Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Migraine Prevention Health Feed

I am a 71 year old woman who have been on topiramate 25 mg for quite some time. I receive my medication at a provincial hospital. They now substituted it with neophedan 20 mg. Can that be safely done?

Dr.Mrinal Acharya 89% (47ratings)
DM - Neurology, MD (Gold Medal), MBBS (Honours, Gold Medal)
Neurologist, Durgapur
Topiramate is an anti-epileptic drug, which can be used to treat various neurological disorders like migraine. Where neophedan contains tamoxifen citrate which is a nonsteroidal antiestrogen used to treat breast cancer. They do not belong to same class of drugs. Can you please mention why are you taking topiramate? By the way topiramate can never be substituted by neophedan.
Submit FeedbackFeedback

If I used mgr-10 for 6 days and stopped (i was support to do 1/2 tablet for 30 days), what are the implications? The reason why I stopped was due to some effects that I felt uncomfortable with.

Dr.Jayvirsinh Chauhan 94% (32648ratings)
MD - Homeopathy, BHMS
Homeopathy Doctor, Vadodara
First give full details of your complaints. The Medicine gives temporary effects only sonic you stop it the effects will go and complaints will return.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Migraine - Know The Symptoms And Treatment!

Dr.Kunal Bahrani 87% (22ratings)
MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, MD - General Medicine, DM - Neurology
Neurologist, Faridabad
Migraine - Know The Symptoms And Treatment!

Headaches and migraines can vary drastically depending on their duration, specific symptoms and the person they are affecting. The more you know about your specific type of headache or migraine, the better prepared you will be to treat them—and possibly even prevent them. The two types of migraine are- 

  1. Migraine without aura: The majority of migraine sufferers have Migraine without Aura. 
  2. Migraine with aura: Migraine with Aura refers to a range of neurological disturbances that occur before the headache begins, usually lasting about 20-60 minutes.

Symptoms of migraine vary and also depend on the type of migraine. A migraine has four stages: prodrome, aura, headache and postdrome. But it is not necessary that all the migraine sufferers experience all the four stages.

Prodrome: The signs of this begin to appear a day or two days before the headache starts. The signs include depression, constipation, food cravings, irritability, uncontrollable yawning, neck stiffness and hyperactivity.
Migraine Aura: Auras are a range of symptoms of the central nervous system. These might occur much before or during the migraine, but most people get a migraine without an aura. Auras usually begin gradually and increase in intensity. They last for an hour or even longer and are 

  • Visual: Seeing bright spots, various shapes, experiencing vision loss, and flashes of light
  • Sensory: Present in the form of touch sensations like feeling of pins and needles in the arms and legs
  • Motor: Usually related with the movement problems like the limb weakness
  • Verbal: It is related with the speech problems

Headache: In case of a migraine attack one might experience:

  • Pain on both sides or one side of the head
  • Pain is throbbing in nature
  • Vomiting and nausea
  • Sensitivity to smells, sound and light
  • Vision is blurred
  • Fainting and lightheadedness

Postdrome: This is the final phase of the migraine. During this phase one might feel fatigued, though some people feel euphoric.

Red flags that the patient may be having underlying serious disorder not migraine

  1. Onset of headaches >50 years 
  2. Thunderclap headache - subarachnoid haemorrhage 
  3. Neurological symptoms or signs 
  4. Meningism 
  5. Immunosuppression or malignancy 
  6. Red eye and haloes around lights - acute angle closure glaucoma 
  7. Worsening symptoms 
  8. Symptoms of temporal arteritis

These patients require CT scan / MRI or CSF examination. Most Migraine patients do not need these tests. 

Diagnosis of Migraine: Usually migraines go undiagnosed and thus are untreated. In case you experience the symptoms regularly then talk to the doctor, who evaluates the symptoms and can start a treatment. You can also be referred to a neurologist who is trained to treat the migraines and other conditions. During the appointment the neurologist usually asks about the family history of headaches and migraines along with your symptoms and medical history.

