Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Low Blood Pressure Tips

Blood Pressure Measurements: Special Cases

Dr. Arvind Kanchan 91% (124 ratings)
MD - Physiology, MBBS
General Physician, Lucknow
Blood Pressure Measurements: Special Cases

Special cases of measurements of blood pressure: 

Certain groups of people merit special consideration for the measurement of blood pressure because of age, body habitus or disturbances of blood pressure related to haemodynamic alterations in the cardiovascular system.

1. Children:

Measurement of blood pressure in children presents a number of difficulties. Variability of blood pressure is greater than in adults, and any one measurement is less likely to represent the true blood pressure. Systolic pressure is more accurate and reproducible than diastolic pressure. A cuff with proper dimensions is essential for accurate measurement. The widest cuff practicable should be used. Ideally, blood pressure should be measured after a few minutes of rest. Values obtained during sucking, crying or eating will not be representative. As with adults, a child’s blood pressure status should be decided only after it has been measured on a number of separate occasions. Ambulatory blood pressure measurement is being used increasingly in children.

2. Elderly people:

In epidemiological and interventional studies, blood pressure predicts morbidity and mortality in elderly people as effectively as in the young. Elderly people have considerable variability in blood pressure, which can lead to a number of diurnal blood pressure patterns that are identified best with ambulatory blood pressure measurement. These patterns include isolated systolic hypertension, white coat hypertension and hypotension. Elderly patients may also have pseudohypertension, a condition in which there is a large discrepancy between cuff and direct measurement of blood pressure in elderly patients. When conventional measurements seem to be out of proportion with the clinical findings, referral to a specialist cardiovascular centre for further investigation may be an appropriate option.

3. Obese people:

The association between obesity and hypertension has been confirmed in many epidemiological studies. Obesity may affect the accuracy of measurement of blood pressure in children, young and elderly people, and pregnant women. The relation of arm circumference to bladder dimensions is particularly important. If the bladder is too short for the arm as often happens with obese arms, blood pressure will be overestimated – ‘cuff hypertension’. The increasing prevalence of the metabolic syndrome (obesity, hypertension and hyperglycaemia) makes accurate measurement of blood pressure in obese people increasingly important. In some obese patients, the arm circumference is so great that upper arm measurement is not possible and forearm measurement may be the only option. For conventional measurement, the Korotkoff sounds are auscultated over the radial artery and for devices that measure blood pressure by oscillometry (devices for self-measurement and ambulatory blood pressure measurement), the cuff is placed on the forearm.

4. Patients with arrhythmias:

Large variations in blood pressure from beat to beat make it difficult to obtain accurate measurements in patients with arrhythmias. In patients with arrhythmias, such as atrial fibrillation, blood pressure varies depending on the preceding pulse interval. No generally accepted method of determining auscultatory end points in patients with arrhythmias exists. Devices for measuring blood pressure with oscillometry vary in their ability to accurately record blood pressure in patients with arrhythmias. Measurements of blood pressure at best will constitute a rough estimate in those with atrial fibrillation, particularly when the ventricular rhythm is rapid or highly irregular, or both. The rate of deflation should be no faster than 2 mm Hg per heartbeat, and repeated measurements may be needed to overcome variability from beat to beat. Two potential sources of error exist when patients have bradyarrhythmia. If the rhythm is irregular, the same problems as with atrial fibrillation will apply. When the heart rate is extremely slow – for example, 40 beats/min – it is important that the rate of deflation used is less than for people with normal heart rates, as too rapid deflation will lead to underestimation of systolic blood pressure and overestimation of diastolic blood pressure.

5. Pregnant women:

Clinically, relevant hypertension occurs in more than 10% of pregnant women in most populations. High blood pressure is a key factor in making medical decisions in pregnancy. Disappearance of sounds (fifth phase) is the most accurate measurement of diastolic pressure, except when sounds persist to zero, in which case the fourth phase of muffling of sounds should be used.

6. Patients who take antihypertensive drugs:

In patients who take antihypertensive drugs, the timing of measurement may have a substantial influence on the blood pressure. The time of taking antihypertensive drugs should be noted.

7. Patients who are exercising:

Systolic blood pressure increases with increasing dynamic work as a result of increasing cardiac output, whereas diastolic pressure usually remains about the same or moderately lower.

An exaggerated blood pressure response during exercise may predict development of future hypertension.

2 people found this helpful

Low Blood Sugar(Hypoglycemia): Do You Know the Symptoms?

Dr. Amar Raykantiwar 90% (223 ratings)
D ( Diabetology), AFIH, DNB (F.MEDICINE), MBBS
General Physician, Pune
Low Blood Sugar(Hypoglycemia): Do You Know the Symptoms?

