Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Vikas Vaibhav

Dentist, patna

Book Appointment
Call Doctor
Dr. Vikas Vaibhav Dentist, patna
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

To provide my patients with the highest quality healthcare, I'm dedicated to the newest advancements and keep up-to-date with the latest health care technologies....more
To provide my patients with the highest quality healthcare, I'm dedicated to the newest advancements and keep up-to-date with the latest health care technologies.
More about Dr. Vikas Vaibhav
Dr. Vikas Vaibhav is a popular Dentist in Rajendra Nagar, Patna. You can visit her at dental foundation in Rajendra Nagar, Patna. You can book an instant appointment online with Dr. Vikas Vaibhav on Lybrate.com.

Lybrate.com has a number of highly qualified Dentists in India. You will find Dentists with more than 35 years of experience on Lybrate.com. Find the best Dentists online in Patna. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Vikas Vaibhav

dental foundation

107,Rajendranagar road no 4 patna Get Directions
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Vikas Vaibhav

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Pros And Cons Of Patanjali Danth Kanthi

Dentist, Visakhapatnam
Pros And Cons Of Patanjali Danth Kanthi

Hello Lybrate Users,

I am posting on this topic as many of users have been asking on the same issue.

 

Pros

1. It has nice taste.

2. Freshness lasts longer.

3. Has good antibacterial property of neem and turmeric.

4. Its soothing action on the cavities and gums.

5. Minimum side effects.

 

Cons:

1. It cannot be an alternative to dental treatment as it cannot reverse progression of disease of gums or cavities.

2. As it soothens (obtundant) effect of clove oil on regular basis misguides the pain response which would end up in the end stages of the disease finally results increased cost of dental treatment in late stages of the disease or the tooth should be removed if caries or periodontal progression goes beyond to save the tooth.

3. The turmeric might cause tooth discolouration in long run.

 

As far as to my knowledge is concern use it just if you want to give a try but I will never recommend on a daily basis.

32 people found this helpful

My tongue is white and rough. I have dry mouth. tongue little cracks. Please tell me drugs.

MDS - Oral & Maxillofacial Surgery
Dentist, Chennai
My tongue is white and rough. I have dry mouth. tongue little cracks. Please tell me drugs.
Eat lot of fruits & green leafy vegetables & drink plenty of water. Kindly consult a dentist in person for further suggestion. We need more investigations with clinical examination to decide upon treatment. You may need Coronoplasty (smoothen teeth edges) along with T. Rebagen 10, morning one tab & one at night for 5 days, along with C. Becosules 5 cap, for five days in the morning after meals. Hexigel ointment on the area of ulcer. Rinse your mouth thoroughly with a mouth wash.
1 person found this helpful

Root Canal Treatment

BDS
Dentist, Mumbai
Root Canal Treatment
Root canal treatment is necessary when the pulp (soft tissue inside your teeth containing blood vessels, nerves and connective tissue) becomes inflamed or diseased. During root canal treatment, your dentist removes the diseased pulp. The pulp chamber and root canal(s) of the tooth are then cleaned and sealed. If the infected pulp is not removed, pain and swelling can result, and your tooth may have to be removed.
Causes of an infected pulp could include:
• a deep cavity
• repeated dental procedures
• a cracked or broken tooth
• injury to the tooth (even if there’s not a visible crack or chip)
If you continue to care for your teeth and gums your restored tooth could last a lifetime. However, regular checkups are necessary; a tooth without its nerve can still develop cavities or gum disease. Most of the time, a root canal is a relatively simple procedure with little or no discomfort involving one to three visits. Best of all, it can save your tooth and your smile.
260 people found this helpful

I am suffering from teeth sensitivity and cavity. filling and cleaning. Lot of pain. Wat can I do.

Certification in Full Mouth Rehabilitation, Post-Graduate Certificate in Oral Implantology (PGCOI), M.Sc - Master of Oral Implantology (MOI), Certified Implantologist, BDS
Dentist, Rajkot
I am suffering from teeth sensitivity and cavity. filling and cleaning. Lot of pain. Wat can I do.
Go for proper consultation and accordingly go for treatment. You may required deep scaling and filling of carious teeth. Go for treatment as soon.

I am 35 year old lady my teeth gets sensational problems when I eat when I drink too much pain please help me?

