Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Sharada Kulkarni

Gynaecologist, Mumbai

Book Appointment
Call Doctor
Dr. Sharada Kulkarni Gynaecologist, Mumbai
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

My experience is coupled with genuine concern for my patients. All of my staff is dedicated to your comfort and prompt attention as well....more
My experience is coupled with genuine concern for my patients. All of my staff is dedicated to your comfort and prompt attention as well.
More about Dr. Sharada Kulkarni
Dr. Sharada Kulkarni is a trusted Gynaecologist in Borivali East, Mumbai. She is currently associated with Siddhi Infertility Centre & Maternity Hospital in Borivali East, Mumbai. You can book an instant appointment online with Dr. Sharada Kulkarni on Lybrate.com.

Lybrate.com has a number of highly qualified Gynaecologists in India. You will find Gynaecologists with more than 28 years of experience on Lybrate.com. You can find Gynaecologists online in Mumbai and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Sharada Kulkarni

Siddhi Infertility Centre & Maternity Hospital

1, Sai Ashish 2, Sant Dnyaneshwar Marg, Savarkar Nagar, Borivali EastMumbai Get Directions
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Sharada Kulkarni

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Hi, I had c section delivery 10 months baby. Now I am pregnant again & I want to continue it & I have not other health issues. Is it OK or not pls.

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, FMAS, DMAS
Gynaecologist, Noida
Hi, I had c section delivery 10 months baby. Now I am pregnant again & I want to continue it & I have not other healt...
Hello, It is not advisable to continue pregnancy as uterine scar is still raw and not healed completely. But if you wish, you have to be under surveillance regularly.
Submit FeedbackFeedback

Dear sir/mam A white thick and long liquids are coming out from my vagina. When it comes it pains alot around pelvic ad stomach region. Why it is so?

Bachelor of Ayurvedic Medicines and Surgery(BAMS), Post Graduation Diploma in Emergency Medicines And Services(PGDEMS), MD - Alternate Medicine
Ayurveda, Ghaziabad
Dear sir/mam
A white thick and long liquids are coming out from my vagina. When it comes it pains alot around pelvic ...
Cook a handful of rice in a half a lit of water in an open pan. When rice is ready don’t throw the residue water drink reason this water when it remains that much hot that you can consume. Drink it on adding 1 tsp of sugar. This relieves your leucorrhoea that within a week. This is one of the most common home remedies for leucorrhoea.
Submit FeedbackFeedback

I HAVE got my CAROTID DOPPLER REPORT Both common carotid arteries are normal in course and caliber with normal age related internal thickening. Colour doppler imaging reveals normal colour filling. Spectral traces show normal wave form and flow velocities Right CCA 0.62M/SEC LEFT cca 0.67n/sec Opinion right carotid bulb showing soft hypoechoic plaque in the medial wall causing 33% luminal narrowing. The plaque is going into proximal part of ICA PLEASE ADVISE I AM SO DEPRESSED.

Diploma in Obstetrics & Gynaecology, MBBS
General Physician, Delhi
I HAVE got my CAROTID DOPPLER REPORT Both common carotid arteries are normal in course and caliber with normal age re...
You have to be careful about progress of plaque, it should not increase. Reduce bad fats, keep good lipids on higher side, get total lipid profile done, if cholesterol is high, try to bring it down through diet and exercise. Do send the reports here on the forum. Spoon of honey with lemon juice in warm water everyday does reduce blood sugar and cholesterol (responsible for plaque, some people have tried pomegranate juice to reduce blockages, others vouch for apple cider vinegar benefits, if these can reduce plaque, without any harm to body, you can also try. Go for long walks as a simple exercise and meditation, reduce stress as internal steroids are generated due to stress and all steroids lead to increase in plaque.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hi sir I am 30 years male my blood group is O positive and my wife A negative also hemoglobin less to average have any problem have due to delivery. Pls give ans.

MICOG, MS, MBBS
Gynaecologist, Delhi
Hi sir I am 30 years male my blood group is O positive and my wife A negative also hemoglobin less to average  have a...
Rh neg pregnancy and low hb anaemia are high risk conditions, pregnancy must be supervised by gynae.
Submit FeedbackFeedback

Sir please tell me is there any chance of periods during pregnancy if yes so please how should be the colour of blood if no then I understand please clear me as soon as possible.

