Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. Mangesh Dake

Orthopedist, Navi Mumbai

Book Appointment
Call Doctor
Dr. Mangesh Dake Orthopedist, Navi Mumbai
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I want all my patients to be informed and knowledgeable about their health care, from treatment plans and services, to insurance coverage....more
I want all my patients to be informed and knowledgeable about their health care, from treatment plans and services, to insurance coverage.
More about Dr. Mangesh Dake
Dr. Mangesh Dake is one of the best Orthopedists in Panvel, Navi Mumbai. He is currently associated with Prachin Healthcare Multispeciality Hospital in Panvel, Navi Mumbai. Save your time and book an appointment online with Dr. Mangesh Dake on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced Orthopedists in India. You will find Orthopedists with more than 38 years of experience on Lybrate.com. Find the best Orthopedists online in Navi Mumbai. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi
Professional Memberships
Association of Medical Consultants
Indian Orthopaedic Association
Indian Society for Hip and Knee Surgeons

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Mangesh Dake

Prachin Healthcare Multispeciality Hospital

Plot no. 69/2, Behind Hotel Garden Restaurant, Panvel, Navi MumbaiNavi Mumbai Get Directions
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Mangesh Dake

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

I am having back pain and I cannot sit in class and also cannot do heavy work. I think the back pain was because I travel a lot in two wheelers through bumpy roads, so all the shocks may have been transferred to my back which resulted in back pain. So please tell me what to do.

Diploma in Naturopathy & Yogic Science (DNYS)
Ayurveda, Bangalore
I am having back pain and I cannot sit in class and also cannot do heavy work. I think the back pain was because I tr...
Eat broccoli cauliflower cabbage relevant vegetables, take estrogen foods, apply vathakesari oil on that area. Continue this for 15 days. Cured. And if you have any more issues after this treatment please welcome for consultation and keep your health stronger and live long life like our ancestors. Thank you.
1 person found this helpful

I am having problem in stomach.my stomach and back pains at The same time. Sometimes I have constipation and sometimes after eating I feel like having loose motion. I too have smelling in my private areas. And My periods are also irregular. What to do? Female20.

MBBS
General Physician, Mumbai
I am having problem in stomach.my  stomach and back pains at The same time. Sometimes I have constipation and sometim...
Do exercise regularly and daily and Avoid spicy food in your diet and Also avoid peanuts and potatoes in your diet and eat only curd rice or khichdi for few days and drink only boiled water
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My mother is 67 years old and is suffering from knee pain for last few months. Her blood sugar is 7 hba1c and pp is 212. Pressure is fluctuating day and night. Please suggest how to reduce the pain. Thank you.

BPTh/BPT, MPTh/MPT
Physiotherapist, Noida
My mother is 67 years old and is suffering from knee pain for last few months. Her blood sugar is 7 hba1c and pp is 2...
Avoid sitting cross legged. Avoid squatting- quadriceps exercises- lie straight, make a towel role and put it under the knee, press the keen against the role, hold it for 20 secs. Repeat 20 times twice a day. This will help relieve some pain. Core strengthening exercise- straight leg raised with toes turned outward, repeat 10 times, twice a day. Hams stretching- lie straight, take the leg up, pull the feet towards yourself, with a elastic tube or normal belt. Repeat 10 times, twice a day. Sports taping- stretch the tape from both ends and apply on the affected area contrast fomentation (hot and cold).
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I'm 32 years male athletic body. I have severe pain in my heels since 7 years. My uric acid level is about 6 to 7. Tried lot of medications silicon gel pads in shoes. Medicated sandals etc but the problem still persist. I left red meat for 6 months. Consulted many doctors, took injection in heals also but no use. please suggest something.

BHMS
Homeopath, Sindhudurg
I'm 32 years male athletic body. I have severe pain in my heels since 7 years. My uric acid level is about 6 to 7. Tr...
Pain in the heel is a common problem, especially in obese persons. A calcaneal spur is a small bony projection that is formed on the calcaneus or heel bone. It is caused by putting too much pressure on the sinew on the soles of the feet, usually over a long period of time. Treatment there are many medicines present in homeopathy for heel pain & uric acid message complaints in details for treatment.
Submit FeedbackFeedback

I have pain in my shoulders when sleeping. I keep turning to the other side to sleep. That disturbs my sleep a lot.

