Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Body Weakness Health Feed

I am 18 years old and I am facing the problem of thinness & weakness, so please help me in overcoming from this problem and give an easy remedy for it.

Dr. G.R. Agrawal 94% (18274 ratings)
DHMS (Hons.)
Homeopath, Patna
Hello Go for meditation to nourish your entire body to strengthen your cell & tissues improving your body in a healthy manner by conditioning your bones. Tk,  plenty of water to hydrate and detoxify your body. Your diet be easily digestible ,high in protein- fish, eggs, chicken..Tk,  apples, carrots, potatoes, sweet- potatoes, milk,  almonds. Tk, banana with hot milk in the breakfast. Add ghee in lunch. Go for aerobics. Tk,  homoeopathic medicine: @ AlfalfaQ -10 drops,  thrice with little water. Avoid, junkfood, ,alcohol & nicotine. Tk,  care.
Submit FeedbackFeedback

Hi sir I am from delhi my problem is ulcerative proctactis. Nd ibs also I am felling tired weakness always nd burning in my stomach I hv to use washroom 4ya 5 times in a daily sometimes with little mucous nd sir what should I eat please suggest me thanks sir.

MBBS
General Physician,
Hello lybrate-user Irritable bowel syndrome happens when muscle in your bowel does not squeeze normally, which affects movement of your stool. So first of all please understand don't take stress as it will make your symptoms worse. And 1 Don't smoke 2 Add fiber in your diet fruit, vegetables, nuts 3 Avoid caffeine totally 4 Drink atleast 1L of water in whole day 5 Do exercise and meditation to de-stress yourself 6 Eat smaller meals frequently instead of large meals 7 Avoid spicy food and red pepper completely This will help you alot. As medicines will work only for symptomatic relief. For diarrhoea you can take Tab Imodium 2 mg OD If still symptoms are not improving then consult gastroenterolgist for workup.
Submit FeedbackFeedback

I have a problem with my penis, I had a sex with my girlfriend but my penis was weak and I eject hardly. It did not happened before. Please advice me.

Dr. Rekha George Kanugara 97% (277 ratings)
MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, Fellow of The Royal Society of Health, Certification In Sexologist
Sexologist, Delhi
I have a problem with my penis, I had a sex with my girlfriend but my penis was weak and I eject hardly. It did not h...
Take a good vitamin supplement with Ginseng and eat high protein diet with nuts and dates and check your vitamin D level and let me know.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am suffering from obesity. My weight is nearly 87 kg because of which I feel sleepy all the time and weakness too.

Dt. Sachin Srivastava 89% (38 ratings)
B.Sc. - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Gwalior
I am suffering from obesity.
My weight is nearly 87 kg
because of which I feel sleepy all the time and weakness too.
Your metabolism is slow due to obesity. Your weight is high 12 kg. You can lose idealy 4 kg in month. For diet plan book appointment.
Submit FeedbackFeedback

Weak Bones Ka ilaj In Hindi - कमजोर हड्डियां का इलाज

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Weak Bones Ka ilaj In Hindi - कमजोर हड्डियां का इलाज

हमारे बदलते रहन-सहन और खान-पान के कारण अब हड्डियों की समस्या एक आम समस्या है. हड्डियों से संबंधित कई तरह के परेशानियों से लोग पीड़ित हैं. हड्डियों के इन परेशानियों को आपको गंभीरता से लेना चाहिए. यदि आप भी ऐसा सोचते हैं कि दिन में एक गिलास दूध पी लेने से हड्डियों में एक दिन के कैल्शियम की पूर्ति हो जाती है, तो आप गलत हैं. दरअसल कैल्शियम, हड्डियों के स्वास्थ्य और मजबूती के साथ ही ब्लड क्लॉटिंग और मांसपेशियों के विकाश में भी मददगार होती है. यही कारण है कि शरीर को अधिक मात्रा में कैल्शियम चाहिए. लेकिन जो व्यक्ति दिल की बीमारी या पथरी से ग्रसित है उसे कैल्शियम की अत्‍यधिक मात्रा नहीं लेनी चाहिए. ऐसे में आपको चिकित्सक के परार्मश से ही कैल्शियम लेनी चाहिए. हड्डियों में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली समस्या है ऑस्टियोपोरोसिस. अब सवाल ये है कि आखिर ये ऑस्टियोपोरोसिस है क्या? तो आपको बता दें कि यह एक छुपा हुआ रोग है. इसके बारे में तब तक पता नहीं चलता है जब तक की खुशी चोट की वजह से आप किसी ने वजह से कोई अधिक टूट ना जाए. जाहिर है जब हड्डियां कमजोर और भुरभुरी हो जाती हैं, तभी उनके टूटने की शुरुआत होती है. आइए इसके बारे में जानें की हम ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम और इसका उपचार कैसे कर सकते हैं.

