Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. G V Chavans

BVSc

Veterinarian, Mumbai

37 Years Experience
Book Appointment
Call Doctor
Dr. G V Chavans BVSc Veterinarian, Mumbai
37 Years Experience
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I want all my patients to be informed and knowledgeable about their health care, from treatment plans and services, to insurance coverage....more
I want all my patients to be informed and knowledgeable about their health care, from treatment plans and services, to insurance coverage.
More about Dr. G V Chavans
Dr. G V Chavans is a renowned Veterinarian in Santacruz East, Mumbai. He has over 37 years of experience as a Veterinarian. He studied and completed BVSc . He is currently practising at Dr G V Chavans Pet Clinic in Santacruz East, Mumbai. Book an appointment online with Dr. G V Chavans and consult privately on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced Veterinarians in India. You will find Veterinarians with more than 38 years of experience on Lybrate.com. You can find Veterinarians online in Mumbai and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Education
BVSc - Bombay Veterinary College - 1981
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. G V Chavans

Dr G V Chavans Pet Clinic

Shop No 6 Shankar Dham Opposite To Vakola Masjid Pandit Nehru Road Santacruz East Mumbai - 400055Mumbai Get Directions
...more
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. G V Chavans

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Sir my dog is of 7 month i.E pomalian dog & he is vomiting from 3 days , vomiting colour is yellow firstly then its light yellow colour from outside & inside it looks white sticky cough like so suggest anything sir ?

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
Its summer gastritis please feed him half the food as usually and please give plenty of water and water melon if possible and suspension normetrogyl orally 5 ml 3 times daily and consult your vet.
Submit FeedbackFeedback

My cat get pregnant third time and I don't want to spayed her, so is there any another kind of non surgical way like injections or pills to avoid her pregnancy.

MVSc
Veterinarian,
Yes, there are medicines available for aborting cats too similar to humans, but before using that kindly show your pet to a nearby vet, so that he can check out how many days its pregnant and can see about its health status and he will prescribe the medicine.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I was attacked by dog on 28/3/15, luckily there was no cut on my body. But I came to know there was small spit on my hand. As doctor diagnose me and advised me injection. Same day took vaxirab and second I took 2/4/15 and third I took on 7/4/15. I know the further step and how many more injection I have to take ?

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
Dear sir, as far as the dog is a street dog you need to worry. In this case even thought the dog is a street dog it does not seems to be bitten case as you dint have any injury or cut wound. To get rabies you need to be: 1. Have a cut wound first then rabies dog saliva has to be in contact with the wound. 2. Have to watch the dog for 30 days. Because the rabies dog cannot survive more than 45 days. 3. Rabies is a viral diseases so it needs a proper contact with the infection wild rabid carnivores. (like hiv infection) 4. So in your cases what you have done is more than enough.
Submit FeedbackFeedback

My rabbit which is 4 months old is getting hiccups and is not frequent. Is that any serious issue to be taken care? What can we do when it gets hiccups? What causes hiccups for rabbits?

MVSc, BVSc
Veterinarian, Secunderabad
If rabbit tries to drink water in a hurry it may get hiccups. Getting hiccups is not a major issue if occasional. Do not worry.
Submit FeedbackFeedback

Vaccination In Pets

B.V.Sc
Veterinarian, Ballia
Vaccination In Pets

Vaccination in dog

टीकाकरण की प्रकिया एक ऐसा उपाय है जिससे, कुत्तो में होने वाली कुछ प्रमुख विषाणु एवं जीवाणु जनित जानलेवा एवं लाइलाज, बीमारियों जैसे कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, रेबीज तथा केनल कफ़ आदि से बचाव के लिए समय समय पर कुत्तों के शरीर में टीका लगाया जाता है,जिससे इन रोगों के खिलाफ रोगप्रतिरोधक क्षमता का शारीर में विकास हो जाता है और हमारा पालतू जानवर एक सिमित अवधि तक इन बिमारियों के घातक प्रभाव से बचा रहता है |

कुछ टीकाकरण संबंधी सामान्य प्रश्नो के जबाब -
 
१- क्या सभी उम्र के कुत्तो का टीकाकरण जरूरी होता है?
हाँ। आमतौर पर १. ५ महीने (४५ दिन) के उम्र से ऊपर सभी कुत्तो का नियमित समय पर टीकाकरण करना जरूरी होता है यदि किसी कारण वश नयमिति या कभी कराया ही न गया हो तो किसी भी उम्र से टीकाकरण शुरू किया जा सकता है। 

२. छोटे बच्चो को किस उम्र से टीका का पहली खुराक देना शुरू करना चाहिए?
४५ दिन के उम्र से ही टीके की पहली खुराक देना बेहद जरूरी होता है 

