Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. Ashwini Ghandhi

Gynaecologist, Mumbai

950 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Ashwini Ghandhi Gynaecologist, Mumbai
950 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I'm a caring, skilled professional, dedicated to simplifying what is often a very complicated and confusing area of health care....more
I'm a caring, skilled professional, dedicated to simplifying what is often a very complicated and confusing area of health care.
More about Dr. Ashwini Ghandhi
Dr. Ashwini Ghandhi is an experienced Gynaecologist in Mumbai, Mumbai. You can visit her at Hinduja hospital-Mahim in Mumbai, Mumbai. Don’t wait in a queue, book an instant appointment online with Dr. Ashwini Ghandhi on Lybrate.com.

Find numerous Gynaecologists in India from the comfort of your home on Lybrate.com. You will find Gynaecologists with more than 34 years of experience on Lybrate.com. You can find Gynaecologists online in Mumbai and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Ashwini Ghandhi

Hinduja hospital-Mahim

Near Bombay Escudi School, Mahim Landmark: Near petrol Pump, MumbaiMumbai Get Directions
950 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Ashwini Ghandhi

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

M single Dr. I have irregular periods. Past few months my cycle was of 52 days. And then last two months cycle was regular. Then now again m missing my period. What is the solution gor this?

MBBS
General Physician, Delhi
M single Dr. I have irregular periods. Past few months my cycle was of 52 days. And then last two months cycle was re...
Hi, Most common reasons for irregular periods :-Stress, illness,Weight, Excessive exercise, Change in schedule, Breastfeeding,Medication, Hormonal imbalance, Thyroid disorder ,Perimenopause.
Submit FeedbackFeedback

Is it possible to conceive due to pcod ovarian cyst. If yes then wat steps to be followed. please advise.

MBBS, DNB (Obstetrics and Gynecology), MNAMS, Training in USG
Gynaecologist, Delhi
Is it possible to conceive due to pcod ovarian cyst. If yes then wat steps to be followed. please advise.
Hi Yes, it is possible to conceive with ovarian cyst. For proper guidance you please send me the ultrasound report and tell me last date of periods.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

What are the foods to eat as I want for early pregnancy. Which are good vegetables ,fruits to eat for better fertility. Please suggest. Waht foods to avoid. I am 33 years old. My husband is 35+.

MD - Obstetrtics & Gynaecology, Fellowship in Infertility
IVF Specialist, Noida
What are the foods to eat as I want for early pregnancy. Which are good vegetables ,fruits to eat for better fertilit...
Have fresh fruits and vegetables which have lot of anti oxidants. Citrus fruits are good .Tulsi leaves are beneficial.
Submit FeedbackFeedback

मेनोपॉज या (मासिकधर्म) के दौरान वजाइना में होने वाले बदलाव और उनका उपचार

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad

मेनोपॉज  या (मासिकधर्म) के दौरान वजाइना में होने वाले बदलाव और उनका उपचार


जीवन में बहुत सी अच्छी बातें घटती हैं, समय के साथ इंसान की उम्र भी कम होने लगती है और वह बूढ़ा भी होने लगता है। महिलाओं की बात करें तो उनके साथ कई घटनायें ऐसी होती हैं जो पुरुषों से अलग हैं। मेनोपॉज उम्र के एक पड़ाव के बाद होने वाली एक ऐसी ही प्राकृतिक क्रिया है। सामान्यतया मेनोपॉज का समय 40 के बाद का माना जाता है। इस दौरान महिलाओं के शरीर में बदलाव होते हैं साथ ही महिला के योनि में भी बदलाव दिखते हैं। इस लेख में जानते हैं उन बदलावों के बारे में और उनके उपायों के बारे में।
 

सूखेपन की समस्या

मेनोपॉज के दौरान महिलाओं को शारीरिक और मानसिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस दौरान महिलाओं की योनि में सबसे अधिक समस्या सूखेपन की होती है। इस समस्या के कारण महिला बहुत असहज हो जाती है। इस दौरान यौन संबंध बहुत ही कष्टकारी होता है। क्योंकि महिला के शरीर से नैचुरल लुब्रीकेंट निकलना बंद हो जाता है।
 

एस्ट्रोजन की कमी

महिलाओं में एस्ट्रोजन नामक हार्मोन होता है, मेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजन हार्मोन का स्राव कम होने लगता है जिसकी वजह से योनि में सूखेपन की समस्या अधिक होती है।


