Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Diet Chart Tips

Having 5 Small Meals A Day Is The Best Thing You Can Do For Your Health

Dt. Mansha Bhardwaj 89% (10 ratings)
Bsc - Home Science, Pg Diploma In Dietetics & Public Health Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Greater Noida
Having 5 Small Meals A Day Is The Best Thing You Can Do For Your Health

Health is wealth! This age old adage holds true even today. The usual practice of 3 meals a day needs some tinkering and 5 small meals a day seems like a good way forward. Go to any dietician or any nutritionist and they will vouch for its benefits.

So, let us now take a look at the many advantages that come up with this multiple-meal plan:

- Alters the food schedule and instils a sense of discipline

It helps in altering your food schedule. When you spread your meals throughout the day, it allows you to try different dishes without over consuming any one dish. With more opportunities to eat healthy, you can develop proper diet charts and follow it properly across the entire day. Moreover, it teaches you discipline to keep a check on your diet.

- Keeps a check on binge eating and over eating

Five meals a day plan can help you control your weight. Intake of small meals prevents binge eating. You don't need to consume in large quantity at once if there are more meals to look forward to , throughout the duration of the day. Smaller meals condition you in such a way that you do not indulge in overeating even if you are outside.

- Something in every meal

Since you're opting for five meals a day, you will indulge in different types of food items throughout the day right from vegetables, fruits, cereals, eggs, milk-shakes and much more. This will not only keep your palette satisfied, but will also make sure that you get all the right amount of nutrients as nothing healthy will be left out.

- Goes hand in hand with all the diet charts and plans

Eating healthy and in small portion ensures that you are on course for your diet plan. Five meals a day will give you a chance to screen your nourishment intake and manage it more viably. It also helps in keeping your appetite under check. It maintains a healthy balance between healthy eating and satiating your hunger.

Disregard the three-feast model; it has now become obsolete. Your busy schedule requests that you take a more dynamic approach to your nourishment. Five meals a day is just the right way to ensure that you have your share of proper nutrients every day.

6234 people found this helpful

Height Growth without Age Boundaries!

Dr. Vishwajeet Singh 94% (2486 ratings)
BHMS
Homeopath, Bahadurgarh
Height Growth without Age Boundaries!

Increase height without age boundaries!

I Would like to share some facts on Height Growth

Height growth is controlled by various factors such as growth hormones (HGH ) 

Our bone does not grow from anywhere ( The growth ocurs from a certain location) called Epiphysis plats

As age advances the Production of HGH(Human Growth Hormone is Dimnished - But not completely Vanished)

The epiphysis plates start to close ( But do not emerge comletely , the fusion of bone is a slow process it takes several years)

This means we can increase height by stimulating Our Epiphysis plate ( Growth Centre) and Growth Hormone (HGH) Naturally to increase Height 

Lets share some more facts about Height Growth
The production of growth hormone is maximum during first two hours of our sleep
Overeating reduce the level of growth hormone in our body
A proper diet is very must to increase height
We have seen height increase even after 40's and 50's with natural therapy

 

15 people found this helpful

Different Ayurvedic Herbs That Can Manage Diabetes!

Dr. Atray Bhatt 90% (62 ratings)
BAMS, MD - Alternate Medicine
Ayurveda, Vadodara
Different Ayurvedic Herbs That Can Manage Diabetes!

Diabetes is an abnormal condition where the sugar-level in humans are higher than usual. Ayurveda can be used efficiently in treating this condition. Madhumeha is the Ayurvedic term for diabetes. In Indian terms, diabetes is known to the common man as Prameha, which is said to be divided into 3 major types – Kapha, Pitta and Vata. Lack of exercise and intake of food having excess of snigdha, ushna and guru types are said to be the chief cause of prameha.