३. क्या सभी छोटे पप्स को टीकाकरण के पहले पेट के कीड़े देना जरूरी होता है -
हाँ। बहुत से परजीवी ऐसे होते है जो माँ के पेट से ही या दूध के जरिये से बच्चे के शरीर में प्रवेश कर जाते है जिससे शरीर को कमजोर कर देते है और जब टीका लगाया जाता है तो कमजोरी के वजह से उतना अच्छा शरीर में प्रतिरोधक छमता का विकास नहीं हो पता इसलिए पहले ऐसे परजीवीओ को नष्ट करना जरूरी होता है 

४. क्या होता है टीकाकरण का सही उम्र और समयांतराल?
१. पहली खुराक -जन्म के ६ -८ सप्ताह के उपरांत(कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा हेतु) 
२. बूस्टर खुराक या दूसरी खुराक - प्रथम खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर दूसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 
३. तीसरी खुराक - रेबीज वायरस हेतु- प्रथम खुराक जन्म के ३ माह के उपरान्त। 
४. बूस्टर खुराक या चौथी खुराक - तीसरी खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर तीसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 

५. क्या बूस्टर खुराक देना जरूरी होता है या नहीं?
जन्म के साथ ही माँ से प्राप्त एंटीबाडीज और प्रथम दूध से मिलने वाली सुरछा कवच कुछ सप्ताह तक नवजात के खून में मौज़ूद रह करअनेको बीमारयों से सुरछा प्रदान करती है परन्तु समय के साथ साथ इनकी मात्रा बच्चे के शरीर में कम होने लगती है। जिससे बीमारी होने की आशंका बढ़ जाती है इसलिए लगभग ४५ दिन के बाद टिका का प्रथम खुराक देते है यद्पि ये पता नहीं रहता की माँ से मिलने वाली सुरछा का असर किस स्तर का है जिससे आमतौर पर ये स्तर अधिक होने पर प्रथम खुराक से बच्चे के शरीर में टीकाकरण की गुणवत्ता को बाधित करती है, जो की पप्पस में रोगप्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने में असक्षम हो जाता है इसलिए कुछ सप्ताह बाद टीकाकरण के दूसरी खुराक दे कर टीकाकरण से रोगप्रतिरोधक क्षमता करने के उद्देश्य को प्राप्त करते है ऐसी दूसरी खुराक को बूस्टर खुराक कहते है। 

६. क्या है टीकाकरण की सही खुराक देने के मात्रा:
डॉग चाहे किसी भी उम्र, भार, लिंग अथवा नस्ल के हों उनको समान मात्रा में टीकाकरण का खुराक दिया जाता है 

७. क्या है टीकाकरण का सही तरीका:
टीकाकरण खाल के नीचे:कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा तथा रेबीज जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए खाल के नीचे दिया जाता है
 नथुनों में:केनल कफ़ का टीकाकरण कुत्ते के नथुनों में दवा डाल कर किया जाता है

८. क्या सभी टीके एक ही प्रकार के होते है:कुत्तों में टीकाकरण दो प्रकार की होती है
 १. कोर टीकाकरण - टीकाकरण जो सभी कुत्तों के लिये आवश्यक है. यह उन बिमारीयों में दिया जाता है जो आसानी से फैलती हैं अथवा घातक होती हैं जैसे रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर.
 २. नान कोर टीकाकरण – उपरोक्त ४ बिमाँरीयों (रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर) के टीकाकरण को छोड़कर अन्य सभी नानकोर टीकाकरण माना जाता है | यह उन बिमाँरियों से सुरक्षा प्रदान करता है जो वातावरण के अनावरण अथवा जीवनचर्या पर निर्भर करती है जैसे लाइम डिजीज, केनलकफ और लेप्टोस्पाइरोसिस.