ढीलेपन की समस्या

एस्ट्रोजन हार्मोन की कमी के कारण महिलाओं की शारीरिक क्षमता कम होने लगती है। एस्ट्रोजन हार्मोन वजाइना को शिथिल यानी गीलापन बनाये रखने में मदद करता है, लेकिन जब यह कम हो जता है तो योनि ढीली होने लगती है। इसके कारण ही महिलाओं में यौन इच्छा समाप्त होने लगती है।

क्या तरीके आजमायें

इस दौरान महिला के अंदर चिड़चिड़ेपन की समस्या बढ़ जाती है जिसे संभालना महिला के लिए मुश्किल भी हो सकता है। योनि में सूखेपन के कारण अधिक समस्या होती है। इसे दूर करने के लिए महिला को मॉइश्चराइजर का प्रयोग करना चाहिए। नारियल का तेल योनि पर लगाना बेहतर विकल्प हो सकता है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण होते हैं जो संक्रमण से भी बचाता है। इस दौरान हार्मोन थेरेपी कराने के कई खतरे हो सकते हैं, ऐसे में बेहतर और सुरक्षित विकल्प के लिए एस्ट्रोजन थेरेपी का सहारा आप ले सकती हैं। इससे योनि में सूखेपन की समस्या दूर हो जाती है। अगर मूड स्विंग और अनिद्रा की समस्या अधिक हो तो आप एस्ट्रोजन की गोलियां या फिर इंजेक्शन ले सकती हैं। इसके अलावा हमेशा चिकित्सक के संपर्क में रहें और उसे हर बात बतायें।


मेनोपॉज के लक्षण

- महिलाओं में मेनोपॉज का समय 40 साल या उससे अधिक होता है, इस दौरान मासिक धर्म बंद हो जाता है।
- वजन बढ़ने लगता है, खासकर कूल्हों और नितंबों के पास की चर्बी बढ़ने लगती है।
- योनि संकीर्ण होने लगती है और उससे तरल पदार्थ निकलना बंद हो जाता है।
- मूड स्विंग, अवसाद, सिरदर्द, अनिद्रा आदि समस्या होने लगती है।
- जोड़ों में दर्द की समस्या होने लगती है।
- इससे बचने के लिए नियमित व्यायाम करें, नियमित रूप से चिकित्सक के संपर्क में रहें।

My friend wife removed her only uterus not ovaries 3 years past now she is fit n fine but only thing is she dnt get sex feeling like before so can she take musli roots powder or ashwagandha power for better sex arousal for her is der any side effect for dat.

MBBS, DGO, MD, Fellowship in Gynae Oncology
Gynaecologist, Delhi
My friend wife removed her only uterus not ovaries 3 years past now she is fit n fine but only thing is she dnt get s...
Hello, your friend can take hrt (hormone replacement therapy. She needs to visit a gynecologist for that.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My wife got uterus operation does she get urge for sex. They must have left ovary. Definitely sexual urge is affected. She can take hrt. Which local cream to improve orgasm.

Diploma in Hospital Administration, MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS
General Physician, Delhi
My wife got uterus operation does she get urge for sex. They must have left ovary. Definitely sexual urge is affected...
Removal of Uterus has no effect on the urge for sex. Your wife must be less than 32 yrs, Generally doctor leave one ovary, Which is sufficient to produce adequate amount of Female Hormones. Hence there is no need for HRT (Hormone Replacement Therapy). If one ovary is left then there is no need for vaginal creams. Soyabean preparations are good source of Oestrogen (Female Hormones) like Nutrinuggets / Soya Milk/ Tofu/ Soya biscuits or Chaptties made from 10 kg Wheat Flour mixed with 1 kg Soya flour.
5 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Chicory (Kasni) Benefits and Side Effects in Hindi - कासनी के फायदे और नुकसान

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Chicory (Kasni) Benefits and Side Effects in Hindi - कासनी के फायदे और नुकसान

भूमध्य क्षेत्रों में पाए जाने वाले नील रंग के बारहमासी पौधे कासनी को अंग्रेजी में चिकोरी भी कहते हैं. कासनी के लाभ से हमारा स्वास्थ्य बेहतर हो सकता है. इसके जड़ को हम कई तरह के औषधीय रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं. आइए कासनी के लाभ और कासनी से होने वाली हानि को समझने के कोशिश करें-