There are numerous conditions that can arise when the body does not process the dietary glucose properly. Hypoglycemia, otherwise called as low blood sugar, is when the blood sugar level in a person’s body decreases than normal value. Individuals with diabetes can get hypoglycemia (low blood sugar) when their bodies do not have enough sugar to use as fuel. It can happen for a few reasons, including diet, few medications and conditions, and exercise. 

In case you get hypoglycemia, record the date and time when it happened and what you did. Give the record to your specialist, so he or she can search for a pattern and adjust your medications accordingly. The most widely recognized reason for hypoglycemia includes medicines used to treat diabetes mellitus, for example, insulin and sulfonylureas. 

The risk is more noteworthy in diabetics who have eaten very less than what is required, exercised more than expected, or have had excessive alcohol. Other reasons for hypoglycemia incorporate kidney failure, certain cancers, for example, insulinoma, liver sickness, hypothyroidism, hunger, an inherent error of digestive system, extreme diseases, receptive hypoglycemia, various medications and liquor. The vast majority feels the symptoms of hypoglycemia when their glucose is 70 milligrams per deciliter (mg/dL) or lower. Every individual with diabetes may have distinctive symptoms of hypoglycemia depending on their age, stage and other factors. You will figure out how to recognize yours. 

Some of the most common symptoms are: 

Early indications include: 

  1. Confusion 
  2. Drowsiness 
  3. Shivering or shaking 
  4. Hunger 
  5. Irritation 
  6. Headaches 
  7. Pounding heart 
  8. Racing pulse 
  9. Pale skin 
  10. Sweating 
  11. Trembling 
  12. Weakness 
  13. Nervousness 

Anxiety Without treatment, you may get more serious side effects, including: 

  1. Poor coordination 
  2. Concentration issues 
  3. Numbness in mouth and tongue 
  4. Nightmares 
  5. Unconsciousness 
  6. Trouble talking, impaired speech 
  7. Ataxia, incoordination, mistaken up for being drunk 
  8. Central or general motor deficiency, loss of motion, hemiparesis 
  9. Migraine 
  10. Trance, coma like state, strange breathing 
  11. Seizures Individuals with hypoglycemia unawareness do not have any idea about their glucose level drops. 

In case you have this condition, your glucose can drop without you noticing it. Without quick treatment, you can pass out, encounter a seizure, or even go into a state of extreme coma. In case somebody is having an extreme reaction, for example, unconsciousness, it is imperative to inject a drug called glucagon and contact the hospital quickly. People who are at danger for low glucose need to speak with their specialist about getting a solution for glucagon. You should never give an unconscious individual anything by mouth, as it could make them choke. Hypoglycemia should not be ignored. 

In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

3435 people found this helpful

Healthy Diet Chart For Low Blood Pessure Patients - लो ब्लड प्यूसर रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Dr. Sanjeev Kumar Singh 91% (52 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For Low Blood Pessure Patients - लो ब्लड प्यूसर रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

