Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. Amol Tilve

Gynaecologist Clinic

Journalist Colony, Porvorim, Panaji
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Dr. Amol Tilve Gynaecologist Clinic Journalist Colony, Porvorim, Panaji
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Feed
Services

About

Customer service is provided by a highly trained, professional staff who look after your comfort and care and are considerate of your time. Their focus is you....more
Customer service is provided by a highly trained, professional staff who look after your comfort and care and are considerate of your time. Their focus is you.
More about Dr. Amol Tilve
Dr. Amol Tilve is known for housing experienced Gynaecologists. Dr. Amol Tilve, a well-reputed Gynaecologist, practices in Panaji. Visit this medical health centre for Gynaecologists recommended by 80 patients.

Timings

MON-SAT
10:00 AM - 01:00 PM 05:00 PM - 08:00 PM

Location

Journalist Colony, Porvorim,
Panaji, Goa - 403521
Get Directions

Doctor

Dr. Amol Tilve

MBBS
Gynaecologist
18 Years experience
Available today
10:00 AM - 01:00 PM
05:00 PM - 08:00 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Amol Tilve

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Non-Ionizing Radiation From Smartphones Double The Risk Of Miscarriage - Says A New Study!

MBBS
General Physician, Fatehabad
Non-Ionizing Radiation From Smartphones Double The Risk Of Miscarriage - Says A New Study!

Pregnant women face double the risk of miscarriage when exposed to non-ionizing radiation emitted from the laptop, smartphone and even bluetooth devices, as per a recent study.  The study was conducted on 913 pregnant women over the age of 18 years and were made to wear a small magnetic-field monitoring device for 24 hours. 

The increased risk of miscarriage associated with high magnetic fields was consistently observed regardless of the sources of high magnetic fields. After controlling for multiple other factors, women who were exposed to higher magnetic fields, showed 2.72 times the risk of miscarriage than those with lower magnetic fields exposure.  The study was published in the journal Scientific Reports. 

1 person found this helpful

Me and my bf had sex before one day of my periods due. And after one day I got my period back. And after one month I got my period again .and I never had sex after that day. And he never ejaculated .so is there any chances of pregnancy I am worried about?

BHMS
Homeopath, Bhopal
Me and my bf had sex before one day of my periods due. And after one day I got my period back. And after one month I ...
Dear Lybrate User, No chance of pregnancy. For further information and details you can consult online. Take Care.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hi, Me (virgin) and my husband are newly married and staying together for 2 months. My husband has hurt'ed me a lot emotionally, He lied and got married to me and defended back saying everyone lies and gets married. I am unable to have sex with him, as he tries to enter me, I am feeling the pain. I am feeling frustrated and I am pushing him away cause of pain and cause he hurt me emotionally too. He always supports ,believes others and always I am wrong. So I am depressed about it. I tried discussing but its no use. Am I having problems to have sex cause I am deprived of love? Should I consult psychologist or gynecologist?

MBBS
Sexologist, Panchkula
Hi, Me (virgin) and my husband are newly married and staying together for 2 months. My husband has hurt'ed me a lot e...
You are having problems during sex. This is not due to that others don't love you. I advise you to do more foreplay of 15 to 20 minutes before going for sex. Sort out differences with your husband amicably and believe in the saying of giving love first before expecting from others. Mind this, you will receive only what you give. Follow this and be happy.
5 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 51 years old and got my last period in June 2016 but since he last two days I have blood spots after I urinate every time Please help.

B.A.M.S.
Ayurveda, Alwar
I am 51 years old and got my last period in June 2016 but since he last two days I have blood spots after I urinate e...
Don't worry too much. It is normal process. If you hv too much problem than check your urine and blood tests.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I got marriage 4 years back I am not getting pregnant right now I went for checking I have no problems what is the problem please let me know.

BHMS ,PGDPC , MS (psych.)
Homeopath, Nashik
I got marriage 4 years back I am not getting pregnant right now I went for checking I have no problems what is the pr...
First you go for Sonography of abdomen& pelvis if reports are normal you have to go nearby Homeopathic doctor it is better for you.
Submit FeedbackFeedback

I am suffering from pcod and related infertility from 3 years. I am 28 yrs. With 2 hours of gym I am unable to lose around 1 kg per month. I want to know what I should eat in order to help my insulin resistance and lose weight. Everyone says low carb diet. But indian food is more or less carb diet. I need specifics to help my issue.

