Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Sunila Ghathar

Pediatrician, Mumbai

Book Appointment
Call Doctor
Dr. Sunila Ghathar Pediatrician, Mumbai
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them....more
My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them.
More about Dr. Sunila Ghathar
Dr. Sunila Ghathar is a trusted Pediatrician in Borivali West, Mumbai. You can consult Dr. Sunila Ghathar at Niramaya Clinic in Borivali West, Mumbai. Don’t wait in a queue, book an instant appointment online with Dr. Sunila Ghathar on Lybrate.com.

Find numerous Pediatricians in India from the comfort of your home on Lybrate.com. You will find Pediatricians with more than 30 years of experience on Lybrate.com. You can find Pediatricians online in Mumbai and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Sunila Ghathar

Niramaya Clinic

Flat No 1, C Wing, Parasmani Building, Chikuwadi, Borivali West. Landmark : Opposite Chikuwadi Joggers Park, MumbaiMumbai Get Directions
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Sunila Ghathar

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Baby does not sleep at night wakes up every one hour 7 month old started solids n breastfed.

MD - Paediatrics, MBBS
Pediatrician, Faridabad
Give some evening body massage,if possible bathe or sponge,change clothes and feed.Probably baby will have good sleep.No TV in bed room.Least distraction
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My baby boy of 21 days suffering from Red rashes near anal opening and it pains on passing stool, the stool is watery and contains bubbles. Plus advise.

C.S.C, D.C.H, M.B.B.S
General Physician, Alappuzha
My baby boy of 21 days suffering from Red rashes near anal opening and it pains on passing stool, the stool is watery...
This is usual and you should not give bottle feed and only breast milk and can apply diaper cream or T Bact cream.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

How much ONDEM syrup must be given to 1 year child & How many times a day in case of vomiting?

C.S.C, D.C.H, M.B.B.S
General Physician, Alappuzha
How much ONDEM syrup must be given to 1 year child & How many times a day in case of vomiting?
Dose of medicines for babies depend on weight and normally assuming he is 10 Kg or more 2.5 Ml is enough
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My baby is 2.5 month old. He feeds with bottle. please tell me what are the side effect of bottle if I properly sterilize the bottle before feed him.

MD - Paediatrics, MBBS
Pediatrician, Tumkur
My baby is 2.5 month old. He feeds with bottle. please tell me what are the side effect of bottle if I properly steri...
Bottle feeding may result in diarrhoea, pneumonia, middle ear infection, gas accumulation, addiction etc. Bottle can be sterilised only if it's boiled for 20 minutes.
Submit FeedbackFeedback

I have a problem of bedwetting. I am suffering from my childhood so please help me to cure this problem as it is not good for me.

MBBS MD DCH FRCP (LONDON), Dch
Pediatrician, Muzaffarpur
I have a problem of bedwetting. I am suffering from my childhood so please help me to cure this problem as it is not ...
Well bedwetting also known as nocturnal enuresis is not uncommon in childhood due to immaturity of full urinary bladder which fails to send signal to brain to awaken the child. Most cases have genetic predisposition (familial tendency). Invariably the condition remits once the child grows up. It is uncommon to persist in adolescent age group. What to do then? it is first desirable to rule out any structural or functional anamoly of urinary tract. Once ruled out then following measures help a lot. 1 toilet training: to hold urine during day time to strengthen/enhance bladder capacity 2 to void urine 2 hours prior to sleep 3 no water/liquid intake within 2 hours of sleep. 4 role of drugs like imipramine is limited. There is relapse once medicine is stopped 5 wet bed alarm bell has been found to be very effective as with single drop of urine passed during sleep shall alarm the bell and person shall go the toilet for completion voiding 6 I have found with mentat syrup very encouraging results. 7 the family support is required! 8 there is nothing to be disappointed. You shall overcome this problem slowly but surely
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hello my son is 2 years old and his weight is 8. 5kgs I am veg I don' t want to give him any non veg food not even eggs but many people around me suggest me to give eggs so could you tell me it is really help me or is there any equivalent food for high protein?

