Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. D.M Dhedia

General Physician, Mumbai

Book Appointment
Call Doctor
Dr. D.M Dhedia General Physician, Mumbai
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

My experience is coupled with genuine concern for my patients. All of my staff is dedicated to your comfort and prompt attention as well....more
My experience is coupled with genuine concern for my patients. All of my staff is dedicated to your comfort and prompt attention as well.
More about Dr. D.M Dhedia
Dr. D.M Dhedia is an experienced General Physician in Mumbai, Mumbai. You can consult Dr. D.M Dhedia at Dhedia Clinic in Mumbai, Mumbai. Book an appointment online with Dr. D.M Dhedia and consult privately on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced General Physicians in India. You will find General Physicians with more than 31 years of experience on Lybrate.com. Find the best General Physicians online in Mumbai. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi
Professional Memberships
General Practioner Association

Location

Book Clinic Appointment

Dhedia Clinic

Rasal Chawl,Ghatkoapr West. Landmark: Near Batwadi Police Station, MumbaiMumbai Get Directions
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. D.M Dhedia

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

सेक्स में कैसे आती है उत्तेजना

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
सेक्स में कैसे आती है उत्तेजना
पेनिस (लिंग) में इरेक्शन विचार से होता है, स्पर्श से होता है। दिमाग में एक सेक्स सेंटर है। जब वह उत्तेजित होता है तो संदेश लिंग की तरफ जाता है। बदन में खून का प्रवाह तेज हो जाता है। पूरे शरीर में पेनिस में खून का प्रवाह सबसे ज्यादा तेज होता है। इसी वजह से लिंग में उत्तेजना ओर स्त्रियों की योनि में गीलापन आता है। पेनिस के इरेक्शन के लिए योग्य हॉर्मोन का होना जरूरी है। पुरुषों में 60 साल के बाद और महिलाओं में 45 साल के बाद हॉर्मोन की कमी होने लगती है।

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन क्या है: सेक्स के दौरान या उससे पहले पेनिस में इरेक्शन (तनाव) के खत्म हो जाने को इरेक्टाइल डिस्फंक्शन या नपुंसकता कहते हैं। इरेक्टाइल डिस्फंक्शन कई तरह का हो सकता है। हो सकता है, कुछ लोगों को बिल्कुल भी इरेक्शन न हो, कुछ लोगों को सेक्स के बारे में सोचने पर इरेक्शन हो जाता है, लेकिन जब सेक्स करने की बारी आती है, तो पेनिस में ढीलापन आ जाता है। इसी तरह कुछ लोगों में पेनिस वैजाइना के अंदर डालने के बाद भी इरेक्शन की कमी हो सकती है। इसके अलावा, घर्षण के दौरान भी अगर किसी का इरेक्शन कम हो जाता है, तो भी यह इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की निशानी है।

इरेक्शन सेक्स पूरा हो जाने के बाद यानी इजैकुलेशन के बाद खत्म होना चाहिए। कई बार लोगों को वहम भी हो जाता है कि कहीं उन्हें इरेक्टाइल डिस्फंक्शन तो नहीं। सीधी सी बात है कि आप जिस काम को करने की कोशिश कर रहे हैं, वह काम अगर संतुष्टिपूर्ण तरीके से कर पाते हैं तो सब ठीक है और नहीं कर पा रहे हैं तो समस्या हो सकती है। जिन लोगों में यह दिक्कत पाई जाती है, वे चिड़चिड़े हो सकते हैं और उनका कॉन्फिडेंस लेवल भी कम हो सकता है। वजह: इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह शारीरिक भी हो सकती है और मानसिक भी। अगर किसी खास समय इरेक्शन होता है और सेक्स के समय नहीं होता, तो इसका मतलब यह समझना चाहिए कि समस्या मानसिक स्तर की है। खास समय इरेक्शन होने से मतलब है- सुबह सोकर उठने पर, पेशाब करते वक्त, मास्टरबेशन के दौरान या सेक्स के बारे में सोचने पर। अगर इन स्थितियों में भी इरेक्शन नहीं होता तो समझना चाहिए कि समस्या शारीरिक स्तर पर है। अगर समस्या मानसिक स्तर पर है तो साइकोथेरपी और डॉक्टरों द्वारा बताई गई कुछ सलाहों से समस्या सुलझ जाती है।


