Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. B.K.Pal

Veterinarian, Kolkata

100 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. B.K.Pal Veterinarian, Kolkata
100 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

My experience is coupled with genuine concern for my patients. All of my staff is dedicated to your comfort and prompt attention as well....more
My experience is coupled with genuine concern for my patients. All of my staff is dedicated to your comfort and prompt attention as well.
More about Dr. B.K.Pal
Dr. B.K.Pal is an experienced Veterinarian in Thakurpukur, Kolkata. You can visit him/her at Sooraj Farma Clinic in Thakurpukur, Kolkata. Book an appointment online with Dr. B.K.Pal and consult privately on Lybrate.com.

Lybrate.com has top trusted Veterinarians from across India. You will find Veterinarians with more than 32 years of experience on Lybrate.com. You can find Veterinarians online in Kolkata and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. B.K.Pal

Sooraj Farma Clinic

3a Bus Stand,Near to Swadesh Bose Hospital,Thakurpukur, KolkataKolkata Get Directions
100 at clinic
...more
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. B.K.Pal

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

MVSc, BVSc
Veterinarian,
Holi - Spare the Pets!
Do not, under any circumstances, use colours or bhang on these helpless creatures as the consequences could be fatal. The presence of lead, which acts as an accumulative poison, makes Holi colours a high-risk material for dogs. Inhalation of the coloured powder may also cause nasal irritation and possibly respiratory allergy or infection. Most dogs get paranoid when you rub colours on them, since it very often gets into their eyes and nose, making them very uncomfortable. Dogs and us are not the same make, so this Holi, let?s keep the colors off the animals!
(Re-shared, from Speaking Tree.)
3 people found this helpful

Vaccination In Pets

B.V.Sc
Veterinarian, Ballia
Vaccination In Pets

Vaccination in dog

टीकाकरण की प्रकिया एक ऐसा उपाय है जिससे, कुत्तो में होने वाली कुछ प्रमुख विषाणु एवं जीवाणु जनित जानलेवा एवं लाइलाज, बीमारियों जैसे कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, रेबीज तथा केनल कफ़ आदि से बचाव के लिए समय समय पर कुत्तों के शरीर में टीका लगाया जाता है,जिससे इन रोगों के खिलाफ रोगप्रतिरोधक क्षमता का शारीर में विकास हो जाता है और हमारा पालतू जानवर एक सिमित अवधि तक इन बिमारियों के घातक प्रभाव से बचा रहता है |

कुछ टीकाकरण संबंधी सामान्य प्रश्नो के जबाब -
 
१- क्या सभी उम्र के कुत्तो का टीकाकरण जरूरी होता है?
हाँ। आमतौर पर १. ५ महीने (४५ दिन) के उम्र से ऊपर सभी कुत्तो का नियमित समय पर टीकाकरण करना जरूरी होता है यदि किसी कारण वश नयमिति या कभी कराया ही न गया हो तो किसी भी उम्र से टीकाकरण शुरू किया जा सकता है। 

२. छोटे बच्चो को किस उम्र से टीका का पहली खुराक देना शुरू करना चाहिए?
४५ दिन के उम्र से ही टीके की पहली खुराक देना बेहद जरूरी होता है 

३. क्या सभी छोटे पप्स को टीकाकरण के पहले पेट के कीड़े देना जरूरी होता है -
हाँ। बहुत से परजीवी ऐसे होते है जो माँ के पेट से ही या दूध के जरिये से बच्चे के शरीर में प्रवेश कर जाते है जिससे शरीर को कमजोर कर देते है और जब टीका लगाया जाता है तो कमजोरी के वजह से उतना अच्छा शरीर में प्रतिरोधक छमता का विकास नहीं हो पता इसलिए पहले ऐसे परजीवीओ को नष्ट करना जरूरी होता है 

४. क्या होता है टीकाकरण का सही उम्र और समयांतराल?
१. पहली खुराक -जन्म के ६ -८ सप्ताह के उपरांत(कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा हेतु) 
२. बूस्टर खुराक या दूसरी खुराक - प्रथम खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर दूसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 
३. तीसरी खुराक - रेबीज वायरस हेतु- प्रथम खुराक जन्म के ३ माह के उपरान्त। 
४. बूस्टर खुराक या चौथी खुराक - तीसरी खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर तीसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 

