Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

sanjeevan medical centre

Homeopath Clinic

shree tower new link road opp sailee hospital above linkview hotel borivali west mumbai
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
sanjeevan medical centre Homeopath Clinic shree tower new link road opp sailee hospital above linkview hotel borivali west mumbai
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

Our goal is to offer our patients, and all our community the most affordable, trustworthy and professional service to ensure your best health....more
Our goal is to offer our patients, and all our community the most affordable, trustworthy and professional service to ensure your best health.
More about sanjeevan medical centre
sanjeevan medical centre is known for housing experienced Homeopaths. Dr. Sagar M.Dhotre, a well-reputed Homeopath, practices in mumbai. Visit this medical health centre for Homeopaths recommended by 72 patients.

Timings

MON-SAT
04:00 PM - 08:00 PM

Location

shree tower new link road opp sailee hospital above linkview hotel borivali west
Link Road mumbai, Maharashtra - 400092
Get Directions

Doctor in sanjeevan medical centre

Available today
04:00 PM - 08:00 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for sanjeevan medical centre

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Hi doctors, Please help me. I had severe endometriosis. Had a laparoscopy on last November after that took lupron 11.25 mg injection on dec 11 .doctor told me that after 3 months I will get periods back. But I didn't get my periods yet. 4 months over. What I want to do. Do I want to consult a doc. Or I want to take any medicine to induce periods? Sometimes I am having period like cramps. But menses is not coming.

Fellowship In Infertility, MS - Obstetrics and Gynaecology, MBBS
Gynaecologist, Delhi
Hi doctors, Please help me. I had severe endometriosis. Had a laparoscopy on last November after that took lupron 11....
After depot injections like this periods can be delayed. There is nothing much to worry. See a specialist if you don't get periods soon and earlier if you plan to conceive. Based on ultrasound you may be required to take medications to get your periods.
Submit FeedbackFeedback

I have acne problem especially during summer there are marks of acne and chickenpox. What type of treatment at home or steps available so that I can feel better especially about the marks make my face dull .suggest homeopathic treatment with full detail. Thank you.

MCh - Plastic & Reconstructive Surgery
Cosmetic/Plastic Surgeon, Bangalore
I have acne problem especially during summer there are marks of acne and chickenpox. What type of treatment at home o...
Hello. The scars and the pigmentation on the face are treatable. It's better to get it examined first so that we can identify the type of skin, scars and if they are hyper pigmented, atrophic or ice pick scars. The treatment are of various kind like ranging from simple scrubs and mild peels for the face to the major interventions such as laser therapy, dermaroller, subcision or peeling. These depend on the type of the scars and which kind you opt for. You can consult me online or text me with pictures for further details.
Submit FeedbackFeedback

I have been majorly dealing with obsessive unwelcoming thoughts for as long as I could remember. It manifested in the form of different themes through the years. Whenever I obese it takes up 90% of my waking hours and gets me into a state of panic and anxiety. After a while, I turn numb and stop fighting the thoughts. There are certain instances where I badly needed the support of a family member/therapist but I haven't opened up about it to anyone in fear of embarrassment. And my current obsession is taking a toll on my health and relationship. And I've been through various websites and forums looking for a cure. And that's when I stumbled across obsessive compulsive disorder. Everything I had been experiencing since I was a small kid, had been jotted down in the name of pure O ocd disorder (Counting obsession involving lucky and unlucky numbers when I was in primary school ; obsessions involving phobias - fear of losing emotions, fear of going insane ; Sensorimotor obsession involving breathing ; Religious intrusive thoughts while praying - my opposite wishes pop up in my mind when I pray and causing panic ; Relationship focused obsession ). All of these themes have ruled a decent period of my living and it keeps shifting to a new subject, anything that's close to my heart. I'm tired of fighting these thoughts and at times I get numb and detached for days together and there are days when I just cry it all out. Loss of appetite also occurs. And most days I live in my head. Like I analyse and fight with these thoughts right from the moment I wake up, till I go to bed. This really is having a negative impact on my day to day activities. And it feels like these obsessions define me and I don't have a separate identity, since I've been this way for years together (gotten more evident in the last ten years). I need an expert to look at into it and suggest if ocd might the case. So that I can look for treatment options. Kindly advise. Thank you.