शारीरिक निर्बलता की स्थिति में अत्यधिक मानसिक श्रम व भोजन में पौष्टिक खाद्य पदार्थों की कमी से प्रायः यह स्थिति उत्पन्न हो जाती है. कुछ लोग इसे नजरअन्दाज कर देते हैं तो कुछ लोग डॉक्टर के यहां चक्कर लगाकर परेशान हो जातें हैं. जब आपको लो ब्लड प्रेशर की शिकायत होती है तो कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करें जो आपके ब्लड प्रेशर को सामान्य करे तथा आप एक स्वस्थ जीवन जी सकें. सामान्यत: यदि किसी व्यक्ति का ब्लड प्रेशर कम हो जाता है तो वह खारे या अधिक मीठे खाद्य पदार्थों का सेवन करता है ताकि इन्सुलिन का स्तर बढ़ जाए. इन उपचारों के अलावा अन्य कई खाद्य पदार्थ भी हैं जिन्हें लो ब्लडप्रेशर से ग्रस्त मरीजों को अपने आहार में शामिल करना चाहिये. लेकिन कुछ ऐसे घरेलू उपाय है जो लो ब्ल्डप्रेशर को कन्ट्रोल करने के लिए कारगर है. आइए जानें उन उपायों के बारें में.
1. पत्तेदार सब्जियां
पत्तेदार सब्जियों में आयरन होता है जो एक महत्वपूर्ण खनिज पदार्थ है. ब्लड प्रेशर के कम होने पर उसे सामान्य बनाने के लिए यह बहुत ही महत्वपूर्ण होता है. सब्जियों में प्रोटीन और विटामिन होते हैं. बल्डप्रेशर को सामान्य बनाये रखने के लिए प्रतिदिन सब्जियां खाएं. स्वस्थ रहने के लिए अपने आहार में सब्जियों को शामिल करें क्योंकि ये ब्लड प्रेशर को सामान्य रखती हैं.
2. सूखे मेवे
सूखे मेवे आपकी ऊर्जा और प्रतिरोधन क्षमता को बढ़ाने का काम करते हैं. इसके अलावा ये ब्लड प्रेशर को नियमित करने का काम भी करते हैं इसलिए आपको इन्हें अपने दैनिक आहार में अवश्य शामिल करना चाहिए.
3. ओट्स
ओट्स में मौजूद प्रचुर मात्रा में फाइबर इसे लो बीपी वाले लोगों के लिए उपयोगी बनाता है. को अपने आहार में शामिल करें क्योंकि इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो आपको ऊर्जा प्रदान करता है.
4. बिना चर्बी वाला मांस
ऐसे मांस का सेवन करें जिसमें चर्बी कम मात्रा में हो. जिन लोगों को लो ब्लडप्रेशर की समस्या होती है उनके लिए टर्की, चिकन और मछली जैसे पदार्थ उपयोगी होते हैं. यह लो ब्लड प्रेशर के लिए सर्वोत्तम आहार है.
5. फल
फल खाना अक्सर हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक ही होता है. ऐसे फल खाएं जिनमें प्रोटीन प्रचुर मात्रा में हो. ये ऐसे फल हैं जो ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए बहुत अच्छे होते हैं इसलिए आप इन्हें भी खा सकते हैं.
6. काले खाद्य पदार्थ
काले अंगूर, काले खजूर आदि में आयरन प्रचुर मात्रा में होता है. ये सभी पदार्थ लो ब्लडप्रेशर को समान्य बनाने के लिए बहुत उपयोगी होते हैं. इन्हें आहार में शामिल करने से ब्लड प्रेशर के साथ साथ हृदय भी स्वस्थ रहता है.
7. खट्टे खाद्य पदार्थ
गर्मियों में खट्टे खाद्य पदार्थ जैसे संतरे आदि स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं क्योंकि इनमें पानी और एसिड पाया जाता है जो लो ब्लड प्रेशर के मरीजों के शरीर में ऊर्जा निर्माण में सहायक होता है.
8. साबुत अनाज
सफ़ेद खाद्य पदार्थों की तुलना में साबुत अनाज ज़्यादा अच्छा होता है. लो ब्लड प्रेशर को सामान्य बनाने के लिए इनका उपयोग करना अच्छा होता है तथा ये स्वास्थ्य के लिए भी अच्छे होते हैं. इन्हें आहार में अवश्य शामिल करना चाहिए.
9. लहसुन
लहसुन को अपने आहार में शामिल करें. यह ब्लड प्रेशर को सामान्य बनाने में सहायक होता है. अपने भोजन में कटी हुई लहसुन डालें. यह लो ब्लड प्रेशर के लिए एक अच्छा खाद्य पदार्थ है.
10. चुकंदर
चुकंदर प्रचुर मात्रा में मौजूद खनिज, आयरन इसे लो बीपी वाले लोगों के लिए काफी उपयोगी बनाता है. अच्छे स्वास्थ्य तथा सामान्य ब्लड प्रेशर के लिए यह एक अच्छा आहार है.
11. डार्क चॉकलेट
डार्क चॉकलेट न केवल आपके हृदय के लिए बल्कि लो ब्लड प्रेशर के लिए भी एक अच्छा आहार है.

2 people found this helpful

Salt - 7 Things You Must Know About It!

Dr. Rajiv Agarwal 85% (72 ratings)
MBBS, MD - Medicine, DM - Cardiology, Fellowship in Interventional Cardiology
Cardiologist, Delhi
Salt - 7 Things You Must Know About It!