Certification in Full Mouth Rehabilitation, Post-Graduate Certificate in Oral Implantology (PGCOI), M.Sc - Master of Oral Implantology (MOI), Certified Implantologist, BDS
Dentist, Rajkot
I am 35 year old lady my teeth gets sensational problems when I eat when I drink too much pain please help me?
You can use the vantage or sensodyne toothpaste twice in day. May you get good result you are welcome to consult for the further diagnosis and treatment.
1 person found this helpful

What is the cost of teeth scaling/cleaning? And what are another solution of cleaning?

BDS
Dentist, Narnaul
What is the cost of teeth scaling/cleaning? And what are another solution of cleaning?
Hi. Scaling/ Cleaning is done only by a dentist. After that you can maintain your oral hygiene which is in your hands. Around 1500-2000 depending upon your deposits, clinic and place the charges varies.

मसूड़ों के रोगों का उपचार - Masudo Ke Rogo Ka Upchaar!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
मसूड़ों के रोगों का उपचार - Masudo Ke Rogo Ka Upchaar!

आपके मसूड़ों से नियमित रूप से खून का बहना आमतौर पर प्लेटलेट विकार या ल्यूकेमिया जैसे कुछ गंभीर बीमारियों का संकेत हो सकती है. ऐसा आमतौर पर मुंह में स्वच्छता न होने के कारण होता है. अक्सर देखा जाता है कि कई लोगों के मसूड़ों में सूजन आ जाता है. लेकिन इस बीमारी की शुरुआत को जिंजिवाइटिस के नाम से जाना जाता है. जिंजिवाइटिस के दौरान मसूड़ों में सूजन आ जाती है और उनसे खून बहने लगता है. यहाँ तक कि ये खून ब्रश या फ्लॉस करते समय कभी-कभी अपने-आप ही निकल पड़ता है. इकई बार ऐसा भी होता है कि मसूड़ों पर चोट लगने या अधिक गर्म पदार्थ व सख्त चीज़ें खाने से मसूड़ों पर पड़ने वाले दबाव के कारण भी मसूड़ों में सूजन उत्पन्न हो जाती है. इससे आपके मसूड़े ढीले-ढाले पड़ जातें हैं जिससे दांतों का काफी नुकसान हो सकता है. आइए मसूड़ों की बीमारियों के आयुर्वेदिक उपचार के बारे में जानें.

मसूड़ों के सूजन को दूर करने के उपाय-

1. बबूल की छाल – यदि आप मसूड़ों में होने वाले सूजन से बचना चाहते हैं तो आपको भी बबूल की छाल के उपयोग करना चाहिए. इससे मसूड़ों के सूजन को आसानी से समाप्त किया जा सकता है. इसके लिए बबूल की छाल के काढ़े से कुल्‍ला करें. इससे आपके मसूड़ों की सूजन कम होने लगेगती है.

2. अरंडी का तेल और कपूर – यदि आप अरंडी के तेल में थोड़ी मात्रा में कपूर मिला कर प्रतिदिन सुबह तथा शाम मसूड़ों की मालिश करें तो ऐसा करके भी मसूड़ों की सूजन कम होने लगती है.

3. अजवायन – अजवायन का उपयोग भी मसूड़ों की सूजन को दूर करने के लिए एक अच्छा विकल्प है. इसके लिए अजवायन को तवे पर भून कर पीसने के बाद इसमें 2-3 बूंद राई का तेल मिला कर हल्‍का-हल्‍का मसूड़ों पर मलें. ऐसा करने से मसूड़ों को आराम मिलता है साथ ही दांतों के अन्य रोग भी दूर किए जा सकते हैं.

4. अदरक और नमक – मसूड़ों से सम्बंधित समस्याओं को दुर करने के लिए थोड़े से अदरख में थोड़ा नमक मिलकर इसे अच्छे से पीस कर मिला लें. अब इस मिश्रण से धीरे-धीरे मसूड़ों को मले. इससे मसूड़ों की सूजन कम होने लगेगी.

5. नींबू का रस - नींबू के रस को ताजे पानी में नींबू में डाल लें. इसके बाद बाद इस पानी से कुल्‍ला करें. कुछ दिन इसका प्रयोग करें इससे मसूड़ों की सूजन दूर होने के साथ-साथ मुंह की दुर्गन्ध भी दूर होने लगती है.

