Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. D.K Singh

Veterinarian, Noida

Book Appointment
Call Doctor
Dr. D.K Singh Veterinarian, Noida
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

To provide my patients with the highest quality healthcare, I'm dedicated to the newest advancements and keep up-to-date with the latest health care technologies....more
To provide my patients with the highest quality healthcare, I'm dedicated to the newest advancements and keep up-to-date with the latest health care technologies.
More about Dr. D.K Singh
Dr. D.K Singh is a trusted Veterinarian in Sector-148, Noida. He is currently practising at Dr. D.K Singh Clinic in Sector-148, Noida. Book an appointment online with Dr. D.K Singh on Lybrate.com.

Lybrate.com has a number of highly qualified Veterinarians in India. You will find Veterinarians with more than 31 years of experience on Lybrate.com. You can find Veterinarians online in Noida and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. D.K Singh

Dr. D.K Singh Clinic

Shop No. D5,Greater Land Mark: Near Pari Chowk Bus StopNoida Get Directions
...more
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. D.K Singh

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Hi. I have a 2 months old rabbit. He is too much energetic and playful. But last 30 hrs he do not eat anything. He also have symptom of appetite loss. All the day he stay in a hunched position on corner. I failed to feed him anything. I also tried liv 52 syrup & simethicone tablets. But my bunny is not ready to eat it. So what I Do?

Diploma in Clinical Nutrition, Certified Diabetes Educator, Diploma in Sport & Exercise Nutrition, Diploma in Human Nutrition, Lifestyle Medicine, BSC IN LIFE SCIENCES
Dietitian/Nutritionist, Bangalore
Give him only natural food like carrots, leafy vegetable, fruit pieces etc. Do not give him human food.
Submit FeedbackFeedback

A dog licks my dishes I want to know that how I clean that dishes pls provide me guideline as im in a worried situation from when I heard that dogs saliva carries dangerous disease.

MVSc
Veterinarian, Jammu
No doubt dog saliva carries more germs thn those inhabitating human oral cavity or you cn say mouth regrind dish cleaning better use hot water n put your dish in it fr sum time (what should be at boiling) thn use your dish washing soap for cleaing the dishes. Avoid your dog to lick your plates. Alone saliva is nt carrier of dreadly diseases untill bite is involved hope this help.
Submit FeedbackFeedback

My dog is a lab , he's perfectly alright , behaving well , playing , drinking water and his urine is also white but his appetite has suddenly fallen , he hardly eats but plays fine , sleeps fine . What can this be ?

MVSC
Veterinarian, Hyderabad
Your dog is perfectly alright with the normal behaviour. First of all I would like to know what is your location. Check for the changes in the weather at your place. The day temperatures are gradually inceasing these days. May be due to normal stress it may not take food. Deworm your dog first, Give plenty of water and preferably liquid diet for 2- 3 days and observe your dog. If still it doesn't take food see vet at your place.
Submit FeedbackFeedback

My 6yr old Lab has dandruff.I have bathing him with medicated shampoo prescribed by his doctor.Not much of help.Please advice.

MVSc
Veterinarian, Pune
Dandruff could be due to fugal infection , bacterial or skin infection so please do skin scrapping routine and bacterial and fungal culture
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My pet 6 months old golden retriever in fed on golden retriever junior royal canin and the vet has suggested some human supplements like feroglobin and calicmax is it safe for him ?

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
Yes its safe , even the human can have the tablets when its safe to the animals . So dont worry . I use nearly 95 % of medicine in human field only . And regarding dosage please consult your vet in supplementing it.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hi Sir, Two three people said that after dog bite, we should not give head bath and my daughter (3 yrs. 10 months) should not get cold. Is this true?

M.B.B.S.; MD(MEDICINE)
General Physician, Lucknow
Hi Sir, Two three people said that after dog bite, we should not give head bath and my daughter (3 yrs. 10 months) sh...
No these are wrong hearsays. Please do not follow them. Immediatley after a dog bite try to wash the wound with mild soap and running tap water.
Submit FeedbackFeedback

My fish having small white dot on their body (ick) and one of my fish eye is getting cloudy day by day and they are dying one by one. And I added methylene blue in water to prevent ich. Please suggest me some medicine for them.

master of veterinary science
Veterinarian, Mumbai
Go for malachite green or antifungal branded imported medicine available online Please check amazon.
Submit FeedbackFeedback

Any vet doctor available for my 5 years dog for online consultation please reply to this question. I am trying from past 3-4 days but no doc is willing to answer and payment gets refunded every time. Thank you.