Psychiatrist, Panchkula
Hello, I can understand your problem. Its distressing to live with such a problem and not taking treatment. If the thoughts are repetitive, irrelevant, not under your control, causing distress so much that its hampering your day to day life and present for more than a hour you might have OCD. OCD can affect anyone and it can be treated with medication and behavior therapy. You should Contact nearby psychiatric clinic for help or contact me to get any further help. Learn how to get rid of these thoughts. Whenever these thoughts come try involving yourself in some other activity or start repeating in your mind 3 times go away. They will subside gradually. Best Wishes.
Submit FeedbackFeedback

Healthy Diet Chart For Arthritis Patients - गठिया रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For Arthritis Patients - गठिया रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

अर्थराइटिस यानी गठिया जोड़ों की बीमारी है. अर्थराइटिस की शिकायत होने पर चलने में तकलीफ, जोड़ों में दर्द की शिकायत होती है. लेकिन कुछ खाद्य प‍दार्थ ऐसे है जिनसे अर्थराइटिस का दर्द कम और कुछ से दर्द बढ़ सकता है. आइए ऐसे ही कुछ खाद्य प‍दार्थों के बारे में जानें.
अर्थराइटिस में क्‍या खायें
अर्थराइटिस यानी गठिया जोड़ों की बीमारी है. अर्थराइटिस की शिकायत होने पर चलने में तकलीफ, जोड़ों में दर्द की शिकायत होती है. हालांकि यह बीमारी उम्रदराज लोगों को होती है, लेकिन बदली हुई लाइफस्‍टाइल के कारण इसकी चपेट में वर्तमान में युवा भी आ रहे हैं. अर्थराइटिस का दर्द इतना तीव्र होता है कि व्यक्ति को चलने–फिरने और यहां तक कि घुटनों को मोड़ने में भी बहुत परेशानी होती है. लेकिन आहार में कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल कर आप इस समस्‍या से बच सकते हैं.
लहसुन का सेवन
लहसुन रक्त शुद्ध करने में सहायक है. अर्थराइटिस के कारण रक्त में यूरिक एसिड बहुत अधिक मात्रा में बढ़ जाता है. लहसुन के रस के प्रभाव से यूरिक एसिड गलकर तरल रूप में मूत्रमार्ग से बाहर निकल जाता है.
अजमोद
अजमोद गठिया से ग्रस्त मरीजों के लिए विशेष रूप से उपयोगी होता है. गठिया मरीज अजमोद के रस का इस्तेमाल करके अपनी परेशानी कम कर सकते हैं. क्योंकि अजमोद एक मूत्रवर्धक के रूप में किडनी की सफाई के लिए जाना जाता है. किडनी में मौजूद अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निष्कासित करके यह आपको स्वस्थ रखता है.
अदरक
अदरक रक्त प्रवाह और परिसंचरण में सुधार करता है. ठंड के मौसम के दौरान खराब जोड़ों के दर्द का अनुभव करने वाले अधिक संवेदनशील लोगों के लिए विशेष रूप से अच्छा होता है. जोड़ों के दर्द से परेशान लोगों को हर रोज दो सौ ग्राम अदरक दो बार लेने से दर्द में बहुत राहत मिलती है.
कैमोमाइल टी
अर्थराइटिस के लिए कैमोमाइल टी सबसे ज्‍यादा फायदेमंद मानी जाती है. इसमें मौजूद एंटी इंफेल्‍मेटेरी तत्‍व अर्थराइटिस के इलाज में फायदेमंद है. इसे आप चाय की तरह या खाने के तौर पर ले सकते हैं. यह जोड़ो में यूरिक एसिड बनने से रोकता है.
सेब साइडर सिरका