- शारीरिक वजह ये चार हो सकती हैं : चार छोटे एस (S) बड़े एस यानी सेक्स को प्रभावित करते हैं। ये हैं : शराब, स्मोकिंग, शुगर और स्ट्रेस।- हॉर्मोंस डिस्ऑर्डर्स इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की एक खास वजह है।- पेनिस के सख्त होने की वजह उसमें खून का बहाव होता है। जब कभी पेनिस में खून के बहाव में कमी आती है तो उसमें पूरी सख्ती नहीं आ पाती और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन जैसी दिक्कतें शुरू हो जाती हैं। कुछ लोगों के साथ ऐसा भी होता है कि शुरू में तो पेनिस के अंदर ब्लड का फ्लो पूरा हो जाता है, लेकिन वैजाइना में एंटर करते वक्त ब्लड का यह फ्लो वापस लौटने लगता है और पेनिस की सख्ती कम होने लगती है।- नर्वस सिस्टम में आई किसी कमी के चलते भी यह समस्या हो सकती है। यानी न्यूरॉलजी से जुड़ी समस्याएं भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह हो सकती हैं।- हमारे दिमाग में सेक्स संबंधी बातों के लिए एक खास केंद्र होता है। इसी केंद्र की वजह से सेक्स संबंधी इच्छाएं नियंत्रित होती हैं और इंसान सेक्स कर पाता है। इस सेंटर में अगर कोई डिस्ऑर्डर है, तो भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन हो सकता है।- कई बार लोगों के मन में सेक्स करने से पहले ही यह शक होता है कि कहीं वे ठीक तरह से सेक्स कर भी पाएंगे या नहीं। कहीं पेनिस धोखा न दे जाए। मन में ऐसी शंकाएं भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह बनती हैं। इसी डर की वजह से लॉन्ग-टर्म में व्यक्ति सेक्स से मन चुराने लगता है और उसकी इच्छा में कमी आने लगती है।- डॉक्टरों का मानना है कि 80 फीसदी मामलों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह शारीरिक होती है, बाकी 20 फीसदी मामले ऐसे होते हैं जिनमें इसके लिए मानसिक कारण जिम्मेदार होते हैं।ट्रीटमेंटपहले इस समस्या को आहार-विहार और कसरत करने से ठीक करने की कोशिश की जाती है, लेकिन जब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता तो कोई भी ट्रीटमेंट शुरू करने से पहले डॉक्टर समस्या की असली वजह का पता लगाते हैं। इसके लिए कई तरह के टेस्ट किए जाते हैं। वजह के अनुसार आमतौर पर इलाज के तरीके ये हैं:1. हॉर्मोन थेरपी : अगर इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह हॉर्मोन की कमी है तो हॉर्मोन थेरपी की मदद से इसे दो से तीन महीने के अंदर ठीक कर दिया जाता है। इस ट्रीटमेंट का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता।2. ब्लड सप्लाई : जब कभी पेनिस में आर्टरीज की ब्लॉकेज की वजह से ब्लड सप्लाई में कमी आती है, तो दवाओं की मदद से इस ब्लॉकेज को खत्म किया जाता है। इससे पेनिस में ब्लड की सप्लाई बढ़ जाती है और उसमें तनाव आने लगता है।3. सेक्स थेरपी : कई मामलों में समस्या शारीरिक न होकर दिमाग में होती है। ऐसे मामलों में सेक्स थेरपी की मदद से मरीज को सेक्स संबंधी विस्तृत जानकारी दी जाती है, जिससे वह अपने तरीकों में सुधार करके इस समस्या से बच सकता है।4. वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और वायग्रा : वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और वायग्रा जैसे ड्रग्स की मदद से भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को दूर किया जा सकता है। वैसे कुछ डॉक्टरों का मानना है कि वैक्यूम पंप और इंजेक्शन थेरपी अब पुराने जमाने की बात हो चुकी हैं।- वैक्यूम पंप : आजकल बाजार में कई तरह के वैक्यूम पंप मौजूद हैं। रोज अखबारों में इसके तमाम ऐड आते रहते हैं। इसकी मदद से बिना किसी साइड इफेक्ट के इरेक्टाइल डिस्फंक्शन का हल निकाला जा सकता है। वैक्यूम पंप एक छोटा सा इंस्ट्रूमेंट होता है। इसकी मदद से पेनिस के चारों तरफ 100 एमएम (एचजी) से ज्यादा का वैक्यूम बनाया जाता है जिससे पेनिस में ब्लड का फ्लो बढ़ने लगता है, और तीन मिनट के अंदर उसमें पूरी सख्ती आ जाती है। लगभग 80 फीसदी लोगों को इससे फायदा हो जाता है। चूंकि इसमें कोई दवा नहीं दी जाती है, इसलिए इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है। वैक्यूम पंप आमतौर पर उन लोगों के लिए है जो 50 की उम्र के आसपास पहुंच गए हैं। यंग लोगों को इसकी सलाह नहीं दी जाती है, फिर भी जो भी इसका इस्तेमाल करे, उसे डॉक्टर की सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।