Along with drugs and medications, Ayurveda stresses on the importance of a balanced diet and exercise. The management modules that can be categorized are:

  1. Vyaayam (Exercise)
  2. Panchakarma (Procedures for Bio-purification)
  3. Pathya (Regulation in diet)
  4. The use of therapy (Medications)

The individual’s constitution highly affects the ayurvedic treatment of prameha. Some of them are:

  1. Obstruction in srothus
  2. Ahara and Vihara
  3. Dosha predominance of disease
  4. Hereditary factors
  5. The prakrithi of the patient
  6. Manasika Prakrithi
  7. Dooshya vitiation

Management of diabetes can be done using a variety of herbs. Some of them are:

  1. Vjaysar
  2. Eugenia jambolana (Jamun beej churna)
  3. Pterocarpus marsupium (Vijaysar churna)
  4. Ficus bengalensis (Nyagrodha twaka churna – banyan tree bark)
  5. Shilajeet
  6. Momordica chirantia Karvellaka (Karella – Bitter Gourd)
  7. Kirat tikata (Chirayata)
  8. Emblica officinalis (Amla)

It is possible that certain patients are unable to respond to insulin or hypoglemic medicines. In this case, an ayurvedic physician may prescribe some ayurvedic drugs such as:

  1. Dhatri Nisha
  2. Chandraprabha vati
  3. Vasant kusumakar rasa

Diabetes is not just a lack of insulin. It is the most probable cause is plain poor maintenance of your body. Its cure will need to include all of these things discussed. By doing all, diet, herbs, exercise and stress management, you can certainly take care of your Diabetes.

5502 people found this helpful

Diet And Exercises You Must Follow Post Bariatric Surgery!

A V Hospital 85% (30 ratings)
Bariatrician, Bangalore
Diet And Exercises You Must Follow Post Bariatric Surgery!

Bariatric surgery refers to the procedure by which excessive fat is removed gradually within few months from an individual’s body after modification in size of stomach and modification in gut pathway and length by laproscopically (key hole surgery).

The diet that must succeed a bariatric surgery changes with time. A post bariatric surgery diet will tentatively look like:

  1. Initial stages: At the initial stage, eating solid food should be strictly avoided. A liquid diet with added protein can is a feasible option as long as it does not have any solid particles. The doctor may also prescribe regular and intermittent consumption at the beginning.
  2. Intermediary stages: The diet must be changed post second till the sixth week as the meal is made thicker. However, solid food must still be expelled. Due to the surgery, it is only normal that you would feel full after small consumption thereby, necessitating regular intake of food within short span of time.
  3. Final stages: Post sixth week, incorporating solid food in the diet is generally allowed by the doctors. With the introduction of fuller meals, regular intake of food should be reduced and four meals a day should be the norm.

Along with a fixed diet chart, you may also practice certain exercises to expedite the process of recovery. Some of them are:

  1. Light exercise: Depending on the condition, few patients may be prescribed exercises every week for an hour.
  2. Multiple exercises: Few, on the other hand, may be prescribed by the surgeons to exercise twice every week, generally for an hour.
3395 people found this helpful

Undergoing Dialysis - What Should Be Your Diet?

Dr. Yogesh Kumar Chhabra 86% (33 ratings)
MBBS, MD - General Medicine, DM - Nephrology, DNB (Nephrology)
Nephrologist, Delhi
Undergoing Dialysis - What Should Be Your Diet?

Every organ is important for the human body to perform its functions normally. Kidneys too are vital and are responsible for removing the excess fluid and toxins from the body. If the kidney is not functioning properly, then the patient is advised to undergo dialysis treatment. In some cases, the patient is advised to undergo a transplant. However, in any case, the patient has to follow a healthy diet, for the treatment and the medicines to work positively.

Suitable diet during dialysis
Most of the patients are not aware of the diet prescribed for dialysis. Though it is always advised to consult a dietician before following any diet for the condition, it is also advisable to gain some knowledge about what the dietician might suggest, so that one is not clueless about the treatment. In a majority of the cases, food containing potassium, phosphorus, low-fat cholesterol, and sodium is included in the diet of these patients. However, these are prescribed in a limited amount and vary from patient to patient.

  1. Sodium: The sodium level of the dialysis patients needs to be controlled; and this can be done by eating food items that have a low sodium content, not more than 2,000 mg. Hence, the quantity of snacks, pudding, and chips are to be reduced in the diet chart.
  2. Potassium: The level of potassium also needs to be kept in check to avoid further deterioration of the kidney. Bread, certain vegetables, and grains contain a high amount of potassium. Moreover, various salt substitutes contain potassium chloride instead of sodium chloride. Large intake of these foods may affect the kidney permanently. Hence, these are majorly excluded from the diet. The patients are advised to include tomatoes and bananas in their diet, though not on a daily basis.
  3. Phosphorus: The patient is advised to avoid foods with high phosphorus. This includes milk and dairy products and grains. However, while on dialysis, meat is important as it gives enough protein despite being high on phosphorus. But, an abundance of meat in the diet may affect adversely. Hence, this is advised, but kept in control.
  4. Cholesterol: To keep cholesterol amount in check during dialysis, the patient needs to cut down on fruits and vegetables and specific fat diets, while eating a sufficient amount of fish.
  5. Protein: High protein food is necessary for a patient with a kidney disease. Meat is an excellent source of protein. Along with that, poultry, fish, and eggs are important, as well. Hence, all this is included in the diet.
  6. Fluids: Dialysis helps in removing the excessive waste fluids from the kidney. But, to keep the body hydrated, the patient is allowed liquid intake, but only up to a certain limit.

