Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Dhananjay M. Bapat

Veterinarian, Thane

Book Appointment
Call Doctor
Dr. Dhananjay M. Bapat Veterinarian, Thane
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them....more
My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them.
More about Dr. Dhananjay M. Bapat
Dr. Dhananjay M. Bapat is a renowned Veterinarian in Dombivali, Thane. You can consult Dr. Dhananjay M. Bapat at Dr. Bapat's My Lovely Pet Shop, Dombivali in Dombivali, Thane. Book an appointment online with Dr. Dhananjay M. Bapat on Lybrate.com.

Lybrate.com has a number of highly qualified Veterinarians in India. You will find Veterinarians with more than 25 years of experience on Lybrate.com. Find the best Veterinarians online in Thane. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Dhananjay M. Bapat

Dr. Bapat's My Lovely Pet Shop, Dombivali

Yash Laxmi Society, Tilak Road, Nr. Braham Sabha, Opp. Sarvesh Hall, Dombivali (E), ThaneThane Get Directions
...more
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Dhananjay M. Bapat

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Sir we are a diary oprators in india sir we are suffering from mastitas regular basis we are a 70 catteles please suggest what can we do suffering from clinical mastitas

MVSc
Veterinarian, Bareilly
Dear , an occurrence of mastitis due to unhygienic condition of milker, animal & animal house. General practice for control of mastitis as follow. 1. Before milking, hand of milker should be clean with detergent and dry off. 2. Milking pattern should be full hand milking not knuckling milking 3. Udder of animal should be clean with detergent and dry off before milking. 4. After milking animal should be standing position for half to one hour 5. Animal house should be clean with detergent and dry off.
6 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Vaccination In Pets

B.V.Sc
Veterinarian, Varanasi
Vaccination In Pets

Vaccination in dog

टीकाकरण की प्रकिया एक ऐसा उपाय है जिससे, कुत्तो में होने वाली कुछ प्रमुख विषाणु एवं जीवाणु जनित जानलेवा एवं लाइलाज, बीमारियों जैसे कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, रेबीज तथा केनल कफ़ आदि से बचाव के लिए समय समय पर कुत्तों के शरीर में टीका लगाया जाता है,जिससे इन रोगों के खिलाफ रोगप्रतिरोधक क्षमता का शारीर में विकास हो जाता है और हमारा पालतू जानवर एक सिमित अवधि तक इन बिमारियों के घातक प्रभाव से बचा रहता है |

कुछ टीकाकरण संबंधी सामान्य प्रश्नो के जबाब -
 
१- क्या सभी उम्र के कुत्तो का टीकाकरण जरूरी होता है?
हाँ। आमतौर पर १. ५ महीने (४५ दिन) के उम्र से ऊपर सभी कुत्तो का नियमित समय पर टीकाकरण करना जरूरी होता है यदि किसी कारण वश नयमिति या कभी कराया ही न गया हो तो किसी भी उम्र से टीकाकरण शुरू किया जा सकता है। 

२. छोटे बच्चो को किस उम्र से टीका का पहली खुराक देना शुरू करना चाहिए?
४५ दिन के उम्र से ही टीके की पहली खुराक देना बेहद जरूरी होता है 

३. क्या सभी छोटे पप्स को टीकाकरण के पहले पेट के कीड़े देना जरूरी होता है -
हाँ। बहुत से परजीवी ऐसे होते है जो माँ के पेट से ही या दूध के जरिये से बच्चे के शरीर में प्रवेश कर जाते है जिससे शरीर को कमजोर कर देते है और जब टीका लगाया जाता है तो कमजोरी के वजह से उतना अच्छा शरीर में प्रतिरोधक छमता का विकास नहीं हो पता इसलिए पहले ऐसे परजीवीओ को नष्ट करना जरूरी होता है 

४. क्या होता है टीकाकरण का सही उम्र और समयांतराल?
१. पहली खुराक -जन्म के ६ -८ सप्ताह के उपरांत(कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा हेतु) 
२. बूस्टर खुराक या दूसरी खुराक - प्रथम खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर दूसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 
३. तीसरी खुराक - रेबीज वायरस हेतु- प्रथम खुराक जन्म के ३ माह के उपरान्त। 
४. बूस्टर खुराक या चौथी खुराक - तीसरी खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर तीसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 