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
Most of the doc were in singapore for world conference may be thats the reason please go through payment channel again they will now.
Submit FeedbackFeedback

Vaccination In Pets

B.V.Sc
Veterinarian, Varanasi
Vaccination In Pets

Vaccination in dog

टीकाकरण की प्रकिया एक ऐसा उपाय है जिससे, कुत्तो में होने वाली कुछ प्रमुख विषाणु एवं जीवाणु जनित जानलेवा एवं लाइलाज, बीमारियों जैसे कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, रेबीज तथा केनल कफ़ आदि से बचाव के लिए समय समय पर कुत्तों के शरीर में टीका लगाया जाता है,जिससे इन रोगों के खिलाफ रोगप्रतिरोधक क्षमता का शारीर में विकास हो जाता है और हमारा पालतू जानवर एक सिमित अवधि तक इन बिमारियों के घातक प्रभाव से बचा रहता है |

कुछ टीकाकरण संबंधी सामान्य प्रश्नो के जबाब -
 
१- क्या सभी उम्र के कुत्तो का टीकाकरण जरूरी होता है?
हाँ। आमतौर पर १. ५ महीने (४५ दिन) के उम्र से ऊपर सभी कुत्तो का नियमित समय पर टीकाकरण करना जरूरी होता है यदि किसी कारण वश नयमिति या कभी कराया ही न गया हो तो किसी भी उम्र से टीकाकरण शुरू किया जा सकता है। 

२. छोटे बच्चो को किस उम्र से टीका का पहली खुराक देना शुरू करना चाहिए?
४५ दिन के उम्र से ही टीके की पहली खुराक देना बेहद जरूरी होता है 

३. क्या सभी छोटे पप्स को टीकाकरण के पहले पेट के कीड़े देना जरूरी होता है -
हाँ। बहुत से परजीवी ऐसे होते है जो माँ के पेट से ही या दूध के जरिये से बच्चे के शरीर में प्रवेश कर जाते है जिससे शरीर को कमजोर कर देते है और जब टीका लगाया जाता है तो कमजोरी के वजह से उतना अच्छा शरीर में प्रतिरोधक छमता का विकास नहीं हो पता इसलिए पहले ऐसे परजीवीओ को नष्ट करना जरूरी होता है 

४. क्या होता है टीकाकरण का सही उम्र और समयांतराल?
१. पहली खुराक -जन्म के ६ -८ सप्ताह के उपरांत(कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा हेतु) 
२. बूस्टर खुराक या दूसरी खुराक - प्रथम खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर दूसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 
३. तीसरी खुराक - रेबीज वायरस हेतु- प्रथम खुराक जन्म के ३ माह के उपरान्त। 
४. बूस्टर खुराक या चौथी खुराक - तीसरी खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर तीसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 

५. क्या बूस्टर खुराक देना जरूरी होता है या नहीं?
जन्म के साथ ही माँ से प्राप्त एंटीबाडीज और प्रथम दूध से मिलने वाली सुरछा कवच कुछ सप्ताह तक नवजात के खून में मौज़ूद रह करअनेको बीमारयों से सुरछा प्रदान करती है परन्तु समय के साथ साथ इनकी मात्रा बच्चे के शरीर में कम होने लगती है। जिससे बीमारी होने की आशंका बढ़ जाती है इसलिए लगभग ४५ दिन के बाद टिका का प्रथम खुराक देते है यद्पि ये पता नहीं रहता की माँ से मिलने वाली सुरछा का असर किस स्तर का है जिससे आमतौर पर ये स्तर अधिक होने पर प्रथम खुराक से बच्चे के शरीर में टीकाकरण की गुणवत्ता को बाधित करती है, जो की पप्पस में रोगप्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने में असक्षम हो जाता है इसलिए कुछ सप्ताह बाद टीकाकरण के दूसरी खुराक दे कर टीकाकरण से रोगप्रतिरोधक क्षमता करने के उद्देश्य को प्राप्त करते है ऐसी दूसरी खुराक को बूस्टर खुराक कहते है। 

६. क्या है टीकाकरण की सही खुराक देने के मात्रा:
डॉग चाहे किसी भी उम्र, भार, लिंग अथवा नस्ल के हों उनको समान मात्रा में टीकाकरण का खुराक दिया जाता है 

७. क्या है टीकाकरण का सही तरीका:
टीकाकरण खाल के नीचे:कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा तथा रेबीज जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए खाल के नीचे दिया जाता है
 नथुनों में:केनल कफ़ का टीकाकरण कुत्ते के नथुनों में दवा डाल कर किया जाता है