- वायग्रा : इरेक्टाइल डिस्फंक्शन के लिए वायग्रा का इस्तेमाल अच्छा ऑप्शन है, लेकिन इसका इस्तेमाल किसी भी सूरत में बिना डॉक्टरी सलाह के नहीं करना चाहिए। वायग्रा में मौजद तत्व उस केमिकल को ब्लॉक कर देते हैं, जो पेनिस में होने वाले ब्लड फ्लो को रोकने के लिए जिम्मेदार है। इससे पेनिस में ब्लड का फ्लो बढ़ जाता है और फिर इरेक्शन आ जाता है। वायग्रा इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को ठीक करने में फायदेमंद तो साबित होती है, लेकिन यह महज एक टेंपररी तरीका है। इससे समस्या की वजह ठीक नहीं होती।इनका असर गोली लेने के चार घंटे तक रहता है। वायग्रा बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लेनी चाहिए। कई मामलों में इसे लेने के चलते मौत भी हुई हैं। गोली लेने के 15 मिनट बाद असर शुरू हो जाता है।अगर हाई और लो ब्लडप्रेशर, हार्ट डिजीज, लीवर से संबंधित रोग, ल्यूकेमिया या कोई एलर्जी है तो वायग्रा लेने से पहले विशेष सावधानी रखें और डॉक्टर की सलाह के मुताबिक ही चलें।- सर्जरी : जब ऊपर दिए गए तरीके फेल हो जाते हैं, तो अंतिम तरीके के रूप में पेनिस की सर्जरी की जाती है।प्रीमैच्योर इजैकुलेशनप्रीमैच्योर इजैकुलेशन या शीघ्रपतन पुरुषों का सबसे कॉमन डिस्ऑर्डर है। सेक्स के लिए तैयार होते वक्त, फोरप्ले के दौरान या पेनिट्रेशन के तुरंत बाद अगर सीमेन बाहर आ जाता है, तो इसका मतलब प्रीमैच्योर इजैकुलेशन है। ऐसी हालत में पुरुष अपनी महिला पार्टनर को पूरी तरह संतुष्ट किए बिना ही फारिग हो जाता है। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें पुरुष का अपने इजैकुलेशन पर कोई अधिकार नहीं होता। आदर्श स्थिति यह होती है कि जब पुरुष की इच्छा हो, तब वह इजैकुलेट करे, लेकिन प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की स्थिति में ऐसा नहीं होता।- सेरोटोनिन जैसे न्यूरो ट्रांसमिटर्स की कमी से प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की समस्या हो सकती है।- यूरेथेरा, प्रोस्टेट आदि में अगर कोई इंफेक्शन है, तो भी प्रीमैच्योर इजैकुलेशन हो सकता है।- दिमाग में मौजूद सेक्स सेंटर एरिया में अगर कोई डिस्ऑर्डर है तो भी सीमेन का डिस्चार्ज तेजी से होता है।- कुछ लोगों के पेनिस में उत्तेजना पैदा करने वाले न्यूरोट्रांसमिटर्स ज्यादा संख्या में होते हैं। इनकी वजह से ऐसे लोगों में टच करने के बाद उत्तेजना तेजी से आ जाती है और वे जल्दी क्लाइमैक्स पर पहुंच जाते हैं।- कई बार एंग्जायटी, टेंशन और सीजोफ्रेनिया की वजह से भी ऐसा हो सकता है।दवाएं : प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की वजह को जानने के बाद उसके मुताबिक खाने की दवाएं दी जाती हैं। इनकी मदद से प्रीमैच्योर इजैकुलेशन को पूरी तरह ठीक किया जा सकता है। इसमें करीब दो महीने का वक्त लगता है। इन दवाओं के कोई साइड इफेक्ट भी नहीं हैं।इंजेक्शन थेरपी: अगर खाने की दवाओं से काम नहीं चलता तो इंजेक्शन थेरपी दी जाती है। इनसे तीन मिनट के अंदर पेनिस हार्ड हो जाता है और यह हार्डनेस 30 मिनट तक बरकरार रहती है। इसकी मदद से कोई भी शख्स सही तरीके से सेक्स कर सकता है। ये इंजेक्शन कुछ दिनों तक दिए जाते हैं। इसके बाद खुद-ब-खुद उस शख्स का अपने इजैकुलेशन पर कंट्रोल होने लगता है और फिर इन इंजेक्शन को छोड़ा जा सकता है।टोपिकल थेरपी : यह टेंपररी ट्रीटमेंट है। इसमें कुछ खास तरह की क्रीम का यूज किया जाता है। इन क्रीम की मदद से डिस्चार्ज का टाइम बढ़ जाता है। इनका भी कोई साइड इफेक्ट नहीं होता।सेक्स थेरपी : दवाओं के साथ मरीज को कुछ एक्सरसाइज भी सिखाई जाती हैं। ये हैं :स्टॉप स्टार्ट टेक्निक : पार्टनर की मदद से या मास्टरबेशन के माध्यम से उत्तेजित हो जाएं। जब आपको ऐसा लगे कि आप क्लाइमैक्स तक पहुंचने वाले हैं, तुरंत रुक जाएं। खुद को कंट्रोल करें और सुनिश्चित करें कि इजैकुलेशन न हो। लंबी गहरी सांस लें और कुछ पलों के लिए रिलैक्स करें। कुछ पलों बाद फिर से पेनिस को उत्तेजित करना शुरू कर दें। जब क्लाइमैक्स पर पहुंचने वाले हों, तभी रोक लें और रिलैक्स करें। इस तरह बार बार दोहराएं। कुछ समय बाद आप महसूस करेंगे कि शुरू करने और स्टॉप करने के बीच का समय धीरे धीरे ज्यादा हो रहा है। इसका मतलब है कि आप पहले के मुकाबले ज्यादा समय तक टिक रहे हैं। लगातार प्रैक्टिस करने से इजैकुलेशन कब हो इस पर काबू पाया जा सकता है।