1. धूप जरूरी है
धूप दरअसल ऑस्टियोपोरोसिस के दौरान कैल्शियम का अवशोषण करने के लिए शरीर को विटामिन डी की आवश्यकता होती है. इसलिए इस दौरान यदि आप धूप में 20 मिनट के लिए रोजाना जाएं तो इससे आवश्यक विटामिन डी की कमी की आपूर्ति हो जाती है. लेकिन लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि आपको धूप में जबरदस्ती नहीं बैठना है.
2. कैल्शियम और संतुलित आहार से
जब हमें पता चलता है कि ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या किसी व्यक्ति में उत्पन्न हो गई है तो प्रारंभिक तौर पर इसके मरीज को कैल्शियम और विटामिन डी जैसे जरूरी सप्लीमेंट्स लेने की सलाह दी जाती है इसके साथ ही उन्हें यह भी कहा जाता है कि शारीरिक सक्रियता को बनाए रखें ऑस्टियोपोरोसिस में खाने-पीने से संबंधित कोई विशेष परहेज नहीं किया जाता है. लेकिन संतुलित आहार दैनिक रूप से लिया जाना चाहिए.
3. अखरोट और बादाम
ऑस्टियोपोरोसिस के दौरान आपकी हड्डियों को कैल्शियम विटामिन ई और ओमेगा 3 जैसे फैटी एसिड्स की आवश्यकता होती है. इसके अलावा बदाम में फास्फोरस भी मौजूद होता है जो की हड्डियों और दांतों के लिए बेहद आवश्यक होता है. इसके साथ ही अखरोट में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं जो कि मांसपेशियों और हड्डियों की तकलीफ से निजात दिलाने का काम करते हैं. इसलिए नियमित रूप से सुबह खाली पेट 3-4 अखरोट की गिरी खाने से काफी लाभ मिलता है.
4. दूध की सहायता से
दूध को एक संपूर्ण आहार माना जाता है. क्योंकि इसमें कई पोषक तत्वों के अलावा कैल्शियम और अन्य खनिज पदार्थों की भी उपस्थिति होती है. जो की हड्डियों के लिए बेहद जरूरी होते हैं. इसलिए इस दौरान दूध या दूध से बनी हुई चीजें जैसे कि दही, छाछ, पनीर आदि को अवश्य अपने आहार में शामिल करना चाहिए.
5. सूखे मेवे
सूखे मेवे का सेवन इस ऑस्टियोपोरोसिस के दौरान काफी लाभदायक साबित होता है. इसके साथ-साथ आप ताजी हरी सब्जियां, अंडे, चने, राजमा, आदि को भी अपने दैनिक आहार में शामिल करना चाहिए.
6. जरूरी है व्यायाम
व्यायाम के कई फायदे होते हैं. यह हमें कई रोगों से बचाने का काम करता है. इसलिए कोई बीमारी नहीं भी हो तो भी हमें व्यायाम अवश्य करना चाहिए. ऑस्टियोपोरोसिस के दौरान हड्डियों की मजबूती के लिए और मांसपेशियों में लचक के लिए दिन में 30 मिनट का व्यायाम अवश्य करना चाहिए. इस दौरान बेहतर होगा कि किसी चिकित्सक से परामर्श ले लें कि आपको कौन सा व्यायाम करना है.

ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या में सिर्फ़ हड्डियाँ ही कमजोर नही होती बल्कि शरीर के कई अंग भी प्रभावित होते है जैसे दाँत, नाख़ून, मांसपेशियाँ आदि. आहार में पौष्टिकता और सतर्कता से हम इस विकार को बड़ी आसानी से दूर कर सकते है. यह कोई लाइलाज बीमारी नही है. वर्तमान समय में ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या सिर्फ़ महिलाओं में ही नही बल्कि पुरुषों में भी देखने को मिलती है. इसलिए सतर्कता और सावधानी सभी के लिए ज़रूरी है. क्योंकि असंतुलित भोजन से ऑस्टियोपोरोसिस जैसा रोग किसी को भी हो सकता है. समस्या सामने आते ही अपने डॉक्टर से उपचार तुरंत लें, जिससे कुछ समय पश्चात आप फिर से एक स्वस्थ जीवन जी सकें.
 

3 people found this helpful

Main nearly 15 years se masterbation karta aa raha Hoon jiske wajah se aaj main bht weak hogaya Hoon aur Meri penis small aur uski nashe loose Hogai h aur jab main Kisi girl se phone pr ya karib se bat krta Hoon to semen penis se Pani ki tarah nikalne lagta h semen water ki tarah hogaya h main ne ayurvedic medicine khaya BT koi benefit nhi aur to aur ayurvedic medicine lene se loose motion hone lagta h khas taur PR powder so main bahut pareshan Hoon please help me.

