Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Inamdar Multispeciality Hospital, Pune

Inamdar Multispeciality Hospital

  4.3  (12 ratings)

Multi-speciality Hospital (Dentist, Dermatologist & more)

#15, Landmark : Behind KPCT Mall, Pune Pune
95 Doctors · ₹200 - 600
Call Clinic
Inamdar Multispeciality Hospital   4.3  (12 ratings) Multi-speciality Hospital (Dentist, Dermatologist & more) #15, Landmark : Behind KPCT Mall, Pune Pune
95 Doctors · ₹200 - 600
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

By combining excellent care with a state-of-the-art facility we strive to provide you with quality health care. We thank you for your interest in our services and the trust you have place......more
By combining excellent care with a state-of-the-art facility we strive to provide you with quality health care. We thank you for your interest in our services and the trust you have placed in us.
More about Inamdar Multispeciality Hospital
Inamdar Multispeciality Hospital is known for housing experienced Orthopedists. Dr. Uday Bapusaheb Pote, a well-reputed Orthopedist, practices in Pune. Visit this medical health centre for Orthopedists recommended by 49 patients.

Timings

MON-SAT
09:00 AM - 08:00 PM
SUN
01:00 PM - 05:00 PM

Location

#15, Landmark : Behind KPCT Mall, Pune
Fatima Nagar Pune, Maharashtra
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctors in Inamdar Multispeciality Hospital

Dr. Uday Bapusaheb Pote

MBBS, DNB - Orthopedics, Fellow in Spine Surgery
Orthopedist
11 Years experience
500 at clinic
Available today
02:00 PM - 04:00 PM

Dr. Kshama Kulkarni

MBBS, MS - General Surgery, DNB ( General Surgery )
Pediatrician
16 Years experience
500 at clinic
Available today
04:00 PM - 04:55 PM

Dr. Manohar Sakhare

MBBS, MD - Internal Medicine, DM - Cardiology
Cardiologist
21 Years experience
500 at clinic
Available today
10:00 AM - 07:00 PM

Dr. Sachin Sharad Vaze

MBBS, DNB ( General Surgery ), DNB - Gastroenterology
Gastroenterologist
23 Years experience

Dr. Kshama.Kulkarni- Wakankar

M.Ch - Paediatric Surgery, Membership of the Royal College of Surgeons (MRCS), DNB (General Surgery), MS - General Surgery, MBBS
Pediatrician
18 Years experience
200 at clinic
Available today
04:30 PM - 05:30 PM

Dr. Rajendra K Shimpi

MBBS, MS - General Surgery
Urologist
36 Years experience
500 at clinic
Unavailable today
19 Years experience
500 at clinic
Unavailable today
39 Years experience
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today

Dr. Seemab Shaikh

MBBS, Diploma in Otorhinolaryngology (DLO)
ENT Specialist
29 Years experience
500 at clinic
Unavailable today
300 at clinic
Available today
10:00 AM - 07:00 PM
500 at clinic
Unavailable today

Dt. Ms. Swati Jagtap

Dietitian/Nutritionist
500 at clinic
Available today
02:00 PM - 04:00 PM

Dr. Abhijit Belgaumkar

MBBS
General Physician
13 Years experience
300 at clinic
Unavailable today

Dr. Milind Gandhi

MBBS, MS - Orthopaedics, DNB
Orthopedist
31 Years experience
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today
View All
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Inamdar Multispeciality Hospital

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

I am 50 years old male since last 1 year my blood sugar levels of fasting is between 130 to 140 what should I do.

BHMS
Homeopath, Noida
I am 50 years old male since last 1 year my blood sugar levels of fasting is between 130 to 140 what should I do.
You need to take medicines. Also do this a diabetes diet simply means eating the healthiest foods in moderate amounts and sticking to regular mealtimes. A diabetes diet is a healthy-eating plan that's naturally rich in nutrients and low in fat and calories. Key elements are fruits, vegetables and whole grains. You can take (moderate amount) grapes. Apples. Berries. Citrus fruits. Pineapple. Papaya. U should avoid sugar-sweetened beverages. Sugary beverages are the worst drink choice for someone with diabetes. Trans fats sugar, cake, pastries mithai/sweets chocolate fruits like mango, litchi etc. White bread, pasta fruit-flavored yogurt. Sweetened breakfast cereals. Flavored coffee drinks. Honey 1. Don't take tea empty stomach. Eat something like a banana (if you are not diabetic). No only biscuits or rusk will not do. 2. Take your breakfast every day. Don't skip it. 3. Have light meals every 2 hours (in addition to your breakfast, lunch n dinner) e.g. Nariyal paani, chaach, a handful of dry fruits, a handful of peanuts, seasonal fruit, a cup of curd/milk etc 4. Finish your dinner at least 2 hours before going to sleep. 5. Maintain active life style 6. Avoid fast foods, spicy n fried foods 7.take a lot of green vegetables n fruit. 8. Drink lot of water. 9.curd is good for u. Exercise in the form of yoga, cycling, swimming, gymming, walking etc. For more details you can consult me.
1 person found this helpful

My wife's ovulation days were between 14th of april to 19th of april, because her last periods were started on 1st of april 2019. We had intercourse daily from 14th to 20th april. If she has been fertilized, does she have hcg hormone in her blood and urine now? Or should we wait for pregnancy test?