कीजल एक्सरसरइज : कीजल एक्सरसाइज न सिर्फ प्रीमैच्योर इजैकुलेशन को कंट्रोल करने में सहायक है, बल्कि प्रोस्टेट से संबंधित समस्याएं भी इससे ठीक की जा सकती हैं। इसके लिए पेशाब करते वक्त स्क्वीज, होल्ड, रिलीज पैटर्न अपनाना होता है। यानी पेशाब का फ्लो शुरू होते ही मसल्स का स्क्वीज करें, कुछ पलों के लिए रुकें और फिर से रिलीज कर दें। इस दौरान इस प्रॉसेस का बार बार दोहराएं। इन सेक्स एक्सरसाइज की प्रैक्टिस अगर कोई शख्स चार हफ्ते तक लगातार कर लेता है तो उसके बाद वह 8 से 10 मिनट तक बिना इजैकुलेशन के इरेक्शन बरकरार रख सकता है। कई बार ऐसा भी देखा गया है कि काफी टाइम बाद सेक्स करने से भी व्यक्ति जल्दी स्खलित हो जाता है। ऐसे मामलों में इन एक्सरसाइजों को कर लिया जाए तो इस समस्या से भी निजात पाई जा सकती है।मास्टरबेशनसेक्स के दौरान पेनिस जो काम योनि में करता है, वही काम मास्टरबेशन के दौरान पेनिस मुट्ठी में करता है। मास्टरबेशन युवाओं का एक बेहद सामान्य व्यवहार है। जिन लोगों के पार्टनर नहीं हैं, उनके साथ-साथ मास्टरबेशन ऐसे लोगों में भी काफी कॉमन है, जिनका कोई सेक्सुअल पार्टनर है। जिन लोगों के सेक्सुअल पार्टनर नहीं हैं या जिनके पार्टनर्स की सेक्स में रुचि नहीं है, ऐसे लोग अपनी सेक्सुअल टेंशन को मास्टरबेशन की मदद से दूर कर सकते हैं। जो लोग प्रेग्नेंसी और एसटीडी के खतरों से बचना चाहते हैं, उनके लिए भी मास्टरबेशन उपयोगी है।नॉर्मल: मास्टरबेशन बिल्कुल नॉर्मल है। सेक्स का सुख हासिल करने का यह बेहद सुरक्षित तरीका है और ताउम्र किया जा सकता है, लेकिन अगर यह रोजमर्रा की जिंदगी को ही प्रभावित करने लगे तो इसका सेहत और दिमाग दोनों पर गलत असर हो सकता है।कुछ तथ्य- सामान्य सेक्स के तीन तरीके होते हैं - पार्टनर के साथ सेक्स, मास्टरबेशन और नाइट फॉल। अगर पार्टनर से सेक्स कर रहे हें तो जाहिर है सीमेन बाहर आएगा। सेक्स नहीं करते, तो मास्टरबेशन के जरिये सीमेन बाहर आएगा। अगर कोई शख्स यह दोनों ही काम नहीं करता है तो उसका सीमेन नाइट फॉल के जरिये बाहर आएगा। सीमेन सातों दिन और चौबीसों घंटे बनता रहता है। सीमेन बनता रहता है, खाली होता रहता है।- मास्टरबेशन करने से कोई शारीरिक या मानसिक कमजोरी नहीं आती।- पेनिस में जितनी बार इरेक्शन होता है, उतनी बार मास्टरबेशन किया जा सकता है। इसकी कोई लिमिट नहीं है। हर किसी के लिए अलग-अलग दायरे हैं।- इससे बाल गिरना, आंखों की कमजोरी, मुंहासे, वजन में कमी, नपुंसकता जैसी समस्याएं नहीं होतीं।- सीमेन की क्वॉलिटी पर कोई असर नहीं होता। न तो सीमेन का कलर बदलता और न वह पतला होता है।- इससे पेनिस के साइज पर भी कोई असर नहीं होता। जो लोग कहते हैं कि मास्टरबेशन से पेनिस का टेढ़ापन, पतलापन, नसें दिखना जैसी समस्याएं हो जाती हैं, वे खुद भी भ्रम में हैं और दूसरों को भी भ्रमित कर रहे हैं।- कुछ लोगों को लगता है कि मास्टरबेशन करने के तुरंत बाद उन्हें कुछ कमजोरी महसूस होती है, लेकिन वास्तव में ऐसा कुछ नहीं होता। यह मन का वहम है।- मास्टरबेशन एड्स और रेप जैसी स्थितियों को रोकने का अच्छा तरीका है।- कामसूत्र या आयुर्वेद में कहीं यह नहीं लिखा है कि मास्टरबेशन बीमारी है।- 13-14 साल की उम्र में लड़कों को इसकी जरूरत होने लगती है। कुछ लोग शादी के बाद भी सेक्स के साथ-साथ मास्टरबेशन करते रहते हैं। यह बिल्कुल नॉर्मल है।मिथ्स क्या हैं1. पेनिस का साइज छोटा है तो सेक्स में दिक्कत होगी। बड़ा पेनिस मतलब सेक्स का ज्यादा मजा।सचाई : छोटे पेनिस की बात नाकामयाब दिमाग में ही आती है। दुनिया में ऐसा कोई तरीका नहीं है जिससे पेनिस के स्टैंडर्ड साइज का पता किया सके। वैजाइना की सेक्सुअल लंबाई छह इंच होती है। इसमें से बाहरी एक तिहाई हिस्सा यानी दो इंच में ही ग्लांस तंतु होते हैं। अगर किसी महिला को उत्तेजित करना है, तो वह योनि के बाहरी एक तिहाई हिस्से से ही उत्तेजित हो जाएगी। जाहिर है, अगर उत्तेजित अवस्था में पुरुष का लिंग दो इंच या उससे ज्यादा है, तो वह महिला को संतुष्ट करने के लिए काफी है। ध्यान रखें, खुद और अपने पार्टनर की संतुष्टि के लिए महत्वपूर्ण चीज पेनिस की लंबाई नहीं होती, बल्कि यह होती है कि उसमें तनाव कैसा आता है और कितनी देर टिकता है। पेनिस की चौड़ाई का भी खास महत्व नहीं है। योनि इलास्टिक होती है। जितना पेनिस का साइज होगा, वह उतनी ही फैल जाएगी। बड़ा पेनिस किसी भी तरह से सेक्स में ज्यादा आनंद की वजह नहीं होता।