Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Mitun Pal

BPTh/BPT

Physiotherapist, Kolkata

12 Years Experience
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Mitun Pal BPTh/BPT Physiotherapist, Kolkata
12 Years Experience
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning....more
I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning.
More about Dr. Mitun Pal
Dr. Mitun Pal is a popular Physiotherapist in Salt Lake, Kolkata. He has had many happy patients in his 12 years of journey as a Physiotherapist. He is a qualified BPTh/BPT . He is currently associated with Mitun Pal Clinic in Salt Lake, Kolkata. Save your time and book an appointment online with Dr. Mitun Pal on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced Physiotherapists in India. You will find Physiotherapists with more than 33 years of experience on Lybrate.com. You can find Physiotherapists online in Kolkata and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Education
BPTh/BPT - Kolkata University - 2006
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Mitun Pal

Mitun Pal Clinic

Flat No- 883 I C Block Sec - 3 Salt LakeKolkata Get Directions
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Mitun Pal

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

I had ligament injury on knee 2 years ago Inspite of treatment I feel uneasiness and uncomfortable while walking, slightly pain too How much time it will take?

ms orthopaedics, mbbs
Orthopedist, Noida
I had ligament injury on knee 2 years ago
Inspite of treatment I feel uneasiness and uncomfortable while walking, sli...
Get a MRI done to know the status of intrarticular structures. Some ligaments do not heal inspite of giving rest. 2 years and still pain persisting means you might not get relief with conservative measures. Arthroscopy can provide relief.
1 person found this helpful

I am 35 years old suffering with severe knee pain (right &left) with swelling some times, I have shown to a doctor after he observe the x-ray report it was osteo ortharities. Can you help me in this regard?

MBBS, MS - Orthopaedics
Orthopedist, Delhi
Physiotherapy along with medicines will help. Rule out diabetes & vit. D deficiency or any other metabolic disorder. Sleep on a hard bed with a soft bedding on it. Any way take caldikind plus (mankind)1tab odx10days paracetamol 250mg od & sos x 5days Do knee exercises. It may have to be further investigated Make sure you are not allergic to any of the medicines you are going to take.

I am 30 and having pain in back. Applied bikini without any result. please suggest any good medicine for instance release.

MPT, BPT
Physiotherapist, Noida
I am 30 and having pain in back. Applied bikini without any result. please suggest any good medicine for instance rel...
Do the cat/cow avoid bending in front. Postural correction- sit tall, walk tall. Apply hot fomentation twice daily. Extension exercises x 15 times x twice daily. Bhujang asana. Core strengthening exercises. Back stretchingstretch.

घुटनों के दर्द का आयुर्वेदिक इलाज (Knee Pain - Home and Ayurvedic Treatment)

B.A.M.S, Diploma In Nutrition & Health Education (DNHE, PG Diploma In Hospital Managment
Ayurveda, Delhi
घुटनों के दर्द का आयुर्वेदिक इलाज (Knee Pain - Home and Ayurvedic Treatment)

घुटनों की पीडा ( Knee Pain) :-

हमने कई बार अपने बड़े बुजर्गो को घुटनों के दर्द से तडपते हुए देखा है | दिन रात दवाई खाने से भी उन्हें कोई आराम नही मिलता है चलने फिरने में बहुत परेशानी होती है और साथ ही घुटनों को मोड़ने में, उठने – बैठने में भी दिक्कत आती है | कभी कभी उन्हें इतना ज्यादा दर्द होता की वो ठीक ढंग से सो भी नहीं पाते और उनके घुटनों में सुजन तक भी आ जाती है | उम्र के साथ हड्डियों की बीमारी बढती जाती है |