BPTh/BPT
Physiotherapist, Kolkata
I have pain in my shoulders when sleeping. I keep turning to the other side to sleep. That disturbs my sleep a lot.
Take ift over both shoulders @ 15 min x 20 days uric acid sugar pressure all are normal? consult with orthopaedic arthroscopic surgeon.
Submit FeedbackFeedback

घुटनों के दर्द का आयुर्वेदिक इलाज (Knee Pain - Home and Ayurvedic Treatment)

B.A.M.S, Diploma in Nutrition and Health Education (DNHE, PG Diploma in Hospital Managment
Ayurveda, Delhi
घुटनों के दर्द का आयुर्वेदिक इलाज (Knee Pain - Home and Ayurvedic Treatment)

घुटनों की पीडा ( Knee Pain) :-

हमने कई बार अपने बड़े बुजर्गो को घुटनों के दर्द से तडपते हुए देखा है | दिन रात दवाई खाने से भी उन्हें कोई आराम नही मिलता है चलने फिरने में बहुत परेशानी होती है और साथ ही घुटनों को मोड़ने में, उठने – बैठने में भी दिक्कत आती है | कभी कभी उन्हें इतना ज्यादा दर्द होता की वो ठीक ढंग से सो भी नहीं पाते और उनके घुटनों में सुजन तक भी आ जाती है | उम्र के साथ हड्डियों की बीमारी बढती जाती है |

शरीर के जोड़ों में सूजन उत्पन्न होने पर गठिया होता है या कहे कि जब जोड़ों में उपास्थि (कोमल हड्डी) भंग हो जाती है। शरीर के जोड़ ऐसे स्थल होते हैं जहां दो या दो से अधिक हड्डियाँ एकदूसरे से मिलती हैं जैसे कि कूल्हे या घुटने। उपास्थि जोड़ों में गद्दे की तरह होती है जो दबाव से उनकी रक्षा करती है और क्रियाकलाप को सहज बनाती है। जब किसी जोड़ में उपास्थि भंग हो जाती है तो आपकी हड्डियाँ एक दूसरे के साथ रगड़ खातीं हैं, इससे दर्द, सूजन और ऐंठन उत्पन्न होती है।

सबसे सामान्य तरह का गठिया हड्डी का गठिया होता है। इस तरह के गठिया में, लंबे समय से उपयोग में लाए जाने अथवा व्यक्ति की उम्र बढ़ने की स्थिति में जोड़ घिस जाते हैं जोड़ पर चोट लग जाने से भी इस प्रकार का गठिया हो जाता है। हड्डी का गठिया अक्सर घुटनों, कूल्हों और हाथों में होता है। जोड़ों में दर्द और स्थूलता शुरू हो जाती है। समय-समय पर जोड़ों के आसपास के ऊतकों में तनाव होता है और उससे दर्द बढ़ता है।

गठिया क्या होता है?

गठिया एक लंबे समय तक चलने वाली जोड़ों की स्थिति होती है जिससे आमतौर पर शरीर के भार को वहन करने वाले जोड़ जैसे घुटने, कूल्हे, रीढ़ की हड्डी तथा पैर प्रभावित होते हैं। इसके कारण जोड़ों में काफी अधिक दर्द, अकड़न होती है और जोड़ों की गतिविधि सीमित हो जाती है। समय के साथ साथ गठिया बदतर होता चला जाता है। यदि इसका उपचार नहीं किया जाता है, तो घुटनों के गठिया से व्यक्ति का जीवन काफी अधिक प्रभावित हो सकता है। गठिया से पीडि़त व्यक्ति अपनी रोजमर्रा की गतिविधियां करने में समर्थ नहीं हो पाते और यहां तक कि चलने-फिरने जैसा सरल काम भी मुश्किल लगता है। इस प्रकार के मामलों में, क्षतिग्रस्त घुटने को बदलने के लिए डॉक्टर सर्जरी कराने के लिए कह सकता है।