५. क्या बूस्टर खुराक देना जरूरी होता है या नहीं?
जन्म के साथ ही माँ से प्राप्त एंटीबाडीज और प्रथम दूध से मिलने वाली सुरछा कवच कुछ सप्ताह तक नवजात के खून में मौज़ूद रह करअनेको बीमारयों से सुरछा प्रदान करती है परन्तु समय के साथ साथ इनकी मात्रा बच्चे के शरीर में कम होने लगती है। जिससे बीमारी होने की आशंका बढ़ जाती है इसलिए लगभग ४५ दिन के बाद टिका का प्रथम खुराक देते है यद्पि ये पता नहीं रहता की माँ से मिलने वाली सुरछा का असर किस स्तर का है जिससे आमतौर पर ये स्तर अधिक होने पर प्रथम खुराक से बच्चे के शरीर में टीकाकरण की गुणवत्ता को बाधित करती है, जो की पप्पस में रोगप्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने में असक्षम हो जाता है इसलिए कुछ सप्ताह बाद टीकाकरण के दूसरी खुराक दे कर टीकाकरण से रोगप्रतिरोधक क्षमता करने के उद्देश्य को प्राप्त करते है ऐसी दूसरी खुराक को बूस्टर खुराक कहते है। 

६. क्या है टीकाकरण की सही खुराक देने के मात्रा:
डॉग चाहे किसी भी उम्र, भार, लिंग अथवा नस्ल के हों उनको समान मात्रा में टीकाकरण का खुराक दिया जाता है 

७. क्या है टीकाकरण का सही तरीका:
टीकाकरण खाल के नीचे:कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा तथा रेबीज जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए खाल के नीचे दिया जाता है
 नथुनों में:केनल कफ़ का टीकाकरण कुत्ते के नथुनों में दवा डाल कर किया जाता है

८. क्या सभी टीके एक ही प्रकार के होते है:कुत्तों में टीकाकरण दो प्रकार की होती है
 १. कोर टीकाकरण - टीकाकरण जो सभी कुत्तों के लिये आवश्यक है. यह उन बिमारीयों में दिया जाता है जो आसानी से फैलती हैं अथवा घातक होती हैं जैसे रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर.
 २. नान कोर टीकाकरण – उपरोक्त ४ बिमाँरीयों (रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर) के टीकाकरण को छोड़कर अन्य सभी नानकोर टीकाकरण माना जाता है | यह उन बिमाँरियों से सुरक्षा प्रदान करता है जो वातावरण के अनावरण अथवा जीवनचर्या पर निर्भर करती है जैसे लाइम डिजीज, केनलकफ और लेप्टोस्पाइरोसिस.

९. एक सफल टीकाकरण करने के बाद क्या फिर भी टीकाकरण विफल हो सकता है?हाँ। 
 टीकाकरण के विफलता के कारण कुत्ते में बीमारी होने के निम्नलिखित मुख्य कारण हो सकते है –
१. टीकाकरण के दौरान कुत्ते की रोगप्रतिरोधक क्षमता का सम्पूर्ण रूप से कार्य न करना |
२.आयु – कम उम्र के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली पूर्णतः विकसित नही होती और बड़े आयु के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली कई कारणों से अक्सर कमज़ोर या क्षीण हो जाती है |
३. मानवीय चूक (टीके का अनुचित संग्रहण या अनुचित मिश्रण)- टीकों का संग्रहण एवं इस्तेमाल भी निर्देशानुसार ही होना आवश्यक है | सूरज की रोशनी,गर्म तापमान टीके के प्रभाव को नस्ट कर सकता है | टीके का मिश्रण पशु में टीकाकरण के तुरंत पहले तैयार करना चाहिए | टीके खरीदने के पहले पता करना चाहिए कि टीकों को उचित तापमान एवं देखभाल से रखा गया है या नहीं |
४. डीवार्मिंग – टीकाकरण करने के पहले पेट के कीड़े मारने के लिए डीवर्मिंग करना आवश्यक है, वरना इस तरह का तनाव टीकाकरण के प्रभाव को कम कर सकता है |
५. गलत सीरोटाईप / स्टेन का इस्तेमाल – प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत विशिष्ट होती है | अतः टीके में होने वाली जीवाणु या विषाणु की सही स्टेन होनी चाहिए वरना उससे उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षा जानवर में सही तौर पर सुरक्षा नहीं कर पाती |
६. अनुवांशिक बीमारियाँ – कुछ जानवरों में आनुवंशिक बिमारियों की वजह से सभी रोगों के लिए प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पर कम ही उत्पन्न हो पाती है |
७. वैक्सीन की गुणवत्ता – टीके में प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रोत्साहित करने के लिए प्रयाप्त मात्रा में प्रतिजनी की मात्रा होना चाहिए वरना टीकाकरण के बाद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रयाप्त नहीं होती है |
८. पुराने या अवधि समाप्त टीके – पुराने टीकों में आवश्यक प्रतिजनी गुण समाप्त या कम हो जाता है | इस तरह के टीके लगाने से जानवरों को बेमतलब तनाव दिया जाता है |
९. टीकाकरण का अनुचित समय – टीका निर्माता के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण का समय (उम्र एवं मौसम के अनुसार), लगाने का तरीका एवं मात्रा तथा दोबारा लगाये जाने की अवधि, इत्यादि निश्चित होता है |इन निर्देशों का पालन सही समय पर न करने से टीकाकरण विफल या निष्क्रिय हो जाता है |
१०. पोषण की स्तिथि- कुपोषण की वजह से जिन पशुओं में पोषक तत्वों की कमी रह जाती है उनमे टीकाकरण के बाद भी प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पे कम ही उत्पन्न हो पाती है |