Salt or more specifically Sodium plays a crucial role in BP management. Too high salt/Sodium ingestion can cause high BP while too low salt/sodium levels can cause low BP. So it is important to maintain an optimum salt intake. Studies have shown that a reduction in the amount of sodium consumed through the diet leads to a noticeable decrease of blood pressure and therefore, it is important to keep salt intake as low as possible. Salt intake is not same as Sodium intake. Salt is Sodium Chloride and is just one of the forms in which human beings consume Sodium. Here are some tips--

  1. Recommended Salt/ Sodium intake - Adults should consume <5gms of salt in a day (appx 1 teaspoon salt)/ Or <2.3 gms of sodium daily. Ideal Sodium intake should be <1.5 gms daily. 
  2. To decrease salt/sodium, AVOID processed foods like Chips, nachos, popcorns, namkeens like bhujiya, salted peanuts etc, pickles, papads, chutneys, sauces like tomato and soya sauce, ready-to-eat meals, junk and fried food like burgers, french fries, cured hams or bacon or salami, packed salty drinks like juices or buttermilk, hot chocolate etc. 
  3. Avoid adding salt from over the top in your salads, soups, curds and vegetables. 
  4. DO NOT Absolutely remove salt from your diet. Hence, Salt used while cooking the food at home is fine, but once the food is cooked do not add extra salt/chaat masala in the cooked food. 
  5. Teach healthy eating habits to your children by encouraging them to eat fruits, vegetables, drinking fresh food and home cooked meals rather than junk food. 
  6. If you are heart failure patient or kidney disease patient discuss with your Cardiologist or Nephrologist about the optimum recommended salt intake specified for you. 
  7. It is difficult to get used to low salt in terms of taste when you are used to salty taste, but it is possible. But the health benefits of controlling salt in diet can play a major role in BP reduction thus preventing the need for medicines, hence it can be worthwhile to get used to low salt taste.

In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

3291 people found this helpful

Home Remedies for Low Blood Pressure in Hindi - लो ब्लड प्रेशर का घरेलू इलाज

Dr. Sanjeev Kumar Singh 91% (52 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Home Remedies for Low Blood Pressure in Hindi - लो ब्लड प्रेशर का घरेलू इलाज

निम्न रक्त चाप की समस्या आजकल धीरे-धीरे बढती ही जा रही है. दरअसल इस समस्या के बारे में जानकारी का अभाव भी इसके गंभीर होने का एक कारण है. निम्न रक्त चाप से निपटने के लिए आपको अपने घर पर ही कई तरह की सुविधायें और आहार मिल जाएंगे जिससे आपकी परेशानी काफी हद तक कम हो सकती है. शारीरिक कमजोरी के दौरान अत्यधिक मानसिक श्रम व भोजन में पौष्टिक खाद्य पदार्थों की कमी से प्रायः यह स्थिति उत्पन्न हो जाती है. कुछ लोग इसे नजरअन्दाज करने की गलती करते हैं तो कुछ लोग डॉक्टर के यहां चक्कर लगाकर परेशान हो जातें हैं. आइए निम्न रक्त चाप से बचने के लिए कुछ घरेलु उपायों पर प्रकाश डालते हैं.
1. देसी चना और किशमिश
देसी चना और किशमिश के इस्तेमाल से आप निम्न रक्त चाप को दूर कर सकते हैं. 50 ग्राम देशी चने व 10 ग्राम किशमिश को रात में 100 ग्राम पानी में किसी भी कांच के बर्तन में भीगने के लिए रख दें. सुबह चनों को किशमिश के साथ अच्छी तरह से चबा-चबाकर खाने के बाद पानी को पी लें.
2. बादाम
बादाम का इस्तेमाल हमें कई तरह की परेशानियों को दूर करने में मदद करता है. रात में बादाम की 3-4 गिरी पानी में भिगों दें. सुबह उनका छिलका उतारकर कर 15 ग्राम मक्खन और मिश्री के साथ इसे मिलाकर बादाम-गिरी को खाने से लो ब्लड प्रेशर खत्म होता है.
3. आंवला
प्रतिदिन आंवले या सेब के मुरब्बे का सेवन निम्न रक्त चाप में बहुत उपयोगी होता है. आंवले के 2 ग्राम रस में 10 ग्राम शहद मिलाकर कुछ दिन प्रातःकाल सेवन करने से निम्न रक्त चाप दूर करने में मदद मिलती है.
4. चुकंदर का रस
निम्न रक्त चाप को दूर करने में आप चुकंदर की भी सहायता ले सकते हैं. क्योंकि इसे सामान्य बनाये रखने में चुकंदर रस काफी मददगार होता है. रोजाना यह जूस सुबह-शाम पीना चाहिए. इससे हफ्ते भर में आप अपने ब्लड प्रेशर में सुधार पाएंगे.
5. जटामानसी, कपूर और दालचीनी
जटामानसी, कपूर और दालचीनी को समान मात्रा में लेकर मिश्रण बना लेँ और तीन-तीन ग्राम की मात्रा मेँ सुबह-शाम गर्म पानी से सेवन करें. कुछ ही दिन मेँ आपके ब्लड प्रेशर में सुधार हो जायेगा.
6. आंवले का रस
जिसको भी निम्न रक्त चाप की शिकायत हो और अक्सर चक्कर आते हों तो आवलें के रस में शहद मिलाकर चाटने से जल्दी आराम मिलता है. इसकी सहायता से आप अपनी परेशानी कम कर सकते हैं.
7. छुहारे और दूध
निम्न रक्त चाप के लिए आप चाहें तो छुहारे और दूध का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए रात्रि में 2-3 छुहारे दूध में उबालकर पीने या खजूर खाकर दूध पीते रहने से निम्न रक्तचाप में सुधार होता है.
8. अदरक
के बारीक कटे हुए टुकडों में नींबू का रस व सेंधा नमक मिलाकर रख लें. इसे भोजन से पहले थोडी-थोडी मात्रा में दिन में कई बार खाते रहने से यह रोग दूर होता है. निंबू को पानी के साथ या सलाद आदि के साछ रोज खाने से इस समस्या से रात मिलती है.
9. जीरा व हींग
इसकी सहयाता से भी आप निम्न रक्त चाप का इलाज कर सकते हैं. 200 ग्राम मट्ठे मे नमक, भुना हुआ जीरा व थोडी सी भुनी हुई हींग मिलाकर प्रतिदिन पीते रहने से इस समस्या के निदान में पर्याप्त मदद मिलती है.
10. टमाटर काली मिर्च
200 ग्राम टमाटर के रस में थोडी सी काली मिर्च व नमक मिलाकर पीना काफी फायदेमंद साबित होता है. ये भी अजीब है कि उच्च रक्तचाप में जहां नमक के सेवन से रोगी को हानि होती है, वहीं निम्न रक्तचाप के रोगियों को नमक के सेवन से लाभ होता है.
11. गाजर
इससे निपटने के घरेलु नुस्खों में एक ये भी है कि गाजर के 200 ग्राम रस में पालक का 50 ग्राम रस मिलाकर इसका मिश्रण बना लें. फिर इसे पीना भी निम्न रक्तचाप के रोगियों के लिये लाभदायक रहता है.
12. लहसुन
लहसुन ग्रामीण क्षेत्रों में कई औषधियों के रूप में प्रयोग में लाया जाता है. निम्न रक्तचाप के रोगियों के लिये बहुत ही लाभदायक होता है इसका नियमित सेवन करने से भी लो ब्लड प्रेशर की समस्या में आराम होता है.

