Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment
Inamdar Multispeciality Hospital, Pune

Inamdar Multispeciality Hospital

Multi-speciality Hospital (Physiotherapist, Dentist & more)

#15, Landmark : Behind KPCT Mall, Pune Pune
97 Doctors · ₹200 - 600
Book Appointment
Call Clinic
Inamdar Multispeciality Hospital Multi-speciality Hospital (Physiotherapist, Dentist & more) #15, Landmark : Behind KPCT Mall, Pune Pune
97 Doctors · ₹200 - 600
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

By combining excellent care with a state-of-the-art facility we strive to provide you with quality health care. We thank you for your interest in our services and the trust you have place......more
By combining excellent care with a state-of-the-art facility we strive to provide you with quality health care. We thank you for your interest in our services and the trust you have placed in us.
More about Inamdar Multispeciality Hospital
Inamdar Multispeciality Hospital is known for housing experienced Pediatricians. Dr. Kshama Kulkarni, a well-reputed Pediatrician, practices in Pune. Visit this medical health centre for Pediatricians recommended by 96 patients.

Timings

MON-SAT
09:00 AM - 08:00 PM
SUN
01:00 PM - 05:00 PM

Location

#15, Landmark : Behind KPCT Mall, Pune
Fatima Nagar Pune, Maharashtra
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctors in Inamdar Multispeciality Hospital

Dr. Kshama Kulkarni

MBBS, MS - General Surgery, DNB ( General Surgery )
Pediatrician
15 Years experience
500 at clinic
Available today
04:00 PM - 04:55 PM

Dr. Manohar Sakhare

MBBS, MD - Internal Medicine, DM - Cardiology
Cardiologist
20 Years experience
500 at clinic
Available today
10:00 AM - 07:00 PM

Dr. Uday Bapusaheb Pote

MBBS, DNB - Orthopedics, Fellow in Spine Surgery
Orthopedist
10 Years experience
500 at clinic
Available today
02:00 PM - 04:00 PM

Dr. Sachin Sharad Vaze

MBBS, DNB ( General Surgery ), DNB - Gastroenterology
Gastroenterologist
22 Years experience

Dr. Kshama.Kulkarni- Wakankar

M.Ch - Paediatric Surgery, Membership of the Royal College of Surgeons (MRCS), DNB (General Surgery), MS - General Surgery, MBBS
Pediatrician
17 Years experience
200 at clinic
Available today
04:30 PM - 05:30 PM

Dr. Rajendra K Shimpi

MBBS, MS - General Surgery
Urologist
35 Years experience
500 at clinic
Unavailable today
18 Years experience
500 at clinic
Unavailable today
38 Years experience
500 at clinic
Available today
06:00 PM - 08:00 PM

Dr. Seemab Shaikh

MBBS, Diploma in Otorhinolaryngology (DLO)
ENT Specialist
28 Years experience
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today
300 at clinic
Available today
10:00 AM - 07:00 PM
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Available today
03:00 PM - 05:00 PM
500 at clinic
Unavailable today
500 at clinic
Available today
04:00 PM - 06:00 PM
View All
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Inamdar Multispeciality Hospital

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Ayurvedic Treatment Of Sinusitis

MD - Kayachikitsa, Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Faridabad
Play video

Sinusitis is the swelling or inflammation of the tissues that layer the sinuses. Typically, sinuses are filled with air. However, when mucus fills up and blocks the sinuses, it can cause viruses, bacteria, and fungi to grow and cause infection. Ayurveda plays a vital role in treating the same.

Diminished Penis Sensation - Tips On What To Do

MD - General Medicine
Sexologist, Delhi
Diminished Penis Sensation - Tips On What To Do

Diminished Penis Sensation: Tips on What to Do

For a sexually active man, the degree of penis sensation has a clear and direct impact on the amount of pleasure he derives from any form of sex. When the degree of penis sensation is high, the sensitivity in his manhood creates sublime and ecstatic feelings that can lead to very satisfying releases. But when the degree is diminished, the pleasure factor is negatively impacted. The experience is still enjoyable, but a man feels like something is missing. In such a situation, tips for proper penis care can help to improve penis sensitivity and make sexual contact - whether with a partner or with himself - more engaging and satisfying.

Why diminished penis sensation?