शरीर के जोड़ों में सूजन उत्पन्न होने पर गठिया होता है या कहे कि जब जोड़ों में उपास्थि (कोमल हड्डी) भंग हो जाती है। शरीर के जोड़ ऐसे स्थल होते हैं जहां दो या दो से अधिक हड्डियाँ एकदूसरे से मिलती हैं जैसे कि कूल्हे या घुटने। उपास्थि जोड़ों में गद्दे की तरह होती है जो दबाव से उनकी रक्षा करती है और क्रियाकलाप को सहज बनाती है। जब किसी जोड़ में उपास्थि भंग हो जाती है तो आपकी हड्डियाँ एक दूसरे के साथ रगड़ खातीं हैं, इससे दर्द, सूजन और ऐंठन उत्पन्न होती है।

सबसे सामान्य तरह का गठिया हड्डी का गठिया होता है। इस तरह के गठिया में, लंबे समय से उपयोग में लाए जाने अथवा व्यक्ति की उम्र बढ़ने की स्थिति में जोड़ घिस जाते हैं जोड़ पर चोट लग जाने से भी इस प्रकार का गठिया हो जाता है। हड्डी का गठिया अक्सर घुटनों, कूल्हों और हाथों में होता है। जोड़ों में दर्द और स्थूलता शुरू हो जाती है। समय-समय पर जोड़ों के आसपास के ऊतकों में तनाव होता है और उससे दर्द बढ़ता है।

गठिया क्या होता है?

गठिया एक लंबे समय तक चलने वाली जोड़ों की स्थिति होती है जिससे आमतौर पर शरीर के भार को वहन करने वाले जोड़ जैसे घुटने, कूल्हे, रीढ़ की हड्डी तथा पैर प्रभावित होते हैं। इसके कारण जोड़ों में काफी अधिक दर्द, अकड़न होती है और जोड़ों की गतिविधि सीमित हो जाती है। समय के साथ साथ गठिया बदतर होता चला जाता है। यदि इसका उपचार नहीं किया जाता है, तो घुटनों के गठिया से व्यक्ति का जीवन काफी अधिक प्रभावित हो सकता है। गठिया से पीडि़त व्यक्ति अपनी रोजमर्रा की गतिविधियां करने में समर्थ नहीं हो पाते और यहां तक कि चलने-फिरने जैसा सरल काम भी मुश्किल लगता है। इस प्रकार के मामलों में, क्षतिग्रस्त घुटने को बदलने के लिए डॉक्टर सर्जरी कराने के लिए कह सकता है।

क्यों होता है गठिया

अनहेल्दी फूड, एक्सरसाइज की कमी और बढ़ते वजन की वजह से घुटनों का दर्द भारत जैसे देशों में एक बड़ी समस्या का रूप लेता जा रहा है। 40-45 की उम्र में ही घुटनों में दिक्कतें आने लगी हैं। सर्वेक्षण कहते हैं कि दुनिया में करीब 40 प्रतिशत लोग घुटनों में दर्द से परेशान हैं। इनमें से लगभग 70 प्रतिशत आर्थराइटिस जैसी बीमारियों से भी जूझ रहे हैं। इनमें से 80 फीसदी अपने घुटनों को आसानी से मोड़ तक नहीं सकते। घुटनों की खराबी के शिकार 25 फीसदी लोग अपने रोजमर्रा के कामों को भी आसानी से नहीं कर पाते हैं। भारत में यह समस्या काफी गंभीर है। घुटनों का दर्द काफी हद तक लाइफ स्टाइल की देन है। यदि लाइफ स्टाइल और खानपान को हेल्दी नहीं बनाया तो यह समस्या और भी गंभीर हो सकती है। घुटने पूरे शरीर का बोझ सहन करते हैं। इन्हें बचाने का तरीका हेल्दी लाइफ स्टाइल, एक्सरसाइज और हैल्दी खानपान है। खाने में कैल्शियम वाला भोजन सही मात्रा में लें, सब्जियाँ जरूर खायें, फैट और चीनी से परहेज करें और मोटापे का पास भी न फटकने दें।

क्या वजन कम करने से (घुटनों के दर्द) गठिया में लाभ मिलता है?