2. पेनिस में टेढ़ापन होना सेक्स की नजर से समस्या है।सचाई : पेनिस में थोड़ा टेढ़ापन होता ही है। किसी भी शख्स का पेनिस बिल्कुल सीधा नहीं होता। यह या तो थोड़ा दायीं तरफ या फिर थोड़ा बायीं तरफ झुका होता है। इसकी वजह से पेनिस को वैजाइना में प्रवेश कराने में कोई दिक्कत नहीं होती है। ध्यान रखें, घर में दाखिल होना महत्वपूर्ण है, थोड़े दायें होकर दाखिल हों या फिर बायें होकर या फिर सीधे। ऐसे मामलों में इलाज की जरूरत तब ही समझनी चाहिए योनि में पेनिस का प्रवेश कष्टदायक हो।3. बाजार में तमाम तेल हैं, जिनकी मालिश करने से पेनिस को लंबा मोटा और ताकतवर बनाया जा सकता है। इसी तरह तमाम गोलियां, टॉनिक आदि लेने से सेक्स पावर बढ़ोतरी होती है।सचाई : पेनिस पर बाजार में मिलने वाले टॉनिक का कोई असर नहीं होता, असर होता है उसके ऊपर बने सांड या घोड़े के चित्र का। इसी तरह जब पेनिस पर तेल की मालिश की जाती है, तो उस हाथ की स्नायु मजबूत होती हैं, जिससे तेल की मालिश की जाती है, लेकिन पेनिस की मसल्स पर इसका कोई भी असर नहीं होता।4. पेनिस में नसें नजर आती हैं तो यह कमजोरी की निशानी है।सचाई : पेनिस में अगर कभी नसें नजर आती भी हैं तो वे नॉर्मल हैं। उनका पेनिस की कमजोरी से कोई लेना देना नहीं है।5. जिन लोगों के पेनिस सरकमसाइज्ड (इस स्थिति में पेनिस की फोरस्किन पीछे की तरफ रहती है और ग्लांस पेनिस हमेशा बाहर रहता है) हैं, वे सेक्स में ज्यादा कामयाब होते हैं।सचाई : सरकमसाइज्ड पेनिस का सेक्स की संतुष्टि से कोई लेना-देना नहीं है। यह तब कराना चाहिए जब उत्तेजित अवस्था में पुरुष की फोरस्किन पीछे हटाने में दिक्कत हो।6. सेक्स पावर बढ़ाने नुस्खे, गोलियां (आयुर्वेदिक और एलोपैथिक), मसाज ऑयल, शिलाजीत आदि बाजार में हैं। इनसे सेक्स पावर बढ़ाई जा सकती है।सचाई : बाजार में आमतौर मिलने वाली ऐसी गोलियों और दवाओं से सेक्स पावर नहीं बढ़ती। आयुर्वेद के नियम कहते हैं कि मरीज को पहले डॉक्टर से मिलना चाहिए और फिर इलाज करना चाहिए। हर मरीज के लिए उसके हिसाब से दवा दी जाती है, दवाओं को जनरलाइज नहीं किया जा सकता।एक पक्ष यह भीयूथ्स की सेक्स समस्याओं पर एलोपैथी और आयुर्वेद की सोच में अंतर मिलता है। जहां एक तरफ एलोपैथी में माना जाता है कि सीमेन शरीर से बाहर निकलने से शरीर और दिमाग को कोई नुकसान नहीं होता, वहीं आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज करने वाले लोग सीमेन के संरक्षण की बात करते हैं। आयुर्वेदिक डॉक्टरों के मुताबिक :- महीने में दो से आठ बार तक नाइट फॉल स्वाभाविक है, लेकिन इससे ज्यादा होने लगे, तो यह सेहत के लिए नुकसानदायक है।- मास्टरबेशन करने से याददाश्त कमजोर होती है। एकाग्रता और सेहत पर बुरा असर होता है।- प्रीमैच्योर इजैकुलेशन और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को आयुर्वेद में दवाओं के जरिए ठीक किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए मरीज को खुद डॉक्टर से मिलकर इलाज कराना चाहिए। दरअसल, आयुर्वेद में मरीज विशेष के लक्षणों और हाल के हिसाब से दवा दी जाती है, जिनका फायदा होता है।- बाजार में आयुर्वेद के नाम पर बिकने वाले मालिश करने के तेल, कैपसूल और ताकत की दवाएं जनरल होती हैं। इन बाजारू दवाओं से सेक्स पावर बढ़ाने या पेनिस को लंबा-मोटा करने में कोई मदद नहीं मिलती। ये चीजें आयुर्वेद को बदनाम करती हैं।- विज्ञापनों और नीम-हकीमों से दूर रहें। तमाम नीम-हकीम आयुर्वेद के नाम पर युवकों को बेवकूफ बनाकर पैसा ठगते हैं। इनसे बचें और हमेशा किसी योग्य डॉक्टर से ही संपर्क करें।- मर्यादित सेक्स करने से जिंदगी में यश बढ़ता है और परिवार में बढ़ोतरी होती है, जबकि अमर्यादित और बहुत ज्यादा सेक्स रोगों को बढ़ाता है।- मल-मूत्र का वेग होने पर और व्रत, शोक और चिंता की स्थिति में सेक्स से परहेज करना चाहिए।- जो चीजें शरीर को सेहतमंद रखने में मदद करती हैं, वही चीजें सेक्स की पावर बढ़ाने में भी मददगार हैं। ऐसे में अगर आप स्वास्थ्य के नियमों का पालन कर रहे हैं और सेहतमंद खाना ले रहे हैं तो आपको सेक्स पावर बढ़ाने वाली चीजें अलग से लेने की कोई जरूरत नहीं है। http://drbkkashyap.blogspot.in/2015/03/60-45-s-80-20-
77 people found this helpful

