Lybrate Mini logo
Lybrate for
Android icon App store icon
Ask FREE Question Ask FREE Question to Health Experts
Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Dr. Shafika S Lambey

Gynaecologist, Mumbai

Dr. Shafika S Lambey Gynaecologist, Mumbai
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I believe in health care that is based on a personal commitment to meet patient needs with compassion and care....more
I believe in health care that is based on a personal commitment to meet patient needs with compassion and care.
More about Dr. Shafika S Lambey
Dr. Shafika S Lambey is a trusted Gynaecologist in Mumbai Central, Mumbai. You can meet Dr. Shafika S Lambey personally at Konkan Polyclinic in Mumbai Central, Mumbai. Save your time and book an appointment online with Dr. Shafika S Lambey on Lybrate.com.

Find numerous Gynaecologists in India from the comfort of your home on Lybrate.com. You will find Gynaecologists with more than 40 years of experience on Lybrate.com. You can find Gynaecologists online in Mumbai and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment

1st Floor, Zia Apts, 264, Bellanis Road, Mumbai Central, MumbaiMumbai Get Directions
...more
View All

Consult Online

Text Consult
Send multiple messages/attachments
7 days validity
Consult Now

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Shafika S Lambey

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

My sister , she is going for a holiday trip and she have her periods date in that duration. She want to stop her period for that time. She want to delay her date of periods. So what medicine she will take for this?

BHMS
Homeopath, Faridabad
My sister  , she is going for a holiday trip and she have her periods date in that duration. She want to stop her per...
Hello, you are required to start taking the tablet at least three days before your period is due and to continue taking it for the duration that you would like to delay your period. Take tablet it is recommended that norethisterone 5 mg tablets should be taken to delay your period for a maximum of 17 days. It is perfectly safe to delay your period for this amount of time. After you stop taking the tablets, your period is likely to start after two or three days, however the time scale may be different for every individual. This dose of norethisterone is not recommended for prolonged use, as it can cause side-effects and affect your hormone balance.
Submit FeedbackFeedback

I am female 52 years. Old, having fibroid size about 9 cm.(sometimes painful, heavy bleeding during menstrual. Hemoglobin 10, vitamin d-5. Theee ceaserian operations already done. Suggest medicine.

MS - Obstetrics and Gynaecology, MBBS
Gynaecologist, Noida
I am female 52 years. Old, having fibroid size about 9 cm.(sometimes painful, heavy bleeding during menstrual. Hemogl...
No medicine can decrease this fibroid surgery is the only option after relevant investigation. Consult to gynaecologist.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 26 years old girl and I am trying to get pregnant from last 4-5 months but I am facing problem in getting pregnant actually 11 months back I had aborted my I first baby with tablets is that a problem please suggest something.

MBBS, DGO, MD, Fellowship in Gynae Oncology
Gynaecologist, Delhi
I am 26 years old girl and I am trying to get pregnant from last 4-5 months but I am facing problem in getting pregna...
Try conceiving during your fertile period. If still not succeed within 2-3 months then first get an HSG done.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Properties Of Flax Seed

BAMS
Ayurveda, Sonipat
Properties Of Flax Seed

अचूक औषधि अलसी

अलसी असरकारी ऊर्जा, स्फूर्ति व जीवटता प्रदान करता है। अलसी, तीसी, अतसी, कॉमन फ्लेक्स और वानस्पतिक लिनभयूसिटेटिसिमनम नाम से विख्यात तिलहन अलसी के पौधे बागों और खेतों में खरपतवार के रूप में तो उगते ही हैं, इसकी खेती भी की जाती है। इसका पौधा दो से चार फुट तक ऊंचा, जड़ चार से आठ इंच तक लंबी, पत्ते एक से तीन इंच लंबे, फूल नीले रंग के गोल, आधा से एक इंच व्यास के होते हैं।