It is necessary to maintain a proper diet during dialysis, as it quickens the treatment as well as helps the patient recover quickly.

3994 people found this helpful

Health Advice To Traveller

Dr. Aanchal Jain 88% (25 ratings)
BHMS
Homeopath, Pune

Contaminated food and drinks are most common source of infection. Unfortunately appearance of food is not guide of its safety. So food should be freshly cooked, fruits should be washed peeled. Use boiled water or bottled mineral water. Basics you need to follow:
1. Avoid unpasteurised milk, nom bottled drinks, uncooked food.
2. keep yourself orally rehydrated by water, glucose, or rehydration drinks.
3. If you are travelling in an epidemic region take immunisation or vaccination before travelling.
4. Carry medical kit which should contain disinfectant and dressing material which can easily applied, suncream, mosquito repellent, ors and first aid articles,
5. Carry a card with noting their blood group, drug sensitivity if any and name of chronic disease (bp, diabetes, heart disease, kidney disease etc) he or she is suffering from.

Travellers face special health risks. In age of jet travel, international travellers are subject to various forms of stress that may reduce their resistance to disease for eg. Crowding, long hours of waiting, irregular eating habits, change in climate, and time zone. These factor may themselves provoke nausea, indigestion, extreme fatigue and nausea. In developing country they are also exposed to some diseases like malaria, influenza, intestinal parasites, typhoid, paratyphoid fever, viral diseases etc. Many of these may not manifest themselves immediately but occur during a varying period after traveller return to his normal way of life. Other cause of disease transfer: poor hygiene by food handlers, poor water quality and improper disposal of wastes. International travellers have a personal responsibility to recognize these risk of travel and take proper self care.

 

Some recommendation:

  • avoid bathing in polluted water as this may result in ear eye and skin infection. 
  • carry measures for prevention from insect bites.
  • diarrhoea disease (loose motion" be careful what you eat" 
  • contaminated food and drinks are most common source of infection. Unfortunately appearance of food is not guide of its safety.
  • avoid unpasteurised milk, nom bottled drinks, uncooked food.
  • keep yourself orally rehydrated by water, glucose, or rehydration drinks.
  • If you are travelling in an epidemic region take immunisation or vaccination before travelling.
  • carry medical kit which should contain disinfectant and dressing material which can easily applied, suncream, mosquito repellent, ors and first aid articles,
  • carry a card with noting their blood group, drug sensitivity if any and name of chronic disease (bp, diabetes, heart disease, kidney disease etc) he or she is suffering from.
3 people found this helpful

Healthy Diet Chart For High Uric Acid Patients In Hindi - उच्च यूरिक एसिड रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For High Uric Acid Patients In Hindi - उच्च यूरिक एसिड रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाने से कई समस्याएँ होने लगती है. उच्च यूरिक एसिड होने से हमारे शरीर के बहुत से अंग प्रभावित होते हैं. उच्च यूरिक एसिड के कारण पैरों के अंगूठे, टखने. घुटने, जोड़ों और एड़ी भी प्रभावित हो सकते हैं. उच्च यूरिक एसिड के गुणों और लक्षणों के आधार पर कहा जा सकता है कि यह बीमारी अर्थराइटिस का ही एक रूप है. क्योंकि इसमें भी जोड़ों और अन्य स्थानों पर उसी तरह की सूजन होता है जैसा कि अर्थराइटिस में होता है. आमतौर पर लंबे समय तक भोजन न करने, डीहाइड्रेशन, तनाव, कसरत न करना, शराब का सेवन बहुत ज्यादा करना आदि के कारण उच्च यूरिक एसिड की समस्या हो सकती है. इसके अलावा जंक फूड और जीवन शैली में बदलाव भी इसके कारण हो सकते हैं. आइए उच्च यूरिक एसिड से पीड़ित मरीजों के लिए आवश्यक आहार चार्ट का अध्ययन करें.