घुटनो के गठिया से पीडि़त व्यक्ति के लिए निर्धारित वजन से अधिक वजन होना या मोटापा घुटनों के जोड़ों के लिए हानिकारक हो सकता है। अतिरिक्त वजन से जोड़ों पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है, मांसपेशियों तथा उसके आसपास की कण्डराओं (टेन्डन्स) में खिंचाव होता है तथा इसके कार्टिलेज में टूट-फूट द्वारा यह स्थिति तेजी से बदतर होती चली जाती है। इसके अलावा, इससे दर्द बढ़ता है जिसके कारण प्रभावित व्यक्ति एक सक्रिय तथा स्वतंत्र जीवन जीने में असमर्थ हो जाता है।

यह देखा गया है कि मोटे लोगों में वजन बढ़ने के साथ साथ जोड़ों (विशेष रूपसे वजन को वहन करने वाले जोड़) का गठिया विकसित करने का जोखिम बढ़ जाता है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि मोटे लोगों को या तो अपने वजन को नियंत्रित करने अथवा उसे कम करने केलिए उचित कदम उठाने चाहिए।

गठिया से पीडि़त मोटापे/अधिक वजन से पीडि़त लोगों में वजन में 1 पाउंड (0.45 किलोग्राम) की कमी से, घुटने पर पड़ने वाले वजन में 4 गुणा कमी होती है। इस प्रकार वजन में कमी करने से जोड़ पर खिंचाव को कम करने, पीड़ा को हरने तथा गठिया की स्थिति के आगे बढ़ने में देरी करने में सहायता मिलती है।

घुटनों के दर्द के कई कारण हो सकते है  ( Cause of Knee Pain )

  • अधिक वजन होना,
  • कब्ज होना,
  • खाना जल्दी-जल्दी खाने की आदत,
  • फास्ट-फ़ूड का अधिक सेवन,
  • तली हुई चीजें खाना,
  • कम मात्रा में पानी पीना,
  • शरीर में कैल्सियम की कमी होना।

घुटनो में दर्द  के बचाव के कुछ आसान तरीके । (Home treatment for knee pain)

  • खाने के एक ग्रास को कम से कम 32 बार चबाकर खाएं। इस साधरण से प्रतीत होने वाले प्रयोग से कुछ ही दिनों में घुटनों में साइनोबियल फ्रलूड बनने लग जाती है।
  • पूरे दिन भर में कम से कम 12 गिलास तक पानी अवश्य पिए। ध्यान दीजिए, कम मात्रा में पानी पीने से भी घुटनों में दर्द बढ़ जाता है।
  • भोजन के साथ अंकुरित मेथी का सेवन करें।
  • बीस ग्राम ग्वारपाठे अर्थात् एलोवेरा के ताजा गूदे को खूब चबा-चबाकर खाएं साथ में 1-2 काली मिर्च एवं थोड़ा सा काला नमक तथा ऊपर से पानी पी लें। यह प्रयेाग खाली पेट करें। इस प्रयोग के द्वारा घुटनों में यदि साइनोबियल फ्रलूड भी कम हो गई हो तो बनने लग जाती है।
  • चार कच्ची-भिंडी सवेरे पानी के साथ खाएं। दिन भर में तीन अखरोट अवश्य खाएं। इससे भी साइनोबियल फ्रलूड बनने लगती है। अनुभूत प्रयोग है।
  • एक्यूप्रेशर-रिंग को दिन में तीन बार, तीन मिनट तक अनामिका एवं मध्यमा अंगुलि में एक्यूप्रेशर करें।
  • प्रतिदिन कम से कम 2-3 किलोमीटर तक पैदल चलें।
  • दिन में दस मिनट आंखें बंद कर, लेटकर घुटने के दर्द का ध्यान करें। नियमित रूप से अनुलोम-विलोम एवं कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास करें। अनुलोम-विलोम धीरे-धीरे एवं कम से कम सौ बार अवश्य करें। इससे लाभ जल्दी होने लगता है।

