Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Health Check Up Tips

Keep A Track Of Your Health With Preventive Health Care

Dr. Riyaz A Bhat 86% (10 ratings)
MD - Medicine, Diabetologist, Thyroidologist & Endocrinologist
General Physician, Srinagar
Keep A Track Of Your Health With Preventive Health Care

Most of us today live a hectic life be it pressing deadlines or tiring social engagements, but in all this hustle and bustle we tend to often neglect our health. Do we know that today for all of us there is a great need for preventive care, especially in today's world where the threats are magnified. This also includes being able to get the proper guidance to imbibe a healthier lifestyle with regular tests and health checkups that will help us in knowing our present state of health and will help is in identifying risks and threats well in advance.

Did you know, that almost seven out of ten fatalities or deaths are caused due to chronic disease and that half these cases do not recognise the early symptoms and risks with proper screening and regular check ups! Sounds familiar, are you also one of those who have never cared for preventive healthcare check ups?

These preventive health checkups are actually life saving, as they update you on how fit and healthy you are. Preventive health care basically deals with the prevention of diseases and conditions that may be caused due to environmental factors, genetic predisposition of the patient, lifestyle choices as well as disease agents. In this field, constant check ups and preventive action equips people to deal with and ward off these causes so as to prevent the onset of a number of disease and ailments. Here is everything you need to know about preventive healthcare.

In today's time it is very simple to get a preventive health check up done, all it takes is a simple blood and urine test at a lab and you will be able to know all you need to know about your health. Further, if there has been an outbreak of an epidemic where you live, then preventive health care will help in getting the right tests done at the right time so as to ensure that you get the proper vaccinations. With preventive healthcare, you can also get genetic testing done on a regular basis so as to learn more about preventing diseases like asthma, cardiovascular diseases, diabetes and many others that one might inherit genetically.

It is time that we take care of ourselves by booking a full body check up today and live a healthy and stress free life.

1 person found this helpful

सेहत बनाने के घरेलू तरीके - Household Ways to Make Health!

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
सेहत बनाने के घरेलू तरीके - Household Ways to Make Health!

अगर आप सुस्ती या कमजोरी का सामना कर रहे है तो यह एक सामान्य समस्या है जो पौष्टिक आहार के कमी या अन्य कारणों से हो सकता है. लेकिन अगर कमजोरी और सुस्ती लगातार बानी रहती है तो इसके गंभीर परिणाम भी हो सकते है. जब आप कमजोरी या सुस्ती महसूस करते है तो आपके शरीर में ऊर्जा की कमी होती है, जिसके कारण आप पर्याप्त नींद से वंचित रहना, भूख की कमी, ध्यान एकग्र करने में कठिनाई, स्मृति हानि या पसीना आना इत्यादि जैसे लक्षणों का सामना कर सकते है. जब आपका शरीर कमजोर हो जाता है तो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली भी कमजोर हो जाती है और शरीर सुचारू रूप से कार्य नहीं करती है, जो कई गंभीर बिमारियों को जन्म देती है. हालांकि, इस कमजोरी से निजात पाने के लिए कई घरेलु उपाय है जो आपकी ऊर्जा को बढ़ाता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है. ऐसे ही कुछ सुझाव निम्नलिखित बताये गए है, जो आपकी ऊर्जा और ताकत को बढ़ावा देता है.

कमजोरी से निजात पाने के घरेलु उपचार इस प्रकार हैं:

1. मुलेठी
यह एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो सदियों से आयुर्वेद द्वारा इस्तेमाल किया जा रहा है. यह आपके शरीर में पाएं जाने वाले तीनों दोषों को शांत करता है, जो ज्यादातर बिमारियों के कारण होता है. यह आपके शरीर में ऊर्जा का संचार करता है और मेटाबोलिज्म को बढ़ावा देता है.

2. केला
केलें में कई तरह के पौष्टिक गुण होते है जो आपके शरीर में ऊर्जा संचार करने में मदद करता है. केले में सुक्रोज़, फ्रुक्टोज और ग्लूकोज का महान स्रोत है. केले में मौजूद पोटेशियम बॉडी के अंदर शुगर को ऊर्जा में परिवर्तन करता है. इसके अलावा केला डिप्रेशन से निपटने में भी मदद करता है.