A man might very reasonably ask, "Why am I experiencing this decrease in penis sensation?" Some men may panic and think this is a sign of aging (even if they are quite young) and that therefore there's nothing they can do to alter it. In fact, this is not the case.

Diminished sensitivity in the member is common and there are a number of reasons for it. For example, often a man may use a cleanser on his equipment that is too harsh for the task. This may cause some wear on the penis skin, undetected by the man in question. The body responds by adding a new, thin layer of skin cells on top of the damaged skin. When too many layers are added, there's more of a barrier between a source of sensation and the penile nerve endings.

Mental forces also play a role in diminished sensation. If a man is anxious or worried, whether about sexual performance issues or about other things occurring in his life, his mind is "not in the game" when he's in the sack. This can create a mental barrier that impacts the ability to perceive sensation as fully as one might.

Handling issues

But probably the most common reason for diminished sensitivity is rough handling, either by a partner or by oneself. Having sex without sufficient lubrication, experiencing too tight a grip on the member or rubbing against surfaces that are not sufficiently welcoming can create the same kind of damage as using a harsh cleanser. And as with the cleanser situation, layers of tissue can build up that get in the way of maximum pleasure.

Tips

So what can one do to help restore lost sensation? Here are a few tips:

- Switch cleansers. Use a mild soap that doesn't irritate the penis skin.

- Avoid commando. Wearing soft cotton underwear keeps the penis from rubbing against rough denim, wool or other trouser fabrics. Going without underwear can definitely rub the penis the wrong way.

- Lay on the lube. Whether masturbating or partnering, make sure that the penis is well-lubricated throughout the sex act. Apply more lubricant if the session is lengthy and the original application wears off.

- Maintain penile health. One of the most important tips to prevent and treat diminished penis sensation is to regularly use a top-drawer penis health creme (health professionals recommend Man1 Man Oil). In terms of prevention, a crème that focuses on keeping penis skin healthy is crucial. Select one that includes protective ingredients such as Shea butter and vitamin E (two powerful moisturizing agents) and a potent antioxidant (such as alpha lipoic acid) which helps offset harmful oxidative damage. For treatment purposes, that crème should also include acetyl L-carnitine, an invaluable ingredient that serves a neuroprotective purpose. Acetyl L-carnitine has been proven to help avoid peripheral nerve injury resulting from rough handling, thereby helping to restore lost sensitivity. Those who are concerned about loss of penis sensation are well-advised to make the daily application of Man1 Man Oil a part of their health regimen.

 

चरम रोग घरेलू उपचार - Charam Rog Ke Liye Ghareloo Upachaar!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
चरम रोग घरेलू उपचार - Charam Rog  Ke Liye Ghareloo Upachaar!

ऐसे विकार या संक्रमण जो मानव त्वचा को प्रभावित करते हैं, उन्हें चर्म रोग कहा जाता है. पोषण में कमी और त्वचा का ठीक से खयाल न रखने के कारण कई तरह की त्वचा संबंधी परेशानियां हो जाती हैं. दरअसल अस्वस्थ खानपान और अनियमित जीवनशैली के कारण हमारा पाचन और रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित होती है इस वजह से कई तरह के इंफेक्शन और चर्मरोग शरीर में हो सकते हैं. इन चर्मरोगों के पीछे बैक्टीरयल या फंगल इंफेक्शन होते हैं, जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता के कम होने के कारण शरीर को प्रभावति करते हैं. गर्मी के मौसम में इस तरह की समस्याएं अधिक होती हैं. ऐसे में त्वचा का बचाव करना बहुत जरूरी होता है. आइए हम आपको चर्म रोग से बचने के कुछ घरेलू उपाय के बारे में बताते हैं.

क्या है इसका कारण?

इनके कई कारण होते हैं. हालांकि त्वचा को प्रभावित करने वाले अधिकांश रोग त्वचा की परतों में शुरू होते हैं, यह विभिन्न प्रकार के आंतरिक रोगों के निदान में भी मदद करते हैं. यह माना जाता है कि त्वचा से एक व्यक्ति के आंतरिक स्वास्थ्य का पता चलता है. चर्म रोग के लक्षणों और गंभीरता में काफी भिन्नताएं हैं. यह अस्थायी या स्थायी होने के साथ ही दर्द रहित या दर्दयुक्त दोनों ही तरह के हो सकते हैं. कुछ मामलों में यह स्थितिजन्य हो सकते हैं, जबकि अन्य में यह आनुवांशिक भी होते हैं. कुछ त्वचा विकारों की स्थिति बेहद ही सुक्ष्म होती है, और कुछ जीवन के लिए खतरनाक हो सकते हैं. अधिकांश चर्म रोग सुक्ष्म होते हैं, जबकि अन्य एक अधिक गंभीर समस्या की ओर संकेत करते है. आइए चर्म रोग के कारण, लक्षण और उपचार के बारे में जानें.