BHMS
Homeopath, Noida
My wife's ovulation days were between 14th of april to 19th of april, because her last periods were started on 1st of...
You can do a blood test as soon as she misses her periods. But urine pregnancy test should be done 10 days after missing your period. For example, if your date was 10th, then do the test on 20th. Before that, it can give a false negative or false positive test.

I have taken i-pill same day of intimacy. Then my periods came on 31 March to 6 April then after 10 days again it started bleeding which is still going on. Tomorrow bleeding is lighter and brownish and today again it's bright red in colour. Whats the reason? Am I pregnant?

BHMS
Homeopath, Noida
I have taken i-pill same day of intimacy. Then my periods came on 31 March to 6 April then after 10 days again it sta...
No. There is no fixed time in which one bleeds after taking ipill. Sometimes unexpected bleeding occurs more over it is not necessary. Next menstrual cycle can be early or delayed as side effects of the pill.

If women is not pregnant and she take i-pill then any effect can be come on her health?

BHMS
Homeopath, Noida
If women is not pregnant and she take i-pill then any effect can be come on her health?
Yes she will have bleeding n her hormonal balance will be disturbed. Also she may have side effects of tablet like nausea, vomiting, stomach pain etc.

After how many days of intercourse I can take a pregnancy test? After 10 days of intercourse, checked but it came negative. So is it possible I am not pregnant or should I wait some more days?

BHMS
Homeopath, Noida
After how many days of intercourse I can take a pregnancy test? After 10 days of intercourse, checked but it came neg...
Urine pregnancy test should be done 10 days after missing your period. For example if your date was 10th, then do the test on 20th. Before that it can give false negative or false positive test so wait n do the test.

एचआईवी एड्स के लक्षण - HIV Aids Ke Lakshan!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
एचआईवी एड्स के लक्षण - HIV Aids Ke Lakshan!

ह्युमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस एक लेंटिवायरस है, जो अक्वायर्ड इम्युनोडेफिशिएंसी सिंड्रोम (एड्स) का कारण बनता है. एड्स के कारण बॉडी की इम्यून सिस्टम विफल होने लगता है और इसके कारण ऐसे संक्रमण हो जाते हैं, जिनसे मृत्यु का जोखिम होता है. एचआईवी का इन्फेक्शन ब्लड इनफ्युजन, स्पर्म, वेजाइवनल फ्लूइड, डिस्चार्ज से पहलें निकलने वाली द्रव या मां के दूध से होता है. इन शारीरिक द्रवों में, एचआईवी मुक्त जीवाणु कणों और प्रतिरक्षा कोशिकाओं के भीतर उपस्थित जीवाणु, दोनों के रूप में उपस्थित होता है. एड्स के फैलाव के चार प्रमुख मार्ग हैं असुरक्षित यौन-संबंध, संक्रमित सुई, मां का दूध और किसी संक्रमित मां से उसके बच्चे को जन्म के समय होने वाला संचरण. एचआईवी की उपस्थिति का पता लगाने के लिये रक्त-उत्पादों की जांच करने के कारण रक्ताधान अथवा संक्रमित रक्त-उत्पादों के माध्यम से होने वाला संचरण विकसित विश्व में बड़े पैमाने पर कम हो गया है. आइए इस लेख के माध्यम से हम एचआईवी/एड्स होने के विभिन्न लक्षणों पर एक नजर डालें ताकि इस विषय में लोगों को जागरूक करके इस बीमारी के प्रभाव को कम किया जा सके.

एचआईवी/एड्स के लक्षण-

अधिकांश एचआईवी से संक्रमित मरीजों को फ्लू जैसे लक्षणों को बहुत कम समय तक अनुभव करते हैं जो इन्फेक्शन होने के 2-6 सप्ताह बाद होते हैं. इसके बाद हो सकता है एचआईवी के कई सालों तक कोई लक्षण न हों. यह देखा गया है कि एचआईवी से संक्रमित 80 प्रतिशत लोगों को फ्लू जैसे लक्षण होते हैं. इन लक्षणों का होना मतलब यह नहीं है कि आपके शरीर में एचआईवी वायरस है. यह लक्षण किसी और स्थिति के कारण भी हो सकते हैं. इनमे सबसे आम लक्षण हैं:

