woman. They include the following:

  1. Having a proper diet with sufficient water intake along with nutritional supplements is very important.
  2. A woman during preconception care should quit smoking or reduce the amount of smoking profusely.
  3. A large amount of caffeine should be avoided. A woman should consume less caffeine-containing products such as coffee, chocolates or soft drinks.
  4. Alcohol should be avoided strictly as it may reduce the chance of pregnancy.
  5. Medication without the recommendation of the doctor should be avoided. A woman should not use any medicine without being prescribed by the doctor.
  6. Contact with any kind of chemical should be avoided and natural, environment-friendly cleaning products should be used.
  7. Overheating of the body should be avoided, and a woman during preconception care should keep away from spas and saunas.
  8. A regular exercise schedule must be taken up for health benefits regarding pregnancy. Lack of working out may give rise to various health problems in women before pregnancy.
  9. Any kind of stressful activity should be abstained from, and a woman during preconception care should not lift heavy objects, which cause strain.
  10. Relaxation techniques should be practised by a woman to keep mentally healthy.

A woman during the preconception care period should follow all required guidelines given by a doctor. Avid care of the body should be taken to ensure healthy childbirth.

4007 people found this helpful

Things First Time Moms Need to Know!

Things First Time Moms Need to Know!

When you become a mother for the first time it is a completely new experience which may often leave you feeling exhausted and wondering whether all the things are being done right. First-time motherhood is beautiful as well as a harrowing experience at the same time. Although there are many important things to keep in mind, you can keep the responsibilities simple and streamlined in order to remember them.

Some of these are mentioned below

  1. Properly handling your baby – New mothers tend to be very careful anyway with their newborn children. However, first-time inexperience may cause harm to your baby inadvertently. Some of the things you need to be careful about while handling your baby are-
    • Supporting and cradling the head and neck of your baby, especially while handling them is very important.
    • When you handle your baby, be careful enough to ensure that you don’t shake or jerk them too hard. Always be very mindful of the fragility of your baby’s body.
    • Keeping your hands clean every time before you handle your baby is extremely important.
    • Keep a hand sanitizer handy for this reason. Also, if you have to attend to your baby in the middle of house chores, such as kitchen work, wash your hands thoroughly with soap and wipe clean before handling your baby.
  2. Perfecting your breast feeding technique is very important – One of the more important things to consider is getting attuned to your lactation cycles; either storing the excess milk for later or ensuring your baby is fed properly according to your cycles as well as his or her demand. Some of the points that need to be kept in mind are
    • It is important to know how to improve and make the best out of your breast milk through improved breast feeding techniques. Thus, visit a lactation consultant who can easily formulate a plan for you and optimize your breast feeding techniques.
    • Although breast milk is very important, some minerals can only be supplied by specialized formulas. The best way to balance between breast milk and formulas and you lactation consultant along with your doctor should be able to give you some pointers.
    • Your breasts will become sore after repeated feeding or suction. It is important to perform warm compress and heat massages to ensure that they don’t hurt.
  3. Soothing your baby – The only way your baby can communicate with you is via sounds such as crying and babbling. Thus soothing and comforting the baby is something which you may already do instinctively, but you may have to fine-tune your technique slightly. Some of the things to keep in mind would be –
    • Swaying or swaddling your baby in a way that mimics the cosiness of your womb
    • The baby can be kept entertained with sound and lights
    • Keep your baby warm, but not too warm depending on the season. Striking the correct balance is very critical.
    • Try to make the cleaning and changing process enjoyable for your baby by integrating play and fun into it.
  4. Sleep for the mother and the baby – The priority at this point in time is to ensure your baby’s growth and health. Thus, live by the principle that you sleep when your baby sleeps. Ensure that you adjust your routine to get the best results to minimize feeling tired all the time. New mothers tend to lose a lot of sleep and thus have interrupted circadian rhythms that affect their body. It is very important to maintain your mental composure and also be able to focus on your baby better.
3535 people found this helpful

जाने प्रेगनेंसी के बारे में- हफ्ते दर हफ्ते - Pregnancy Week By Week In Hindi!

जाने प्रेगनेंसी के बारे में- हफ्ते दर हफ्ते - Pregnancy Week By Week In Hindi!

प्रेगनेंसी के दौरान मां को कई प्रकार की जिम्‍मेदारियां उठानी पड़ती हैं. ऐसे में शिशु के स्‍वास्‍थ्‍य की देखभाल करना बहुत जरूरी होता है. इस लेख के माध्यम से हम प्रेगनेंसी के विभिन्‍न हफ्तों में देखभाल, प्रेगनेंसी का आखिरी सप्‍ताह, प्रेगनेंसी कैलेंडर, विभिन्‍न सप्‍ताह में मां और शिशु की देखभाल के बारे में पढेगें.

पांचवा सप्ताह-
प्रेगनेंसी के पांचवे हफ्ते में प्रवेश करने तक आप मासिक धर्म न होने का, होम प्रेगनेंसी टेस्ट आदि और कुछ प्रेगनेंसी सम्बंधित समस्याओं जैसे मॉर्निंग सिकनेस, दर्द, स्तनों में असहजता, थकान, चक्कर आना इत्यादि महसूस करने लगती हैं. यह सब प्रेगनेंसी के 5वें सप्ताह का आवश्यक हिस्सा है. इस हफ्ते के अल्ट्रासाउंड में गर्भ में बच्चे की उपस्थिति पता चलने लगती है.