अलसी के बीज

अलसी के बीजों में ओमेगा थ्री फैटी एसिड होता है जो हमारे इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत बनाने में मदद करता है. इसमें सूजन को कम करने वाले तत्‍व मौजूद होते हैं. यह स्किन डिस्‍ऑर्डर, जैसे एक्जिमा और सोरायसिस को भी ठीक करने में मदद गरता है. दिन में एक-दो चम्‍मच अलसी के बीजों के तेल का सेवन करना त्‍वचा के लिए काफी फायदेमंद होता है. बेहतर रहेगा कि इसका सेवन किसी अन्‍य आहार के साथ ही किया जाए.

गेंदे के फूल

गेंदा गहरे पीले और नारंगी रंग का फूल होता है. यह त्‍वचा की समस्‍याओं का प्रभावशाली घरेलू उपाय है. यह छोटे-मोटे कट, जलने, मच्‍छर के काटने, रूखी त्‍वचा और एक्‍ने आदि के लिए शानदार घरेलू उपाय है. गेंदे में एंटी-बैक्‍टीरियल और एंटी-वायरल गुण होते हैं. यह सूजन को कम करने में भी मदद करता है. इसके साथ ही गेंदा जख्‍मों को जल्‍दी भरने में मदद करता है. यह हर प्रकार की त्‍वचा के लिए लाभकारी होता है. गेंदे की पत्तियों को पानी में उबालकर उससे दिन में दो-तीन बार चेहरा धोने से एक्‍ने की समस्‍या दूर होती है.

बबूने का फूल

कैमोमाइल का फूल त्‍वचा पर लगाने से जलन को शांत करता है और साथ ही अगर इसका सेवन किया जाए तो आंतरिक शांति प्रदान करता है. इसके साथ ही यह केंद्रीय तंत्रिका प्रणाली पर भी सकारात्‍मक असर डालता है. यह एक्जिमा में भी काफी मददगार होता है. इसके फूलों से बनी हर्बल टी का दिन में तीन बार सेवन आपको काफी फायदा पहुंचाता है. इसके साथ ही एक्जिमा और सोरायसिस जैसी बीमारियों से उबरने में भी यह फूल काफी मदद करता है. एक साफ कपड़े को कैमोमाइल टी में डुबोकर उसे त्‍वचा के सं‍क्रमित हिस्‍से पर लगाने से काफी लाभ मिलता है. इस प्रक्रिया को पंद्रह-पंद्रह मिनट के लिए दिन में चार से छह बार करना चाहिए. कैमोमाइल कई अंडर-आई माश्‍चराइजर में भी प्रयोग होता है. इससे डार्क सर्कल दूर होते हैं

कमफ्रे

इस फूल के पत्‍ते और जड़ें सदियों से त्‍वचा संबंधी रोगों को ठीक करने में इस्‍तेमाल की जाती रही हैं. यह कट, जलना और अन्‍य कई जख्‍मों में काफी लाभकारी होता है. इसमें मौजूद तत्‍वा तवचा द्वारा काफी तेजी से अवशोषित कर लिए जाते हैं. जिससे स्‍वस्‍थ कोशिकाओं का निर्माण होता है. इसमें त्‍वचा को आराम पहुंचाने वाले तत्‍व भी पाए जाते हैं. अगर त्‍वचा पर कहीं जख्‍म हो जाए तो कमफ्रे की जड़ों का पाउडर बनाकर उसे गर्म पानी में मिलाकर एक गाढ़ा पेस्‍ट बना लें. इसे एक साफ कपड़े पर फैला दें. अब इस कपड़े को जख्‍मों पर लगाने से चमत्‍कारी लाभ मिलता है. अगर आप इसे रात में बांधकर सो जाएं, तो सुबह तक आपको काफी आराम मिल जाता है. इसे कभी भी खाया नहीं जाना चाहिए, अन्‍यथा यह लिवर को नुकसान पहुंचा सकता है. गहरे जख्‍मों पर भी इसका इस्‍तेमाल नहीं करना चाहिए. इससे त्‍वचा की ऊपरी परत तो ठीक हो जाती है, लेकिन भीतरी कोशिकायें पूरी तरह ठीक नहीं हो पातीं.