कोल्ड प्रेस्ड जैतून का तेल
खाना पकाने के लिए आम तौर पर लोग सरसों के तेल का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन यदि उच्च यूरिक एसिड की समस्या है तो खाना पकाने के लिए सरसों के तेल का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए बल्कि कोल्ड प्रेस जैतून के तेल का इस्तेमाल करना चाहिए. इससे उच्च यूरिक एसिड की समस्या कम होगी.

विटामिन सी
उच्च यूरिक एसिड की समस्या से पीड़ित व्यक्ति को अपने दैनिक आहार में विटामिन सी की मात्रा ज्यादा से ज्यादा लेनी चाहिए. इससे काफी फायदा पहुंचता है. विटामिन सी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट उच्च यूरिक एसिड में उपयोगी साबित होते हैं.

अजवाइन के बीज का अर्क
उच्च यूरिक एसिड की समस्या से ग्रसित व्यक्ति को अपना दर्द कम करने के लिए अजवाइन के बीज के अर्क का सेवन करना चाहिए. अजवाइन में दर्द को कम करने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स में डाइयुरेटिक्स का गुण पाया जाता है. इसके अलावा यह एंटीसेप्टिक भी होता है. कई बार तो इसका इस्तेमाल नींद ना आने, नर्वस ब्रेकडाउन या व्यग्रता जैसी समस्याओं के उपचार में भी किया जाता है.

एंटीआक्सीडेंट युक्त भोजन
उच्च यूरिक एसिड रोगियों को एंटीऑक्सीडेंट युक्त भोजन करना करना चाहिए, इससे काफी मदद मिलता है. इसके लिए टमाटर, अंगूर, ब्लूबेरी, लाल शिमला मिर्च आदि का सेवन किया जा सकता है. इनमें एंटीऑक्सीडेंट्स और विटामिन सी की भरपूर मात्रा मौजूद रहती है. एंटीऑक्सीडेंट्स मुक्त अणुओं को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है. इसके अलावा इससे यूरिक एसिड के स्तर में भी कमी आती है.

सेब का सिरका
उच्च यूरिक एसिड की समस्या में सेब के सिरके भी सहायक है. सेब का सिरका हमारे शरीर में रक्त का PH मान को बढ़ाकर उच्च यूरिक एसिड के स्तर को कम करता है. पर यह ध्यान रखना चाहिए कि सिरका बनाते समय सेब कच्चा बिना पाश्चुरीकृत होना चाहिए और सिरका बिना पानी मिला हुआ होना चाहिए

बेकरी के उत्पाद से बचना चाहिए
जो व्यक्ति उच्च यूरिक एसिड से ग्रसित हैं उन लोगों को बेकरी उत्पादों का सेवन नहीं करना चाहिए. क्योंकि बेकरी के उत्पाद में अनसैचुरेटेड फैट की मात्रा अधिक होती है. इनके सेवन से यूरिक एसिड के स्तर में और भी वृद्धि होने का खतरा रहता है. इसलिए इसके सेवन से बचना चाहिए.

एल्‍कोहल से दूर रहना चाहिए
अल्कोहल के सेवन से शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है. जिससे अटैक भी आ सकता है. इसलिए उच्च यूरिक एसिड वाले मरीज को अल्कोहल से दूर ही रहना चाहिए व व किसी भी तरह का शराब या अल्कोहल नहीं पीना चाहिए.

डिब्‍बा बंद भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए
डिब्बा बंद वाले भोजन में यूरिक एसिड को बढ़ाने वाले तत्व पाये जाते हैं. इसलिए इसके सेवन से यूरिक एसिड के स्तर में और भी वृद्धि होती है. इसलिए उच्च यूरिक एसिड वाले मरीज को डिब्बा बंद वाले भोजन एकदम ही नहीं खाना चाहिए.

मछली और मीट से भी परहेज करना चाहिए
मीट और मछली के सेवन से भी यूरिक एसिड के स्तर के बढ़ने की संभावना होती है. इसलिए उच्च यूरिक एसिड की समस्या वाले व्यक्ति को मछली और मीट का सेवन नहीं करना चाहिए. कुछ विशेष प्रकार की मछलियाँ तो एकदम ही नहीं खानी चाहिए.