८. क्या सभी टीके एक ही प्रकार के होते है:कुत्तों में टीकाकरण दो प्रकार की होती है
 १. कोर टीकाकरण - टीकाकरण जो सभी कुत्तों के लिये आवश्यक है. यह उन बिमारीयों में दिया जाता है जो आसानी से फैलती हैं अथवा घातक होती हैं जैसे रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर.
 २. नान कोर टीकाकरण – उपरोक्त ४ बिमाँरीयों (रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर) के टीकाकरण को छोड़कर अन्य सभी नानकोर टीकाकरण माना जाता है | यह उन बिमाँरियों से सुरक्षा प्रदान करता है जो वातावरण के अनावरण अथवा जीवनचर्या पर निर्भर करती है जैसे लाइम डिजीज, केनलकफ और लेप्टोस्पाइरोसिस.

९. एक सफल टीकाकरण करने के बाद क्या फिर भी टीकाकरण विफल हो सकता है?हाँ। 
 टीकाकरण के विफलता के कारण कुत्ते में बीमारी होने के निम्नलिखित मुख्य कारण हो सकते है –
१. टीकाकरण के दौरान कुत्ते की रोगप्रतिरोधक क्षमता का सम्पूर्ण रूप से कार्य न करना |
२.आयु – कम उम्र के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली पूर्णतः विकसित नही होती और बड़े आयु के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली कई कारणों से अक्सर कमज़ोर या क्षीण हो जाती है |
३. मानवीय चूक (टीके का अनुचित संग्रहण या अनुचित मिश्रण)- टीकों का संग्रहण एवं इस्तेमाल भी निर्देशानुसार ही होना आवश्यक है | सूरज की रोशनी,गर्म तापमान टीके के प्रभाव को नस्ट कर सकता है | टीके का मिश्रण पशु में टीकाकरण के तुरंत पहले तैयार करना चाहिए | टीके खरीदने के पहले पता करना चाहिए कि टीकों को उचित तापमान एवं देखभाल से रखा गया है या नहीं |
४. डीवार्मिंग – टीकाकरण करने के पहले पेट के कीड़े मारने के लिए डीवर्मिंग करना आवश्यक है, वरना इस तरह का तनाव टीकाकरण के प्रभाव को कम कर सकता है |
५. गलत सीरोटाईप / स्टेन का इस्तेमाल – प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत विशिष्ट होती है | अतः टीके में होने वाली जीवाणु या विषाणु की सही स्टेन होनी चाहिए वरना उससे उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षा जानवर में सही तौर पर सुरक्षा नहीं कर पाती |
६. अनुवांशिक बीमारियाँ – कुछ जानवरों में आनुवंशिक बिमारियों की वजह से सभी रोगों के लिए प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पर कम ही उत्पन्न हो पाती है |
७. वैक्सीन की गुणवत्ता – टीके में प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रोत्साहित करने के लिए प्रयाप्त मात्रा में प्रतिजनी की मात्रा होना चाहिए वरना टीकाकरण के बाद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रयाप्त नहीं होती है |
८. पुराने या अवधि समाप्त टीके – पुराने टीकों में आवश्यक प्रतिजनी गुण समाप्त या कम हो जाता है | इस तरह के टीके लगाने से जानवरों को बेमतलब तनाव दिया जाता है |
९. टीकाकरण का अनुचित समय – टीका निर्माता के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण का समय (उम्र एवं मौसम के अनुसार), लगाने का तरीका एवं मात्रा तथा दोबारा लगाये जाने की अवधि, इत्यादि निश्चित होता है |इन निर्देशों का पालन सही समय पर न करने से टीकाकरण विफल या निष्क्रिय हो जाता है |
१०. पोषण की स्तिथि- कुपोषण की वजह से जिन पशुओं में पोषक तत्वों की कमी रह जाती है उनमे टीकाकरण के बाद भी प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पे कम ही उत्पन्न हो पाती है |

10. क्या वैक्सीन लगते समय कुत्ते पर कोई दुस्प्रभाव हो सकते है? हाँ 
 कुछ कुत्तो प्रतिरोधक छमता अधिक सक्रिय होने की वजह से कुछ सामान्य लचण जैसे ज्वर, उल्टी, दस्त, लासीका ग्रंथियों का सूजना, मुख का सूजना, हीव्स, यकृत विफलता और कभी -कभी मौत भी हो सकती है।

1 person found this helpful
View All Feed