पांच हफ्ते की प्रेग्नेंट महिला के बॉडी में होने वाले परिवर्तन: पांचवे हफ्ते में आपको प्रेगनेंसी के सभी लक्षणों का अनुभव होने लगता है और प्रेगनेंसी टेस्ट रिजल्ट्स में आपके बॉडी में एचसीजी हार्मोन का लेवल अधिक निकलता है जिसका मतलब है कि आप प्रेग्नेंट हैं. लेकिन हार्मोन के लेवल में बहुत ज्यादा और तेज़ी से परिवर्तन होने से भावनाओं पर कंट्रोल करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है जिसके परिणामस्वरुप मूड स्विंग जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. इस सप्ताह में शायद मूड स्विंग ज्यादा महसूस न हो, लेकिन पेट में सूजन का अनुभव जरुर होता है. आपका पेट सही प्रकार से लगभग 14 हफ्तों तक नहीं बढ़ता है लेकिन उस पर प्रेशर निरंतर बढ़ता रहता है जिस कारण आपको रेस्ट करने की अधिक जरुरत होती है. इस हफ्ते तक आपको देखकर यह अनुमान नहीं लगाया जा सकता कि आप प्रेग्नेंट हैं.

पांच हफ्ते की प्रेगनेंसी में भ्रूण का विकास: प्रेगनेंसी के पांचवे हफ्ते में बच्चा तेजी से ग्रोथ करने लगता है. इस सप्ताह के अंत तक बच्चा मेढक जैसा लगने लगता है. उसमें एक छोटी पूंछ भी जुडी होती है और वो संतरे के बीज के साइज़ या लंबाई में 1-5 मिमी. का होता है. इस सप्ताह में बच्चे के महत्वपूर्ण ऑर्गन जैसे हार्ट, सेंट्रल नर्वस सिस्टम, बोन और मसल्स इत्यादि का विकास होता है. इसके अलावा स्केल्टन भी इसी दौरान बनना शुरू हो जाता है.

बच्चे के हार्ट का विकास तेज़ी से होता है क्योंकि उसे चार क्लास में विभाजित होने के साथ ब्लड को पंप करने का कार्य भी करना होता है. कुछ अल्ट्रासाउंड में पांचवे सप्ताह में बच्चे की हार्ट बीट सुनाई देने लगती है. नर्वस ट्यूब जो अंत में माइंड और स्पाइनल में परिवर्तित हो जाती है उसका निर्माण इसी हफ्ते से शुरू होता है. इस दौरान ही प्लेसेंटा का विकास भी होता है जिसके माध्यम से आपके बच्चे को पोषण प्राप्त होता है. आँखें, कान, नाक, मुंह, हाथ और पैरों की उंगलियां आदि भी दिखनी शुरू हो जाती हैं.

पांचवें सप्ताह के गर्भधारण के लिए टिप्स: इस हफ्ते के अंत तक यह सुनाश्चित हो जाता की आप गर्भवती है और यह खुशखबरी आप अपने पार्टनर के साथ साझा कर सकते है. यह आपके जीवन का बहुत ही महत्वपूर्ण समय है, अगर आपने अपनी खराब आदतों को बंद नहीं किया है या अपनी व्यस्त लाइफस्टाइल में परिवर्तन नहीं किया है तो अब इसकी शुरुआत कर दीजिये अन्यथा आपको अनेकों समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. पांचवें सप्ताह में आपके बच्चे के महत्वपूर्ण ऑर्गन का विकास होता है इसलिए अपनी खराब हैबिट (अल्कोहल, स्मोकिंग, ड्रग्स, बिना निर्धारित दवाओं आदि) में बदलाव कर दीजिये अन्यथा आपके बच्चे के स्वास्थ्य जोखिम हो सकता है. इनकी आदत से निजात पाने के लिए आप करीबी स्वास्थ्य विभाग से संपर्क कर सकती हैं.

प्रेगनेंसी के पांचवें हफ्ते का डाइट प्लान: यह हफ्ता बच्चे के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि इस दौरान बच्चे का विकास बहुत तेजी से होता है. इसलिए उसे विकास करने के लिए पोषण की आवश्यकता होती है. इसके लिए महत्वपूर्ण है कि आप जरुरी और पर्याप्त पोषक तत्वों का सेवन करें. इस दौरान आपको उचित मात्रा में प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन, फोलिक एसिड आदि का सेवन करना चाहिए. आपको अपनी डाइट में फ्रूट और हरी सब्ज़ियों की मात्रा को बढ़ा देनी चाहिए. आयरन युक्त आहार का अधिक मात्रा में सेवन करें जो आपके बच्चे की रेड ब्लड सेल्स का निर्माण करने के लिए बेहद महत्वपूर्ण होते हैं. कॉफी या कैफीन का सेवन कम से कम करें. बाहर का खाना से दूरी बनाएं, क्योंकि उससे इन्फेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है. अपने डाइट में प्रोटीन युक्त आहार की मात्रा बढ़ाएं. डेयरी पदार्थों, अंडे, चिकन आदि में प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं. पर्याप्त मात्रा में पानी पीती रहें, क्योंकि इस दौरान बॉडी को हाइड्रेटेड रखना बहुत महत्वपूर्ण है.

दसवाँ सप्ताह-
प्रेगनेंसी के दसवें हफ्ते में आने के बाद बच्चे में जन्मजात समस्या के होने का जोखिम कम होता है. लेकिन इस हफ्ते में आने के बाद असामान्यताओं या विकृति होने का जोखिम पूरी तरह से तो नहीं ख़त्म होता, लेकिन उसके विकास के सबसे महत्वपूर्ण सप्ताह खत्म हो चुके होते हैं. लगातार देखभाल और डॉक्टर द्वारा आप प्रेगनेंसी के आगे के हफ़्तों में बढ़ सकती हैं.