 

हल्दी चुने का लेप (Lime and turmeric paste)

  1. हल्दी और चुना दर्द को दूर करने में अधिक लाभदायक साबित होते है ।
  2. हल्दी और चुना को मिलकर सरसो के तेल में थोड़ी देर तक गरम करे फिर उस लेप को घुटने में लगाकर रखे ।
  3. कुछ समय बाद दर्द मेा आराम मिलेगा
  4. इस प्रक्रिया को दिन मेा दो बार करे ।

हल्दी वाला दूध (Turmeric Milk) :-

एक ग्लास दूध में एक चम्मच हल्दी के पावडर को मिलाकर सुबह शाम काम से काम दो बार पीए
यह एक प्राकृतिक दर्द निवारक का काम करता है

नेचुरल ट्रीटमेंट ( Natural treatment):-

विटामिन डी (vitamin D )का सबसे अच्छा स्रोत सूरज से उत्पन धुप ( sun light) है , जिससे आपको नेचुरल विटामिन डी (vitamin D ) मिलती है  जो हड्डी (bones)के लिए अधिक लाभदायक है

आयुर्वेद के अनुसार में बनाई गयी औषधियां ( Natural Medicine made in Ayurveda)

  • अमृता सत्व,
  • गोदंती भस्म,
  • प्रवाल पिष्टी,
  • स्वर्ण माक्षिक भस्म,
  • महावत विध्वंसन रस,
  • वृहद वातचितामणि रस,
  • एकांगवीर रस,
  • महायोगराज गुग्गुल,
  • चंद्रप्रभावटी,
  • पुनर्नवा मंडुर

इत्यादि औषधियों का सेवन  आयुर्वेदिक डॉक्टर  के परामर्श से करे। औषधियों के सेवन से  बिना किसी साइडइपैफक्ट के अधिक लाभ मिलता है।

दर्द के दौरान क्या न खाये। (Donot eat during Pain)

  • अचार,
  • चाय तथा रात के समय हलका व सुपाच्य आहार लें।
  • रात के समय चना, भिंडी, अरबी, आलू, खीरा, मूली, दही राजमा इत्यादि का सेवन भूलकर भी नहीं करें

15 people found this helpful

I am getting lower back pain and my doctor have suggested me to test for vit d3 and b12. I don't no what to do?

MPT, BPT
Physiotherapist, Noida
I am getting lower back pain and my doctor have suggested me to test for vit d3 and b12. I don't no what to do?
Chiropractic Mobilization will help. Do the cat/cow stretch. Get on all fours, with your arms straight and your hands directly under your shoulders; your knees hip-width apart.

I am 49 years old & I want to join GYM can I do,& my weight 59 kg hight 5.6. I have back pain problem.

MPT, BPT
Physiotherapist, Noida
I am 49 years old & I want to join GYM can I do,& my weight 59 kg hight 5.6. I have back pain problem.
Chiropractic adjustment will help. Core Strengthening Exercises- Straight Leg Raised With Toes Turned Outward, repeat 10 times, twice a day.

I am an 18 year old female. I have been experiencing increasingly  frequent episodes of involuntary muscle jerking for the past few  months. They are often brought on by strong feelings of excitement or nervousness, but sometimes seem to occur randomly. Before these  episodes of muscle jerking, I always experience a tingling feeling in my spine. What could be causing this?

Diploma In Gastroenterology, Diploma In Dermatology, BHMS
Homeopath, Hyderabad
I am an 18 year old female. I have been experiencing increasingly 
frequent episodes of involuntary muscle jerking fo...
Injuring a nerve (a neck injury may cause you to feel numbness anywhere along your arm or hand, while a low back injury can cause numbness or tingling down the back of your leg) Pressure on the nerves of the spine, such as from a herniated disk
1 person found this helpful

Sir I have torn my ligament as I am told by a orthopedic surgeon. I still haven't recovered fully. It has been two months. I feel pain on my knee whenever I walk fast or whenever I put little pressure on it. What are the treatments actually of torn ligament?