Pediatrician, Pune
Exclusive vegetarian diet causes vit b12 deficiency leading to anemia, developmental problems, occasional egg given does not cause any harm, but if you still want to give exclusively vegetarian diet, then soya bean, dal rajma, ground nuts are good sources of protein, see that the child gets sufficient amount of these nutrients.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

After every meal my 3 years old daughter goes to pass the stool. Please suggest any homeopathy medicine to improve her digestion. Also everything she puts in mouth. Her weight is also less. So suggest medicine for weight gain. I give her chyawanprash & gulkand daily.

DHMS (Hons.)
Homeopath, Patna
After every meal my 3 years old daughter goes to pass the stool. Please suggest any homeopathy medicine to improve he...
Hello, she should be hydrated, first. Her diet be easily digestible on time. Give her homoeopathic medicine:@.China 30-2 drops, thrice, dly. Avoid, junkfood, spicy and fried intake. Tk, care.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

my kid is 3 years old, I joined him in a school, but he will not play with other kids, and sits alone separately, why is he behaving like that, is there any problem. Please reply.

MBBS
Pediatrician,
It is new environment for him, give him some to make friends, take out yours child evening and play along with him.
Submit FeedbackFeedback

Bachon ki Khansi ka ilaj

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Bachon ki Khansi ka ilaj

बहुत आम पर हालत बिगाड़ देने वाली आम बीमारियों में से एक है खांसी। खांसी अगर गम्भीर रूप में हो जाए तो हेल्दी हेल्दी व्यक्ति भी थक हार कर सुस्त पड़ जाता है। शरीर का हर हिस्सा दर्द महसूस करने लगता है क्योंकि खांसते समय इसका असर केवल गले पर ही नही बल्कि सीना पेट हाथ पैर सब पर इफ़ेक्ट पड़ता है। बड़े तो फिर भी अपनी तकलीफ बयान कर भी लेते हैं और उसका इलाज भी कर लेते हैं पर सोचने की बात है कि बच्चों को खांसी होने पर उनका क्या हाल होता होगा। क्योंकि ना वो बता पाते हैं ना खुदसे अपनी मदद कर सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि हमें पूरी जानकारी हो बच्चों को होने वाली खांसी की वजह और उसके इलाज के लिए घरेलू नुस्खों के बारे में।

दरसलश्लेम यानी म्यूकसको बाहर निकालने की कोशिश में या फिर गले और वायु मार्ग में सूजन होनेकी वजह से शिशु खांसता है।खांसी की वजह बहुत सी होती हैं, मगर आमतौर पर यह सर्दी-जुकाम या फ्लू का लक्षण होता है। ऐसे में हम अक्सर दवाओं का सहारा लेते हैं पर आपको यह बात पता होनी चाहिए कि सर्दी, जुकाम, खांसी जैसी बीमारियों में दवा देने की बजाय होम रेमेडीज अपनानी चाहिए। क्योंकि इन बीमारियों का नेचुरल तरीके से इलाज करना जितना बेहतर होता है उतना ही अंग्रेजी दवाओं से इलाज करना नेगेटिव साइड इफ़ेक्ट से भरपूर। तो आइए आज हम जानेंगे शिशुओं को होने वाली खांसी कारण और इससे राहत दिलाने वाले कुछ घरेलू नुस्खे।

खांसी के कारण

1. सर्दी-जुकाम
अगर आपके शिशु को सर्दी-जुकाम की वजह से खांसी हो रही हो, तो उसे साथ में बंद नाक, बहती नाक, गले में खारिश, आंखों में पानी और बुखार जैसे लक्षण भी हो सकते हैं। जुकाम की वजह से बनने वाले अतिरिक्त श्लेम को निकालने के लिए आपका शिशु खांसता है।

2. फ्लू
फ्लू के लक्षण सर्दी-जुकाम की तरह ही लग सकते हैं। अगर, आपके शिशु को फ्लू हो, तो उसे बुखार, नाक बहना और कई बार दस्त (डायरिया) या उल्टी भी हो सकती है। मगर फ्लू की वजह से होने वाली खांसी, जुकाम वाली खांसी से अलग होगी। यह बलगम वाली खांसी की बजाय सूखी खांसी होगी। इसका मतलब यह है कि आपका शिशु खांसी के साथ काफी कम बलगम निकाल रहा होगा।