दसवें हफ्ते की प्रेगनेंसी में बॉडी में होने वाले परिवर्तन: प्रेगनेंसी के दसवें सप्ताह में भी आप प्रेग्नंत प्रतीत नहीं होगी, लेकिन आपको प्रेग्नेंट होने का अनुभव होने लगता है. अभी तक आपका वज़न लगभग एक किलोग्राम ही बढ़ा होता है लेकिन इस सप्ताह से आपको अधिक वज़न बढ़ने का अनुभव होने लगता है. जैसे जैसे आप अपनी पहली तिमाही के अंत तक पहुंचती हैं, मॉर्निंग सिकनेस जैसे अन्य प्रेगनेंसी में महसूस होने वाले लक्षण थोड़े कम हो जाते हैं. दसवें सप्ताह के दौरान आप अपनी प्रेगनेंसी के बारे में ज्यादा बेहतर महसूस करने लगती हैं, क्योंकि आपका पहला चेकअप हो चुका होता है और आप अपने बच्चे के हार्ट बीट को भी सुन सकती हैं. भावी माता पिता के लिए यह क्षण बहुत ही रोमांचक होते हैं और यह आपके बॉडी में एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन के बढ़ते लेवल के कारण उत्पन्न होने वाली नकारात्मक भावनाओं को कम कर करने में मददगार है.

दसवें हफ्ते की प्रेगनेंसी में भ्रूण का विकास: इस समय शिशु का विकास तेजी से रहा होता है. हालांकि यह ग्रोथ इतनी तेज़ी से होता है कि इसको बताना थोड़ा मुश्किल हो जाता है. इस हफ्ते बच्चा चकोतरे के साइज़ का हो जाता है. आपका बच्चा हफ्ते दर हफ्ते इसी तेजी से बढ़ता है. इस हफ्ते आपके बच्चे के इंटरनल ऑर्गन का विकास होता है जैसे किडनी, लिवर, इंटेस्टाइन आदि और माइंड कार्य करना शुरु कर देता है. अगले तीन हफ्तों के दौरान आपका बच्चा काफी बड़ा हो जाएगा. पैरों की उंगलियों के नाखून भी दिखाई देने लगेंगे और यदि आप अधिक करीब से देखेंगी तो आपको बच्चे की त्वचा पर रोयें भी दिखाई देंगे.

दसवें सप्ताह के गर्भधारण के लिए टिप्स: इस सप्ताह में आप अपने पति के साथ डॉक्टर के पास जाना चाहिए. डॉक्टर आप दोनों को अल्ट्रासाउंड के माध्यम से बच्चे की हार्ट बीट सुनाएंगे और साथ ही आप दोनों अपने बच्चे की इमेज भी देख सकते हैं. इन सबसे आपके पति को आपकी प्रेगनेंसी के बारे में अधिक जानकारी होगी साथ ही वे खुद को भी इस प्रक्रिया का हिस्सा महसूस करेंगे. इससे आपके पति और बच्चे के बीच अच्छे सम्बन्ध स्थापित होंगे जो प्रेगनेंसी के समय बहुत जरुरी होता है. अपने लिए माँ वाले कपड़े खरीदना भी शुरू कर दीजिये, क्योंकि अब आपको नए साइज के कपड़ों की जरुरत बहुत जल्द पड़ेगी.

प्रेगनेंसी के दसवें हफ्ते का डाइट प्लान: 9 से 12 सप्ताह के दौरान का डाइट प्लान लगभग एक जैसा ही होता है. विटामिन बी, कैल्शियम और मैग्नीशियम आदि पोषक तत्वों से भरपूर डाइट आपके और आपके बच्चे के हेल्थ के लिए बहुत जरुरी होते हैं. कैल्शियम बच्चे के दांतों और हड्डियों आदि को मजबूत बनाने में मदद करता है. पेय पदार्थों का पर्याप्त मात्रा में सेवन करें. पानी के आलावा आप आमपन्ना, जलजीरा, अदरक की चाय और टोमैटो सूप इत्यादि भी पी सकती हैं.

चौदहवाँ सप्ताह-
प्रेगनेंसी के चौदहवें सप्ताह के दौरान आप थोड़ा सहज अनुभव कर सकती हैं क्योंकि आपका बॉडी होने वाले आंतरिक बदलावों के अनुसार अडॉप्ट हो रहा होता है. इस सप्ताह के दौरान आप दूसरी तिमाही के दूसरे सप्ताह में पहुँचती हैं और बच्चे के ग्रोथ के लगभग महत्वपूर्ण स्टेज पूरे हो चुके होते हैं लेकिन अभी भी डाइट पर ध्यान देना बहुत जरुरी है.

चौदहवें हफ्ते की प्रेगनेंसी में बॉडी में होने वाले परिवर्तन: प्रेगनेंसी के सबसे खराब लक्षण लगभग इस समय से खत्म होने लगते हैं और आपके वज़न में वृद्धि होने के साथ साथ आपकी कमर भी बढ़ने लगती है. इस सप्ताह से आपको ज्यादा भूख लग सकती है. लेकिन ध्यान रहे ऐसा भूलकर भी न करें, क्योंकि इससे आपका वज़न बहुत अधिक बढ़ सकता है जो खतरे का कारण बन सकता है. आपके दाग धब्बे और झाइयों के निशान ज्यादा गहरे हो जायेंगे और आपके स्तन दुग्ध उत्पादन की तैयारी के कारण ज्यादा सेंसिटिव होते जाएंगे. आपके बॉडी पर नए मस्से आ सकते हैं लेकिन यह सामान्य है इसमें घबराने की कोई बात नहीं है. इस तिमाही के दौरान बार-बार मूड स्विंग्स की समस्या बढ़ जाती है. इस बारे में अपने पति या डॉक्टर से बात करें.