Hello, Hamare Ghar me sabko khujli ho gaya hai aur ye shaam se sote waqt tak sharir ko khjlane ka mann karta hai. please koi medicine bataiye jisse ye thik ho jaye.

B.H.M.S., Senior Homeopath Consultant
Homeopath, Delhi
Hello,
Hamare Ghar me sabko khujli ho gaya hai aur ye shaam se sote waqt tak sharir ko khjlane ka mann karta hai. ple...
Please give them Brim Ston. 30 / 5 drops in little water thrice a day for one day and start from next day give them Echinecia 1X / 4 tabs thrice a day for one month. Revert back after one month with feedback.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Will vitamin D save my life? Should I really be taking four times the recommended daily dose?

B.Sc. - Dietitics / Nutrition, Nutrition Certification,Registered Dietitian
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Will vitamin D save my life? Should I really be taking four times the recommended daily dose?
Vitamin D does not save life if you are suffering from life threatening disease. It can help in strengthening your bones and keep you overall healthy.
Submit FeedbackFeedback

In second level scan my placenta is anterior on upper side and also of zero level maturity. Please advise if this is ok and also sometime I feel slight pain on my left side of upper abdomen and back is this normal.

PGDHHM, MBBS
General Physician, Delhi
In second level scan my placenta is anterior on upper side and also of zero level maturity. Please advise if this is ...
Anterior placenta refers to the location of the placenta within your uterus. Grade 0 is the normal growth level of the placenta until about middle of 2nd trimester.
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

I am suffering from nasal poli last 7 years. My nose remain almost block all year round. I can just take 40% breath. I use otrivin nasal drop but its effect is temporary.

MBBS, M.S(ENT), DNB (ENT)
ENT Specialist, Chandigarh
I am suffering from nasal poli last 7 years. My nose remain almost block all year round. I can just take 40% breath. ...
Hello lybrate-user You should immediately get investigated. Show it to E N T specialist, get your nose examination and CT scan done. Do not use otrivin off and on, it can trouble you alot. Thanks Take care.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am experiencing constipation acute I drink lot of water and take at least 200 gms of fruits daily. It is getting worse what shall Ido?

PGP In Diabetologist, Fellowship in non-invasive Cardiology, MD - Medicine, MBBS
Endocrinologist, Delhi
I am experiencing constipation acute I drink lot of water and take at least 200 gms of fruits daily. It is getting wo...
Try isabgol husk 30 gm dissolved in lukewarm water at bed time. If no relief then take syp lactulose/duphulac 15 ml at bedtime.
12 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 42 years male, suffering from border line sugar problem, f 147 & pp 174 from last one year, I am not taking medicine for it. What I should do?

MBBS, CCEBDM, Diploma in Diabetology
Endocrinologist, Hubli-Dharwad
You are pre diabetic. Adopt a strict life style change and can avoid progression to diabetes. Bmi must be 24 kg per sq meter. Waist <90 cms, daily 1 h plus exercise, no sweets, no deep fried foods and no smoking and alcohol.
7 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I have had ankle injuries twice in a span of 15 days. Got it checked there was no fracture. But its been now 3 months and still it hurts sometimes while I walk. What should I do?