९. एक सफल टीकाकरण करने के बाद क्या फिर भी टीकाकरण विफल हो सकता है?हाँ। 
 टीकाकरण के विफलता के कारण कुत्ते में बीमारी होने के निम्नलिखित मुख्य कारण हो सकते है –
१. टीकाकरण के दौरान कुत्ते की रोगप्रतिरोधक क्षमता का सम्पूर्ण रूप से कार्य न करना |
२.आयु – कम उम्र के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली पूर्णतः विकसित नही होती और बड़े आयु के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली कई कारणों से अक्सर कमज़ोर या क्षीण हो जाती है |
३. मानवीय चूक (टीके का अनुचित संग्रहण या अनुचित मिश्रण)- टीकों का संग्रहण एवं इस्तेमाल भी निर्देशानुसार ही होना आवश्यक है | सूरज की रोशनी,गर्म तापमान टीके के प्रभाव को नस्ट कर सकता है | टीके का मिश्रण पशु में टीकाकरण के तुरंत पहले तैयार करना चाहिए | टीके खरीदने के पहले पता करना चाहिए कि टीकों को उचित तापमान एवं देखभाल से रखा गया है या नहीं |
४. डीवार्मिंग – टीकाकरण करने के पहले पेट के कीड़े मारने के लिए डीवर्मिंग करना आवश्यक है, वरना इस तरह का तनाव टीकाकरण के प्रभाव को कम कर सकता है |
५. गलत सीरोटाईप / स्टेन का इस्तेमाल – प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत विशिष्ट होती है | अतः टीके में होने वाली जीवाणु या विषाणु की सही स्टेन होनी चाहिए वरना उससे उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षा जानवर में सही तौर पर सुरक्षा नहीं कर पाती |
६. अनुवांशिक बीमारियाँ – कुछ जानवरों में आनुवंशिक बिमारियों की वजह से सभी रोगों के लिए प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पर कम ही उत्पन्न हो पाती है |
७. वैक्सीन की गुणवत्ता – टीके में प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रोत्साहित करने के लिए प्रयाप्त मात्रा में प्रतिजनी की मात्रा होना चाहिए वरना टीकाकरण के बाद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रयाप्त नहीं होती है |
८. पुराने या अवधि समाप्त टीके – पुराने टीकों में आवश्यक प्रतिजनी गुण समाप्त या कम हो जाता है | इस तरह के टीके लगाने से जानवरों को बेमतलब तनाव दिया जाता है |
९. टीकाकरण का अनुचित समय – टीका निर्माता के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण का समय (उम्र एवं मौसम के अनुसार), लगाने का तरीका एवं मात्रा तथा दोबारा लगाये जाने की अवधि, इत्यादि निश्चित होता है |इन निर्देशों का पालन सही समय पर न करने से टीकाकरण विफल या निष्क्रिय हो जाता है |
१०. पोषण की स्तिथि- कुपोषण की वजह से जिन पशुओं में पोषक तत्वों की कमी रह जाती है उनमे टीकाकरण के बाद भी प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पे कम ही उत्पन्न हो पाती है |

10. क्या वैक्सीन लगते समय कुत्ते पर कोई दुस्प्रभाव हो सकते है? हाँ 
 कुछ कुत्तो प्रतिरोधक छमता अधिक सक्रिय होने की वजह से कुछ सामान्य लचण जैसे ज्वर, उल्टी, दस्त, लासीका ग्रंथियों का सूजना, मुख का सूजना, हीव्स, यकृत विफलता और कभी -कभी मौत भी हो सकती है।

1 person found this helpful

My Dog name is bruzoo, my dog is labera. he is very week and my dog is nothing eat like food pedigree and my dog leg is very slim. Please help me.

M.V.Sc (Surgery)
Veterinarian, Mohali
You can start giving high nutritious diet to you dog like egg, chicken paneer etc. You can give him good quality feed like pedigree professional or royal canin for growth.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

RESPECTED SIR, MY DOG NAME IS "TIGER" BRED IS LABRADOR, I HAVE ONLY ONE PROBLEM FOR MY DOG. SKIN PROBLEM ,

MVSC
Veterinarian, Hyderabad
Hi, what type of skin problem ? hair loss / dandruff / scratching all the time? deworm first, give wokazole dip once in a week and support with good diet.
Submit FeedbackFeedback

My Labrador dog is been affected by bugs.And now it's became a wound. What medicine should i give him? Please suggest some medicine that is available in Kerala

MVSC
Veterinarian, Hyderabad
Ectoparasites are problem due to miss management. Clip her hair slightly to get contact with the medicines. First give her bath with antibacterial pet shampoo available at your place . Give a dip in 0.05 % amitraj solution every 5-7 days. Replace her bedding with a clean one, trim the nails to prevent further damage of the wound while scratching.
Submit FeedbackFeedback

I am living in apartment. My neighbor dog is occasionally barking and kind of crying over the alternate night. What is supposed to do for solving the dog problem ?

MVSc (Ph.D)
Veterinarian,
Some rules have been made that peole residing in flats should not keep pets likke dog which are nuisance to neighbers & even harmful.
Submit FeedbackFeedback

My lebra have loose motion and he is only 1 month old. We only gives milk him to drink.

M.V.Sc (Surgery)
Veterinarian, Mohali
You should not use milk for feeding. You should use ceralac (samolac) or starter feed. Check for deworming.
Submit FeedbackFeedback
View All Feed