1. चिंता को कम करता है
चिंता का सीधा संबंध दिमाग से है और दिमाग का तंत्रिका तंत्र से है. तनाव के प्रभाव और उपचार पर होने वाली कई शोधों से ये पता चला है कि कासनी हमारे शरीर में तनाव और इसके दुष्प्रभावों को ख़त्म करने में महत्ववपूर्ण भूमिका निभाता है. इन शोधों से इस बात का भी पता चला है कि कासनी के लाभकारी गुण तंत्रिका तंत्र सम्बन्धी परेशानियों में सुजन को कम करके हमें राहत दिलाता है. कासनी के सूखे या भुने हुए बीज या इसके जड़ों से तैयार पेय पदार्थ ऐसे पीड़ितों को देने से उन्हें राहत मिलती है.
जैसा कि हम जानते हैं कि नींद भी चिंता का कारण बन सकता है. तो आपको जानकर हैरानी होगी कि कासनी नींद न आने, चिंता या तनाव से निपटने में भी हमारी मदद करता है. इसके लिए आपको कासनी के पत्तों से तैयार पेस्ट को माथे पर लगाने से सरदर्द में राहत मिलती है.
2. दिल को मजबूत बनाता है
कासनी के जड़ में पाया जाने वाला इनुलिन हमारे शरीर से खराब कोलेस्ट्राल को दूर करता है. आपको बता दें कि एलडीएल नाम का कोलेस्ट्राल खराब कोलेस्ट्राल होता है. ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसके स्तर में वृद्धि से दिल के दौरे या स्ट्रोक की संभावना बढ़ जाती है. कासनी के भुने हुए बीज के 3-5 ग्राम पाउडर को दूध के साथ नियमित रूप से लेने से काफी फायदा मिलता है.
3. लीवर का भी रखे खयाल
हमारे शरीर में लीवर या गुर्दे का काम डिटॉक्सिफाइयिंग चैनल के रूप में है. ऐसे में लीवर की सफाई भी तो जरुरी है न. तो प्राचीन का में कासनी या चिकोरी का उपयोग लीवर को साफ़ करने के लिए किया जाता है. हलांकि कई शोधों में ये भी देखा गया है कि इससे ऑक्सीडेटीव तनाव या लीवर का चोट भी रुकता है. 
4. पाचन में मददगार  
कासनी में पाचन में मदद करने वाले बैक्टीरिया के अनुकूल या सहजीवी बैक्टीरिया पाए जाते हैं जिससे ये पाचन में लाभकारी साबित होता है. यही नहीं इसमें पाए जाने वाले बैक्टीरिया हमारे प्रतिरक्षा में भी मदद करते हैं. इसमें इनुलिन नाम का एक शक्तिशाली घुलनशील एवं प्रोबायोटिक फाइबर भी पाया जाता है. आपको बता दें कि इनुलिन कई पौधों में पाया जाता है लेकिन कासनी में इनुलिन की मात्रा उच्चतम होती है. इनुलिन में शरीर के अम्लता को कम करने की भी शक्ति होती है. कई शोधों में ये भी पाया गया है कि कसनी पित्त के प्रवाह को बढ़कर वसा को तोड़ने में मदद करती है जिससे कि पाचन आसानी से हो जाता है.
5. गठिया में लाभकारी
कासनी का जड़, जोड़ों के दर्द के उपचार में काफी उपयोगी साबित होता है. इसे लेकर भी कई शोध हुए हैं और इन शोधों में कहा गया है कि इसमें सुजन को कम करने की क्षमता होती है. यही कारण है कि कासनी पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस से निपटने में भी हमारी मदद करती है. गठिया के अलावा ये सामान्य दर्द और मांसपेशियों में होने वाले दर्द के उपचार में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.
6. कैंसर भी रोक सकता है
अपने एंटीबैक्टीरियल गुणों के कारण कासनी एक शक्तिशाली प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में कई हानिकारक बैक्टीरिया को ख़त्म करता है. यही नहीं कासनी में पॉलिफेनाल नाम का यौगिक एक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में काम करता है. यही वो यौगिक है जो कैंसर, खासतौर से स्तन और कोलेरेक्टल कैंसर को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इसके जड़ के अर्क में एंटीमाइक्रोबियल और एंटीफंगल गुण भी पाए जाते हैं जो जीवाणुरोधी होते हैं.
7. वजन कम करता है
जैसा कि हम पहले ही देख चुके हैं कि कसनी में घुलनशील फाइबर इनुलिन और ओलिगा फ्रुक्टोज पाया जाता है. इनुलिन की खासियत ये है कि ये बिना रक्त शर्करा या कैलोरी का स्तर बढ़ाए ही आपका पेट भरा हुआ महसूस कराता है. इसके साथ ही फ्रुक्टो-ऑलिगोसेकेराइड आंत के लाभकारी जीवाणुओं के विकास में योफ्दान देता है. इसके परिणामस्वरूप आंत में सूक्ष्मजीवों में संतुलन स्थापित होता है. इस प्रकार से ये पाचन प्रक्रिया को प्रभावित करके हमारे वजन को कम करने में उपयोगी है.
8. कब्ज को भी करे ख़त्म
कासनी के जड़ में बीटा-कैरोटिन, कॉलिन, विटामिन सी, विटामिन के प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. इसके साथ ही इसमें घुलनशील फाइबर इनुलिन भी पाया जाता है. ये सभी विटामिन और तत्व मिलकर आंत के विकारों को ख़त्म करने का काम करते हैं. इसलिए इसे कब्ज के उपचार में काफी महत्व दिया जाता है.