BSc, Diploma In Human Nutrition, Certified Diabetes Educator, MBA, Lifestyle Medicine
Dietitian/Nutritionist, Bangalore
I am suffering from pcod and related infertility from 3 years. I am 28 yrs. With 2 hours of gym I am unable to lose a...
Specific - all carbs are not bad. You need to stop packed & commercial foods which are rich in processed carbs, like all baked products, salty snacks, dairy products. Consume good carbs like fruits in morning and large quantity of salads before lunch and dinner. Take green leaf soup. In main meals, take curries more than chapati/rice. Stop white sugar and replace with jaggery. Do no-oil cooking. Very low salt intake. With this you will have better results.
Submit FeedbackFeedback

Hi, my baby 3 month old ,I feeding him properly. Suddenly my breast milk produce less ,my friend suggest stimulate powder may I drink this?

MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist, Indore
Hi for increase breast milk. It is necessary to Take adiquate amount of milk ,water, and other healthy liquid. 2. Increas the frequency to feed baby. 3. Is diet take healthy diet and milk producing diet. Like Dakota etc. 4 Medicine like later cap 1 or2 three times in a day. Powder lacter 2teaspoon full 3 times in aday with milk. 5 rulout hypertension ,or other medical problem. Take proper treatment according.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Sir I had sex first time and within 10 hours you took unwanted 72 is there any chances of pregnancy I am very scared answer me.

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology
Gynaecologist, Gurgaon
Sir I had sex first time and within 10 hours you took unwanted 72 is there any chances of pregnancy I am very scared ...
Chances of pregnancy gets minimal but still there is a possibility of concieving which can be confirmed by doing a UPT if periods due dates gets delayed.
Submit FeedbackFeedback

Is there any side effects can occur if any syphilis patient got more than 6 shots of penicillin injection and also along with injection take doxicilin oral antibiotics?

MD-Ayurveda, Bachelor of Ayurveda, Medicine & Surgery (BAMS)
Sexologist, Haldwani
Hello- Penicillin is the preferred treatment for syphilis in allopathy. Early treatment is crucial to prevent the bacteria from spreading to and damaging other organs. So nothing to worry, you are getting correct treatment.
Submit FeedbackFeedback

Hello doctor, mera question Hain ki mc ke dauran sex krna kyo mna Hain? Please suggest

MD - Homeopathy, BHMS
Homeopath, Pune
Hello doctor, mera question Hain ki mc ke dauran sex krna kyo mna Hain? Please suggest
There are increased chances of yeast infection, Urinary tract infections as pH of the vagina changes during periods. But it is not totally contraindicated. Some women find releif from abdominal cramps by getting into the act during menstruation and some find it pleasurable.
Submit FeedbackFeedback

Guggal's Advantages And Disadvantages - गुग्गुल के फायदे और नुकसान

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Guggal's Advantages And Disadvantages - गुग्गुल के फायदे और नुकसान

गुग्गुल के फायदे हमें कई रोगों से निजात दिलाते हैं. यह बहुत अधिक गर्मी के दौरान पौधे द्वारा उत्सर्जित एक गोंद राल होती है. इसे प्राप्त करने के लिए, मुख्य तने में गोलाई में कट लगाया जाता है. इससे निकलने वाला सुगंधित तरल पदार्थ एक सुनहरे भूरे रंग या लाल भूरे रंग में सुखकर तेजी से ठोस हो जाता है. इसके पौधे को कम्फोरा मुकुल के नाम से जाना जाता है. यह पौधा एक छोटे पेड़ के रूप में बढ़ता है और 4-5 फीट की ऊंचाई तक पहुंचता है. इसकी शाखाएं कांटेदार होती हैं. ये पौधे उत्तरी अफ्रीका से लेकर मध्य एशिया तक पाए जाते हैं, लेकिन ये उत्तरी भारत में सबसे अधिक पाए जाते हैं. गुग्गुल स्वाद में कड़वी और तासीर में गर्म होती है. यह कफ, पित्त और वात तीनों दोषों को सामान्य रखने में मददगार होता है. तो आइये गुग्गुल के फायदे और नुकसान को जानते हैं.