 इसके बीज और बीजों का तेल औषधि के रूप में उपयोगी है। अलसी रस में मधुर, पाक में कटु (चरपरी), पित्तनाशक, वीर्यनाशक, वात एवं कफ वर्घक व खांसी मिटाने वाली है। इसके बीज चिकनाई व मृदुता उत्पादक, बलवर्घक, शूल शामक और मूत्रल हैं। इसका तेल विरेचक (दस्तावर) और व्रण पूरक होता है।

अलसी की पुल्टिस का प्रयोग गले एवं छाती के दर्द, सूजन तथा निमोनिया और पसलियों के दर्द में लगाकर किया जाता है। इसके साथ यह चोट, मोच, जोड़ों की सूजन, शरीर में कहीं गांठ या फोड़ा उठने पर लगाने से शीघ्र लाभ पहुंचाती है। एंटी फ्लोजेस्टिन नामक इसका प्लास्टर डॉक्टर भी उपयोग में लेते हैं। चरक संहिता में इसे जीवाणु नाशक माना गया है। यह श्वास नलियों और फेफड़ों में जमे कफ को निकाल कर दमा और खांसी में राहत देती है।

इसकी बड़ी मात्रा विरेचक तथा छोटी मात्रा गुर्दो को उत्तेजना प्रदान कर मूत्र निष्कासक है। यह पथरी, मूत्र शर्करा और कष्ट से मूत्र आने पर गुणकारी है। अलसी के तेल का धुआं सूंघने से नाक में जमा कफ निकल आता है और पुराने जुकाम में लाभ होता है। यह धुआं हिस्टीरिया रोग में भी गुण दर्शाता है। 

अलसी के काढ़े से एनिमा देकर मलाशय की शुद्धि की जाती है। उदर रोगों में इसका तेल पिलाया जाता हैं।
तनाव के क्षणों में शांत व स्थिर बनाए रखने में सहायक है। कैंसर रोधी हार्मोन्स की सक्रियता बढ़ाता है। अलसी इस धरती का सबसे शक्तिशाली पौधा है। कुछ शोध से ये बात सामने आई कि इससे दिल की बीमारी, कैंसर, स्ट्रोक और मधुमेह का खतरा कम हो जाता है। 

इस छोटे से बीच से होने वाले फायदों की फेहरिस्त काफी लंबी है,​​ जिसका इस्तेमाल सदियों से लोग करते आए हैं। इसके रेशे पाचन को सुगम बनाते हैं, इस कारण वजन नियंत्रण करने में अलसी सहायक है। रक्त में शर्करा तथा कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है। जोड़ों का कड़ापन कम करता है।

 प्राकृतिक रेचक गुण होने से पेट साफ रखता है। हृदय संबंधी रोगों के खतरे को कम करता है। उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है। त्वचा को स्वस्थ रखता है एवं सूखापन दूर कर एग्जिमा आदि से बचाता है। बालों व नाखून की वृद्धि कर उन्हें स्वस्थ व चमकदार बनाता है। इसका नियमित सेवन रजोनिवृत्ति संबंधी परेशानियों से राहत प्रदान करता है।

 मासिक धर्म के दौरान ऐंठन को कम कर गर्भाशय को स्वस्थ रखता है। अलसी का सेवन त्वचा पर बढ़ती उम्र के असर को कम करता है। अलसी का सेवन भोजन के पहले या भोजन के साथ करने से पेट भरने का एहसास होकर भूख कम लगती है। प्राकृतिक रेचक गुण होने से पेट साफ रख कब्ज से मुक्ति दिलाता है।
अलसी कैसे काम करती है

अलसी आधुनिक युग में स्त्रियों की यौन-इच्छा, कामोत्तेजना, चरम-आनंद विकार, बांझपन, गर्भपात, दुग्धअल्पता की महान औषधि है। स्त्रियों की सभी लैंगिक समस्याओं के सारे उपचारों से सर्वश्रेष्ठ और सुरक्षित है अलसी। (व्हाई वी लव और ऐनाटॉमी ऑफ लव) की महान लेखिका, शोधकर्ता और चिंतक हेलन फिशर भी अलसी को प्रेम, काम-पिपासा और लैंगिक संसर्ग के लिए आवश्यक सभी रसायनों जैसे डोपामीन, नाइट्रिक ऑक्साइड, नोरइपिनेफ्रीन, ऑक्सिटोसिन, सीरोटोनिन, टेस्टोस्टिरोन और फेरोमोन्स का प्रमुख घटक मानती है।