2 people found this helpful

Toxic Shock Syndrome & Its 6 Symptoms

Dr. Rashmi Jain 84% (55 ratings)
MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, DGO
Gynaecologist, Ghaziabad
Toxic Shock Syndrome & Its 6 Symptoms

Toxic shock syndrome (TSS) is a potentially life-threatening condition that causes a steep drop in blood pressure, resulting in deprivation of oxygen to the organs, which in severe cases leads to death. This disease has been associated with menstruating women who use superabsorbent tampons. It was first recognized in the 1970s and 80s when women using tampons of certain brands were affected by this syndrome and those brands were immediately taken off the market. This disease primarily affects tampon wearers and harmful effects of cervical caps, diaphragms, and menstrual sponges have surfaced.

New mothers are susceptible to TSS as well as those who are recovering from a surgery, are wounded or are using prosthetics. It is important to know about its symptoms so that you can identify the disease and seek professional help at the earliest.

Warning signs of TSS include:

  1. Seizure
  2. Headaches
  3. Muscle aches
  4. Diarrhea
  5. High fever
  6. Nausea

Causes
An overgrowth of bacteria called Staphylococcus aureus (staph) causes this disease. It can be found primarily in female bodies. This is one of the many staph bacteria that lead to skin infections in burn victims and patients recovering from surgical wounds. Group a streptococcus (strep) bacteria is another cause of this syndrome.

In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

3640 people found this helpful

Homeopathic Remedies For Low Blood Pressure!

Dr. Pawan Uniyal 93% (334 ratings)
BHMS, MBA (Healthcare)
Homeopath, Dehradun
Homeopathic Remedies For Low Blood Pressure!

Low blood pressure is also known as hypotension. Low blood pressure can be characterized by extreme fatigue, constant recurrence of headache and drowsiness throughout the day. It can also cause severe vertigo, nausea and even fainting. Low blood pressure can be caused due to dehydration, anaemia, hypothyroidism, lack of essential nutrients in diet, extreme stress or heart conditions. Homeopathy is a safe, natural method of treating low blood pressure. It is an effective remedy without causing detrimental consequences or adverse side effects.