1. शुगर के उपचार में
शुगर के उपचार में इसकी सकारात्मक भुनिका होती है. दरअसल गुग्गुल रक्त शर्करा के उच्च स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है. इसके अलावा पुरानी गुग्गुल में रक्त शर्करा को कम करने वाले गुण भी मौजूद होते हैं.
2. महिलाओं की परेशानियों में
गुग्गुल महिलाओं की कई परेशानियों जैसे कि बांझपन और मासिक धर्म के विकारों में इस्तेमाल की जाती है. आयुर्वेद में इससे संबंधित कई महत्वपूर्ण बातें कही गई हैं.
3. कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में
गुग्गुल में रक्त को शुद्ध करने और इसे फिर से जीवंत करने का गुण होता है. इसलिए यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर का सकता है. ये शरीर की प्रतिरक्षा में सुधार और लिपिड स्तर को भी नियंत्रित कर सकता है. कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने के लिए एक प्राकृतिक उत्पाद है.
4. मौखिक समस्याओं में
इसमें एंटीसेप्टिक और एस्ट्रिंजेंट गुण पाए जाते हैं. आप इसका उपयोग कमजोरी, पाइरिया आदि के इलाज कर सकते हैं. इसके लिए एक गिलास गर्म पानी में दो ग्राम गुग्गल को पिघलाए और इसे माउथ वाश और गरारे करें.
5. वजन कम करने में
वजन कम करने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है. आयुर्वेद के अनुसार वजन बढ़ने का कारण है वात और कफ का संतुलन बिगड़ना. इसे ठीक करने के लिए गुग्गुल आ प्रयोग किया जाता है. इसके लिए आप गुग्गुल का प्रयोग करें.
6. पाचन को करे बेहतर
यह भूख और सामान्य पाचन तंत्र को भी बढ़ावा देने का काम करता है. अपच, सूजन और पेट फूलने से राहत देने में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है. यह लिवर विषाक्त पदार्थ को हटाकर इसके कायाकल्प का भी कार्य करता है.
7. जोड़ों के दर्द को करे कम
यह जोड़ों में दर्द और सामान्य सूजन को कम करने में मदद करता है. आयुर्वेद में बाहरी उपयोग में दर्द और सूजन को कम करने में यह उपयोगी होती है. इसका प्रयोग गठिया, कटिस्नायुशूल और जोड़ों के दर्द को दूर करने में किया जाता है.
8. श्वसन समस्याओं में
गुग्गुल फेफड़े के स्वास्थ्य को बढ़ाकर पुरानी खाँसी, ब्रोंकाइटिस, अस्थमा और तपेदिक के इलाज में बहुत उपयोगी साबित होती है. इसके अलावा यह मूत्र कैलकुली और सिस्टिटिस के उपचार के लिए भी उपयोगी साबित होती है.
9. त्वचा के लिए उपयोगी
त्वचा की विभिन्न परेशानियों को दूर करने में भी गुग्गुल का इस्तेमाल किया जाता है. अल्सर और घावों का इलाज करने के लिए गुग्गुल का प्रयोग नारियल के तेल में मिलाकर किया जाता है. प्रभावित त्वचा क्षेत्र पर उपयोग किया जाता है.
10. स्तंभन दोष के उपचार में
स्तंभन दोष के लिए गुग्गुल सबसे अच्छा आयुर्वेदिक उपाय है. चूंकि यह वजन घटाने और मधुमेह में मदद करता है, इसलिए यह हर्बल दवाई स्तंभन दोष रोग में इस्तेमाल की जा सकती है. यह पुरुष कामेच्छा को बढ़ा देता है और यह शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाता है.

गुग्गुल के नुकसान

  • इसलिए गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान इसके उपयोग से बचाना चाहिए.
  • गुग्गुल थायरॉयड के कार्य को प्रभावित करता है इसलिए निष्क्रिय या अतिरक्त थायरॉयड में सावधानी से उपयोग करें.
  • अधिक मात्रा में सेवन करना लिवर के लिए हानिकारक हो सकता है.
     