8 people found this helpful

Healthy Diet Chart For Arthritis Patients - गठिया रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For Arthritis Patients - गठिया रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

अर्थराइटिस यानी गठिया जोड़ों की बीमारी है. अर्थराइटिस की शिकायत होने पर चलने में तकलीफ, जोड़ों में दर्द की शिकायत होती है. लेकिन कुछ खाद्य प‍दार्थ ऐसे है जिनसे अर्थराइटिस का दर्द कम और कुछ से दर्द बढ़ सकता है. आइए ऐसे ही कुछ खाद्य प‍दार्थों के बारे में जानें.
अर्थराइटिस में क्‍या खायें
अर्थराइटिस यानी गठिया जोड़ों की बीमारी है. अर्थराइटिस की शिकायत होने पर चलने में तकलीफ, जोड़ों में दर्द की शिकायत होती है. हालांकि यह बीमारी उम्रदराज लोगों को होती है, लेकिन बदली हुई लाइफस्‍टाइल के कारण इसकी चपेट में वर्तमान में युवा भी आ रहे हैं. अर्थराइटिस का दर्द इतना तीव्र होता है कि व्यक्ति को चलने–फिरने और यहां तक कि घुटनों को मोड़ने में भी बहुत परेशानी होती है. लेकिन आहार में कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल कर आप इस समस्‍या से बच सकते हैं.
लहसुन का सेवन
लहसुन रक्त शुद्ध करने में सहायक है. अर्थराइटिस के कारण रक्त में यूरिक एसिड बहुत अधिक मात्रा में बढ़ जाता है. लहसुन के रस के प्रभाव से यूरिक एसिड गलकर तरल रूप में मूत्रमार्ग से बाहर निकल जाता है.
अजमोद
अजमोद गठिया से ग्रस्त मरीजों के लिए विशेष रूप से उपयोगी होता है. गठिया मरीज अजमोद के रस का इस्तेमाल करके अपनी परेशानी कम कर सकते हैं. क्योंकि अजमोद एक मूत्रवर्धक के रूप में किडनी की सफाई के लिए जाना जाता है. किडनी में मौजूद अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निष्कासित करके यह आपको स्वस्थ रखता है.
अदरक
अदरक रक्त प्रवाह और परिसंचरण में सुधार करता है. ठंड के मौसम के दौरान खराब जोड़ों के दर्द का अनुभव करने वाले अधिक संवेदनशील लोगों के लिए विशेष रूप से अच्छा होता है. जोड़ों के दर्द से परेशान लोगों को हर रोज दो सौ ग्राम अदरक दो बार लेने से दर्द में बहुत राहत मिलती है.
कैमोमाइल टी
अर्थराइटिस के लिए कैमोमाइल टी सबसे ज्‍यादा फायदेमंद मानी जाती है. इसमें मौजूद एंटी इंफेल्‍मेटेरी तत्‍व अर्थराइटिस के इलाज में फायदेमंद है. इसे आप चाय की तरह या खाने के तौर पर ले सकते हैं. यह जोड़ो में यूरिक एसिड बनने से रोकता है.
सेब साइडर सिरका
सेब साइडर सिरका आपके पाचन में सुधार करता है, विशेष रूप से प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों को बेहतर तरीके से पचाता है. उम्र बढ़ने पर हमारे पेट की क्षमता कम और जोड़ों का दर्द बढ़ जाती है. ऐसे में सेब साइडर सिरका बहुत मददगार होता है. सेब साइडर सिरका आपके शरीर को अधिक क्षारीय बनाने में मददकर जोड़ों के दर्द को कम करता है.
अर्थराइटिस में इन आहार से बचें
अर्थराइटिस होने पर शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा अधिक हो जाती है, इसके कारण ही जोड़ों में सूजन होती है. इसकी पीड़ा असहनीय होती है, खासकर ठंड के मौसम में इसका दर्द बर्दाश्‍त से बाहर हो जाता है. कुछ आहार तो ऐसे है जिनको खाने से अर्थराइटिस का दर्द और भी बढ़ सकता है. आइए जानें, किन आहार से बढ़ सकता है अर्थराइटिस का दर्द.
डेयरी प्रोडक्‍ट
अर्थरा‍इटिस में दुग्‍ध उत्‍पादों को खाने से बचना चाहिए. दुग्‍ध उत्‍पादों से बने खाद्य-पदार्थ भी अर्थराइटिस के दर्द को बढ़ा सकते हैं. क्‍योंकि दुग्‍ध उत्‍पाद जैसे, पनीर, बटर आदि में कुछ ऐसे प्रोटीन होते हैं जो जोड़ों के आसपास मौजूद ऊतकों को प्रभावित करते हैं, इसकी वजह से जोड़ों का दर्द बढ़ सकता है.
टमाटर न खायें
टमाटर हमारे शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है, क्‍योंकि इसमें विटामिन और मिनरल भरपूर मात्रा में मौजूद होता है, लेकिन यह अर्थराइटिस के दर्द को बढ़ाता भी है. टमाटर में कुछ ऐसे रासायनिक घटक पाये जाते हैं जो गठिया के दर्द को बढ़ाकर जोड़ों में सूजन पैदा कर सकते हैं. इसलिए टमाटर खाने से परहेज करें.
खट्टे फल
वैसे तो खट्टे फल अत्‍यंत स्‍वस्‍थ होते है, और विटामिन सी और अन्‍य पोषक तत्‍वों को प्राप्‍त करने का एक शानदार तरीका है. लेकिन कुछ लोगों में या जोड़ों के दर्द में वृद्धि कर सकते हैं. अगर आप स्‍वस्‍थ आहार का अनुसरण करके भी जोड़ों में दर्द से पीड़‍ित है तो एक महीने के लिए अपने आहार से खट्टे फलों को हटा कर देखें कि क्‍या होता है.
मछली न खायें
अर्थराइटिस होने पर ओमेगा-3 फैटी एसिड युक्‍त आहार का सेवन नहीं करना चाहिए. मछली का सेवन करने से अर्थराइटिस का दर्द बढ़ सकता है. मछली में अधिक मात्रा में प्यूरिन पाया जाता है. प्यूरिन हमारे शरीर में ज्यादा यूरिक एसिड पैदा करता है. इसलिए सालमन, टूना और एन्कोवी जैसी मछलियों को खाने से बचना चाहिए.
शुगरयुक्‍त आहार
चीनी शरीर के हर हिस्से में सूजन का कारण बनती है, इससे आपकी धमनियों में सूजन बढ़ जाती है. यह अथेरोस्क्लेरोसिस (धमनियों की दीवारों के अंदर जमा फैट) के अधिक खतरे का कारण बनता है, और प्रतिरक्षा कोशिकाओं के इंफ्लेमेटरी केमिकल के स्राव को उत्तेजित करता है. इसलिए अर्थराइटिस के मरीज को चीनी और मीठा खाने से परहेज करना चाहिए.
एल्‍कोहल और सॉफ्ट ड्रिंक
एल्कोहल खासकर बीयर शरीर में यूरिक एसिड के स्‍तर को बढ़ाता है, और शरीर से गैर जरूरी तत्व निकालने में शरीर को रोकता भी है. इसी तरह सॉफ्ट ड्रिंक खासकर मीठे पेय या सोडा में फ्रक्टोज नामक तत्व पाया जाता है, जो यूरिक एसिड के बढ़ने में मदद करता है. 2010 में किए गए एक शोध के अनुसार, जो लोग ज्यादा मात्रा में फ्रक्टोस वाली चीजों का सेवन करते हैं, उनमें अर्थराइटिस होने का खतरा दोगुना अधिक होता है.