Homeopathic medicines start by providing “symptomatic” relief. It eases vertigo, nausea, fatigue and provides relief so that the patient can carry on with daily activities without hindrance. The next step is to normalise the blood circulation in the body, which also includes an improvement in the pulse rate and heart functions. This is done to maintain the normal blood pressure range. The third step involves treating the cause of low blood pressure. This includes a detailed study and analysis of the medical history of the patient. There are different causes of low blood pressure and different age groups are affected. Therefore, medicines are prescribed accordingly. 

Some highly recommended Homeopathic medicines for low blood pressure:

  1. Gelsemiun and Viscum Album are effective homeopathic medicines mostly prescribed for patients with low blood pressure, which is accompanied by extreme vertigo and nausea. Sometimes the patients also suffer from a constant dull aching head and feelings of stress. The pulse is usually slow and weak, causing persistent fatigue.
  2. Glonoine and Natrum Mur help to maintain the blood pressure when it unexpectedly falls due to prolonged sun exposure. Heavy headedness, vertigo, nausea, fainting spells are common in such cases.
  3. Carbo veg and China are highly potent medicines in case of an abnormal fall in blood pressure caused by severe diarrhoea and dehydration. The body has marked signs of exhaustion and the pulse is so weak that it is often imperceptible.
  4. China and Ferrum Met are prescribed when the blood pressure falls due to heavy blood loss. Irregular, feeble purse, anaemia, exhaustion are common symptoms occurring from blood loss due to haemorrhage.

It is important to include nutrients, dairy products and increase intake of iron-containing food along with the homeopathic medicines prescribed to speed up the health improvement process.

In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

4914 people found this helpful

Bp Kam Karne Ka Upay - बीपी कम करने के उपाय

Dr. Sanjeev Kumar Singh 91% (52 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Bp Kam Karne Ka Upay - बीपी कम करने के उपाय

आज के दौर में ब्लड प्रेशर के मरीजों की तादाद दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। दौड़- भाग भरी जिंदगी, फॉस्ट फूड और अनियमित दिनचर्या की वजह से आजकल हर उम्र के लोगों में पाया जाने लगा है। और वैसे तो ब्लड प्रेशर की बीमारी साधारण लगती है पर अगर इसपर काबू न पाया गया तो यह बीमारी दिल की बीमारी, स्ट्रोक और गुर्दे की बीमारी होने का भी खतरा रहता है। और एक बात ब्लड प्रेशर कम हो या ज्यादा ख़तरनाक दोनों ही होते हैं। 

अब समस्या है तो समाधान तो ढूंढना ही पड़ेगा। पर इसके भी दो तरीके है एक रोज अंग्रेजी दवाएं खाकर राहत ली जाए पर इसके साइड इफ़ेक्ट होना तय है, और दूसरा है घरेलू उपचार जो जिसे अपनाकर आप ब्लड प्रेशर पर तो काबू पा ही जाएंगे साथ ही शरीर की और कई बीमारियों में लाभ पहुंचाएगा और साइड इफ़ेक्ट भी नहीं होगा। तो आइए आज हम जानते हैं बढ़े हुए ब्लड प्रेशर को कम करने के घरेलू टिप्स।

1. चोकर युक्त आटा
गेहूं व चने के आटे को बराबर मात्रा में लेकर बनाई गई रोटी खूब चबा-चबाकर खाएं, आटे से चोकर न निकालें। यह ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में काफी कारगर नुस्खा है।

2. ब्राउन राइस
ब्राउन चावल उपयोग में लाए। इसमें नमक, कोलेस्टरोल और चर्बी नाम मात्र की होती है। यह उच्च रक्त चाप रोगी के लिये बहुत ही लाभदायक भोजन है।

3. लहसुन
लहसुन में एलिसीन होता है, जो नाइट्रिक ऑक्साइड के उत्पादन को बढ़ाता है और मांसपेशियों को आराम पहुंचाता है। ब्लड प्रेशर के डायलोस्टिक और सिस्टोलिक सिस्टम में भी राहत देता है। यही कारण है कि ब्लड प्रेशर के मरीजों को रोजाना खाली पेट एक लहसुन की कली निगलनी चाहिए।

4. आंवला
वैसे तो आंवला काफी बीमारियों में मदद करता है पर आज से आप जानलें की आंवला ब्लड प्रेशर के लिए भी बहुत राहत पहुंचाने वाला है। आंवला में विटामिन सी होता है। यह ब्लड सर्कुलेशन को ठीक करता है और कोलेस्ट्रॉल को भी कंट्रोल में रखता है।

5. मूली
वैसे तो मूली एक साधारण सब्जी है। पर इसे खाने से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। इसे पकाकर या कच्चा खाने से बॉडी को मिनरल्स व सही मात्रा में पोटैशियम मिलता है। यह हाइ-सोडियम डाइट के कारण बढ़ने वाले ब्लड प्रेशर पर भी असर डालता है।