10 people found this helpful

Daaruharidra Ke Phaayade Aur Nukasaan - दारुहरिद्रा के फायदे और नुकसान

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Daaruharidra Ke Phaayade Aur Nukasaan - दारुहरिद्रा के फायदे और नुकसान

दारुहरिद्रा सदाबहार झाड़ियों के रूप में लगभग 2 या 3 मीटर ऊंची होती है. इसके पत्ते 4.9 सेमी लंबे और 1.8 सेमी चौड़े होते हैं. भारत और नेपाल में इसको सबसे अधिक उगाया जाता है. लेकिन इसके पौधे हिमालय, भूटान, श्री लंका और नेपाल के पहाड़ी इलाकों में भी पाए जाते हैं. दारुहरिद्रा को भारतीय बारबेरी, ट्री हल्दी आदि के नामों से भी जाना जाता है. इसे ताज़ा फल के रूप में खाया भी जाता है. दारुहरिद्रा में एंटिफंगल, जीवाणुरोधी, सूजन को कम करने वाले, एंटीऑक्सिडेंट और हेपेटोप्रोटेक्टिव जैसे गुण पाए जाते हैं. इसका उपयोग बुखार, अल्सर, सूजन, संक्रमण, त्वचा की समस्याएं, आंखों की बीमारियों, घावों, दस्त के उपचार में किया जाता है. यह हृदय की विफलता, मलेरिया, लिवर रोग और पीलिया जैसे स्वास्थ्य की समस्याओं को दूर करने में हमारी मदद करता है. आइए अब दारुहरिद्रा के फायदे और नुकसान को विस्तार से समझें.

1. सूजन को करे कम
दारुहरिद्रा में एंटी-ग्रेन्युलोमा और एंटी-इन्फ्लैमेटरी के गुण मौजूद होते हैं. इनका काम सूजन को रोकना है.इसके आलावा इससे बने पेस्ट का उपयोग करके रहूमटॉइड आर्थराइटिस में दर्द और सूजन को दूर किया जा सकता है.
2. दस्त के उपचार में
इसमें हेपेटो-प्रोटेक्टिव, कार्डियोवास्कुलर, एंटीकैंसर और एंटीमिक्रोबियल गुणों के साथ-साथ एंटीस्पास्मोडिक, एंटीडिअरायल और एंटीमैरलियल जैसी गतिविधियों का भी पता चला है. इसलिए दस्त के समय इसका उपयोग किया जाता है. इसके लिए दारुहरिद्रा को पीसकर शहद के साथ मिश्रित करके इस्तेमाल करें.
3. शुगर के उपचार में
दारुहरिद्रा में एचबीए1सी को कम करने की क्षमता पाई जाती है जो कि रक्त ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित कर सकता है. इसके अतिरिक्त इसमें ग्लूकोज को नियंत्रित करके कार्बोहाइड्रेट का उपापचय भी करता है. जिससे शुगर के मरीजों को फायदा होता है.
4. कैंसर के उपचार में
बेरबेरीन और करक्यूमिन के संयोजन में दारुहरिद्रा का सेवन करने से एमसीएफ -7, ए 5 9 4, जर्कट, हेप-जी 2 और के 562 कोशिकाओं में एंटीकैंसर प्रभाव देखा जाता है. इसलिए इसका संयोजन कैंसर के लिए महत्वपूर्ण है.
5. बवासीर के उपचार में
दारुहरिद्रा को मक्खन के साथ 33 से 100 सेंटीग्राम की खुराक के साथ देने से रक्तस्त्राव थमता है. बवासीर के उपचार में इसे एक पतले घोल के रूप में भी बाह्य रूप से भी इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके अलावा दारुहरिद्रा की जड़ की छाल में मौजूद बेरबेरिन में एंटिफंगल, जीवाणुरोधी, एंटीऑक्सिडेंट और एंटीवायरल गुण पाया जाता है.
6. बुखार में फायदेमंद
यह मलेरिया बुखार में, विशेष रूप से शरीर के तापमान में वृद्धि से राहत पाने में उपयोगी है. इसकी छाल और जड़ की छाल को एक काढ़े के रूप में दिया जाता है. काढ़े को 25 से 75 ग्राम की खुराक में दो बार या एक दिन में तीन बार देना चाहिए.
7. आँखों के लिए
मक्खन और फिटकिरी या अफीम या चूने के रस के साथ दारुहरिद्रा को मिलाकर आंखों और अन्य नेत्र रोगों के उपचार में पलकों पर बाह्य रूप से इसे लगाया जाता है. दूध के साथ मिक्स करने पर यह नेत्रश्लेष्मलाशोथ या कंजंक्टिवाइटिस (आँख आना) में लोशन के रूप में प्रभावी रूप से इस्तेमाल किया जा सकता है.
8. पीरियड्स के दौरान
पीरियड्स के दौरान महिलाओं की परेशानियों को दूर करने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जात है. ये मासिक धर्म के दौरान अत्यधिक रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकती है. इसलिए मासिक धर्म के समय दर्द और ऐंठन से राहत के लिए 13 से 25 ग्राम की खुराक में इस्तेमाल करें.
9. त्वचा के लिए
त्वचा रोगों से निजात पाने के लिए आमतौर पर इसकी 13 से 25 ग्राम की खुराक दी जाती है. इसकी छाल का काढ़ा और जड़ की छाल मुहांसे, अल्सर और घावों के लिए एक शुद्धिकारक के रूप में इस्तेमाल की जाती है. 