1. एचआईवी के दौरान अक्सर कई मरीजों को बुखार होना या गले में ख़राश होने की शिकायत होती है.
2. कई बार हमें एचआईवी पीड़ितों के शरीर पर चकत्ते या इसी तरह की अन्य संरचनाएं भी दिख सकती हैं.
3. इस गंभीर बीमारी में आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाने के कारण आपको थकान होगा.
4. इस दौरान कई लोगों के जोड़ों में दर्द का अनुभव भी हो सकता है. ऐसा कमजोरी के कारण हो सकता है.
5. कई एचआईवी पीड़ितों को इस दौरान उनकी मांसपेशियों में दर्द का भी अनुभव हो सकता है.
6. एचआईवी जैसी खतरनाक बीमारी में कई लक्षण नजर आते हैं इनमें से एक ग्रंथियों में सूजन भी है.
7. एचआईवी की बीमारी बहुत खतरनाक होती है. इस दौरान मरीज का वज़न लगातार घटता जाता है.
8. एड्स से पीड़ित व्यक्ति को बहुकालीन दस्त की समस्या भी हो सकती है.
9. रात को पसीना आने की समस्या भी कई एचआईवी पीड़ितों ने बताई है.
10. एड्स के दौरान आपको त्वचा की समस्याएं भी हो सकती हैं.
11. इसके कई लक्षणों में से एक ये भी है कि इसमें मरीज को बार-बार संक्रमण होता रहता है.
12. एचआईवी के दौरान आपको कई तरह की गंभीर जानलेवा बीमारियां भी हो सकती हैं.

कब तक रह सकते हैं एड्स के ये लक्षण?
आमतौर पर एचआईवी के ये लक्षण 1-2 सप्ताह तक रहते हैं लेकिन ज़्यादा समय के लिए भी रह सकते हैं. ये लक्षण सिर्फ इस बात का संकेतक है की आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली वायरस के खिलाफ लड़ रही है. एक बार जब प्रतिरक्षा प्रणाली बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो जाता है तो इसके अतिरिक्त भी कई अन्य बेहद गंभीर लक्षण नजर आ सकते हैं.

भगन्दर का होम्योपैथिक इलाज - Bhagandar Ka Homeopathic Ilaj!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
भगन्दर का होम्योपैथिक इलाज - Bhagandar Ka Homeopathic Ilaj!

होम्योपैथ आज एक प्रमाणित इलाज पद्धति के रूप में काफी लोकप्रिय है. इस पद्धति के तहत कई बीमारियों का प्रभावी उपचार किया जाता है. भगंदर जैसी बीमारियों का उपचार भी होम्योपैथ के द्वारा किया जा सकता है. भगंदर खुदा के आसपास होने वाली रेप बेहद खतरनाक और गंभीर बीमारी है. इस के शुरुआती लक्षणों में मलद्वार से खून निकलना गुदा के आसपास छोटे-मोटे फोड़े होना उन फूलों से मवाद आदि निकलना है. भगंदर की बीमारी पीड़ितों को काफी दर्द देने वाली होती है. कई बार तो लोग इस कदर झेल भी नहीं पाते. आमतौर पर यह बीमारी मांसाहारी लोगों और ज्यादा मात्रा में तेल मसाला का इस्तेमाल करने वाले लोगों को होता है. ऐसा भोजन करने से गोदा के आसपास फोड़े में जल्दी सूजन आ जाती है और इन फोड़ों फूलों से मवाद भी निकलना शुरू हो जाता है. इस बीमारी की गंभीरता को देखते हुए इनके प्राथमिक लक्षण नजर आते ही आपको तुरंत किसी चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए ताकि आप समय रहते इस बीमारी के कुचक्र से निकल सकें. आइए हम आपको इस लेख के माध्यम से भगंदर के होम्योपैथी इलाज के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दें ताकि इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को इस विषय में जागरूक किया जा सके.

1. हिपर सल्फर 6, 30m

भगंदर जैसी गंभीर बीमारी का होम्योपैथ में कई बेहतर इलाज उपलब्ध है. हिपर सल्फर 6, 30m भगंदर के उपचार में काफी मददगार साबित होता है. इस दवाई किस होम्योपैथिक दवाई का सेवन आपको तब करना चाहिए जब आपको बहुत तेज दर्द महसूस होने लगे. जब भगंदर के मरीज इस दवा का नियमित सेवन करने लगते हैं तो कुछ दिन बाद ही उन्हें आराम मिल जाता है. इसके अलावा इस दवाई के सेवन से थोड़े से मवाद निकलते समय मरीज को दर्द का अनुभव नहीं होता है.

2. मिरिस्टिका 3x
जिन भगंदर के मरीजों का दर्द हिपर सल्फर खाने के बाद भी कम होता हुआ ना महसूस हो उन लोगों को मिरिस्टिका 3X का सेवन करना चाहिए. इसमें पर्ची दवाई के सेवन से आप तो दर्द तो कम होता ही है. इसके अलावा यह दवा कुछ ही दिनों में रोगी को भैया ने परेशानियों से भी राहत दे सकती है. जिन व्यक्तियों को ज्यादा परेशानी है वो इसका सहारा ले सकते हैं.