५. क्या बूस्टर खुराक देना जरूरी होता है या नहीं?
जन्म के साथ ही माँ से प्राप्त एंटीबाडीज और प्रथम दूध से मिलने वाली सुरछा कवच कुछ सप्ताह तक नवजात के खून में मौज़ूद रह करअनेको बीमारयों से सुरछा प्रदान करती है परन्तु समय के साथ साथ इनकी मात्रा बच्चे के शरीर में कम होने लगती है। जिससे बीमारी होने की आशंका बढ़ जाती है इसलिए लगभग ४५ दिन के बाद टिका का प्रथम खुराक देते है यद्पि ये पता नहीं रहता की माँ से मिलने वाली सुरछा का असर किस स्तर का है जिससे आमतौर पर ये स्तर अधिक होने पर प्रथम खुराक से बच्चे के शरीर में टीकाकरण की गुणवत्ता को बाधित करती है, जो की पप्पस में रोगप्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने में असक्षम हो जाता है इसलिए कुछ सप्ताह बाद टीकाकरण के दूसरी खुराक दे कर टीकाकरण से रोगप्रतिरोधक क्षमता करने के उद्देश्य को प्राप्त करते है ऐसी दूसरी खुराक को बूस्टर खुराक कहते है। 

६. क्या है टीकाकरण की सही खुराक देने के मात्रा:
डॉग चाहे किसी भी उम्र, भार, लिंग अथवा नस्ल के हों उनको समान मात्रा में टीकाकरण का खुराक दिया जाता है 

७. क्या है टीकाकरण का सही तरीका:
टीकाकरण खाल के नीचे:कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा तथा रेबीज जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए खाल के नीचे दिया जाता है
 नथुनों में:केनल कफ़ का टीकाकरण कुत्ते के नथुनों में दवा डाल कर किया जाता है

८. क्या सभी टीके एक ही प्रकार के होते है:कुत्तों में टीकाकरण दो प्रकार की होती है
 १. कोर टीकाकरण - टीकाकरण जो सभी कुत्तों के लिये आवश्यक है. यह उन बिमारीयों में दिया जाता है जो आसानी से फैलती हैं अथवा घातक होती हैं जैसे रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर.
 २. नान कोर टीकाकरण – उपरोक्त ४ बिमाँरीयों (रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर) के टीकाकरण को छोड़कर अन्य सभी नानकोर टीकाकरण माना जाता है | यह उन बिमाँरियों से सुरक्षा प्रदान करता है जो वातावरण के अनावरण अथवा जीवनचर्या पर निर्भर करती है जैसे लाइम डिजीज, केनलकफ और लेप्टोस्पाइरोसिस.

९. एक सफल टीकाकरण करने के बाद क्या फिर भी टीकाकरण विफल हो सकता है?हाँ। 
 टीकाकरण के विफलता के कारण कुत्ते में बीमारी होने के निम्नलिखित मुख्य कारण हो सकते है –
१. टीकाकरण के दौरान कुत्ते की रोगप्रतिरोधक क्षमता का सम्पूर्ण रूप से कार्य न करना |
२.आयु – कम उम्र के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली पूर्णतः विकसित नही होती और बड़े आयु के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली कई कारणों से अक्सर कमज़ोर या क्षीण हो जाती है |
३. मानवीय चूक (टीके का अनुचित संग्रहण या अनुचित मिश्रण)- टीकों का संग्रहण एवं इस्तेमाल भी निर्देशानुसार ही होना आवश्यक है | सूरज की रोशनी,गर्म तापमान टीके के प्रभाव को नस्ट कर सकता है | टीके का मिश्रण पशु में टीकाकरण के तुरंत पहले तैयार करना चाहिए | टीके खरीदने के पहले पता करना चाहिए कि टीकों को उचित तापमान एवं देखभाल से रखा गया है या नहीं |
४. डीवार्मिंग – टीकाकरण करने के पहले पेट के कीड़े मारने के लिए डीवर्मिंग करना आवश्यक है, वरना इस तरह का तनाव टीकाकरण के प्रभाव को कम कर सकता है |
५. गलत सीरोटाईप / स्टेन का इस्तेमाल – प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत विशिष्ट होती है | अतः टीके में होने वाली जीवाणु या विषाणु की सही स्टेन होनी चाहिए वरना उससे उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षा जानवर में सही तौर पर सुरक्षा नहीं कर पाती |
६. अनुवांशिक बीमारियाँ – कुछ जानवरों में आनुवंशिक बिमारियों की वजह से सभी रोगों के लिए प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पर कम ही उत्पन्न हो पाती है |
७. वैक्सीन की गुणवत्ता – टीके में प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रोत्साहित करने के लिए प्रयाप्त मात्रा में प्रतिजनी की मात्रा होना चाहिए वरना टीकाकरण के बाद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रयाप्त नहीं होती है |
८. पुराने या अवधि समाप्त टीके – पुराने टीकों में आवश्यक प्रतिजनी गुण समाप्त या कम हो जाता है | इस तरह के टीके लगाने से जानवरों को बेमतलब तनाव दिया जाता है |
९. टीकाकरण का अनुचित समय – टीका निर्माता के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण का समय (उम्र एवं मौसम के अनुसार), लगाने का तरीका एवं मात्रा तथा दोबारा लगाये जाने की अवधि, इत्यादि निश्चित होता है |इन निर्देशों का पालन सही समय पर न करने से टीकाकरण विफल या निष्क्रिय हो जाता है |
१०. पोषण की स्तिथि- कुपोषण की वजह से जिन पशुओं में पोषक तत्वों की कमी रह जाती है उनमे टीकाकरण के बाद भी प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पे कम ही उत्पन्न हो पाती है |