दारुहरिद्रा के नुकसान

  • यह रक्त में शर्करा के स्तर को कम कर सकता है, इसलिए मधुमेह वाले लोग इसका उपयोग चिकित्सक के परामर्श के बाद ही करें.
  • एक सीमित मात्रा में इसका उपयोग बच्चों में और स्तनपान के दौरान किया जा सकता है.
  • गर्भावस्था के दौरान उपयोग करने के लिए चिकित्सा सलाह लें.
     
5 people found this helpful

Know More About Stammering

B.ASLP,Master of Science In PSYCHOTHERAPY AND COUNSELING, PH. D IN PSYCHOTHERAPY AND COUNSELING
Psychologist, Karnal
Know More About Stammering

Speech therapy and psychotherapy are ways to manage stammering.

1 person found this helpful

Healthy Pregnancy

MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS, FNB Reproductive Medicine, MRCOG
Gynaecologist, Mumbai
Healthy Pregnancy

You need to visit your gp or private obstetrician every four weeks after the first trimester for regular check-ups during pregnancy.

3 people found this helpful

What is the best and safe way to avoid pregnancy without using protection? Please suggest

MD - Ayurveda
Ayurveda, Hyderabad
What is the best and safe way to avoid pregnancy without using protection? Please suggest
There are 4 methods 1. Spacing method (sex on infertile days first and last 10 days) 2. Protection 3.Copper T 4. Oral contraceptives last, safe and the best one
Submit FeedbackFeedback

Healthy Pregnancy

MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS, FNB Reproductive Medicine, MRCOG
Gynaecologist, Mumbai
Healthy Pregnancy

Increase your intake of fresh fruits and vegetables during the third month of pregnancy.

Women's Health

MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS, FNB Reproductive Medicine, MRCOG
Gynaecologist, Mumbai
Women's Health

Spotting or implantation bleeding after 6-12 days of conception is the first sign of pregnancy. Some women fail to notice this change, which is only natural.

Know More About Ovulation

MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS, FNB Reproductive Medicine, MRCOG
Gynaecologist, Mumbai
Know More About Ovulation

Ovulation is that period between the last menstrual cycle and the next menstrual cycle when the chances of pregnancy are the highest.

Health Tip - Woman

MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS, FNB Reproductive Medicine, MRCOG
Gynaecologist, Mumbai
Health Tip - Woman

Calcium rich foods - broccoli, yoghurt, cabbage and milk - should be consumed in higher quantities as they naturally fight muscle spasms and also lessen the pain caused by cramps during menstruation.

View All Feed

Near By Clinics