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे। अलसी आपकी देह को ऊर्जावान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा।

 अलसी में ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन, लिगनेन, सेलेनियम, जिंक और मेगनीशियम होते हैं जो स्त्री हार्मोन्स, टेस्टोस्टिरोन और फेरोमोन्स (आकर्षण के हार्मोन) के निर्माण के मूलभूत घटक हैं। टेस्टोस्टिरोन आपकी कामेच्छा को चरम स्तर पर रखता है।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट और लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे कामोत्तेजना बढ़ती है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करती हैं जिससे मस्तिष्क और जननेन्द्रियों के बीच सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है। नाड़ियों को स्वस्थ रखने में अलसी में विद्यमान लेसीथिन, विटामिन बी ग्रुप, बीटा केरोटीन, फोलेट, कॉपर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

 इस तरह आपने देखा कि अलसी के सेवन से कैसे प्रेम और यौवन की रासलीला सजती है, दिव्य सम्भोग का दौर चलता है, देह के सारे चक्र खुल जाते हैं, पूरे शरीर में दैविक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सम्भोग एक यांत्रिक क्रीड़ा न रह कर शिव और उमा की रति-क्रीड़ा का उत्सव बन जाता है, समाधि का रूप बन जाता है।

रिसर्च और वैज्ञानिक आयुर्वेद और घरेलू नुस्खों के रहस्य को जानने और मानने लगे हैं। अलसी के बीज के चमत्कारों का हाल ही में खुलासा हुआ है कि इनमें 27 प्रकार के कैंसररोधी तत्व खोजे जा चुके हैं। अलसी में पाए जाने वाले ये तत्व कैंसररोधी हार्मोन्स को प्रभावी बनाते हैं, विशेषकर पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर व महिलाओं में स्तन कैंसर की रोकथाम में अलसी का सेवन कारगर है। 

दूसरा महत्वपूर्ण खुलासा यह है कि अलसी के बीज सेवन से महिलाओं में सेक्स करने की इच्छा तीव्रतर होती है। यह गनोरिया, नेफ्राइटिस, अस्थमा, सिस्टाइटिस, कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह, कब्ज, बवासीर, एक्जिमा के उपचार में उपयोगी है।

सेवन का तरीका
अलसी को धीमी आँच पर हल्का भून लें। फिर मिक्सर में पीस कर किसी एयर टाइट डिब्बे में भरकर रख लें। रोज सुबह-शाम एक-एक चम्मच पावडर पानी के साथ लें। इसे अधिक मात्रा में पीस कर नहीं रखना चाहिए, क्योंकि यह खराब होने लगती है। इसलिए थोड़ा-थोड़ा ही पीस कर रखें। अलसी सेवन के दौरान पानी खूब पीना चाहिए। इसमें फायबर अधिक होता है, जो पानी ज्यादा माँगता है।

हमें प्रतिदिन 30 – 60 ग्राम अलसी का सेवन करना चाहिये, 30 ग्राम आदर्श मात्रा है। अलसी को रोज मिक्सी के ड्राई ग्राइंडर में पीसकर आटे में मिलाकर रोटी, पराँठा आदि बनाकर खाना चाहिये. डायबिटीज के रोगी सुबह शाम अलसी की रोटी खायें।

कैंसर में बुडविग आहार-विहार की पालना पूरी श्रद्धा और पूर्णता से करना चाहिये। इससे ब्रेड, केक, कुकीज, आइसक्रीम, चटनियाँ, लड्डू आदि स्वादिष्ट व्यंजन भी बनाये जाते हैं।
अलसी के तेल और चूने के पानी का इमल्सन आग से जलने के घाव पर लगाने से घाव बिगड़ता नहीं और जल्दी भरता है।