3. स्ट्रॉबेरी
स्ट्रॉबेरी ऊर्जा स्तर को बनाये रखने के लिए बहुत फायदेमंद है. इसमें विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट के अलावा फाइबर, मैंगनीज और पानी की भरपूर मात्रा होती है, जो आपको ऊर्जावान रखता है. यह आपके प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ रखता है, जिससे आप पुरे दिन सुचारु ढंग से कार्य कर सकते हैं.

4. आम
आम को फलों को राजा कहते है, इसके पीछे कारण भी बहुत जायज है. यह रसदार और स्वादिष्ट होने के साथ-साथ कई तरह के पौष्टिक गुण भी प्रदान करता है. आम में विटामिन ए सी और ई के साथ मिनरल और एंटीऑक्सीडेंट होते है. इसमें मौजूद आयरन शरीर में रेड ब्लड सेल की मात्रा को बढ़ाता है. यह आपके इम्यून सिस्टम को बढ़ाने के अलावा सेक्स लाइफ में भी सुधार करता है.

5. पानी
डिहाइड्रेशन कमजोरी और थकान का एक प्रमुख कारण है. अपने शरीर के ऊर्जा स्तर को बनाये रखने के लिए पुरे दिन तरल पेय पदार्थ पीना जरुरी है. आप फलों के जूस के अलावा दूध पानी या अन्य पौष्टिक तरल पदार्थ पीना चाहिए.

6. अंडे
अंडे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए एक महत्वपूर्ण आहार है. यदि आप अंडे का रोजाना सेवन करते है तो आप स्वस्थ और बेहतर महसूस कर पायंगे. इसमें फोलिक एसिड, राइबोफ्लेविन, विटामिन ए, पैंटोफेनीक एसिड, प्रोटीन और आयरन पाए जाते हैं.
7. दूध
दूध कैल्शियम और विटामिन का एक समृद्ध स्रोत है. इसमें पाए जाने वाले विटामिन बी कमजोरी और थकान से लड़ता है. कैल्शियम आपके शरीर में हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत करता है.

8. आंवला
आंवला एक समृद्ध आयुर्वेदिक फल है जो आपके शरीर के ऊर्जा स्तर को बनाये रखता है. यह विटामिन सी, कैल्शियम, प्रोटीन, लोहा, कार्बोहाइड्रेट और फास्फोरस का एक अच्छा स्रोत है. हर दिन आंवला के सेवन से प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है.

9. कॉफी
कॉफी आपके माइंड को एक्टिव रखता है और आपको पुरे दिन तरोताजा रखता है. यह आपको शीघ्र एनर्जी प्रदान करता है. जब तक आप इसे सिमित मात्रा में पीते है, तब तक इसका कोई नुकसान नहीं होता है. यह आपके एकाग्रता और मेटाबोलिक रेट में सुधार करता है. हालांकि इसके अत्यधिक सेवन से अनिद्रा और चिंता जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है.

4 people found this helpful

Why Should You Go For Routine Health Check-up?

Dr. Usha Lalwani 89% (94 ratings)
MD - Pharmacology, MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery
General Physician, Ahmedabad
Why Should You Go For Routine Health Check-up?

“An apple a day keeps the doctor away” however, while one may commend you on an excellent diet schedule, keeping the doctor away might not always seem to be too favourable an option, especially in recent times when unforeseen circumstances and complications pertaining to lifestyle irregularities always keep creeping up.

While proper diet and regular workouts may keep you remarkably fit, genetic constraints might easily overrule such efforts to maintaining good health. Frequent checkups are especially recommended for those who share a family history of a number of diseases, infections, any type of cancer, hypertension, or sleep disorders, since problems might grow quietly and steadily when left unchecked for a longer span of time.

Most people usually visit their doctor or physician when they face an emergency. This should not be the scenario, as is advised by most health experts. It has been widely accepted that the average visit to the clinic must be at the least, four times a year. However, uniformity isn’t to be maintained by everyone in this regard. Infants see a doctor for at least eight times a year while six to eight year olds visit their physician twice a year.

It is important to have a number of crucial matters looked into and tested periodically in order to keep track of any unfavourable developments:

  1. Dental check-up every six months
  2. Annual pap smears
  3. Semi-annual HIV tests
  4. Eye examinations once every two years, once a year for those patients with current vision problems
  5. Biennial skin cancer screening
  6. Full physical examination once a year
  7. Breast examination once a month
  8. Pelvic examination every few months
  9. Thyroid tests every five years
  10. Check blood pressure level every month

It is imperative to understand that not one particular check-up schedule is capable of fitting in the necessities of all individuals. This makes it all the more clear that, while the requirement of physical attention isn’t the same for everyone, once a year physical check-up is a must for any individual. In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

3002 people found this helpful

Urine Colour - What It Says About Your Health?