सेब साइडर सिरका आपके पाचन में सुधार करता है, विशेष रूप से प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों को बेहतर तरीके से पचाता है. उम्र बढ़ने पर हमारे पेट की क्षमता कम और जोड़ों का दर्द बढ़ जाती है. ऐसे में सेब साइडर सिरका बहुत मददगार होता है. सेब साइडर सिरका आपके शरीर को अधिक क्षारीय बनाने में मददकर जोड़ों के दर्द को कम करता है.
अर्थराइटिस में इन आहार से बचें
अर्थराइटिस होने पर शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा अधिक हो जाती है, इसके कारण ही जोड़ों में सूजन होती है. इसकी पीड़ा असहनीय होती है, खासकर ठंड के मौसम में इसका दर्द बर्दाश्‍त से बाहर हो जाता है. कुछ आहार तो ऐसे है जिनको खाने से अर्थराइटिस का दर्द और भी बढ़ सकता है. आइए जानें, किन आहार से बढ़ सकता है अर्थराइटिस का दर्द.
डेयरी प्रोडक्‍ट
अर्थरा‍इटिस में दुग्‍ध उत्‍पादों को खाने से बचना चाहिए. दुग्‍ध उत्‍पादों से बने खाद्य-पदार्थ भी अर्थराइटिस के दर्द को बढ़ा सकते हैं. क्‍योंकि दुग्‍ध उत्‍पाद जैसे, पनीर, बटर आदि में कुछ ऐसे प्रोटीन होते हैं जो जोड़ों के आसपास मौजूद ऊतकों को प्रभावित करते हैं, इसकी वजह से जोड़ों का दर्द बढ़ सकता है.
टमाटर न खायें
टमाटर हमारे शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है, क्‍योंकि इसमें विटामिन और मिनरल भरपूर मात्रा में मौजूद होता है, लेकिन यह अर्थराइटिस के दर्द को बढ़ाता भी है. टमाटर में कुछ ऐसे रासायनिक घटक पाये जाते हैं जो गठिया के दर्द को बढ़ाकर जोड़ों में सूजन पैदा कर सकते हैं. इसलिए टमाटर खाने से परहेज करें.
खट्टे फल
वैसे तो खट्टे फल अत्‍यंत स्‍वस्‍थ होते है, और विटामिन सी और अन्‍य पोषक तत्‍वों को प्राप्‍त करने का एक शानदार तरीका है. लेकिन कुछ लोगों में या जोड़ों के दर्द में वृद्धि कर सकते हैं. अगर आप स्‍वस्‍थ आहार का अनुसरण करके भी जोड़ों में दर्द से पीड़‍ित है तो एक महीने के लिए अपने आहार से खट्टे फलों को हटा कर देखें कि क्‍या होता है.
मछली न खायें
अर्थराइटिस होने पर ओमेगा-3 फैटी एसिड युक्‍त आहार का सेवन नहीं करना चाहिए. मछली का सेवन करने से अर्थराइटिस का दर्द बढ़ सकता है. मछली में अधिक मात्रा में प्यूरिन पाया जाता है. प्यूरिन हमारे शरीर में ज्यादा यूरिक एसिड पैदा करता है. इसलिए सालमन, टूना और एन्कोवी जैसी मछलियों को खाने से बचना चाहिए.
शुगरयुक्‍त आहार
चीनी शरीर के हर हिस्से में सूजन का कारण बनती है, इससे आपकी धमनियों में सूजन बढ़ जाती है. यह अथेरोस्क्लेरोसिस (धमनियों की दीवारों के अंदर जमा फैट) के अधिक खतरे का कारण बनता है, और प्रतिरक्षा कोशिकाओं के इंफ्लेमेटरी केमिकल के स्राव को उत्तेजित करता है. इसलिए अर्थराइटिस के मरीज को चीनी और मीठा खाने से परहेज करना चाहिए.
एल्‍कोहल और सॉफ्ट ड्रिंक
एल्कोहल खासकर बीयर शरीर में यूरिक एसिड के स्‍तर को बढ़ाता है, और शरीर से गैर जरूरी तत्व निकालने में शरीर को रोकता भी है. इसी तरह सॉफ्ट ड्रिंक खासकर मीठे पेय या सोडा में फ्रक्टोज नामक तत्व पाया जाता है, जो यूरिक एसिड के बढ़ने में मदद करता है. 2010 में किए गए एक शोध के अनुसार, जो लोग ज्यादा मात्रा में फ्रक्टोस वाली चीजों का सेवन करते हैं, उनमें अर्थराइटिस होने का खतरा दोगुना अधिक होता है.

