Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Varicella Vaccine Health Feed

Vaccination

Dr. Mool Chand Gupta 96% (36433 ratings)
MD - Pulmonary, DTCD
Pulmonologist, Faridabad
Vaccination
Get flu and pneumonia vaccination for adults to prevent flu/pneumonia.
9 people found this helpful

Vaccination

Dr. Shripad Kulkarni 93% (962 ratings)
M.D.( Pediatrics), DCH
Pediatrician,
Vaccination

Vaccination is the best insurance against illness.

1 person found this helpful

Vaccine

Dr. Sanjeev Kumar 91% (435 ratings)
MD - Paediatrics, MBBS
Pediatrician, Faridabad
Vaccine

हेक्सावेलेंट वैक्सीन (1 में 6) 6 घटक वैक्सीन का एक संयोजन है जिसका उद्धेश्य डिप्थीरिया, टेटनस, हेमोफिलिस इन्फ्लुएंजा टाइप बी, हेपेटाटिस बी और पोलियो से रोकथाम है |

2 people found this helpful

Hi, she got chicken pox is there any vaccinations available for her, if there is any side effects because of vaccinations.

Dr. G.R. Agrawal 95% (23875 ratings)
DHMS (Hons.)
Homeopath, Patna
Hi, she got chicken pox is there any vaccinations available for her, if there is any side effects because of vaccinat...
Hello, Lybrate user, I being a homoeopath can suggest a good homoeopathic anti chicken pox (prophylactic) [email protected] Variollinum 30-6 pills -6 pills 1 dose 3 days. Tk, care.
Submit FeedbackFeedback

I want a prescription for Zostavax vaccine & pneumovax23 vaccine as I want to get vaccinated.

Dr. Nirav Patel 85% (46 ratings)
MBBS,D.Ped., Jawaharlal Nehru Medical college, Belgaum , Boston University, UNITED STATES OF AMERICA
Pediatrician, Ahmedabad
I want a prescription for Zostavax vaccine & pneumovax23 vaccine as I want to get vaccinated.
You can get your vaccination done from local Pediatrician but as they are special vaccines you need to inform doctor prior going there as they have to arrange it specially for you.
Submit FeedbackFeedback

Why Vaccination Is Required Against Chicken Pox?

Dr. Major Naveen Tandon 93% (474 ratings)
MBBS, MD - General Medicine
General Physician, Lucknow
Why Vaccination Is Required Against Chicken Pox?

Chickenpox or varicella is a type of viral infection that causes itchy rashes accompanied by tiny fluid-filled blisters. It is highly communicable to those who have not experienced this disease earlier or have not been immunized against it through vaccination

The vaccine against chickenpox is a shot protecting anyone, who has already contracted the disease. It is known as the varicella vaccine since chicken pox is triggered by the virus called varicella-zoster. The vaccine is prepared from a living but a weakened virus.

Why would you require a chicken pox virus?

  1. The risk behind the condition aggravating into something life threatening is high among adults, infants and people possessing a weak immunity system as they are prone to developing serious complications as well. There is no way you can predict who would be the next prey.
  2. The illness is extremely contagious and can get transmitted either through air while coughing or sneezing or by direct contact especially with the fluid present in the chicken pox blisters. For this reason, you need to stay segregated until and unless all your blisters have dried up or crusted over. The illness may induce itchy rashes all over your body along with fussiness, cough and headaches.
  3. The vaccine is recommended for all adults and adolescents who have not been infected by chicken pox ever earlier. A vaccine called MMRV offers a combined protection against varicella, rubella, mumps and measles.
  4. The vaccine has to be administered in two shots. However the medicines are not devoid of mild side effects,for instance, swelling in the region where you have been injected alongside mild rashes.

Who should not opt for the vaccine?

  1. Pregnant women since the effect of the vaccine on your fetus is yet to be unraveled
  2. People who are allergic to neomycin and gelatin ( a gelatin-free varicella vaccine is actually available)
  3. People suffering from diseases caused due to a weak immunity system or taking high dosage of steroids
  4. Cancer patients who have to be treated with chemotherapy, drugs and X-rays
  5. People who have had a blood transfusion in about five months before receiving the shot.

Hi Sir, I want to take all types of vaccines available for STD’s where can I get?

Dr. M.M.Ramesh Bopaiya 87% (49 ratings)
MD - Paediatrics
Pediatrician,
Currently only the Human Papilloma Virus vaccine is available for adolescent girls. My suggestion is: - Avoid multiple sexual partners Practice safe sex (use condoms)
Submit FeedbackFeedback

Mr. Vaccine and MMR Vaccine are same or not? I had given my child MMR Vaccine some time ago whether should I have to him give Mr. Vaccine also.