6. तिल और चावल की भूसी
तिल का तेल और चावल की भूसी को एक साथ खाने से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। यह हाइपरटेंशन के मरीजों के लिए भी लाभदायक होता है। माना जाता है कि यह ब्लड प्रेशर कम करने वाली अन्य औषधियों से ज्यादा बेहतर होता है। 

7. अलसी
अलसी में एल्फा लिनोनेलिक एसिड काफी मात्रा में पाया जाता है। यह एक प्रकार का महत्वपूर्ण ओमेगा - 3 फैटी एसिड है। कई स्टडीज में भी पता चला है कि जिन लोगों को हाइपरटेंशन की शिकायत होती है, उन्हें अपने भोजन में अलसी का इस्तेमाल शुरू करना चाहिए। इसमें कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है और इसे खाने से ब्लड प्रेशर भी कम हो जाता है

8. इलायची
जानकारों के मुताबिक इलायची के नियमित सेवन से ब्लड प्रेशर प्रभावी ढंग से कम होता है। इसे खाने से शरीर को एंटीऑक्सीडेंट मिलते हैं। साथ ही, ब्लड सर्कुलेशन भी सही रहता है।

9. प्याज
नियमित प्याज खाने से कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल में रहता है। इसमें क्योरसेटिन होता है। यह एक ऐसा ऑक्सीडेंट फ्लेवेनॉल है, जो दिल को बीमारियों से बचाता है।

10. दालचीनी
दालचीनी के सेवन से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। दालचीनी में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है यह ब्लड सर्कुलेशन को सुचारू रखता है।

11. नामक कम खाएं
नमक ब्लड प्रेशर बढाने वाला प्रमुख कारक है। इसलिए यह बात सबसे महत्वपूर्ण है कि जिनकी बीपी हाई हो उन्हें नामक खाने से बचना चाहिए। 

12. रक्त गाढ़ा ना होने दें
लहसुन ब्लड प्रेशर ठीक करने में बहुत मददगार घरेलू उपाय है। यह रक्त का थक्का नहीं जमने देती है। धमनी की कठोरता में लाभदायक है। रक्त में ज्यादा कोलेस्ट्ररोल होने की स्थिति का समाधान करती है। उच्च रक्तचाप का एक प्रमुख कारण होता है रक्त का गाढा होना। रक्त गाढा होने से उसका प्रवाह धीमा हो जाता है। इससे धमनियों और शिराओं में दवाब बढ जाता है। 

13. आंवले का रस
एक बड़ा चम्मच आंवले का रस उसी मात्रा में हनी मिलाकर सुबह-शाम लेने से हाई ब्लड प्रेशर में राहत मिलती है। 

14. काली मिर्च
जब ब्लड प्रेशर बढ़ा हुआ हो तो आधा ग्लास हल्का गर्म पानी में एक चम्मच काली मिर्च पाउडर घोलकर 2-2 घंटे के डिस्टेंस पर पीते रहें। यह ब्लड प्रेशर सही करने का बढिया उपचार है।

15. नींबू
हाई हुए ब्लड प्रेशर को जल्दी कंट्रोल करने के लिये आधा गिलास पानी में आधा नींबू का रस 2-2 घंटे के अंतर से पीते रहें। इससे तुरन्त फायदा होगा।

16. तुलसी 
कुछ तुलसी के पत्ते और दो नीम की पत्तियों को पीसकर 20 ग्राम पानी में घोलकर खाली पेट सुबह पिएं। 15 दिन में असर महसूस होने लगेगा।

17. पपीता
हाई ब्लडप्रेशर के मरीजों के लिए पपीता भी बहुत लाभ करता है, इसे प्रतिदिन खाली पेट चबा-चबाकर खाएं।

18. शर्बत
सौंफ़, जीरा, शक्कर तीनों बराबर मात्रा में लेकर पाउडर बना लें। एक गिलास पानी में एक चम्मच मिश्रण घोलकर सुबह-शाम पिएं।

19. अदरक
बुरा कोलेस्ट्रोल धमनियों की दीवारों पर प्लेक यानी कि कैल्शियम युक्त मैल पैदा करता है जिससे रक्त के प्रवाह में अवरोध खड़ा हो जाता है और नतीजा उच्च रक्तचाप के रूप में सामने आता है। अदरक में बहुत हीं ताकतवर एंटीओक्सीडेट्स होते हैं जो कि बुरे कोलेस्ट्रोल को नीचे लाने में काफी असरदार होते हैं। अदरक से आपके रक्तसंचार में भी सुधार होता है, धमनियों के आसपास की मांसपेशियों को भी आराम मिलता है जिससे कि उच्च रक्तचाप नीचे आ जाता है।

20. मेथी
तीन ग्राम मेथीदाना पावडर सुबह-शाम पानी के साथ लें। इसे पंद्रह दिनों तक लेने से लाभ जरूर फायदा होगा।

21. वॉक
नंगे पैर हरी घास पर रोजाना 10-15 मिनट वॉक करें। इसे नियम में लाने से ब्लड प्रेशर नार्मल रहता है।
 

14 people found this helpful

Lemon - How Keeping It Near Your Bed Will Help You?