Dr. A.K. Bhalla 86% (23 ratings)
DM - Nephrology, DNB (Nephrology), MD, MBBS
Nephrologist, Delhi
Urine Colour - What It Says About Your Health?

Changes in the colour of your urine can reveal important information about your health. If your urine takes on a hue beyond what's normal, it can be indicative of something wrong with your health. In general, the normal urine colour varies from pale yellow to deep yellowish-brown, which is a result of a chemical pigment in the urine called urochrome.

1. Red or Pink

  • When your kidneys, urethra, bladder or any other urinary tract organ gets infected or inflamed, blood cells get leaked into the urine, giving it a red hue. The causes behind the presence of blood can be urinary tract infections, kidney cysts, kidney stones, enlarged prostate and even cancer. Taking blood thinners can also cause you to have blood in your urine.
  • Certain foods like blackberries, rhubarb and beets can cause your urine to turn pink.
  • The use of certain medications like a particular class of antibiotic used in the treatment of tuberculosis can turn your urine red. Likewise, a drug used to numb discomfort in the urinary tract can cause a red/pink discoloration of your urine.

2. Blue or Green

  • The consumption of coloured food dyes containing green or blue pigments can cause you to pass urine of such hues.
  • Certain anti-depressant and anti-inflammatory medications can turn your urine green/blue.
  • A very rare medical condition called familial benign hypercalcemia (fbh), characterised by high levels of calcium in the blood and low levels of the mineral in the urine can cause your urine to turn blue.
  • Green urine can also occur if your urinary tract gets infected by the pseudomonas bacteria.

3. Dark Brown

  • Having large amounts of these foods - aloe, rhubarb (a type of leafy green) and broad beans can cause you to pass dark brown urine.
  • Certain anti-malarial drugs, laxatives and muscle relaxants can darken the colour of your urine as well.
  • Dark brown urine can also be caused by disorders of the kidney or liver as well as infections of the urinary tract.
  • Injury of the muscle as a result of excessive training can result in dark brown urine.

4. Orange

  • Problems with the bile duct (the duct through which bile from the gall bladder and liver passes before entering the duodenum) or liver along with the passing of light coloured stools can result in orange urine.
  • A cause of orange urine may also be dehydration as fluids bring about a decrease in the concentration of compounds present in the urine.

5. White

  • The presence of calcium or phosphate sediments in the urine can give it a white hue.
  • White urine can also be a result of funguria infection (a form of fungal urinary infection wherein the fungus produces white sediments) or a bacterial infection.

In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

1916 people found this helpful

Antibacterial Soaps - Why Should You Avoid Them?

Dr. Haresh Tolia 91% (200 ratings)
MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery
General Physician, Mumbai
Antibacterial Soaps - Why Should You Avoid Them?

We are bombarded with advertisements of how 'good mothers' never fail to have their children use antibacterial soap as a habit. But does it really work? There have been several reports of potentially harmful ingredients being used in these antibacterial soaps and yet their sale continues unhindered. Let's dive in to get the dope behind these soaps.

What are antibacterial soaps?

A drug called 'triclosan' was originally used strictly in hospital environments. In the 1990s the commercial manufacture of antibacterial soaps started with this ingredient in its center and fear mongering and advertisements pushed this into a whooping $1 billion industry. There is murky data on the FDA approval on triclosan usage and guidelines which are leaving us only with information the manufacturers propagate about it. But with enough information out there on the internet, should you wait for manufacturers to prove its effectiveness or make a judgment call? Here are a few facts to help:

1. It is as effective as conventional soap: There are countless studies and researches done in the last four decades that proves that antibacterial soaps are not more effective than regular soaps and the added triclosan doesn't proved any special health benefits. These tests measure the amount of bacteria in one's hand before and after usage. But the real question is do antibacterial soaps reduce infection rates and the answer to that question is yet to be proven.

2. It has the potential to create antibiotic-resistant bacteria: The main benefit of using these products is its bacteria resistant formula. With frequent usage, some bacteria gain resistance to the chemicals. Eventually, while the soap kills off regular bacteria, the resistant bacteria can spiral into a local or global threat.