Bachelor in Physiotherapy, Utkal University
Physiotherapist, Bhubaneswar
Sir I have torn my ligament as I am told by a orthopedic surgeon. I still haven't recovered fully. It has been two mo...
At first we have to assess which ligaments were torn by doing some simple physical testings. Then if you have done MRI from that we know the grade of INJURY. If the grade is 1 or 2 it can be managed by physiotherapy Rehabilitation programs the period may varies from 4 to 6 months. But if grade 3 tear then go for surgery after surgery 6 month of Rehabilitation protocol to be followed to get back into normal life.

My lever is fatty grade III since one month. I eat fatty / fried items very less since long time. I hav problem of knee. Q. 1. How to loose weight. Q. 2. Whether knee problem develop if we do not eat fat/oil / ghee etc.

MSc
Dietitian/Nutritionist, Hyderabad
My lever is fatty grade III since one month. I eat fatty / fried items very less since long time. I hav problem of kn...
Hi - incorporate more fruits, vegetables, and whole grains into your diet while eliminating unhealthy foods. - if you are working or studying away from home, try to pack healthy lunch and snacks for yourself to avoid eating unhealthy food daily. - don't eat straight from the packet - use a plate or bowl to control how much you eat. - don't delay or skip meals. - cut down your consumption of aerated drinks and sodas. - drink at least 8 glasses of water every day. Drink water after waking up and before sleeping. Being dehydrated may make you feel like you're hungry, so it is important to stay hydrated. - have homemade fruit and vegetable juices - eat 5-6 small healthy meals every 2-3 hours, every day, instead of having a few big ones. This regulates your blood sugar level and your metabolism. - don't skip breakfast, instead, make it rich with complex carbohydrates and proteins, so it can provide you with energy to get through the day. Try to include the following as your morning breakfast, oats porridge, eggs on multigrain toast or daliya with sprouts. - avoid artificial sweeteners in processed foods. - eat slowly as it takes about 20 minutes for your brain to register if you're full or not. Eating too fast leads to overeating, so chew slowly to digest your food better and control how much you eat. - use a smaller plate to control your portion sizes and avoid overeating. - know your cravings and do not snack when you're emotional. It is said that you crave crunchy and savory food when you're stressed, frustrated or lonely. Figure out what you crave and replace them with healthier alternatives. - do not eat mindlessly; concentrate on your food instead of watching tv or playing with your phone to avoid overeating.

I am 40 yrs old, I have pain in low back for the past 2 months and I have knee pain for more than 2 years - can you help me

Dip. SICOT (Belgium), MNAMS, DNB (Orthopedics), MBBS
Orthopedist, Delhi
Hi thanks for your query and welcome to lybrate. Please give a detailed history of your back & knee pain with radiation of pain if any, associated neurological symptoms like numbness, paresthesias etc. Please also enclose your investigations like x rays and blood tests so that I can see and opine accordingly. Do not hesitate to contact me if you need any further assistance. Thanks & regards dr akshay kumar saxena consultant orthopaedics fortis hospital, new delhi
View All Feed

Near By Doctors

90%
(503 ratings)

Dr. Yogitaa Mandhyaan

BPTh/BPT, weight management specialist, Diploma in Nutrition and Health Education (DNHE)
Physiotherapist
Shape And Strength, 
300 at clinic
Book Appointment
92%
(576 ratings)

Dr. Faiyaz Khan Pt

MPT - Orthopedic Physiotherapy, Fellowship In Orthopaedic Rehabilitation (FOR) Advanced Diploma in Nutrition & Diet
Physiotherapist
The Cure Centre ( Heal With Manual Medicine ), 
200 at clinic
Book Appointment