Dr. Mahesh Kumar Gupta 86% (292 ratings)
Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery (BAMS), Certificate In Osteopathy, Panchakarma Training
Ayurveda, Udaipur
Lemon - How Keeping It Near Your Bed Will Help You?

The refreshing aroma of the lemon has a significant role to play in ensuring the health of people than just merely being used as food flavoring. Known to be loaded with potassium, antioxidants, calcium, Vitamin B, and various other nutrients, simply placing them in the bedroom can both mentally and physically improve one’s health. Below are some of the outstanding health benefits of this habit.

  1.  Reduces stress: The failure of the activation of the receptors like adenosine A or 2A on the cell membranes is known to cause anxiety, insomnia and impaired transmission of dopamine. However, it is the citrus smell present in the lemons that help in soothing the mind and the body and relaxing the brain by activating the receptors present on the cell membrane.
  2. Improves air quality: A poor air quality inside the house not only makes the environment of the house an unhealthy one but also gives rise of airborne bacteria and germs. Keeping few sliced lemons near your bed not only freshens the air with its sweet citrus smell; but also absorbs the harmful bacteria present in the air, rendering fresh and clean air.
  3. Improves breathing: When it comes to getting rid of the stuffy nose that makes one restless and sleepless in his or her bed at night, keeping sliced lemons near the bed can do wonders. The gentle citrus smell of the lemons improves one’s breathing by soothing the nostrils. The inhaling of the smell of this anti-oxidizing and anti-bacterial fruit helps in keeping the nasal way clear. The essential oil limonene that this fruit contains helps in alleviating other breathing-related issues such as common cold or asthma as well.
  4. Great insect repellant: Without having to use any harmful chemicals that may cause skin and respiratory issues or damage the endocrine system, putting lemon slices near one's bed can serve as a great natural insect replant. Placing this little yellow fruit on the other side of one's bed room keeps all sorts of insects at bay. It is the strong citrus smell of this natural repellent that repels the insects.
  5. Lowers the blood pressure: The sweet aroma of lemons also has a role to play in reducing the blood pressure or maintaining it. Due to the calming effects that this fruit possesses, smelling lemons that are kept near the bed, helps to relax the body as well as reducing the blood pressure.

A lemon functions way beyond as a kitchen fruit or a simple flavoring agent. Based on the considerable numbers of therapeutic properties, a lemon should be there in the house, especially in the bed rooms, if you want to reap the magical benefits of this little citrus fruit. If you wish to discuss any specific problem, you can consult an ayurveda.

12445 people found this helpful

High BP & Sex - Are They Related?

Dr. P.K Gupta 81% (144 ratings)
MBBS, MD, PGD-USG ,PGDS (Sexual Medicine
Sexologist, Delhi
High BP & Sex - Are They Related?

High blood pressure is a condition in which the pressure of the blood against the artery wall is high enough to cause health problems, including heart disease. No symptoms may be noticed in a person for years but the damage to the blood vessels and to your heart continues. High blood pressure can have an impact on your sex life. Although sexual activity does not lead to any possible threats to your health but high blood pressure can affect the pleasure you would have otherwise derived from sex.

In Men:
High blood pressure leads to the wearing out of the lining of blood vessels and causes arteries to narrow and harden that decreases the blood flow. This results in decreased blood flow to the penis. In case of some men, this decreased blood flow makes it difficult for them to achieve and maintain an erection. This problem is called erectile dysfunction.
High blood pressure may also interfere with ejaculation and be a cause for low libido. The medications that are prescribed for treating high blood pressure may lead to this condition.

In Women:
Just as in the case of men, high blood pressure results in the decreased flow of blood to the vagina in case of women. This may cause problems like low libido, vaginal dryness, or complexities in achieving orgasm. Sexual dysfunction in women results in stress, anxiety and even relationship issues

In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

3266 people found this helpful
Icon

Book appointment with top doctors for Low Blood Pressure treatment

View fees, clinic timings and reviews