3. सल्फर 30, 200m
भगंदर के पीड़ितों को इस बीमारी से बचने के लिए होम्योपैथिक दवाइयों का सहारा लेना चाहिए. होम्योपैथिक दवाइयों में भी इस बीमारी को दूर करने की क्षमता होती है. भगंदर होने पर जब मलद्वार में सूजन आ जाती है या फिर मल त्याग करते समय गुदा में दर्द उत्पन्न होने लगता है तब आप इस दवाई का सेवन करें. सल्फर 30 दूसरों के सेवन से भगंदर का सूजन और उसका प्रभाव भी कम होता है. इसलिए आप इस दौरान इसका इस्तेमाला करके अपनी परेशानी को काफी हद तक कम कर सकते हैं.

4. सिलिसिया 200m
भगंदर की बीमारी का उपचार करने के क्रम में सिलिसिया 201 एवं का इस्तेमाल तब करें जब आपको चलने-फिरने अमल त्यागने में अत्यधिक दर्द का अनुभव होने लगे या फिर मलद्वार के पास के फोड़े से तीव्र गंध वाली मवाद निकलने लगे. जैसे ही आप इस दवा का सेवन करेंगे आप देखेंगे कि भगंदर के लक्षण धीरे-धीरे दूर हो रहे हैं. इस प्रकार आप इसके इस्तेमाल से भगंदर की बीमारी से निजात पा सकते हैं.

नोट: - उपरोक्त सभी दवाइयाँ शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए हैं. इसलिए यदि आप इन्हें इस्तेमाल करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको चिकित्सक से संपर्क करना आवश्यक है. क्योंकि इन दवाइयों के विषय में उचित राय विशेषज्ञ ही दे सकते हैं. अतः आप इसे स्वयं इस्तेमाल करने की गलती न करें.

हेल्थ बनाने के तरीके - Health Bnane Ke Tarike!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
हेल्थ बनाने के तरीके - Health Bnane Ke Tarike!

हैल्थ इज वेल्थ वाली कहावत तो आपने भी सुनी ही होगी. दरअसल ये बात शत प्रतिशत सही है. क्योंकि बिना स्वास्थ्य के इस दुनिया में कुछ भी नहीं है. इस संसार में जीवन यापन करने के लिए आपके शरीर का ठीक ढंग से काम करना बेहद आवश्यक है. यदि आप अभी तक अपने हेल्थ को लेकर सचेत नहीं हैं तो अब आपको इसे लेकर सचेत हो जाना चाहिए.

सण्‍डे हो मण्‍डे रोज खाएं अण्‍डे-
अपने दिन की शुरुआत उबले अण्‍डों से कीजिए. सुबह नाश्‍ते में दो अण्‍डे खाने से आपकी मांसपेशियां और वजन तेजी से बढ़ेगा. अण्‍डा प्रोटीन का उच्‍च स्रोत होता है. एक अंडे में छह से आठ ग्राम तक प्रोटीन होता है. इसके साथ ही इसमें जिंक, विटामिन, आयरन और कैल्शियम भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. यह सब चीजें मिलकर इसे एक कम्‍प्‍लीट आहार बनाते हैं.

कलेजी-
चिकन जिम जाने वालों के लिए अति आवश्‍यक आहार माना जाता है. हर सौ ग्राम कलेजी में 30 ग्राम प्रोटीन होता है और इसमें वसा की मात्रा बहुत कम होती है. इनकी कीमत भी कम होती है साथ ही इन्‍हें बनाना भी आसान होता है.

पानी है जरूरी-
पानी कई मामलों में आहार से भी ज्‍यादा जरूरी हो जाता है. हमारे शरीर का 70 फीसदी हिस्‍सा पानी होता है और मांसपेशियां 75 प्रतिशत पानी की बनी होती हैं. अपनी मांसपेशियों में तरलता बनाए रखने और मांसपेशियों की ताकत बनाए रखने के लिए पानी बेहद जरूरी है. इससे एनर्जी लेवल बढ़ता है और पाचन क्रिया ठीक रहती है. अपने वजन के अनुसार पानी पीना चाहिए.

अनानास-
अनानास में मौजूद तत्‍व ब्रोमिलीन प्रोटीन को पचाने में मदद करता है. इसके साथ ही यह मांसपेशियों में जलन को भी कम करता है. इसलिए वर्क आउट के बाद आपके आहार में जरूर शामिल करें. यह खाने में भी लजीज होता है, इसलिए आप एक बार जो इसे खाना शुरू करेंगे तो बस खाते ही जाएंगे.