10. क्या वैक्सीन लगते समय कुत्ते पर कोई दुस्प्रभाव हो सकते है? हाँ 
 कुछ कुत्तो प्रतिरोधक छमता अधिक सक्रिय होने की वजह से कुछ सामान्य लचण जैसे ज्वर, उल्टी, दस्त, लासीका ग्रंथियों का सूजना, मुख का सूजना, हीव्स, यकृत विफलता और कभी -कभी मौत भी हो सकती है।

1 person found this helpful

My Dog name is bruzoo, my dog is labera. he is very week and my dog is nothing eat like food pedigree and my dog leg is very slim. Please help me.

M.V.Sc (Surgery)
Veterinarian, Mohali
You can start giving high nutritious diet to you dog like egg, chicken paneer etc. You can give him good quality feed like pedigree professional or royal canin for growth.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Ultrasonic anti rodent/rats machine, is it harmful for human ears or small below one month puppy ears, grateful if you can enlighten.

M.V.Sc (Surgery)
Veterinarian, Mohali
Frequency of the sound is too high for human to hear, but it is better you should consult with ent specialist.
10 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Winter Care for Dogs.

master of veterinary science
Veterinarian, Mumbai
Dont bath your pet dog very often, once in a week is fine, and always use luke warm water, dry the dog with soft turkish towel and than in sunlight if possible or a hair dryer, if required to bath frequently go for wet tissue wipes.
4 people found this helpful

MVSc, BVSc
Veterinarian,
Your dog?s health is a key to a long and happy companionship. To keep it healthy in long run, it is important to know how your pet?s body work ? in health and disease! Being aware of certain basics helps you to prevent many problems, and pick up the major problems early in its course. In order to react quickly and help your pet?s ailments in timely manner you must be able to spot signs and relate them to specific systems, so as to understand gravity of it and seek Veterinarian?s advice sooner.
16 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hello sir i owned a German Shepherd dog & it is 11 months old.From month ago my dog is having huge hair loss & it is not taking food propely than before.We feed it with rice , pedegree & sauce.Please suggest for recovery

MVSc
Veterinarian, Pune
What about deworming status ? Do deworming properly and brushing daily once. Dont give sauce and start some nutricoat tonic if doesn't show recovery then show to vet
Submit FeedbackFeedback

Sir I have a 2 months 3 week old great dane puppy and his only single testicle has dropped he weighs 12 kg and is 16 inches tall we feed him hills science plan and there is no other issue kindly suggest what are the remedies for it

MVSc
Veterinarian, Pune
U can wait upto 4 month of age if testical r not descend then you have to pelvic sonography to find position and accordingly you can step up
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Sir we are a diary oprators in india sir we are suffering from mastitas regular basis we are a 70 catteles please suggest what can we do suffering from clinical mastitas

MVSc
Veterinarian, Bareilly
Dear , an occurrence of mastitis due to unhygienic condition of milker, animal & animal house. General practice for control of mastitis as follow. 1. Before milking, hand of milker should be clean with detergent and dry off. 2. Milking pattern should be full hand milking not knuckling milking 3. Udder of animal should be clean with detergent and dry off before milking. 4. After milking animal should be standing position for half to one hour 5. Animal house should be clean with detergent and dry off.
6 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Doctors

93%
(134 ratings)

Dr. Chandrakanta Chakraborty

M.V.Sc, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian
Out patient clinics at KOLKATA & by HOME VISITS, 
300 at clinic
Book Appointment