पथरी, सुजाक एवं पेशाब की जलन में अलसी का फांट पीने से रोग में लाभ मिलता है। अलसी के कोल्हू से दबाकर निकाले गए (कोल्ड प्रोसेस्ड) तेल को फ्रिज में एयर टाइट बोतल में रखें। स्नायु रोगों, कमर एवं घुटनों के दर्द में यह तेल पंद्रह मि.ली. मात्रा में सुबह-शाम पीने से काफी लाभ मिलेगा।

अलसी के लाभ
आपका हर्बल चिकित्सक आपकी सारी सेक्स सम्बंधी समस्याएं अलसी खिला कर ही दुरुस्त कर देगा क्योंकि अलसी आधुनिक युग में स्तंभनदोष के साथ साथ शीघ्रस्खलन, दुर्बल कामेच्छा, बांझपन, गर्भपात, दुग्धअल्पता की भी महान औषधि है। सेक्स संबन्धी समस्याओं के अन्य सभी उपचारों से सर्वश्रेष्ठ और सुरक्षित है अलसी। बस 30 ग्राम रोज लेनी है।

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे।
अलसी में ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कोलोन कैंसर से बचाने का गुण पाया जाता है। इसमें पाया जाने वाला लिगनन कैंसर से बचाता है। यह हार्मोन के प्रति संवेदनशील होता है और ब्रेस्ट कैंसर के ड्रग टामॉक्सीफेन पर असर नहीं डालता है।

अलसी आपकी देह को ऊर्जावान, बलवान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, जिंक और मेगनीशियम आपके शरीर में पर्याप्त टेस्टोस्टिरोन हार्मोन और उत्कृष्ट श्रेणी के फेरोमोन (आकर्षण के हार्मोन) स्रावित होंगे। टेस्टोस्टिरोन से आपकी कामेच्छा चरम स्तर पर होगी। आपके साथी से आपका प्रेम, अनुराग और परस्पर आकर्षण बढ़ेगा। आपका मनभावन व्यक्तित्व, मादक मुस्कान और शटबंध उदर देख कर आपके साथी की कामाग्नि भी भड़क उठेगी।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन एवं लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे शक्तिशाली स्तंभन तो होता ही है साथ ही उत्कृष्ट और गतिशील शुक्राणुओं का निर्माण होता है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करते हैं जिससे सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है।

 नाड़ियों को स्वस्थ रखने में अलसी में विद्यमान लेसीथिन, विटामिन बी ग्रुप, बीटा केरोटीन, फोलेट, कॉपर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ओमेगा-3 फैट के अलावा सेलेनियम और जिंक प्रोस्टेट के रखरखाव, स्खलन पर नियंत्रण, टेस्टोस्टिरोन और शुक्राणुओं के निर्माण के लिए बहुत आवश्यक हैं। कुछ वैज्ञानिकों के मतानुसार अलसी लिंग की लंबाई और मोटाई भी बढ़ाती है।

अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है।
पुरूष को कामदेव तो स्त्रियों को रति बनाती है अलसी। अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है। 

अर्थात स्त्री-पुरुष की समस्त लैंगिक समस्याओं का एक-सूत्रीय समाधान है।इस तरह आपने देखा कि अलसी के सेवन से कैसे प्रेम और यौवन की रासलीला सजती है, जबर्दस्त अश्वतुल्य स्तंभन होता है, जब तक मन न भरे सम्भोग का दौर चलता है, देह के सारे चक्र खुल जाते हैं, पूरे शरीर में दैविक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सम्भोग एक यांत्रिक क्रीड़ा न रह कर एक आध्यात्मिक उत्सव बन जाता है, समाधि का रूप बन जाता है।