पालक-
एक रिसर्च के अनुसार पालक मांसपेशियों के निर्माण की गति 20 फीसदी तक बढ़ा देती है. रोजाना करीब एक किलो पालक खाने से आपको काफी फायदा मिलेगा. शाकाहारी लोगों के लिए यह बेहद उपयोगी आहार है.

शकरकंदी-
मांसपेशियां बनाने की चाहत रखने वाले लोगों के लिए यह बहुत उपयोगी हो सकती है. इनमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा काफी अधिक होती है. यह शरीर के लिए बेहद जरूरी पौष्टिक तत्‍व होता है. यह मांसपेशियों के लिए भी मददगार होता है. इसके साथ ही इसमें विटामिन और मिनरल की भी प्रचुर मात्रा होती है. इससे ब्‍लड शुगर का स्‍तर भी नियंत्रित रहता है.

बादाम-
बादाम तो लंबे समय से ताकत और बुद्धिमत्‍ता की पहचान रहा है. इसमें प्रोटीन और वसा प्रचुर मात्रा में पाई जाती है. लेकिन, सबसे अहम इसमें पाया जाने वाला विटामिन ई होता है, जो मांसपेशियों के निर्माण में काफी अहम होता है. यह शक्तिशाली एंटी-ऑक्‍सीडेंट शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है, जिससे आपको व्‍यायाम से जल्‍द रिकवर होने में मदद मिलती है.

पनीर-
कुछ लोगों की नजर में यह खाने के बाद मुंह का जायका बदलने की चीज भर हो सकती है. लेकिन मांसपेशियों के निर्माण में यह बहुत उपयोगी होता है. कॉटेज चीज के एक कप में 28 ग्राम प्रोटीन होता है. इसे खाने के बाद काफी देर तक भूख भी नहीं लगती.

ब्रोकली-
कसरत के बाद के अपने आहार में ब्रोकली, पालक, टमाटर, मक्‍का और प्‍याज जैसे फाइबरयुक्‍त पदार्थों को शामिल करें. दिन में कम से कम पांच से सात बार फलों और सब्जियों का सेवन करें. विटामिन, मिनरल और फाइबर का इससे बेहतर अन्‍य कोई भोजन नहीं हो सकता. अपनी सब्जियों को अधिक न पकाएं इससे उनमें मौजूद पौष्टिक पदार्थ समाप्‍त हो जाते हैं.

चॉकलेट मिल्‍क-
इंटरनेशनल जर्नल ऑफ स्‍पोटर्स एंड एक्‍सरसाइज मेटाबॉलिज्‍म, में प्रकाशित एक स्‍टडी के अनुसार, चॉकलेट मिल्‍क स्‍पोटर्स ड्रिंक्‍स जैसा ही फायदेमंद होता है. इससे व्‍यायाम का पूरा लाभ भी मिलता है साथ ही साथ शरीर खोई हुयी ऊर्जा भी जल्‍द ही हासिल कर लेता है.

साबुत अनाज-
अगर जिम के दौरान उचित मात्रा में कार्बोहाइड्रेट न मिले तो मांसपेशियां कमज़ोर होने लगती है. इसलिए शरीर को भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट्स देने के लिए साबुत अनाज खाना चाहिए. साबुत अनाज जैसे – चावल, गेहूं, बाजरा, दलिया आदि हैं. यदि आपके पास ज्यादा एनर्जी होगी तो आप ज्यादा देर तक व्‍यायाम कर सकते हैं.

फल-
ताजे फल जिम के दौरान शरीर का ऊर्जा प्रदान करने के लिए बहुत ही आवश्यक हैं. संतरा और सेब मांसपेशियों के निर्माण के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण फल हैं. संतरे में विटामिन बी और सेब में पेक्टिन पाया जाता है जो मांसपेशियों को मजबूत बनाते हैं.

सूखे मेवे-
सूखे मेवे में प्रोटीन ओर विटामिन की ज्यादा मात्रा होती है. हालांकि इनमें फैट भी अच्छी मात्रा में होता है लेकिन यह स्वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक नहीं होता है और इससे मोटापा नहीं बढता है. जिम करने वाले को हर रोज लगभग, 15-20 बादाम, काजू और अखरोट आदि का सेवन करना चाहिए.