14वें हफ्ते की गर्भावस्था में भ्रूण का विकास: अंततः आपके बच्चे का शरीर भी सिर के साथ बढ़ने लगता है. कान और आँखें अपनी सही स्थिति में आ जाते हैं. जैसे जैसे गर्दन लम्बी होती है, आपके बच्चे की ठोड़ी छाती से ऊपर होने लगती है. मासपेशियां विकसित होती रहती हैं लेकिन मां इस सप्ताह में भी बच्चे की गतिविधियां महसूस नहीं कर पाएंगी क्योंकि इसके लिए बच्चा अभी बहुत छोटा होता है. बच्चा सभी पोषक तत्व प्लेसेंटा के माध्यम से ग्रहण करता है. इसलिए इस समय आपको अपने खान पान पर ध्यान देने की अधिक आवश्यकता है. अल्ट्रासाउंड के दौरान आप अपने बच्चे को मुट्ठी खोलते बंद करते देख पाएंगी और उसकी उंगलियां भी एक दूसरे से पूरी तरह से से अलग हो जाएंगी. शिशु का दिल आपके दिल के धड़कने की दुगनी तेज़ी से धड़केगा लेकिन यह सामान्य प्रक्रिया है इसमें परेशां होने की ज़रूरत नहीं है.

14वें हफ्ते तक बच्चा तीन इंच लंबा और लगभग 28 ग्राम का हो जाता है. आपका बच्चा इस स्तर पर अपना अंगूठा चूसने लगेगा और उसका चेहरे की मांसपेशियों पर नियंत्रण बढ़ जाता है अर्थात वो आँखें मीचना, भौहें चढ़ाना शुरु कर देता है जैसे बड़े लोग गुस्से के समय करते हैं. इसके अलावा बच्चे का लिवर पित्त का जबकि तिल्ली लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन शुरू कर देती है.

14वें सप्ताह के प्रेगनेंसी के लिए टिप्स: जैसा की ऊपर बताया गया है की इस सप्ताह में आपकी भूख बढ़ जाती है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप उचित खाना खाएं और जरुरी एक्सरसाइज सही तरह से करें. अगर आपको लगता है कि वजन बहुत ज्यादा हो गया है तो आपको अपने खाने-पीने में कमी करने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि ऐसा करने से आपके बच्चे के विकास के लिए जरुरी पोषक तत्वों में कमी आ जाती है. वज़न को कंट्रोल करने के लिए डॉक्टर के साथ चर्चा करके एक्सरसाइज रूटीन शुरू करें और सुनिश्चित करें कि आप एक बार में अधिक भोजन करने के बजाए दिन में थोड़ी-थोड़ी मात्रा में ज्यादा भोजन करें.

प्रेगनेंसी के चौदहवें हफ्ते की डाइट: इस समय आयरन और कैल्शियम युक्त आहारों का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें. प्रेगनेंसी के दौरान आयरन का सेवन करने से ब्लड की कमी नहीं होती, क्योंकि आयरन रेड ब्लड सेल्स की संख्या में बढ़ोतरी करता है. कैल्शियम आपको जरुरी एनर्जी प्रदान करता है. 14वें हफ्ते की डाइट और 13वें हफ्ते की डाइट एक जैसी ही होती है. कैल्शियम युक्त आहार का ज्यादा सेवन करें जैसे दूध और दूध से बने उत्पाद आदि. कैफीन के सेवन पर प्रतिबंध लगाएं. विटामिन सी समृद्ध आहार जैसे नींबू पानी, संतरे का रस आदि का सेवन करने से आयरन की आपूर्ति होती है. नाश्ते में स्प्राउट्स, सोया, सूखे मेवे आदि अन्य आहारों का सेवन करें.

17वाँ सप्ताह-
17वें हफ्ते तक आप अपनी प्रेगनेंसी के साथ ज्यादा सहज महसूस करने लगती हैं और प्रेगनेंसी के लक्षणों को समझने लगती हैं और उनसे सामना करना भी सीख जाती हैं. आपका पेट अब एक प्रेग्नेंट महिला की तरह दिखने लगता है.

17वें हफ्ते की प्रेगनेंसी में बॉडी में होने वाले बदलाव: 17वें सप्ताह में आपका पेट पूरी तरह से दिखना शुरू हो जाएगा. बच्चे को पेट में चारों ओर घूमने के लिए जगह बनाने के लिए गर्भाशय बढ़ने लगता है. आपका गर्भाशय पेट की ओर, इंटेस्टाइन को ऊपर या बाहर की ओर पुश करना शुरू कर देता है. सोने और बैठने की तुलना में खड़े होने पर आपको पेट पर ज्यादा दबाब महसूस होगा. कुछ महिलाओं को पैरों की नसों में कभी कभी साइटिका का दर्द भी महसूस होता है जो बहुत दर्दनाक हो सकता है. साइटिका नस, बॉडी में सबसे बड़ी नस होती है और यह ओवरी से लेकर पूरे पैरों में फैली होती है. आमतौर पर इस दर्द का कारण बढ़ते बच्चे की वजह से नसों पर पड़ने वाला भार होता है. एक स्थान पर लंबे समय तक खड़े रहने या सोते समय पैरों के नीचे तकिया लगाकर सोने की आदतों को छोड़ने से इस समस्या को ठीक किया जा सकता है.

डॉक्टर दर्द को दूर करने के अन्य तरीकों का सुझाव दे सकते हैं. रक्त की मात्रा में वृद्धि होने के कारण अधिक पसीना भी आ सकता है. इसके अलावा, कुछ महिलाओं को योनिस्राव या नाक बंद होने का अनुभव भी होता है. लेकिन यह सामान्य स्थितियां होती हैं और बच्चे के जन्म के बाद अपने आप गायब हो जाती हैं.

17वें हफ्ते की प्रेगनेंसी में शिशु का विकास: 17वें हफ्ते की प्रेगनेंसी में शिशु लगभग 5½ इंच लंबा और वजन करीब 140 ग्राम का हो जाता है जो कि प्लेसेंटा से भी अधिक होता है. गर्भनाल की लम्बाई, मज़बूती और मोटाई में वृद्धि होती है. बच्चे की सुनने की क्षमता तेजी से विकसित होता है और इसी कारण तेज़ साउंड से वो गर्भ के अंदर ही डरने भी लगता है. हड्डियों का पूरी तरह से विकास हो जाता है और कान अपनी सही स्थान पर स्थित हो जाते हैं. फैटी टिश्यू और वर्निक्स (नवजात शिशु की त्वचा पर विकसित होने वाला सुरक्षात्मक आवरण) का ग्रोथ होता है और यह बॉडी के टेम्परेचर कम करने में मदद करते हैं. सॉफ्ट बोन से एक छोटे स्केल्टन का निर्माण होता है. हड्डियां फ्लेक्सिबल होती हैं जो जन्म देने वाली नली के माध्यम से बच्चे का जन्म होने में मदद करती हैं. यदि बच्चा लड़का होता है, तो इसी 17वें सप्ताह के दौरान उसमें प्रोस्टेट ग्लैंड का निर्माण होता है.