3. क्रूप
अगर शिशु को क्रूप हो, तो उसे वायु मार्ग में सूजने होने की वजह से खांसी होगी। शिशुओं का वायु मार्ग काफी संकरा होता है और आपसे काफी छोटा होता है। इसलिए इनमें सूजन होने पर शिशु के लिए सांस लेना मुश्किल हो जाता है। छह माह और तीन साल के बीच के बच्चों को क्रूप होने की संभावना ज्यादा होती है। क्रूप खांसी मे भौंकने जैसी आवाज निकलती है। जो कि अक्सर रात में शुरु होती है।

4. काली खांसी 
काली खांसी या कुक्कर खांसी एक बैक्टिरियल इंफेक्शनहै। यह काफी संक्रामक होती है। काली खांसी में बहुत ज्यादा और खुश्क खांसी होती है। इसमें बहुत सारा श्लेम निकलता है और खांसते समय सांस लेते हुए उच्च स्वर या ध्वनि निकलती है।

5. दमा
शिशु को दमा की वजह से भी खांसी हो सकती है। अस्थमा से ग्रस्त शिशु की सांस लेते व छोड़ते समय श्वास फूलती है। उनकी छाती भी कस जाती है और सांस की कमी होने लगती है।

6. तपेदिक 
लगातार रहने वाली खांसी टी.बी. का लक्षण हो सकता है। टी.बी. की खांसी दो सप्ताह से ज्यादा जारी रहती है। टी.बी. से ग्रस्त शिशु की खांसी में खून आ सकता है, उसे सांस लेने में कठिनाई हो सकती है और भूख लगना कम हो सकती है। शिशु को बुखार भी हो सकता है।

बच्चों की खांसी के उपचार के लिए घरेलू नुस्खे 

1. गर्म तरल चीजें पिलाएं
बच्चे को ठंडे की बजाय गर्म पानी और बाकी चीज भी गर्म तासीर वाली ही पिलाएं जिससे गले की सूजन को आराम मिलेगा।

2. वाष्पित्र या वेपोरब का इस्तेमाल करें
वेपोरब २ साल के बच्चे को भी खॉँसी में तेजी से राहत देता है। इस जादुई रगड़ में मेन्थॉल, कपूर और नीलगिरी जैसी सामग्री हैंबच्चे को आराम दिलाती है।

3. सिर ऊंचा कर के सुलाएं
बलगम नाक से गले में टपक सकता है, जिसके परिणाम में गंभीर खाँसी हो सकती है। शरीर की ऐसी मुद्रा बहाव को प्रेरित कर सकती है। इसलिए बच्चे को उंचे स्थान पर सिर रखकर सोने से बहाव न होने में मदद होगी।

4. हल्दी की मदद लें
गर्म दूध के साथ आधी चम्मच हल्दी पाउडर मिलाए और बेहतर राहत पाने के इस मिश्रण को गरम ही पिलाएं। या फिरगर्म पानीमें एक चुटकी हल्दी पाउडर और नमक मिलाकर बच्चे से गरारा करवाने की कोशिश करें।

5. शहद अपनाएं
रात के समय सूखी खांसी से राहत के लिए बच्चे को सुलाने के पहलेउसे गर्म दूध में मिलाकर पिलाएं।

6. अदरक
एक कप पानी में अदरक के टुकड़ों को ड़ाल कर इस मिश्रण को आधि मात्रा होने तक उबालकर छान के इसमे एक चम्मच शहद डालकर बच्चे को पिलाएं।

7. तुलसी
तुलसी के पत्तों का रस निकाल कर बच्चे को पिलाएं।

8. अंगूर का जादू
अंगूर प्राकृतिक कफोत्सारक हैं और वे आपके फेफड़ों से कफ निकाल देते हैं। इन फलों के रस में शहद मिलाए और इस रसको बच्चे सोने से पहले थोड़ा सा पिलाएं।

9. एलोवेरा
बड़ों की खांसी हो या बच्चे की खांसी एलोवेरा का रस और शहद के मिश्रण काफी असरदार नुस्खा है।

View All Feed

Near By Doctors

90%
(45 ratings)

Dr. Shilpa

DAA, Diploma in Child Health (DCH), MBBS, DMRD
Pediatrician
Asthma Allergy Clinic, 
350 at clinic
Book Appointment
90%
(144 ratings)

Dr. Maulik Shah

MBBS, MD - Paediatrics
Pediatrician
Dr Maulik Shah's Vatsalya Child's Clinic, 
250 at clinic
Book Appointment