Dr. Himani Negi 93% (18055 ratings)
BHMS
Homeopath, Chennai
Main nearly 15 years se masterbation karta aa raha Hoon jiske wajah se aaj main bht weak hogaya Hoon aur Meri penis s...
Bad effects of masturbation are: a. The nervous system is affected the most. b. Besides the heart, the digestive system, the urinary system as well as the other systems are adversely affected and consequently the whole body becomes the museum of diseases with profound weakness. c.Continuous headache and backache. d. Dizziness and loss of memory. e. Palpitation of heart on lightest exertion. f. Nervousness. g. Unable to perform any heavy physical or mental work. h. The person dislikes any company and activities and rather likes to sit in seclusion and suffers from weakness. i. All the senses are impaired. j. Impotency. A homoeopathic constitutional treatment will give you a permanent cure naturally You can easily take an online consultation for further treatment guidance and permanent cure without any side effects Medicines will reach you via courier services
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

But I do 3 times a weak shall I continue or stop. And also that is masturbation 1 time a weak will affect us and to improve my swimming and go to olympics is it necessary to stop masturbation and is it ok to masturbate at 14 years.

Dr. Lunkad Vaibhav 91% (6624 ratings)
MBBS, DIiploma in Yoga and Ayurveda, Diploma In Dermatology And Venerology And Leprosy (DDVL), PGDPC
Sexologist, Pune
But I do 3 times a weak shall I continue or stop. And also that is masturbation 1 time a weak will affect us and to i...
You need to avoid all excess or bad habits or wrong methods to prevent future problems like aging degeneration weakness impotence side effects obesity hairloss neurasthenia weightloss etc etc. You should not neglect yourself or waste time to contact us immediately.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I have been taking 25mgs of paxil from 3 years but panic attacks were frequent and to deal with them I had to use propapronol and klonopin. Recently though I consulted with my psychiatrist and he put me on prozac 20 mg now increased to 80 mg a day in the start my anxiety shot up but after 2 months that is today I feel ok. Although my concern being I feel to low on energy and get exhausted very frequently also face problem in decision making sitting still and quite and conversing deeply. I do face queryical ocd and agoraphobia where coming out of my comfort zone being close to my home ofc and city and close to my parents makes me comfortable else I feel anxious. Is there a proper line of treatment to be followed.

Dr. Srinivasa Sastry Malladi 89% (29 ratings)
MBBS, MRCPsych (UK)
Psychiatrist, Visakhapatnam
I have been taking 25mgs of paxil from 3 years but panic attacks were frequent and to deal with them I had to use pro...
Hi Medications such as prozac and paxil which are classed as SSRIs are commonly used medications to treat anxiety disorders, ocd and depression. It is good to note that your condition improved with higher dose of prozac. However, the anxiety symptoms are still not satisfactorily resolved. For further improvement it would be a good idea to combine psychological therapy along with medications. Through this you will be able to learn how to manage your anxiety in the long run.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am very skinny. My endurance and stamina is quite low. I remains tired most of the days. This problem is with me since 2 years and by time I am getting more skinny. I want to gain weight and want to build a good physique. Can you help me out? Like what should be my diet, exercisers, etc.

Dr. Shalini Singhal 94% (196 ratings)
Ph.D ; M.Sc Foods & Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
I would advise you to get a simple blood check done for CBC, Haemoglobin ,thyroid etc so that we can rule out any deficiency / hormonal issue. As far as diet & exercise is concerned, you can follow the basic rules. Weight gain needs patience and happens gradually with improved appetite and sensible eating. Weight gain needs a healthy wholesome diet with increase in proteins, healthy fats and required carbohydrate intake. Include more of fish, eggs, chicken, nuts and oilseeds, Milk & its products in your diet with ample quantity of fresh fruits and vegetables. Do not skip meals and eat frequently. Do some exercise along like walk for half na hour so that digestion is good. Take care that you do not have constipation and are properly hydrated. If you need me to help you out with customized online diet chart, please contact us for a direct consultation through Lybrate or write to me.
Submit FeedbackFeedback

Reasons for Weakness In Hindi - कमजोरी के कारण

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Reasons for Weakness In Hindi - कमजोरी के कारण

भारत जैसे विकासशीलदेशों में कमजोरी एक आम समस्या है. यहाँ लोगों को इस विषय में जागरूक किए जाने की आवश्यकता है कि उन्हें कितनी कैलोरी या अन्य घटकों की जरुरत है. क्योंकि आम तौर पर देखा यही जाता है कि हम अपने दैनिक जीवन में अपने लिए आवश्यक कैलोरी का पता नहीं होता है. इसके अलावा हमारी बदलती हुई जीवनशैली भी कमजोरी के लिए जिम्मेदार है. कमजोरी के कारण ही हमें थकान का भी अनुभव होता है. हम इस मुद्दे को इस बदलती जीवनशैली में हर कोई थकान या कमजोरी का सामना करता है. मांसपेशियों में शारीरिक कमजोरी का सीधा संबंध थकान से है. आइए समझें कि शारीरिक कमजोरी आखिर है क्या और इसके क्या कारण हैं.