क्यों होता है गठिया

अनहेल्दी फूड, एक्सरसाइज की कमी और बढ़ते वजन की वजह से घुटनों का दर्द भारत जैसे देशों में एक बड़ी समस्या का रूप लेता जा रहा है। 40-45 की उम्र में ही घुटनों में दिक्कतें आने लगी हैं। सर्वेक्षण कहते हैं कि दुनिया में करीब 40 प्रतिशत लोग घुटनों में दर्द से परेशान हैं। इनमें से लगभग 70 प्रतिशत आर्थराइटिस जैसी बीमारियों से भी जूझ रहे हैं। इनमें से 80 फीसदी अपने घुटनों को आसानी से मोड़ तक नहीं सकते। घुटनों की खराबी के शिकार 25 फीसदी लोग अपने रोजमर्रा के कामों को भी आसानी से नहीं कर पाते हैं। भारत में यह समस्या काफी गंभीर है। घुटनों का दर्द काफी हद तक लाइफ स्टाइल की देन है। यदि लाइफ स्टाइल और खानपान को हेल्दी नहीं बनाया तो यह समस्या और भी गंभीर हो सकती है। घुटने पूरे शरीर का बोझ सहन करते हैं। इन्हें बचाने का तरीका हेल्दी लाइफ स्टाइल, एक्सरसाइज और हैल्दी खानपान है। खाने में कैल्शियम वाला भोजन सही मात्रा में लें, सब्जियाँ जरूर खायें, फैट और चीनी से परहेज करें और मोटापे का पास भी न फटकने दें।

क्या वजन कम करने से (घुटनों के दर्द) गठिया में लाभ मिलता है?

घुटनो के गठिया से पीडि़त व्यक्ति के लिए निर्धारित वजन से अधिक वजन होना या मोटापा घुटनों के जोड़ों के लिए हानिकारक हो सकता है। अतिरिक्त वजन से जोड़ों पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है, मांसपेशियों तथा उसके आसपास की कण्डराओं (टेन्डन्स) में खिंचाव होता है तथा इसके कार्टिलेज में टूट-फूट द्वारा यह स्थिति तेजी से बदतर होती चली जाती है। इसके अलावा, इससे दर्द बढ़ता है जिसके कारण प्रभावित व्यक्ति एक सक्रिय तथा स्वतंत्र जीवन जीने में असमर्थ हो जाता है।

यह देखा गया है कि मोटे लोगों में वजन बढ़ने के साथ साथ जोड़ों (विशेष रूपसे वजन को वहन करने वाले जोड़) का गठिया विकसित करने का जोखिम बढ़ जाता है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि मोटे लोगों को या तो अपने वजन को नियंत्रित करने अथवा उसे कम करने केलिए उचित कदम उठाने चाहिए।

गठिया से पीडि़त मोटापे/अधिक वजन से पीडि़त लोगों में वजन में 1 पाउंड (0.45 किलोग्राम) की कमी से, घुटने पर पड़ने वाले वजन में 4 गुणा कमी होती है। इस प्रकार वजन में कमी करने से जोड़ पर खिंचाव को कम करने, पीड़ा को हरने तथा गठिया की स्थिति के आगे बढ़ने में देरी करने में सहायता मिलती है।

घुटनों के दर्द के कई कारण हो सकते है  ( Cause of Knee Pain )

  • अधिक वजन होना,
  • कब्ज होना,
  • खाना जल्दी-जल्दी खाने की आदत,
  • फास्ट-फ़ूड का अधिक सेवन,
  • तली हुई चीजें खाना,
  • कम मात्रा में पानी पीना,
  • शरीर में कैल्सियम की कमी होना।

घुटनो में दर्द  के बचाव के कुछ आसान तरीके । (Home treatment for knee pain)

  • खाने के एक ग्रास को कम से कम 32 बार चबाकर खाएं। इस साधरण से प्रतीत होने वाले प्रयोग से कुछ ही दिनों में घुटनों में साइनोबियल फ्रलूड बनने लग जाती है।
  • पूरे दिन भर में कम से कम 12 गिलास तक पानी अवश्य पिए। ध्यान दीजिए, कम मात्रा में पानी पीने से भी घुटनों में दर्द बढ़ जाता है।
  • भोजन के साथ अंकुरित मेथी का सेवन करें।
  • बीस ग्राम ग्वारपाठे अर्थात् एलोवेरा के ताजा गूदे को खूब चबा-चबाकर खाएं साथ में 1-2 काली मिर्च एवं थोड़ा सा काला नमक तथा ऊपर से पानी पी लें। यह प्रयेाग खाली पेट करें। इस प्रयोग के द्वारा घुटनों में यदि साइनोबियल फ्रलूड भी कम हो गई हो तो बनने लग जाती है।
  • चार कच्ची-भिंडी सवेरे पानी के साथ खाएं। दिन भर में तीन अखरोट अवश्य खाएं। इससे भी साइनोबियल फ्रलूड बनने लगती है। अनुभूत प्रयोग है।
  • एक्यूप्रेशर-रिंग को दिन में तीन बार, तीन मिनट तक अनामिका एवं मध्यमा अंगुलि में एक्यूप्रेशर करें।
  • प्रतिदिन कम से कम 2-3 किलोमीटर तक पैदल चलें।
  • दिन में दस मिनट आंखें बंद कर, लेटकर घुटने के दर्द का ध्यान करें। नियमित रूप से अनुलोम-विलोम एवं कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास करें। अनुलोम-विलोम धीरे-धीरे एवं कम से कम सौ बार अवश्य करें। इससे लाभ जल्दी होने लगता है।