17वें सप्ताह के प्रेगनेंसी के लिए सुझाव: कुछ महिलाओं को इस सप्ताह से रैशेस पड़ने की समस्या शुरू होने लगती है और नए नए प्रकार की एलर्जी भी होती हैं. यदि आपको भी इन लक्षणों का सामना करना पड़ रहा है तो अपने डॉक्टर से बात करने में संकोच न करें. डॉक्टर के सलाह के बिना कोई भी दवा न लें. यदि आपको क्रैंप या समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो अपने खड़े होने, बैठने या सोने की मुद्रा में बदलाव लाएं.

प्रेगनेंसी के 17वें हफ्ते की डाइट: प्रेगनेंसी के 17वें सप्ताह के दौरान, अपका वज़न धीरे-धीरे बढ़ना शुरू हो जाएगा लेकिन आपको इसे समय-समय पर चेक करना होगा. आमतौर पर यह समय आपके बच्चे के मस्तिष्क और आंखों के विकास का समय होता है. इसके अलावा, हार्मोनल ग्रंथियां भी विकासशील होती हैं. आपको अपने डाइट में कुछ अतिरिक्त पोषक तत्व शामिल करने की आवश्यकता होती है, जैसे ओमेगा-3 फैटी एसिड, आयोडीन और विटामिन डी आदि.

30वाँ सप्ताह-
गर्भावस्था की तीसरी तिमाही और तीसवें सप्ताह के दौरान, आपको और ज्यादा समस्याओं का अनुभव हो सकता है. अब आपकी प्रेगनेंसी को पुरे होने में केवल कुछ ही हफ्ते और बचते हैं, लेकिन आप अपनी डिलीवरी की निर्धारित समय का बेसब्री से इंतज़ार करने लगती हैं. वास्तव में ऐसा सभी प्रेग्नेंट महिला के साथ होता है इसलिए थोड़ा सब्र रखें और कोई भी समस्या होने पर शीघ्र डॉक्टर से संपर्क करें.

30वें हफ्ते की प्रेगनेंसी में बॉडी में होने वाले परिवर्तन: प्रेग्नेंट महिलाओं का सबसे ज्यादा वजन 20वें से 30वें सप्ताह के दौरान ही बढ़ता है. लेकिन इस समय के दौरान शारीरिक परिवर्तन होने थोड़े कम हो जाते हैं. आपका वजन बढ़ने के कारण थोडा असहज महसूस कर सकती हैं और प्रेगनेंसी में होने वाले दर्द के कारण से आपकी रूटीन पर भी प्रभाव पड़ता है. पीठ के निचले हिस्से में होने वाले दर्द को प्रबंधित करने के लिए उठने बैठने की सही पोजीशन का एक्सरसाइज करें. प्रेगनेंसी हार्मोन आपके जोड़ों को हानि पहुंचा सकते हैं. गर्भ में बच्चे के बढ़ने पर एम्नियोटिक फ्लूइड की मात्रा कम होती जाएगी. ज्यादा से ज्यादा रेस्ट करें, इससे प्रेगनेंसी में होने वाले दर्द और हार्मोनल असंतुलन आदि से सुरक्षा में मदद मिलेगी.

30वें हफ्ते की प्रेगनेंसी में शिशु का विकास: इस सप्ताह में बच्चे में हल्की झुर्रियां दिखाई देती हैं. लेकिन स्किन के नीचे फैटी टिश्यू के बनने के कारण ये झुर्रियां चिकनी हो जाती हैं और कुछ समय बाद चली जाती हैं. लैन्यूगो नामक गर्भरोम अभी भी आपके बच्चे के बॉडी पर मौजूद होते हैं जो उसके पैदा होने तक रहेंगे. इस हफ्ते बच्चा लम्बाई में लगभग 17 इंच और वजन में 1.8 किलो का हो जाता है. बच्चा गर्भ के बाहर सांस लेने के लिए एक्सरसाइज करना शुरु कर देता है. इस एक्सरसाइज और बच्चे को हिचकी आने के कारण आपको यूटेरस में खलबली का अनुभव हो सकती है. बच्चा इस समय तक लगभग पूरी यूटेराइन कैविटी के साइज़ का हो जाता है. जैसे-जैसे मस्तिष्क का विकास होता जाता है, यह आंखों, मसल्स और लंग को कार्य करने के लिए संकेत देना शुरू कर देता है. पाचन तंत्र इस तीसवें सप्ताह में पूरी तरह से कार्य करना शुरु कर देता है, क्योंकि बच्चा आपसे सभी पोषक तत्वों को प्राप्त करता है.

30वें सप्ताह के गर्भधारण के लिए टिप्स: जैसे जैसे डिलीवरी का समय नकदीक आता जाए तो आप नित्य तरीके से डॉक्टर से अपना चेकअप, अल्ट्रासाउंड और ब्लड टेस्ट कराती रहें. इसके साथ अच्छा और पौष्टिक भोजन करें. यदि आपको कब्ज का अनुभव हो तो ज्यादा से ज्यादा फाइबर युक्त आहार खाएं और अधिक से अधिक आराम करें. आप प्रेगनेंसी क्लासेज भी ज्वाइन कर सकती हैं. ऐसा करने से आपको आलस दूर करके एक्टिव रहने में मदद मिलेगी. अगर आपको आराम करने में समस्या हो रही है, तो प्रेगनेंसी तकिया का इस्तेमाल करें. यह बाजार में उपलब्ध हैं और आमतौर पर प्रेग्नेंटमहिलाओं के लिए ही बनायीं गयी हैं.