1 person found this helpful

Healthy Diet Chart For Asthma Patients - अस्थमा रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For Asthma Patients - अस्थमा रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

श्वसन संबंधी कई बीमारियों में एक अस्थमा भी है. अस्थमा के दौरान श्वसन नाली में सूजन आ जाने के कारण सांस लेने में दिक्कत आने लगती है. अस्थमा के होने के कई कारण होते हैं. लेकिन बीमारी के प्रभाव को आप सही खान-पान अपना कर दूर कर सकते हैं. दरअसल जीवनशैली में आए बदलाव के कारण हमारा खान-पान इतना गड़बड़ हो गया है. इसलिए ये आवश्यक है कि अस्थमा सेबचने या इसकी संभावना को कम करने के लिए हमें अपने आहार शैली में बदलाव करना होगा. यदि आपइन बदलावों को सही तरीके से अपने जीवन में लागू करेंगे तो इसके बहुत सकारात्मक परिणाम आ सकते हैं. आपको बता दें कि कि अस्थमा के मरीजों के पास एलर्जिक खाने की एक लम्बी लिस्ट होती है और इतना ही नहीं खाने में ऐसी भी बहुत सी चीजें हो सकती है जो उनके स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायी होती हैं.अस्थमा से बचने के बहुत से उपाय समय समय पर खोजे गये हैं, इनमें से हाल मे खोजा गया एक उपाय है आस्थमा के मरीज़ के डायट पर ध्यान देना. आइए हम आपको बताते हैं कि अस्‍थमा के मरीजों के लिए क्‍या डाइट प्‍लान होना चाहिए.