दुबले-पतले शरीर वाले लोगों के लिए-
हाइप्रोटिन फूड रेग्युलर डाइट में शामिल करें. हाई कैलोरी का खाना खाएं. उन खाद्य पदार्थों का सेवन ज्यादा करें जिनमें कैलोरी की मात्रा अधिक हो. सुबह हेवी नाश्ता करें. च्यवनप्राश वजन बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक औषधी है. शतावरी कल्पा लेने से न सिर्फ आंखें और मसल्स अच्छी रहती है बल्कि इससे वजन भी बढ़ता है. वसंतकुसुमकर रस वजन को जल्दी बढ़ाने में भी लाभकारी है. अश्वगंधा वलेहा को पानी और दूध से लेने से जल्दी असर करता है. 50 ग्राम किशमिश को साफ पानी में भिगो दें. सुबह-सुबह उठकर तीन महीनों तक इसका सेवन लगातार करें. ऐसा करने से आपका वजन जल्दी ही बढऩे लगेगा. इसके साथ ही नाश्ते के समय बादाम का दूध या मक्खन, घी इत्यादि भी लेते रहने से आप स्वस्थ रहेंगे और अपना वजन भी बढ़ा पाएंगे.

रिलेशनशिप टिप्स- ताकि रिश्तों के बीच कभी दूरियां ना आएं - Relationship Tips- Taki Rishton Ke Bich Kabhi Dooriyan Na Aayen!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
रिलेशनशिप टिप्स- ताकि रिश्तों के बीच कभी दूरियां ना आएं - Relationship Tips- Taki Rishton Ke Bich Kabhi Dooriyan Na A...

हेल्दी रिलेशनशिप आजकल एक मिथ्य बनाता जा रहा है. इसका मूल कारण तो तेजी से बदलती हुई जीवनशैली है. लोगों के अतिरिक्त काम इतने ज्यादा हो गए हैं कि उनके पास रिश्तों के लिए समय ही नहीं मिल पाता. ऐसे में ही रिश्ते गड़बड़ होने लगते हैं. कई बार तो केवल बातचीत किए हुए ही बरसों हो जाते हैं. अगर आप भी अपने रिश्ते में नई जान डालना चाहते हैं, अपने साथी के साथ अपने प्यार को और मजबूत करना चाहते हैं, तो इसके लिए किसी को तो पहले एफर्ट करनी ही होगी. बिना मेहनत के कोई भी चीज सुंदर नहीं बनती, भले ही वह कोई रिश्ता ही क्यों न हो. इस लेख के माध्यम से हम रिश्तों की अहमियत और हेल्दी रिलेशनशिप के टिप्स के बारे में जानेंगे ताकि इस विषय में हमारी समझ बढ़े.

1. रिश्तों के लिए समय निकालें

कम से कम एक घंटा दिन और घंटा रात में ऐसा निकालें, जब आप दोनों एक दूसरे से बातें कर सकें. रिश्ते में सुविधा का ध्यान रखना भी जरूरी है. परिवार में बच्चें हैं, तो साथी को उनकी देखभाल के लिए कहें, फिर भले ही वे इसके लिए बेहतर विकल्प हों या नहीं.

2. बातचीत को करें नया और रोमांचक
जब वह आपकी बातें ध्यान से सुन रहे हों, तो उन्हें इसके लिए धन्यवाद कहें, ताकि भविष्य में भी वह इसके लिए प्रोत्साहित हों. रिश्ते में ताजगी के लिए कुछ नया और रोमांचक करने की आदत डालें, जो रिश्ते को मज़बूती और सा‍थी के चेहरे पर प्यारी से हंसी दे.

3. बातचीत के जरिए दूर करें मनमुटाव
अगर साथी की किसी बात से नाराज हैं, तो उन्हें खुल कर बताएं. क्योंकि मन में दबे मन मुटाव रिश्तों में जहर का काम करते हैं. प्रेमी जोड़ों में विवाद का सबसे बड़ा कारण पैसा होता है, इसलिए आर्थिक मुद्दों पर मिलकर चर्चा करें व बजट बनाएं.

4. एकदूजे की सुविधाओं का रखें ध्यान
अपने नियमित कार्यों की एक सूची बनाएं और इस पर अपने साथी से चर्चा करें. और सहमति से कामों को पूरे परिवार में विभाजित कर दें. एक-दूसरे की जरूरतों और सुविधाओं का ख्याल रखें. जीवन साथी पर निर्भरता को नियंत्रित रखें. उन्हें बताएं कि वे आपके जीवन में कितने जरूरी हैं, लेकिन आवश्यक दूरी का भी ध्यान रखें.

5. यदि बहस करें तो भी तोल-मोल कर बोलें
बोरियत गुस्से की निशानी होती है, बोरियत महसूस हो रही हो, तो खुद से पूछें कि आखिर कौन सी बात है, जिससे आपको गुस्सा आया है. बेहतर तरीके से बात और बहस करना सीखें. बहस के दौरान कभी भी कुछ ऐसा न बोलें, जो आप खुद सुनना पसंद नहीं करते. काम और जरूरतों में मोल-तोल करना सीखें. जहां दोनों के मत अलग हों, वहां साथ बैठकर बातचीत से कोई बीच का रास्ता निकालें.