The doctor might advise for some tests like:

  1. Blood Tests: These reveal problems with the blood vessel like an infection in the spinal cord and brain.
  2. CT scan: Used to diagnose the infections, tumors, brain damage, and bleeding that cause the migraines.
  3. MRI: This helps to diagnose the tumors bleeding infections, neurological conditions, and strokes.
  4. Lumbar Puncture: For analyzing infections and neurological damages. In lumbar puncture a thin needle is inserted between the two vertebrae to remove a sample of the cerebrospinal fluid for analysis.

Treatments

Migraine treatments can help stop symptoms and prevent future attacks.

Many medications have been designed to treat migraines. Some drugs often used to treat other conditions also may help relieve or prevent migraines. Medications used to combat migraines fall into two broad categories:

  • Pain-relieving medications. Also known as acute or abortive treatment, these types of drugs are taken during migraine attacks and are designed to stop symptoms.
  • Preventive medications. These types of drugs are taken regularly, often on a daily basis, to reduce the severity or frequency of migraines.

Your treatment strategy depends on the frequency and severity of your headaches, the degree of disability your headaches cause, and your other medical conditions.

Some medications aren't recommended if you're pregnant or breast-feeding. Some medications aren't given to children. Your doctor can help find the right medication for you.

3464 people found this helpful

माइग्रेन का आयुर्वेदिक इलाज - Migrane Ka Ayurvedic Ilaaj!

Dr.Sanjeev Kumar Singh 92% (193ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurvedic Doctor, Lakhimpur Kheri
माइग्रेन का आयुर्वेदिक इलाज - Migrane Ka Ayurvedic Ilaaj!

एक होता है सर दर्द और दूसरा है माइग्रेन. सरदर्द तो फिर भी झेल लेते हैं लोग लेकिन माइग्रेन का शीघ्र इलाज बहुत जरुरी है. इसमें सिर में भयंकर दर्द होता है जिसका सहन करना बहुत मुश्किल है. ऊपर से सूरज की बढ़ती रौशनी के साथ दर्द भी बढ़ता जाता है. हलांकि माइग्रेन के उपचार के लिए बेहतर है कि आप डॉक्टर से सलाह लें लेकिन आप कुछ घरेलु उपचार करके इससे काफी हद तक राहत पा सकते हैं. निम्लिखित लेख के माध्यम से माइग्रेन के आयुर्वेदिक इलाज पर एक नजर डालते हैं.

1. पिपरमेंट का तेल

पिपरमेंट का तेल भी माइग्रेन में काफी राहत प्रदान करता है. माइग्रेन की परेशानी को कम करने के लिए इसके मरीजों को हफ्ते में लगभग तीन बार पिपरमेंट के तेल से सर में मालिश करवानी चाहिए. इससे सर में ठंडक तो होती ही है, तेज दर्द से भी राहत मिलती है. जिससे कि आपका तनाव कम हो जाता है.

2. अदरक भी लड़ता है माइग्रेन से
अपने बेहतरीन औषधीय गुणों से भरपूर अदरक आपके लिए माइग्रेन में भी राहत देता है. इसकी एक ख़ास बात ये भी है कि अदरक को आप खाने या चाय में भी स्वादानुसार डाल कर ले सकते हैं. इसके अलावा यदि आप ऐसे अदरक नहीं खा सकते हैं तो अब बाजार में अदरक के कैप्स्यूल भी मिलते हैं. इससे माइग्रेन के दौरान होने वाली मितली से आपको राहत मिलेगी.

3. मछली खाएं
माइग्रेन पीड़ितों को मछली भी भरपूर मात्रा में खानी चाहिए. क्योंकि मछली में ओमेगा 3 नाम का फैटी एसिड पाया जाता है जो कि शरीर के लिए कई मामलों में फायदेमंद होता है. आपको बता दें कि ओमेगा 3 फैटी एसिड माइग्रेन का दर्द पैदा करने वाली सनसनाहट को कम करता है.

4. पत्तेदार सब्जियां
माइग्रेन के घरेलु उपचार में पत्तेदार सब्जियां प्रमुख हैं. आप कहेंगे कि ऐसा क्या है पत्तेदार सब्जियों में तो आपको जानना चाहिए कि पत्तेदार सब्जियों में प्रचुर मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है. मैग्नीशियम की पर्याप्त मात्रा में मौजूदगी माइग्रेन से राहत प्रदान करती है. इसके साथ ही यदि आप कुछ साबुत अनाज जैसे कि दलिया या फिर समुद्री जीव आदि भी ले सकते हैं.