प्रेगनेंसी के तीसवें हफ्ते में डाइट: प्रेगनेंसी के 30वें हफ्ते अर्थात तीसरी तिमाही की डाइट 29वें हफ्ते की डाइट के लगभग एक जैसी ही होती है. इस हफ्ते से आपको अधिक एनर्जी की जरुरत होगी. इसके लिए आपको अब रोजाना ज्यादा से ज्यादा कैलोरी का सेवन करने की जरूरत है. अपने बॉडी को पर्याप्त मात्रा में पानी पीकर मोईस्चर बनाए रखें.

31वाँ सप्ताह-
जब से आप तीसरी तिमाही में प्रवेश करती हैं, तब से आपका और बच्चे का वज़न निरंतर बढ़ रहा होता है. संतुलित आहार लेना (जिसमें कब्ज में फायदा पहुंचाने के लिए फाइबर भरपूर मात्रा में होता है) और ज्यादा से ज्यादा मात्रा में तरल पदार्थ जैसे पानी या जूस आदि पीना इस लास्ट स्टेज में महत्वपूर्ण होता है. अपने डॉक्टर के पास नित्य चेकअप के लिए जाती रहें और उनसे मन में उठ रहे सभी सवाल पूछें.

31वें हफ्ते की प्रेगनेंसी में बॉडी में होने वाले परिवर्तन: इस दौरान बच्चे का वजन बढ़ेगा और साथ ही आपका वजन भी बढ़ेगा. इस समय आपके यूटेरस का दर्द ठीक होता है तो पीठ में दर्द का एहसास हो सकता है. इसके बाद ज्यादातर गर्भवती महिलाएं लम्बे समय के लिए सहज तरीकें से सो नहीं पाती हैं. इसलिए ऐसी स्थिति में जितना संभव हो सके रेस्ट करने की कोशिश करें जो आपके लिए ज्यादा आरामदायक होगा. आपको पेट या पीठ के बल नहीं सोना चाहिए. हालांकि, इस समय के लिए एक विशेष प्रकार की प्रेगनेंसी तकिया आती है जो आपके पेट या पीठ के लिए सोते समय आराम प्रदान करती है. ब्रैस्ट में दूध का उत्पादन होना शुरु हो जाता है और एक पीला, चिपचिपा पदार्थ जिसे कोलोस्ट्रम कहते हैं निकल सकता है. यह एक सामान्य स्थिति होती है. हंसने, छींकने, खांसने पर अनजाने में मूत्र भी निकल सकता है और दुर्भाग्यवश यह होना भी सामान्य ही है. कीगल एक्सरसाइज और पैड का इस्तेमाल इस समय कारगर साबित हो सकते हैं.

31वें हफ्ते की प्रेगनेंसी में शिशु का विकास: इस हफ्ते में शिशु कि लम्बाई लगभग 15 इंच और वजन करीब 1.3 से 1.5 किलोग्राम तक हो जाता है. इस स्टेज पर बच्चा जन्म के समय होने वाले साइज़ का आधा होता है. क्योंकि अब शिशु में फैट स्टोर होने लगती है इसलिए अब बच्चे का वज़न इन दो महीनों में ज्यादा तेजी से बढ़ेगा. पाचन तंत्र और लंग लगभग विकसित हो जाते हैं और सही से कार्य करना भी शुरु कर देते हैं. कान पूरी तरह से विकसित हो जाते हैं और बच्चा गर्भ के भीतर सब कुछ सुनने भी लगता है. इस लेवल पर शिशु को मां का सांस लेना और हार्ट बीट भी सुनाई देने लगती है. वो म्यूजिक और दूसरों की आवाज सुन सकता है. इस समय बहुत ज्यादा शोर-शराबे वाले माहौल से दूर रहने की कोशिश करें. पैरों और हाथों के नाखून पूरी तरह से बन जाते हैं और गर्भ में उसके खुद के ही लग सकते हैं. इस बिंदु पर एम्नियोटिक द्रव बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. शिशु इसे निगल लेता है और एक दिन में लगभग आधा लीटर तक मूत्र द्वारा निकाल भी देता है. यदि थैली में बहुत अधिक एम्नियोटिक द्रव है तो इसका मतलब यह हो सकता है कि आपका बच्चा निगलने की क्रिया ठीक से नहीं कर पा रहा है. उसे पेट सम्बन्धी समस्याएं हो सकती हैं. बहुत कम एम्नियोटिक द्रव होने पर बच्चा ठीक से पेशाब भी नहीं कर पाता है अर्थात उसे किडनी सम्बन्धी समस्या भी हो सकती है.

31वें सप्ताह के गर्भधारण के लिए टिप्स: इस सप्ताह के दौरान आपका वज़न स्थिर गति से बढ़ता है. इस समय में तेजी से वजन में वृद्धि कुछ महिलाओं के लिए भावनात्मक रूप से स्वीकार करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है. इसीलिए इस स्टेज पर आपके आस पास लोगों, हस्बैंड और रिश्तोदारों का होना बहुत जरुरी होता है. इससे आपको यह पता लगता है कि आप जो अनुभव कर रहे हैं, आप के साथ साथ और लोग भी कर रहे हैं.

प्रेगनेंसी के 31वें हफ्ते में डाइट: प्रेगनेंसी के 31वें हफ्ते अर्थात तीसरी तिमाही की डाइट 29वें और 30वें हफ्ते की डाइट के समान ही होती है. बॉडी को हाइड्रेटेड रखने के लिए ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थों का सेवन करें. इसके साथ ही अब से आपको प्रतिदिन कम से कम 300 कैलोरी का सेवन करना शुरु कर देना चाहिए ताकि गर्भावस्था में कोई समस्या न आये क्योंकि अब आपको अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होगी.