कमजोरी आखिर है क्या?
शारीरिक कमजोरी दरअसल शरीर में थकावट की एक भावना है. इसके अंतर्गत कमजोरी का अनुभव करने वाला व्यक्ति अपने शरीर को ठीक तरीके से संचालित करने में सफल नहीं होता है. इसके अलावा कुछ लोग अपने शरीर के किसी विशेष हिस्से में कमजोरी का अनुभव करते हैं, जैसे कि हाथ या पैर. वहीं कुछ लोगों को पूरे शरीर की कमजोरी का अनुभव हो सकता है, जो आमतौर पर इन्फ्लूएंजा या हेपेटाइटिस जैसी बैक्टीरिया या वायरल संक्रमण का परिणाम होता है.

क्या हैं कमजोरी के कारण?

1. बुखार या फ्लू
आम तौर पर ऐसा होता है कि बुखार या फ्लू के दौरान मांसपेशियों और जोड़ों में बहुत दर्द होता है, जो शारीरिक कमजोरी का कारण बनता है. ये बहुत अस्थायी होता है फ्लू का असर खत्म होते ही आप ठीक महसूस करने लगते हैं.
2. थायराइड का ठीक से काम न करना
कई बार ऐसा होता है जब आपका थायरॉयड ठीक से काम नहीं करता है. ऐसे में थायराइड आपको परेशान या थका हुआ महसूस करा सकता है. इस दौरान आपकी मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं और आपका वजन घट या बढ़ सकता है.
3. नींद में कमी
यदि आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं तो आपको बता दें कि अच्छी सेहत के लिए पर्याप्त नींद लेना जरूरी है. जरूरत से कम नींद लेना शारीरिक कमजोरी और कमजोरी का कारण बन सकता है. आपके शरीर के हर भाग को अच्छी नींद की जरूरत है. पर्याप्त नींद से आपके शरीर के बॉडी बार्ट रिपेयर होते हैं.
4. पीरियड्स के दौरान
महिलाओं के लिए मासिक धर्म का समय कई परिवर्तन लाता है. इस दौरान रक्त का अत्यधिक निकलना भी शारीरिक कमजोरी का कारण है. ये भी अस्थायी होता है क्योंकि कुछ दिनों में ये समाप्त हो जाता है.
5.तनाव या अवसाद
तनाव या चिंता के दौरान भी व्यक्ति सीधे थकान और कम ऊर्जा का अनुभव करता है. लेकिन ये वास्तविक कमजोरी नहीं है. चिंता लेने से कुछ लोग अपने अंगों में सुन्नता या कमजोरियों की भावनाओं में उतार-चढ़ाव देखा जाता है.
6. शुगर
शुगर के दौरान इसके मरीज को कई समस्याओं से जुझना पड़ता है. जब आपका मधुमेह नियंत्रित होता है, तो आपको थकान और कमजोरी जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है.
7. दिल की विफलता के कारण
कोंजेस्टिव हार्ट फेल्योर के कारण भी आपको थकान और कमजोरी जैसी समस्या से जुझना पड़ता है. दिल की विफलता के लक्षणों में थकान, मतली, खाँसी, हल्केपन, और भूख की हानि शामिल हैं.
8. विटामिन बी-12 की कमी
शरीर को काम करने के लिए विटामिन बी 12 महत्वपूर्ण है, जिन लोगों के पास विटामिन बी 12 की कमी है उन्हें थकावट महसूस हो सकता है और ऊर्जा की कमी भी देखने को मिलेगा. विटामिन बी 12 की कमी का सीधा जुड़ाव शारीरिक कमजोरी से है.

दूर करने के उपाय
यदि आपको ज्यादा मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है तो आपको चिकित्सक से संपर्क करें. लेकिन यदि ये छोटे रूप में है तो इसके लिए स्वास्थ्य की देखभाल करना एक अच्छा निवारक उपाय है. इसके अलावा तरल पदार्थ का सेवन कीजिए और नियमित रूप से कसरत करने से आपकी कमजोरी से उबरने में मदद मिल सकती है और इसे रोक भी सकते हैं.
 

12 people found this helpful