6. मीठी सी मुस्कान के साथ करें दिन की शुरुवात
एक-दूसरे को विश्वांस में लेना और अपनी रुचियों को साझा करना सीखें. कभी भी एक-दूसरे के सम्मान को आहत न करें. दिन की शुरुआत एक मीठी मुस्कान के साथ करें. सुबह उठते ही एक-दूसरे को देखकर मुस्काएं और प्यार के साथ दिन की शुरुआत करें.

7. लगातार बातचीत करते रहें और इसे मनोरंजक बनाते रहें
जिंदगी में साथ मुस्कराने को अपनी आदत बनाएं. जीवन साथी के साथ चुटकुले या जिंदगी के मजाकिया किस्से बांटते रहें. इस तरह से लगातार बातचीत करते रहें और इसे मनोरंजक बनाना भी हेल्दी रिलेशनशिप का एक टिप्स है.

8. समय-समय पर एकदूजे का हाथ थामें और गले लगाएं
सोने से पहले लव नोट लिख कर एक-दूसरे के सिरहाने तले छिपा दें. बाद में उन्हें निकालकर एक साथ पढ़ें. जब भी आपको मौका मिले, एक-दूसरे को गले जरूर लगाएं. बिस्तर पर टीवी देखते समय भी एक-दूसरे को गले लगाएं. हाथ न थामना अच्छा संकेत नहीं है, इसे अपनी आदत में शुमार न करें. कोशिश करें कि दिन में एक बार एक-दूसरे का हाथ जरूर थामें.

9. एकदूसरे में डूब जाएं
एक-दूसरे के लिए समय जरूर निकालें. इस खास समय में अपने मन की बातें कहें और साथी की बातें भी सुनें. एक साथ शोपिंग, पिकनिक या सैर पर जाएं. इस दौरान एक-दूसरे के साथ को पूरी तरह से महसूस करें. कभी-कभी समय निकाल कर एक-दूसरे के साथ कॉफी या डिनर पर बाहर जाएं, और प्यार को बढ़ने का मौका दें.

कमजोरी दूर करने के घरेलू नुस्खे - Kamzori Door Karne Ke Gharelu Nuskhe!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
कमजोरी दूर करने के घरेलू नुस्खे - Kamzori Door Karne Ke Gharelu Nuskhe!

कमजोरी का अनुभव करना एक सामान्य समस्या हैं. कमजोरी को शारीरिक या मांसपेशियों में कमी और रोजाना के कार्यो को करने में अतिरिक परिश्रम की आवश्यकता को ही कमजोरी के रूप में दर्शाया जाता है. कमजोरी दूर करने के लिए कुछ लोग तो बाजार से तमाम स्वास्थ्यवर्धक औषधियों को इस्तेमाल करते हैं. इन औषधियों के कई दुष्प्रभाव भी देखने को मिलते हैं. हलांकि इसके लिए आपको अपनी रोजाना की दिनचर्या बदलने से लेकर कई अन्य तरीकों को भी अपनाना चाहिए. कमजोरी के अन्य लक्षणों में बहुत ज्यादा पसीना आना, भूख की कमी, फोकस करने में कठिनाई और पर्याप्त नींद नहीं लेना शामिल हैं. आप आवश्यक पोषक तत्वों की कमी के कारण भी कमजोर महसूस कर सकते हैं जैसे कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, अत्यधिक शराब पीना, भोजन छोड़ना, भावनात्मक तनाव और अत्यधिक शारीरिक श्रम आदि. कई सरल घरेलू उपाय को अपना कर भी ऊर्जा को बढ़ावा दे सकते हैं और आपकी शक्ति को बहाल कर सकते हैं. इस लेख के माध्यम से आप हेल्थ बनाने के तरीकों के बारे में जानेंगे.

1. अंडे-

कमजोरी से लड़ने के लिए सबसे बेहतर और सरल उपायों में से एक संतुलित आहार का सेवन करना हैं. अंडे के सेवन करना भी एक संतुलित आहार में शामिल है. अंडे में प्रोटीन, आयरन, विटामिन ए, फोलिक एसिड, राइबोफ्लेविन और पैंटोफेनीक एसिड जैसे भरपूर पोषक तत्व हैं. अंडे को किसी भी समय कमजोरी को दूर भगाने के लिए खा सकते है. आप एक हार्ड बॉईल एग, पनीर या हरी सब्जियों के साथ एक आमलेट या एग सैंडविच खा सकते हैं.

2. दूध-
दूध को विटामिन बी का सबसे समृद्ध स्रोत माना जाता है जो कमजोरी को दूर भगाने के लिए जाना जाता है. इसके अलावा इसमें कैल्शियम भी प्रचुर मात्रा में पायी जाती है जो आपकी हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत करता है.