MBBS
General Physician, Mumbai
Sir please tell me is there any chance of periods during pregnancy if yes so please how should be the colour of blood...
There should not be any kind of bleeding if a lady is pregnant and which needs to be evaluated after clinical examination.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am not getting conceive after a cesarian operation which was before three years why?

MD - Obstetrtics & Gynaecology, DGO
IVF Specialist, Mumbai
I am not getting conceive after a cesarian operation which was before three years why?
Please get your basic fertility investigations done like Hormonal tests, HSG and husband's semen analysis. Kindly share the reports with us so that we can guide you further.
Submit FeedbackFeedback

I have undergone hsg test and report says small left hydrosalpinx. Wat does it means? How it can be treated? Can I get pregnancy.

BHMS
Homeopath, Sindhudurg
hydrosalpinx is a distally blocked fallopian tube filled with serous or clear fluid. very less chances of pregnancy.. you have to take treatment for it and than you can conceive
Submit FeedbackFeedback

Menstrual Cycle in hindi - मासिक धर्म क्या है ?

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Menstrual Cycle in hindi - मासिक धर्म क्या है ?

अक्सर हमेशा हंसने खेलने वाली चंचल लड़कियां भी महीने के कुछ दिन दबी दबी दुखी सी शर्माती खुदको छिपाती नजर आती हैं। और इसी वक़्त पर हम गौर करें तो पाएंगे कि घर परिवार के कुछ लोग भी उससे कटे कटे रहते हैं कई चीजों को छूने कई जगह जाने पर पर भी मनाही होती है। जी हां बिलकुल सही समझें आप हम बात कर रहे हैं पीरियड्स की। यह केवल महिलाओं ही नही पुरुषों या यूँ कहें मानव वृद्धि के लिए सबसे अहम घटना है। तो चलिए आज हम जानते हैं पीरियड्स क्या हक़ क्यों आता है इसका सही समय, महत्व आदि। 
पीरियड्स या मासिक धर्म स्त्रियों को हर महीने योनि से होने वाला लाल रंग के स्राव को कहते है। पीरियड्स के विषय में लड़कियों को पूरी जानकारी नहीं होने पर उन्हें बहुत दुविधा का सामना करना पड़ता है। पहली बार पीरियड्स होने पर जानकारी के अभाव में लड़कियां बहुत डर जाती है। उन्हें बहुत शर्म महसूस होती है और अपराध बोध से ग्रस्त हो जाती है। 

पीरियड्स को रजोधर्म भी कहते है। ये शारीरिक प्रक्रिया सभी क्रियाओं से अधिक महवपूर्ण है, क्योकि इसी प्रक्रिया से ही मनुष्य का ये संसार चलता है। मानव की उत्पत्ति इसके बिना नहीं हो सकती। प्रकृति ने स्त्रियों को गर्भाशय ओवरी फेलोपियन ट्यूब, और वजाइना देकर उसे सन्तान उत्पन्न करने का अहम क्षमता दिया है। इसलिए पीरियड्स या मासिक धर्म गर्व की बात होनी चाहिए ना कि शर्म की या हीनता की। सिर्फ इसे समझना और संभालना आना जरुरी है। इस प्रक्रिया से घबराने या कुछ गलत या गन्दा होने की हीन भावना महसूस करने की बिल्कुल आवश्यकता नहीं है। पीरियड्स मासिक धर्म को एक सामान्य शारीरिक गतिविधि ही समझना चाहिए जैसे उबासी आती है या छींक आती है। भूख, प्यास लगती है या सू-सू पोटी आती है।

मासिक चक्र

  • दो पीरियड्सके बीच का नियमित समय मासिक चक्र ( Menstruation Cycle ) कहलाता है। नियमित समय पर पीरियड्स( Menses ) होने का मतलब है कि शरीर के सभी प्रजनन अंग स्वस्थ है और अच्छा काम कर रहे है। मासिक चक्र की वजह से ऐसे हार्मोन बनते है जो शरीर को स्वस्थ रखते है। हर महीने ये हार्मोन शरीर को गर्भ धारण के लिए तैयार कर देते है।
  • मासिक चक्र के दिन की गिनती पीरियड्सशुरू होने के पहले दिन से अगली पीरियड्सशुरू होने के पहले दिन तक की जाती है। लड़कियों में मासिक चक्र 21 दिन से 45 दिन तक का हो सकता है। महिलाओं को मासिक चक्र 21 दिन से 35 दिन तक का हो सकता है। सामान्य तौर पर मासिक चक्र 28 दिन का होता है।