अस्थमा में क्या खाएं?
अस्थमा के मरीज यदि अपने खान-पान में आवश्यकता के अनुसार सावधानी बरतें तो इससे वो अपनी परेशानी काफी हद तक कम कर सकते हैं. इसमें आपके लिए ध्यान रखने की बात ये है कि आप उन खाद्यपदार्थों का सेवन ज्यादा से ज्यादा करें जिनमें एंटी ऑक्सीडेंट्स की प्रचुर मात्रा पाई जाती है. आहार में जितनी अधिक विटामिन सी की मात्रा होगी, आपके लिए उतना ही बेहतर होगा.खट्टे फल, जूस, ब्रोकली, स्कवॉश और अंकुरित खाद्य पदार्थो को अपने भोजन में जरूर शामिल करें, क्योंकि इनमें विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. विटामिन सी जलन व सूजन को कम करता है और श्वसन संबंधी समस्याओं से लड़ने में मदद करता है.पालक जैसी हरी पत्तेदार सब्जियां, लाल व पीली मिर्च, गाजर व खुबानी आदि को अपने भोजन में जरूर शामिल करें. यह अस्थमा रोग में राहत प्रदान करती हैं. हरी पत्तेदार सब्जियों में बीटा-कैरोटीन नामक तत्व होता है, जो कि अस्थमा मरीजों के लिए बहुत मददगार होता है.

अस्थमा में क्या न खाएं?
आमतौर पर एलर्जी के शिकार जल्दी बनते हैं. इसलिए इन्हें उन चीजों से दूर रहने की सलाह दी जाती है, जिनसे एलर्जी हो सकती हैं, जैसे कि अंडा, मछली या तीखी महक वाली चीजें. हालांकि हर किसी की एलर्जी हो, यह जरूरी नहीं है. इसलिए यह जानना जरूरी हो जाता है कि अस्थमा के मरीजों के स्वास्थ्य के ऐसे कौन से आहार उपयोगी है जिससे उनका स्वास्थ्य सकारात्मक रूप से प्रभावित हो सके. अस्थमा के मरीज को खट्टा और सामान्य ठंडा नहीं खाना चाहिए, यह मिथ है. जिन्हें इनमें एलर्जी होती है, उन्हें ही इससे नुकसान होता है. लेकिन वो लोग जो थियोफाइलिन ले रहे है उन्हें कैफीन युक्त चाय, काफी या कोल्ड ड्रिंक नहीं लेना चाहिए क्योंकि थियोफाइलिन और कैफीन मिलकर टाक्सिक हो सकते हैं. अगर आपके अटैक का कारण चिन्ता है तो आप ज़्यादा मात्रा में कैफीन ले सकते हैं. इस तरह के खाद्य पदार्थ का इस्तेमाल कर आप न केवल आस्थमा से बच सकते हैं बल्कि स्वास्थ्य की दृष्टि से भी यह आहार बहुत ही पोषक हैं.

2 people found this helpful

Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi - उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Dr. Sanjeev Kumar Singh 87% (192 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi - उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