 

हल्दी चुने का लेप (Lime and turmeric paste)

  1. हल्दी और चुना दर्द को दूर करने में अधिक लाभदायक साबित होते है ।
  2. हल्दी और चुना को मिलकर सरसो के तेल में थोड़ी देर तक गरम करे फिर उस लेप को घुटने में लगाकर रखे ।
  3. कुछ समय बाद दर्द मेा आराम मिलेगा
  4. इस प्रक्रिया को दिन मेा दो बार करे ।

हल्दी वाला दूध (Turmeric Milk) :-

एक ग्लास दूध में एक चम्मच हल्दी के पावडर को मिलाकर सुबह शाम काम से काम दो बार पीए
यह एक प्राकृतिक दर्द निवारक का काम करता है

नेचुरल ट्रीटमेंट ( Natural treatment):-

विटामिन डी (vitamin D )का सबसे अच्छा स्रोत सूरज से उत्पन धुप ( sun light) है , जिससे आपको नेचुरल विटामिन डी (vitamin D ) मिलती है  जो हड्डी (bones)के लिए अधिक लाभदायक है

आयुर्वेद के अनुसार में बनाई गयी औषधियां ( Natural Medicine made in Ayurveda)

  • अमृता सत्व,
  • गोदंती भस्म,
  • प्रवाल पिष्टी,
  • स्वर्ण माक्षिक भस्म,
  • महावत विध्वंसन रस,
  • वृहद वातचितामणि रस,
  • एकांगवीर रस,
  • महायोगराज गुग्गुल,
  • चंद्रप्रभावटी,
  • पुनर्नवा मंडुर

इत्यादि औषधियों का सेवन  आयुर्वेदिक डॉक्टर  के परामर्श से करे। औषधियों के सेवन से  बिना किसी साइडइपैफक्ट के अधिक लाभ मिलता है।

दर्द के दौरान क्या न खाये। (Donot eat during Pain)

  • अचार,
  • चाय तथा रात के समय हलका व सुपाच्य आहार लें।
  • रात के समय चना, भिंडी, अरबी, आलू, खीरा, मूली, दही राजमा इत्यादि का सेवन भूलकर भी नहीं करें
6 people found this helpful

Hi doctor I am suffering from low back pain, its like sciatica can you please help me. Which tablet I have to take.

BAMS, MD, Panchakrma
Ayurveda, Nashik
Hi doctor I am suffering from low back pain, its like sciatica can you please help me. Which tablet I have to take.
1) Do massage with warm sesame oil or suitable oil for 15 min., afterwards take hot fomentation for 10 min. 2) Start natural calcium supplement. 3) Do regular stretching exercise 4) In yoga DO BHUJANGASAN, HALASAN & SURYANAMASKAR. LIFE-STYLE CORRECTION 1) Correct your sitting posture. 2) Take small pillow or back rest for lower back. 3) Foot should rest to floor easily. 4) Take small break after 1 hr & walk few steps. 5) Do neck & upper back extension, consult online for medicines & details
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 20 years suffering from neck pain I have been doing all sort of neck exercises to relieve from pain but no effect can you suggest me to be normal.

BHMS
Homeopath, Faridabad
I am 20 years suffering from neck pain I have been doing all sort of neck exercises to relieve from pain but no effec...
Hello, along with your daily exercising you should take gelsemium 30, 3 drops once daily. Hypericum 1x, 2 tab with warm water twice daily. Apply topi arnica on the painful area of the neck. Revert me after 1 week.
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Doctors

Dr. Kunal Makhija

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, MS - Orthopaedics, Fellowship In Joint Replacement, Fellowship In Minimal Invasive Subvastus Knee Replacement
Orthopedist
Patel Clinic & Orthopedic Centre, 
300 at clinic
Book Appointment