Keep Your Childs Kidney's Safe

M.D Pediatrics, fellowship pediatric nephrology.
Pediatrician,
Keep Your Childs Kidney's Safe

1. Drink plenty of water
2. Do not stone voiding.
3. Get treated for constipation.
4. In young girls clean anus from front back.
5. Do not take my medication without doctors advice.

1 person found this helpful

Healthy Diet Chart For Asthma Patients - अस्थमा रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Healthy Diet Chart For Asthma Patients - अस्थमा रोगियों के लिए स्वस्थ आहार चार्ट

श्वसन संबंधी कई बीमारियों में एक अस्थमा भी है. अस्थमा के दौरान श्वसन नाली में सूजन आ जाने के कारण सांस लेने में दिक्कत आने लगती है. अस्थमा के होने के कई कारण होते हैं. लेकिन बीमारी के प्रभाव को आप सही खान-पान अपना कर दूर कर सकते हैं. दरअसल जीवनशैली में आए बदलाव के कारण हमारा खान-पान इतना गड़बड़ हो गया है. इसलिए ये आवश्यक है कि अस्थमा सेबचने या इसकी संभावना को कम करने के लिए हमें अपने आहार शैली में बदलाव करना होगा. यदि आपइन बदलावों को सही तरीके से अपने जीवन में लागू करेंगे तो इसके बहुत सकारात्मक परिणाम आ सकते हैं. आपको बता दें कि कि अस्थमा के मरीजों के पास एलर्जिक खाने की एक लम्बी लिस्ट होती है और इतना ही नहीं खाने में ऐसी भी बहुत सी चीजें हो सकती है जो उनके स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायी होती हैं.अस्थमा से बचने के बहुत से उपाय समय समय पर खोजे गये हैं, इनमें से हाल मे खोजा गया एक उपाय है आस्थमा के मरीज़ के डायट पर ध्यान देना. आइए हम आपको बताते हैं कि अस्‍थमा के मरीजों के लिए क्‍या डाइट प्‍लान होना चाहिए.
अस्थमा में क्या खाएं?
अगर आप अस्थमा की समस्या से पीडित हैं, तो आपको खान-पान में सावधानी बरतनी चाहिए. आपको अपने आहार में अधिक से अधिक एंटी ऑक्सीडेंट को शामिल करना चाहिए. आहार में जितनी अधिक विटामिन सी की मात्रा होगी, आपके लिए उतना ही बेहतर होगा.खट्टे फल, जूस, ब्रोकली, स्कवॉश और अंकुरित खाद्य पदार्थो को अपने भोजन में जरूर शामिल करें, क्योंकि इनमें विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. विटामिन सी जलन व सूजन को कम करता है और श्वसन संबंधी समस्याओं से लड़ने में मदद करता है.पालक जैसी हरी पत्तेदार सब्जियां, लाल व पीली मिर्च, गाजर व खुबानी आदि को अपने भोजन में जरूर शामिल करें. यह अस्थमा रोग में राहत प्रदान करती हैं. हरी पत्तेदार सब्जियों में बीटा-कैरोटीन नामक तत्व होता है, जो कि अस्थमा मरीजों के लिए बहुत मददगार होता है.
अस्थमा में क्या न खाएं?
आमतौर पर एलर्जी के शिकार जल्दी बनते हैं. इसलिए इन्हें उन चीजों से दूर रहने की सलाह दी जाती है, जिनसे एलर्जी हो सकती हैं, जैसे कि अंडा, मछली या तीखी महक वाली चीजें. हालांकि हर किसी की एलर्जी हो, यह जरूरी नहीं है. इसलिए यह जानना जरूरी हो जाता है कि अस्थमा के मरीजों के स्वास्थ्य के ऐसे कौन से आहार उपयोगी है जिससे उनका स्वास्थ्य सकारात्मक रूप से प्रभावित हो सके.  अस्थमा के मरीज को खट्टा और सामान्य ठंडा नहीं खाना चाहिए, यह मिथ है. जिन्हें इनमें एलर्जी होती है, उन्हें ही इससे नुकसान होता है. लेकिन वो लोग जो थियोफाइलिन ले रहे है उन्हें कैफीन युक्त चाय, काफी या कोल्ड ड्रिंक नहीं लेना चाहिए क्योंकि थियोफाइलिन और कैफीन मिलकर टाक्सिक हो सकते हैं. अगर आपके अटैक का कारण चिन्ता है तो आप ज़्यादा मात्रा में कैफीन ले सकते हैं. इस तरह के खाद्य पदार्थ का इस्तेमाल कर आप न केवल आस्थमा से बच सकते हैं बल्कि स्वास्थ्य की दृष्टि से भी यह आहार बहुत ही पोषक हैं.