तिल के तेल

तिल के तेल से चार गुनी मात्रा में पानी लेकर सारे सामानों को एक बर्तन में मिला लीजिए. उसके बाद मिश्रण को मंद आंच पर तब तक गर्म करते रहिए जब तक सारा पानी भाप बनकर उड़ ना जाए. इस पेस्ट को पूरे शरीर में जहां-जहां खुजली हो रही हो वहां पर या फिर पूरे शरीर में लगाइए. इसके लगाते रहने से आपके त्वचा से चर्म रोग ठीक हो जाएगा

अन्‍य उपाय
 

हल्दी, लाल चंदन, नीम की छाल, चिरायता, बहेडा, आंवला, हरेडा और अडूसे के पत्ते को एक समान मात्रा में लीजिए. इन सभी सामानों को पानी में पूरी तरह से फूलने के लिए भिगो दीजिए. जब ये सारे सामान पूरी तरह से फूल जाएं तो पीसकर ढ़ीला पेस्ट बना लीजिए. अब इस पेस्ट से चार गुना अधिक मात्रा में तिल का तेल लीजिए.
 

पैर की नसों में दर्द - Pair Kee Nason Mein Dard!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
पैर की नसों में दर्द - Pair Kee Nason Mein Dard!

हमारे पैर के नसों में अक्‍सर होने वाले अनचाहे दर्द की कई वजहें हो सकती हैं. जैसे इसके कुछ कारण तो मांसपेशियों में सिकुड़न, मांसपेशियों की थकान, ज्यादा टहलना करना, व्यायाम, तनाव, खून के थक्के जमने से बनी गांठ, घुटनों, हिप्स व पैरों में ठीक ढंग से रक्त संचरण न हो पाना आदि हैं. इसके अलावा पानी की कमी, सही भोजन न ले पाना, खाने में कैल्शियम और पोटेशियम जैसे खनिज पदार्थ और विटामिंस की कमी, अंदर गहरी चोट का लगना, किसी भी प्रकार का संक्रमण हो जाना, नाखून का पकना आदि भी इसके कारणों में शामिल हैं. कई बार तो शरीर की हड्डियों में कमजोरी होने से भी पैरों में दर्द की शिकायत हो जाती है. रासायनिक दवाइयों को ज्यादा मात्रा में लेने, चोट, त्वचा और हड्डियों से संबंधित संक्रमण, ट्यूमर, मोटापा, शुगर, आर्थराइटिस, हारमोनल प्रॉब्लम, नसों में दर्द और कोलेस्ट्रॉल के लेवल कम होने से भी पैर की नसों में दर्द की समस्या देखी जाती है. आइए इस लेख के माध्यम से पैर की नसों में होने वाले दर्द के कुछ संभावित उपचारों को जानें.

दूध के उत्पादों का भरपूर इस्तेमाल

यदि आप पैर की नसों में दर्द की समस्या से ग्रसित हैं. तो आपको दूध के उत्पादों का भरपूर मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए इसके साथ ही आप सोयाबीन सलाद आदि भी ले सकते हैं. जिससे कि आपके शरीर में विटामिन और अन्य पोषक तत्वों की आपूर्ति होती रहे इसके साथ ही आप खाने में कैल्शियम और पोटेशियम युक्त पदार्थों को ज्यादा से ज्यादा शामिल करें.

नियमित रूप से व्यायाम

पैर की नसों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए आपको नियमित रूप से व्यायाम करना काफी लाभ पहुंचा सकता है. क्योंकि व्यायाम करने से आप शारीरिक और दिमागी तौर पर फिट रहते हैं. इसके साथ ही आप की पैर की नसों का दर्द भी खत्म हो सकता है.

नीम के पत्ते का इस्तेमाल

पैर की नसों में दर्द से पीड़ित व्यक्तियों नीम के पत्तों का इस्तेमाल करके अपनी परेशानी कम कर सकता है. इसके लिए आपको नीम के पत्तों को गर्म पानी में उबालकर इसमें थोड़ी सी फिटकरी मिक्स करना होगा. इसके बाद चाहने लायक गर्म हो जाने पर इस पानी में अपने पैर को 10 से 15 मिनट तक रखें.

