Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Rasika Bharaswadkar

MBBS, DCH, DNB - Pediatrics

Pediatrician, Pune

17 Years Experience  ·  300 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Rasika Bharaswadkar MBBS, DCH, DNB - Pediatrics Pediatrician, Pune
17 Years Experience  ·  300 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

I'm a caring, skilled professional, dedicated to simplifying what is often a very complicated and confusing area of health care....more
I'm a caring, skilled professional, dedicated to simplifying what is often a very complicated and confusing area of health care.
More about Dr. Rasika Bharaswadkar
Dr. Rasika Bharaswadkar is a trusted Pediatrician in Pimple Saudagar, Pune. Doctor has been a successful Pediatrician for the last 17 years. Doctor has done MBBS, DCH, DNB - Pediatrics . You can meet Dr. Rasika Bharaswadkar personally at Maxcare Hospital in Pimple Saudagar, Pune. Book an appointment online with Dr. Rasika Bharaswadkar and consult privately on Lybrate.com.

Find numerous Pediatricians in India from the comfort of your home on Lybrate.com. You will find Pediatricians with more than 41 years of experience on Lybrate.com. Find the best Pediatricians online in Pune. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Education
MBBS - D Y Patil College - 2001
DCH - National Board of Examinations, New Delhi - 2012
DNB - Pediatrics - National Board Of Examination - 2012

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Rasika Bharaswadkar

Maxcare Hospital

Seeta Plaza, BRT Road Landmark : Opposite Swaraj GardenPune Get Directions
300 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Rasika Bharaswadkar

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Mera beta 4 days ka hai or uska jaundice level to 13. 1h to lectogen dena safe hai or agr de skte h to kya feeder se de skte hai ya katori sapoon se dena chahiye, main use apni feed b deti hu bt vo sufficent ni hoti uske liye 1 day me main bs 2 or 3 times e lectogen deti hu. please help me.

M. sc Psychology, BHMS
Homeopath, Hyderabad
Mera beta 4 days ka hai or uska jaundice level to 13. 1h to lectogen dena safe hai or agr de skte h to kya feeder se ...
it was called as neonatal jaundice&It will b normal within few days,No need to give lactogen unless ur milk is not sufficient. if ur doctor says n u already started,then also no problem.But if u have enough flow,Ur feeding is best.

My son s 4 months old he coughs 5 to 6 times a day .he coughs through his throat and while crying first he will cough and later he will cry I am very much tensed .doctor told me will wait for 2 more months. But he s active.

BHMS
Homeopath, Chennai
My son s 4 months old he coughs 5 to 6 times a day .he coughs through his throat and while crying first he will cough...
Homeopathy has an excellent repository of medicines for treating cough . There are homeopathic medicines for treating nearly every kind of cough. Coughs can be broadly divided into  asthmatic cough, spasmodic cough, dry cough, croupy cough and Nocturnal Cough( cough that occurs at night). Homeopathic remedies that top the table in treating cough are Drosera , Coccus Cacti ,Cina , Antimony Tart , Pertussin , Spongia Tosta ,Belladonna , Phosphorus ,Cuprum met , Sambuccus and Corralium Rubrum.

नवजात शिशु की देखभाल - Nawjaat Shishu Ki Dekhbhal!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
नवजात शिशु की देखभाल - Nawjaat Shishu Ki Dekhbhal!

नवजात शिशु जितने ज्यादा छोटे होते हैं, उनकी देखभाल भी बहुत नाजुकता से करनी पड़ती है. माँ और शिशु का रिश्तों सभी रिश्तों से अनमोल होता है. इस रिश्तों को माँ से बेहतर कोई नहीं जन सकता है. बच्चे के जन्म के बाद ही बहुत सावधानी से देखभाल करना चाहिए. ऐसे में शिशु का सम्पूर्ण स्वास्‍‍थ्य उसके जन्म से 28 दिन के बीच निर्धारित होता है. जन्म के बाद शिशु को माँ का दूध प्रयाप्त मात्रा में कैसे मिले, उसके कपडे बदलना, उसका रोना इत्यादि सभी बातों को बारीकी से ध्यान रखना पड़ता है. यदि आपका बच्चे में ऐसी कोई भी बदलाव दिखता है, तो उसे नजरअंदाज ना करें. इसके अलावा नवजात का शरीर बहुत ही संवेदनशील होता है, इसलिए शिशु के कमरे का तापमान का भी ख्याल रखना चाहिए, क्योंकि यह बच्‍चे के लिए नुकसानदेह हो सकता है. स्वस्थ बच्चों में भी कुछ बातों का खास ख्याल रखने की आवश्यकता होती है. आइए इस लेख के माध्यम से जानें कि नवजात शिशु की देखभाल कैसे करें.

मां का दूध पिलाना चाहिए.-
बच्चों को धुप में ले जाकर बैठने की प्रकिया को फोटोथेरेपी कहते हैं. नवजात बच्चे को कुछ समय के लिए कपड़े में रख कर धूप भी दिखाएं. इससे बच्‍चे की हड्डियां स्वस्थ होती हैं.
नवजात शिशु को 6 महीने तक केवल मां का दूध ही देना चाहिए. इसके 6 महीने के बाद शिशु को कुछ हल्के आहार भी दे सकते हैं. इस बात का ख्याल रखें की आहार में कुछ ऐसा ना हो जिससे पाचन में समस्या हो.