तेल तड़का छोड़ कर, नित घूमन को जाय।
मधुमेह का नाश हो, जो जन अलसी खाय।।
नित भोजन के संग में, मुट्ठी अलसी खाय।
अपच मिटे, भोजन पचे, कब्जियत मिट जाये।।
घी खाये मांस बढ़े, अलसी खाये खोपड़ी।
दूध पिये शक्ति बढ़े, भुला दे सबकी हेकड़ी।।
धातुवर्धक, बल-कारक, जो प्रिय पूछो मोय।
अलसी समान त्रिलोक में, और न औषध कोय।।
जो नित अलसी खात है, प्रात पियत है पानी।
कबहुं न मिलिहैं वैद्यराज से, कबहुँ न जाई जवानी।।
अलसी तोला तीन जो, दूध मिला कर खाय।
रक्त धातु दोनों बढ़े, नामर्दी मिट जाय।।

7 people found this helpful

H I want to sex with my gf But she didn't want to pregnant and I didn't want to use condom can you tell me what to do please. Give me some suggestions please . I have listen that during period a girl can't be pregnant if is true than please tel me. In which day of period I most too sex please thank you.

Diploma in Diabetology, Pregnancy & Diabetes, Hypertension, Cardiovascular Prevention in Diabetes ,Thyroid
General Physician, Sri Ganganagar
H
I want to sex with my gf
But she didn't want to pregnant and I didn't want to use condom can you tell me what to do...
During period girl can not become pregnant. It is 100 % true. Safe period is 1 st day to 7th day and 20 th to start of mc. So you do safely sex during these days.
Submit FeedbackFeedback

My mother is 51 years of age. She is having a continuous period from 24 Oct periods flow are very heavy dark blood red and heavy blood clots. Please help for this.

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS), MS - Counselling and Psychotherapy
Ayurveda, Jammu
My mother is 51 years of age. She is having a continuous period from 24 Oct periods flow are very heavy dark blood re...
Hello lybrate-user when your mothers menopause occur or her periods were still regularly occurring, please give me some more details n there r good medicines for that you can opt that. U can ask for further assistance.
Submit FeedbackFeedback

Before five days of getting period I will have stomach pain occasionally and find white thing In vagina. Is there any problem. We r trying for baby no good result. Give suggestions.

PG Diploma in Emergency Medicine Services (PGDEMS), Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS), MD - Alternate Medicine
Ayurveda, Ghaziabad
Before five days of getting period I will have stomach pain occasionally and find white thing In vagina. Is there any...
Cook a handful of rice in a half a lit of water in an open pan. When rice is ready don’t throw the residue water drink reason this water when it remains that much hot that u can consume. Drink it on adding 1 tsp of sugar. This relieves your leucorrhoea that within a week.take pranacharya leucona capsule and syrup twice a day
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

Hello sir, Please tell me how to test urine fr pregnancy at home or I have to go to lab.

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, FMAS, DMAS
Gynaecologist, Noida
Hello sir, Please tell me how to test urine fr pregnancy at home or I have to go to lab.
Hello, You may get a urine pregnancy test kit from preganews and after 8 days post missed periods you may check with early morning first urine sample.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

MPT
Physiotherapist, Mumbai
Make sure that you keep your posture straight when at the work place. Sit straight and close to the work station, keep your monitor at eye level and keyboard at an easily reachable place and sit with your legs flexed at 90-degree angle with feet resting comfortably.

Cure Obesity with Ayurveda

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS), MD Ayurveda
Ayurveda, Yamunanagar
Cure Obesity with Ayurveda

A drastic change in the life style habits and this modern world people face many health issues in their daily life. Obesity is one of the major health issues that most people are affected with.

Obesity or being overweight is a condition characterized by excessive storage of fat in the body. When the body's calorie intake exceeds the amount of calories burned, it leads to the storage of excess calories in the form of body fat. Increased body fat puts a person at risk for many critical conditions such as heart disease, liver damage, diabetes, arthritis and kidney problems.

The most common cause of obesity is lack of physical activity, intake of excessive carbohydrates, fatty and junk food items. It might be even due to pathological or hereditary cause. Ayurveda gives many natural home remedy measures to reduces the body weight and get rid of obesity.