कुछ खास तरह के स्ट्रेचिंग

पैर की नसों में दर्द को दूर करने के लिए कुछ खास तरह के स्ट्रेचिंग का भी सहारा लिया जा सकता है. इससे आपके पैर की नसों में रक्त संचार और मांसपेशियों की संरचना में सुधार आता है. जिससे आपकी परेशानी कम होती है.

सही डाइट लेना

पैर की नसों की समस्याओं को दूर करने के लिए यह आवश्यक है कि आप अपने वजन को नियंत्रित रखें. वजन को नियंत्रित रखने के लिए आपको सही डाइट लेना होगा. यदि आप फिटनेस और सही डाइट को ठीक तरह से फॉलो करें तो इस परेशानी से बच सकते हैं.

नियमित रूप से पानी पियें

फिल्म नियमित रूप से पानी पीते रहना भी हमारे शरीर की मांसपेशियों की सिकुड़न और पैरों के दर्द को कम करता है. किसी भी तरह की दया शुरू करने से पहले आपको सही मात्रा में पानी पीना चाहिए इससे आपको आपके पूरे शरीर हाइड्रेटेड रहती हैं.

भरपूर मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन

यदि आप नियमित रूप से भरपूर मात्रा में पदार्थों जैसे कि जूस राजनीति रहे हैं. तो आप इस परेशानी से बच सकते हैं. आप हरी सब्जियां गाजर अंकुरित मूंग खट्टे फल संतरा अंगूर के लिए आदि का भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

अन्य उपाय

* पिपरमेंट ऑयल या रोजमेरी ऑयल से पैरों की मालिश करें. वैसे लैवेंडर ऑयल भी मददगार होता है.
* गर्म पानी में ऑयल की बूंद डालकर सेंक लें. पैरों को पैडीक्‍योर करें और फिर क्रीम लगाकर रिलेक्‍स करें.
* कई बार पैरों में ब्‍लड सर्कुलेशन सही ढंग से न होने की वजह से भी पैरों में दर्द होने लगता है. इसलिए पैरों की हल्‍की मसाज दें, इससे भी दर्द चला जाता है.
* फुट मसाज: पैरों के दर्द को दूर करने में फुट मसाज बहुत कारगर होती है. टेनिस बॉल या रोलिंग पिन से आप फुट मसाज कर सकते हैं. इससे काफी राहत मिलती है.
* लैवेंडर ऑयल को दो चम्‍मच लें, इसमें ऑलिव ऑयल मिक्‍स करें और पैरों पर लगाएं. सर्कुलर मोशन में मसाज करें. आराम मिलेगा.
* लौंग के तेल को तिल के तेल के साथ मिलाकर पैरों में लगाएं. इससे पैरों की खुजली दूर होगी.
 

Asthma Prevention!

MBBS, MD
General Physician, Lucknow
Asthma Prevention!

Eating peanuts, fish oils and other antigenic food during pregnancy normal vaginal delivery.

Avoidance of paracetamol during 1st year of life.Antigen exposure and avoiding strict hygiene in children.

Failed IVF Cycle-Case History!

DNB (Obstetrics and Gynecology), MBBS
IVF Specialist, Delhi

Failed IVF cycle is always a distressful situation for the couples. It not only creates mental frustration but it also affects the family and marital life. our one of the case is also going through the same when they came to us. 
36 yrs old patient with four failed cycles of IVF. And there are many complications with her when she came to India IVF Clinic to consult Dr Richika Sahay Shukla. The patient has been diagnosed with the
Bilateral hydrosalpinx with adenomyosis with endometriosis , laparoscopic bilateral tubal clipping followed by IVF was done , resulted in heterotopic pregnancy. But the most complicated thing about this pregnancy is that the patient acquired one eutopic pregnancy and the other was interstitial pregnancy. But with the team work of Dr Richika and other doctors,the interstitial pregnancy removed and patient has given birth to a baby boy.

1 person found this helpful

Silent Treatment- Stonewalling!

Ph. D - Psychology
Psychologist, Delhi
Silent Treatment- Stonewalling!