10. क्या वैक्सीन लगते समय कुत्ते पर कोई दुस्प्रभाव हो सकते है? हाँ 
 कुछ कुत्तो प्रतिरोधक छमता अधिक सक्रिय होने की वजह से कुछ सामान्य लचण जैसे ज्वर, उल्टी, दस्त, लासीका ग्रंथियों का सूजना, मुख का सूजना, हीव्स, यकृत विफलता और कभी -कभी मौत भी हो सकती है।

1 person found this helpful

My dog has severe pain in ears. So, please give me some tips to cure my dog's infection.

M.V.Sc (Surgery)
Veterinarian, Mohali
It seems that your dog is suffering from otitis externa. Regular cleaning of ear with cleaning soln. And ear drops (pomisol) can cure infection.
Submit FeedbackFeedback

My pet 6 months old golden retriever in fed on golden retriever junior royal canin and the vet has suggested some human supplements like feroglobin and calicmax is it safe for him ?

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
Yes its safe , even the human can have the tablets when its safe to the animals . So dont worry . I use nearly 95 % of medicine in human field only . And regarding dosage please consult your vet in supplementing it.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Monsoon Concerns - Leptospirosis.!!!!

MVSc, BVSc
Veterinarian,
Monsoon Concerns - Leptospirosis.!!!!
Monsoon may be a great time to go outdoors with your pets and enjoy the rains. But be aware of the hidden dangers.

- leptospirosis is around and can cause lethal liver and kidney disease in dogs.
- water logging in metro cities can be a source of such fatal infections. Transmitted via urine of rats/dead rats --> Dogs can readily become infected despite vaccinations.
- common in farms too, wherever there is rat population.
- leptospirosis is a contagious to humans as well, and infected dogs, their urine becomes an important carrier for humans.
- initial signs include vomiting, jaundice, reduced urination, kidney failure.
- if not identified and treated early, it can become fatal.
- early diagnosis and specific treatment can save your pet.
- proper precautions and hygiene can save your family from exposure.
- do not let your pets walk through, or drink from water puddles.

Please speak to us for more information on this.
Have a safe monsoon!
11 people found this helpful

6 Most Dangerous People- Foods for Dogs

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
6 Most Dangerous People- Foods for Dogs
Most Dangerous People Foods for Dogs

Dogs must never be fed with following people-food. It’s only slow poison for your pets.

1. Onions & Garlic: These are highly flavored foods and can cause toxicosis in dogs.
2. Chocolate: Ingestion of chocolate by dogs can cause abdominal pain and vomiting to them due to the presence of theobromine and caffeine.
3. Avocado: Dogs must never be fed with avocado flesh or skin. Not just avocado fruit but even various parts of avocado tree are fatal for dogs.
4. Raisins & Grapes: Even slight feeding of raisins or grapes can pose problem to dogs. Their ingestion can cause kidney failure to them.
5. Nuts: Nuts contain phosphorus that can cause bladder stones in dogs. Ingestion of walnuts and macadamia result in vomiting, joint swelling and muscular pain in dogs.
6. Xylitol: Xylitol is a sweetener that is very harmful for dogs for it can cause them loss of coordination, seizure and even liver failure.

If you would like to consult with me privately, please click on 'Consult'.
673 people found this helpful

My german shepherd was really facing a big problem with his front left limb even it started limping. I consult my vet and he said your dog was facing a problem with deficiency of calcium. So, please suggest me a better calcium supplement and dosage. Thank you.

MVSc
Veterinarian,
U can give skycal syrup around 5 ml morning and night daily. But I think it may not only be calcium deficiency, it may be also becoz of any sprain, strain, obesity and some other causes, did your vet palate the leg of your dog, did you took scan, since how many days its limping, what's age of your dog and weight of your dog.
Submit FeedbackFeedback

I was attacked by dog on 28/3/15, luckily there was no cut on my body. But I came to know there was small spit on my hand. As doctor diagnose me and advised me injection. Same day took vaxirab and second I took 2/4/15 and third I took on 7/4/15. I know the further step and how many more injection I have to take ?

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
Dear sir, as far as the dog is a street dog you need to worry. In this case even thought the dog is a street dog it does not seems to be bitten case as you dint have any injury or cut wound. To get rabies you need to be: 1. Have a cut wound first then rabies dog saliva has to be in contact with the wound. 2. Have to watch the dog for 30 days. Because the rabies dog cannot survive more than 45 days. 3. Rabies is a viral diseases so it needs a proper contact with the infection wild rabid carnivores. (like hiv infection) 4. So in your cases what you have done is more than enough.
Submit FeedbackFeedback
View All Feed