Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Parul Parpani

Veterinarian, Mumbai

Book Appointment
Call Doctor
Dr. Parul Parpani Veterinarian, Mumbai
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them....more
My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them.
More about Dr. Parul Parpani
Dr. Parul Parpani is a popular Veterinarian in Powai, Mumbai. She is currently practising at Dr. Parul Parpani in Powai, Mumbai. You can book an instant appointment online with Dr. Parul Parpani on Lybrate.com.

Lybrate.com has a number of highly qualified Veterinarians in India. You will find Veterinarians with more than 34 years of experience on Lybrate.com. You can find Veterinarians online in Mumbai and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Parul Parpani

Dr. Parul Parpani

Shop No 3,Panchvati Building, Powai Landmark: Near S M Shetty School,Near Hiranandani GardenMumbai Get Directions
...more
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Parul Parpani

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

I have an 8 months old persian cat, but his hair is falling, so I requested give me a medicine which I give to my cat for perfect health

M.V.Sc (Surgery)
Veterinarian, Mohali
You should deworm her. If hair fall continue then get it check with vet. Hair fall is symptom of lot of skin problem in cats
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My dog is a labrador,it got some ear infection ,with green pus,andd smelling bad,and it resstless due to that.Please help

M.V.Sc (Surgery)
Veterinarian, Mohali
Its seems ur dog has bacterial infection. It requires ear cleaning and ear drops and systemic antibiotic therapy
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My dog breed pomerian is suffering from meningitis has treatment from six days and is not getting recovered what to do ?

MVSc
Veterinarian, Bareilly
Dear , please give treatment as follow, 1. Inj. Cefepime or cefixime i/v or i/m 2. Inj. Clinalog or clinacort i/m 3. Fluid therapy orally or i/v treatment may be given either 5 days or till total recover.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My daughter, a female pug, 5 years old who has recently developed some grey rough patches near nail roots in left paw and a slightly bigger similar patch above with hair loss. Initially, her nails bled and we started applying ay fungal topicals. The patches are still there and occasionally she limps. Any suggestion is deeply appreciated.

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
Dear sir its seems to be a skin infection please let me know the details with photos and previous treatement and other things so we could be discussing a lot.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I want to get my parakeet's beak trimmed. It is over grown. Can anybody help? & Yes I would also like to consult about their health & issues related to it.

MVSc
Veterinarian, Nadia
You can get all the facilities at College of Veterinary Science, Guwahati. Please do visit at OPD and consult the on duty Vet. Thank you.
Submit FeedbackFeedback

Vaccination In Pets

B.V.Sc
Veterinarian, Varanasi
Vaccination In Pets

Vaccination in dog

टीकाकरण की प्रकिया एक ऐसा उपाय है जिससे, कुत्तो में होने वाली कुछ प्रमुख विषाणु एवं जीवाणु जनित जानलेवा एवं लाइलाज, बीमारियों जैसे कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, रेबीज तथा केनल कफ़ आदि से बचाव के लिए समय समय पर कुत्तों के शरीर में टीका लगाया जाता है,जिससे इन रोगों के खिलाफ रोगप्रतिरोधक क्षमता का शारीर में विकास हो जाता है और हमारा पालतू जानवर एक सिमित अवधि तक इन बिमारियों के घातक प्रभाव से बचा रहता है |

कुछ टीकाकरण संबंधी सामान्य प्रश्नो के जबाब -
 
१- क्या सभी उम्र के कुत्तो का टीकाकरण जरूरी होता है?
हाँ। आमतौर पर १. ५ महीने (४५ दिन) के उम्र से ऊपर सभी कुत्तो का नियमित समय पर टीकाकरण करना जरूरी होता है यदि किसी कारण वश नयमिति या कभी कराया ही न गया हो तो किसी भी उम्र से टीकाकरण शुरू किया जा सकता है। 

२. छोटे बच्चो को किस उम्र से टीका का पहली खुराक देना शुरू करना चाहिए?
४५ दिन के उम्र से ही टीके की पहली खुराक देना बेहद जरूरी होता है 

३. क्या सभी छोटे पप्स को टीकाकरण के पहले पेट के कीड़े देना जरूरी होता है -
हाँ। बहुत से परजीवी ऐसे होते है जो माँ के पेट से ही या दूध के जरिये से बच्चे के शरीर में प्रवेश कर जाते है जिससे शरीर को कमजोर कर देते है और जब टीका लगाया जाता है तो कमजोरी के वजह से उतना अच्छा शरीर में प्रतिरोधक छमता का विकास नहीं हो पता इसलिए पहले ऐसे परजीवीओ को नष्ट करना जरूरी होता है 