PDDM, MHA, MBBS
General Physician, Nashik
Rest. Take a break from your normal activities. Ice. Place an ice pack or bag of frozen peas on the sore area for 15 to 20 minutes three times a day. Compression. Use a compression bandage to reduce swelling. Elevation. Elevate your foot to help reduce swelling.
Submit FeedbackFeedback

My am cortisol level is 5.46 ug/dL is this bad or I have to go for any treatment please help.

C.S.C, D.C.H, M.B.B.S
General Physician,
My am cortisol level is 5.46 ug/dL is this bad or I have to go for any treatment please help.
When assessed with a typical radioimmunoassay (the most commonly used method), cortisol levels range from about 10 to 20 micrograms per deciliter (ug/dl) in the early morning (within one hour of the usual time of awakening), from 3 to 10 ug/dl at 4 PM, and are usually less than 5 ug/dl after the usual bedtime. So tell the time you did test and the cause for doing it? YOu can consult me by this site.
Submit FeedbackFeedback

Mujhe first degree of hemmarrids with proctitis hai. Mujhe kya karna chhahai ki Ye problem pure tarah say finish Ho jaayy.

MD - Homeopathy, BHMS
Homeopath, Vadodara
Mujhe first degree of hemmarrids with proctitis hai. Mujhe kya karna chhahai ki Ye problem pure tarah say finish Ho j...
The only solution is homoeopathy which though takes time to cure completely but relieves the symptoms immediately. And there are nonside effects..
Submit FeedbackFeedback

I have headache and pain in my eyes frequently. Is this because of study? What should I do in order to get rid of this constant pain.

BHMS
Homeopath, Raebareli
I have headache and pain in my eyes frequently. Is this because of study? What should I do in order to get rid of thi...
You should visit your Eye specialist and get your eyes checked. Do wear glasses of 0-power. DO not study in dim-light. Try to take proper sleep. Late night studying will not be helpful based on your condition.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I have a testis pain in nearby one year. Before pain of my testis I have a tumour in my left hand. Doctor told me that go to the biopsy but due to myth of that, if biopsy done the you have 100% cancer patient. What should I Do.

MD - General Medicine, PG in Diabetology, PG Diploma In Clinical Cosmetology (PGDCC)
General Physician, Asansol
I have a testis pain in nearby one year. Before pain of my testis I have a tumour in my left hand. Doctor told me tha...
Biopsies are typically associated with cancer, but it dose not mean that you have cancer, Doctors use biopsies to the test whether abnormalities in your body are caused by cancer or by other conditions. For example, if a woman has a lump in her breast, an imaging test confirm the lump, but a biopsy is the only way to determine whether it's breast cancer or another noncancerous condition, such as polycystic fibrosis. So, don't worry, you should done biopsy for proper diagnosis & proper treatment.
Submit FeedbackFeedback

I have gas problem with constipation I tried some medicine please suggest me some effective medicines.

BHMS, MD - Homeopathy, MD Homoeopathic
Homeopath, Pune
I have gas problem with constipation I tried some medicine please suggest me some effective medicines.
Drink plenty of water atleat 2 lit- 4 lit per day. Take plenty of green leafy vegetables enriched with your diet like spinach. Proper use of fiber in the form of fresh fruits. Banana will help to easy passing of stools. Take a cup of hot milk and add 1 tsp of ghee at bedtime will surely help you. Take nux vomica 200 a homoeopathic medicine for thrice a day for good result.
Submit FeedbackFeedback

I have pain on eyes and head joint I am not understanding water its cause of my specs as I have specs no. So is it that the no. Has increased of my specs? please guide me. Thank you.

MBBS, cc USG
General Physician, Gurgaon
I have pain on eyes and head joint I am not understanding water its cause of my specs as I have specs no. So is it th...
Hello, Refractive error is a common cause of pain in eyes and Headache so kindly get checked your eye for refractive error
Submit FeedbackFeedback

I have Headache problem when I m in tension my headache will appear so please Consult me.

BHMS
Homeopath, Faridabad
I have Headache problem when I m in tension my headache will appear so please
Consult me.
Hello, it's important to figure out what type of headache is causing your pain. If we know your headache type, we can treat it correctly. I think you are suffering from tension headache, the most common type, feel like a constant ache or pressure around the head, especially at the temples or back of the head and neck. Take bc no. 12, 5 tabs twice daily and kali phos 6x, 5 tabs at bed time. Alpha ha, 15 drops with warm water twice daily. Revert me after 15 days.
Submit FeedbackFeedback

Soon I'm getting married. I've masturbate daily I'm feeling weakness. What should I do?