3. It can disrupt endocrine functions: Triclosan closely resembles the thyroid hormone and can bid to its receptor sites. This can lead to many problems like infertility, artificially-advanced early puberty, obesity, and cancer. This problem has been found during animal testing and yet not proven for humans. With so much threat on the loose, would it matter how effective or ineffective the antibacterial soap is against bacteria?

4. It can lead to problems in children: At a growing age, children are developing their immune system and natural resistance to diseases. Prolonged exposure to antibacterial soap can result in reduced exposure to bacteria which prevention the proper development of the child's immune system.

5. It is bad for the environment too: The more triclosan we use, the more gets flushed down the drain. The problem arises because triclosan isn't fully treated at sewage treatment plans and enters water bodies where it disrupts algae's ability to perform photosynthesis. The spin ball effect reaches all sea animals and plants and eventually comes back to attack us in ways we are yet to find out.

The solution to this problem is to use an alcohol-based hand sanitizer that is effective on both bacteria and viruses. If you are wondering how you can add bacteria resistance to your family without any added harm, consult a doctor today.  In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

4427 people found this helpful

Ganne ke Juice ke Fayde Aur Nuksaan in Hindi - गन्ने के जूस के फायदे और नुकसान

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Ganne ke Juice ke Fayde Aur Nuksaan in Hindi - गन्ने के जूस के फायदे और नुकसान