४. क्या होता है टीकाकरण का सही उम्र और समयांतराल?
१. पहली खुराक -जन्म के ६ -८ सप्ताह के उपरांत(कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा हेतु) 
२. बूस्टर खुराक या दूसरी खुराक - प्रथम खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर दूसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 
३. तीसरी खुराक - रेबीज वायरस हेतु- प्रथम खुराक जन्म के ३ माह के उपरान्त। 
४. बूस्टर खुराक या चौथी खुराक - तीसरी खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर तीसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 

५. क्या बूस्टर खुराक देना जरूरी होता है या नहीं?
जन्म के साथ ही माँ से प्राप्त एंटीबाडीज और प्रथम दूध से मिलने वाली सुरछा कवच कुछ सप्ताह तक नवजात के खून में मौज़ूद रह करअनेको बीमारयों से सुरछा प्रदान करती है परन्तु समय के साथ साथ इनकी मात्रा बच्चे के शरीर में कम होने लगती है। जिससे बीमारी होने की आशंका बढ़ जाती है इसलिए लगभग ४५ दिन के बाद टिका का प्रथम खुराक देते है यद्पि ये पता नहीं रहता की माँ से मिलने वाली सुरछा का असर किस स्तर का है जिससे आमतौर पर ये स्तर अधिक होने पर प्रथम खुराक से बच्चे के शरीर में टीकाकरण की गुणवत्ता को बाधित करती है, जो की पप्पस में रोगप्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने में असक्षम हो जाता है इसलिए कुछ सप्ताह बाद टीकाकरण के दूसरी खुराक दे कर टीकाकरण से रोगप्रतिरोधक क्षमता करने के उद्देश्य को प्राप्त करते है ऐसी दूसरी खुराक को बूस्टर खुराक कहते है। 

६. क्या है टीकाकरण की सही खुराक देने के मात्रा:
डॉग चाहे किसी भी उम्र, भार, लिंग अथवा नस्ल के हों उनको समान मात्रा में टीकाकरण का खुराक दिया जाता है 

७. क्या है टीकाकरण का सही तरीका:
टीकाकरण खाल के नीचे:कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा तथा रेबीज जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए खाल के नीचे दिया जाता है
 नथुनों में:केनल कफ़ का टीकाकरण कुत्ते के नथुनों में दवा डाल कर किया जाता है

८. क्या सभी टीके एक ही प्रकार के होते है:कुत्तों में टीकाकरण दो प्रकार की होती है
 १. कोर टीकाकरण - टीकाकरण जो सभी कुत्तों के लिये आवश्यक है. यह उन बिमारीयों में दिया जाता है जो आसानी से फैलती हैं अथवा घातक होती हैं जैसे रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर.
 २. नान कोर टीकाकरण – उपरोक्त ४ बिमाँरीयों (रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर) के टीकाकरण को छोड़कर अन्य सभी नानकोर टीकाकरण माना जाता है | यह उन बिमाँरियों से सुरक्षा प्रदान करता है जो वातावरण के अनावरण अथवा जीवनचर्या पर निर्भर करती है जैसे लाइम डिजीज, केनलकफ और लेप्टोस्पाइरोसिस.