BHMS
Homeopath,
Soon I'm getting married. I've masturbate daily I'm feeling weakness. What should I do?
Dear lybrate user, masturbation should not be done for more than twice in a week. Sperm cells are being continuously produced inside human testis. A single sperm cell needs about 4 months to mature before being ejaculated. Masturbating ejaculates many mature as well as immature sperm & results in the temporary deficit of sperm count. This loss of sperm results in the increased production of sperm. A sperm is mainly made up of protein. An increased production of sperm count needs a steady supply of protein. This supply of protein is met from the amount of protein we intake daily. Over masturbation increases the rate of production of sperm to such extent that the demand for protein cannot be fulfilled naturally & it often results in breakdown of protein from muscle tissues. This breakdown of muscle tissues is externally manifested as fatigue, weakness etc. Addiction to masturbation denotes that you are continuously indulged in sexual thoughts. This type of thoughts is common in people who live a sedentary life. If you really have a sedentary life-style you should get yourself out from it immediately. Socialize yourself. Do some physical exercise daily. Drink a lots of water. Create a routine of your daily schedule & maintain it. Stop watching porn in case you have developed a habit of watching it in order to minimise the after-effects of over-masturbation you can take homoeopathic cinchona officinalis 30 or china 30, 5 drops, thrice daily in empty stomach. This medicine will help to fight the seminal debility caused by the sexual exertion created by over-masturbation. Also I would like to advise you to conduct your semen analysis test. It will reveal the abnormalities in your semen if you really have any. If you find any abnormality in your semen analysis report then you should obviously consult me privately via lybrate.
Submit FeedbackFeedback

Dr. I am having itching on my body for last few days. When I itch it gets red and the skin has eruptions all over. At this moment I feel like continue itching but I stop it on my own and slowly it subsides for some time. I am very particular with personal hygiene. Please tell me the cause and suggest me the cure for it. Thanks

MD, Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Pune
Dear, the symptoms suggest that you need to improve your immunity of skin. We have self made specialised medicine prepared for enhancing immunity. This can take care of your issue and you can rest assured.
Submit FeedbackFeedback

Can shrinkage in penis size can be brought back to it's original size by regular exercise and having good diet.

MD-Ayurveda, Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Haldwani
Can shrinkage in penis size can be brought back to it's original size by regular exercise and having good diet.
Hello- I am afraid it can't. You have to provide some kind of external nourishment (herbal aphrodisiac) in order to recover the tissue damage happened up till now, which has caused the penis to shrink. Once the growth becomes normal, you can later maintain it with exercises and good diet.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am suffering from night fall problem since 2 & 3 year please help and also suffered Premature ejaculation problem help me.

BHMS
Homeopath, Faridabad
I am suffering from night fall problem since 2 & 3 year please help and also suffered Premature ejaculation problem h...
Hi, Your body is doing what it was made to do. Wet dreams are nothing to feel guilty about, so don't beat yourself up over something that's a perfectly normal function of your body. Home remedies for nightfall: -Individuals suffering from the condition can also opt to drink a glass of fresh bottle gourd juice every day, preferably at night in order to prevent nightfall. -Grind some fenugreek leaves or seeds and extract the juice. Add some water to the juice (one cup to 2 tbsp.). Add a few drops of honey for taste as well. Drink the juice before bed time every day to curb nightfall effectively. -Drinking a glass of warm almond milk at night before going to bed can relax the mind and body, and literally lull you to sleep and is one of the best known home remedies for recurrent wet dreams. Management: -Sleep on your back. -Wear loose fitting clothes . -Avoid spicy foods and stimulants (coffee and other substances that contain caffeine, especially late at night). -It'll be much easier to control your sexual urges if you avoid pornography, sexual programming on television, and other media. Fill your time with enriching, fulfilling activities and avoid dwelling on thoughts of sex. -Try practicing yoga. -Develop a healthy relationship with sex. If you're sexually active, communicate with your partner to maintain a healthy and open sexual relationship that keeps you both fulfilled. In some cases, big changes or stressful periods reportedly produce more wet dreams than at other more relaxed periods of leisure. Make sure you get enough sleep and exercise, and take time off from your busy schedule to relax and do things that you enjoy. Pick up new hobbies to fill your free time with fun activities and relax when you get the chance to relax. Medication: Phosphoric Acid 30/ thrice daily for 4 weeks. For premature ejaculation: Premature ejaculation occurs when a man experiences orgasm and expels semen soon after sexual activity and with minimal penile stimulation. Most cases of premature ejaculation do not have a clear cause. With sexual experience and age, men often learn to delay orgasm. Premature ejaculation may occur with a new partner. It may happen only in certain sexual situations or if it has been a long time since the last ejaculation. Psychological factors such as anxiety, guilt, or depression can also cause it. In some cases, it may be related to a medical cause such as hormonal problems, injury, or a side effect of certain medicines. Men with premature ejaculation often report emotional and relationship distress. Medication: You don’t need to take male enhancement pills with never-before heard ingredients. Take homoeopathic medicine - Schwabe's Damiaplant/ thrice daily for 4 weeks. Management: Regular exercising keeps you fit and healthy, so don't forget to do it. Practice pranayam regularly for half an hour preferably in a garden early in the morning. Not to do these exercises within 4 hours after meals. One can have meals not within 15 minutes after finishing these exercises. These exercises are good for gaining and maintaining good health. Also, practice Pelvic floor exercise or Kegel excercise, consists of repeatedly contracting and relaxing the muscles that form part of the pelvic floor. It makes the muscles of pelvis toned and strengthened! In order to locate your pelvic muscles try to stop and begin the flow of urine as using the bathroom. You can perform Kegel exercises with the empty bladder as exercising pelvic muscle with the full bladder might result in urinary tract infections.
Submit FeedbackFeedback
View All Feed