कासनी के नुकसान
1. ड्राइवर्स के लिए: कासनी का जड़ का प्रयोग अधिक दिन तक करने से शामक कारवाई होती है. इसलिए वाहनचालक और मशीनों पर काम करने वाले लोगों को इसके सेवन में सावधानी बरतनी चाहिए.
2. एलर्जी का डर: इसके साथ ही चिकोरी का जड़ के जड़ से कुछ लोगों को एलर्जी की संभावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता है. इसलिए इसके इस्तेमाल में इस बात का ध्यान रखें.
3. गर्भवती महिलाओं के लिए: गर्भवती महिलायें या स्तनपान कराने वाली महिलाएं इसके उपयोग में सावधानी बरतें.
4. दमा या खांसी में: दमा या खांसी में इसका सेवन नुकसान पहुंचा सकता है. इस दौरान इसके इस्तेमाल में सचेत रहें.
 

5 people found this helpful

Pired me sex karane se pregnancy hoti he kya. Pired me sex karnese kuch problems hote he kya.

International Academy of Classical Homeopathy, BHMS
Homeopath,
Pired me sex karane se pregnancy hoti he kya. Pired me sex karnese kuch problems hote he kya.
no mam during mc if u had intercourse no chance of pregnn. but its too much harful for ur future sexual life
Submit FeedbackFeedback

How to get sovle piles after pregnancy please doc tell me what should I have to do please tell me

MS - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist, Agra
How to get sovle piles after pregnancy please doc tell me what should I have to do please tell me
Helo lybrate-user. please apply hadensa cream over your anus. Also apply little cream inside the anus. Apply thrice a day. Initially you may feel irritation for 5 mins and then it will settle down. Use it for 5 days do not apply much pressure when in toilet. Avoid spicy food I am sure you ll feel lot better gd wishes Dr. mukul.
Submit FeedbackFeedback

I delivered a baby boy on 25.3. 2015. It's been 4 months now and my stomach is still looking like 7 months pregnant. Can anyone suggest a remedy for this. Any food diet or any creams that can put back my stomach normal.

MD - Obstetrtics & Gynaecology
Gynaecologist, Chandigarh
Exercise like cardio, jogging, brisk walk, swimming etc will help you lose that extra fat near you tummy. Along with that abdominal exercise and lower body resistance training will aid it. Avoid junk food and too much of spicy and oily food. Costume lot of water, vegetables, fruits and fibre. Try having lemon water (use like warm water) first thing in the morning.
5 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Doctors

90%
(1747 ratings)

Dr. Vandana Walvekar

MD
Gynaecologist
Bhatia Hospital, 
300 at clinic
Book Appointment
95%
(52 ratings)

Dr. Sharmila Naik

MBBS, DNB - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist
Apollo Clinic, 
250 at clinic
Book Appointment
90%
(81 ratings)

Dr. Mohan Krishna Raut

MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS, DGO
Gynaecologist
Dr. Raut's Women's Hospital, 
300 at clinic
Book Appointment
95%
(817 ratings)

Dr. Prabhjot Manchanda

MBBS, DNB - Obstetrics & Gynecology
Gynaecologist
Sukh Shanti Hospital, 
250 at clinic
Book Appointment
88%
(177 ratings)

Dr. Jagdip Shah

MD - Obstetrics & Gynaecology, DGO, MBBS, MCPS
Gynaecologist
Pooja Maternity & Nursing Home, 
300 at clinic
Book Appointment
91%
(128 ratings)

Dr. Nanda Kumar

MBBS, DGO
Gynaecologist
Dr.Nanda R Kumar Clinic, 
250 at clinic
Book Appointment