९. एक सफल टीकाकरण करने के बाद क्या फिर भी टीकाकरण विफल हो सकता है?हाँ। 
 टीकाकरण के विफलता के कारण कुत्ते में बीमारी होने के निम्नलिखित मुख्य कारण हो सकते है –
१. टीकाकरण के दौरान कुत्ते की रोगप्रतिरोधक क्षमता का सम्पूर्ण रूप से कार्य न करना |
२.आयु – कम उम्र के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली पूर्णतः विकसित नही होती और बड़े आयु के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली कई कारणों से अक्सर कमज़ोर या क्षीण हो जाती है |
३. मानवीय चूक (टीके का अनुचित संग्रहण या अनुचित मिश्रण)- टीकों का संग्रहण एवं इस्तेमाल भी निर्देशानुसार ही होना आवश्यक है | सूरज की रोशनी,गर्म तापमान टीके के प्रभाव को नस्ट कर सकता है | टीके का मिश्रण पशु में टीकाकरण के तुरंत पहले तैयार करना चाहिए | टीके खरीदने के पहले पता करना चाहिए कि टीकों को उचित तापमान एवं देखभाल से रखा गया है या नहीं |
४. डीवार्मिंग – टीकाकरण करने के पहले पेट के कीड़े मारने के लिए डीवर्मिंग करना आवश्यक है, वरना इस तरह का तनाव टीकाकरण के प्रभाव को कम कर सकता है |
५. गलत सीरोटाईप / स्टेन का इस्तेमाल – प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत विशिष्ट होती है | अतः टीके में होने वाली जीवाणु या विषाणु की सही स्टेन होनी चाहिए वरना उससे उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षा जानवर में सही तौर पर सुरक्षा नहीं कर पाती |
६. अनुवांशिक बीमारियाँ – कुछ जानवरों में आनुवंशिक बिमारियों की वजह से सभी रोगों के लिए प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पर कम ही उत्पन्न हो पाती है |
७. वैक्सीन की गुणवत्ता – टीके में प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रोत्साहित करने के लिए प्रयाप्त मात्रा में प्रतिजनी की मात्रा होना चाहिए वरना टीकाकरण के बाद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रयाप्त नहीं होती है |
८. पुराने या अवधि समाप्त टीके – पुराने टीकों में आवश्यक प्रतिजनी गुण समाप्त या कम हो जाता है | इस तरह के टीके लगाने से जानवरों को बेमतलब तनाव दिया जाता है |
९. टीकाकरण का अनुचित समय – टीका निर्माता के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण का समय (उम्र एवं मौसम के अनुसार), लगाने का तरीका एवं मात्रा तथा दोबारा लगाये जाने की अवधि, इत्यादि निश्चित होता है |इन निर्देशों का पालन सही समय पर न करने से टीकाकरण विफल या निष्क्रिय हो जाता है |
१०. पोषण की स्तिथि- कुपोषण की वजह से जिन पशुओं में पोषक तत्वों की कमी रह जाती है उनमे टीकाकरण के बाद भी प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पे कम ही उत्पन्न हो पाती है |

10. क्या वैक्सीन लगते समय कुत्ते पर कोई दुस्प्रभाव हो सकते है? हाँ 
 कुछ कुत्तो प्रतिरोधक छमता अधिक सक्रिय होने की वजह से कुछ सामान्य लचण जैसे ज्वर, उल्टी, दस्त, लासीका ग्रंथियों का सूजना, मुख का सूजना, हीव्स, यकृत विफलता और कभी -कभी मौत भी हो सकती है।

1 person found this helpful

I have a pair of american eskimos . But my male one is still not able to climb on bed by himself. My both dog n bitch are of same size.

MVSC
Veterinarian, Hyderabad
What is the age of your dog, what is the height of the bed you are expecting to climb? is the bitch able to climb. Clarify . If the dogs are active enough don't worry, train them to climb
Submit FeedbackFeedback

My cat gave birth 4 times in last year, so I want to know that is there any non surgical procedure for controlling the birth cycle.

MVSc
Veterinarian, Jammu
Non surgical method include administration of progestrone but that will cause hypertrophy of endometrium so if you planning go fr surgical method only.
Submit FeedbackFeedback

Hello! sir/mam I have a 6 years old pomerian and now I adopted a stray dog which is approx. 8-9 months old. Now the pomerian has started attacking the smaller one n is becoming aggressive. Please help how to tackle the situation. Can I give some medicine (homeo) for controlling anger or something else. Thanks.

Reparenting Technique, BA, BEd
Psychologist, Bangalore
Dogs are very territorial and possessive. Obviously the older dog feels some intrusion into her space and will attack the intruder. You must keep them separate for some time and gradually bring them together. Feed them separately too and when you take them out have two handlers to prevent them getting too close. Over a period of time they can be let to play together gradually. You must give the pomeranian a lot of assurance that she is loved. You may also introduce them to each other keeping the older dog on a leash. during play they will slowly get used to each other and form a good bond. No medication is required as this is a normal response anyway. The pomeranian must be reprimanded for her aggression every time and acknowledged for any gentleness too.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My female dog is she age 5 mnth suffering from urine problem she has sleeping and she' s urine continue drop-2 flow outside what can I do this for problem u do suggest me & tell me the medicin aur any injuction?

MVSc, BVSc
Veterinarian,
Kindly get her evaluated for possibility of juvenile ectopic ureters. You may need scoping for this. To start with - wise to rule out infection, primarily - like juvenile vulvo-vaginitis or uti. A simple clinical evaluation and routine urine test should help for this. Take care.
View All Feed