पहली बार माँ-बाप बनने पर इन बातों का रखें ध्यान-
चूंकि शिशुओं में कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली होती है और संक्रमण के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं. इसलिए यह सबसे महत्वपूर्ण है कि आपके बच्चे को संभालने वाला कोई भी व्यक्ति स्वच्छता का ख्याल अवश्य रखता हो. आपको अपने बच्चे के सिर और गर्दन को हमेशा समर्थन और क्रैडलिंग के बारे में भी सावधान रहना होगा, क्योंकि जन्म के दौरान गर्दन में मांसपेशियों कमजोर होती है और बच्चे केवल छह महीने के बाद ही सिर नियंत्रण करना विकसित करते हैं. अपने नवजात शिशु को प्यार करने या गुस्से में आकार ज्यादा हिलाने की कोशिश न करें. इससे बच्चे के सिर से ब्लीडिंग हो सकती है, जो गंभीर मामलों में मौत का कारण भी बन सकती है. नवजात शिशु को उठाने के लिए बच्चे के पैर में गुदगुदी करें.
उगलना और उल्टी में अंतर नए मां-बाप अक्सर उगलना और उल्टी में अंतर नहीं कर पाते और घबरा जाते हैं. दरअसल जो चीज शिशु को पसंद नहीं आती है वो उसे उगल देता है या थूक देता है. मगर उल्टी अलग चीज है. उगलना और उल्टी करने में अंतर है. शिशुओं में उल्टी आमतौर पर कुछ खिलाने के 15 से 45 मिनट के बाद ही होती है जबकि उगलने की क्रिया खिलाने के साथ ही हो सकती है. इसलिए इस अंतर को समझें. किसी रोग की स्थिति में शिशु कुछ खिलाने के साथ ही उल्टी कर सकता है. मगर उसकी बदबू में थोड़ा अंतर होता है इसलिए इसे पहचाना जा सकता है.

डायपरिंग:
सबसे पहले आपको यह तय करना होगा कि क्या आप अपने शिशु के लिए डिस्पोजेबल या कपड़ा वाले डायपर चाहते हैं. शिशु कम से कम प्रतिदिन दस डायपर से गुजरते हैं (भले ही वे कपड़े या डिस्पोजेबल हों). डायपरिंग करते समय, आपको ध्यान रखना चाहिए कि बदलने वाले टेबल पर अपने बच्चे को न छोड़ें. अपने शिशु के डायपर बदलने से पहले साफ डायपर, डायपर ऑइंटमेंट (रैश के मामले में), फास्टनर, डायपर वाइप्स और गर्म पानी जैसी सभी आवश्यक चीजें रख लें.

नहाना:
नवजात शिशुओं को गर्म पानी के साथ एक स्पंज स्नान करवाना चाहिए और जब तक नाभि पूरी तरह से ठीक नहीं होता है तब तक हल्के साबुन लगाना चाहिए. इसमें लगभग एक से चार सप्ताह लग सकते हैं. नवजात शिशु को ठीक होने के बाद बच्चे को दो या तीन बार नहाना चाहिए, क्योंकि बार-बार स्नान करने से बच्चे की त्वचा को नुकसान हो सकता है.

स्तनपान और डकार:
डॉक्टर्स बच्चे को बोलने पर खिलाने की सलाह देते हैं यानी जब भी आपका बच्चा भूखा हो. रोना, मुंह में उंगलियां डालना या चूसने वाली शोर बनाने से पता चलता है कि बच्चे को भूख लगी है. नवजात शिशु को हर दो घंटे में खिलाना चाहिए.
डकार महत्वपूर्ण है ताकि भोजन के दौरान सेवन हवा को बाहर निकाला जा सके, क्योंकि यह बच्चे को उबाऊ बनाता है. नवजात शिशु की पीठ को पट्टी पर रगड़ने से आमतौर पर उन्हें गैस पास करने में मदद मिलती है.

Hi, My 10 year old daughter had one strand of grey hair since two years and is now rapidly developing more over the past few months. All blood tests like b12, iron, calcium, Ferratinin, thyroid show no deficiency. She recovered recently from chikungunya. The blood tests show some inflammation due to the recent viral attack. Please suggest remedy to stop grey hair increasing.

B.H.M.S., Post Graduate Certificate In Nutrition, Obesity & Health
Homeopath, Indore
Greying of hair when treated with homeopathy shows very good results in children. I suggest you start it at the earliest as it will help build her immunity and control the greying also. Please consult privately for treatment if you wish to start treatment online, or visit a local homoepath, but please START AT THE EARLIEST.

My baby is doing green mucous poop since she had her 10 week vaccination. Is it normal?

MRCPCH (London), DNB Paediatrics
Pediatrician, Mumbai
My baby is doing green mucous poop since she had her 10 week vaccination. Is it normal?
The Vaccination does not have any kind of relation with colour of stool. If the frequency of stools has increased then colour can become greenish. You can do Stool routine and microscopy test. If it shows any kind of abnormality then you need to meet your Paediatrician.

my son age 16 yr last few days stumuck pain ultrasound is ok i am worried please tell me the reason for pain

M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Bangalore
If you give me details about digestion and any constipation pl. mail or call bangalore@ svaasa.com or 09980993353

My daughter 5 years suffering from stomach ache vomiting and loose motions. No fever. Please suggest me medicine thanking you.

BHMS
Homeopath, Noida
Take home cooked, fresh light food. Drink boiled water. Take ORS. Maintain active life style Curd is good for u. Avoid fast foods, spicy n fried foods For details you can consult me.

How much exercise should my child do? Can I give my child painkillers? How much salt do babies and children need?

MBBS, MD
Pediatrician, Gurgaon
Every child do it. By self and upto five yrs, their after school activity compensate for. So don't worry about it.
View All Feed

Near By Doctors

91%
(68 ratings)

Dr. Kalpesh Patil

M. Ch (Pediatric Surgery), MNAMS (Membership of The National Academy) (General Surgery), DNB (General Surgery), MBBS
Pediatrician
DR. KP's Cherubs Child Clinic, 
300 at clinic
Book Appointment