My age is 22 but still I do not have full grown beard. It has lot of patches. What should you do. Is it because of masturbation that I am doing since early puberty years? I need a solution without any side effects.

MBBS
Sexologist, Panchkula
My age is 22 but still I do not have full grown beard. It has lot of patches. What should you do. Is it because of ma...
You don't have full grown beard. This is not due to your masturbation. I advise you to do your SERUM TESTOSTERONE (FREE AS well as TOTAL) LEVELS, PROLACTIN, FSH and LH levels and tell me report for better guidance and proper treatment, by calling through Lybrate.
Submit FeedbackFeedback

I have multiple stones of 4 to 6 mm in both kidneys and also in both ureters of 6.2 mm. Doctor have suggested operation. Is it necessary to go through surgery or there is another way to throw them out.

BHMS, MD - Alternate Medicine
Homeopath, Nagpur
I have multiple stones of 4 to 6 mm in both kidneys and also in both ureters of 6.2 mm. Doctor have suggested operati...
Renal calculi are not just the stone found in the kidney, but it is tendency of stone formation which has to be addressed and the cause behind it is metabolism. Whatever metabolism is disturbed tendency of stone is form of uric acid, oxalic acid and calcium. Homoeopathy towards correcting this metabolism their by curing the tendency of stone formation. IT also works on dissolving the stones, manage acute colic of stone, so if you want a customized treatment strategy then you can contact to us.
Submit FeedbackFeedback

I am 19 years old (girl. I am suffering from hair fall since 3 month. Now I want to make my hair strong enough. Pls doc suggest me what I have to do. Do I use any hair shampoo or conditioner to better my hair fall.

MD - Dermatology, MBBS
Dermatologist, Vadodara
I am 19 years old (girl. I am suffering from hair fall since 3 month. Now I want to make my hair strong enough. Pls d...
No shampoo or conditioner can make strong hair. Eat enough protein in healthy food, relax, massage with warm oil once in a week. Eat lots of fresh fruits containing vitamin c.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Clinics

  4.5  (24 ratings)

Kinnari Parekh

Link Road, Mumbai, Mumbai
View Clinic

Mangalmurti Dental Clinic

Borivali West, Mumbai, Mumbai
View Clinic