6. प्याज - प्याज मसूड़ों की सूजन को दूर करने का अच्छा उपाय है. इसके सेवन के लिए प्याज में नमक मिलाकर खाने से एवं प्याज को पीसकर मसूड़ों पर दिन में करीब तीन बार मलने से मसूड़ों की सूजन ख़त्म हो जाती है तथा मसूड़े स्वस्थ बने रहते हैं.

7. फिटकरी - फिटकरी का प्रयोग भी मसूड़ों की सूजन को दूर करने का अच्छा उपाय है. इसके लिए फिटकरी के चूर्ण को मसूड़ों पर मले इससे मसूड़ों की सूजन को कम किया जा सकता है.
 

मसूड़ों से खून निकलने का उपचार
1. खट्टे फल:- यदि आपके मसूड़ों से खून बह रहा है तो इसका एक कारण आपके शरीर में विटामिन सी की कमी भी हो सकती है. ऐसे में विटामिन सी की आपूर्ति के लिए आपको खट्टे फल जैसे नारंगी, नींबू, आदि और सब्जियां विशेष कर ब्रॉकली और बंद गोभी आदि का सेवन करना चाहिए. इससे रक्तस्त्राव में कमी आएगी.

2. दूध:- हमारे मसूड़ों के लिए कैल्शियम भी आवश्यक होता है. कैल्शियम का सबसे अच्छा स्त्रोत दूध है. यदि आप दूध का सेवन करते हैं तो आपके मसूड़ों का रक्तस्त्राव ख़त्म हो सकता है. इसके लिए आप नियमित रूप से दूध का सेवन करते रहें.

3. कच्ची सब्जियां:- कई बार मसूड़ों में रक्त संचरण न होने के कारण भी रक्तस्त्राव होता है. इसके लिए आपको कच्ची सजियाँ चबाना एक अच्छा विकल्प हो सकता है. इससे आपका दांत भी साफ़ होता है. यदि आप नियमित रूप से कच्ची सब्जियां खाने की आदत डालें तो आप ऐसी परेशानियों से बच सकते हैं.

4. क्रैनबेरी और गेहूँ की घास का रस:- मसूड़ों से होने वाले रक्तस्त्राव से राहत पाने के लिए आप क्रैनबेरी या गेहूँ की घास का रस का उपयोग कर सकते हैं. इसका जूस जीवाणुरोधी गुणों से युक्त होता है जिससे कि आपके मसूड़ों से जिवाणुओं का खात्मा हो सकता है.

5. बेकिंग सोडा:- बेकिंग सोडा का उपयोग भी मसूड़ों की देखभाल के लिए किया जाता है. दरअसल बेकिंग सोडा का इस्तेमाल माइक्रोइंवायरनमेंट तैयार करके मुंह में ही बेक्‍टीरिया को मारने के लिए किया जाता है. आप चाहें तो इसे अपने मसूड़ों पर उंगली से भी लगा सकते हैं.

6. लौंग:- लौंग उन औषधीय जड़ी-बूटियों में से एक है जिसका इस्तेमाल हम प्राचीन काल से ही अपनी समस्याओं को दूर करने के लिए करते आ रहे हैं. जब भी आपको इस तरह की समस्या हो तो आपको एक लौंग अपने मुंह में रखना चाहिए. इससे राहत मिलती है. लेकिन यदि लम्बे समय तक ऐसा हो तो आपको चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए.

7. कपूर, पिपरमिंट का तेल:- मसूड़ों को स्वस्थ बनाने के कई तरीके हैं. उनमें से एक है कपूर और पिपरमिंट के तेल. इसका इस्‍तेमाल आप अपने मुंह की ताज़गी और स्‍वच्‍छता बनाये रखने के लिये कर सकते हैं.

8. कैलेंडूला की पत्‍ती और कैमोमाइल चाय:- मसूड़ों से निकलने वाले खून को रोकने के लिए ऐसी चाय पीनी चाहिए जिसमें कैलेंडुला और कैमोमाइल की पत्‍ती डाल कर पकायी जाए. क्योंकि ये मसूड़ों में खून आना रोकती है.

3 people found this helpful
View All Feed