34वाँ सप्ताह-
जैसे जैसे 34वां सप्ताह शुरु होता है आपको बेचैनी महसूस हो सकती है. डॉक्टर के पास नियमित अपॉइंटमेंट्स पर जाती रहें क्योंकि वह आपको डिलीवरी के चरणों के लिए तैयार करते हैं और आपकी स्वास्थ्य जांच के लिए भी यह बहुत ज़रूरी होता है. प्रत्येक प्रेगनेंसी अलग प्रकार की होती है और कुछ महिलाओं की तो 40 सप्ताह की अवधि भी पूरी नहीं हो पाती है और डिलीवरी हो जाती है क्योंकि डॉक्टर द्वारा डिलीवरी का निर्धारित समय 36-40 हफ़्तों के बीच का ही होता है जिसमें बच्चा कभी भी पैदा हो सकता है और परिपक्व होता है. इस दौरान आपके डॉक्टर अगले कुछ हफ्तों में ग्रुप बी स्ट्रेप बैक्टीरिया की जांच के लिए योनि के नमूने को कल्चर करेंगे. ग्रुप बी स्ट्रेप एक बैक्टीरिया है जो कुछ महिलाओं में योनि और आंत में पाया जाता है और अगर इसका उपचार नहीं किया जाता है तो यह आपके नवजात शिशु में संक्रमण का कारण बन सकते हैं. यदि आप ठीक होती हैं, तो डॉक्टर बैक्टीरिया की मात्रा और संक्रमण की संभावना कम करने के लिए, डिलीवरी के दौरान आपको नसों द्वारा एंटीबायोटिक दवाएं देते हैं.

34वें हफ्ते की प्रेगनेंसी में बॉडी में होने वाले परिवर्तन: इस सप्ताह में आपको महसूस होने वाली सबसे बड़ी बात यह है कि आपकी छाती और फेफड़ों पर भार पड़ना कम हो जाएगा. ऐसा आपके बच्चे के पेल्विक एरिया में नीचे चले जाने के कारण होता है. आपका गर्भाशय, नाभि के करीब 5½ इंच ऊपर होना चाहिए. आपकी नाभि बेहद सेंसिटिव होती है और यदि यह अभी तक उभर कर बाहर नहीं आयी है तो अब यह आ सकती है. कुछ महिलाओं के हार्टबर्न और हाथ, कलाई, चेहरे, पैर, टखनों और पंजों में सूजन आने लगती है. यदि सूजन के साथ गंभीर सिरदर्द, चक्कर या ऊपरी पेट में दर्द का अनुभव भी हो तो डॉक्टर से कांटेक्ट करें क्योंकि यह प्री-एक्लेमप्सिया का संकेत हो सकता है. सूजन का एक और कारण वाटर रिटेंशन भी हो सकता है और इसे कम करने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए. कम पानी पीने से स्थिति और भी गंभीर होती है.

34वें हफ्ते की गर्भावस्था में बच्चे का विकास: जैसे जैसे आपका बच्चा लम्बाई और वजन में बढ़ता है उसका वज़न करीब 2.2 किलो और लम्बाई लगभग 15 ½ से 17½ इंच के बीच हो जाती है. फेफड़ों के आलावा अधिकांश अंग लगभग पूरी तरह से परिपक्व हो चुके होते हैं. चेहरे की विशेषताएं या आकृतियां इस बिंदु पर बिलकुल स्पष्ट होती हैं. त्वचा के नीचे वसा का निर्माण होने के कारण अब बच्चा थोड़ा फूला हुआ सा (मोटा) दिखाई देगा. वह निर्धारित तारीख तक थोड़ा थोड़ा बढ़ता रहेगा. आप उसकी हिचकियों को भी महसूस कर सकती हैं जो सामान्य प्रक्रिया है.

34वें सप्ताह के गर्भधारण के लिए टिप्स: यदि आपको हार्टबर्न की शिकायत होती है तो दो या तीन बार ज्यादा मात्रा में भोजन करने के बजाय प्रतिदिन छह या सात बार कम मात्रा में भोजन करने का कोशिश करें. इसके अलावा, टाइट कपड़े न पहनें और महसूस होने वाली असुविधा को कम करने के लिए लूज़ और आरामदायक कपड़े पहनें. इसके साथ ही कुछ दिनों तक अपनी बॉडी में मालिश करवाएं. इससे आपके बॉडी में होने वाली सूजन और दर्द को कम करने में मदद मिल सकती है.

प्रेगनेंसी के 34वें हफ्ते में डाइट: 34वें हफ्ते की डाइट 33वें हफ्ते के लगभग एक जैसी ही होती है. इस समय विशेष रूप से विटामिन K से भरपूर फल और सब्जियां अपने डाइट में शामिल करें. विटामिन के आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए जरुरी पोषक तत्व है साथ ही यह ब्लड क्लॉट ज़माने में भी मदद करता है.

39 वाँ सप्ताह-
यदि आप गर्भावस्था के 39वें सप्ताह में हैं तो किसी भी समय आपकी डिलीवरी हो सकती है. अपनी प्रेगनेंसी के इन आखिरी क्षणों का आनंद लें, क्योंकि मां बनने के बाद आपको नयी मुश्किलों का सामना करना होगा. अब किसी भी समय आपको लेबर पेन हो सकती है. आप अपने रोजाना के कार्यों को करती रहें, लेकिन ध्यान रखें कि बच्चा किसी भी समय पैदा हो सकता है इसलिए ज्यादा परिश्रम वाला काम बिलकुल न करें.