Ayurvedic View

In Ayurveda, obesity is known as Medarog, which is caused by the aggravation of Kapha. Kapha is an Ayurvedic humor which is dense, heavy, slow, sticky, wet and cold in nature. It governs all structure and lubrication in the mind and body apart from controlling weight and formation of all the seven tissues - nutritive fluids, blood, fat, muscles, bones, marrow and reproductive tissues.

The Ayurvedic line of treatment for obesity begins with the pacification of Kapha Dosha. This can be done by eliminating Kapha-aggravating foods from the diet. Next, the treatment also focuses on cleansing of the Medovahi channels through cleansing herbs so that excess weight can be reduced.

Ginger (Zingiber Officinale), Salacia Reticulata (Kotahla Himbutu),Garcina cambogia (Vrikshamla), Commiphora Mukul Resin (Guggul) and Nigella Sativa are the commonly used Ayurvedic medicines to cure obesity.

Natural Ayurvedic home remedies for obesity

  1. Lemon juice and honey: The best and simple way to reduces weight is drinking one cup of warm water mixed with 1 teaspoon of lemon juice and one teaspoon of honey in empty stomach.
  2. Triphala powder: Mixing two teaspoon of triphala powders a natural herb easily available at homes with 500ml of water and allow it to boil for 5mins. Strain the liquid and drink it regularly to burn the excessive fat stored in the body.
  3. Make cabbage as your best friend: Take one cup of cabbage daily. Cabbage contains tartaric acid and this helps to convert the sugar and other carbohydrates into fat.
  4. Vyaayaama: Simple exercises are also much essential to be done alone with other remedial measures to reduce the body weight
  5. Avoid Sugar: Avoid white sugar and starch from diet. Prefer brown rice and other cereals in the diet.
  6. Control your excessive eating habit: excessive eating of junk and fast foods is the most important cause of obesity. This should be avoided and learn to eat healthy and right food at regular interval. Have only three meals per day. Diet controlling does not mean fasting so it is best advised to have small meal at regular interval.
  7. Herbs: Herbs like Bibhitaka (Terminalia belericia), amla (Emblica officinalis), Guggul , Haritaki (Terminalia chebula) are effective for reducing the body weight.

There are many other naturally occurring items that feature prominently in Ayurvedic treatment for obesity. The key aspect to understand here is that Ayurveda stresses on the natural and easy ways in which one can lose weight without having to undergo mental or physical stress and strain.

3331 people found this helpful

We are trying for baby. I have missed my period by 8 days N my pregnancy test is also negative. How I can get to know whether I am pregnant or not?

Diploma in Hospital Administration, MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS
General Physician, Delhi
We are trying for baby. I have missed my period by 8 days N my pregnancy test is also negative. How I can get to know...
If your periods are over due by 8 days and your pregnancy test is negative.There are two possibilities. First your period is delayed due to hormonal imbalance, then period will come in one or two weeks. Second possibility is that pregnancy test is false negative, and may become positive after one week. Ultrasound Scan can confirm or exclude pregnancy.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am pregnant by 37 weeks . I feel too much harassment .so pls tell tell me which type of diet I should intake to be healthy?

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, Fellowship in Laparoscopy, DNB (Obstetrics and Gynecology)
Gynaecologist, Delhi
I am pregnant by 37 weeks . I feel too much harassment .so pls tell tell me which type of diet I should intake to be ...
take normal diet.. and eat slight extra amount like one glass milk, and two chapatis, one fruit extra from ur normal diet..
Submit FeedbackFeedback

Hi. Been seven months getting married. Me n my husband trying to conceive for the past three months but got no positive result. Is there something that we are lacking we are so depressed . Wat do we do personally consult a doctor or please help.

MBBS, DGO, MD, Fellowship in Gynae Oncology
Gynaecologist, Delhi
Hi. Been seven months getting married. Me n my husband trying to conceive for the past three months but got no positi...
Hello, You should try for atleast one year to conceive after marriage. You can try in favorable period of your month. Get follicular monitoring done to see if you are ovulating every month.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback
View All Feed