3. एक्यूप्रेशर-
यह एक स्पर्श थेरेपी है जिसमें बॉडी को पुनर्जीवित करने के लिए बॉडी के कुछ विशिष्ट बिंदुओं पर प्रेशर का उपयोग किया जाता है. भौंह के बीच, कंधे की मांसपेशियों में लोअर नैक की साइड में 1-2 इंच, घुटने के नीचे, छाती के बाहरी भाग पर, नाभि के नीचे तीन उंगली की चौड़ाई के बिंदुओं पर प्रेशर डालने से सामान्य कमजोरी से छुटकारा पा सकते हैं.

4. मुलेठी-
मुलेठी एक औषधीय जड़ी बूटी है जो कमजोरी के अलग-अलग लक्षणों से लड़ सकती है. इस जड़ी बूटी ने प्राकृतिक रूप से शरीर द्वारा निर्मित एड्रि‍नल हार्मोन को प्रेरित करता है जिससे आपकी एनर्जी और मेटाबोलिज्म को बढ़ावा मिलता है.

5. केला-
केले फ्रुक्टोज, ग्लूकोज और सुक्रोज़ जैसे नैचुरल शुगर का एक बड़ा स्रोत है जो आपको शीघ्र और पर्याप्त ऊर्जा को बढ़ावा देते हैं. इसके अलावा केले में पोटेशियम पायी जाती है, जो एक मिनरल है जिसे आपके बॉडी को शुगर से एनर्जी में बदलने की जरूरत है. केले में मौजूद फाइबर आपके ब्लड में ग्लूकोज लेवल को बनाए रखने में भी सहायता करता है.

6. एक्सरसाइज-
रोजाना एक्सरसाइज और सरल शारीरिक एक्टिविटी से आपकी स्टैमिना बढती हैं और आपकी मसल्स की ताकत बढ़ाती है. सुबह का समय एक्सरसाइज के लिए सबसे अच्छा होता है. दैनिक रूप से 15 मिनट के लिए वार्म अप और स्ट्रेचिंग आपको फ्रेश और एनेर्जेटीक रखेंगी. योग और ध्यान भी आपके एनर्जी के लेवल को हाई रखने के लिए एक बेहतर तरीका है.

7. स्ट्रॉबेरी-
स्ट्रॉबेरी आपको पूरे दिन उर्जा की कमी का अनुभव नहीं होने देता हैं. यह विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध हैं जो बॉडी के टिश्यू को रिपेयर करने में में मदद करते हैं, इम्यून को बढ़ावा देते हैं और फ्री एलेमेंट्स की क्षति से रक्षा करते हैं. इसके अलावा, आपको स्ट्रॉबेरी से मैंगनीज, फाइबर और पानी की एक स्वस्थ खुराक मिलती है.

8. आम-
आम एक मीठा और रसीला फल है जिसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन, मिनरल और एंटीऑक्सिडेंट होते हैं. आम आहार फाइबर, पोटेशियम, मैग्नीशियम और कॉपर का भी एक समृद्ध स्रोत हैं. इसके अलावा, आम में मौजूद आयरन बॉडी में रेड ब्लड सेल्स की संख्या को बढ़ाकर कमजोरी दूर करने में मदद करता है. इसके अलावा, आम में स्टार्च होता है जो कि शुगर में परिवर्तित होता है जो आपको शीघ्र ऊर्जा प्रदान करता है.

9. बादाम-
बादाम विटामिन ई से समृद्ध हैं जो आपको ऊर्जावान महसूस करा सकते हैं और सामान्य कमजोरी के लक्षणों से लड़ने में मदद करता हैं. इसके अलावा बादाम में मैग्नीशियम की हाई डोज़ प्रोटीन, फैट और कार्बोहाइड्रेट को ऊर्जा स्रोतों में बदलने में एक अच्छी भूमिका निभाती है. मैग्नीशियम की कमी कुछ लोगों में कमजोरी का कारण हो सकती है.

10. आंवला-
आंवला एक पौष्टिक फल है जो आपके एनर्जी लेवल को सुधार सकता है. यह विटामिन सी, कैल्शियम, प्रोटीन, आयरन, कार्बोहाइड्रेट और फास्फोरस का एक समृद्ध स्रोत है. हरदिन केवल एक आंवला खाने से भी आप अपनी कमजोर इम्यून सिस्टम को मजबूत कर सकते हैं.

11. कॉफी-
कॉफी में मौजूद कैफीन माइंड को एक्टिव करता है और आप में तत्काल ऊर्जा को बढ़ावा देता है. कॉफी को सिमित मात्रा में पीने से कोई नुकसान नहीं होता है. ऊर्जावान महसूस कराने के अलावा, यह आपके मेटाबोलिक रेट में भी सुधार कर सकती है, फोकस में सुधार कर सकती है और दर्द कम कर सकती है. प्रति दिन दो कप कॉफी से ज्यादा पीना न पिएं. इसके अधिक सेवन से चिंता और अनिद्रा जैसी जोखिम बढ़ सकते हैं.

View All Feed