मासिक चक्र के समय शरीर में परिवर्तन 

1. हार्मोन्स में परिवर्तन
 मासिक चक्र के शुरू के दिनों में एस्ट्रोजन नामक हार्मोन बढ़ना शरू होता है। ये हार्मोन शरीर को स्वस्थ रखता है विशेषकर ये हड्डियों को मजबूत बनाता है। साथ ही इस हार्मोन के कारण गर्भाशय की अंदरूनी दीवार पर रक्त और टिशूज़ की एक मखमली परत बनती है ताकि वहाँ भ्रूण पोषण पाकर तेजी से विकसित हो सके। ये परत रक्त और टिशू से बनी होती है।
2. ओव्यूलेशन 
संतान उत्पन्न होने के क्रम में किसी एक ओवरी में से एक विकसित अंडा डिंब निकल कर फेलोपीयन ट्यूब में पहुँचता है। इसे ओव्यूलेशन कहते है। आमतौर पर ये मासिक चक्र के 14 वें दिन होता है । कुछ कारणों से थोड़ा आगे पीछे हो सकता है। 
ओव्यूलेशन के समय कुछ हार्मोन जैसे एस्ट्रोजन आदि अधिकतम स्तर पर पहुँच जाते है। इसकी वजह से जननांगों के आस पास ब्लड सर्कुलेशन बढ़ जाता है। योनि के स्राव में परिवर्तन हो जाता है। जिसके कारण महिलाओं की सेक्सुअल डिजायर बढ़ जाती हैं। इसलिए इस ड्यूरेशन में सेक्स करने पर प्रेग्नेंट होने के चन्वेस बढ़ जाते हैं।
3. अंडा 
फेलोपियन ट्यूब में अगर अंडा शुक्राणु द्वारा निषेचित हो जाता है तो भ्रूण का विकास क्रम शुरू हो जाता है। अदरवाइज 12 घंटे बाद अंडा खराब हो जाता है। अंडे के खराब होने पर एस्ट्रोजन हार्मोन का लेवल कम हो जाता है। गर्भाशय की ब्लड व टिशू की परत की जरुरत ख़त्म हो जाती है। और ऐसे में यही परत नष्ट होकर योनि मार्ग से बाहर निकल जाती है। इसे ही पीरियड्स, मेंस्ट्रुल साइकिल, महीना आना या रजोधर्म भी कहा जाता है। और इस दौर से गुजऱने वाली स्त्री को रजस्वला कहा जाता है।
4. ब्लीडिंग
पीरियड्स के समय अक्सर यह मन में यह मन में यह सवाल आता है की ब्लीडिंग कितने दिन तक होना चाहिए और कितनी मात्रा में होना चाहिए कि जिसे सामान्य मानें। पीरियड यानि MC के समय निकलने वाला स्राव सिर्फ रक्त नहीं होता है। इसमें नष्ट हो चुके टिशू भी होते है। अतः ये सोचकर की इतना सारा रक्त शरीर से निकल गया, फिक्र नहीं करनी चाहिए। इसमें ब्लड की क्वांटिटी करीब 50 ml ही होती है। नैचुरली पीरियड्स तीन से छः दिन तक होता है। तथा स्राव की मात्रा भी अलग अलग हो सकती है। यदि स्राव इससे ज्यादा दिन तक चले तो डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।