Stonewalling is a term that was developed by psychologist Dr John Gottman, who specializes in relationship research and therapy. Stonewalling means when a person “withdraws from the interaction, shutting down and closing themselves off from the speaker because they are feeling overwhelmed or physiologically flooded”.

Stonewalling is when a person withdraws from a conversation and refuses to deal with concerns. Stonewalling occurs when individuals tends to completely decline to communicate or cooperate. Stonewalling is different from rare timeout, stonewalling occurs when an individual is absolutely denies another partner’s perspective. Stone walling occurs in various situations. Both verbal and non-verbal behavior can be an indicator of stonewalling. Stonewalling is considered to be a manipulative technique and it can hamper the relationships.

Communication is considered to the essence of every relationship. When one or both partners engage in stone walling, this reflects that the couple refuses to communicate their feelings. Communication is considered to be the essence of every relationship. Thus stone walling tends to outweigh the positive effects of communication and leads to vicious cycle where couples avoid discussing about their concerns.

Stonewalling can be considered to have psychological as well as physiological effect. Stonewalling is considered to be a form of fight or flight responses. It is considered to be a controlling tactic that can lead to emotional abuse. Stonewalling is ineffective and can damage your relationship. The problem of stonewalling is seen not only between the couples but also exist in families.

Stonewalling is considered to closing stages to communication and can appear to be hurtful to the person who is at the receiving end. It can create feelings of abdondonment and detachment in the relationship.

Despite the fact whether stonewalling is intentional or not but the message it conveys can be still very hurtful as it tend to show that your partner is  not worth responding to and their thoughts and feelings also don’t matter.

While stonewalling many times occurs in the form of coping mechanism, it can have catastrophic implications when it is used over period of time.

Stonewalling or Silent treatment can be most destructive pattern of communication that destroys relationship because it can create feeling of loneliness and rejection. Stonewalling can be frustrating, unbearable and isolating for individuals who are at receiving end.

When people engage in stonewalling is to avoid dealing with the situation, to get attention, to show power and to express anger. Every individual experiences conflict in their relationship and every couple should resolve the issue sooner rather than later. No couple can ever be conflict free. Happy couples are those who know how to deal with problems when they arrive. Showing love and affection can really help couple win the battle.

A relationship marked by recurrent stonewalling behavior can cause suffers tremendous rift between the two partners. Unless the couple, doesn’t learn how to communicate with each other more productively the problems will continue to persist. The partners become more distant from each other and the intimacy declines. They may continue to live their lives without sharing any activities or interests with each other.

Relationships can be tricky. They require a lot of patience and good communication. Many times the problem arises when the couple avoids dealing with the problem which can cause deterioration in the relationship. It is essential for the couple to learn and grow along side.

No matter what the reason is behind stonewalling it is important to communicate rather than shutting all the means of communication.

If you recognize that your partner is stonewalling you, it is also essential to understand that how you may be contributing to the problem and take steps in the desired action. When the problem seems to get out of control seek help from professional marriage counsellor or relationship expert in order to improve self-esteem and communication skills is essential.

2 people found this helpful

Calorie Requirement For Diabetes!

Dietitian/Nutritionist, Jaipur
Calorie Requirement For Diabetes!

Waist - hip ratio is important in diabetes. (1.0 for male and 0.7 for female) 

Calorie should be calculated on the basis of optimal body weight. Energy can be 30-35kcal 7day on the basis of ideal body weight. Obese diabetics must lose weight & thin diabetics must gain normal weight. 

Prohibited items:

Sugar, jaggery 
Sherbat, sweets, candies. 
Honey, chocolates
Cakes, pastries 
Jams, jellies, murabbas etc.

Ovarian Cyst!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Rampur

महिलाओं में आग की तरह फ़ैल रही है ovarian cyst नाम की बीमारी

आज के इस भागदौड़ भरे ज़माने में किस इंसान को कब कौन सी बीमारी लग जाये कहा नहीं जा सकता. आज कोई इंसान हँसता-खेलता खुश है, कल पता चलता है कि उसके अंदर एक गंभीर बीमारी पनप रही है. वैसे इस बात का ज्यादातर श्रेय हमारे-आपके रहन-सहन को भी जाता है. ऐसे में आज हम आपको एक ऐसी बीमारी के बारे में जागरूक करने जा रहे हैं जो महिलाओं-लड़कियों में इन दिनों आग की तरह फ़ैल रही है. समय रहते अगर इस बीमारी को पकड़ा और इसका इलाज़ नहीं किया गया तो ये कैंसर का रूप भी ले लेती है. इस बीमारी का नाम है ओवेरियन सिस्ट.