Dr. K.B Rangaswamy 91% (2158 ratings)
MD - Paediatrics, MBBS
Pediatrician, Tumkur
Mr. Vaccine and MMR Vaccine are same or not? I had given my child MMR Vaccine some time ago whether should I have to ...
MMR is superior to Mr. vaccine as it has additional mumps coverage which is also potentially dangerous infection.
Submit FeedbackFeedback

Vaccination In Pets

Dr. Santosh Giri 85% (39 ratings)
B.V.Sc
Veterinarian, Varanasi
Vaccination In Pets

Vaccination in dog

टीकाकरण की प्रकिया एक ऐसा उपाय है जिससे, कुत्तो में होने वाली कुछ प्रमुख विषाणु एवं जीवाणु जनित जानलेवा एवं लाइलाज, बीमारियों जैसे कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, रेबीज तथा केनल कफ़ आदि से बचाव के लिए समय समय पर कुत्तों के शरीर में टीका लगाया जाता है,जिससे इन रोगों के खिलाफ रोगप्रतिरोधक क्षमता का शारीर में विकास हो जाता है और हमारा पालतू जानवर एक सिमित अवधि तक इन बिमारियों के घातक प्रभाव से बचा रहता है |

कुछ टीकाकरण संबंधी सामान्य प्रश्नो के जबाब -
 
१- क्या सभी उम्र के कुत्तो का टीकाकरण जरूरी होता है?
हाँ। आमतौर पर १. ५ महीने (४५ दिन) के उम्र से ऊपर सभी कुत्तो का नियमित समय पर टीकाकरण करना जरूरी होता है यदि किसी कारण वश नयमिति या कभी कराया ही न गया हो तो किसी भी उम्र से टीकाकरण शुरू किया जा सकता है। 

२. छोटे बच्चो को किस उम्र से टीका का पहली खुराक देना शुरू करना चाहिए?
४५ दिन के उम्र से ही टीके की पहली खुराक देना बेहद जरूरी होता है 

३. क्या सभी छोटे पप्स को टीकाकरण के पहले पेट के कीड़े देना जरूरी होता है -
हाँ। बहुत से परजीवी ऐसे होते है जो माँ के पेट से ही या दूध के जरिये से बच्चे के शरीर में प्रवेश कर जाते है जिससे शरीर को कमजोर कर देते है और जब टीका लगाया जाता है तो कमजोरी के वजह से उतना अच्छा शरीर में प्रतिरोधक छमता का विकास नहीं हो पता इसलिए पहले ऐसे परजीवीओ को नष्ट करना जरूरी होता है 

४. क्या होता है टीकाकरण का सही उम्र और समयांतराल?
१. पहली खुराक -जन्म के ६ -८ सप्ताह के उपरांत(कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा हेतु) 
२. बूस्टर खुराक या दूसरी खुराक - प्रथम खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर दूसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 
३. तीसरी खुराक - रेबीज वायरस हेतु- प्रथम खुराक जन्म के ३ माह के उपरान्त। 
४. बूस्टर खुराक या चौथी खुराक - तीसरी खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर तीसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 

५. क्या बूस्टर खुराक देना जरूरी होता है या नहीं?
जन्म के साथ ही माँ से प्राप्त एंटीबाडीज और प्रथम दूध से मिलने वाली सुरछा कवच कुछ सप्ताह तक नवजात के खून में मौज़ूद रह करअनेको बीमारयों से सुरछा प्रदान करती है परन्तु समय के साथ साथ इनकी मात्रा बच्चे के शरीर में कम होने लगती है। जिससे बीमारी होने की आशंका बढ़ जाती है इसलिए लगभग ४५ दिन के बाद टिका का प्रथम खुराक देते है यद्पि ये पता नहीं रहता की माँ से मिलने वाली सुरछा का असर किस स्तर का है जिससे आमतौर पर ये स्तर अधिक होने पर प्रथम खुराक से बच्चे के शरीर में टीकाकरण की गुणवत्ता को बाधित करती है, जो की पप्पस में रोगप्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने में असक्षम हो जाता है इसलिए कुछ सप्ताह बाद टीकाकरण के दूसरी खुराक दे कर टीकाकरण से रोगप्रतिरोधक क्षमता करने के उद्देश्य को प्राप्त करते है ऐसी दूसरी खुराक को बूस्टर खुराक कहते है। 

६. क्या है टीकाकरण की सही खुराक देने के मात्रा:
डॉग चाहे किसी भी उम्र, भार, लिंग अथवा नस्ल के हों उनको समान मात्रा में टीकाकरण का खुराक दिया जाता है 

७. क्या है टीकाकरण का सही तरीका:
टीकाकरण खाल के नीचे:कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा तथा रेबीज जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए खाल के नीचे दिया जाता है
 नथुनों में:केनल कफ़ का टीकाकरण कुत्ते के नथुनों में दवा डाल कर किया जाता है