पीरियड्स से पहले के लक्षण
लड़कियों को शुरू में अनियमित पीरियड्स, ज्यादा या कम दिनों तक पीरियड, कम या ज्यादा मात्रा में स्राव, डिप्रेशन आदि हो सकते है। इसके अलावा पीएमएस यानि पीरियड्स होने से पहले के लक्षण नजर आने लगते है। अलग अलग स्त्रियों को पीएमएस के अलग लक्षण हो सकते है। इस समय पैर, पीठ और अँगुलियों में सूजन या दर्द हो सकता है। स्तनों में भारीपन, दर्द या गांठें महसूस हो सकती है। सिरदर्द, माइग्रेन, कम या ज्यादा भूख, मुँहासे, त्वचा पर दाग धब्बे, आदि हो सकते है। इस तरह के लक्षण पीरियड शुरू हो जाने के बाद अपने आप ठीक हो जाते है। इसलिए उन दिनों में अपने आपको सहारा डैम और मजबूत बनें।

पीरियड्स आने की उम्र 
आमतौर पर लड़कियों में पीरियड्स 11 से 14 साल की उम्र में शुरू हो जाती है। लेकिन अगर थोड़ा देर या जल्दी आजाए तो चिंता न करें। पीरियड्सशुरू होने का मतलब होता है की लड़की माँ बन सकती है। शुरुआत में पीरियड्सऔर ओव्यूलेशन
के समय में अंतर हो सकता है। यानि हो सकता है की पीरियड्सशुरू नहीं हो लेकिन ओव्यूलेशन शुरू हो चुका हो। ऐसे में गर्भ धारण हो सकता है। और इसका उल्टा भी संभव है। यह बहुत महत्त्वपूर्ण है कि पीरियड्स शुरू नहीं होने पर भी प्रेगनेंट होना संभव है इसलिए सावधानी बरतें।

पहले ही किशोरियों को समझाएं 
लड़कियों में शारीरिक परिवर्तन दिखने पर या लगभग 10 -11 साल की उम्र में मासिक धर्म के बारे में जानकारी देकर इसे कैसे मैनेज करना है समझा देना चाहिए। जिससे वे शरीर में होने वाली इस सामान्य प्रक्रिया के लिए मानसिक रूप से भी तैयार हो जाएँ। साथ ही आप लोगों को भी यह समझने की जरूरत है कि पीरियड्स मवं में अपवित्रता जैसा कुछ नहीं है। ये एक सामान्य शारीरिक क्रिया है जो एक जिम्मेदारी का अहसास कराती है। इसकी वजह से लड़कियों पर आने जाने या खेलने कूदने पर पाबन्दी नहीं लगानी चाहिए। पर ध्यान रहे बच्चियों को गर्भ धारण करने की सम्भावना के बारे में जरूर समझाना चाहिए जिससे वे सतर्क रहें। 

पीरियड्स आने पर 
सभी महिलाएं पीरियड्स की डेट जरूर याद रखें जिससे आप पहले ही तैयार रहें। 
इस दौरान खुदको किसी चीज़ से न रोकें नहीं। सामान्य जीवन शैली ही जिएं। बस अगर मौका मिले तो थोड़ा आराम करें।
 

10 people found this helpful
View All Feed

Near By Doctors

Dr. Rishma Dhillon Pai

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, DGO, MD - Gynae, FCPS - Gynae, DNB - Obs & Gynae
Gynaecologist
The Every Woman Cliniq, 
500 at clinic
Book Appointment
92%
(1860 ratings)

Dr. Vandana Walvekar

MD
Gynaecologist
Bhatia Hospital, 
300 at clinic
Book Appointment
90%
(32 ratings)

Dr. Anjali J Bapat

Masters In Counselling & Psychotherapy, DGO, MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery
Gynaecologist
Hinduja HealthCare Surgical Hospital, 
300 at clinic
Book Appointment

Dr. Shubhada Sanjiv Khandeparkar

MBBS, MD - Obstetrics & Gynaecology, FICS, FICOG
Gynaecologist
S L Raheja Fortis Hospital, 
350 at clinic
Book Appointment
91%
(146 ratings)

Dr. Nutan Hegde

MBBS, DGO, MRCOG
Gynaecologist
My Arogya, 
300 at clinic
Book Appointment
96%
(107 ratings)

Dr. Priyanka Singh

MBBS, MS - Obs and Gynae, MRCOG(London), DNB, Fellowship In Uro Gynaecology
Gynaecologist
Dr. Priyanka's Online consultation clinic, 
300 at clinic
Book Appointment