वानस्पतिक नाम सैकेरम औफीसिनरम वाले गन्ने का इस्तेमाल हम प्राचीन काल से ही करते आ रहे हैं. अपने गुणों की मिठास और बेहतरीन स्वाद के कारण गन्ना लगभग पूरे विश्व में इस्तेमाल किया जाता है. ये हमारी प्यास बुझाने के अलावा हमें ऊर्जा से भी भर देता है. गन्ने में प्रचुर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा, जस्ता और पोटेशियम और विटामिन ए, बी-कॉम्प्लेक्स और सी भी पाया जाता है. गन्ने में फैट नहीं होता है, वास्तव में यह एक 100% प्राकृतिक पेय है. इसमें लगभग 30 ग्राम प्राकृतिक चीनी है. एक गिलास गन्ने के रस में कुल 13 ग्राम आहार फाइबर होता है. आइए गन्ने के फायदे और नुकसान पर प्रकाश डालें.
1. रोके मूत्र पथ संक्रमण
गन्ने का रस गुर्दे को स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए मूत्र पथ के संक्रमण से जुड़ी समस्याओं को रोकता है. इसके इलाज के लिए गन्ने का इस्तेमाल एक दिन में दो बार नींबू और नारियल का पानी मिलाकर गन्ने का रस पीकर करें. गन्ने का रस शरीर में प्रोटीन के स्तर को बढ़ाने के लिए जाना जाता है. यह कई गुर्दा संबंधी रोगों जैसे पत्थरी, यूटीआई और एसटीडी से बचाता है.
2. कैंसर को रोकने के लिए
गन्ना का रस कैंसर, विशेष रूप से प्रोस्टेट और स्तन कैंसर जैसे घातक रोगों के लिए एक व्यापक उपचार हो सकता है. गन्ने में फ्लेवोनोइड की उपस्थिति स्तन ग्रंथियों में कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकती है, इस प्रकार यह ब्रेस्ट कैंसर के जोखिम को कम करता है.
3. बचाए मुँहासे से
मुँहासे से ग्रस्त लोग प्रभावी परिणाम के लिए गन्ना का रस का मास्क आज़माएं. इसके लिए आपको गन्ने के रस और मुल्तानी मिट्टी की जरूरत है. गन्ने के रस में कुछ मुल्तानी मिट्टी को मिलाकर एक तरल बनाएं. अब इस मिश्रण का उपयोग चेहरे एवं गर्दन पर लगाने के लिए करें. लगभग 20 मिनट तक लगाने के बाद इसे हल्के भीगे तौलिये से साफ कर लें. यदि आप इसका इस्तेमाल हफ्ते में एक बार नियमित रूप से करें तो काफी लाभ होगा.
4. मधुमेह को नियंत्रण में
शुगर से पीड़ित व्यक्ति भी गन्ना, संयम से खाया जा सकता है. गन्ना में सूक्रोज़ होता है जिसमें कम ग्लिसेमिक सूचकांक होता है. यह आपके रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखने में मदद करता है.हलांकि सावधानी जरुरी है.
5. पीलिया के उपचार में
पीलिया, लिवर के खराब कामकाज के साथ भारी हुई पित्त नलिकाओं के कारण होता है. इसके उपचार के लिए 1 गिलास ताजा गन्ना का रस में तोड़ा सा नींबू मिक्स करके दिन में दो बार पिएं. ये स्वभाव से क्षारीय होने के नाते गन्ने का रस आपके शरीर में इलेक्ट्रोलाइट संतुलन बनाए रखकर आपके लिवर को तेज़ी से खराब होने से रोकता है और हमारे पेट एवं आंतों में एसिडिटी और जलन को शांत कर सकता है. गन्ने के रस में मौजूद पोटेशियम आपके पेट के पीएच स्तर को संतुलित करने और पाचन रस के स्राव की सुविधा प्रदान करता है.
6. नाखूनों के पोषण में
रंग उतरे हुए और भंगुर नाखूनों को की समस्या का मुकाबला करने के लिए गन्ने का रस लगायें. ऐसा पोषक तत्वों की कमी के कारण होता है. चूंकि गन्ना का रस पोषक तत्वों से भरा होता है, यह आपके नाखूनों को पोषण देता है और उन्हें स्वस्थ बनाता है.
7. मांसपेशियों की शक्ति के लिए
कोई भी मेहनत का काम शक्तिशाली मांसपेशियों के दम पर ही किया जा सकता है. दिन में दो बार गन्ने का रस पीना शरीर को बहुत आवश्यक ग्लूकोज प्रदान करता है जिसे अपनी मांसपेशियों की शक्ति को बढ़ाने के लिए जाना जाता है.
8. गर्भवती महिला के लिए
गन्ने का रस सुरक्षित गर्भधारण की सुविधा प्रदान करता है. इसमें फोलिक एसिड और विटामिन बी 9 पाया जाता है जो स्पाइना बिफिडा जैसे तंत्रिका जन्म दोषों से रक्षा के लिए जाने जाते हैं. इसके अलावा गन्ना का रस, महिलाओं की समस्याओं को कम कर देता है, जिससे गर्भधारण की संभावना बढ़ती है.
9. त्वचा के लिए
गन्ना रस बुढ़ापे के लक्षणों में देरी करने के लिए मदद कर सकता है. गन्ने के रस में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट्स, फ्लेवोनोइड्स और फीनोलॉजिक यौगिकों की उपस्थिति चमकीली, नरम और मॉइस्चराइजिंग त्वचा प्राप्त करने का एक अच्छा विकल्प है. इसके अलावा गले में अचानक खुजली या जलन होती है, तो उसे शांत करने के लिए नींबू और काले नमक को एक गिलास गन्ने के रस के साथ मिक्स करके पी लें.
10. बढ़ाए प्रतिरक्षा
गन्ने का रस आवश्यक एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर हैं जो हमारे प्रतिरक्षा प्रणाली को कई परतों से मजबूत करने में सहायता करते हैं. ये एंटीऑक्सिडेंट कई रोगों से लड़ते हैं, जिनमें लिवर और पाचन तंत्र शामिल हैं. आपकी प्रतिरक्षा बढ़ाने के अलावा, गन्ने का रस भी घावों को जल्दी से ठीक करने में मदद करता है.
11. हड्डियों और दांतों को मजबूत
गन्ने के रस का एक गिलास पिलाने से आप दांत और हड्डी से संबंधित समस्याओं को दूर कर सकते हैं. गन्ने कैल्शियम का एक बहुत ही अछा स्रोत है जो हड्डियों और दांतों सहित आपकी कंकाल की ताकत के निर्माण में मदद करता है. इसके अलावा ये सांसों की बदबू को भी दूर करता है.
गन्ने के जूस के नुकसान

  • दैनिक रूप से दो गिलास से अधिक गन्ने के रस का सेवन ना करें इससे आपके शरीर को नुकसान पहुंच सकता है.
  • 15 मिनट से अधिक समय तक फ्रिज के बाहर रखें हुए गन्ने के रस को कभी नहीं पीना चाहिए क्योंकि आपके पेट और आंतों पर इसका प्रतिकूल प्रभाव हो सकता है.
3 people found this helpful
Icon

Book appointment with top doctors for Health Check Up treatment

View fees, clinic timings and reviews