बदलती हुई जीवनशैली ने कई चीजों को बदल दिया है. उच्चरक्तचाप की समस्या आज बहुत तेजी से फ़ैल रही है. इसमें धमनियों में रक्त का दबाव बढ़ जाता है जिसके कारण दिल को सामान्‍य से अधिक कार्य करना पड़ता है. आमतौर पर यह समस्‍या अधिक तला-भुना चिकनाई युक्त भोजन करने और शारीरिक श्रम न करने की वजह से होती है. बच्चों में उच्च रक्तचाप का सबसे आम कारण मोटापा और गुर्दे की बीमारी होते हैं. इसके लिए कई कारक जिम्मेदार हैं, लेकिन सबसे ज्यादा प्रभाव खान-पान का ही पड़ता है. इसलिए कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन कर आप उच्‍च रक्‍तचाप की समस्‍या से निजात पा सकते हैं. तो आइए जानें कि उच्चरक्तचाप के रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट क्या है, यानि क्या-क्या खाना उनके लिए सुरक्षित हो सकता है.
1. किशमिश
अमेरिकन कॉलेज आफ कार्डियोलॉजी कांफ्रेंस में पेश एक अध्ययन में बताया गया कि दिन में तीन बार मुट्ठी भर किशमिश खाने से बढ़े रक्तचाप में कमी होती है. इस शोध के पहले परीक्षण में 46 लोगों को शामिल किया गया, जिनका रक्तचाप सामान्य से कुछ अधिक था और जिन्हें उच्च रक्तचाप होने का खतरा भी था. इन लोगों का रक्तचाप 120-80 से 139-89 मापा गया, जो सामान्य से कुछ ज्यादा था. इन लोगों ने जब आहार में नियमित रूप से किशमिश को शामिल किया तो इनके रक्तचाप में 12 हफ्ते में कमी दर्ज हुई और रक्तचाप सामान्य हो गया.
2. शकरकंद
शकरकंद जिसे अंग्रेजी में स्वीट पोटैटो कहा जाता है, में बीटा कैरोटीन, कैल्‍शियम और घुलनशील रेशे होते हैं. जो स्‍ट्रेस को कम करते हैं. इसलिये प्रतिदिन अपने आहार में करीब 1 से 2 स्‍लाइस शकरकंद जरुर शामिल करें.
3. सफेद सेम
उच्चरक्तचाप रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट में सफ़ेद सेम को भी शामिल करना चाहिए. सफेद सेम का एक कप 13 प्रतिशत कैल्शियम 30 प्रतिशत मैग्नीशियम और 24 पोटेशियम प्रदान करता है. आप इन्हें कई प्रकार जैसे सब्जी बनाकर, सूप के रूप में या सलाद में खा सकते हैं. 
4. पोटेशियम खाएं
पोटेशियम एक ऐसा खनिज होता है जो रक्तचाप कम करने में मददगार है. पोटेशियम से भरपूर खाद्य पदार्थों में सेम व मटर, गिरियां, पालक, बंदगोभी जैसी सब्जियां, केला, पपीता व खजूर आदि प्रमुखता से शामिल होते हैं.
5. सोयाबीन
एक और अध्ययन के मुताबिक सोयाबीन को अपने आहार में नियमित रूप से शामिल करने से भी रक्तचाप को कम करने में मदद मिलती है. 18 से 30 वर्ष की आयु के 5100 श्वेत और अफ्रीकी अमेरिकी लोगों पर किए अध्ययन के अनुसार प्रतिदिन सोयाबीन, पनीर, मूंगफली और ग्रीन टी को अपने भोजन में शामिल करने वाले लोगों के रक्तचाप में कमी दर्ज की गई.
6. अंडा
अंडे में विटामिन, मिनरल और कई अन्य पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं, जो एंडोर्फिन नामक एक रसायन का उत्‍पाद करते है. यह रसायन हमारे दिमाग में भी पाया जाता है. जो अवसाद व दर्द जैसी समस्याओं से राहत दिलाता है. अंडे को कई प्रकार, उबाल कर, सब्जी बनाकर या कच्चा भी खाया जा सकता है.
7. दही
दही में प्रोटीन, कैल्‍शियम, राइबोफ्लेविन, विटामिन बी 6 और विटामिन बी 12 काफी मात्रा में होते हैं, जो कि उच्‍च रक्‍तचाप की समस्‍या को कम करते हैं और शरीर को कई प्रकार को लाभकारी अवयव मिलते हैं.
8. कीवी फ्रूट
एक कीवीफ्रूट में 2 प्रतिशत कैल्शियम, 7 प्रतिशत मैग्नीशियम और 9 प्रतिशत पोटेशियम होता है. यदि आप इसका नियमित सेवन करने से आपको उच्च रक्तचाप की समस्या से निजात मिल सकती है.
9. कद्दू के बीज
कद्दू का बीजों में जिंक प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो तनाव को कम करने में मदद करता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है. गौरतलब है कि यदि शरीर में जिंक की कमी हो तो आप डिप्रेशन और चिड़चिडेपन के शिकार हो सकते हैं.

Icon

Book appointment with top doctors for Diet Chart treatment

View fees, clinic timings and reviews