39वें हफ्ते की गर्भावस्था में शरीर में होने वाले बदलाव: जैसे ही 39वें हफ्ते की शुरुआत होती है आपको हर समय परेशानी का सामना करना पड़ता है. आपको बैठने या लेटने के बाद उठने में समस्या होती है. आपके ब्रैस्ट और अधिक संवेदनशील हो जाएंगे मतलब उन्हें स्पर्श करने पर दर्द होगा. कोलोस्ट्रम नामक फ्लूइड जिसे मां का पहला दूध भी कहा जाता है, आपके स्तनों से स्रावित होने लगेगा. आपके बॉडी के हर हिस्से में सूजन होने लगेगी. लेकिन इस दौरान ज्यादा से ज्यादा पानी पीना बहुत जरुरी है. यदि आपको अभी तक प्रसव जैसी क्रैंप का अनुभव नहीं हुआ है तो अब आपको उसका अनुभव होना भी शुरू हो जायेगा. यदि इस सप्ताह आपकी पानी की थैली फट जाती है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें और हॉस्पिटल जाएं.

39वें हफ्ते की गर्भावस्था में बच्चे का विकास: यदि आपका बच्चा इस हफ्ते में पैदा होता है, तो वह स्वस्थ होगा और उसके सभी अंग कार्य भी करेंगे. उसके लंग 39वें सप्ताह तक विकसित तो होते हैं, लेकिन जन्म के बाद भी वे पूरी तरह से कार्य करने में सक्षम नहीं होते हैं. इस हफ्ते बच्चे का वज़न लगभग 3.1 किलोग्राम या उससे ज्यादा होता है. यदि इस हफ्ते भी डिलीवरी नहीं होती है तो बच्चा जन्म तक गर्भ में ही एक्टिव रहता है. इसलिए, यदि इस लेवल पर बच्चे की एक्टिविटी में कमी महसूस हो तो अपने डॉक्टर से काॅंटैक्ट करें.

39वें सप्ताह के गर्भधारण के लिए टिप्स: यदि आपको सोने में समस्या हो रही है, तो एक झुकाव वाली कुर्सी या सोफे में सोने की कोशिश करें. यदि आपके पास ऐसी कुर्सी नहीं है तो अधिक तकिया अपने सिर या पैरों के नीचे लगा कर सही पोजीशन बना कर रेस्ट करें. ज्यादा पानी पिएं और संतुलित आहार खाएं. हालांकि इस समय आराम करना बहुत महत्वपूर्ण है लेकिन उसके साथ साथ एक्टिव रहना भी उतना ही जरुरी होता है. जब भी अनुकूल हो एक्सरसाइज ज़रूर करें और रोजाना थोड़ी देर टहलने की कोशिश करें.

प्रेगनेंसी के 39वें हफ्ते में डाइट: इस समय लेबर पेन को सहने के लिए और ज्यादा ताकत वाली चीज़ें खाएं और पौष्टिक आहार खाती रहें. कार्बोहाइड्रेट, प्रसव के समय के लिए बहुत लाभदायक पोषक तत्व होता है, इसलिए आप पके हुए आलू, टोस्ट और केले का सेवन करें. तरल पदार्थों का सेवन करने के लिए, नींबू, शहद का पानी, नारियल पानी और फलों का जूस पिएं. ब्रैस्टफीडिंग के लिए अपने डाइट में, विभिन्न पोषक तत्वों जैसे सब्जियां, फल, चिकन, साबुत अनाज और टोन्‍ड मिल्‍क (बिना फैट वाला दूध) को शामिल करें.

1 person found this helpful

Pregnancy - Different Ways Your Body Changes During This Phase!

Pregnancy - Different Ways Your Body Changes During This Phase!

Pregnancy is an experience where a woman experiences physical, mental and emotional changes. Out of all the changes, one of the major change, a woman goes through is hormonal change. Here are few different ways your body changes during pregnancy:

  1. Increase in the blood volume: The blood and plasma of the body are increased from thirty to fifty percent because the heart at that time, is working harder and more efficiently. This results in the heart ejecting more blood and plasma for the growth of your baby. It also helps protect the mother from certain delivery risks.
  2. Growth of hip size: The pelvic bone separates from the middle because of a hormone called relaxin, which helps the uterine muscle relax and softening of the cervix. It is not a dangerous thing as opening up of the pelvis makes the delivery safer.
  3. Skin darkening: Linea nigrea is a dark line that grows down your stomach and the belly button. It is always there even before pregnancy. However, the hormones change the pigmentation in the skin to make it look more evident. Moreover, that is not the only skin darkening that takes place. Some women develop dark spots and patches on their face. These are called melasma. Applying sunscreen can help prevent these.
  4. Vaginal color: The vagina tends to change its colour. It turns blue or purple and this is known as the Chadwick sign. The vagina may also swell up because of the increased blood flow as well as discharge. Development of vulvar varicose veins is very common during pregnancy. This mainly happens due to the pressure and weight of the uterus, which results in a decrease in the blood flow from the lower part of the body.
  5. The feet grow in size: Not only does the belly grow during pregnancy but, so do the feet. During pregnancy, the foot’s arch flattens because relaxin loosens your ligaments and the extra weight tends to push down the feet. The feet become longer and wider, hence. Moreover, fluid retention may also make your feet swell.
  6. Hair growthWomen tend to go through hair growth all over the body. It can also cause the hair to become thicker. Whereas, after the birth, hair fall becomes quite frequent. However, there is no need to worry since it is the body’s way of getting back to normal. It usually happens after six months of delivery.
  7. Brain fog: About eighty percent of the women go through memory loss or impairment. Although, the cause is unknown. The sleep deprivation or feelings of stress during pregnancy are a cause behind this.
  8. Having vampire breath: The hormonal change can cause bacteria in the mouth and cause it to become inflamed. Hence, it can lead to bleeding gums and a bad breath.
2394 people found this helpful
Icon

Book appointment with top doctors for Pregnancy Query treatment

View fees, clinic timings and reviews