5. नींद जरुरी है
माइग्रेन के उपचार में नींद की भी महत्वपूर्ण भूमिका होती है. इसलिए माइग्रेन से पीड़ित व्यक्ति के लिए पर्याप्त नींद लेना महत्वपूर्ण है. ऐसे लोगों को कोशिश करनी चाहिए कि शोरगुल से मुक्त वातारण में 7-8 घंटे की नींद लें. ऐसा इसलिए ताकि आपको गहरी नींद आ सके. गहरी नींद में सोने से माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति को राहत मिलती है.

6. कसरत भी जरुरी है
कसरत तो हमें कुछ नहीं भी होने पर करना ही चाहिए. माइग्रेन के घरेलु उपचार में व्यायाम की भूमिका महत्वपूर्ण है. इसका कारण ये है कि कसरत या योग करने से तनाव काफी हद तक दूर होता है. जब तनाव दूर हो जाता है तो माइग्रेन से भी राहत मिलती है. इसलिए माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति प्रतिदिन व्यायाम करें.

7. जंक फूड को कहें ना
जंक फ़ूड कई रोगों का जड़ बनता जा रहा है. फास्ट फ़ूड या डिब्बा बंद भोजन का हाल भी कुछ ऐसा ही है. माइग्रेन के उपचार के लिए ये बेहद जरुरी है कि आप जंक फ़ूड और पनीर, चॉकलेट, केले आदि से भी दूर रहें. क्योंकि इसमें पाए जाने वाले तत्व माइग्रेन रोगियों की परेशानी बढ़ाते हैं. इसलिए जहां तक हो सके घर का खाना खाएं.

8. तेज रोशनी से दूर रहें
तेज रौशनी और माइग्रेन का छत्तीस का आंकड़ा है. इसलिए आपको तेज रौशनी से बचकर रहना चाहिए. आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि जहां आपको सोना या बैठना हो वहां पर आस-पास रौशनी न आने पाए. यदि आप अँधेरे कमरे में सोएंगे तो और बेहतर है. जहाँ तक हो सके आपको सूरज की सीधी पड़ने वाली रौशनी से बचना चाहिए.

9. दूध भी है माइग्रेन का घरेलु उपचार
माइग्रेन के उपचार में दूध भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. लेकिन इसमें ध्यान रखने वाली बात ये है कि जो दूध आप इस दौरान लेंगे वो वसा रहित हो. इस दौरान वसा रहित दूध या फिर इससे बनें उत्पादों का भी आप सेवन कर सकते हैं. दूध के उत्पादों में विटामिन बी (राइबोफ्लेविन) अधिक मात्रा में रहता है, जिससे शरीर की कोशिकाओं को मजबूती मिलती है. सिर की कोशिकाओं को ऊर्जा नहीं मिलने पर ये कमजोर हो जाती.

10. चिंता न करें
माइग्रेन जिसमें आपके सर में असहनीय दर्द होता है, का मुख्य कारण चिंता करना, देर रात तक काम करना, मानसिक दुर्बलता, जुकाम, नजला, कब्ज, मलेरिया आदि हो सकता है. एक तथ्य ये भी है कि महिलाओं में माइग्रेन की समस्या पुरुषों के मुकाबले ज्यादा पाई जाती है. कारण ये है कि उनमें हिस्टीरिया, अधिक शारीरिक या मानसिक कार्य करने के कारण, सदमा लगने, बेवजह परेशान पेरशान होने से ये समस्या उत्पन्न होती है.
 

8 people found this helpful

Migraine - How Homeopathy Can Help Treat It?

Dr.Minhaz Nisar 93% (275ratings)
BHMS, Diploma in Nutrition and Health Education (DNHE), CNCC
Homeopathy Doctor, Bhopal
Migraine - How Homeopathy Can Help Treat It?
Migraine and headaches are the same. True or false? Take this quiz to find out.
Start Quiz
356people took this quiz
Icon

Book appointment with top doctors for Migraine Prevention treatment

View fees, clinic timings and reviews