८. क्या सभी टीके एक ही प्रकार के होते है:कुत्तों में टीकाकरण दो प्रकार की होती है
 १. कोर टीकाकरण - टीकाकरण जो सभी कुत्तों के लिये आवश्यक है. यह उन बिमारीयों में दिया जाता है जो आसानी से फैलती हैं अथवा घातक होती हैं जैसे रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर.
 २. नान कोर टीकाकरण – उपरोक्त ४ बिमाँरीयों (रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर) के टीकाकरण को छोड़कर अन्य सभी नानकोर टीकाकरण माना जाता है | यह उन बिमाँरियों से सुरक्षा प्रदान करता है जो वातावरण के अनावरण अथवा जीवनचर्या पर निर्भर करती है जैसे लाइम डिजीज, केनलकफ और लेप्टोस्पाइरोसिस.

९. एक सफल टीकाकरण करने के बाद क्या फिर भी टीकाकरण विफल हो सकता है?हाँ। 
 टीकाकरण के विफलता के कारण कुत्ते में बीमारी होने के निम्नलिखित मुख्य कारण हो सकते है –
१. टीकाकरण के दौरान कुत्ते की रोगप्रतिरोधक क्षमता का सम्पूर्ण रूप से कार्य न करना |
२.आयु – कम उम्र के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली पूर्णतः विकसित नही होती और बड़े आयु के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली कई कारणों से अक्सर कमज़ोर या क्षीण हो जाती है |
३. मानवीय चूक (टीके का अनुचित संग्रहण या अनुचित मिश्रण)- टीकों का संग्रहण एवं इस्तेमाल भी निर्देशानुसार ही होना आवश्यक है | सूरज की रोशनी,गर्म तापमान टीके के प्रभाव को नस्ट कर सकता है | टीके का मिश्रण पशु में टीकाकरण के तुरंत पहले तैयार करना चाहिए | टीके खरीदने के पहले पता करना चाहिए कि टीकों को उचित तापमान एवं देखभाल से रखा गया है या नहीं |
४. डीवार्मिंग – टीकाकरण करने के पहले पेट के कीड़े मारने के लिए डीवर्मिंग करना आवश्यक है, वरना इस तरह का तनाव टीकाकरण के प्रभाव को कम कर सकता है |
५. गलत सीरोटाईप / स्टेन का इस्तेमाल – प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत विशिष्ट होती है | अतः टीके में होने वाली जीवाणु या विषाणु की सही स्टेन होनी चाहिए वरना उससे उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षा जानवर में सही तौर पर सुरक्षा नहीं कर पाती |
६. अनुवांशिक बीमारियाँ – कुछ जानवरों में आनुवंशिक बिमारियों की वजह से सभी रोगों के लिए प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पर कम ही उत्पन्न हो पाती है |
७. वैक्सीन की गुणवत्ता – टीके में प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रोत्साहित करने के लिए प्रयाप्त मात्रा में प्रतिजनी की मात्रा होना चाहिए वरना टीकाकरण के बाद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रयाप्त नहीं होती है |
८. पुराने या अवधि समाप्त टीके – पुराने टीकों में आवश्यक प्रतिजनी गुण समाप्त या कम हो जाता है | इस तरह के टीके लगाने से जानवरों को बेमतलब तनाव दिया जाता है |
९. टीकाकरण का अनुचित समय – टीका निर्माता के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण का समय (उम्र एवं मौसम के अनुसार), लगाने का तरीका एवं मात्रा तथा दोबारा लगाये जाने की अवधि, इत्यादि निश्चित होता है |इन निर्देशों का पालन सही समय पर न करने से टीकाकरण विफल या निष्क्रिय हो जाता है |
१०. पोषण की स्तिथि- कुपोषण की वजह से जिन पशुओं में पोषक तत्वों की कमी रह जाती है उनमे टीकाकरण के बाद भी प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पे कम ही उत्पन्न हो पाती है |

10. क्या वैक्सीन लगते समय कुत्ते पर कोई दुस्प्रभाव हो सकते है? हाँ 
 कुछ कुत्तो प्रतिरोधक छमता अधिक सक्रिय होने की वजह से कुछ सामान्य लचण जैसे ज्वर, उल्टी, दस्त, लासीका ग्रंथियों का सूजना, मुख का सूजना, हीव्स, यकृत विफलता और कभी -कभी मौत भी हो सकती है।

1 person found this helpful

Leprosy Vaccination

Dr. A Z Khan 92% (376 ratings)
Bachelor of Unani Medicine & Surgery (B.U.M.S)
Unani Specialist, Gaya
4 people found this helpful