तो आइये जानते हैं इस बीमारी के लक्षण और बचाव के तरीके.

सबसे पहले यहाँ ये समझने की ज़रूरत है कि आखिर ये ओवेरियन सिस्ट किस बला को कहते हैं. तो ऐसे समझिये कि, ओवेरियन सिस्ट यानि अंडाशय के ऊपर एक परत का बन जाना. डॉक्टर मानते हैं कि कई मामलों में यह सिस्ट एकदम सामान्य होती है, इससे कोई खतरा नहीं होता और इसका उपचार भी आसानी से हो जाता है लेकिन अगर यह परत सामान्य से अधिक मोटी है तो यह मासिक धर्म को प्रभावित करती है साथ ही गर्भावस्था के लिए भी खतरनाक है. सिर्फ इतना ही नहीं कुछ मामलों में ओवेरियन सिस्ट कैंसर का भी रूप ले लेती हैं.

दर्द के साथ पेट में सूजन: अगर किसी को भी पेट के निचले भाग में दर्द के साथ-साथ सूजन का होना जैसे लक्षण नजर आयें तो ये ओवेरियन सिस्ट का पहला गंभीर लक्षण हो सकता है. अगर आपके साथ अक्सर ऐसा होता है, तो जल्द-से-जल्द स्त्री रोग विशेषज्ञ से जरूर संपर्क करें.

यूरिनेशन: अगर ओवरी पर सिस्ट बन जाता है तो पेशाब करते समय दर्द या तकलीफ होने के साथ-साथ लगतार यूरिनेशन की समस्या हो सकती है. इससे ब्लेडर पर दबाव भी पड़ सकता है. अगर आपके साथ भी ऐसी कोई समस्या हो रही है तो जल्द-से -जल्द स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लें.

मासिक धर्म: अगर लंबे समय तक आपका मासिक धर्म यानि कि पीरियड्स समय पर नहीं हो रहा है तो ओवेरियन सिस्ट इसका कारण हो सकता है. इस स्थिति में पेट के एकदम निचले भाग में तेज या हल्का दर्द भी हो सकता है. ये भी ओवेरियन सिस्ट का एक महत्वपूर्ण लक्ष्ण हैं.

उबकाई या उल्टी आना: अंडाशय की ऊपरी झिल्ली का झरण नहीं होने पर कई बार उबकाई या ऊल्टी आने की स्थिति भी बन सकती है. इस समय तुरंत देखभाल और जल्द से जल्द उचित उपचार की जरुरत होती है ताकि इंफेक्शन न फैले.

वजन बढ़ना: अगर काफी कम समय में आपका वजन बहुत ज्यादा और तेजी से बढ़ रहा है, तो इसका कारण ओवेरियन सिस्ट भी हो सकता है.

अपचन और जलन: कई मामलों में ऐसा भी देखा गया है कि बहुत कम खाने के बावजूद पेट भरा हुआ महसूस होता है, तो यह पेट पर पड़ने वाले दबाव के कारण है. बता दें कि ये भी ओवेरियन सिस्ट का एक लक्षण है.

कमर में दर्द: यदि ओवरी पर सिस्ट है, तो इससे आपकी कमर पर भी दबाव पड़ता है जिसके कारण मासिक धर्म के समान कमर दर्द होना सामान्य हो जाता है. इसके साथ-साथ जांघों में भी दर्द हो सकता है.
ज़रूरी नहीं है कि अगर आपके शरीर में ये लक्षण नज़र आयें तो आपको कोई गंभीर समस्या ही हो लेकिन ऐसे लक्षण दिखने पर एक बार डॉक्टर से परामर्श ले लेने में कोई हर्ज़ भी नहीं है क्योंकि बीमारी भला किसे ही पसंद होती है.

इसका पूर्णरूप से आयुर्वेद में इलाज है।

PEP Treatment For HIV!

MD - General Medicine
Sexologist, Delhi
PEP Treatment For HIV!

You can not get AIDS from a hug or a handshake or a meal with a friend.
 

View All Feed

Near By Clinics